एचसीजी हार्मोन क्या होता है गर्भावस्था में एचसीजी की भूमिका –  HCG Hormone And Its Role In Pregnancy in Hindi

एचसीजी हार्मोन क्या होता है गर्भावस्था में एचसीजी की भूमिका -  HCG hormone and its role in Pregnancy in Hindi
Written by Anamika

HCG hormone in hindi एचसीजी, ह्यूमन कोरियानिक गोनाडोट्रोपिन का संक्षिप्त रूप है। इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे कि एचसीजी हार्मोन की विशेषताएं Features of HCG hormone in Hindi क्या हैं, एचसीजी हार्मोन का महत्व importance of HCG hormone in Hindi क्या है, एचसीजी हार्मोन के कार्य Function of HCG hormone in Hindi, एचसीजी हार्मोन टेस्ट HCG hormone Test in Hindi और प्रेगनेंसी का पता लगाने में एचसीजी की भूमिका (role of HCG to detect pregnancy in Hindi) क्या है।

यह एक ऐसा हार्मोन है जो गर्भावस्था के दौरान महिला के गर्भ में विकसित हो रहे भ्रूण द्वारा उत्पन्न होता है। यह हार्मोन प्रेगनेंसी की पहचान और उसके रख रखाव दोनों में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। गर्भवती महिला में एससीजी (hCG) उच्च स्तर में पाया जाता है। लेकिन सामान्य महिला और पुरुषों के ब्लड स्ट्रीम में एससीजी हार्मोन नहीं पाया जाता है।

1. एचसीजी हार्मोन की विशेषताएं – Features of HCG hormone in Hindi
2. एचसीजी हार्मोन का महत्व – Importance of HCG hormone in Hindi
3. एचसीजी हार्मोन के कार्य – Function of HCG hormone in Hindi
4. एचसीजी हार्मोन टेस्ट – HCG hormone Test in Hindi
5. प्रेगनेंसी का पता लगाने में एचसीजी की भूमिका – Role of HCG to detect pregnancy in Hindi

एचसीजी हार्मोन की विशेषताएं – Features of HCG Hormone in Hindi

HCG hormone एचसीजी हार्मोन एक ग्लाइकोप्रोटीन होता है जो शुगर एवं प्रोटीन दोनों से मिलकर बना होता है और यह कोशिकाओं की ग्राही (receptors) को बांधने का काम करता है। एक बार जब ये कोशिकाएं बंध जाती हैं तो यह कोशिका झिल्ली (cell membrane) के पार अन्य कोशिकाओं को संकेत भेजती हैं। यह हार्मोन सभी वयस्क महिलाओं में नहीं उत्पन्न होता है बल्कि यह गर्भधारण करने के बाद महिला में उत्पन्न होना शुरू होता है। जब अपरिपक्व भ्रूण कोशिकाएं ऊतकों से अलग होती हैं तो नाल (placenta) के ऊतक एचसीजी का निर्माण करना शुरू कर देते हैं।

(और पढ़े – एस्ट्रोजन हार्मोन की महिलाओं के शरीर में भूमिका)

एचसीजी हार्मोन का महत्व – Importance of HCG Hormone in Hindi

हार्मोन एचसीजी का उद्देश्य गर्भावस्था में महत्वपूर्ण स्थायी मातृत्व अंतःस्त्रावी कोशिकाओं के समूह को बनाए रखना होता है, जिसे कार्पस ल्यूटियम (corpus luteum) कहते हैं। जब महिला अंडे का उत्सर्जन करती है तो अंडे की चारों ओर लिपटी कोशिकाएं अंडाशय (ovary) में हार्मोन स्रावित करती हैं जिन्हें संयुक्त रूप से कार्पस ल्यूटियम कहते हैं। यदि अंडा निषेचित नहीं हो पाता है तो कार्पस ल्यूटियम 14 दिन के अंदर ही नष्ट हो जाता है। निषेचन की क्रिया में एचसीजी कार्पस ल्यूटियम को बनाये रखने में मदद करता है।

(और पढ़ें – ओव्यूलेशन (अंडोत्सर्ग) क्या है, साइकिल, कब होता है, कितने दिन तक रहता है और लक्षण)

एचसीजी हार्मोन के कार्य – Function of HCG Hormone in Hindi

अंडे के चारों ओर कार्पस ल्यूटियम को बनाए रखने के अलावा एचसीजी गर्भाशय की लाइनिंग को भी संभालने में मदद करता है, जो कि यदि अंडा निषेचित हो रहा हो तो प्रेगनेंसी को बनाए रखने के लिए आवश्यक होता है। लेकिन जब अनिषेचित अंडे (unfertilized egg) के आसपास लिपटा कार्पस ल्यूटियम नष्ट हो जाता है तो गर्भाशय में हार्मोन का स्तर गिरने लगता है तो गर्भाशय की लाइनिंग भर जाती है जिसके परिणामस्वरूप मासिक धर्म शुरू हो जाता है। बेहतर प्रेगनेंसी के लिए गर्भाशय की लाइनिंग को बनाए रखने के लिए और भ्रूण के विकास (fetus development) के लिए एचसीजी एक स्थान प्रदान करता है। जबतक गर्भनाल (placenta) का निर्माण पूरी तरह से नहीं हो जाता है तब तक भ्रण पूरी तरह गर्भाशय की लाइनिंग पर ही निर्भर रहता है। यह क्रिया गर्भावस्था के चौथे महीने तक पूरी होती हैं।

(और पढ़ें – पीरियड्स (मासिक धर्म) से जुड़े मिथक जो आपको पता होने चाहिये)

एचसीजी हार्मोन टेस्ट – HCG Hormone Test in Hindi

ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन टेस्ट (hCG test) ब्लड और यूरिन में एचसीजी हार्मोन का परीक्षण करने के लिए किया जाता है। कुछ एचसीजी टेस्ट में बिल्कुल सही मात्रा में हार्मोन की उपस्थिति का पता आसानी से चल जाता है, जबकि जबकि कुछ एचसीजी का कुछ टेस्ट सिर्फ यह जानने के लिए किया जाता है कि यह हार्मोन आखिर मौजूद भी है या नहीं। एचसीजी टेस्ट सिर्फ यह जांच करने के लिए किया जाता है कि महिला गर्भवती है या नहीं क्योंकि गर्भावस्था (pregnancy) के दौरान प्लेसेंटा के द्वारा ही एससीजी हार्मोन उत्पन्न होता है।

(और पढ़े – प्रेगनेंसी टेस्ट किट का उपयोग)

एचसीजी शुक्राणु और अंडे के कुछ निश्चित ट्यूमर से बने होते हैं जिन्हें जर्म सेल ट्यूमर कहते हैं। एचसीजी टेस्ट आमतौर पर उस महिला में किया जाता है जिसके गर्भाशय में सामान्य रूप से उत्तकों का विकास नहीं होता है। इसके अलावा एचसीजी टेस्ट गर्भाशय के कैंसर और मोलर प्रेगनेंसी (molar pregnancy) की जांच करने के लिए भी किया जाता है। ज्यादातर एचसीजी टेस्ट गर्भपात होने के बाद यह जानने के लिए किया जाता है कि मोलर प्रेगनेंसी  तो नहीं है। पुरुषों में एचसीजी टेस्ट यह पता करने के लिए किया जाता है कि उनके वीर्यकोष या अंडकोष (testicles) में कैंसर तो नहीं है।

(और पढ़ें – एचसीजी लेवल कम होने के लक्षण, कारण, इलाज और उपचार)

प्रेगनेंसी का पता लगाने में एचसीजी की भूमिका – Role Of HCG To Detect Pregnancy in Hindi

अंडा सामान्यरूप से फैलोपियन ट्यूब (fallopian tube) में शुक्राणु कोशिकाओं द्वारा निषेचित होता है। 9 दिनों के भीतर  निषेचित अंडा फैलोपिनय ट्यूब को गर्भाशय के अंदर ले जाता है। तब यह प्रत्यारोपित (implant) होकर गर्भाशय की दीवार को जोड़ता है। जब निषेचित अंडे प्रत्यारोपित हो जाते हैं तो तो गर्भाशय में विकसित हो रहा नाल खून में एससीजी हार्मोन को स्रावित करने लगता है। इसके अलावा कुछ एचसीजी हार्मोन मूत्र में चले जाते हैं। पहला मासिक धर्म रूकने से पहले ही एचसीजी हार्मोन को शरीर में पाया जा सकता है। अंडे प्रत्यारोपित होने के 6 दिन बाद यह हार्मोन बनना शुरू हो जाता है।

एचसीजी हार्मोन गर्भ में बच्चे के विकास सहायता करता है। महिला के अंतिम मासिक धर्म के शुरूआती 14 से 16 हफ्ते बाद एचसीजी हार्मोन का स्तर बहुत अधिक होता है। इसके बाद यह धीरे-धीरे कम होने लगता है। जब शरीर में एचसीजी का स्तर उच्च रहता है तो यह महिला के गर्भवती होने और उसके बच्चे के स्वास्थ्य (fetus health) के बारे में जानकारी देता है। बच्चे को जन्म देने (delivery) के बाद एचसीजी हार्मोन को फिर शरीर में नहीं पाया जा सकता है।

अगर किसी महिला के पेट में जुड़वां बच्चे हों तो इस स्थिति में एससीजी (HCG) बहुत तेजी से स्रावित होता है। लेकिन यदि निषेचित अंडा गर्भाशय के स्थान पर किसी अन्य जगह जैसे फैलोपियन ट्यूब में प्रत्यारोपित हो जाता है तब कम मात्रा में एचसीजी स्रावित होता है। इसे इक्टोपिक प्रेगनेंसी (ectopic pregnancy) कहते हैं।

(और पढ़ें – एचसीजी हार्मोन क्या होता है गर्भावस्था में एचसीजी की भूमिका)

गर्भवती एचसीजी का स्तर – HCG Levels In Pregnancy in Hindi

मानव कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन (एचसीजी) सामान्य रूप से नाल द्वारा निर्मित एक हार्मोन है। यदि आप गर्भवती हैं, तो आप अपने मूत्र में इसका पता लगा सकती हैं। एचसीजी के स्तर को मापने वाले रक्त परीक्षण का उपयोग यह जांचने के लिए भी किया जा सकता है कि आपकी गर्भावस्था कितनी अच्छी तरह से आगे बढ़ रही है, जिसमें आपके बच्चे का विकास भी शामिल है।

गर्भावस्था की पुष्टि करना – Confirming Pregnancy in Hindi

आपके गर्भ धारण करने के बाद (जब शुक्राणु अंडे को निषेचित करता है), विकासशील प्लेसेंटा एचसीजी का उत्पादन और रिलीज करना शुरू कर देता है।

आपके एचसीजी के स्तर को सही लेवल में आने में 2 सप्ताह लगते हैं जो आपके घर में गर्भावस्था परीक्षण का उपयोग करके आपके मूत्र में पाया जा सकता है। और गर्भावस्था की पुष्टि कर सकता है

एक सकारात्मक होम टेस्ट परिणाम लगभग निश्चित रूप से सही है, लेकिन एक नकारात्मक परिणाम कम विश्वसनीय होते है।

यदि आप अपनी छूटी अवधि के पहले दिन गर्भावस्था परीक्षण करते हैं, और यह नकारात्मक है, तो लगभग एक सप्ताह प्रतीक्षा करें। यदि आपको अभी भी लगता है कि आप गर्भवती हो सकती हैं, तो दोबारा परीक्षण करें या अपने डॉक्टर को देखें।

(और पढ़ें – प्रेग्नेंसी टेस्ट नेगेटिव कब आता है)

गर्भवती महिला में एचसीजी रक्त स्तर – HCG Blood Levels In Pregnancy in Hindi

गर्भधारण के 8 से 11 दिनों के भीतर आपके रक्त में एचसीजी के निम्न स्तर का पता लगाया जा सकता है। एचसीजी का स्तर पहली तिमाही के अंत में उच्चतम है, फिर धीरे-धीरे अपनी गर्भावस्था के बाकी हिस्सों में गिरावट के साथ कम होता है।

एक गर्भवती महिला के रक्त में एचसीजी के औसत स्तर निम्न हैं:

  • गैर-गर्भवती महिलाएं – 10 यू / एल से कम
  • बॉर्डरलाइन गर्भावस्था परिणाम – 10 से 25 यू / एल
  • सकारात्मक गर्भावस्था परीक्षण – 25 से अधिक यू / एल
  • गर्भवती महिलाओं, मासिक धर्म की अवधि के लगभग 4 हफ्ते बाद या LMP (औसतन 1 सप्ताह पहले छूटी हुई अवधि) – 0 से 750 U / L
  • गर्भवती महिलाओं, एलएमपी के लगभग 5 सप्ताह बाद (पहली छूटी अवधि के बाद सप्ताह) – 200 से 7,000 यू / एल
  • गर्भवती महिलाओं, एलएमपी के लगभग 6 सप्ताह बाद – 200 से 32,000 यू / एल
  • गर्भवती महिलाओं, एलएमपी के लगभग 7 वें सप्ताह – 3,000 से 160,000 यू / एल
  • गर्भवती महिलाओं, एलएमपी के लगभग 8 से 12 सप्ताह बाद – 32,000 से 210,000 यू / एल
  • गर्भवती महिलाओं, LMP के लगभग 13 से 16 सप्ताह बाद – 9,000 से 210,000 U / L
  • गर्भवती महिलाएं, एलएमपी के लगभग 16 से 29 सप्ताह बाद – 1,400 से 53,000 यू / एल
  • गर्भवती महिलाओं, एलएमपी के लगभग 29 से 41 सप्ताह बाद – 940 से 60,000 यू / एल

आपके रक्त में एचसीजी की मात्रा आपकी गर्भावस्था और आपके बच्चे के स्वास्थ्य के बारे में कुछ जानकारी दे सकती है।

उदाहरण के लिए एचसीजी स्तर संकेत कर सकते हैं:

  • कई गर्भधारण की उपस्थिति (उदाहरण के लिए, जुड़वाँ और ट्रिपल) – एचसीजी का स्तर आमतौर पर बहुत अधिक होता है जब एक से अधिक भ्रूण होते हैं।
  • गर्भावस्था का नुकसान (गर्भपात) या गर्भपात का खतरा।
  • एक अस्थानिक गर्भावस्था – जहां निषेचित अंडे फैलोपियन ट्यूब में निहित होता है।
  • बच्चे के विकास या विकास में समस्याएं।
  • महिलाओं में कुछ प्रकार के कैंसर सहित अंडाशय या गर्भाशय में असामान्य ऊतक वृद्धि, जो गर्भवती नहीं हैं।

आपके रक्त में एचसीजी के स्तर कुछ भी निदान नहीं करते हैं। वे केवल सुझाव दे सकते हैं कि देखने के लिए मुद्दे हैं।

ऊपर लेख में आपने जाना एचसीजी हार्मोन क्या होता है, एचसीजी हार्मोन का महत्व क्या है (importance of HCG hormone in Hindi ), एचसीजी हार्मोन के कार्य Function of HCG hormone in Hindi, एचसीजी हार्मोन टेस्ट HCG hormone Test in Hindi और प्रेगनेंसी का पता लगाने में एचसीजी की भूमिका (Role of HCG to detect pregnancy in Hindi) क्या है।

Leave a Comment

4 Comments

Subscribe for daily wellness inspiration