वजन घटाने की 16:8 इंटरमिटेंट फास्टिंग क्या है – 16:8 intermittent fasting in Hindi

वजन घटाने की 16:8 इंटरमिटेंट फास्टिंग क्या है - 16:8 intermittent fasting in Hindi
Written by Deepti

16: 8 fasting in Hindi खुद को फिट रखने के साथ वजन कम करना चाहते हैं, तो 16:8 इंटरमिटेंट फास्टिंग को चुनें। अब आपके मन में सवाल आया रहा होगा कि आखिर रुक-रुक कर उपवास करने का 16:8 डाइट प्लान क्‍या है और क्‍या यह वजन घटाने में वाकई है कारगर है। इंटरमिटेंट डाइट प्लान रुक-रुक कर उपवास करने का एक रूप, जिसे 16:8 डाइट प्लान कहा जाता है। यह फास्टिंग व डाइटिंग का एक नया तरीका है, जिसमें आपको कैलोरी काउंट करने की जरूरत नहीं पड़ती। वैसे, तो आमतौर पर कहा जाता है, कि वजन कम करने के लिए व्रत नहीं करना चाहिए, क्योंकि इससे वजन घटता नहीं बढ़ जाता है। लेकिन 16:8 इंटीमिटेंट फास्टिंग से हमारा मतलब उस तरह की फास्टिंग से है, जिसमें आपको केवल 16 घंटे भूखा रहना है। यानि की आप बाकी के आठ घंटे कुछ भी खा सकते हैं।

16/8 इंटरमिटेंट फास्टिंग उपवास के सबसे लोकप्रिय तरीकों में से एक है। 16/8 आंतरायिक उपवास उपवास के समर्थकों का दावा है कि यह वजन कम करने और समग्र स्वास्थ्य में सुधार करने का एक आसान, सुविधाजनक और टिकाऊ तरीका है।

खाने और व्रत करने के बीच 16 घंटे के ब्रेक वाली इस फास्टिंग को करने से पहले इसके फायदे और नुकसान के बारे में जानकारी होना जरूरी है। 16:8 फास्टिंग रूक-रूक कर उपवास करने का ही एक रूप है। जिसे 16:8 डाइट भी कहा जाता है। इस फास्टिंग में आपको दिनभर में कभी भी कम से कम 16 घंटे का उपवास रखना होता है। हाल के कुछ सालों में इंटमिटेंट फास्टिंग लोगों के बीच काफी पॉपुलर हुई है, खासकर उन लोगों के बीच, जो जल्द से जल्द अपना वजन कम करने के साथ फैट कम करना चाहते हैं। सिर्फ इतना ही नहीं, इंटरमिटेंट फास्टिंग रक्त शर्करा को नियंत्रित करने के साथ मास्तिष्क के कार्य को बढ़ावा देने और आपकी उम्र बढ़ाने के लिए भी अच्छी मानी जाती है। तो चलिए, आज के इस आर्टिकल में हम आपको बताते हैं 16:8 इंटरमिटेंट फास्टिंग के बारे में।

उपवास हजारों वर्षों से किया जा रहा है और दुनिया भर के कई अलग-अलग धर्मों और संस्कृतियों में एक प्रधान है। आज, उपवास के नये तरीकों ने प्राचीन प्रथा में एक नया मोड़ जोड़ दिया है।

यह लेख 16/8 आंतरायिक उपवास की समीक्षा करता है कि यह कैसे काम करता है और क्या यह आपके लिए सही है।

1. क्या होती है 16:8 इंटरमिटेंट फास्टिंग – What is 16/8 Intermittent Fasting in Hindi
2. 16:8 इंटरमिटेंट फास्टिंग के फायदे – Benefits of 16/8 intermittent fasting in Hindi
3. 16:8 इंटरमिटेंट फास्टिंग के नुकसान – 16/8 Intermittent Fasting Side effects in Hindi
4. 16:8 इंटरमिटेंट फास्टिंग की शुरूआत कैसे करें – How to do 16: 8 intermittent fasting in Hindi
5. 16:8 इंटरमिटेंट फास्टिंग में 8 घंटे के दौरान क्या खाएं – What to eat during 8 hours in 16: 8 intermittent fasting in Hindi
6. 16:8 इंटरमिटेंट फास्टिंग से जुड़े सवाल और जवाब – Question and answer related to 16/8 intermittent fasting in Hindi

क्या होती है 16:8 इंटरमिटेंट फास्टिंग – What is 16/8 Intermittent Fasting in Hindi

क्या होती है 16:8 इंटरमिटेंट फास्टिंग - What is 16/8 Intermittent Fasting in Hindi

रुक रुक कर उपवास आहार योजना 16:8 आहार बेहतर स्वास्थ्य प्राप्त करने और वजन कम करने के लिए किया जाने वाला एक प्रतिबंधित उपवास है। 16:8 इंटरमिटेंट फास्टिंग में दिन के आठ घंटे में आपको खाद्य पदार्थों और कैलोरी युक्त पेय पदार्थों का सेवन करना होता है और बाकी के 16 घंटे भोजन से परहेज करना होता है।

  • इस चक्र को आप चाहें, तो कितनी बार भी दोहरा सकते हैं। हफ्ते में एक से दो बार या फिर प्रतिदिन। ये आपकी पसंद पर निर्भर करता है।
  • 16/8 इंटरमिटेंट फास्टिंग ने हाल के वर्षों में लोकप्रियता में आसमान छू लिया है, खासकर उन लोगों के बीच जो अपना वजन कम करने और अतिरिक्त वसा को जलाने की तलाश में हैं।
  • जबकि अन्य डाइट प्लान अक्सर सख्त नियम और कानून निर्धारित करते हैं, 16/8 इंटरमिटेंट फास्टिंग का पालन करना आसान है और न्यूनतम प्रयास के साथ वास्तविक परिणाम प्रदान कर सकते हैं।
  • यह आमतौर पर कई अन्य आहार योजनाओं की तुलना में कम प्रतिबंधात्मक और अधिक लचीला माना जाता है और किसी भी जीवन शैली में आसानी से फिट हो सकता है।
  • वजन घटाने के अलावा, 16/8 आंतरायिक उपवास रक्त शर्करा नियंत्रण में सुधार, मस्तिष्क समारोह को बढ़ावा देने और दीर्घायु बढ़ाने के लिए भी जाना जाता है।
  • विशेषज्ञ कहते हैं, कि 16: 8 घंटे की फास्टिंग का अच्छा समय सुबह का है। सुबह के समय (सुबह 7 बजे से दोपहर 3 बजे तक) मेटाबॉलिज्म और ब्लड शुगर बढ़ा हुआ होता है। इस आठ घंटे के दौरान आप जो भी कुछ खाना चाहते हैं, खा सकते हैं।
  • लेकिन बाकी के 16 घंटों में आपको उपवास रखना होता है, जिसमें आप पानी, ब्लैक टी या ग्रीन टी पी सकते हैं। यह उपवास वजन घटाने, रक्तशर्करा में सुधार और ब्रेन फंक्शन में सुधार कर सकता है।

(और पढ़े – उपवास (व्रत) के फायदे और नुकसान…)

16:8 इंटरमिटेंट फास्टिंग के फायदे – Benefits of 16/8 intermittent fasting in Hindi

16:8 इंटरमिटेंट फास्टिंग के फायदे - Benefits of 16/8 intermittent fasting in Hindi

आप के लिए 16:8 इंटरमिटेंट फास्टिंग करने के कई फायदे हैं, जिनके बारे में हम आपको नीचे बता रहे हैं।

16:8 इंटरमिटेंट फास्टिंग को फॉलो करना काफी आसान है। कई अध्ययनों से पता चला है, कि यह वजन कम करने के साथ रक्त शर्करा में सुधार कर सकता है।
यह काफी सुविधाजनक है। क्योंकि हर सप्ताह खाना पकाने में खर्च होने वाले समय और धन में कटौती कर सकता है।

हेल्थ बेनेफिट्स में, 16/8 आंतरायिक उपवास के अनेक लाभ है, जिसमें शामिल हैं:

वजन घटना: कुछ घंटों के लिए भोजन को सीमित करने से दिन के दौरान कैलोरी को कम करने में मदद मिलती है। कई अध्ययन बताते हैं, कि उपवास करने से मेटाबॉलिज्म बढ़ता है और वजन घटता है।

बेहतर रक्त शर्करा नियंत्रण: 16:8 इंटरमिटेंट फास्टिंग करने से इंसुलिन के स्तर में 31 प्रतिशत तक की कमी और रक्त शर्करा को 3 से 6 प्रतिशत तक कम होने में मदद मिलती है। कुल मिलाकर ये आपकी डायबिटीज के जोखिम को कम करता है।

उन्नत दीर्घायु: 16:8 इंटरमिटेंट फास्टिंग करने से आपकी उम्र लंबी हो सकती है।

(और पढ़े –  मनपसंद खाना खाकर भी घटाएं वजन, जानें इंटरमिटेंट फास्टिंग के बारे में…)

16:8 इंटरमिटेंट फास्टिंग के नुकसान – 16/8 Intermittent Fasting Side effects in Hindi

16:8 इंटरमिटेंट फास्टिंग के नुकसान - 16/8 Intermittent Fasting Side effects in Hindi

जहां 16:8 इंटरमिटेंट फास्टिंग के कई फायदे हैं, वहीं कुछ नुकसान भी हैं। विशेषज्ञों के अनुसार, यह उपवास सभी के लिए लाभदायक नहीं हो सकता।

  • हर दिन आठ घंटे के लिए भोजन करना कुछ लोगों को उपवास के दौरान बिताए गए घंटों के बाद खाने की अवधि के दौरान सामान्य से अधिक खाने का कारण बढ़ सकता है। इससे वजन बढ़ने के साथ, पाचन संबंधी समस्याएं और अनहेल्दी इंटिंग हैबिट्स का विकास हो सकता है।
  • 16:8 इंटरमिटेंट फास्टिंग में रूक-रूककर उपवास करने पर आपको नकारात्मक दुष्प्रभाव भी मिल सकते हैं। जैसे कि- भूख लगना, थकान होना, कमजोरी आना आदि। हालांकि, जब आप रूटीन में आ जाते हैं, तो यह समस्याएं कम हो जाती हैं।
  • इसके अलावा, कुछ अध्ययन बताते हैं, कि आंतरायिक उपवास महिलाओं और पुरूषों को अलग-अलग तरह से प्रभावित करता है। इससे महिलाओं की प्रजनन क्षमता पर असर पड़ सकता है। इसके अलावा 16:8 से होने वाले नुकसानों में खराब नींद, मांसपेशियों का कमजोर होना, कमजोरी, मितली और थकान शामिल है।
  • 16:8 इंटरमिटेंट फास्टिंग करने के लिए इसे धीरे-धीरे शुरू करना सुनिश्चित करें और यदि आपको इसे करने पर कोई नकारात्मक लक्षण अनुभव होते हैं, तो इसे रोक दें और अपने चिकित्सक से परामर्श करने पर विचार करें।

(और पढ़े – कमजोरी और थकान के कारण, लक्षण और इलाज…)

16:8 इंटरमिटेंट फास्टिंग की शुरूआत कैसे करें – How to do 16: 8 intermittent fasting in Hindi

16:8 इंटरमिटेंट फास्टिंग की शुरूआत कैसे करें - How to do 16: 8 intermittent fasting in Hindi

16-8 इंटरमिटेंट फास्ट को शुरू करने के लिए पहले उन आठ घंटों को चुनें, जो आपके भोजन करने के लिए उपयुक्त हों। अपने भोजन का सेवन उस अवधि तक ही सीमित करें। साथ ही उस तरह के भोजन का चुनाव करें, जिन्हें आप खा सकें, लेकिन पौष्टिक होने चाहिए। बता दें, कि बहुत से लोग दोपहर से रात 8 बजे तक खाना पसंद करते हैं। ये सुरक्षित समय है, क्योंकि इसके बाद आपको केवल रातभर भूखा रहना है। इससे पहले आप स्नैक्स और संतुलित लंच और डिनर आराम से खा सकते हैं। वहीं, कुछ लोग सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे के बीच खाना पसंद करते हैं। सुबह के नाश्ते के साथ दोपहर का लंच और शाम को चार बजे के आसपास उपवास शुरू करने से पहले स्नैक्स खा सकते हैं।

हालाँकि, आप खाने और फास्टिंग के बीच उस समय का चयन कर सकते हैं जो आपके कार्यक्रम में सबसे उपयुक्त हो।

हालांकि, विशेषज्ञ सलाह देते हैं, कि रक्तशर्करा के स्तर को स्थिर रखने और भूख को नियंत्रित रखने के लिए दिनभर में कई छोटे मील और स्नैक्स लें। इसके अलावा आहार पोषक तत्वों से भरपूर होना चाहिए।

(और पढ़े – वजन घटाने के लिए इंडियन डाइट चार्ट…)

16:8 इंटरमिटेंट फास्टिंग में 8 घंटे के दौरान क्या खाएं – What to eat during 8 hours in 16: 8 intermittent fasting in Hindi

16:8 इंटरमिटेंट फास्टिंग में 8 घंटे के दौरान क्या खाएं - What to eat during 8 hours in 16: 8 intermittent fasting in Hindi

16:8 इंटरमिटेंट फास्टिंग में 8 घंटे के दौरान आपको हर प्रकार के स्वास्थ्य संपूर्ण खाद्य पदार्थों के साथ हर संतुलित भोजन लेना है। यहां जानिए, 8 घंटे में कौन-कौन से खाद्य पदार्थ आप ले सकते हैं।

(और पढ़े – जल्दी वजन कम करने वाले आहार, फल और सब्जियां…)

16:8 इंटरमिटेंट फास्टिंग से जुड़े सवाल और जवाब – Question and answer related to 16/8 intermittent fasting in Hindi

16:8 इंटरमिटेंट फास्टिंग से जुड़े सवाल और जवाब - Question and answer related to 16/8 intermittent fasting in Hindi

क्या वजन घटाने के लिए 16:8 इंटरमिटेंट फास्टिंग अच्छी है – Is 16: 8 intermittent fasting good for weight loss in Hindi

न्यूट्रिशन एंड हेल्थ एजिंग में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, रिर्सचर्स ने लोगों पर 16:8 फास्टिंग का प्रभाव देखा। इसमें 23 मोटे लोगों ने सुबह 10 बजे से शाम 6 बजे तक का समय चुना। 12 हफ्ते तक इस दौरान वे जो चाहे खा सकते थे। अंत में रिसर्चर ने पाया कि, लोगों ने 350 कैलोरी कम की है और उनके सिस्टोलिक रक्तचाप में गिरावट देखी गई है। लंबे समय तक फास्टिंग करने से शरीर फैट बर्निंग मोड में चला जाता है और ब्लड शुगर स्पाइक को सीमित कर देता है। इससे आपको भूख कम लगती है और भूख बढ़ाने वाले हार्मोन ग्रेलिन भी कम हो जाता है।

(और पढ़े – वजन और मोटापा कम करने के लिए क्या खाएं क्या न खाए…)

क्या इंटरमिटेंट फास्टिंग आपके लिए सही है ? – Is 16/8 Intermittent Fasting Right for You in Hindi

16:8  इंटरमिटेंट फास्टिंग आपके स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए एक स्थायी, सुरक्षित और सरल तरीका है। क्योंकि 8 घंटे के दौरान आप उन सभी पोषक तत्वों का सेवन करते हैं, जो आपको स्वस्थ रखने के लिए जरूरी हैं। हालांकि, 16:8 इंटरमिटेंट फास्टिंग स्वस्थ लोगों के लिए सेफ मानी जाती है। फिर भी इसे फॉलो करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लेनी चाहिए। अगर आप कोई दवा ले रहे हैं, या किसी बीमारी का कोई इतिहास है, तो बिना डॉक्टर की सलाह से यह उपवास न रखें। साथ ही गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को भी इंटरमिटेंट फास्टिंग से बचना चाहिए।

16:8 इंटरमिटेंट फास्टिंग में आपको 8 घंटे की अवधि में भोजन करना होता है और 16 घंटे उपवास रखना होता है। इससे वजन घटाने, रक्त शर्करा, ब्रेन फंक्शन और दीर्घायु में सुधार होता है। विशेषज्ञों की सलाह है, किे अपने खाने के दौरान एक स्वस्थ आहार खाएं और पानी और हर्बल टी और कॉफी पाते रहें। 16:8 इंटरमिटेंट फास्टिंग शुरू करने से पहले अपने डॉक्टर से बात करें, खासतौर से अगर आप किसी हेल्थ कंडीशन से जूझ रहे हैं, तो।

(और पढ़े – साइंस पर आधारित वजन कम करने के सरल उपाय…)

इसी तरह की अन्य जानकरी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

आपको ये भी जानना चाहिये –

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration