गर्भपात होने के बाद क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए – What To Eat and Avoid After Miscarriage in Hindi

गर्भपात होने के बाद क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए - What To Eat and Avoid After Miscarriage in Hindi
Written by Diksha

Indian Diet After Miscarriage In Hindi गर्भपात होने के बाद क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए यह जानना उन महिलाओं के लिए आवश्‍यक है जो मिसकैरेज यानी गर्भपात का सामना कर रहीं है या कर चुकी हैं। गर्भपात होना किसी भी महिला को शारीरिक और मानसिक रूप से परेशान कर सकता है। लेकिन गर्भापात के बाद आहार जो महिलाओं के स्‍वास्‍थ्‍य के लिए अच्‍छे होते हैं उनका सेवन बहुत आवश्‍यक है। हालांकि अपने होने वाले बच्‍चे के नुकसान को पूरा करने का कोई तरीका नहीं है। लेकिन गर्भपात के बाद उचित आहार का उपयोग कर महिला को शारीरिक और मानसिक रूप से स्‍वस्‍थ रखा जा सकता है। आज इस आर्टिकल में आप जानेगें महिलाओं को गर्भपात होने के बाद क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए।

1. गर्भपात के बाद खाने के लिए सर्वश्रेष्ठ खाद्य पदार्थ – Best Foods To Eat After Miscarriage in Hindi

2. गर्भपात होने के बाद न खाएं ऐसे आहार – foods to avoid after miscarriage in Hindi

गर्भपात के बाद खाने के लिए सर्वश्रेष्ठ खाद्य पदार्थ – Best Foods To Eat After Miscarriage in Hindi

  1. गर्भपात के बाद खाएं आयरन युक्‍त खाद्य पदार्थ – Garbhpat hone ke baad khana chahiye iron rich food in Hindi
  2. एबॉर्शन के बाद क्या खाये में खाएं कैल्शियम – Indian Diet After Miscarriage Calcium-rich foods in Hindi
  3. गर्भपात के बाद खाना चाहिए फोलेट युक्‍त खाद्य आहार – Miscarriage ke baad khaye Folate-rich Foods in Hindi
  4. गर्भपात के बाद खाना चाहिए प्रोटीन युक्‍त खाद्य आहार – Indian Diet After Miscarriage Protein -rich foods in Hindi
  5. मूड-लिफ्टिंग फूड्स खाए एबॉर्शन के बाद – Miscarriage ke baad khana chahiye Mood-lifting Foods in Hindi
  6. मिसकैरेज के बाद आहार नट्स कमजोरी दूर करे – Garbhpat Ke Baad Diet Nuts in Hindi
  7. गर्भपात के बाद सर्वोत्तम आहार में खाएं फल और सब्जियां – Garbhpat ke baad aahar me fal aur sabjiya in Hindi
  8. गर्भपात के बाद अच्‍छा आहार है विटामिन सी – Garbhpat hone ke baad khana chahiye Vitamin C-rich Foods in Hindi

जैसा कि हम जानते हैं कि गर्भावस्‍था के दौरान महिलाओं के शरीर में आंतरिक और बाहृ रूप से कई परिवर्तन होते हैं। लेकिन गर्भपात के बाद ये स्थितियां महिला स्‍वास्‍थ्‍य पर बुरा प्रभाव छोड़ सकती हैं। साथ ही गर्भपात से रक्‍तस्राव और चक्‍कर आना जैसी समस्‍याएं भी होती हैं। जिनका प्रमुख कारण महिलाओं का शारीरिक रूप से कमजोर होना होता है। इसलिए गर्भपात के बाद आहार आपके स्‍वास्‍थ्‍य पर सकारात्‍मक और नकारात्‍मक दोनों ही प्रकार के प्रभाव डालते हैं। इसलिए आपको पता होना चाहिए कि गर्भपात के बाद खाने के लिए सर्वश्रेष्‍ठ खाद्य पदार्थ कौन से हैं। या आपको गर्भपात के बाद किस प्रकार के खाद्य पदार्थों से बचना चाहिए। आइए जाने गर्भपात के बाद आहार जो महिला को जल्दी रिकवर होने में सहायक होते हैं।

गर्भपात के बाद खाएं आयरन युक्‍त खाद्य पदार्थ – Garbhpat hone ke baad khana chahiye iron rich food in Hindi

गर्भपात के बाद खाएं आयरन युक्‍त खाद्य पदार्थ - Garbhpat hone ke baad khana chahiye iron rich food in Hindi

सभी लोग जानते हैं कि गर्भपात के दौरान भारी मात्रा में रक्‍तस्राव होता है। जिससे महिलाओं के शरीर में रक्‍त की कमी हो सकती है। इस तरह से अधिक रक्‍तस्राव आपके शरीर में आयरन की कमी का कारण भी बन सकता है। जिससे गर्भपात के बाद महिलाओं को एनीमिया और इससे संबंधित अन्‍य स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं की संभावना बढ़ जाती है। अक्‍सर महिलाओं को गर्भपात के बाद थकान और कमजोरी का अनुभव भी होता है। ये लक्षण शरीर में आयरन की कमी के कारण होते हैं। इसलिए महिलाओं को गर्भपात के बाद आहार में लौह आधारित खाद्य पदार्थों को शामिल करना चाहिए। गर्भपात के बाद आहार के रूप में महिलाएं निम्‍न खाद्य पदार्थों को शामिल कर सकती हैं।

महिलाएं इन आयरन युक्‍त खाद्य पदार्थों का भी सेवन करने का प्रयास करें जो विटामिन सी युक्‍त होते हैं। ये खाद्य पदार्थ आपके शरीर में आयरन के बेहतर अवशोषण में मदद करते हैं। इस प्रकार के खाद्य पदार्थों में पपीता, स्‍ट्रॉबेरी, अंगूर आदि शामिल हैं। इस तरह के खाद्य पदार्थों को गर्भपात के बाद आहार के रूप में सेवन किया जा सकता है।

(और पढ़े – गुड़ खाने के फायदे और नुकसान…)

एबॉर्शन के बाद क्या खाये में खाएं कैल्शियम – Indian Diet After Miscarriage Calcium-rich foods in Hindi

एबॉर्शन के बाद क्या खाये में खाएं कैल्शियम - Indian Diet After Miscarriage Calcium-rich foods in Hindi

गर्भावस्‍था के दौरान महिलाओं के शरीर में कैल्शियम की मात्रा में कमी आ सकती है। इसलिए महिलाओं को गर्भपात के बाद आहार में कैल्शियम युक्‍त खाद्य पदार्थों को शामिल करना चाहिए। क्‍योंकि कैल्शियम शरीर की हड्डियों में प्रमुख घटक होता है। जिसकी कमी के कारण महिलाओं की हड्डियां कमजोर हो सकती हैं। साथ ही कैल्शियम अन्‍य प्रकार से शरीर के लिए बहुत ही आवश्‍यक घटक होता है। कैल्शियम के कुछ सबसे अच्‍छे स्रोत इस प्रकार हैं :

  • दूध
  • डेयरी उत्‍पाद
  • साल्‍मन और सार्डिन जैसी समुद्री म‍छलीयां
  • सूखे मेवे
  • सोयाबीन
  • हरी पत्‍तेदार सब्जियां।

(और पढ़े – कैल्शियम युक्त भोजन महिलाओं के लिए…)

गर्भपात के बाद खाना चाहिए फोलेट युक्‍त खाद्य आहार – Miscarriage ke baad khaye Folate-rich Foods in Hindi

गर्भपात के बाद खाना चाहिए फोलेट युक्‍त खाद्य आहार - Miscarriage ke baad khaye Folate-rich Foods in Hindi

अधिकांश महिलाएं गर्भपात के बाद फिर से गर्भधारण करने का प्रयास करती हैं। ऐसी स्थिति में फोलेट युक्‍त खाद्य पदार्थों का सेवन करना फायदेमंद होता है। यह महिलाओं के शरीर को फिर से गर्भधारण करने के लिए तैयार करता है और फिर से गर्भपात होने की संभावना को कम करने में सहायक होता है। फोलेट विशेष रूप से हरी पत्‍तेदार सब्जियों जैसे पालक और काले आदि में पाया जाता है। इसके अलावा आप फोलेट की प्राप्ति के लिए शतावरी, ब्रोकोली, खट्टे फल, दाल, मटर, एवोकैडो, भिंडी, ब्रसेल्‍स स्‍प्राउट्स बीज नट्स आदि का सेवन कर सकते हैं।

(और पढ़े – फोलिक एसिड क्या है, उपयोग (लाभ), साइड इफेक्ट्स, खाद्य पदार्थ और दैनिक मात्रा…)

गर्भपात के बाद खाना चाहिए प्रोटीन युक्‍त खाद्य आहार – Indian Diet After Miscarriage Protein -rich foods in Hindi

गर्भपात के बाद खाना चाहिए प्रोटीन युक्‍त खाद्य आहार - Indian Diet After Miscarriage Protein -rich foods in Hindi

मिसकैरेज के बाद शरीर को स्‍वस्‍थ बनाए रखने में प्रोटीन युक्‍त खाद्य पदार्थों का सेवन करना फायदेमंद होता है। लेकिन जब कोई महिला गर्भपात जैसी समस्‍या से गुजरती हैं तब उन्‍हें प्रोटीन युक्‍त खाद्य पदार्थों की बेहद आवश्‍यकता होती है। मिसकैरेज के बाद आहार के रूप में प्रोटीन युक्‍त खाद्य पदार्थ इसलिए भी आवश्‍यक हैं क्‍योंकि इनमें अमीनो एसिड की अच्‍छी मात्रा होती है। अमीनो एसिड क्षतिग्रस्‍त कोशिकाओं की मरम्मत करने में सहायक होते हैं। गर्भपात के बाद आहार के रूप में  महिलाओं को अंडे, लीन मीट, समुद्री भोजन, दूध, पनीर, दही, दाल और चिकन जैसे खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए। हालांकि प्रोटीन की उचित मात्रा को प्राप्‍त करने के लिए महिलाओं को शाकाहार और मांसाहार दोनों ही प्रकार के खाद्य पदार्थों का संतुलित उपयोग करना फायदेमंद होता है।

(और पढ़े – प्रोटीन क्या है, कार्य, कमी के कारण, लक्षण, जाँच, इलाज और आहार…)

मूड-लिफ्टिंग फूड्स खाए एबॉर्शन के बाद – Miscarriage ke baad khana chahiye Mood-lifting Foods in Hindi

मूड-लिफ्टिंग फूड्स खाए एबॉर्शन के बाद - Miscarriage ke baad khana chahiye Mood-lifting Foods in Hindi

गर्भपात के बाद किसी भी महिला को उदासी, तनाव, अनिद्रा आदि की समस्‍या होना आम है। क्‍योंकि यह उन्‍हें भावनात्‍मक क्षति पहुंचाता है। लेकिन अध्‍ययनों से पता चलता है कि गर्भपात के बाद उचित आहार का सेवन किया जाए तो महिलाओं को इस स्थिति से बाहर निकाला जा सकता है। शोध के अनुसार मैग्नीशियम की कमी के कारण अवसाद जैसी समस्‍याएं होती हैं। इसलिए मैग्नीशियम युक्‍त खाद्य पदार्थों का सेवन करने से चिंता और तनाव आदि को कम करने में मदद मिलती है। मैग्नीशियम की कमी को दूर करने के लिए आप नट्स, बीज, हरी पत्‍तेदार सब्जियां, डार्क चॉकलेट, एवोकैडो, फलियां, साबुत अनाज जैसे ब्राउन राइस, गेहूं, मटर, दाल आदि का नियमित सेवन कर सकते हैं। ये सभी खाद्य पदार्थ मूड़ को बढ़ाने में सहायक होते हैं। जिनसे महिलाओं के मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य में वृद्धि होती है।

(और पढ़े – मैग्नीशियम युक्त खाद्य पदार्थ और मैग्नीशियम के फायदे…)

मिसकैरेज के बाद आहार नट्स कमजोरी दूर करे – Garbhpat Ke Baad Diet Nuts in Hindi

मिसकैरेज के बाद आहार नट्स कमजोरी दूर करे - Garbhpat Ke Baad Diet Nuts in Hindi

सूखे फलों या नट्स में बहुत से पोषक तत्‍व होते हैं जो मानव स्‍वास्‍थ्‍य के लिए अच्‍छे होते हैं। लेकिन ये सूखे फल मिसकैरेज के बाद महिलाओं के स्‍वास्‍थ्‍य में होने वाले परिवर्तन के लिए और भी अधिक प्रभावी होते हैं। इन नट्स में विटामिन ई, आयरन, मैग्‍नीशियम, फोलेट, ओमेगा-6 और ओमेगा-3 फैटी एसिड की अच्‍छी मात्रा होती है। इसके अलावा इनमें फाइबर भी उचित मात्रा में होता है जो महिलाओं के स्‍वास्‍थ्‍य को बेहतर बनाने में सहायक है। हालांकि यह भी सलाह दी जाती है कि महिलाओं को ऐसे खाद्य पदार्थ कम मात्रा में सेवन करना चाहिए। क्‍योंकि इन खाद्य पदार्थों में वसा और कैलोरी बहुत अधिक होती है। जिसके कारण यह महिलाओं के वजन बढ़ने का कारण बन सकता है।

(और पढ़े – ड्राई फ्रूट्स के फायदे और नुकसान…)

गर्भपात के बाद सर्वोत्तम आहार में खाएं फल और सब्जियां – Garbhpat ke baad aahar me fal aur sabjiya in Hindi

गर्भपात के बाद सर्वोत्तम आहार में खाएं फल और सब्जियां – Garbhpat ke baad aahar me fal aur sabjiya in Hindi

बहुत से वैज्ञानिक अध्‍ययनों से पता चलता है कि ताजे फल और सब्जियां महिलाओं सहित पुरुषों के स्‍वास्‍थ्‍य के लिए बहुत अधिक फायदेमंद होते हैं। लेकिन महिलाएं गर्भपात के बाद आहार के रूप में इनका विशेष रूप से उपभोग कर सकती हैं। क्‍योंकि स्‍वस्‍थ शरीर के लिए सबसे ज्‍यादा पोषक तत्‍व और खनिज पदार्थ फलों और सब्जियों से ही प्राप्‍त होते हैं। इसके अलावा नियमित रूप से सेवन करने पर महिलाओं को अगले गर्भाधारण में गर्भपात की संभावना 50 प्रतिशत तक कम हो सकती है। इसलिए महिलाओं को अपने बेहतर स्‍वास्‍थ्‍य के लिए एबॉर्शन के बाद आहर में फल और सब्जियों का अधिक सेवन करना चाहिए।

(और पढ़े – जानें फल खाने का सही समय क्या है…)

गर्भपात के बाद अच्‍छा आहार है विटामिन सी – Garbhpat hone ke baad khana chahiye Vitamin C-rich Foods in Hindi

गर्भपात के बाद अच्‍छा आहार है विटामिन सी - Garbhpat hone ke baad khana chahiye Vitamin C-rich Foods in Hindi

विटामिन सी बहुत ही आवश्‍यक घटक है जो महिलाओं के स्‍वास्‍थ्‍य के लिए आवश्‍यक होता है। गर्भपात के बाद आहार के रूप में विटामिन सी युक्‍त खाद्य पदार्थों पर विशेष ध्‍यान देना चाहिए। क्‍योंकि विटामिन सी मानव शरीर के लिए एंटीऑक्‍सीडेंट का काम करता है। विटामिन सी युक्‍त खाद्य पदार्थों में पपीता, स्‍ट्रॉबेरी, अंगूर, संतरे और अन्‍य सभी खट्टे फल आते हैं। विटामिन सी युक्‍त खाद्य पदार्थों के सेवन करने का प्रमुख लाभ यह है कि विटामिन सी शरीर में आरयन को अवशोषित करने में सहायक होता है। इस तरह से आप अपने शरीर में आयरन की कमी को पूरा करने के लिए भी विटामिन सी युक्‍त खाद्य पदार्थों का सेवन कर सकते हैं।

(और पढ़े – विटामिन सी की कमी दूर करने के लिए ये खाद्य पदार्थ…)

गर्भपात होने के बाद न खाएं ऐसे आहार – foods to avoid after miscarriage in Hindi

  1. गर्भपात के बाद ना खाएं कम फाइबर बाले आहार – After Miscarriage Avoid Low-fiber starches in Hindi
  2. मिसकैरेज के बाद ज्‍यादा मीठा नहीं खाना चाहिए – Miscarriage ke baad nahi khana chahiye Sweet in Hindi
  3. गर्भपात के बाद दूध और मीट खाने से बचें – After Miscarriage Avoid Milk and meats in Hindi
  4. गर्भपात के समय न खाएं जंक फूड – Garbhpat Ke Samay Na Khaye Junk Food in Hindi
  5. एबॉर्शन के बाद नहीं खाना चाहिए सोया उत्पाद – Miscarriage ke baad na khaye Soy products in Hindi

गर्भपात के महिलाओं का शरीर सामान्य से अधिक कमजोर हो जाता है। इसलिए उन्‍हें उचित पोषक तत्‍वों की आवश्‍यकता होती है। साथ ही उन्‍हें ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए जो उन्‍हें भविष्‍य में गर्भपात संभावनाओं से बचा सकें। लेकिन कभी कभी महिलाएं आहार के रूप में ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन करती हैं जो गर्भपात के लक्षणों और समस्‍याओं को और अधिक बढ़ा देते हैं। ऐसा इसलिए होता है क्‍योंकि महिलाओं को यह पता नहीं होता है गर्भपात होने के बाद क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए। आइए जाने गर्भपात होने के बाद महिलाओं को किस प्रकार के आहार से बचना चाहिए।

गर्भपात के बाद ना खाएं कम फाइबर बाले आहार – After Miscarriage Avoid Low-fiber starches in Hindi

गर्भपात के बाद ना खाएं कम फाइबर बाले आहार - After Miscarriage Avoid Low-fiber starches in Hindi

महिलाओं को मिसकैरेज के बाद कम फाइबर वाले आहार का सेवन करने से बचना चाहिए। कार्बोहाइड्रेट आपके शरीर को जरूरत के अनुसार ऊर्जा उपलब्‍ध कराता है। इसके अलावा यह आपके शरीर में रक्‍त शर्करा के स्‍तर को भी नियंत्रित करता है। लेकिन परिष्‍कृत अनाज या कम फाइबर वाले खाद्य पदार्थ महिलाओं के शरीर में प्रतिकूल प्रभाव डाल सकते हैं। इसके अलावा इन खाद्य पदार्थों का अधिक मात्रा में सेवन करने पर यह शरीर में रक्‍त शर्करा के स्‍तर में तेजी से उतार-चढ़ाव का कारण भी बन सकते हैं। इसलिए महिलाओं को गर्भपात के बाद कम फाइबर वाले आहार का सेवन करने से बचना चाहिए। यह उनके लिए बहुत सी स्‍वास्‍यि समस्‍याओं का कारण बन सकता है।

(और पढ़े – फाइबर क्या है, स्रोत, फाइबर के फायदे और फाइबर के नुकसान…)

मिसकैरेज के बाद ज्‍यादा मीठा नहीं खाना चाहिए – Miscarriage ke baad nahi khana chahiye Sweet in Hindi

मिसकैरेज के बाद ज्‍यादा मीठा नहीं खाना चाहिए - Miscarriage ke baad nahi khana chahiye Sweet in Hindi

गर्भपात के बाद महिलाओं को ज्‍यादा मीठा खाने से बचना चाहिए। क्‍योंकि एक उच्‍च ग्‍लाइसेमिक इंडेक्‍स वाले खाद्य पदार्थ रक्‍त शर्करा के स्‍तर को बढ़ा सकते हैं। इसके अलावा इन खाद्य पदार्थों का अधिक सेवन करने से महिलाओं में वजन बढ़ने की संभावन भी बढ़ जाती है। इसलिए महिलाओं को मीठे खाद्य पदार्थों का अधिक मात्रा में सेवन करने से बचना चाहिए।

(और पढ़े – स्वस्थ आहार के प्रकार और फायदे…)

गर्भपात के बाद दूध और मीट खाने से बचें – After Miscarriage Avoid Milk and meats in Hindi

गर्भपात के बाद दूध और मीट खाने से बचें – After Miscarriage Avoid Milk and meats in Hindi

मिसकैरेज के बाद अक्‍सर महिलाओं को पेट की सूजन जैसी समस्‍याएं हो सकती हैं। यह महिलाओं में पेट दर्द और असुविधा का कारण बन सकता है। ऐसी स्थितियों से बचने के लिए महिलाओं को गर्भपात के बाद मांस और दूध आधारित खाद्य पदार्थों का सेवन करने से बचना चाहिए। गर्भपात के बाद न खाए जाने वाले अन्‍य खाद्य पदार्थों में श‍ामिल हैं :

  • सुअर का मांस (Pork)
  • मक्‍खन
  • पनीर
  • दूध

(और पढ़े – पनीर खाने के फायदे पोषक तत्व और नुकसान…)

गर्भपात के समय न खाएं जंक फूड – Garbhpat Ke Samay Na Khaye Junk Food in Hindi

गर्भपात के समय न खाएं जंक फूड – Garbhpat Ke Samay Na Khaye Junk Food in Hindi

जब आप मिसकैरेज से लड़ रही हो तब आपको जंक फूड से दूर रहना चाहिये, जंक फूड सभी को आकर्षित करते हैं। लेकिन गर्भपात के बाद महिलाओं को जंक फूड का सेवन मुख्‍य आहार के रूप में नहीं करना चाहिए। क्‍योंकि जंक फूड आपको केवल अधिक मात्रा में कैलोरी उपलब्‍ध करा सकता है। लेकिन इसमें आवश्‍यक पोषक तत्‍वों और खनिज पदार्थ की कमी होती है। साथ ही इसका सेवन करने आप अन्‍य पौष्टिक खाद्य पदार्थों का सेवन करने से वंचित रह सकते हैं। इसलिए जंक फूड के स्‍थान पर आप उन पौष्टिक आहारों का सेवन करें जो आपको सभी प्रकार के पोषक तत्‍व और खनिज पदार्थ उपलब्‍ध कराते हैं।

(और पढ़े – जानिए जंक फूड (फास्ट फूड) के नुकसान और हानिकारक प्रभावों को…)

एबॉर्शन के बाद नहीं खाना चाहिए सोया उत्पाद – Miscarriage ke baad na khaye Soy products in Hindi

एबॉर्शन के बाद नहीं खाना चाहिए सोया उत्पाद - Miscarriage ke baad na khaye Soy products in Hindi

सोयाबीन और अन्‍य सोया उत्पाद आपके स्‍वास्‍थ्‍य के लिए बेहतर विकल्‍प है। लेकिन गर्भपात के बाद सोया उत्पादों का सेवन करना महिलाओं के स्‍वास्‍थ्‍य में प्रतिकूल प्रभाव डाल सकता है। क्‍योंकि यह फाइटेट (phytate) से भरा होता है। यह घटक आपके शरीर को आयरन का अवशोषण करने से रोकता है। इसलिए गर्भ के नुकसान के बाद महिलाओं को कुछ समय तक सोया उत्‍पादों का सेवन करने से बचना चाहिए। क्योंकि जिस महिला का मिसकैरेज हुआ हो उसे आयरन की बहुत आवश्‍यकता होती है।

  • इन खाद्य पदार्थों के अलावा आपको ऐसे खाद्य पदार्थों से भी बचना चाहिए जो आपके शरीर में संक्रामक बैक्‍टीरिया के लिए अनुकूल परिवेश बनाते हैं। ऐसे खाद्य पदार्थों में शामिल हैं:
  • पनीर (Soft cheeses)
  • डेयरी उत्‍पाद (Dairy Products)
  • कच्‍चा मांस (Raw meat)
  • समुद्री भोजन (Seafood)

(और पढ़े – टोफू (सोया पनीर) के फायदे और नुकसान…)

इसी तरह की अन्य जानकरी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration