तिल के बीज और तिल के तेल के फायदे – Sesame Seeds and Sesame Oil Benefits in hindi

तिल के बीज और तिल के तेल के फायदे - Sesame Seeds and Sesame Oil Benefits in hindi
Written by Deepanshu

Sesame Seeds Benefits in hindi छोटा सा दिखने वाले तिल का बीज आपके स्वास्थ्य के लिए किसी रामबाण से कम नहीं है। तिल के गुणों के कारण ही मध्य काल में इसकी तुलना सोना (गोल्ड) से होती थी। तिल के बीज में बीमारी दूर करने और बीमारी को रोकने की अदभूत क्षमता है (Til ke Fayde aur Nuksan in hindi)। इसमें तांबा, मैगनीज, कैल्शियम और मैग्नीशियम विशेष रूप से पाया जाता है। इसके अलावा कई विटामिन्स, खनिज और अन्य पोषक तत्व इसमें पाए जाते हैं। बीपी को कम करने के साथ ही मधुमेह रोगियों के लिए भी तिल काफी फायदेमंद है। तिल का उपयोग आप कई तरीकों से कर सकते है। आईए जानते है कि तिल के फायदे, बीज और तिल के तेल के फायदे (Sesame oil Benefits in hindi) और नुकसान के बारे में।

तिल में पाए जाने वाले पोषक तत्व – Sesame Seeds Nutritional value in hindi

यहां कुछ उल्लेखनीय विटामिन, खनिज, और अन्य पोषक तत्व बताएं जा रहे हैं जो आपको तिल के 28 ग्राम बीज में मिल सकते हैं।

  • मैंगनीज़ – 0.7 मिलीग्राम
  • कॉपर – 0.7 मिलीग्राम
  • कैल्शियम – 277 मिलीग्राम
  • लोहा – 4.1 मिलीग्राम
  • मैग्नीशियम – 99.7 मिलीग्राम
  • ट्रिप्टोफैन – 93 मिलीग्राम
  • जिंक – 2 मिलीग्राम
  • फाइबर – 3. 9 ग्राम
  • थियामीन – 0.2 मिलीग्राम
  • विटामिन बी 6 – 0.2 मिलीग्राम
  • फास्फोरस – 17 9 मिलीग्राम
  • प्रोटीन – 4.7 ग्राम

तिल के फायदे – Til ke Fayde in hindi

तिल के फायदे – Til ke Fayde in hindi

तिल के फायदे प्रोटीन से भरपूर – Sesame Good source of Protein in hindi

प्रोटीन मानव शरीर के विकास के लिए महत्वपूर्ण तत्व है। प्रोटीन की कमी होने पर कई घातक रोग हम पर वार कर सकता है। ऐसे में तिल के बीज उच्च गुणवत्ता वाले प्रोटीन से भरपूर होते है। इसके इस्तेमाल से शरीर में प्रोटीन की कमी (Lack of Protein) को पूरा किया जा सकता है।

तिल के फायदे मधुमेह को रोकने में – Sesame Seeds for Diabetes in hindi

Sesame तिल के बीज में मैग्नीशियम और अन्य पोषक तत्व प्रचुर मात्रा में पाए जाते है। तिल का तेल मधुमेह को रोकने में कारगार साबित हो सकता है। इसके साथ ही तिल का तेल हाइपरसेंसिटिव मधुमेह( hypersensitive diabetics) रोगों में प्लाजमा ग्लूकोज को सुधार करने में मदद करता है।

(और पढ़े – शुगर ,मधुमेह लक्षण, कारण, निदान और बचाव के उपाय)

तिल खाने के फायदे बीपी को कम करने में – Sesame for Blood Pressure control in hindi

ब्लड प्रेशर का बढ़ना हो या फिर ब्लड प्रेशर का घटना दोनों ही मरीज के लिए घातक है। शोधकर्ता द्वारा किए गए एक अध्ययन से पता चलता है कि तिल का तेल मधुमेह में रक्तचाप को कम करता है। तिल के बीज में पाए जाने वाले मैग्नीशियम (Magnesium) बीपी को कम करने में मदद करता है।

तिल के बीज के फायदे कोलेस्ट्रॉल कम करें – Sesame Good for lower cholesterol in hindi

Sesame तिल कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम करने में मदद करता है। तिल में पाए जाने वाले तत्व फाइटोस्टोरोल्स (Phytoestorols) कोलेस्ट्रॉल के प्रोडक्शन को रोकता है। आपको बता दें कि काले तिल के बीज विशेष रूप से फाइटोस्टोरोल में उच्च हैं।

तिल का सेवन डायजेशन में करता है मदद – Sesame oil Benefits for Digestion in hindi

तिल का सेवन डायजेशन में करता है मदद – Sesame oil Benefits for Digestion in hindi

फाइबर की मौजूदगी के कारण तिल पेट के लिए फायदेमंद होता है। ये फाइबर खाने को पचाने में सहायक साबित होता है आप अच्छे पाचन के लिए तिल का सेवन कर सकते है

तिल के लाभ त्वचा कैंसर को करें दूर – Sesame Prevents Cancer in hindi

Sesame तिल के बीज में जिंक (Zink) होता है जो शरीर के डैमेज टिशू को रिपेयर करने में मदद करता है। तिल के तेल का नियमित उपयोग त्वचा के कैंसर को कम कर सकता है। तिल के बीज में कैंसर विरोधी गुण होते हैं जिनमें फाइटिक एसिड (Phytic acid), मैग्नीशियम और फाइटोस्टोरोल (phytosterols) होते हैं। तिल के बीज में सभी उच्चतम फाइटोस्टेरॉल सामग्री होती है।

(और पढ़े – कैंसर क्या है कारण लक्षण और बचाव के उपाय)

तिल के फायदे तनाव मुक्त रखे – Sesame Seeds for Stress in hindi

हमे तनाव मुक्त रहने में तिल के बीज मदद करते है। इसमें पाए जाने वाले मिनरल्स मैग्नीशियम और कैल्शियम तनाव को दूर करता है। इसके अलावा तिल में थायामिन और ट्रिप्टोफैन (thiamin and tryptophan) होता है जो सेरोटोनिन को उत्पन्न करता है। ये सेरोटोनिन दर्द को कम करने में काम आता है और मूड को बदलने में मदद करता है जिससे आप गहरी नींद ले सकें।

(और पढ़े – मानसिक तनाव के कारण, लक्षण एवं बचने के उपाय)

तिल के फायदे एनीमिया को दूर भगाएं – Sesame Seeds for Anemia in hindi

शरीर में खून की कमी के कारण कमजोरी , सिर में दर्द, चक्कर आने जैसे समस्या बनी रहती है। लेकिन काले तिल के उपयोग से हम शरीर में एनीमिया को दूर कर सकते है। काले तिल के बीच में आयरन भरपूर मात्रा में पाया जाता है। अत्यधिक कमजोर व एनीमिया से पीड़ित व्यक्ति इसके उपयोग से जल्दी स्वास्थ्य लाभ प्राप्त कर सकते है।

(और पढ़े – क्या है एनीमिया? कारण, लक्षण और आहार)

तिल से अर्थराइटिस मे मिलता है लाभ – Sesame for Arthritis in hindi

Sesame seeds तिल के बीज में कॉपर की मौजूदगी गमें अर्थराइटिस की बीमारी से बचाता है। तिल का तेल गठिया रोग से राहत देता है, और हड्डियों, जोड़ों और रक्त वाहिकाओं को मजबूत करता है।

तिल के फायदे लीवर के लिए – Sesame Benefits for liver in hindi

अधिक शराब के सेवन से मनुष्य का लीवर डैमज होने का खतरा रहता है। ऐसे में उन लोगों के लिए तिल रामबाण का काम करेगा जो शराब का अधिक सेवन करते है। यह लीवर पर शराब के प्रभाव को कम करने में मदद करता है। साथ ही लीवर को सामान्य रूप से काम करने में सहायक साबित होता है।

(और पढ़े – लीवर को साफ करने के लिए खाएं ये चीजें)

तिल के तेल के फायदे झुरियां को हटाए – Sesame Oil for Wrinkle in hindi

Sesame oil तिल का तेल हानिकारक पराबैंगनी किरणों से आपकी त्वचा की रक्षा करता है। इसके साथ ही त्वचा पर झुरियों को रोकता है। इतना ही नहीं त्वचा से पिंगमेंटेशन लॉस को भी रोकता है।

(और पढ़े – चेहरे की झुर्रियों के कारण और झुर्रियां कम करने के घरेलू उपाय)

तिल के तेल के फायदे मौखिक स्वास्थ्य के लिए – Sesame oil for Oral health in hindi

आयुर्वेद में हजारों वर्षों से मौखिक स्वास्थ्य (Oral Health) के लिए तिल के तेल का उपयोग किया जाता आ रहा है। आयल पुल्लिंग का उपयोग कई सालों से दांतों को सफेद करने और समग्र स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए किया जाता आ रहा है।

(और पढ़े – ऑयल पुलिंग के फायदे, नुकसान और करने का तरीका)

तिल के नुकसान – Sesame Side Effects in hindi

तिल के नुकसान – Sesame Side Effects in hindi

आपने जाना की तिल के फायदे क्या है तिल के बीज और तेल का उपयोग के अनेक स्वास्थ्य लाभ है लेकिन इसका अधिक मात्रा में सेवन से बचना चाहिए आइये जानते है तिल के नुकसान क्या है कुछ लोगों को तिल के तेल से एलर्जी (Allergy) हो सकती  है।

अगर आप खून को पतला (anti coagulant) करने वाली दवा को ले रहे है तो इसका सेवन नहीं करने या अपने डॉक्टर से इसके बारें में बात करने के बाद ही तिल का सेवन करें, तिल के सेवन से पाचन सम्बन्धी समस्या हो सकती है।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration