वर्थ कंट्रोल रिंग (जन्म नियंत्रण अंगूठी) का उपयोग और सावधानीयां – Birth Control Ring in Hindi




वर्थ कंट्रोल रिंग (जन्म नियंत्रण अंगूठी) का उपयोग और सावधानीयां – Birth Control Ring in Hindi
Written by Daivansh

Birth Control Ring in Hindi वर्थ कंट्रोल रिंग या जन्म नियंत्रण अंगूठी गर्भधारण से बचने के लिए योनि में डाली जाती है इसे NuvaRing या योनि की अंगूठी कहा जाता है यह गर्भावस्था को रोकने के लिए योनि की दीवार के माध्यम से रक्त प्रवाह में धीरे-धीरे हार्मोन जारी करती है। जन्म नियंत्रण अंगूठी वास्तव में प्रभावी है यदि आप हमेशा इसका सही तरीके से उपयोग करती हैं तो। आज के समय में जन्‍म नियंत्रण के बहुत से साधन उपलब्‍ध हैं। जिनमें वर्थ कंट्रोल रिंग का उपयोग भी शामिल है। जिनका उपयोग कर आप गर्भाधारण की समस्‍या से बच सकते हैं साथ ही यह आपके यौन संबंधों में किसी प्रकार का व्‍यवधान नहीं बनते हैं।

लेकिन लोगों के सामने वर्थ कंट्रोल उत्‍पादों का चयन करना मुश्किल होता है क्‍योंकि आज बहुत से जन्‍म नियंत्रण उत्‍पाद मौजूद हैं। आज आप इस आर्टिकल में जन्‍म नियंत्रण के लिए वर्थ कंट्रोल रिंग से संबंधित जानकारी प्राप्‍त करेगें। वर्थ कंट्रोल रिंग का उपयोग बहुत ही सरल और सुविधाजनक होता है। आइए जाने वर्थकंट्रोल रिंग से सम्बंधित अन्‍य जानकारीयां।

  1. वर्थ कंट्रोल रिंग क्‍या है – Birth Control Ring Kya hai in Hindi
  2. वर्थ कंट्रोल रिंग कैसे काम करती है – Birth control ring kaise kaam karti hai in Hindi
  3. जन्म नियंत्रण अंगूठी या वर्थ कंट्रोल रिंग कितनी प्रभावी है – Birth Control Ring kitni prabhavi hai in Hindi
  4. क्‍या वर्थ कंट्रोल रिंग यौन संक्रमण को रोकती है – Kya Birth Control Ring STD ko rokti hai in Hindi
  5. वर्थ कंट्रोल रिंग का उपयोग कौन कर सकता है – Who Can Use a Birth Control Ring in Hindi
  6. क्‍या जन्म नियंत्रण अंगूठी या वर्थ कंट्रोल रिंग सुरक्षित है – Kya Birth Control Ring Safe hai in Hindi
  7. जन्म नियंत्रण अंगूठी का उपयोग कैसे करें – Birth Control Ring ka Upyog kaise kare in Hindi
  8. वर्थ कंट्रोल रिंग का उपयोग कब करें – Birth Control ring ka Upyog kab kare in Hindi
  9. वर्थ कंट्रोल रिंग के उपयोग से क्‍या उम्‍मीद करनी चाहिए – What should I expect after starting the ring in Hindi
  10. वर्थ कंट्रोल रिंग सही तरह से न लगने पर क्या करें – Birth Control Ring sahi tharh se na lagne par kya kare in Hindi
  11. सही समय पर जन्म नियंत्रण अंगूठी न बदलने पर क्‍या करें – Sahi Samay par ring na badalne par Kya kare in Hindi
  12. वर्थ कंट्रोल रिंग के फायदे – Birth Control Ring ke fayde in Hindi
  13. वर्थ कंट्रोल रिंग के नुकसान – Birth Control Ring ke Nuksan in Hindi
  14. डॉक्‍टर से कब संपर्क करें – Doctor se kab sampark kare in Hindi
  15. मुझे जन्म नियंत्रण अंगूठी कहाँ मिल सकती है? – Where Can I Get the Birth Control Ring in hindi

वर्थ कंट्रोल रिंग क्‍या है – Birth Control Ring Kya hai in Hindi

वर्थ कंट्रोल रिंग को जन्‍म नियंत्रण अंगूठी भी कहा जाता है। यह एक लचीला गोलाकार उपकरण है जो योनि के अंदर जाता है। यह योनि की दीवार के माध्‍यम से रक्‍त प्रवाह में धीरे-धीरे हार्मोन जारी करता है। ये हार्मोन गर्भावस्‍था को रोकने में मदद करते हैं। अच्‍छी बात यह है कि यह उपयोग करने में बहुत ही सहज और सरल होता है। वर्थ कंट्रोल रिंग का उपयोग किसी भी प्रकार से सेक्‍स को प्रभावित नहीं करता है। आप भी वर्थ कंट्रोल उत्‍पादों के रूप में वर्थ कंट्रोल रिंग का उपयोग कर सकते हैं।

(और पढ़े – गर्भनिरोधक के सभी उपाय और तरीके…)

वर्थ कंट्रोल रिंग कैसे काम करती है – Birth control ring kaise kaam karti hai in Hindi

वर्थ कंट्रोल रिंग कैसे काम करती है – Birth control ring kaise kaam karti hai in Hindi

जन्म नियंत्रण अंगूठी या वर्थ कंट्रोल रिंग में हार्मोन प्रोजेस्टिन और एस्‍ट्रोजन (estrogen and progestin) का संयोजन होता है जो ओव्‍यूलेशन को रोकता है। यह एक महिला के मासिक चक्र के दौरान अंडाशय से एक अंडे की रिहाई को ओव्‍यूलेशन कहा जाता है। जब तक कोई महिला अंडे को उत्‍सर्जित नहीं करती है तब तक वह गर्भवती नहीं हो सकती है। क्‍योंकि पुरुष के शुक्राणु को निषेचित करने के लिए कोई अंडा उपलब्‍ध नहीं होता है। रिंग में मौजूद हार्मोन गर्भाशय ग्रीवा बलगम जो गर्भाशय ग्रीवा में कोशिकाओं द्वारा बनाई जाती है उसे गाढ़ा करते हैं। जिससे शुक्राणुओं को गर्भाशय के अंदर प्रवेश करने और अंडे को निषेचित करने में कठिनाई होती है।

रिंग में उपस्थिति हार्मोन कभी-कभी गर्भाशय ग्रीवा के अस्‍तर को भी प्रभावित कर सकते हैं जिससे अंडे को गर्भाशय की दीवार में ठहरना भी मुश्किल हो सकता है।

जन्‍म नियंत्रण गोली या पैच की तरह ही वर्थ कंट्रोल रिंग मासिक धर्म चक्र पर आधारित होती है।

(और पढ़े – गर्भाशय की जानकारी, रोग और उपचार…)

जन्म नियंत्रण अंगूठी या वर्थ कंट्रोल रिंग कितनी प्रभावी है – Birth Control Ring kitni prabhavi hai in Hindi

जन्म नियंत्रण अंगूठी या वर्थ कंट्रोल रिंग कितनी प्रभावी है – Birth Control Ring kitni prabhavi hai in Hindi

बहुत से लोगों के मन में यह प्रश्‍न उठता है कि वर्थ कंट्रोल रिंग प्रभावी है या नहीं। लेकिन उनकी जानकारी के लिए बता दें कि वर्थ कंट्रोल रिंग जन्‍म नियंत्रण के लिए बहुत ही प्रभावी विकल्‍प है। हालांकि 1 वर्ष के दौरान गर्भ निरोध के रूप में रिंग का उपयोग करने वाले 100 में से लगभग 9 जोड़ों को आकस्मिक गर्भावस्‍था हो सकती है। इसलिए जरूरी है कि महिलाओं को बेहतर तरीके से वर्थ कंट्रोल रिंग का उपयोग करना चाहिए। इसके अलावा रिंग को सही समय पर उपयोग न करना और जल्‍दी बाहर निकाल लेना इसके प्रभाव को कम कर सकता है।

सामान्‍य रूप से जन्‍म नियंत्रिण के सभी प्रकार की विधियों की प्रभावशीलता कई बातों पर निर्भर करती है। जैसे कि किसी महिला की स्‍वास्‍थ्‍य स्थिति या कुछ दवाएं जो वर्थ कंट्रोल उत्‍पादों के प्रभाव को कम करती हों।

(और पढ़े – गर्भनिरोधक दवाओं और उनके शरीर पर पड़ने वाले प्रभाव के बारे में जानें…)

क्‍या वर्थ कंट्रोल रिंग यौन संक्रमण को रोकती है – Kya Birth Control Ring STD ko rokti hai in Hindi

क्‍या वर्थ कंट्रोल रिंग यौन संक्रमण को रोकती है – Kya Birth Control Ring STD ko rokti hai in Hindi

जन्म नियंत्रण अंगूठी या वर्थ कंट्रोल रिंग का उपयोग करने वाली महिलाओं को सावधान रहना चाहिए। क्‍योंकि यह किसी भी प्रकार से यौन संचारित संक्रमण को रोकने में प्रभावी नहीं है। इसलिए इस रिंग का उपयोग करने वाली महिलाओं को यौन संबंध बनाते समय उचित संक्रमण रोधी उत्‍पादों का इस्‍तेमाल करना चाहिए। जैसे कि रिंग के साथ ही कंडोम का उपयोग करना आपको यौन संचारित संक्रमण से बचा सकता है।

(और पढ़े – यौन संचारित रोग एसटीडी को रोकने के तरीके…)

वर्थ कंट्रोल रिंग का उपयोग कौन कर सकता है – Who Can Use a Birth Control Ring in Hindi

वर्थ कंट्रोल रिंग का उपयोग कौन कर सकता है - Who Can Use a Birth Control Ring in Hindi

जन्म नियंत्रण अंगूठी या वर्थ कंट्रोल रिंग का उपयोग उन महिलाओं के लिए अच्‍छा विकल्‍प है जो नियमित रूप से जन्म नियंत्रण गोली का सेवन नहीं कर पाती हैं। या फिर उन महिलाओं के लिए वर्थ कंट्रोल रिंग फायदेमंद है जिन्‍हें गोलियां खाने में असुविधा होती है। महिलाओं के लिए वर्थ कंट्रोल रिंग का उपयोग बहुत ही आसान और सुरक्षित है।

क्‍या सभी महिलाएं वर्थ कंट्रोल रिंग का उपयोग कर सकती हैं – वैसे तो वर्थ कंट्रोल का उपयोग सभी महिलाओं के लिए सुरक्षित होता है। लेकिन कुछ विशेष स्‍वास्‍थ्‍य स्थिति वाली महिलाएं जैसे गंभीर उच्‍च रक्‍तचाप और कुछ प्रकार के कैंसर वर्थ कंट्रोल रिंग के प्रभाव को कम कर सकते हैं साथ ही यह समस्‍या को गंभीर भी बना सकते हैं।

जिन महिलाओं को बिना पीरियड्स के रक्‍तस्राव (vaginal bleeding) हुआ है या जो महिलायें गर्भवती होना चाहतीं हैं उन्‍हें वर्थ कंट्रोल रिंग का इस्‍तेमाल करना बंद कर देना चाहिए। साथ ही उन्‍हें अपने डॉक्‍टर से बात करनी चाहिए इस बीच वे दूसरे वर्थ कंट्रोल उत्पादों का उपयोग कर सकते हैं।

(और पढ़े – महिलाओं में कैंसर के लक्षण…)

क्‍या जन्म नियंत्रण अंगूठी या वर्थ कंट्रोल रिंग सुरक्षित है – Kya Birth Control Ring Safe hai in Hindi

क्‍या जन्म नियंत्रण अंगूठी या वर्थ कंट्रोल रिंग सुरक्षित है – Kya Birth Control Ring Safe hai in Hindi

अधिकांश महिलाओं के लिए वर्थ कंट्रोल रिंग का उपयोग करना सुरक्षित है। लेकिन यदि आप किसी विशेष प्रकार की दवाओं का सेवन कर रहे हैं तो वर्थ कंट्रोल रिंग के कुछ दुष्‍प्रभाव हो सकते हैं। इसके अलावा जिन महिलाओं को अवधि समय के बिना ही रक्‍त स्राव होता है या जो प्रेगनेंट हैं उन्‍हें भी वर्थ कंट्रोल रिंग का उपयोग करने से बचना चाहिए। यदि आपकी उम्र 35 वर्ष से अधिक है और धूम्रपान करती हैं तो आपको वर्थ कंट्रोल रिंग का उपयोग करने से बचना च‍ाहिए क्‍योंकि वर्थ कंट्रोल रिंग में एस्‍ट्रोजन हार्मोन होता है। यदि आपको इनमें से कोई भी स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍या है तब भी आपको इस रिंग का उपयोग करने से बचना चाहिए।

(और पढ़े – दिल का दौरा पड़ने (हार्ट अटैक) के लक्षण…)

जन्म नियंत्रण अंगूठी का उपयोग कैसे करें – Birth Control Ring ka Upyog kaise kare in Hindi

वर्थ कंट्रोल रिंग का उपयोग करना बहुत ही आसान है। बस आपको एक महिने में 1 बार वर्थ कंट्रोल रिंग को अपनी योनि में लगाना है। आप हर महिने अपनी अ‍वधि के दौरान इसे बाहर निकाल सकते हैं। रिंग का उपयोग करने से पहले यह सुनिश्चित करें कि वर्थ कंट्रोल रिंग अभी भी नई है या इसकी समाप्ति डेट अभी भी है। अपने हाथों को साबुन से धो लें। इसके बाद रिंग को दबाते हुए योनि में धीरे-धीरे डालें। सही तरह से फिट होने के बारे में चिंता न करें। क्‍योंकि यह आपके चलने फिरने के दौरान खुद ही व्‍यवस्थिति हो जाएगी। जब भी आपको इसे बाहर निकालना हो तब बस अपनी उंगली को रिंग में फंसाएं और योनि से बाहर निकाल लें।

सेक्‍स के दौरान या अन्‍य गतिविधियों के दौरान आपको इसे बाहर निकालने की आवश्‍यकता नहीं है। जब आप इस रिंग को निकालते हैं तो इसे निकालने के बाद इसे फॉइल रेपर या टॉयलेट पेपर में लपेटकर कचरे में डाल दें। इसे टॉयलेट में न बहाएं।

(और पढ़े – बिना गोली और कंडोम के प्रेगनेंसी रोकने और गर्भधारण से बचने के उपाय…)

वर्थ कंट्रोल रिंग का उपयोग कब करें – Birth Control ring ka Upyog kab kare in Hindi

जन्‍म नियंत्रण रिंग का उपयोग बहुत ही आसान है आपको बस इसे अपनी योनि में डालना है। यदि आप इसे अपने मासिक चक्र के पहले 5 दिनों में उपयोग करते हैं तो यह 7 दिनों में अंदर ही काम करना शुरु कर देता है। अपनी अवधि के शुरुआती 5 दिनों के दौरान वर्थ कंट्रोल रिंग का उपयोग करने पर आपको बैकअप वर्थ कंट्रोल की आवश्यकता नहीं होती है। ल‍ेकिन अगर आप अपने चक्र के किसी दूसरे दिन रिंग का उपयोग करते हैं तो गर्भावस्‍था से बचाव में लगभग 7 दिन लग सकते हैं। इसलिए पहले सप्‍ताह में सेक्‍स के दौरान पुरुष कंडोम या महिला कंडोम का उपयोग करना चाहिए।

(और पढ़े – कैसे करें महिला कंडोम का इस्तेमाल…)

वर्थ कंट्रोल रिंग के उपयोग से क्‍या उम्‍मीद करनी चाहिए – What should I expect after starting the ring in Hindi

वर्थ कंट्रोल रिंग के उपयोग से क्‍या उम्‍मीद करनी चाहिए - What should I expect after starting the ring in Hindi

पहली बार उपयोग करने पर आप कुछ सामान्‍य से दुष्‍प्रभावों का अनुभव कर सकते हैं। ये दुष्‍प्रभाव सामान्‍य रूप से 2 से 3 माह के अंदर स्‍वयं ही समाप्‍त हो जाते हैं। वर्थ कंट्रोल रिंग का उपयोग करने पर कुछ महिलाओं को पीरियड्स के दौरान सिरदर्द, मतली, गले में खराश, हल्‍का रक्‍तस्राव या ब्राउन डिस्‍चार्ज जैसी समस्‍याएं हो सकती हैं। इसके अलावा रिंग का उपयोग करने पर बहुत सी महिलाएं उनकी योनि में अधिक गीलापन महसूस कर सकती हैं।

वर्थ कंट्रोल रिंग का उपयोग करने से महिलाओं की अ‍वधि में परिवर्तन हो सकता है। यह अधिक नियमित, हल्‍का और छोटा हो सकता है। यदि आप ब्रेक के बिना पूरे महीने अंगूठी का उपयोग करते हैं तो आपको पहले 6 महीनों के लिए अनियमित रक्‍तस्राव या स्‍पॉटिंग हो सकता है। कुछ समय के बाद आपकी अवधि पूरी तरह से रुक सकती है जो कि सामान्‍य है।

पीरियड्स में बदलवाव होना कुछ महिलाओं को गर्भवती होने के लिए चिंतित कर सकता है। लेकिन यदि आप सही तरीके से वर्थ कंट्रोल रिंग का उपयोग कर रहे हैं तो गर्भावस्‍था की संभावना बहुत ही कम होती है। लेकिन आपको फिर भी समय समय पर गर्भावस्‍था परीक्षण करना चाहिए।

(और पढ़े – योनी में गीलापन होने के कारण और उपाय…)

वर्थ कंट्रोल रिंग सही तरह से न लगने पर क्या करें – Birth Control Ring sahi tharh se na lagne par kya kare in Hindi

वर्थ कंट्रोल रिंग सही तरह से न लगने पर क्या करें – Birth Control Ring sahi tharh se na lagne par kya kare in Hindi

सामान्‍य रूप से ऐसा होना तो नहीं चाहिए, फिर भी कई बार यह रिंग आपकी योनि से बाहर निकल सकता है। यह कोई गलती नहीं है आप अब भी गर्भावस्‍था को रोक सकते हैं। यदि रिंग आपकी योनि से 2 दिनों से कम समय के लिए बाहर हो गई है तो इसे ठंडे पानी में धो लें और तुरंत ही इसे वापस लगाएं। यदि आप इसे 48 घंटों के अंदर वापस उपयोग करते हैं तो गर्भावस्था से सुरक्षित रहेगें।

लेकिन यदि योनि की अंगूठी आपकी योनि में 2 दिनों से अधिक समय तक बाहर रहती है तो आप इसे ठंडे पानी से धो लें और फिर से उपयोग करें। लेकिन इस दौरान लगभग 7 दिनों तक सेक्‍स करते समय कंडोम या अन्‍य जन्‍म नियंत्रण का उपयोग करना चाहिए।

(और पढ़े – गर्भवती होने से कैसे बचें…)

सही समय पर जन्म नियंत्रण अंगूठी न बदलने पर क्‍या करें – Sahi Samay par ring na badalne par Kya kare in Hindi

सही समय पर जन्म नियंत्रण अंगूठी न बदलने पर क्‍या करें – Sahi Samay par ring na badalne par Kya kare in Hindi

यदि आप समय पर योनि की अंगूठी का उपयोग नहीं कर पाते हैं तो इसके लिए आप मोबाइल एप का उपयोग कर सकते हैं। ये एप आपको समय समय पर रिमाइंडर दे सकते हैं कि कब आपको रिंग बदलना है। यदि आप अपने रिंग-फ्री सप्‍ताह के अंत में एक नई रिंग का उपयोग नहीं करते हैं तो जितनी जल्‍दी हो सके एक नई रिंग का उपयोग करें। जब तक आप योनि की अंगूठी का उपयोग नहीं करते हैं तब तक आपको सेक्‍स संबंध बनाते समय कंडोम का उपयोग करना चाहिए। 3 सप्‍ताह के अंदर अपनी पुरानी रिंग को बदलें और उसी दिन नया रिंग का उपयोग करें।

यदि आप 3 सप्‍ताह के लिए योनि की अंगूठी का उपयोग करते हैं और इसे बाहर निकालना भूल जाते हैं कोई चिंता की बात नहीं है। 4 सप्‍ताह के अंत में पुरानी रिंग को बाहर निकालें और एक नई रिंग को लगाएं। यदि आप 1 महिने के लिए योनि की अंगूठी पहनते हैं और इसे निकालना भूल जाते हैं तो कोई बात नहीं आप इस पुरानी योनि की अंगूठी को निकालें और एक नया रिंग का उपयोग करें। लेकिन इस दौरान 7 दिनों तक यौन संबंध बनाते समय कंडोम का इस्‍तेमाल करें।

(और पढ़े – गर्भवती न होने के 10 तरीके…)

वर्थ कंट्रोल रिंग के फायदे – Birth Control Ring ke fayde in Hindi

वर्थ कंट्रोल रिंग के फायदे – Birth Control Ring ke fayde in Hindi

जन्‍म नियंत्रण के लिए वर्थ कंट्रोल रिंग का उपयोग आसान और सुरक्षित होता है। लेकिन वर्थ कंट्रोल रिंग का उपयोग करने के अन्‍य फायदे भी होते हैं। जैसे कि मुंहासे कम करना, पीरियड्स को नियमित करना और मासिक धर्म की ऐंठन को दूर करना। यदि आप निर्देशों के अनुसार वर्थ कंट्रोल रिंग का उपयोग करते हैं तो यह आपको गर्भावस्‍था से सुरक्षा प्रदान करती है। इसके लिए आप सुनिश्चित करें कि समय पर नई रिंग का उपयोग किया जाये। लेकिन वर्थ कंट्रोल रिंग का उपयोग करने के साथ ही आपको यौन संचारित संक्रमण से बचने के लिए कंडोम आदि का उपयोग करना चाहिए।

वर्थ कंट्रोल रिंग उन महिलाओं के लिए भी फायदेमंद है जो रोज रोज गोलीयों का सेवन नहीं कर सकती हैं। वर्थ कंट्रोल रिंग का उपयोग करने के अन्‍य फायदों में शामिल हैं जिसे रोकने में हैं। वर्थ कंट्रोल रिंग कम या रोकने में मदद कर सकती है:

  • मुंहासे दूर करना
  • हड्डियों को पतला और कमजोर होने से रोकना।
  • स्‍तनों और अंडाशय में अल्‍सर को रोकना।
  • अस्‍थानिक गर्भावस्‍था
  • एंडोमेट्रियल और डिम्‍बग्रंथि के कैंसर।
  • अंडाशय, फैलोपियन ट्यूब और गर्भाशय में गंभीर संक्रमण।
  • एनीमिया और
  • मासिक धर्म चक्र के लक्षणों (प्रीमेंस्‍ट्रुअल सिंड्रोम)

(और पढ़े – प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम (पीएमएस) के कारण, लक्षण और इलाज…)

वर्थ कंट्रोल रिंग के नुकसान – Birth Control Ring ke Nuksan in Hindi

वर्थ कंट्रोल रिंग के नुकसान – Birth Control Ring ke Nuksan in Hindi

सही समय पर एक नई वर्थ कंट्रोल रिंग का उपयोग याद रख पाना मुश्किल हो सकता है। साथ ही इसका उपयोग करने पर महिलाओं को कुछ समान्‍य से दुष्‍प्रभावों का भी सामना करना पड़ सकता है। हालांकि के लक्षण कुछ ही दिनों में समाप्‍त हो जाते हैं। गर्भावस्‍था से बचने के लिए हर महिने एक नई वर्थ कंट्रोल रिंग का उपयोग करना बेहद आवश्‍यक है। यदि आप व्‍यस्‍त लाइफ जीते हैं तो वर्थ कंट्रोल रिंग के नकारात्‍मक दुष्‍प्रभाव हो सकते हैं। कुछ महिलाओं को रिंग का उपयोग करने के दौरान दर्द का अनुभव हो सकता है लेकिन यह आमतौर पर 2 से 3 माह में ठीक हो जाता है। साथ ही महिलाओं को सिरदर्द, मतली, खराश आदि समस्‍याएं भी हो सकती हैं।

यदि आपको ऐसी किसी प्रकार की समस्‍या 3 माह से अधिक समय तक हो तो आपको रिंग की बजाय कोई और जन्‍म नियंत्रण विधि का उपयोग करने पर विचार कर सकते हैं। वर्थ कंट्रोल रिंग का उपयोग करने पर महिलाओं को निम्‍न दुष्‍प्रभाव हो सकते हैं।

(और पढ़े – योनी में खुजली, जलन और इन्फेक्शन के कारण और घरेलू इलाज…)

डॉक्‍टर से कब संपर्क करें – Doctor se kab sampark kare in Hindi

डॉक्‍टर से कब संपर्क करें – Doctor se kab sampark kare in Hindi

यदि आप जन्‍म नियंत्रण रिंग का उपयोग कर रहे हैं और ऐसी किसी स्थिति का सामना करें तब डॉक्‍टर से संपर्क करना चाहिए।

इस तरह के लक्षण होने पर आपको डॉक्‍टर से तुरंत ही सलाह लेना चाहिए।

(और पढ़े – पैरों में जलन होने का कारण, निदान और उपचार…)

मुझे जन्म नियंत्रण अंगूठी कहाँ मिल सकती है? – Where Can I Get the Birth Control Ring in hindi

एक डॉक्टर या एक नर्स को जन्म नियंत्रण की अंगूठी लिखनी चाहिए, वह संभवतः आपके स्वास्थ्य और परिवार के मेडिकल इतिहास के बारे में सवाल पूछेंगे। वह पूरी तरह से शारीरिक परीक्षा भी कर सकते है, जिसमें रक्तचाप माप और श्रोणि परीक्षा भी शामिल है। यदि उन्होंने आपको जन्म नियंत्रण अंगूठी निर्धारित है, तो डॉक्टर आपको इसका उपयोग करने के तरीके के बारे में निर्देश देंगे।

आपके रक्तचाप को मापने के लिए और आंगे कोई समस्या नहीं है यह सुनिश्चित करने के लिए जन्म नियंत्रण अंगूठी का उपयोग करने के कुछ महीने बाद आपको डॉक्टर के पास वापस जाना पड़ सकता है। उसके बाद, डॉक्टर वर्ष में एक या दो बार या आवश्यकतानुसार नियमित परीक्षाओं की सिफारिश कर सकता है।

(और पढ़े – गर्भनिरोधक इंजेक्शन क्या है, प्रकार, कैसे कम करता है, लाभ और साइड इफ़ेक्ट…)

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration