अपनी सोच को सकारात्मक बनाने के 5 तरीके – 5 Ways to Train Your Brain to Be Optimistic in hindi

अपनी सोच को सकारात्मक बनाने के 5 तरीके - 5 Ways to Train Your Brain to Be Optimistic in hindi
Written by Shivam

क्या आप एक आशावादी या निराशावादी हैं? हालांकि ऐसा लगता है कि इसका उत्तर आपके दृष्टिकोण और जीवन के प्रति आपका रवैया में है, वास्तव में आपके मस्तिष्क में रासायनिक प्रक्रियाओं के साथ बहुत कुछ होता रहता है। यदि आप अपने आप को अधिक से अधिक समय नकारात्मक पाते हैं, तो यहां कुछ ऐसा है जिससे आप अपने दिमाग को आशावादी बनाकर अपनी सोच को सकारात्मक कर अच्छा महसूस कर सकते हैं: अपने दिमाग को आशावादी बनाने के लिए प्रशिक्षित किया जा सकता है! सोच को सकारात्मक बनाना उतना भी मुश्किल नहीं है जितना आप सोच रहे हैं। निराशावादी से आशावादी होने में आपको समय लग सकता है लेकिन यकीन मानिए यह असंभव बिल्कुल भी नहीं है।

जिस प्रकार हम किसी काम को करना सीखते है बस उसी तरह मस्तिष्क भी उन्ही आदत की पुनरावृत्ति के माध्यम से सीखता है, जब आप अक्सर सोच को सकारात्मक बनाने के लिए सकारात्मक विचारों का अभ्यास करते हैं, तो आपके मस्तिष्क को उन्हें आने के लिए तैयार किया जाता है ये सारा काम हमारे तंत्रिका तंत्र के द्वारा किया जाता है

अध्ययन बताते हैं कि आशावादी उम्मीदवार समस्याओं को सुलझाने में अधिक खुश हैं, अधिक रचनात्मक हैं, और निराशावादियों की तुलना में मानसिक सतर्कता में वृद्धि हुई है। उम्मीदवारों में कम कोर्टिसोल (तनाव हार्मोन) और अधिक सेरोटोनिन (मूड-बढ़ाने बाले न्यूरोट्रांसमीटर) होते हैं जो अपने सिस्टम के माध्यम से बहते हैं। जिससे उनको अच्छा महसूस होता है?

ये पांच तरीके हम आपको बताने जा रहे हैं जिससे आप अपने दिमाग को प्रशिक्षण देकर आशावादी बन सोच को सकारात्मक बना सकते हैं।

1.सोच को सकारात्मक बनाने के लये शुक्रिया करें – Give Thanks in Hindi

कृतज्ञता के विचार सेरोटोनिन में वृद्धि और कोर्टिसोल में कमी के साथ ही प्रेरणा और समग्र सुख में सुधार के लिए जिम्मेदार होते है। प्रत्येक दिन कम से कम तीन चीजें लिखकर प्रारंभ करें, जो आप के लिए अच्छी हैं।

यह अभ्यास उन चीज़ों में विकसित हो सकता है जिनके लिए आप आभारी हैं, जिसके बारे में आप एक नोटबुक में लिख सकते हैं जो आप अपने साथ लेते हैं। जितना अधिक आप कृतज्ञता पर ध्यान केंद्रित करेंगे, उतना आशावादी आप अपने मस्तिष्क को बना पायेगे ।

और पढ़ें: अवसाद दूर करने के लिए प्राकृतिक उपचार

2. दूसरों के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करें सोच को सकारात्मक बनाने के लये Pay It Forward in Hindi

दयालुता के कृत्यों ने महसूस किया कि अच्छा न्यूरोट्रांसमीटर डोपामाइन किसी को भी मुस्कुराहट देने या प्रशंसा करने के सरल रूप से आप दोनों को खुशी महसूस होती हैं।

हर दिन किसी के लिए कम से कम एक प्रकार की चीज करने के लिए खुद को चुनौती दें, जैसे किसी धन्यवाद-ई-मेल भेजने, एक अजनबी के कप कॉफी खरीदने या अपनी पसंद के लिए दान करना। आप सिर्फ अच्छे कर्म की तुलना में इससे अधिक लाभ अर्जित करेंगे।

3. जोर से हँसोLaugh Out Loud in Hindi

हंसी वास्तव में सबसे अच्छी दवा है आप हंसते हुए सेरोटोनिन उत्पादन को प्रेरित करते हैं, जिससे आप एमिगडाला (मस्तिष्क के तनाव केंद्र) को शांत करते हुए आंगे बढ़ते है। अपने दोस्तों के साथ समय व्यतीत करें, अपने पसंदीदा कॉमेडी सीरियल को देखे या हँसी वाले योग को करने की कोशिश करें। चाहे कैसे भी आप अपनी हंसी प्राप्त करें, बस यह सुनिश्चित करें कि आप अक्सर हँसते रहे | यह  सोच को सकारात्मक बनाने का सबसे अच्छा तरीका माना जाता है

4. अपने शब्दों पर शयन दे – Mind Your Words in Hindi

जब आप शिकायत करना शुरू करते हैं, तो अपने आप को रोकें, यह चुनौतीपूर्ण हो सकता है, खासकर अगर शिकायत कारण आपकी एक आम आदत है लेकिन अपनी मां की सलाह को याद रखें: “यदि आपके पास कुछ भी अच्छा कहने को नहीं है, तो कुछ भी मत कहो।” तो अपने शब्दों को सावधानी से चुनें | आप आश्चर्यचकित हो सकते हैं कि शिकायत ना करने से कितने जल्दी आपका दृष्टिकोण कैसे बदल जाता है।

और पढ़ें: नकारात्‍मक विचारों से मुक्ति पाने के उपाय

5. सोच को सकारात्मक बनाने के लये जरुरी है पसीना बहाना – Get Sweat in Hindi

व्यायाम एंडोर्फिन, सेरोटोनिन और अन्य आनंददायक मस्तिष्क रसायनों को उत्पन्न करता है जबकि एक साथ कोर्टिसोल को कम करते हैं। सर्वोत्तम परिणामों के लिए, प्रतिदिन कम से कम 30 मिनट तक मध्यम स्तर का शारीरिक व्यायाम करने का लक्ष्य निर्धारित करें।

यदि जिम जाने के लिए समय निकालना मुश्किल है, तो आप कई ऑनलाइन एक्सरसाइज वीडियो को देख सकते हैं। यह सब आप आपनी टेबले के बगल में खड़े होकर भी कर सकते हैं। इसका मुख्य उद्देश्य पसीने को बहाना है, और इसे रोजाना करना है

व्यायाम का लाभ पाने के लिए आपका बाडी-बिल्डर होना आवश्यकता नहीं है। सच तो यह है कि मात्र मध्यम स्तर के व्यायाम जैसे कि जागिंग, स्विमिंग या गार्डेनिंग करने से ही आपको सम्पूर्ण रूप से ज्यादा सकारात्मक महसूस करने में मदद मिल सकती है।

जाने आपके अंदर कौन है? – Who’s inside you?

यकीन मानिये कि इन दृष्टिकोणों को अपनाने के बाद आपका दृष्टिकोण और आपका जीवन दोनों ही बदल जायेगें। मैं आशावादी हूं ऐसा सोचने पर आपको एक बड़ा अंतर दिखाई देगा।

क्या आपने अपनी ख़ुशी के लिए कुछ किया है? यदि हां, तो आपने ऐसा कैसे किया? क्या आपने ऊपर की किसी भी विधि को अपनाने की कोशिश की है?

कोई शिकायत नहीं कि खुश होना बहुत कठिन है!

अंतिम परंतु सबसे महत्त्वपूर्ण, ईश्वर पर भरोसा रखें। अपने आपको सारी धरती का कर्ता-धर्ता न समझे शीघ्र ही आपको लगेगा आपके सभी नकारात्मक विचार भाग रहे हैं, आप सकारात्मक बन रहे हैं और आशावाद आपके जीवन में खुशियां ला रहा है।

सदा प्रसन्नचित्त और आशावादी रहें। इससे आपका शरीर तंदरुस्त और हृष्ट-पुष्ट रहेगा। स्वास्थ्य सबसे बड़ा धन है और इसकी रक्षा तभी होगी जब इसे लुटाने वाला कोई कार्य ही न किया जाए। नकारात्मक विचार आपके मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य को खराब करने के लिए चिन्गारी का काम करते हैं।

आइए कुछ सोच को सकारात्मक बनाने वाले thoughts को साझा करते हैं आप सबसे!

सुविचार :-

दुनिया में केवल एक ही इंसान आपकी तकदीर बदल सकता है, और वो हैं आप।

अगर हम positive कार्य करना चाहते हैं तो जरूरी है कि हम अपना नजरिया भी positive रखें।

उनके लिए हमेशा फूल मौजूद होते हैं जो हमेशा फूल देखना चाहते हैं।

अगर आप आपदाओं के बारे में सोचोगे तो वह आ जाएँगी। अगर आप मृत्यु के बारे में गंभीरता से सोचते हो तो आप अपने मौत की ओर बढ़ने लगते हो। जब आप सकारात्मक और स्वेच्छा से सोचोगे, तब विश्वास और निष्ठा के साथ आपका जीवन सुरक्षित हो जायेगा।

निराशावादी को हर अवसर में मुश्किलें दिखाई देती है वही आशावादी को मुश्किलों में अवसर दिखाई देता है।

सकारात्मक नजरिया आपकी सभी समस्याओं को हल नहीं कर सकता लेकिन यह लोगों को हिलाने के लिए काफी होता है।

तुमने इसे पहले किया हुआ है और अभी भी तुम इसे कर सकते हो। अपनी निराशा वाली ऊर्जा की दिशा को सकारात्मक, प्रभावी और दृढ निश्चय की ओर मोड़ दो।

यह सोचने के बजाय कि आप क्या खो रहे हो? यह सोचने की कोशिश करें कि आपके पास क्या है और लोग खो रहे हैं।

एक बार जब आप नकारात्मक विचारों को सकारात्मक विचारों में बदल देते हो, तब आपको सकारात्मक नतीजे मिलने शुरू हो जाते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration