सेक्‍स के दौरान दर्द होने के कारण – Causes Of Pain During Sex In Hindi




सेक्‍स के दौरान दर्द होने के कारण - Causes Of Pain During Sex In Hindi
Written by Daivansh

Causes Of Pain During Sex In Hindi क्या आपको भी सेक्स के दौरान दर्द होता है? तो यह इन स्वास्थ्य समस्याओं में से एक के कारण हो सकता है शारीरिक संबंध बनाने के दौरान कई महिलाओं के लिए सेक्स का अनुभव अच्छा नहीं रहता और उन्हें सेक्स के दौरान अधिक दर्द महसूस होता है। इस दर्द के पीछे कई कारण हो सकते हैं जैसे योनि का सूखापन (vaginal dryness), सेक्‍स के दौरान चिंता महसूस करना (feeling anxious during sex) और सेक्स के आनंद की कमी है आदि। यौन स्‍वास्‍थ्‍य विशेषज्ञों के अनुसार सेक्‍स के दौरान दर्द होने के कई समान्य और गंभीर कारण हो सकते हैं जो इस प्रकार हैं।

  1. शारीरिक कारण
  2. रसायनिक उत्‍पाद
  3. योनि थ्रश (Vaginal thrush)
  4. एंडोमेट्रियोसिस (Endometriosis)
  5. वैजिनिस्‍मस (Vaginismus)
  6. मनोवैज्ञानिक समस्‍याएं
  7. आहार
  8. सेक्स के आनंद की कमी है

शारीरिक कारण

शारीरिक कारण

किसी भी महिला के लिए सेक्स तब दर्दनाक हो सकता है जब वह किसी प्रकार की एलर्जी या संक्रमण आदि से ग्रसित हो। ऐसी स्थिति में महिलाएं सेक्‍स करते समय दर्द का अनुभव कर सकती हैं। हालांकि अगर इस दौरान महिलाओं को खुजली का अनुभव होता है तो यह दुलर्भ योनि कैंसर हो सकता है। शोधकार्ताओं के अनुसार कई महिलाएं जब वाशिंग पाउडर से लेकर शैम्‍पू या शावर जेल आदि को बदलती हैं तब उन्‍हें योनि में खुजली या जलन का अनुभव होता है।

(और पढ़े – योनी में खुजली, जलन और इन्फेक्शन के कारण और घरेलू इलाज…)

रसायनिक उत्‍पाद

रसायनिक उत्‍पाद

कुछ विशेष प्रकार के योनि स्नेहकों का उपयोग भी एलर्जी का कारण बन सकता है। इसलिए ऐसे उत्‍पादों का उपयोग करने के दौरान इस बात का पता लगाएं कि आप अपने गुप्‍तांगों की नाजुक त्‍वचा पर क्‍या लगा रहे हैं। आपके द्वारा उपयोग किये जाने वाले लेटेक्‍स कंडोम या सेक्‍स खिलौने भी एलर्जी प्रतिक्रिया पैदा कर सकते हैं साथ ही कुछ विशेष प्रकार के शुक्राणुनाशक क्रीम भी महिलाओं के लिए अशुविधा का कारण बन सकते हैं।

(और पढ़े – कंडोम के इस्तेमाल से होने वाले नुकसानों से रहें सावधान…)

योनि थ्रश (Vaginal thrush)

योनि थ्रश (Vaginal thrush)

बैक्‍टीरियल वेजिनोसिस (bacterial vaginosis) या यौन संचारित रोग जैसे क्‍लैमाइडिया (chlamydia), गोनोरिया (gonorrhea) और जननांग दाद (genital herpes) आदि सभी प्रकार के संक्रमण योनि में दर्द और खुजली पैदा कर सकते हैं। यदि आप भी ऐसे ही किसी संक्रमण से प्रभावित हैं तो अपने डॉक्‍टर से बात करें। इस प्रकार की समस्‍या का समाधान आसानी से दवाओं के साथ किया जा सकता है। इस दौरान यदि आप अपने साथी के साथ यौन सक्रिय हैं तब आपके पार्टनर को भी इलाज की आवश्‍यकता है।

सेक्‍स के दौरान दर्द लिचेन स्‍क्‍लेरोसस (Lichen Sclerosus) से एंडोमेट्रियोसिस (Endometriosis) तक एक गंभीर स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍या का संकेत हो सकता है। शोधकर्ताओं के अनुसार लिचेन स्‍क्‍लेरोसस एक सामान्‍य स्थिति है जो आमतौर पर पोस्‍टमेनोपॉजल (postmenopausal) महिलाओं को प्रभावित करती है। यह सामान्‍य रूप से कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली के कारण होता है हालांकि इसका कारण पूरी तरह से ज्ञात नहीं है। यह कोई भी यौन संचारित या एसआइटी रोग नहीं है इसे सेक्‍स से अनुबंधित नहीं किया जा सकता है। इस प्रकार की समस्‍या आमतौर पर योनि और भगशेफ (clitoris) के आसपास के क्षेत्र को प्रभावित करती है।

इस समस्‍या के लक्षणों में त्‍वचा की खुजली और सफेद दाग आदि शामिल हैं। लिचेन स्‍क्‍लेरोस के लिए मुख्‍य उपचार जिसे एलएस (LS) कहा जाता है। इन लक्षणों को नियंत्रित करने के लिए एक स्‍टेरॉयड या कोर्टिसोन क्रीम या मलहम का उपयोग किया जाता है। इसके साथ ही इस प्रकार के संक्रमण या परेशानी होने पर महिलाओं को ढ़ीले कपड़े पहनना चाहिए।

(और पढ़े – बैक्टीरियल वेजिनोसिस (योनि में बैक्टीरियल संक्रमण) के लक्षण, कारण, जांच, इलाज और बचाव…)

एंडोमेट्रियोसिस (Endometriosis)

एंडोमेट्रियोसिस (Endometriosis)

एंडोमेट्रियोसिस का मतलब यह नहीं है कि सेक्‍स करने के दौरान होने वाले दर्द की वजह से सेक्‍स नहीं किया जाना चाहिए। शोधकर्ता पहले ही बता चुके हैं कि संभोग करने के दौरान या बाद में महिलाओं को दर्द होना सामान्‍य है। जिससे कई महिलाएं सेक्‍स करने से बचती हैं जो उनके रिश्‍तों में बुरा असर डाल सकती है। हालांकि ऐसी स्थिति में आप अन्‍य दूसरे तरीके आजमा सकते हैं जो आपको यौन सुख दिलाने में सहायक होते हैं इसके साथ ही आप अपने डॉक्‍टर से संपर्क करें। वे आपकी इस समस्‍या का उपचार करने में मदद करेगें।

आपको बता दें एंडोमेट्रियोसिस से पीड़ित लगभग 50 प्रतिशत महिलाओं को सेक्‍स करने के दौरान गंभीर और असहनीय दर्द का अनुभव होता है। हालांकि इस प्रकार का दर्द सेक्‍स करने के दौरान हल्‍का या तेज दोनो ही प्रकार से महसूस किया जा सकता है। कुछ महिलाओं में इस प्रकार का दर्द सेक्‍स करने के 24 से 48 घंटों तक बना रहता है।

कुछ महिलाओं को सेक्‍स के किसी भी रूप में संभोग करने पर योनि में दर्द का अनुभव होता है। जबकि कुछ महिलाओं को केवल य‍ोनि में लिंग के गहरे प्रवेश के दौरान ही इस प्रकार के दर्द का अनुभव होता है।

(और पढ़े – इसलिए शारीरिक संबंध बनाने से डरती है महिलाएं…)

वैजिनिस्‍मस (Vaginismus)

वैजिनिस्‍मस (Vaginismus)

यह एक ऐसी स्थिति है जिसमें योनि में या उसके आसपास की मांसपेशियों में कसाव आता है जिससे सेक्‍स करने के दौरान दर्द का अनुभव होता है। हालांकि संभोग करते समय होने वाले दर्द के कई कारण हैं जिनमें मूत्रपथ संक्रमण, यौन संचारित रोग (STD), वुल्‍वोडनिया (vulvodynia), त्‍वचा की स्थिति जैसे कि सोरायसिस या एक्जिमा, रजोनिवृत्ति और अन्‍य जन्‍म नियंत्रण विधियां आदि शामिल हैं।

(और पढ़े – पेनिट्रेशन में डर लगता है तो यह वैजनिज्मस हो सकता है…)

मनोवैज्ञानिक समस्‍याएं

मनोवैज्ञानिक समस्‍याएं

इस प्रकार की स्थिति उन महिलाओं के साथ होती हैं जो धार्मिक प्रवृत्ति की होती हैं। इस दौरान वे धार्मिक परिवेश में होने, भावनात्‍मक या पूर्व मे प्राप्‍त यौन संबंधी चोट आदि से संबंधित यौन क्रिया के प्रति घृणा करने लगती हैं। हालांकि इस प्रकार की समस्‍या का निदान उचित चिकित्‍सा और परार्मश से दूर की जा सकती है। सेक्‍स के दौरान होने वाले दर्द को कम करने के लिए आमतौर पर पेल्विक फ्लोर एक्‍सरसाइज की मदद ली जा सकती है। इसके अलावा एक महिला स्‍वास्‍थ्‍य फिजियोथेरेपिस्‍ट की मदद से इस समस्‍या का समाधान किया जा सकता है।

(और पढ़े – सेक्स थेरेपी क्या है, कैसे काम करती है, और जरूरत क्यों पड़ती है…)

आहार

आहार

आपको जानकर हैरानी हो सकती है कि आहार में महिलाओं की योनि के दर्द और जलन का कारण बन सकता है। शोधकर्ताओं के अनुसार ऑक्‍सलेट्स के उच्‍च स्‍तर वाले खाद्य पदार्थ उन महिलाओं मे मूत्रमार्ग संबंधी जलन पैदा कर सकते हैं जो उनके प्रति संवेदनशील हैं। जब ऑक्‍सालेट की बहुत अधिक मात्रा नसों द्वारा रक्‍त प्रवाह में अवशोषित हो जाती है। तब यह कैल्शियम के साथ मिलकर कैल्शियम ऑक्‍सालेट क्रिस्‍टल बनाता है जो शरीर में कहीं भी नाजुक ऊतकों में अपनी जगह बनाने का प्रयास करता है। जिससे ऊतकों की क्षति और दर्द का अनुभव होता है।

जिन महिलाओं में इर्रिटेबल बोवेल सिंड्रोम (irritable bowel syndrome) होता है। वे अपनी आंत्र की खराब स्थिति के कारण बहुत अधिक ऑक्‍सालेट को अवशोषित करते हैं। ऐसी स्थिति में रोगी महिलाओं को कम से कम 6 माह तक ऑक्‍सालेट युक्‍त खाद्य पदार्थों का सेवन करने से बचना चाहिए। उच्‍च ऑक्‍सालेट युक्‍त भोजन की सूची में अजवाइन, कॉफी, रुबर्ब, पालक और स्‍ट्रॉबेरी शामिल हैं।

प्रसव समय के आसपास लगभग 12 से 15 प्रतिशत महिलाएं अधिक दर्द या वेस्टिबुलोडोनिया (vestibulodynia) से प्रभावित होती हैं। इस स्थिति में योनि और इसके आसपास के क्षेत्र को हल्‍के से छूने पर दर्द या जलन का अनुभव होता है। ऐसी स्थिति में टैम्‍पोन का उपयोग या सेक्‍स करने के दौरान भी महिलाओं को गंभीर दर्द का सामना करना पड़ सकता है। जानकारों के अनुसार इस प्रकार के दर्द सामान्‍य से लेकर गंभीर भी हो सकते हैं। जिसमें उठने बैठने के दौरान असुविधा होना भी शामिल है।

(और पढ़े – सेक्‍स ड्राइव को कमजोर कर सकते हैं ये खाद्य पदार्थ…)

सेक्स के आनंद की कमी है

सेक्स के आनंद की कमी है

कम उम्र की महिलाओं में इस प्रकार की समस्‍या होने की संभावना अधिक होती है। क्‍योंकि इस दौरान वे अपने यौन जीवन की शुरुआत करती हैं। वे अपने सहभागी के साथ वह सब करना चाहती हैं जो उनके पार्टनर चाहते हैं लेकिन वे विशेष रूप से उत्तेजित नहीं हैं। ऐसी स्थिति में वे तनाव महसूस करती हैं क्‍योंकि वे सेक्‍स के लिए नए हैं और अपने सहभागी के साथ पूरी तरह से सहज महसूस नहीं करती हैं।

सेक्‍स करने के दौरान दर्द अन्‍य स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं के कारण भी हो सकता है। जैसे कि यौन संचारित संक्रमण, एंडोमेट्रियोसिस और फाइब्रॉएड जिसका उपचार समय रहते किया जाना चाहिए। इस प्रकार की समस्‍या केवल अधिक उम्र वाली महिलाओं को नहीं होती बल्कि कम उम्र वाली महिलाओं को भी होती है। लेकिन अक्‍सर महिलाएं शर्म या संकोच के कारण इस प्रकार की समस्‍या को उजागर नहीं करती हैं। कनाडा में हुए एक शोध में लगभग 200 लड़कियों को शामिल किया गया। जिसमें लगभग आधे से अधिक युवा महिलाओं को इस प्रकार की समस्‍या का सामना करना पड़ा।

(और पढ़े  – सेक्स के दौरान महिलाओं को संतुष्ट करने के तरीके…)

इसी तरह की अन्य जानकरी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

आपको ये भी जानना चाहिये –

Leave a Comment

1 Comment

Subscribe for daily wellness inspiration