पेय

बादाम वाला दूध पीने के फायदे और नुकसान – Almond Milk Health Benefits And Side Effects In Hindi

बादाम वाला दूध पीने के फायदे और नुकसान - Almond Milk Health Benefits And Side Effects In Hindi

बादाम का दूध स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छा माना जाता है। एक ओर बादाम जहां दिमाग को तेज करने के लिए जाना जाता है, वहीं बादाम का दूध पीना भी बहुत फायदेमंद है। इसमें प्रोटीन, विटामिन, कैल्शियम और अन्य महत्वपूर्ण मिनरल्स पाए जाते हैं, जिनमें कोलेस्ट्रॉल न के बराबर होता है। अगर बादाम के दूध को बिना चीनी के बनाया जाए, तो यह वजन कम करने में भी आपकी मदद कर सकता है। इसमें कई गुण होने के कारण आप इस पेय को अपने दैनिक आहार का हिस्सा बना सकते हैं।

हालांकि, यह स्वादिष्ट पेय आपके स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव भी डाल सकता है, खासकर तब जब आपको नट्स या ड्राय फ्रूट्स से एलर्जी है तो। तो चलिए आज हम आपको बताने जा रहे हैं, बादाम का दूध पीने के फायदे और नुकसानों के बारे में। लेकिन इससे पहले हम आगे जान लेते हैं, कि बादाम का दूध सेहत के लिए क्यों अच्छा होता है।

बादाम का दूध पीना सेहत के लिए क्यों अच्छा है – Why drinking almond milk is good for health in Hindi

बादाम के दूध का इस्तेमाल खाद्य पदार्थों के अलावा सेहत बनाने के लिए प्रोटीन ड्रिंक्स में भी किया जाता है। बादाम दूध में कैलोरी बहुत कम होती है, इस वजह से यह वजन कम करने का एक शानदार तरीका है। एक कप में लगभग आपको 30 से 60 कैलोरी मिलेगी, जबकि गाय के दूध में 150 कैलोरी होती है। इसके अलावा बादाम के दूध में एक ग्राम कार्बोहाइड्रेट और तीन ग्राम वसा होता है, इसलिए इसे पीना गाय के दूध से ज्यादा बेहतर माना जाता है। बादाम के दूध में पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट और एंटी इंफ्लेमेट्री गुण कई बीमारियों को दूर करते हैं।

विशेषज्ञों के अनुसार, इसका सेवन करने से खून के थक्के जमने का खतरा कम हो जाता है। इतना ही नहीं, बादाम के दूध में मौजूद आयरन के कारण एनिमिया से भी बचा जा सकता है। इस तरह बादाम के दूध के एक नहीं, बल्कि कई फायदे हो सकते हैं, जिनके बारे में आप नीचे विस्तार से जान सकते हैं।

(और पढ़े – बादाम के फायदे गुण लाभ और नुकसान…)

बादाम के दूध पीने के फायदे – Benefits of almond milk in Hindi

बादाम के दूध पीने के फायदे - Benefits of almond milk in Hindi

बादाम के स्वास्थ्य लाभ असंख्य हैं। इसमें प्रोटीन, विटामिन ई, फाइबर, मैग्नीशियम, सेलिनियम, मैंगनीज, जिंक, पोटेशियम, आयरन, फास्फोरस और कैल्शियम जैसे मिनरल भरपूर मात्रा में मौजूद है। इस बात को प्रमाणित किया जा चुका है, कि बादाम का दूध एलडीएल कोलेस्ट्रॉल को कम करने और ह़दय रोग से बचाने में बहुत मदद करता है। यह कैलोरी में अपेक्षाकृत कम है और इसमें संतृप्त वसा भी न के बराबर है, जिससे यह स्वस्थ वजन बनाने के लिए अच्छा विकल्प है। आगे जानते हैं बादाम दूध पीने के अन्य फायदों के बारे में।

कैलोरी में कम है बादाम का दूध

बादाम का दूध पीने का सबसे बड़ा फायदा यह है, कि इसमें गाय के दूध के मुकाबले कैलोरी बहुत कम मात्रा में होती है। अगर आप रोजाना एक कप बादाम का दूध पीते हैं, तो आपको तीस से साठ कैलोरी मिलती है। अगर आप तीन दिन तक गाय के दूध की जगह बादाम का दूध पीएं, तो लगभग 348 कैलोरीज कम हो जाएंगी, जिससे वजन घटाना बेहद आसान हो जाएगा।

(और पढ़े – वजन घटाने के लिए रोज कितनी कैलोरी की जरूरत होती है…)

बादाम के दूध के फायदे हड्डियों के लिए

बादाम का दूध आपकी हड्डियों को मजबूती प्रदान करता है। खासतौर से अगर आप फोर्टिफाइड बादाम के दूध का सेवन करते हैं, तो इससे आपको अच्छी मात्रा में कैल्शिश्यम मिलता है, जो आपकी हड्डियों के लिए किसी वरदान से कम नहीं है। बादाम के दूध में कैल्शियम के साथ विटामिन डी की भी पर्याप्त मात्रा होती है, जो शरीर में पोषक त्तवों के अब्जॉर्बशन में सहायक होता है। इसके चलते बादाम का दूध हड्डियों को तो मजबूत बनाता ही है साथ ही आर्थराइटिस और दांतों की बीमारियों को दूर करने में भी बहुत फायदेमंद है।

(और पढ़े – हड्डी मजबूत करने के लिए क्या खाएं…)

बादाम के दूध के लाभ आंखों के लिए

आप शायद न जाते हों, लेकिन बादाम का दूध आपकी आंखों के लिए बहुत फायदेमंद है। इसमें विटामिन ई और कुछ एंटी ऑक्सीडेंट पाए जाते हैं, जो ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस व आंखों संबंधी बीमारियां जैसे मोतियाबिंद आदि से लडऩे में आपकी मदद करते हैं (1)। इसके अलावा रोजाना बादाम का दूध पीने से आंखों की रोशनी भी बढ़ाई जा सकती है।

बादाम का दूध रखे प्रतिरक्षा तंत्र को मजबूत

आप शायद न जाते हों, बादाम के दूध में विटामिन ए, डी और ई पाए जाते हैं, जो प्रतिरक्षा तंत्र को मजबूत बनाने में मददगार होते हैं। इसके अलावा इस दूध में आयरन और विटामिन बी भी पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है। ये दोनों ही पोषक तत्व इम्यून सिस्टम को हेल्दी बनाने का काम करते हैं।

बादाम का दूध बढ़ाएं बालों की हेल्थ

बादाम के दूध में मौजूद फैटी एसिड बालों को कंडीशन और नरम रख सकते हैं। दूध में मौजूद विटामिन ई बालों को झड़ने से रोकने में मदद करता है। हर दिन बादाम का दूध पीने के अलावा आप सप्ताह में दो से तीन बार इससे अपने बालों को धो सकते हैं।

(और पढ़े – बादाम का तेल बालों को लंबे और मुलायम बनाने के लिए…)

बादाम के दूध के फायदे स्वस्थ दिल के लिए

बादाम का दूध पीने से आपके दिल को बहुत फायदा पहुंचता है। चूंकि, बादाम के दूध में कोई कोलेस्ट्रॉल और सैचुरेटेड फैट नहीं पाया जाता है, बल्कि इसमें पॉलिअनसेचुरैटिड फैटी एसिड मिलता है, जो बैड कोलेस्ट्रॉल को कम करके शरीर को फिट और हेल्दी बनाए रखता है। इसके अलावा बादाम के दूध में मौजूद विटामिन ई दिल को भी स्वस्थ बनाता है।

(और पढ़े – दिल को स्‍वस्‍थ रखने के लिए सर्वश्रेष्‍ठ आहार…)

कैंसर को दूर करे बादाम का दूध का इस्तेमाल

बादाम का दूध कैंसर जैसी बीमारी को दूर करने में बहुत फायदेमंद है। एक अध्ययन के अनुसार, दूध का सेवन एलएनसीएपी प्रोस्टेट कैंसर की कोशिकाओं को बढ़ने से रोकता है। साथ ही इसके एंटी ट्यूमर गुण के कारण ये कैंसर को बढ़ाने वाले ट्यूमर को रोकने में मदद करता है। हालांकि, प्रोस्टेट कैंसर के इस वैकल्पिक उपचार पर पूरी तरह से भरोसा न करते हुए आप पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरूर ले लें।

(और पढ़े – क्या खाने से कैंसर का खतरा कम किया जा सकता है…)

बादाम दूध के फायदे वजन कम करने के लिए

वजन कम करने वालों के लिए भी बादाम का दूध बेहद फायदेमंद है। बादाम के दूध में डेयरी या गाय के दूध की अपेक्षा कैलोरी बहुत कम होती है और कम कैलोरी आपके वजन को बढ़ने से रोकती है।

लैक्टोज फ्री होता है बादाम का दूध

बादाम का दूध लैक्टोज फ्री होता है। यह उन लोगों के लिए बहुत अच्छा है, जिन्हें दूध से एलर्जी है या जो बहुत जल्दी दूध को पचा नहीं पाते। हालांकि, इस समस्या से दुनियाभर के 75 प्रतिशत लोग ग्रसित हैं। लेकिन बादाम के दूध में लैक्टोज न होने की वजह से बिना किसी चिंता के इसका सेवन आसानी से किया जा सकता है।

(और पढ़े – लैक्टोज असहिष्णुता क्या है, लक्षण, कारण, जांच, उपचार, रोकथाम और आहार…)

बादाम के दूध के लाभ स्वस्थ किडनी के लिए

बादाम का दूध उन रोगियों के लिए बहुत लाभदायक है, जो किडनी की बीमारी से ग्रस्त हैं। इस दूध में डेयरी दूध के मुकाबले कम फास्फोरस और पोटेशियम होता है, जो इन रोगियों के लिए इसे एक शानदार विकल्प बनाता है।

(और पढ़े – किडनी पेशेंट को क्या खाना चाहिए…)

बादाम का दूध ब्लड प्रेशर नियंत्रित करने के लिए

एक अध्ययन के अनुसार, बादाम का दूध सिस्टोलिक और डायस्टोलिक रक्तचाप को बनाए रखने में मदद करता है। बादाम का दूध अल्फा टोकोफेरॉल का एक अच्छा स्त्रोत भी है। यह रक्त वाहिकाओं के स्वास्थ्य में सुधार करने के साथ रक्त परिसंचरण रोगों को रोकने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

(और पढ़े – हाई ब्लड प्रेशर में क्या खाएं क्या नहीं खाएं…)

बादाम दूध के फायदे त्वचा के लिए

त्वचा को स्वस्थ और सुंदर बनाने के लिए बादाम का दूध पीना बहुत फायदेमदं साबित होता है। ऐसा इसलिए क्योंकि समें विभिन्न प्रकार के विटामिन्स और मिनरल्स मौजूद होते हैं। चूंकि, बादाम के दूध में विटामिन ई पर्याप्त मात्रा में मौजूद होता है, इसलिए यह त्वचा में कसावट लाने के लिए बेहतरीन काम करता है। इसके अलावा बादाम के दूध में एंटीऑक्सीडेंट भी होते हैं, जो क्षतिग्रस्त त्वचा को ठीक करने में आपकी बहुत मदद केरते हैं। अक्सर इसका उपयोग त्वचा को साफ करने वाले लोशन के रूप में भी किया जाता है।

बादाम के दूध में मौजूद घटक – Nutritional profile of almond milk in Hindi

बादाम के दूध में ऐसे कई घटक होते हैं, जो आपको सेहतमंद बनाते हैं। इसमें विटामिन, मिनरल्स और एंटीऑक्सीडेंट भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। साथ ही इसमें कोलेस्ट्रॉल भी बहुत कम मात्रा में होता है। ये यौगिक उन लोगों के लिए बहुत अच्छे और असरदार हैं, जो ह्दय रोग, त्वचा की समस्याओं, मधुमेह, मोटापे से दूर रहना चाहते हैं।

नो कोलेस्ट्रॉल- बादाम के दूध में संतृप्त वसा की मात्रा बहुत कम होती है। इसलिए बादाम का दूध पीने से कोलेस्ट्रॉल लेवल भी कम होता है, जो ह्दय को स्वस्थ रखता है।

कम शक्कर- इसमें चीनी बहुत कम मात्रा में होती है। हालांकि , बाजार में बादाम के दूध में 5 से 17 ग्राम शुगर हो सकता है, इसलिए ज्यादा चीनी से बचने के लिए न्यूट्रिशन लेबल और इंग्रेडिएंट्स की जांच जरूर करनी चाहिए।

अल्फा टोकोफेरल- बादाम के दूध में पर्याप्त मात्रा में अल्फा- टोकोफेरल होता है, जो शरीर में मुक्त कणों से लड़ने के लिए बेहतरीन यौगिक माना जाता है। इससे ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस में बहुत कमी आती है।

प्रोटीन युक्त- चूंकि, प्रोटीन हमारे शरीर का बहुत ही अनिवार्य हिस्सा है। इसलिए बादाम का दूध पीने से शरीर में प्रोटीन की कमी दूर होती है। 100 ग्राम बादाम में लगभग 21.1 ग्राम प्रोटीन होता है।

विटामिन ई– शरीर में विटामिन ई की कमी को पूरा करने के लिए बादाम का दूध पीना बेहतरीन विकल्प है। इसमें विटामिन ई भरपूर मात्रा में होता है। विटामिन ई एक वसा में घुलनशील पोषक तत्व है और शरीर के लिए बहुत  जरूरी है। यह एक एंटीऑक्सीडेंट और इम्यून बूस्टर के रूप में भी काम करता है।

मिनरल्स- बादाम का दूध मिनरल्स भी अच्छी मात्रा में मौजूद होते हैं। यह कैल्शियम, फॉस्फोरस, पोटेशियम, मैग्नेशियम, मैंग्नीज और जिंक का बेहतरीन स्त्रोत है।

(और पढ़े – शरीर के लिए आवश्यक पोषक तत्व…)

बादाम के दूध का उपयोग – Use of almond milk in Hindi

बादाम के दूध का उपयोग - Use of almond milk in Hindi

बादाम का दूध गाय के दूध का बहुत अच्छा विकल्प है। आप इसे एक नहीं, बल्कि कई तरह से उपयोग कर सकते हैं। जानते हैं बादाम के दूध का उपयोग किस- किस तरह से किया जाता है।

  • कॉफी और चाय बनाने में बादाम के दूध का उपयोग किया जा सकता है।
  • बादाम के दूध का इस्तेमाल बड़ों और बच्चों के लिए डेजर्ट बनाने में किया जाता है।
  • यदि आप जिमिंग करते हैं, तो इसके बाद प्रोटीन की आपूर्ति और मसल्स बनाने के लिए बादाम के दूध को एनर्जीं ड्रिंक के रूप में इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • इसका उपयोग सेब या केले की स्मूदी बनाने के लिए भी किया जा सकता है।
  • गर्मी के मौसम में इसे ठंडा करके ठंडाई के रूप में इसे पीना बहुत अच्छा होता है।

बादाम का दूध बनाने की विधि – Badam ka dudh banane ki vidhi in Hindi

बादाम का दूध आपके स्वास्थ्य को स्वस्थ रखने के लिए एक सस्ता विकल्प है। इसे आप आसानी से घर में तैयार कर सकते हैं। एक आंकड़ों के अनुसार, अब बहुत से लोग एलर्जी के कारण डेयरी मुक्त दूध और अन्य उत्पादों का चयन कर रहे हैं। ऐसे में घर पर बादाम का दूध बनाना बहुत अच्छा है। तो चलिए, जानते हैं बादाम का दूध बनाने के लिए सामग्री और विधि के बारे में।

सामग्री-

  • एक कप- बादाम
  • चार कप- पानी
  • आधा चम्मच- वनीला अर्क
  • एक चुटकी – दालचीनी
  • मिठास के लिए दो खजूर या स्टेविया की कुछ बूंदें।

बनाने की विधि-

  • बादाम का दूध बनाने के लिए सबसे पहले बादाम को कम से कम 12 घंटों के लिए समुद्री नमक मिले पानी में भिगोकर रख दें। जितनी देर बादाम को भिगोएंगे, उतना ही अच्छा गाढ़ा दूध्र बनकर तैयार होगा।
  • अब सुबह उठकर पानी को छान लें और बादाम को निकालकर एक तरफ रख लें।
  • अब बादाम और शुद्ध पानी को ब्लेंडर में डालें।
  • चिकना और मलाईदार मिश्रण पाने के लिए दो से तीन मिनट तक इसे ब्लेंड करें। जब बारीक पेस्ट तैयार हो जाए, तो इसे मलमल के कपड़े से छान लें।
  • बादाम का दूध बनकर तैयार हो गया है।
  • अब आप चाहें, तो इसमें मिठास के लिए शहद, चीनी, खजूर कुछ भी डालकर पी सकते हैं।

(और पढ़े – बादाम को भिगोकर खाने के फायदे और नुकसान…)

बादाम दूध पीने के नुकसान – Side effects of almond milk in Hindi

आलमंड (बादाम) दूध से हो सकती है एलर्जी- चूंकि बादाम एक ड्राई फ्रूट है, जिससे कई लोगों को एलर्जी की शिकायत हो जाती है। जिन लोगों को अखरोट से एलर्जी है, उन्हें भी बादाम का दूध नुकसान पहुंचा सकता है। इसके सेवन से चेहरे पर सूजन, मतली और सूजन की समस्या हो सकती है। इसके अलावा जिन लोगों को लैक्टिक एसिड से एलर्जी है, उन्हें भी बादाम का दूध नुकसान पहुंचा सकता है।

बादाम के दूध से हो सकता है सर्दी-जुकाम

बादाम का दूध भले ही ज्यादातर लोगों के लिए फायदेमंद हो, लेकिन कुछ लोगों के लिए यह नुकसानदायक साबित हो सकता है। इसे पीने से लोगों को सर्दी-जुकाम की शिकायत हो सकती है। इसलिए, किसी को अगर पहले से किसी प्रकार की एलर्जी है, तो बादाम के दूध के सेवन से बचें।

शुगर लेवल बढ़ाए बादाम का दूध

बादाम के दूध में चीनी की मात्रा ज्यादा होने से शुगर लेवल बढ़ने की संभावना ज्यादा रहती है। जिससे किसी भी व्यक्ति को नुकसान पहुंच सकता है।

(और पढ़े – शुगर में क्या नहीं खाना चाहिए…)

बादाम दूध पीने के नुकसान बचपन में

बादाम का दूध बच्चों के लिए नुकसानदायक होता है। हालांकि, बहुत लोगों का मानना है कि बचपन में बच्चों को बादाम का दूध पिलाने से उनके स्वास्थ्य का विकास होता है। लेकिन कुछ अध्ययनों के अनुसार, बादाम के दूध का बच्चों के स्वास्थ्य पर कोई असर नहीं होता, बल्कि यह आगे चलकर जटिलताओं का कारण बन सकता है।

स्किन एलर्जी

ये जरूरी नहीं कि बादाम का दूध हर व्यक्ति को फायदा ही पहुंचाए, कुछ लोगों को इसका सेवन करने से त्वचा पर खुजली, एग्जिमा और पित्ती जैसी एलर्जी हो सकती हैं। ये सभी समस्याएं फ्लेवर्ड मिल्क का सेवन करने के 1 मिनट से एक घंटे के भीतर दिखाई देती हैं।

पेट की समस्या बढ़ाए बादाम का दूध

जिन लोगों को बादाम के दूध से एलर्जी है, अगर वे इसे पी लें, तो उन्हें पेट में ऐंठन की समस्या का सामना करना पड़ता है। क्योंकि उनके लिए इस दूध को पचाना आसान नहीं होता, जिससे पेंट में ऐंठन के साथ दर्द भी होने लगता है।

सांस संबंधी समस्याएं

बादाम के दूध के साइड इफेक्ट में सांस संबंधी समस्याएं शामिल हैं। इसे पीने से कुछ लोगों को सांस लेने में परेशानी होने के साथ घरघराहट भी होती है। यह समस्या उन लोगों में ज्यादा देखी जाती है, जो दमा के रोगी  हैं।

पाचन संबंधी समस्या बढ़ाए बादाम का दूध

जिन लोगों के बादाम का फ्लेवर्ड दूध पचाने में दिक्कत होती है, अगर वे इसे पी लें, तो उनमें डायरिया या उल्टी जैसे लक्षण दिखाई देते हैं।

(और पढ़े – दस्‍त (डायरिया) के दौरान क्‍या खाएं और क्‍या ना खाएं…)

बादाम के दूध से जुड़े लोगों के सवाल और हमारे जवाब – Question and answer related to almond milk in Hindi

घर का बना बादाम दूध कैसे स्टोर करें?

बादाम का दूध बनाकर आप लगभग चार दिन तक इसे फ्रिज में स्टोर करके रख सकते हैं। अगर आप इसका दोबारा यूज नहीं करना चाहते, तो उतना ही बनाएं, जितना आप एक बार में पीना चाहते हैं।

बादाम दूध के लिए सबसे अच्छा गैर-डेयरी विकल्प क्या हैं?

नारियल का दूध, जई का दूध, और चावल का दूध बादाम दूध के लिए सबसे अच्छा गैर-डेयरी विकल्प हैं।

बादाम का दूध बच्चे किस उम्र में पी सकते हैं?

छह महीने के बाद बच्चे को बादाम का दूध पिलाना शुरू कर सकते हैं। तब तक, उन्हें केवल स्तन का दूध या फॉर्मूला दूध ही पीना होगा।

क्या मैं खाना पकाने के लिए बादाम के दूध का उपयोग कर सकता हूं?

हाँ। यह बेकिंग के लिए विशेष रूप से उपयोगी हो सकता है।

बादाम का दूध आपके स्वास्थ्य के लिए बेशक फायदेमंद है, लेकिन इससे होने वाले नुकसानों को भी नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। यह महत्वपूर्ण है, कि बादाम के दूध का सेवन सावधानी और संयम से करें। डॉक्टर की सलाह के बिना इसे अपने दैनिक आहार का हिस्सा नहीं बनाना चाहिए।

(और पढ़े – स्वस्थ आहार के प्रकार और फायदे…)

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

आपको ये भी जानना चाहिये –

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration