प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षण - Pregnancy Ke Shuruati Lakshan In Hindi - Healthunbox
गर्भावस्था

प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षण – Pregnancy Ke Shuruati Lakshan In Hindi

प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षण - Pregnancy Ke Shuruati Lakshan In Hindi

कुछ महिलाओं में प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षण काफी जल्दी या शुरुआती दिनों में, ही दिखने लगते हैं यहाँ तक की उनका पीरियड मिस होने से पहले ही वह प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षणों का अनुभव करने लगतीं हैं यदि आप भी उन में से एक हैं और जानना चाहतीं हैं कि प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षण (Pregnancy Ke Shuruati Lakshan In Hindi) क्या होते हैं तो इस लेख को पूरा पढ़ें…

इस आर्टिकल में हमने mc से पहले प्रेगनेंसी के लक्षण (mc se pehle pregnancy ke lakshan Hindi), ओवुलेशन के बाद प्रेगनेंसी के सिम्टम्स (ovulation ke baad pregnancy ke symptoms) पीरियड मिस होने के 3 दिन बाद के प्रेगनेंसी के लक्षण (pregnancy symptoms after missed period in 3 days in Hindi) और पहले, दूसरे, तीसरे, चोथे, पांचवे, सप्ताह में गर्भावस्था के लक्षण (1st, 2nd, 3rd, 4 week pregnancy symptoms in Hindi) के बारे में बताया गया है आइये जानतें हैं प्रेग्नेंट होने के लक्षण क्या हैं (pregnant hone ke lakshan kya hai in hindi) और इन्हें कैसे पहचाना जा सकता है

विषय सूची

प्रेग्नेंट होने के लक्षण कौन-कौन से होते हैं – Pregnancy Symptoms in Hindi

प्रेग्नेंट होने के लक्षण कौन-कौन से होते हैं - Pregnancy Symptoms in Hindi

जैसे ही किसी महिला का पीरियड मिस होता है और वह कंसीव करने का सोच रही है तो, पहला सवाल जो उसके मन में आता है वह यह है कि क्या में प्रेग्नेंट हूँ? क्योंकि प्रेग्नेंट होने की कोशिश करने वाली महिला में माँ बनने की बहुत उत्सुकता होती है। लेकिन कई बार कुछ महिलाओं को इस बात को लेकर कई ग़लतफ़हमियाँ होती हैं कि वे प्रेगनेंट हैं। इसलिए यदि आपको लगता है कि आपके शरीर में कुछ अचानक परिवर्तन हो रहे हैं या प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षण (Pregnancy Ke Shuruati Lakshan In Hindi) महसूस कर रहीं हैं, तो आप रिलेशन बनाने के 21 दिनों के भीतर प्रेगनेंसी टेस्ट कर सकते हैं।

यदि किसी कारण से आप 21 दिनों के भीतर प्रेगनेंसी टेस्ट करने में सक्षम नहीं हैं, तो ऐसी स्थिति में आपको गर्भावस्था के संकेतों को जानना बेहतर होता है। इस लेख में, हम आपको उन सभी गर्भावस्था के संकेतों, प्रेगनेंसी के लक्षण (pregnancy signs in hindi), सप्ताह के अनुसार गर्भावस्था के लक्षण और प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षण (Pregnancy Ke Shuruati Lakshan In Hindi) के बारे में बताने जा रहे हैं ताकि आपको किसी भी तरह की गलतफहमी न हो।

प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षण – Early Pregnancy Symptoms in Hindi

प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षण - Early Pregnancy Symptoms in Hindi

सामान्य तौर पर, मासिक धर्म, यानी पीरियड का रुक जाना एक संकेत होता है कि आपने कंसीव किया है और आप प्रेग्नेंट हैं। लेकिन ज्यादातर महिलाओं को या तो अनियमित पीरियड्स के कारण गलतफहमी होती है कि वे गर्भवती हैं या उन्हें तब प्रेगनेंसी का पता चलता है जब वे 10 सप्ताह या उससे अधिक की गर्भवती हो चुकी होती हैं।

लेकिन इस विषय में, डॉक्टरों का कहना है कि यदि रिलेशन बनाने के दौरान अंडा निषेचित होता है, तो यह गर्भाशय से जुड़ जाता है और महिला के शरीर में मानव कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन (एचसीजी) हार्मोन बनना शुरू कर देता है। ऐसा माना जाता है कि यह प्रक्रिया रिलेशन बनाने के 10-15 दिन बाद शुरू होती है। इसलिए रिलेशन बनाने के तुरंत बाद आप प्रेग्नेंट नहीं होती हैं। एचसीजी हार्मोन का बनना गर्भावस्था के दौरान शुरू होता है, लेकिन प्रेगनेंसी के ग्यारहवें सप्ताह के दौरान यह भी रुक सकता है। इसलिए यह वह समय है जब महिलाएं प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षणों (Pregnancy Ke Shuruati Lakshan In Hindi) को स्पष्ट रूप से देखना शुरू कर देती हैं।

गर्भावस्था के लक्षण सप्ताह दर सप्ताह – Pregnancy Symptoms Week by Week in Hindi

गर्भावस्था के लक्षण सप्ताह दर सप्ताह - Pregnancy Symptoms Week by Week in Hindi

कई महिलाओं को पता नहीं है कि क्या वह वास्तव में प्रेग्नेंट हैं या किसी और वजह से उनका पीरियड मिस हो गया है। प्रेग्नेंट होने की सही जानकारी न होने के कारण आपको न तो पता चलता है कि आपको क्या खाना चाहिए, और क्या सावधानियां बरतनी चाहिए। प्रेग्नेंसी का एहसास हर महिला के लिए सबसे महत्वपूर्ण क्षण माना जाता है। इसकी जांच के लिए बाजार में कई प्रेग्नेंसी टेस्ट किट भी मौजूद हैं। हालाँकि, प्रेगनेंसी से जुड़ी जरुरी दवाएं और सप्लीमेंट्स गर्भ ठहरने के पहले महीने (गर्भावस्था के फर्स्ट वीक) से ही दी जाने लगती हैं। इसीलिए प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षण को पहचानना बहुत जरूरी है ताकि आप सही समय पर सही भोजन और दवाइयां ले सकें। यहां हम आपको 1 से 5 सप्ताह के प्रेगनेंसी के लक्षणों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसकी जानकारी प्रेग्नेंट होने वाली प्रत्येक महिला को पता होना चाहिए –

(यह भी पढ़ें – गर्भावस्था सप्ताह दर सप्ताह)

पहले सप्ताह की गर्भावस्था के लक्षण – 1 week symptoms of pregnancy in Hindi

पहले सप्ताह की गर्भावस्था के लक्षण - 1 week symptoms of pregnancy in Hindi

गर्भावस्था के पहले सप्ताह में, ज्यादातर महिलाओं को प्रेगनेंसी का कोई भी लक्षण महसूस नहीं होता है। आमतौर पर गर्भवती महिलाएं प्रेगनेंसी के पहले सप्ताह से अनजान होती हैं। आपको बता दें कि मासिक धर्म का रुकना गर्भावस्था का एक लक्षण माना जाता है और यह पहले सप्ताह की गर्भावस्था का मुख्य लक्षण (1 Week of Pregnancy in hindi) है। प्रेगनेंसी के पहले सप्ताह में एक महिला के शरीर में कई बदलाव हो रहे होते हैं। इसमें भ्रूण निर्माण की प्रक्रिया शुरू होती है। जिसके कारण मतली, उल्टी या थकान महसूस होने जैसे लक्षण आमतौर पर दिखाई देने लगते हैं।

इस दौरान मुंह का स्वाद भी बदल जाता है। खाई जाने वाली किसी भी चीज का स्वाद पता नहीं चलता है, केवल ज्यादा खट्टी चीजों का स्वाद पता चल पता है इसलिए प्रेगनेंसी के पहले सप्ताह में खट्टी चीजों को खाने का मन भी अधिक करता है।

दूसरे सप्ताह की गर्भावस्था के लक्षण – 2nd week pregnancy symptoms in hindi

दूसरे सप्ताह की गर्भावस्था के लक्षण - 2nd week pregnancy symptoms in hindi

गर्भावस्था के दूसरे सप्ताह के दौरान, डिंब गर्भाशय से बाहर आने और निषेचित होने के लिए तैयार होता है। निषेचित अंडे को स्वीकार करने के लिए आपका गर्भाशय बड़ा हो जाता है। आप प्रेगनेंसी के दो सप्ताह के दौरान समान लक्षणों का अनुभव करेंगीं (2 Week of Pregnancy in hindi) जैसा कि आप पीरियड के दौरान करती हैं और प्रेगनेंसी के दूसरे सप्ताह के अन्य लक्षणों में कुछ शामिल हो सकते हैं, जैसे कि ब्रैस्ट में दर्द, मामूली पीठ दर्द और थकान

गर्भावस्था के दूसरे सप्ताह के पहले सप्ताह यानी गर्भावस्था के पहले सप्ताह में शुरू होने वाले परिवर्तन दूसरे सप्ताह में भी मौजूद रहते हैं। इस समय, प्रेग्नेंट महिला के स्तन में हल्की सूजन होती है, जिसके कारण उनके आकार में अंतर नजर आता है। स्तन नरम और संवेदनशील हो जाते हैं।

टिप्स – अपनी प्रेगनेंसी को कन्फर्म करने के लिए, आप स्त्री रोग विशेषज्ञ (gynecologist) के पास जा सकतीं हैं या मेडिकल स्टोर से होम प्रेगनेंसी किट खरीद कर खुद से ही प्रेगनेंसी टेस्ट कर सकतीं हैं और अपनी प्रेगनेंसी कंफर्म कर सकती हैं।

तीसरे सप्ताह की गर्भावस्था के लक्षण – 3rd week pregnancy symptoms in Hindi

तीसरे सप्ताह की गर्भावस्था के लक्षण - 3rd week pregnancy symptoms in Hindi

गर्भावस्था के तीसरे सप्ताह में (3 Week of Pregnancy in hindi), महिलाओं को अब दूसरे सप्ताह की तुलना में उनके शरीर में अधिक परिवर्तन दिखाई देते हैं। अब प्रेगनेंसी के आंतरिक परिवर्तनों के साथ-साथ बाहरी परिवर्तन भी होने लगते हैं। प्रेगनेंसी के इन शुरुआती लक्षणों को अक्सर गर्भवती महिलाएं पहचान नहीं पाती हैं। यहां तक कि गर्भावस्था के तीसरे सप्ताह में, प्रेग्नेंट होने के सामान्य लक्षण (pregnant hone ke lakshan) ही देखे जाते हैं। लेकिन अच्छी खबर यह है कि तीसरे सप्ताह के दौरान, आपका बच्चा एक छोटी सी गेंद की तरह हो जाता है जिसमें सैकड़ों कोशिकाएं तेजी से द्विगुणित होती जाती हैं।

ब्लास्टोसिस्ट नामक यह छोटी सी गेंद आंगें जाकर गर्भनाल में बदल जाती है। इस हफ्ते में, गर्भावस्था हार्मोन (एचसीजी) का निर्माण शुरू हो जाता है। कई महिलाएं इस समय मूड स्विंग और चाल ढाल में बदलाव महसूस करती हैं। साथ ही, स्पॉटिंग भी होती है, जिसमें ब्लड पीरियड की तरह नहीं आता है, बल्कि ब्लड के धब्बे या दाग से दिखाई देते है। लेकिन सभी महिलाओं के साथ गर्भावस्था के तीसरे सप्ताह में ऐसा नहीं होता है।

टिप्स – इस दौरान डॉक्टर के संपर्क में रहें क्योंकि इस समय गर्भपात का खतरा अधिक होता है और बिना डॉक्टर की सलाह के कोई भी कदम न उठाएं।

चौथे सप्ताह की गर्भावस्था के लक्षण – 4th week pregnancy symptoms in Hindi

चौथे सप्ताह की गर्भावस्था के लक्षण - 4th week pregnancy symptoms in Hindi

गर्भावस्था के चौथे सप्ताह से (4 Week of Pregnancy in hindi), मतली की समस्या शुरू होने लगती है। यह वह समय है जब गर्भाशय में भ्रूण के आरोपण की प्रक्रिया शुरू हो जाती है। इस समय आप पूरी तरह से प्रेग्नेंट हो चुकी होती हैं, आपको थोड़ा सा काम करने के बाद ही थकान महसूस होती है, आपको चिड़चिड़ापन होने लगता है। चौथे सप्ताह में, भ्रूण कबूतर के अंडे के आकार का होता है। चौथे सप्ताह में, निषेचित अंडा गर्भाशय तक पहुंच जाता है, और लगभग 72 घंटों के बाद, भ्रूण गर्भाशय के अस्तर में अपना रास्ता बनाती है। अंडे का विकास तब शुरू होता है जब अंडा गर्भाशय के अस्तर की रक्त कोशिकाओं को छूता है।

गर्भावस्था के दूसरे महीने से उल्टी के लक्षण बढ़ने लगते हैं, जो 12 से 18 सप्ताह तक चलते रहते है। कुछ महिलाओं में यह समस्या डिलीवरी तक समान बनी रहती है। प्रेगनेंसी के दौरान उल्टी आना स्वाभाविक है, लेकिन अगर यह अधिक होने लगे, तो यह शरीर के लिए हानिकारक हो सकती है। ऐसी स्थति में, डॉक्टर से परामर्श किया जाना चाहिए।

(यह भी पढ़ें – उल्टी और मतली को रोकने के उपाय)

पांचवे सप्ताह की गर्भावस्था के लक्षण – 5th week pregnancy symptoms in Hindi

पांचवे सप्ताह की गर्भावस्था के लक्षण - 5th week pregnancy symptoms in Hindi

गर्भावस्था के पांचवें सप्ताह के बारे में बात करें तो, एक गर्भवती महिला को यह महसूस करना शुरू हो जाता है कि वह गर्भवती है। वह अपने शरीर में प्रेगनेंसी के एक या दो नहीं बल्कि कई बदलाव महसूस करने लगता है। गर्भावस्था के पांचवें सप्ताह से गर्भधारण का दूसरा महीना शुरू होता है। गर्भावस्था के पांचवें सप्ताह (5 Week of Pregnancy in Hindi) में, भूर्ण एक रेत कण के बराबर है। जैसे ही यह सप्ताह आता है, पहले सप्ताह में गर्भावस्था के कुछ लक्षणों (1 Week of Pregnancy symptoms in hindi) से छुटकारा पाया जा सकता है, तो कुछ नए लक्षण भी दिखाई दे सकते हैं।

यह वह समय है जब गर्भाधारण का 1 महीना पूरा होता है और महिला को पूरी तरह से पता चलता है कि वह प्रेग्नेंट है। इस समय, प्रेग्नेंट लेडी के शरीर में हार्मोन का स्तर तेजी से बढ़ रहा होता है, जिसके कारण मतली, घबराहट और उल्टी बहुत आम गर्भावस्था के लक्षण (Pregnant Hone ke Lakshan) हैं।

डॉक्टरों के मुताबिक, ये समय किसी भी महिला के लिए बेहद मुश्किल होता है। इसीलिए खाने-पीने से लेकर गर्भवती महिला की हर छोटी और बड़ी चीज का खास ख्याल रखना चाहिए, ताकि गर्भावस्था की पहली तिमाही आसानी से कट जाये। इस समय, आपको भोजन की आदतों में सुधार करना चाहिए और डॉक्टर के परामर्श से प्रेगनेंसी डाइट चार्ट (pregnancy diet chart in Hindi) बनाना चाहिए। प्रेगनेंसी के इस दौर में हमेशा सकारात्मक सोचें और खुश रहने की कोशिश करें।

टिप्स – अब आप अपने बच्चे के स्वास्थ्य से संबंधित आहार का सेवन करना शुरू कर दें और यदि आप धूम्रपान करती हैं या शराब का सेवन करती हैं, तो इसे बंद कर दें।

(यह भी पढ़ें – गर्भावस्था की पहली तिमाही में देखभाल केसे करे)

प्रेग्नेंट होने के लक्षण क्या है? – Pregnant Hone Ke Lakshan Kya Hai In Hindi

प्रेग्नेंट होने के लक्षण क्या है? - Pregnant Hone Ke Lakshan Kya Hai In Hindi

पीरियड मिस होना प्रेग्नेंट होने के सबसे आम संकेतों में से एक माना जाता है। लेकिन इसके अलावा, अन्य लक्षणों को जानना महत्वपूर्ण है जिससे आप यह जान सकें कि आप प्रेग्नेंट हैं या नहीं। इसके लिए, आपको अपने शरीर में होने वाले छोटे हार्मोनल परिवर्तनों के बारे में जानना होगा। यहां हम आपको गर्भ ठहरने से संबंधित सभी मुख्य लक्षणों के बारे में बता रहे हैं, जिन्हें देखने के बाद आपको तुरंत प्रेगनेंसी टेस्ट करना चाहिए और कंफर्म हो जाना चाहिए कि आप प्रेग्नेंट हैं। तो आइये जानते हैं प्रेग्नेंट होने के लक्षण क्या होते हैं –

पीरियड का मिस होना

पीरियड का मिस होना

अगर आपके पीरियड आमतौर पर समय से आते हैं और इस बार समय पर नहीं आये हैं तो पूरे- पूरे चांस है कि आप प्रेगनेंट हैं। लेकिन अगर आपके पीरियड इर्रेगुलर रहते हैं तो फिर प्रेग्नेंट होने के चांस थोड़े कम हैं। पीरियड का मिस होना प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षण माना जाता है। जब ब्लास्टोसिस्ट गर्भाशय में दाखिल हो जाता है तब महिला का शरीर ह्यूमन कोरिऑनिक गोनाडोट्रॉपिन (एचसीजी) उत्पन्न करने लगता है। यह हार्मोन शरीर में गर्भ को संभाले रखने में मदद करता है। इसके अलावा यह अंडाशय से हर महीने परिपक्व अंडे को टूटने से रोकता है। जिसकी वजह से महिला को पीरियड होना बंद हो जाता है।

अगर आपको चार हफ्तों तक पीरियड नहीं होता है तो प्रेगनेंसी टेस्ट करके यह कन्फर्म कर लेना चाहिए कि आप प्रेगनेंट हैं या नहीं। पीरियड न आने के आठ दिन बाद घर पर ही प्रेगनेंसी की जांच कर एचसीजी का पता लगाया जा सकता है। प्रेगनेंसी टेस्ट में यदि आपके यूरीन में एचसीजी लेवल का पता चलता है तो इसका मतलब है कि आप प्रेगनेंट हैं।

शरीर का तापमान ज्यादा होना

शरीर का तापमान ज्यादा होना

प्रेगनेंट होने पर शरीर का तापमान अक्सर सामान्य तापमान से अधिक हो जाता है। महिला के शरीर का तापमान तेजी से बढ़ना शुरूआती प्रेगनेंसी के लक्षण हैं। अगर आप प्रेगनेंट हैं तो एक्सरसाइज करते समय या गर्म जगहों पर जाने पर आपके शरीर का टेंपरेचर काफी बढ़ जाएगा। इस दौरान आपकों खूब पानी पीना चाहिए और एक्सरसाइज करते समय सावधानी बरतनी चाहिए।

उदाहरण के लिए, मनुष्य के शरीर का सामान्य तापमान लगभग 98.3 फ़ारेनहाइट होता है। गर्भावस्था के दौरान महिलाओं के शरीर का तापमान थोड़ा बढ़ जाता है। यह लगभग 0.5 फ़ारेनहाइट से 1 फ़ारेनहाइट तक बढ़ सकता है। यदि आप पिछले कई दिनों से लगातार शरीर के तापमान में बदलाव देख रही हैं, तो प्रेगनेंसी को कन्फर्म करने लिए प्रेगनेंसी टेस्ट जरूर करें।

पेट फूलना या दर्द होना

Pregnancy Ke Shuruati Lakshan In Hindi पेट फूलना या दर्द होना

पीरियड्स नहीं आये हैं, और फिर भी पेट में बार-बार ऐंठन हो रही है। ब्लोटिंग यानि पेट फूलने जैसी समस्याएं महसूस होती हैं। पेट में यह सूजन गर्भ धारण के दौरान हार्मोन परिवर्तन के कारण भी होती है। दरअसल, प्रोजेस्टेरोन की मात्रा जो शरीर गर्भावस्था की शुरुआत में पैदा करता है, शरीर की मांसपेशियों को आराम देता है। इससे पाचन प्रक्रिया धीमी हो जाती है और पेट फूलना, गैस, डकार और बेचैनी जैसी समस्याएं होने लगती हैं। खासतौर पर खाना खाने के बाद।

उल्टी आना या जी मचलाना

उल्टी आना या जी मचलाना

यदि आप पिछले कई दिनों से उल्टी या मतली जैसी समस्याओं का सामना कर रही हैं, तो आप प्रेगनेंट हो सकती हैं। क्योंकि सुबह उठते ही मतली या उल्टी आना गर्भावस्था का एक महत्वपूर्ण लक्षण है। खैर, यह शरीर पर निर्भर करता है। कई महिलाएं ऐसी होती हैं जिन्हें गर्भावस्था के दौरान उल्टियां नहीं होती हैं और कुछ महिलाएं होती हैं जिन्हें गर्भावस्था से लेकर प्रसव तक उल्टी होती रहती है।

मूड स्विंग और चिड़चिड़ापन

प्रेगनेंसी के दौरान एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टीरॉन का लेवल अधिक बढ़ जाता है। इसकी वजह से आपका मूड प्रभावित हो सकता है और आप ज्यादा इमोशनल महसूस करेंगी। प्रेगनेंसी के दौरान मूड स्विंग और चिड़चिड़ापन सामान्य लक्षण है। इसकी वजह से डिप्रेशन, चिड़चिड़ापन, चिंता और कभी-कभी अधिक उत्साह का भी अनुभव हो सकता है।

स्तन में भारीपन व दर्द महसूस होना

स्तन में भारीपन व दर्द महसूस होना

प्रेगनेंसी के चौथे और छठें हफ्ते में स्तन का आकार बढ़ने लगता है। शरीर में हार्मोन के बदलाव के कारण स्तन में सूजन भी आ सकता है। लेकिन जैसे ही शरीर में हार्मोन का समायोजन होने लगता है यह सूजन खत्म हो जाती है। हार्मोन के कारण स्तन और निप्पल लगातार बड़ा होता रहता है। इसके अलावा निप्पल का रंग भी अधिक गहरा हो जाता है जो प्रेगनेंसी के लक्षण हो सकते हैं। यदि प्रेगनेंसी से पहले आपको मुंहासे की समस्या रही हो तो इस दौरान यह और ज्यादा बढ़ सकता है।

कब्ज और सीने में जलन

कब्ज और सीने में जलन

गर्भावस्था के दौरान एक महिला के शरीर में परिवर्तन उसके पाचन तंत्र को भी प्रभावित करते हैं, जिससे पेट में अधिक गैस की शिकायत होती है। पेट में गैस की समस्या गर्भाधारण के पहले सप्ताह से लेकर नौ सप्ताह तक रह सकती है। पाचन तंत्र में परिवर्तन के कारण जलन भी आम है, इस स्थिति में आप अचानक सीने में जलन महसूस कर सकती हैं। कब्ज और सीने में जलन भी प्रेगनेंसी के शुरूआती लक्षण (Pregnancy Ke Shuruati Lakshan In Hindi) होते हैं।

क्रेविंग होना

Pregnancy Ke Shuruati Lakshan In Hindi क्रेविंग होना

क्रेविंग होना यानी किसी खास चीज को खाने की लालसा भी प्रेग्नेंट होने का एक प्रमुख लक्षण है। गर्भवती महिला  किसी खास चीज के प्रति आकर्षण बढ़ाती है और हर समय एक जैसा खाना शुरू कर देती है। इस दौरान, यह देखा गया है कि महिलाएं अपनी दिनचर्या में ज्यादातर उन्हीं चीजों का सेवन करती हैं जो उन्हें विशेष रूप से पसंद होती हैं। लेकिन जैसे ही प्रेगनेंसी का पता चलता है, एक महिला को प्रेगनेंसी डाइट चार्ट (pregnancy diet chart in hindi) जरूर बनाना चाहिए।

(यह भी पढ़ें – प्रेगनेंसी में मुंह का टेस्ट खराब होना)

थकान व कमजोरी महसूस होना

थकान व कमजोरी महसूस होना

महिलाओं में थकान होना आम है, लेकिन बहुत उच्च स्तर पर थकान और कमजोरी महसूस करना प्रेगनेंसी के शुरूआती लक्षण (Pregnancy Ke Shuruati Lakshan In Hindi) हो सकते हैं। क्योंकि गर्भावस्था की शुरुआत से, महिला का शरीर खुद को बच्चे का समर्थन करने के लिए तैयार करता है। इस दौरान थकान महसूस होना स्वाभाविक है।

व्हाइट डिस्चार्ज

Pregnancy Ke Shuruati Lakshan In Hindi व्हाइट डिस्चार्ज

महिलाओं में अत्यधिक व्हाइट डिस्चार्ज होना आम है। लेकिन गर्भावस्था के दौरान हार्मोनल परिवर्तन के कारण यह निर्वहन बहुत अधिक हो सकता है। भले ही आपको यह पसंद न हो, लेकिन इसका एक अनजान फायदा भी है। जी हां, यह व्हाइट डिस्चार्ज आपको मूत्र संबंधी विकारों से बचाता है। गर्भावस्था के दौरान व्हाइट डिस्चार्ज काफी बढ़ जाता है।

सूंघने की शक्ति में वृद्धि

अगर आपको लगता है कि आपकी नाक बहुत तेजी से काम कर रही है। यानी दूर की गंध भी आसानी से सूंघ लेतीं हैं तो आप प्रेग्नेंट हो सकतीं हैं। जी हां, गर्भावस्था के दौरान महिलाओं में सूँघने की शक्ति तेजी से विकसित होती है। इस समय, हार्मोन परिवर्तन के कारण, सूंघने  की शक्ति बढ़ जाती है।

बार -बार पेशाब आने की फीलिंग

बार -बार पेशाब आने की फीलिंग

गर्भावस्था में बार-बार पेशाब आना एक महत्वपूर्ण लक्षण है। यह समस्या प्रेगनेंसी  के छठे सप्ताह से और भी अधिक बढ़ जाती है। दरअसल, ऐसा इसलिए होता है क्योंकि गर्भावस्था के दौरान शरीर में हार्मोन्स के बदलाव के कारण किडनी में रक्त संचार तेज होने लगता है और मूत्राशय में पेशाब जल्दी से भर जाता है, जिसके कारण बार-बार पेशाब आने की समस्या होती है। जैसे-जैसे पेट में बच्चा विकसित होता है, यह समस्या और बढ़ने लगती है।

(यह भी पढ़ें – ज्यादा देर तक पेशाब रोकने से हो सकते है ये नुकसान)

सिर दर्द का बना रहना

सिर दर्द का बना रहना

जब मस्तिष्क में मौजूद रक्त शिराएं अतिरिक्त रक्त के कारण फैल जाती हैं, तो सिरदर्द या माइग्रेन की समस्या उत्पन्न होती है। यह प्रेगनेंसी के शुरूआती लक्षणों (Pregnancy Ke Shuruati Lakshan In Hindi) में से एक है। यह दर्द कभी हल्का या कभी बहुत गंभीर होता है। लेकिन धीरे-धीरे यह अपने आप ठीक हो जाता है आप सिरदर्द ठीक करने के लिए योग भी कर सकती हैं।

प्रेगनेंसी टेस्ट किट से प्रेगनेंसी की जानकारी – Pregnancy information from pregnancy test kit in Hindi

प्रेगनेंसी टेस्ट किट से प्रेगनेंसी की जानकारी - Pregnancy information from pregnancy test kit in Hindi

प्रेगनेंसी टेस्ट करने के लिए किट का उपयोग करना एक अच्छा तरीका है। प्रेगनेंसी टेस्ट किट का इस्तेमाल करने के लिए आप सुबह के समय की पहली उरिन को लेकर इसकी दो तीन बूंदों को किट के गोल हिस्से पर डालें। फिर पाँच मिनट तक इंतजार कीजिये आपको गुलाबी लाइन दिखाई देगी। अगर एक गुलाबी लाइन आती है तो आप गर्भवती नहीं है। अगर दो गहरी गुलाबी लाइन आती है तो आप प्रेग्नेंट है।

(यह भी पढ़ें – प्रेगा न्यूज़ प्रेगनेंसी टेस्ट किट का उपयोग कैसे करें)

प्रेगनेंसी टेस्ट करने के घरेलू उपाय

महिलाएं चाहें तो कुछ घरेलू उपायों को भी अपना कर घर पर ही गर्भावस्था की जाँच कर सकती है। हालांकि इस टेस्ट का रिजल्ट केवल 50% तक सही होने की संभावना होती है। आप इसके लिए निम्न तरीके को अपना सकती है-

(यह भी पढ़ें – प्रेगनेंसी टेस्ट के घरेलू उपाय, तरीके और नुस्खे)

प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षण (Pregnancy Ke Shuruati Lakshan In Hindi) का यह लेख आपको कैसा लगा हमें कमेंट्स कर जरूर बताएं।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration