प्रेग्नेंसी टेस्ट नेगेटिव कब आता है – When Pregnancy Test Negative In Hindi

प्रेग्नेंसी टेस्ट नेगेटिव कब आता है - When Pregnancy Test Negative In Hindi
Written by Diksha

Pregnancy Test Negative Kyu Aata Hai प्रेगनेंसी टेस्‍ट नेगेटिव आने का मतलब है, महिला को कई प्रकार की चिंता का होना। एक महिला के लिए सबसे ज्‍यादा चिंताजनक बात तब होती है जब उसकी पीरियड की डेट आने के बाद भी उसे पीरियड्स नहीं होते हैं और जब वह प्रेग्‍नेंसी टेस्‍ट करती है तो वह भी निगेटिव आता है।

मां बनाना हर महिला का सपना होता है और वह अपने इस सपने को साकार करना चाहती है। चाहे आप बच्चे के लिए ट्राई कर रही हों या नहीं, लेकिन पीरियड्स समय पर न होने और प्रेग्नेंसी टेस्ट नेगेटिव आने की स्थति  में अपने डॉक्‍टर से सम्‍पर्क अवश्‍य करें।

प्रेग्नेंसी टेस्ट नेगेटिव आना निश्चित रूप से उस महिला के लिए बुरी खबर है, जो प्रेग्नेंट होना चाहती है।

कई महिलाओं को तब बहुत आश्चर्य होता है जब प्रेग्नेंसी टेस्ट करने पर उसके परिणाम नेगेटिव आते है बावजूद इसके कि उनका पीरियड नहीं आया है। यह बात एक महिला के लिए बहुत महत्वपूर्ण हो जाती है कि आखिर प्रेग्नेंसी टेस्ट नेगेटिव आने के क्या कारण हो सकते है। और प्रेग्नेंसी टेस्ट नेगेटिव कब आता है आइए हम आपको इस लेख में बताते है कि ऐसे कौन से कारण हैं जिसकी वजह से प्रेग्नेंसी टेस्ट नेगेटिव आता है।

  1. हार्मोनल असंतुलन
  2. फाल्स प्रेग्नेंसी
  3. ज्‍यादा जल्‍दी टेस्‍ट कर लेना
  4. मौखिक गर्भनिरोधक
  5. प्रेग्नेंसी टेस्ट का सही इस्तेमाल न करना
  6. प्री मेनोपॉज
  7. प्रेग्नेंसी टेस्ट किट के रिजल्ट का इंतजार न करना
  8. तनाव
  9. अत्‍याधिक व्‍यायाम
  10. जीवन शैली में परिवर्तन
  11. शरीर का वजन अचानक से बहुत कम होना
  12. पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम
  13. स्‍तनपान कराना
  14. एचसीजी हार्मोन का कम स्तर
  15. अनियमित मासिक धर्म चक्र

प्रेग्नेंसी टेस्ट नेगेटिव के कारण

प्रेग्नेंसी टेस्ट नेगेटिव के कारण

नेगेटिव प्रेग्‍नेंसी टेस्‍ट के साथ मिस्‍ड पीरियड्स आखिर ऐसा क्‍यूँ होता है, इसके पीछे कुछ कारण होते हैं। ऐसा केवल आपके साथ ही नहीं होता बल्कि बहुत बार बहुत सारी महिलाओं के साथ ऐसा होता है जिसके पीछे पीसीओएस, तनाव, एफएसएच, ज्‍यादा जल्‍दी टेस्‍ट कर लेना आदि समस्‍याओं को प्रमुख माना जाता है।

(और पढ़े – गर्भावस्था परीक्षण नकारात्मक आने के कारण…)

हार्मोनल असंतुलन

गर्भवस्था परीक्षण के परिणाम नेगेटिव आने का सीधा सा मतलब यह होता है कि आप प्रेग्नेंट नही है, आपके पीरियड न होने के कोई और कारण हो सकते है। यह मोटापा, तनाव, हार्मोनल असंतुलन, डिप्रेशन और लाइफ स्टाइल से संबंधित समस्याओं के कारण या अन्य किंही कारणों की वजह से हो सकता है।

(और पढ़े – महिलाओं में हार्मोन असंतुलन के कारण, लक्षण और इलाज…)

फाल्स प्रेग्नेंसी

प्रेग्नेंसी टेस्ट नेगेटिव का कारण फाल्स प्रेग्नेंसी भी हो सकती है। प्रेग्नेंसी टेस्ट नेगेटिव तब भी आता है जब अस्थानिक गर्भावस्था (ectopic pregnancy) हो गयी हो या शरीर में एचसीजी हार्मोन की मात्रा बहुत ही कम हो। अस्थानिक गर्भावस्था होना किसी महिला के लिए गंभीर चिंता का कारण हो सकती है और इस मामले में महिला को तुरन्त डाक्टर से परामर्श लेना चाहिए। एक्टोपिक गर्भधारण दुर्लभ हैं – 40 में से लगभग 1, लेकिन वे घातक हो सकते हैं। गर्भावस्था से संबंधित मौतों में से 9 प्रतिशत अस्थानिक गर्भावस्था के कारण हैं।

(और पढ़े – फॉल्स प्रेगनेंसी क्या है, जानें इसके कारण और लक्षण…)

ज्‍यादा जल्‍दी टेस्‍ट कर लेना

प्रेग्नेंसी टेस्ट के नेगेटिव आने का एक और मुख्य कारण यह भी है की आपने घर पर प्रेगनेंसी चेक करने वाली प्रेग्नेंसी टेस्ट किट का प्रयोग प्रेग्नेंसी का पता लगाने के लिए काफी जल्दी कर लिया हो, जिससे पर्याप्त मात्रा में एचसीजी हार्मोन न होने के कारण प्रेग्नेंसी टेस्ट किट का रिजल्ट नेगेटिव आया हो लेकिन यदि आप गर्भवती है तो कुछ समय बाद एचसीजी हार्मोन का स्तर बाद में शरीर में बढ़ जाता है।

(और पढ़े – पीरियड मिस होने के बाद प्रेगनेंसी टेस्ट नेगेटिव आने के कारण…)

मौखिक गर्भनिरोधक

प्रेग्नेंसी टेस्ट उन महिलाओं में भी नेगेटिव आता है जिन्होंने हाल ही में अपनी मौखिक गर्भनिरोधक दवाओं को लेना बंद किया हो। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि उनके शरीर को कुछ नए कार्य को समायोजित करने में समय लगता है। और यह पीरियड आने में आसानी से देर या चूक कर देता है।

(और पढ़े – गर्भनिरोधक दवाओं के नाम और उनसे शरीर पर पड़ने वाले प्रभाव…)

प्रेग्नेंसी टेस्ट का सही इस्तेमाल न करना

कई बार होम प्रेग्नेंसी टेस्ट का सही इस्तेमाल न करना भी प्रेग्नेंसी टेस्ट को नेगेटिव दिखा देता है, अगर आपने यूरीन का नमूना टेस्ट करने के लिए बहुत जल्दी लिया हो या फिर आपने टेस्ट करने से पहले बहुत ज्यादा तरल पदार्थ पिया हो। अधिक पानी या तरल पदार्थ का सेवन मूत्र में एचसीजी होर्मोन की मात्रा को कम कर देता हैं, जिससे प्रेग्नेंसी टेस्ट नेगेटिव आ सकता है। होम प्रेग्नेंसी टेस्ट का इस्तेमाल करने के लिए हमेशा सुबह के पहले पेशाब का इस्तेमाल करना सही माना जाता है।

(और पढ़े – प्रेगनेंसी टेस्ट करने के घरेलू उपाय तरीके और नुस्खे…)

प्री मेनोपॉज

एक और कारण है प्रेग्नेंसी टेस्ट के नेगेटिव आने का हो सकता है जब आपके पीरियड नही हुए है वह है, प्री मेनोपॉज। प्री रजोनिवृत्ति को समयपूर्व रजोनिवृत्ति के नाम से भी जाना जाता है और यह पीरियड में देरी या चूक का कारण हो सकता है। इसलिए यह जरूरी है कि यह जानने के लिए कि यह प्री मेनोपॉज के कारण हुआ है या नहीं तुरन्त डॉक्टर से संपर्क करें।

(और पढ़े – रजोनिवृत्ति के कारण, लक्षण और दूर करने के उपाय…)

प्रेग्नेंसी टेस्ट किट के रिजल्ट का इंतजार न करना

महिलाओं का घर में ही प्रेग्नेंसी टेस्ट सही से उपयोग नहीं करना भी प्रेग्नेंसी टेस्ट ने‍गेटिव आने की एक बड़ी वजह हो सकती है। क्योंकि अधिकतर महिलाएं किट के बॉक्स पर दी गयी जानकारी और नियमों का पालन नहीं करतीं हैं। टेस्ट के रिजल्ट के लिए आमतौर पर 5 से 10 मिनट का समय निर्धारित किया जाता है, जिसके बाद सही परिणाम स्पष्ट होते हैं। लेकिन कुछ महिलाएं किट में उरीन डालने के कुछ ही मिनटों के बाद परिणाम सही न आने पर किट को फैंक देती है। जिससे सही परिणाम का पता नहीं लग पता है।

(और पढ़े – प्रेगनेंसी टेस्ट कब करना चाहिए…)

तनाव

किसी भी महिला में अचानक से नियमित मासिक धर्म का रूक जाना अचानक होने वाली घटना नहीं है। बल्कि यह शरीर में धीरे-धीरे होने वाले परिवर्तनों के कारण होता है। जिसका प्रमुख कारण तनाव को माना जाता है। काम का भारी दबाव, या भारी मानसिक तनाव महिला के मासिक धर्म की नियमितता को प्रभावित कर सकता है। जो महिलाएं इस प्रकार के तनाव का सामना करती हैं उनमें कुछ मासिक अवधि की कमी होने की संभावना अधिक होती है। पीरियड मिस होने की इस प्रकार की समस्‍या के लिए उन्‍हें डॉक्‍टर से संपर्क करना चाहिए।

(और पढ़े – कामकाजी महिलाओं में तनाव के कारण, लक्षण और उपाय…)

अत्‍याधिक व्‍यायाम

बहुत सी महिलाओं में पीरियड मिस होने का प्रमुख कारण अधिक व्‍यायाम को बताया जाता है। अत्‍याधिक व्‍यायाम करने से पिट्यूटरी हार्मोन और थॉयरॉयड हार्मोन में परिवर्तन हो सकता है। जिसके परिणाम स्‍वरूप ओव्‍यूलेशन और मासिक धर्म में परिवर्तन होता है।

(और पढ़े – व्यायाम (एक्सरसाइज) के प्रकार, महत्व, करने का तरीका, लाभ और हानि…)

जीवन शैली में परिवर्तन

महिलाओं के दैनिक जीवन शैली में परिवर्तन के कारण भी उनका मासिक चक्र प्रभावित हो सकता है। क्‍योंकि शेड्यूल बदलने से आपकी बॉडी क्‍लॉक बंद हो सकती है। यदि आप बार बार काम की शिफ्ट बदलते हैं (दिन से रात) तो इससे भी आपके शरीर में हार्मोन परिवर्तन होना स्‍वाभाविक है। जो कि पीरियड्स में देरी कर सकता है और पीरियड मिस होने का कारण हो सकता हैं।

(और पढ़े – मासिक धर्म (पीरियड्स) के देर से आने के कारण और उपाय…)

शरीर का वजन अचानक से बहुत कम होना

महिलाओं में अधिक वजन, कम वजन या फिर शारीरिक वजन में अचानक होने वाले परिवर्तन पीरियड मिस होने के कारण हो सकते हैं। क्‍योंकि अधिक मोटापा एस्‍टोजेन और प्रोजेस्‍टेरोन को प्रभावित करता है। यहां तक की यह प्रजनन क्षमता को भी प्रभावित करता है। इस तरह से मोटोपे को कम करने से महिलाएं नियमित अवधि प्राप्‍त कर सकती हैं। लेकिन यदि महिलाओं के शरीर का वजन अचानक से बहुत कम हो जाता है तो यह भी उनके मासिक धर्म चक्र को प्रभावित कर सकता है।

(और पढ़े – अचानक वजन कम होने के कारण…)

पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम

पीसीओएस, या पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम एक ऐसी स्थिति है जो महिलाओं के शरीर में एण्‍ड्रोजन का उत्‍पादन बढ़ा सकती है। जबकि एण्‍ड्रोजन एक पुरुष हार्मोन है जिसके असंतुलन के कारण अंडाशय पर अल्‍सर होने की संभावना बढ़ जाती है। यह महिलाओं में ओव्‍यूलेशन को अनियमित बना सकता है या इसे पूरी तरह से रोक सकता है।

(और पढ़े – पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम के कारण,लक्षण और उपचार के उपाय…)

स्‍तनपान कराना

महिलाओं में पीरियड मिस होने का एक प्रमुख कारण स्‍तनपान कराना भी हो सकता है। स्‍तनपान कराने के दौरान महिलाओं के पीरियड हल्‍के या पूरी तरह से खत्‍म भी हो सकते हैं। कुछ महिलाएं स्‍तनपान को जन्‍म नियंत्रण के रूप में भी मानती हैं। लेकिन ऐसा नहीं है। यहां तक स्‍तनपान कराने के दौरान यदि पीरियड नहीं आते हैं तब भी महिलाएं गर्भवती हो सकती हैं। इसलिए यदि आप इस दौरान गर्भधारण नहीं करना चाहती हैं तो जन्‍म नियंत्रण के दूसरे विकल्‍पों का उपयोग करें।

(और पढ़े – स्तनपान के दौरान होने वाली समस्याएं व समाधान…)

एचसीजी हार्मोन का कम स्तर

घर पर किट के द्वारा किया जाने वाला प्रेग्‍नेंसी टेस्‍ट तभी सही रिजल्‍ट देता है जब महिला के शरीर में एचसीजी हार्मोन निश्चित स्‍तर पर होता है। यदि एचसीजी हार्मोन का स्‍तर इससे कम हुआ तो गर्भावस्‍था होने के बाद भी रिजल्‍ट निगेटिव ही आता है। ऐसे में आप कुछ दिनों बाद फिर से नयी टेस्ट किट के साथ प्रेगनेंसी टेस्‍ट करें।

(और पढ़े – एचसीजी लेवल कम होने के लक्षण, कारण, इलाज और उपचार…)

अनियमित मासिक धर्म चक्र

कुछ मामलों में, एक अनियमित मासिक धर्म चक्र के कारण किसी महिला का पीरियड मिस हो सकता है। यह अनियमितता एक ओवुलेशन विकार, अधिक तनाव, नींद की कमी या चिंता के कारण हो सकती है। इसके अलावा अपने तनाव प्रबंधन पर भी ध्‍यान देना चाहिए। तनाव को कम करने से महिलाएं फिर से नियमित मासिक धर्म प्राप्‍त कर सकती हैं।

(और पढ़े – अनियमित मासिक धर्म के कारण, लक्षण और घरेलू उपचार…)

पीरियड मिस होने पर डॉक्‍टर से कब संपर्क करें

पीरियड मिस होने पर डॉक्‍टर से कब संपर्क करें

सामान्‍य रूप से महिलाओं में पीरियड मिस होना गंभीर समस्‍या हो सकती है। इस स्तिथ में आपको अपने डॉक्‍टर से संपर्क करना चाहिए। यदि आपके 1 या 2 पीरियड मिस हो गए हैं या आपको इनके मिस होने का कारण भी पता है। तब भी आपको डॉक्‍टर के पास जाना चाहिए। इसके अलावा पीरियड मिस होने के साथ ही आपको निम्‍न लक्षणों का अनुभव हो तब भी आपको डॉक्‍टर से संपर्क करना चाहिए।

(और पढ़े – प्रेगनेंसी के अलावा पीरियड मिस होने के क्या कारण होते हैं…)

इसी तरह की अन्य जानकरी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

आपको ये भी जानना चाहिये –

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration