वैजाइना में खुजली के 10 बड़े कारण, ऐसे करें बचाव – Reason Of Vagina Itching And How To Get Rid Of This In Hindi
महिला स्वास्थ्य की जानकारी

वैजाइना में खुजली के 10 बड़े कारण, ऐसे करें बचाव – Reason Of Vagina Itching And How To Get Rid Of This In Hindi

वैजाइना में खुजली के 10 बड़े कारण, ऐसे करें बचाव – Reason Of Vagina Itching And How To Get Rid Of This In Hindi

Vagina Itching In Hindi: वैजाइना किसी महिला के शरीर का सबसे नाजुक अंग होती है। इसलिए महिलाओं को वैजाइना की अच्छे से देखभाल और साफ-सफाई का ध्यान भी रखना चाहिए। यूं तो शरीर में कहीं पर भी खुजली होना आपके लिए समस्या हो सकती है लेकिन वैजाइना अधिक सेंसिटिव होती है। वैजाइना में होने वाली खुजली के कारण अक्सर महिलाओं को परेशानी और असहजता दोनों महसूस होती है लेकिन वो इसे छोटी परेशानी मानकर इग्नोर कर देती हैं, जोकि गलत है।

योनि की अच्छे से सफाई न करने और संबंध बनाने के बाद कुछ बातों को नजरअंदाज करने से वहां बैक्टीरियां पनपने लगते हैं, जिससे वैजाइना में इंफैक्शन और खुजली होने की समस्या आने लगती है। अगर इसपर ध्‍यान न दिया जाए तो यह गंभीर रूप ले सकता है। ऐसे में बेहतर होगा कि आप इसे नजरअंदाज न करें। आज हम आपको ऐसे ही कुछ कारण बताने जा रहे हैं, जिसके कारण महिलाओं को खुजली की समस्या हो जाती है।

विषय सूची

1. योनि की खुजली और जलन क्यों होती है? – What causes vaginal itching, burning, and irritation in Hindi?

2. योनि की खुजली और जलन का इलाज कैसे किया जाता है? – How are vaginal itching, burning, and irritation treated in Hindi?
3. योनि की खुजली और जलन के घरेलू उपचार – home remedies for vaginal itching and burning in Hindi

योनि की खुजली और जलन क्यों होती है? – What causes vaginal itching, burning, and irritation in Hindi?

योनि की खुजली और जलन क्यों होती है? - What causes vaginal itching, burning, and irritation in Hindi?

अगर आपको भी वैजाइना में लगातार खुजली महसूस होती रहती है तो उसे नजरअंदाज बिलकुल भी न करें, और तुरंत डॉक्‍टर से संपर्क करें। चलिए हम आपको बताते हैं कि आखिर किन कारणों से वैजाइना में खुजली की समस्या देखने को मिलती है। योनि में खुजली और जलन के कई सामान्य कारण हैं, जिनमें शामिल हैं:

(और पढ़े – योनी में खुजली, जलन और इन्फेक्शन के कारण और घरेलू इलाज…)

बैक्टीरियल वेजिनोसिस के कारण वैजाइना में खुजली महसूस होना

बैक्टीरियल वेजिनोसिस के कारण वैजाइना में खुजली महसूस होना

योनि में बैक्टीरिया का स्वस्थ मिश्रण होना सामान्य है। लेकिन वहां पनप रहे गलत बैक्टीरिया जब बढ़ जाते हैं तो संक्रमण का कारण बन सकते हैं। वैजाइना में खुजली के अलावा, बैक्टीरियल वेजिनोसिस के साथ आने वाले अन्य लक्षण सूजन, जलन, निर्वहन और एक अलग-महक या गंध हैं।

बैक्टीरिया के बढ़ने से होने वाला यह वेजाइनल इंफेक्शन लड़कियों में काफी कॉमन है। यह किसी भी उम्र की महिलाओं में हो सकता है लेकिन 25-35 बर्ष की महिलाओं को इसका सबसे ज्यादा खतरा होता है। बैक्टीरियल वेजिनोसिस के कारण भी योनि में खुजली होना आम बात है। इसमें योनि में खुजली के साथ-साथ ग्रे कलर का डिस्चार्ज भी आ सकता है। यदि ऐसे लक्षण दिखे तो तुरंत अपने डॉक्टर की सलाह लें।

(और पढ़े – बैक्टीरियल वेजिनोसिस के लिए घरेलू उपचार…)

यूरिनरी ट्रेक्‍ट इंफेक्‍शन (UTI) के कारण वैजाइना में खुजली होना

यूरिनरी ट्रेक्‍ट इंफेक्‍शन (UTI) के कारण वैजाइना में खुजली होना

यूटीआई एक बैक्‍टीरियल इंफेक्‍शन है जो मूत्र प्रणाली के किसी भी हिस्से, गुर्दे, मूत्राशय या मूत्रमार्ग में संक्रमण का कारण हो सकता है। इसमें पेल्विक में दर्द, बार-बार यूरिन आना, यूरिन करते समय दर्द, जलन व बदबू आने जैसी समस्‍याएं देखने को मिलती है। अगर इंफेक्‍शन आपके यूरेथ्रा के पास हो तो इससे योनि में जलन व खुजली भी हो सकती है। ऐसे में आपको तुरंत डॉक्टर से चेकअप करवाना चाहिए।

(और पढ़े – यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन (यूटीआई) के लिए घरेलू उपचार…)

यौन संचारित रोग (एसटीडी) के कारण वैजाइना में खुजली की समस्या

यौन संचारित रोग (एसटीडी) के कारण वैजाइना में खुजली की समस्या

असुरक्षित यौन संबंध से क्लैमाइडिया, जननांग दाद, जननांग मस्सा, ट्राइकोमोनिएसिस, गोनोरिया जैसे सेक्सुअली ट्रांसमिटेड डिजीज (एसटीडी) की समस्या देखने को मिलती हैं इसके कारन भी योनि में खुजली और जलन के साथ अन्य लक्षण भी हो सकते हैं।

(और पढ़े – एसटीडी रोग लक्षण, प्रकार और बचाव के तरीके, जानकर आप भी हो जाये सावधान!)

यीस्ट इंफेक्शन (योनि कैंडिडिआसिस) के कारण वैजाइना में खुजली होना

यीस्ट इंफेक्शन (योनि कैंडिडिआसिस) के कारण वैजाइना में खुजली होना

यीस्ट इंफेक्शन के कारण वैजाइना में खुजली होना आम है। प्रत्येक चार महिलाओं में से लगभग तीन अपने जीवन के किसी बिंदु पर यीस्ट इंफेक्शन का सिकार होती हैं। खमीर संक्रमण तब होता है जब खमीर, कैंडिडा, योनि और योनी की दीवार में अत्यधिक वृद्धि करते हैं। गर्भावस्था, संभोग, एंटीबायोटिक्स और एक कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली ये सभी महिलाओं को खमीर संक्रमण होने की अधिक संभावना बना सकते हैं। खुजली और जलन के अलावा, एक खमीर संक्रमण एक मोटी, सफेद, चीज के समान निर्वहन का उत्पादन करेगा। यीस्ट इंफेक्शन के लक्षण दिखने पर तुरंत डॉक्टर से चेकअप करवाएं। क्योंकि समय पर इलाज न करवाने पर यह किसी गंभीर समस्या का रूप भी ले सकता है।

(और पढ़े – कैंडिडिआसिस (कैंडिडा) के कारण, लक्षण, उपचार, बचाव और घरेलू उपाय…)

रजोनिवृत्ति या मेनोपॉज के दौरान होने वाली खुजली

रजोनिवृत्ति या मेनोपॉज के दौरान होने वाली खुजली

एस्ट्रोजेन उत्पादन में गिरावट जो एक महिला के प्रजनन वर्षों के अंत में होती है, योनि की दीवारों के पतले होने और सूखने का कारण बन सकती है। इससे वैजाइना में खुजली और जलन हो सकती है। योनि की दीवारों का पतला होना उन महिलाओं में भी एक समस्या है जो स्तनपान कराती हैं। मेनोपॉज के दौरान एस्ट्रोजेन स्तर कम होता है और वैजाइना का पीएच बैलेंस बदलता है। इससे वैजाइना की दीवारें पतली और ड्राई होने लगती हैं, जो योनि में खुजली का कारण बनती है। इसे मेडिकल की भाषा में वैजाइनल एट्रौफी कहा जाता है। ऐसे में आपको डॉक्टर से चेकअप करवाना चाहिए।

(और पढ़े – रजोनिवृत्ति के कारण, लक्षण और दूर करने के उपाय…)

रासायनिक पदार्थों से होने वाली योनि की खुजली

रासायनिक पदार्थों से होने वाली योनि की खुजली

क्रीम, पाउच, कंडोम, गर्भनिरोधक फोम, कपड़े धोने के डिटर्जेंट, साबुन, सुगंधित टॉयलेट पेपर, और फैब्रिक सॉफ्टनर सहित कई रासायनिक पदार्थ योनि में खुजली का कारण बन सकते हैं।

योनि की सफाई के लिए कठोर साबुन का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। क्योंकि यह योनी के अन्दर के  बैक्टीरियल बैलेंस को बिगाड़ देते है। इससे वैजाइना में खुजली, जलन व रैशेज हो सकते हैं। साबुन की बजाए आप योनि की सफाई के लिए किसी अन्य सेफ प्रॉडक्टस जिसे की व्ही वाश का इस्तेमाल करें। या इस बारे में डॉक्टर से सलाह लें।

(और पढ़े – योनि साफ करने की प्राकृतिक सामग्रियां…)

त्वचा संबंधी समस्याएं भी हो सकती है योनि में खुजली का कारण

त्वचा संबंधी समस्याएं भी हो सकती है योनि में खुजली का कारण

यह एक दुर्लभ स्थिति है जो त्वचा पर पतली सफेद पैच का कारण बनती है, विशेष रूप से वैजाइना की वल्वा के आसपास। पैच योनि क्षेत्र को स्थायी रूप से दाग दे सकते हैं। पोस्टमेनोपॉज़ल महिलाओं को इस स्थिति को विकसित करने की सबसे अधिक संभावना है। इसके आलावा एक्जिमा और सोरायसिस जैसी त्‍वचा संबंधी समस्‍याएं भी प्राइवेट पार्ट में लालिमा और खुजली उत्पन्न कर सकती है।

इसके अलावा आपके द्वारा रोजाना की जाने वाली कुछ छोटी गलतियां भी प्राइवेट पार्ट जैसे की वैजाइना में खुजली, जलन व रैशेज का कारण बन सकती है।

(और पढ़े – योनि के आसपास मुंहासे या फुंसी के लक्षण, कारण और घरेलू इलाज…)

गलत आदतों के कारण वैजाइना में खुजली होना

गलत आदतों के कारण वेजाइना में खुजली होना

योनि में खुजली का कारण पुरानी रेजर का इस्तेमाल और टाइट पेंटी पहनना भी हो सकता है। अक्सर लड़कियां अपने प्राइवेट पार्ट के अनचाहे बालों को निकालने के लिए रेजर का यूज करती हैं लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी की इससे भी आपकी वैजाइना में खुजली व रैशेज हो सकते हैं। साथ ही टाइट पेंटी पहनना भी वैजाइना में खुजली का कारण बनता है। इसलिए रात में सोते समय ढीली पेंटी पहनें या बिना पेंटी के सोने की कोशिश करें।

(और पढ़े – सोते समय अंडरवियर पहने या नहीं इसके फायदे और नुकसान…)

ज्यादा पसीना आना भी हो सकता है वैजाइना में खुजली का कारण

ज्यादा पसीना आना भी हो सकता है वेजाइना में खुजली का कारण

आपको शायद पता न हो लेकिन प्राइवेट पार्ट में बहुत ज्यादा पसीना आना भी उस हिस्से में खुजली का कारण बन सकता है। ऐसे में जब आपको अधिक पसीना आए तो नहाकर अपने कपड़े बदल लें। यदि आप ऑफिस में है और प्राइवेट पार्ट में बहुत ज्यादा पसीना आ रहा हो तो प्राइवेट पार्ट को अच्छे से साफ वाटर या वैजाइनल वॉश की मदद से क्लीन करके किसी कपड़े से साफ कर लें।

(और पढ़े – ज्यादा पसीना आने के कारण, लक्षण और घरेलू उपाय…)

सबंध बनाने के बाद वैजाइना को क्लीन न करने के कारण

सबंध बनाने के बाद वेजाइना को क्लीन न करने के कारण

पार्टनर के साथ संबंध बनाते समय अगर आपने कंडोम या कोई लुब्रिकेंट का इस्तेमाल किया है तो उसके कारण भी योनि में खुजली हो सकती है। कुछ सेक्स लुब्रिकेंट्स में मौजूद एल्कोहॉल या लेटेक्स सामग्री अक्सर वैजाइना में खुजली और एलर्जी का कारण बन सकती हैं। इसलिए सेक्स करने के बाद पेशाब करना और वैजाइना को अच्छे से क्लीन करना न भूलें।

(और पढ़े – योनि को साफ और स्वस्थ कैसे रखें…)

योनि की खुजली और जलन का इलाज कैसे किया जाता है? – How are vaginal itching, burning, and irritation treated in Hindi?

योनि की खुजली और जलन का इलाज कैसे किया जाता है? - How are vaginal itching, burning, and irritation treated in Hindi?

योनि की जलन अक्सर अपने आप ठीक हो जाएगी। हालांकि, अगर जलन कई दिनों तक जारी रहती है, गंभीर है, या उपचार के बाद वापस आती है, तो अपने डॉक्टर से इस बारे में बात करें। डॉक्टर एक पैल्विक एग्जामिनेशन कर सकते हैं। डॉक्टर समस्या के स्रोत को जानने के लिए निर्वहन का एक नमूना लें सकते हैं।

योनि की खुजली और जलन का इलाज कैसे किया जाता है यह इस बात पर निर्भर करता है कि समस्या किस स्थिति में है:

वैगिनोसिस और एसटीडी का इलाज एंटीबायोटिक दवाओं/एंटीपैरासिटिक्स के साथ किया जाता है।

खमीर संक्रमणों का इलाज एंटिफंगल दवाओं के साथ किया जाता है। उन्हें क्रीम, मलहम, या सपोसिटरी के रूप में योनि में डाला जाता है, या उन्हें मौखिक रूप से लिया जाता है। आप इन दवाओं को काउंटर पर अलग-अलग खुराक में खरीद सकते हैं – एक दिन, तीन-दिन, सात-दिन। हालाँकि, यदि आपको कभी भी यीस्ट संक्रमण नहीं हुआ है, तो किसी भी ओवर-द-काउंटर दवा को लेने से पहले अपने चिकित्सक से इसके बारे में बात करें।

  • रजोनिवृत्ति से संबंधित खुजली का इलाज एस्ट्रोजेन क्रीम, गोलियां या योनि की अंगूठी को वैजाइना में डालकर किया जा सकता है।
  • अन्य प्रकार की खुजली और जलन स्टेरॉयड क्रीम या लोशन से ठीक हो सकती है, जो सूजन को कम करती है।
  • युवा लड़कियों में, डॉक्टर को किसी भी खुजली या जलन की रिपोर्ट करना महत्वपूर्ण है, क्योंकि ये लक्षण यौन शोषण (sexual abuse) के संकेत हो सकते हैं।

(और पढ़े – योनि में खुजली के लक्षण, कारण और घरेलू उपाय…)

योनि की खुजली और जलन के घरेलू उपचार – home remedies for vaginal itching and burning in Hindi

योनि की खुजली और जलन के घरेलू उपचार - home remedies for vaginal itching and burning in Hindi

यहाँ घर पर योनि में जलन को रोकने और इलाज के लिए कुछ घरेलू उपाय दिए गए हैं:

  • सुगंधित पैड या टॉयलेट पेपर, क्रीम, बबल बाथ, फेमिनिन स्प्रे और वेजाइनल डाउचिंग से बचें।
  • अपने बाहरी जननांग क्षेत्र को नियमित रूप से साफ करने के लिए पानी और एक सादे, साबुन का उपयोग करें। लेकिन दिन में एक बार से ज्यादा न धोएं। ऐसा करने से सूखापन बढ़ सकता है।
  • मल त्याग के बाद हमेशा आगे से पीछे की ओर पोंछें।
  • सूती पैंटी (कोई सिंथेटिक कपड़े) न पहनें, और हर दिन अपना अंडरवियर बदलें।
  • नियमित रूप से शिशु लड़कियों के डायपर बदलें
  • यौन संचारित रोगों को रोकने में मदद करने के लिए संभोग के दौरान कंडोम का उपयोग करें।
  • यदि आप योनि में सूखापन का सामना कर रहे हैं, तो एक योनि मॉइस्चराइज़र का उपयोग करें। यौन संबंध बनाने से पहले एक पानी आधारित स्नेहक का इस्तेमाल करें।
  • अपने लक्षणों में सुधार होने तक संभोग से बचें।

(और पढ़े – गुप्‍तांगों में खुजली दूर करने के घरेलू उपाय…)

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

आपको ये भी जानना चाहिये –

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration