प्रेगनेंसी के अलावा पीरियड मिस होने के क्या कारण होते हैं – Period Miss Hone Ke Kya Karan Hote Hai

प्रेगनेंसी के अलावा पीरियड मिस होने के क्या कारण होते हैं - Period Miss Hone Ke Kya Karan Hote Hai
Written by Diksha

Period Ruk Jane Ka Karan क्या आप जानतीं हैं प्रेगनेंसी के अलावा पीरियड मिस होने के क्या कारण हो सकते हैं पीरियड मिस होने के कारण गर्भावस्‍था के अलावा और भी बहुत कुछ हो सकते हैं। सामान्‍य रूप से गर्भावस्‍था के दौरान किसी महिला को पीरियड नहीं आते हैं जो कि पीरियड मिस होने का सबसे आम कारण है। लेकिन कुछ अन्‍य चिकित्‍सीय कारण और जीवनशैली कारक हैं जो महिलाओं के मासिक धर्म चक्र को प्रभावित करते हैं या उन्हें रोक सकते हैं। पीरियड मिस होने के इन कारणों में शरीर का अधिक वजन, हार्मोनल परिवर्तन और रजोनिवृत्ति आदि शामिल हैं। कुछ परिस्थितियों में महिलाओं को 1 या 2 माह के बाद पीरियड फिर से शुरू हो जाते हैं। आज इस लेख में आप पीरियड मिस होने के कारण के बारे जानकारी प्राप्‍त करेगीं।

  1. पीरियड मिस होने का कारण बनता है तनाव – Period miss hone ke karan stress in Hindi
  2. अधिक व्‍यायाम है पीरियड मिस होने के कारण – Adhik Vyayam Hai Period Miss Hone Ke Karan Stress in Hindi
  3. लेट पीरियड हाने के कारण हैं बीमारियां – late period hone ke karan hai bimariyan in Hindi
  4. पीरियड ना आने का कारण जीवन शैली में परिवर्तन – Period na aane karan Change lifestyle in Hindi
  5. माहवारी नहीं आने के कारण दवाएं – Mahavari na aane ka karan dawa in Hindi
  6. पीरियड मिस होने का कारण वजन में बदलाव – Period Miss Hone Ke Karan Vajan Me Badlav in Hindi
  7. पीरियड मिस होने का कारण हो सकता हैं पीओएस – Period Miss Hone Ke Karan PCOS in Hindi
  8. पीरियड मिस होने का कारण रजोनिवृत्ति – Period miss hone ke karan Menopause in Hindi
  9. पीरियड रुक सकते हैं स्‍तनपान कराने से – Period ruk sakte hai Breastfeeding se in Hindi
  10. पीरियड मिस होने पर डॉक्‍टर से कब संपर्क करें – When to Call Your Doctor in Hindi

पीरियड मिस होने का कारण बनता है तनाव – Period miss hone ke karan stress in Hindi

पीरियड मिस होने का कारण बनता है तनाव - Period miss hone ke karan stress in Hindi

किसी भी महिला में अचानक से नियमित मासिक धर्म का रूक जाना अचानक होने वाली घटना नहीं है। बल्कि यह शरीर में धीरे-धीरे होने वाले परिवर्तनों के कारण होता है। जिसका प्रमुख कारण तनाव को माना जाता है। गहरा तनाव एक गोनैडोट्रॉफिन-रिलीजिंग (gonadotrophin-releasing) होर्मोन के उत्पादन को बदल देता है। जो कि ओव्‍यूलेशन और नियिमत मासिक धर्म के साथ हस्‍तक्षेप कर सकता है। काम का भारी दबाव, या भारी मानसिक तनाव महिला के मासिक धर्म की नियमितता को प्रभावित कर सकता है। जो महिलाएं इस प्रकार के तनाव का सामना करती हैं उनमें कुछ मासिक अवधि की कमी होने की संभावना अधिक होती है। पीरियड मिस होने की इस प्रकार की समस्‍या के लिए उन्‍हें डॉक्‍टर से संपर्क करना चाहिए। इसके अलावा अपने तनाव प्रबंधन पर भी ध्‍यान देना चाहिए। तनाव को कम करने से महिलाएं फिर से नियमित मासिक धर्म प्राप्‍त कर सकती हैं।

(और पढ़े – कामकाजी महिलाओं में तनाव के कारण, लक्षण और उपाय…)

अधिक व्‍यायाम है पीरियड मिस होने के कारण – Adhik Vyayam Hai Period Miss Hone Ke Karan Stress in Hindi

अधिक व्‍यायाम है पीरियड मिस होने के कारण - Adhik Vyayam Hai Period Miss Hone Ke Karan Stress in Hindi

बहुत सी महिलाओं में पीरियड मिस होने का प्रमुख कारण अधिक व्‍यायाम को बताया जाता है। अत्‍याधिक व्‍यायाम करने से पिट्यूटरी हार्मोन और थॉयरॉयड हार्मोन में परिवर्तन हो सकता है। जिसके परिणाम स्‍वरूप ओव्‍यूलेशन और मासिक धर्म में परिवर्तन होता है। यदि महिलाएं प्रतिदिन एक या दो घंटे वर्कआउट करती हैं तो उन्‍हें चिंता करने की आवश्‍यकता नहीं है। क्‍योंकि कम से कम 2 घंटे से ऊपर वर्कआउट करने पर इस प्रकार के हार्मोनल परिवर्तन होते हैं। लेकिन यदि आप हर प्रतिदन लंबे समय तक बर्कआउट करने की योजना बना रही हैं तो अपने डॉक्‍टर से संपर्क करें। वे आपके लिए उचित पोषण और रक्‍त परीक्षण आदि की सलाह दे सकते हैं।

(और पढ़े – पीरियड्स की जानकारी और अनियमित पीरियड्स के लिए योग और घरेलू उपचार…)

लेट पीरियड हाने के कारण हैं बीमारियां – late period hone ke karan hai bimariyan in Hindi

लेट पीरियड हाने के कारण हैं बीमारियां - late period hone ke karan hai bimariyan in Hindi

कुछ महिलाओं में पीरियड मिस होने का कारण उनकी पिछली स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याएं हो सकती हैं। जिनके कारण उनके वर्तमान मासिक धर्म चक्र प्रभावित हो सकते हैं। ऐसी स्‍वास्‍थ्‍य स‍मस्‍याओं में थॉयरायड रोग, मॉलीसिस्टिक डिम्‍बग्रंथि सिंड्रोम, पिट्टरी ट्यूमर, एड्रेनल ग्र‍ंथि के रोग, डिंम्‍बग्रंथि अल्‍सर, यकृत रोग और मधुमेह आदि शामिल हैं। इस प्रकार की कोई बीमारी किसी महिला को होती है तो यह उनके मासिक चक्र को प्रभावित या बाधित कर सकती है। इसके अलावा निमोनिया, दिल दौरा, गुर्दे की विफलता या मेनिन्‍जाइटिस आदि के कारण तेजी से शरीर का वजन कम होता है। जिसके कारण पोषण की कमी या हार्मोन की कमी हो सकती है जिससे बीमारी के दौरान पीरियड रूक सकते हैं। लेकिन घबराने की आवश्‍यकता नहीं है क्‍योंकि बीमारी के ठीक होते ही आपके पीरियड्स नियमित हो जाते हैं।

(और पढ़े – अनियमित मासिक धर्म के कारण, लक्षण और घरेलू उपचार…)

पीरियड ना आने का कारण जीवन शैली में परिवर्तन – Period na aane karan Change lifestyle in Hindi

पीरियड ना आने का कारण जीवन शैली में परिवर्तन - Period na aane karan Change lifestyle in Hindi

महिलाओं के दैनिक जीवन शैली में परिवर्तन के कारण भी उनका मासिक चक्र प्रभावित हो सकता है। क्‍योंकि शेड्यूल बदलने से आपकी बॉडी क्‍लॉक बंद हो सकती है। यदि आप बार बार काम की शिफ्ट बदलते हैं (दिन से रात) तो इससे भी आपके शरीर में हार्मोन परिवर्तन होना स्‍वाभाविक है। जो कि पीरियड्स में देरी कर सकता है और पीरियड मिस होने का कारण हो सकता हैं। जो महिलाएं अपने काम के शिफ्ट को अक्‍सर बदलती हैं उन्‍हें अक्‍सर पूरी अवधि प्राप्‍त नहीं होती है। हालांकि इस दौरान भी अवधि पूरी तरह से बंद नहीं होती है लेकिन यह समय से पहले या समय के बाद में आ सकती है। इस तरह से पीरियड नियमित न आने का कारण जीवन शैली में परिवर्तन भी हो सकता है।

(और पढ़े – पीरियड्स खुलकर न आने के कारण, लक्षण और घरेलू इलाज…)

माहवारी नहीं आने के कारण दवाएं – Mahavari na aane ka karan dawa in Hindi

माहवारी नहीं आने के कारण दवाएं - Mahavari na aane ka karan dawa in Hindi

कुछ एवाएं जैसे कि एंटीडिप्रेसेंट्स, एंटीसाइकोटिक्‍स, थायरॉयड आदि से संबंधित दवाएं आपकी अवधि को रोकने या अनियमित करने का कारण हो सकती हैं। क्‍योंकि इन दवाओं में होने वाले रसायन महिलाओं के हार्मोन और मासिक धर्म को प्रभावित कर सकते हैं। इसके अलावा महिलाओं के द्वारा गर्भनिरोधकों का उपयोग भी उनके मासिक धर्म को प्रभावित करते हैं। कुछ गर्भनिराधों का उपयोग करने पर भारी मासिक प्रवाह हो सकता है। जबकि कुछ गर्भनिरोधक महिलाओं में मासिक धर्म चक्र को कम कर सकती हैं। इस तरह से पीरियड मिस होने के कारणों में गर्भनिरोधों को भी शामिल किया जा सकता है।

(और पढ़े – गर्भनिरोधक दवाओं और उनके शरीर पर पड़ने वाले प्रभाव के बारे में जानें…)

पीरियड मिस होने का कारण वजन में बदलाव – Period Miss Hone Ke Karan Vajan Me Badlav in Hindi

पीरियड मिस होने का कारण वजन में बदलाव - Period Miss Hone Ke Karan Vajan Me Badlav in Hindi

महिलाओं में अधिक वजन, कम वजन या फिर शारीरिक वजन में अचानक होने वाले परिवर्तन पीरियड मिस होने के कारण हो सकते हैं। क्‍योंकि अधिक मोटापा एस्‍टोजेन और प्रोजेस्‍टेरोन को प्रभावित करता है। यहां तक की यह प्रजनन क्षमता को भी प्रभावित करता है। इस तरह से मोटोपे को कम करने से महिलाएं नियमित अवधि प्राप्‍त कर सकती हैं। लेकिन यदि महिलाओं के शरीर का वजन अचानक से बहुत कम हो जाता है तो यह भी उनके मासिक धर्म चक्र को प्रभावित कर सकता है। क्‍योंकि जब शरीर में एकदम से वसा और अन्‍य पोषक तत्‍वों की कमी होती है तब शरीर का वजन कम होने लगता है। जिसके परिणाम स्‍वरूप शरीर में हार्मोन के उत्‍पादन में कमी होती है। जिसके कारण भी महिलाओं को पीरियड मिस होने की संभावना बढ़ जाती है।

(और पढ़े – मोटापा सेक्स लाइफ को कैसे प्रभावित करता है…)

पीरियड मिस होने का कारण हो सकता हैं पीओएस – Period Miss Hone Ke Karan PCOS in Hindi

पीरियड मिस होने का कारण हो सकता हैं पीओएस - Period Miss Hone Ke Karan PCOS in Hindi

पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम एक ऐसी स्थिति है जो महिलाओं के शरीर में एण्‍ड्रोजन का उत्‍पादन बढ़ा सकती है। जबकि एण्‍ड्रोजन एक पुरुष हार्मोन है जिसके असंतुलन के कारण अंडाशय पर अल्‍सर होने की संभावना बढ़ जाती है। यह महिलाओं में ओव्‍यूलेशन को अनियमित बना सकता है या इसे पूरी तरह से रोक सकता है। इसके अलावा पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम के दौरान अन्‍य हार्मोन जैसे इंसुलिन भी असंतुलित हो सकते हैं। यह इंसुलिन प्रतिरोध का कारण हो सकता है जो पीसीओएस से जुड़ा है। पीसीओएस के लक्षण होने पर महिलाओं को डॉक्‍टर से संपर्क किया जाना च‍ाहिए। आपका डॉक्‍टर मासिक धर्म चक्र को नियमित करने के लिए कुछ प्रभावी दवाएं दे सकता है।

(और पढ़े – पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम के कारण,लक्षण और उपचार के उपाय…)

पीरियड मिस होने का कारण रजोनिवृत्ति – Period miss hone ke karan Menopause in Hindi

पीरियड मिस होने का कारण रजोनिवृत्ति - Period miss hone ke karan Menopause in Hindi

पेरीमेनोपॉज प्रजनन काल या जवानी के समय से गैर-प्रजनन आयु तक के बीच का समय होता है। इस दौरान महिलाओं को हल्‍के पीरियड, भारी पीरियड, अधिक या कम बार हो सकते हैं। अधिकांश मामलों में इस दौरान होर्मोन में अधिक परिवर्तन के कारण इस प्रकार की समस्‍या हो सकती है। जो किसी भी प्रकार से महिलाओं के पीरियड को प्रभावित कर सकता है।

(और पढ़े – रजोनिवृत्ति के कारण, लक्षण और दूर करने के उपाय…)

पीरियड रुक सकते हैं स्‍तनपान कराने से – Period ruk sakte hai Breastfeeding se in Hindi

पीरियड रुक सकते हैं स्‍तनपान कराने से - Period ruk sakte hai Breastfeeding se in Hindi

महिलाओं में पीरियड मिस होने का एक प्रमुख कारण स्‍तनपान कराना भी हो सकता है। स्‍तनपान कराने के दौरान महिलाओं के पीरियड हल्‍के या पूरी तरह से खत्‍म भी हो सकते हैं। कुछ महिलाएं स्‍तन पान को जन्‍म नियंत्रण के रूप में भी मानती हैं। लेकिन ऐसा नहीं है। यहां तक स्‍तनपान कराने के दौरान यदि पीरियड नहीं आते हैं तब भी महिलाएं गर्भवती हो सकती हैं। इसलिए यदि आप इस दौरान गर्भधारण नहीं करना चाहती हैं तो जन्‍म नियंत्रण के दूसरे विकल्‍पों का उपयोग करें।

(और पढ़े – बच्चे को दूध पिलाने (स्तनपान कराने) के तरीके और टिप्स…)

पीरियड मिस होने पर डॉक्‍टर से कब संपर्क करें – When to Call Your Doctor in Hindi

पीरियड मिस होने पर डॉक्‍टर से कब संपर्क करें - When to Call Your Doctor in Hindi

सामान्‍य रूप से महिलाओं में पीरियड मिस होना गंभीर समस्‍या हो सकती है। इस स्तिथ में आपको अपने डॉक्‍टर से संपर्क करना चाहिए। यदि आपके 1 या 2 पीरियड मिस हो गए हैं या आपको इनके मिस होने का कारण भी पता है। तब भी आपको डॉक्‍टर के पास जाना चाहिए। इसके अलावा पीरियड मिस होने के साथ ही आपको निम्‍न लक्षणों का अनुभव हो तब भी आपको डॉक्‍टर से संपर्क करना चाहिए।

(और पढ़े – आयुर्वेदिक तरीकों से रुकेगा हेयर लॉस और होगा हेयर रिग्रोथ…)

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration