गुलाब के फूल (पंखुड़ियों) के फायदे और नुकसान – Rose Petals (Gulab) Benefits and Side Effects in Hindi

गुलाब के फूल (पंखुड़ियों) के फायदे और नुकसान - Rose Petals (Gulab) Benefits and Side Effects in Hindi
Written by Pratistha

Rose Petals Benefits in hindi गुलाब के फूल और गुलाब की पंखुड़ियों के फायदे लगभग गुलाब जल के फायदे के बराबर ही माने जाते हैं। गुलाब का फूल दुनिया भर में मशहूर है। गुलाब के फूल को प्‍यार का प्रतीक माना जाता है। हालांकि अधिकांश लोगों को पता नहीं है कि गुलाब के फूल घर की सजावट के अलावा स्‍वास्‍थ्‍य के लिए भी फायदेमंद होते हैं। गुलाब की सैंकड़ों प्रजातियां होती है जिनका अलग-अलग प्रकार से उपयोग किया जा सकता है। गुलाब के फूल से फायदेमंद गुलाब जल प्राप्‍त किया जाता है साथ ही गुलाब की चाय भी बहुत ही फायदेमंद होती है। इस लेख में आप गुलाब के फूल के फायदे, गुलाब की पंखुड़ियों के फायदे और नुकसान के बारे में जानेगें।

1. गुलाब का फूल की जानकारी – Rose Flower Information In Hindi
2. गुलाब के पोषक तत्‍व – Gulab Ke Poshak Tatva in Hindi
3. गुलाब की पंखुड़ियों के फायदे – Rose Petals Benefits In Hindi

4. गुलाब की चाय बनाने की विधि – Gulab ki chai Banane Ki Vidhi, Rose Tea Recipe In Hindi
5. गुलाब के फूल के नुकसान – Gulab phool Ke Nuksan in Hindi

गुलाब का फूल की जानकारी – Rose Flower Information In Hindi

गुलाब का फूल की जानकारी - Rose Flower Information In Hindi

गुलाब एक बारहमासी पौधे के फूल है, जो की Rosaceae परिवार में आता है। गुलाब की तीन सौ प्रजातियां और हजारों किस्में हैं। गुलाब पौधों का एक समूह बनाते हैं जो झुंड के साथ झाड़ियों, के रूप में और कटीले हो सकते हैं। जिसमे सुन्दर फूल लगते है जो आकार में भिन्न होते हैं जो आम तौर पर बड़े और देखने में सुंदर होते हैं, जो सफेद पीले और लाल रंग के होते हैं। अधिकांश प्रजातियां एशिया की मूल निवासी हैं, छोटी संख्या यूरोप, उत्तरी अमेरिका और उत्तर-पश्चिमी अफ्रीका के मूल निवासी भी हैं। अनेक प्रजातियां, किस्में और संकर किस्म उनकी सुंदरता के लिए व्यापक रूप से उगायी जाती हैं और अक्सर सुगंधित होती हैं।

गुलाब ने कई समाजों में सांस्कृतिक महत्व हासिल किया है। गुलाब (रोज़) के पौधे कॉम्पैक्ट, लघु गुलाब, पर्वतारोही के आकार में होते हैं जो ऊंचाई में सात मीटर तक हो सकते हैं। गुलाब का फूल लोगो के बीच कोमलता और सुंदरता के लिये प्रसिद्ध है।

गुलाब के पोषक तत्‍व – Gulab Ke Poshak Tatva in Hindi

विभिन्‍न प्रकार के स्‍वास्‍थ्‍य लाभ प्राप्त करने के लिए गुलाब के फूलों का उपयोग किया जाता है। चूंकि गुलाब की पंखुड़ियों में 95 प्रतिशत पानी होता है इसलिए इसमें पोषक तत्‍वों की कम मात्रा होती है। फिर भी गुलाब की पंखुड़ियों में विटामिन सी होता है जो गुलाब के उपयोग के महत्‍व को बढ़ाता है। आयुर्वेद और चीनी दवाओं में प्राचीन समय से गुलाब का उपयोग पाचन विकारों, चोट के दर्द और मासिक धर्म की अनियमितताओं को दूर करने के लिए उपयोग किया जाता है। आइए जाने गुलाब की पंखुड़ियों के फायदे जो आपके स्‍वास्‍थ्‍य के लिए अच्‍छे होते हैं।

गुलाब की पंखुड़ियों के फायदे – Rose Petals Benefits In Hindi

  1. गुलाब के फूल का प्रयोग अच्‍छी भावना के लिए – Rose Petals For Good Feelings in Hindi
  2. गुलाब की पत्ती का उपयोग मूड को सुधारे – Gulab Ki Patti For Mood Boost Kare in Hindi
  3. गुलाब का फूल खाने के फायदे संक्रमण से बचाए – Gulab ka phool khane ke fayde Infection Se Bachaye in Hindi
  4. गुलाब की पंखुड़ियों का उपयोग अवसाद से बचाए –  Rose Petals For Depression in Hindi
  5. गुलाब के औषधीय गुण कब्‍ज से बचाए – Gulab Ki Pankhudi For Constipation in Hindi
  6. गुलाब के फूलों का उपयोग मूत्र पथ के लिए – Rose Petals Good For Urinary tract health in Hindi
  7. गुलाब की चाय के फायदे मासिक धर्म के लिए – Rose Petals Tea Benefits For Menstrual symptom in Hindi
  8. गुलाब की पत्ती का उपयोग त्‍वचा के लिए – Rose Petals Good For Skin in Hindi
  9. गुलाब की पंखुड़ी का इस्‍तेमाल मुंहासे से बचाए – Rose Petals For prevents acne in Hindi
  10. गुलाब के फूलों का उपयोग डार्क सर्कल के लिए – Gulab Ki Pankhudi Ka Use Dark Circles Hatane Me In Hindi
  11. गुलाब के पत्ते के फायदे मॉइस्‍चराइज करे – Rose Petals For Moisturises your skin in Hindi
  12. गुलाब की पत्तियों के फायदे मृत त्‍वचा हटाए – Rose Petals For Removes dead skin in Hindi
  13. गुलाब के फूल खाने के फायदे अनिद्रा को दूर करे – Gulab Ke Phool Ka Pryog Sleep Disorders in Hindi

गुलाब के फूल का प्रयोग अच्‍छी भावना के लिए – Rose Petals For Good Feelings in Hindi

आप अपने मन को खुश रखने और सकारात्‍मक सोच को बढ़ावा देने के लिए गुलाब की पंखुड़ी का सेवन कर सकते हैं। कुछ मनोवैज्ञानिक बताते हैं कि गुलाब की पंखुड़ियों का नियमित सेवन कर आप खुश, तनाव मुक्‍त सहज और रोमांचकारी महसूस कर सकते हैं। गुलाब की पंखुड़ियों की बहुत कम मात्रा को आप अपने आहार में शामिल कर सकते हैं। भोजन के साथ इनका उपयोग करने पर यह आपके भोजन का स्वाद भी बदल सकता है और इसके अतिरिक्‍त पोषक तत्‍व भी आपको प्राप्‍त हो सकते हैं।

(और पढ़े – नकारात्‍मक विचारों से मुक्ति पाने के उपाय…)

गुलाब की पत्ती का उपयोग मूड को सुधारे – Gulab Ki Patti For Mood Boost Kare in Hindi

आप अपने मूड को बढ़ावा देने के लिए गुलाब की पंखुड़ी वाली चाय का सेवन कर सकते हैं। प्राचीन समय से ही गुलाब की पंखुड़ी का उपयोग चाय की गुणवत्‍ता बढ़ाने के लिए उपयोग की जा रही है। यह आपको स्‍वास्‍थ्‍य लाभ दिलाने के साथ ही आपके शरीर को आराम दिलाने में भी मदद करती है। गुलाब की पंखुड़ी से बनी चाय का सेवन करने से आपकी थकान को भी कम किया जा सकता है। रात में सोने से पहले इस चाय का सेवन करने से अच्‍छी नींद भी आती है। यदि आप थकान महसूस कर रहे हैं या आपको नींद न आ रही हो तो गुलाब की चाय का सेवन किया जा सकता है।

(और पढ़े – अच्छी नींद के लिए सोने से पहले खाए जाने वाले खाद्य पदार्थ…)

गुलाब का फूल खाने के फायदे संक्रमण से बचाए – Gulab ka phool khane ke fayde Infection Se Bachaye in Hindi

यदि आप कार्बनिक गुलाब की पंखुड़ियों वाली चाय का सेवन करते हैं तो यह आपको संक्रमण से बचा सकती है। ऐसा इसलिए होता है क्‍योंकि गुलाब में मौजूद पोषक तत्‍व आपके यकृत में पित्‍त के उत्‍पादन में सुधार करते हैं। इस तरह से इस चाय का सेवन करने से आप अपने पित्‍ताशय की थैली की प्राकृतिक रूप से सफाई कर सकते हैं। इसके अलावा गुलाब की चाय आपके गले की खराश और लघु अथवा सूक्ष्म श्वासनलिकाऔं सम्बन्धी (bronchial) संक्रमण को कम करने में मदद करती है।

(और पढ़े – लीवर को साफ करने के लिए खाएं ये चीजें…)

गुलाब की पंखुड़ियों का उपयोग अवसाद से बचाए –  Rose Petals For Depression in Hindi

फ्लैवोनोइड्स की अच्‍छी मात्रा गुलाब की पंखुड़ियों में होती है। गुलाब में मौजूद फ्लेवोनोइड्स शक्तिशाली एंटीड्रिप्रेसेंट गुण प्रदान करते हैं। ये गुण तनाव और अवसाद दोनो का प्रभावी रूप से उपचार करने में मदद करते हैं। इसके अलावा कुछ अध्‍ययनों से पता चलता है कि गुलाब की पंखुड़ियों में एंटीप्‍लेप्लिक गुण भी होते हैं। यदि आप अवसाद ग्रसत हैं तो गुलाब की पंखुड़ियों का सेवन कर सकते हैं। यह आपको अवसाद के प्रभाव से बाहर निकालने में मदद कर सकता है।

(और पढ़े – अवसाद (डिप्रेशन) क्या है, कारण, लक्षण, निदान, और उपचार…)

गुलाब के औषधीय गुण कब्‍ज से बचाए – Gulab Ki Pankhudi For Constipation in Hindi

गुलाब के औषधीय गुण कब्‍ज से बचाए - Gulab Ki Pankhudi For Constipation in Hindi

जिन लोगों का कब्‍ज की समस्‍या होती है उनके लिए गुलाब का फूल बहुत ही फायदेमंद होता है। यदि आपको कब्‍ज है तो आप गुलाब के फूल, गुलाब की पत्तियां, गुलाब की पंखुड़ी और इसके फलों का सेवन कर सकते हैं। आप इन सभी उत्‍पादों से बनी चाय का भी सेवन कर सकते हैं। यह चाय आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने मे सहायक हो सकती है। इस चाय का उपयोग पाचन तंत्र को मजबूत बनाता है और कब्‍ज और पेट से जुड़ी अन्‍य समस्‍याओं को भी दूर कर सकता है।

(और पढ़े – कब्ज के कारण और इलाज…)

गुलाब के फूलों का उपयोग मूत्र पथ के लिए – Rose Petals Good For Urinary tract health in Hindi

पेट की समस्‍याओं को दूर करने के साथ ही गुलाब की पंखुड़ियों वाली चाय में प्राकृतिक मूत्रवर्धक गुण भी होते हैं। इसका मतलब यह है कि यह आपको अधिक पेशाब करने के लिए प्रोत्‍साहित कर स‍कता है। इस प्रकार आप इस चाय का सेवन कर विषाक्‍त पदार्थों को बाहर करने के लिए मूत्र पथ को स्‍वस्‍थ्‍य रख सकते हैं। यदि आप हल्‍के मूत्र पथ संक्रमण से पीड़ित हैं तो इस चाय का सेवन करना बहुत ही फायदेमंद हो सकता है।

(और पढ़े – मूत्राशय में संक्रमण के कारण, लक्षण और बचाव…)

गुलाब की चाय के फायदे मासिक धर्म के लिए – Rose Petals Tea Benefits For Menstrual symptom in Hindi

गुलाब की चाय के फायदे मासिक धर्म के लिए - Rose Petals Tea Benefits For Menstrual symptom in Hindi

महिलाओं के स्‍वास्‍थ्‍य के लिए गुलाब की पंखुड़ियों की चाय विशेष रूप से फायदेमंद होती है। महिलाओं में मासिक धर्म की परेशानियों को दूर करने में यह चाय बहुत ही लाभकारी हो सकती है। 2005 के एक अध्‍ययन से पता चलता है कि वे महिलाएं जो मासिक धर्म चक्र के दौरान ऐंठन और दर्द का सामना करती है उन्‍हें इस चाय का सेवन करने के बाद राहत मिलती है। ऐसा भी माना जाता है कि गुलाब की चाय का नियमित सेवन करने से महिलाओं को मासिक धर्म के तनाव से भी राहत मिल सकती है। गुलाब की चाय पीना एक आसान और सुरक्षित तरीका है जो मासिक धर्म और डिसमोनोरिया (dysmenorrhea) के लिए सरल उपचार है।

(और पढ़े – पीरियड्स की जानकारी और अनियमित पीरियड्स के लिए योग और घरेलू उपचार…)

गुलाब की पत्ती का उपयोग त्‍वचा के लिए – Rose Petals Good For Skin in Hindi

आप अपनी त्‍वचा को स्‍वस्‍थ और सुंदर बनाने के लिए गुलाब जल के साथ-साथ गुलाब की पुखुडि़यों का भी उपयोग कर सकते हैं। आप रात में गुलाब की पुखुडि़यों को पानी में भिगो दें। यदि आप चाहें तो इसे किसी बोतल में भी रख सकते हैं। जिनके पास समय नहीं है या अधिक व्‍यस्‍तता है वे किसी अच्‍छी क्‍वालिटी वाले गुलाब जल का भी उपयोग कर सकते हैं। अब आप इस गुलाब वाले पानी में सूती कपड़े के गीला करें और अपने चेहरे में लगाएं। इससे आपकी त्‍वचा साफ, उज्‍जवल और चमकदार हो जाएगी।

(और पढ़े – खूबसूरती में चार चाँद लगा देता है गुलाब जल, जानिए कैसे…)

गुलाब की पंखुड़ी का इस्‍तेमाल मुंहासे से बचाए – Rose Petals For prevents acne in Hindi

गुलाब की पंखुड़ी का इस्‍तेमाल मुंहासे से बचाए - Rose Petals For prevents acne in Hindi

किसी भी सुंदर चेहरे के लिए मुंहासे एक अभिशाप की तरह होते हैं। लेकिन उन लोगों को चिंता करने की आवश्‍यकता नहीं है जो मुंहासों से परेशान हैं। क्‍योंकि गुलाब की पंखुडि़यां इस समस्‍या का प्रभावी इलाज कर सकती हैं। गुलाब की पंखुड़ीयों में जीवाणुरोधी गुण होते हैं जो आपको विभिन्‍न त्‍वचा संक्रमणों से बचाने में मदद करते हैं। आप अपने मुंहासों के उपचार के लिए चंदन पाउडर, गुलाब फूल, गुलाब जल और शहद का उपयोग कर सकते हैं। आप गुलाब की पंखुड़ियों को कुचलकर चंदन, गुलाब जल और शहद मिलाकर एक पेस्‍ट तैयार करें। इस पेस्‍ट को आप अपने चेहरे में लगाएं और 10 मिनिट के बाद गर्म पानी से चेहरे को साफ कर लें। यह आपके चेहरे में मौजूद मुंहासों की लालिमा को तुरंत ही कम करता है और मुंहासों को भी दूर करने में मदद कर सकता है।

(और पढ़े – मुँहासों को दूर करने के घरेलू उपाय…)

गुलाब के फूलों का उपयोग डार्क सर्कल के लिए – Gulab Ki Pankhudi Ka Use Dark Circles Hatane Me In Hindi

आज की व्‍यस्‍त जीवन शैली में पर्याप्‍त नींद लेना मुश्किल होता है। नींद पूरी न होने से आपके स्‍वास्‍थ्‍य में नकारात्‍मक प्रभाव पड़ सकता है। इसका एक और दुष्‍प्रभाव आपकी आंख के नीचे डार्क सर्कल के रूप में भी होता है। डार्क सर्कल को हटाने के आमतौर पर रासायनिक उत्‍पादों का उपयोग किया जाता है जिनके संभावित दुष्‍प्रभाव भी होते हैं। लेकिन इन दुष्‍प्रभावों से बचने के लिए प्राकृतिक उपचार भी मौजूद है।

आप गुलाब जल में सूती कपड़े को भिगा दें और अपनी आंखों में इस कपड़े को 10 मिनिट के लिए रखें। आप रात में सोने से पहले भी आप गुलाब जल का उपयोग कर सकते हैं।

(और पढ़े – डार्क सर्कल हटाने के आसान तरीके…)

गुलाब के पत्ते के फायदे मॉइस्‍चराइज करे – Rose Petals For Moisturises your skin in Hindi

गुलाब के पत्ते के फायदे मॉइस्‍चराइज करे - Rose Petals For Moisturises your skin in Hindi

आप अपनी त्‍वचा को मॉइस्‍चराइज करने के लिए गुलाब के फूल का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। यह गुलाब की  पंखुड़ियों का एक और सौंदर्य लाभ है। विशेष रूप से उन लोगों के लिए जिनकी त्‍वचा शुष्‍क होती है। गुलाब की  पंखुड़ियों में मौजूद प्राकृतिक तेल आपकी त्वचा को अंदर से मॉइस्‍चराज करने में मदद करते हैं। आप अपनी त्‍वचा को मॉइस्‍चराइज करने के लिए गुलाब जल का भी उपयोग कर सकते हैं।

(और पढ़े – सर्दियों में रूखी त्वचा को रखे मुलायम, अपनाये ये आयुर्वेदिक स्किन केयर टिप्स…)

गुलाब की पत्तियों के फायदे मृत त्‍वचा हटाए – Rose Petals For Removes dead skin in Hindi

आपके चेहरे को सुंदर बनाने के लिए गुलाब की पंखुड़ियाँ बहुत ही प्रभावी होती हैं। ऐसा इसलिए भी है क्‍योंकि यह आपकी त्‍वचा में मौजूद मृत कोशिकाओं को हटाने में मदद करती है। मृत कोशिकाएं एकत्रित होकर आपकी त्‍वचा को सुस्त और बेजान बना सकती हैं। लेकिन गुलाब का उपयोग कर आप अपने मूल रंग और स्‍वस्‍थ्‍य त्‍वचा को पा सकते हैं।

आप बादाम और गुलाब की पंखुड़ी को अलग-अलग बर्तन में रात भर भीगने दें। सुबह इन दोनों पीस कर पेस्‍ट तैयार करें। इस पेस्‍ट को आप अपने चेहरे पर लगाएं। यह आपके चेहरे से मृत कोशिकाओं को हटाने और आपके चेहरे को चमक दिलाने में मदद करता है।

(और पढ़े – त्वचा को खूबसूरत बनाए रखने के लिए लगाएं फ्रूट फेस मास्क…)

गुलाब के फूल खाने के फायदे अनिद्रा को दूर करे – Gulab Ke Phool Ka Pryog Sleep Disorders in Hindi

गुलाब के फूल खाने के फायदे अनिद्रा को दूर करे - Gulab Ke Phool Ka Pryog Sleep Disorders in Hindi

प्राकृतिक शामक गुण के लिए गुलाब की चाय को जाना जाता है। गुलाब की चाय का सेवन करने से आपकी नींद की समस्‍या को दूर किया जा सकता है। यह चाय औषधीय गुणों से भरपूर होती है जो सूजन, तनाव को कम करने और नींद से संबंधित हार्मोन को नियंत्रित करने में मदद करते हैं। यदि आप अनिद्रा से परेशान हैं तो रात में सोने से पहले इस चाय का सेवन करें। यह आपकी नींद की समस्‍या को दूर करने में मदद कर सकता है।

(और पढ़े – अनिद्रा के कारण, लक्षण और उपचार…)

गुलाब की चाय बनाने की विधि – Gulab ki chai Banane Ki Vidhi, Rose Tea Recipe In Hindi

आप अपने लिए पौष्टिक और स्‍वादिष्‍ट गुलाब की चाय बनाने के लिए शहद, ग्रीन टी या ब्‍लैक टी पाउडर का उपयोग कर सकते हैं। आप इस चाय को और अधिक स्‍वादिष्‍ट बनाने के लिए अन्‍य जड़ी-बूटीयों का भी उपयोग कर सकते हैं। लेकिन गुलाब की चाय बनाने के लिए ताजे फूल की अपेक्षा इसकी सूखी हुई पंखुड़ी का उपयोग करें। यदि सूखी पंखुड़ी उपलब्‍ध न हो तो ताजा फूल की पंखुड़ी को किसी जार में बंद करके 1-2 सप्‍ताह के लिए छोड़ दें। कुछ लोग ताजा पंखुड़ी की चाय पसंद करते हैं लेकिन इसका स्‍वाद कुछ अलग होता है।

गुलाब की चाय बनाने के लिए सामग्री:

  • 1 कप ताजा या सूखे हुए गुलाब की पंखुडि़यां।
  • 3 कप गर्म पानी लेकिन ध्‍यान दें उबलते हुए पानी का उपयोग न करें।
  • 1 चौथाई कप ग्रीन टी की पत्तियां (यदि गुलाब के फ्लेवर वाली ग्रीन टी चाहते हैं )
  • 1 चौथाई कप काली चाय पत्ति (यदि आप गुलाब के स्‍वाद वाली काली चाय चाहते हैं )

गुलाब की चाय बनाने की विधि:

  • गुलाब की पंखुड़ियों को पहले अच्‍छे से धो लें।
  • इन पंखुड़ियों और पानी को चाय बनाने वाले बर्तन में रखें, लेकिन इसे उबलने न दें। आप अपनी इच्‍छा के अनुसार काली चाय या हरी चाय का उपयोग कर सकते हैं।
  • बर्तन को ढ़क दें और 5 मिनिट के लिए मिश्रण को पकने दें।
  • आप इस चाय को छन्‍नी की सहायता से छान लें।
  • यदि आवश्‍यक हो तो आप इसमें कुछ शहद मिला सकते हैं।
  • गुलाब की चाय आपके लिए तैयार है।

(और पढ़े – तुलसी की चाय के फायदे और नुकसान…)

गुलाब के फूल के नुकसान – Gulab phool Ke Nuksan in Hindi

गुलाब के फूल के नुकसान – Gulab phool Ke Nuksan in Hindi

औषधीय गुणों से भरपूर गुलाब की चाय का सेवन करने के कोई विशेष दुष्‍प्रभाव नहीं होते हैं। हालांकि इसका अधिक मात्रा में सेवन नहीं किया जाना चाहिए। आप 1 दिन में गुलाब की चाय को 5 कप से अधिक सेवन न करें। अधिक मात्रा में गुलाब की पुखुडि़यों का उपयोग करने पर गंभीर दस्‍त हो सकते हैं। इसके अलावा गुलाब के अधिक सेवन से उल्‍टी और सिरदर्द की समस्‍या भी हो सकती है।

(और पढ़े – दस्‍त (डायरिया) के दौरान क्‍या खाएं और क्‍या ना खाएं…)

स्वास्थ्य और सेहत से जुड़े अन्य लेख पढ़ने के लिए नीचे दिए गए टॉपिक पर क्लिक करें

हेल्थ टिप्स | घरेलू उपाय | फैशन और ब्यूटी टिप्स | रिलेशनशिप टिप्स | जड़ीबूटी | बीमारी | महिला स्वास्थ्य | सवस्थ आहार |

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration