क्या होती है ओवुलेशन टेस्ट किट और कैसे करें इसका इस्तेमाल – What Is Ovulation Test Kit And How To Use In Hindi

क्या होती है ओवुलेशन टेस्ट किट और कैसे करें इसका इस्तेमाल - What Is Ovulation Test Kit And How To Use In Hindi
Written by Deepti

Ovulation Kit Use In Hindi यदि तमाम कोशिशों के बाद भी गर्भधारण नहीं हो रहा है, तो आपको ओवुलेशन टेस्ट किट की मदद जरूर लेनी चाहिए। आज के समय में हर कपल ओवुलेशन का सही समय जानने के लिए ओवुलेशन प्रेडिक्टर किट पर भरोसा करता है, क्योंकि ये किट महिला के शरीर में मौजूद ल्यूटीनाइज़िन्ग हार्मोन (एलएच हार्मोन) में वृद्धि का पता लगाती है। बता दें कि ये ओवुलेशन से 36 घंटे पहले होता है। विशेषज्ञ बताते हैं कि प्रेग्नेंट होने का सबसे अच्छा तरीका ओवुलेशन किट का इस्तेमाल करना है। इससे एलएच लेवल में वृद्धि के कुछ देर बाद ही अगर सेक्स किया जाए, तो पुरूष के शुक्राणु और महिला के अंडे के मिलने की संभावना 99 प्रतिशत तक बढ़ जाती है और इस समय ही महिला के गर्भधारण करने की संभावना भी अधिक होती है। ओवुलेशन प्रेडिक्टर किट के बारे में सुनकर आपको ये सब बहुत आसान लगता होगा, लेकिन इस किट का सही इस्तेमाल करने पर ही आपको सकारात्मक परिणाम मिलते हैं।

विशेषज्ञ कहते हैं कि इन ओवुलेशन टेस्ट किट का ज्यादातर इस्तेमाल वे महिलाएं करती हैं, जो शादी के बाद प्रेग्नेंट नहीं हो पा रही हैं। लेकिन अगर आमतौर पर भी आसानी से गर्भधारण नहीं हो रहा है, तो भी ये किट आपके लिए बहुत फायदेमंद है। मुख्य समस्या ये है कि कुछ महिलाएं प्रेग्नेंट होने के लिए अपने ओवुलेशन को समझने में बहुत समय लगाती हैं। यदि आप भी गर्भवती होने की कोशिश कर रही हैं तो ओवूलेशन के बारे में पता होना बहुत जरूरी है। ओवुलेशन प्रेडिक्टर टेस्ट किट कुछ घंटों या दिनों में आपके अंदर अंडा कब रिलीज होगा, इस बात की भविष्यवाणी करती है। आप ही नहीं बल्कि कई महिलाएं जानना चाहती हैं कि आखिर वे ओवुलेशन टेस्ट किट का उपयोग कैसे करें। तो उनकी इस समस्या को सुलझाने के लिए आज हम अपने इस आर्टिकल में ओवुलेशन किट का इस्तेमाल करने का सही तरीका बताएंगें साथ ही कुछ टिप्स भी देंगे, जिनकी मदद से आप सकारात्मक परिणाम पा सकते हैं। लेकिन सबसे पहले जानेंगे कि आखिर कि ओवुलेशन क्या होता है और क्या होती है ओवुलेशन टेस्ट किट।

1. ओवुलेशन क्या होता है – What is Ovulation in Hindi
2. ओवुलेशन किट क्या है? – What is Ovulation test kit in Hindi
3. ओवुलेशन टेस्ट किट कैसे यूज करें – How do Use Ovulation kits in Hindi
4. ओवुलेशन टेस्ट किट के परिणामों की जांच – Ovulation test kit results in Hindi
5. ओवुलेशन टेस्ट किट के प्रकार – Types Of Ovulation Test Kit In Hindi

6. ओवुलेशन टेस्ट किट प्राइस – Ovulation test kit price in Hindi
7. ओवुलेशन किट कितनी सही हैं? – How accurate are ovulation kits in Hindi
8. निगेटिव ओवूलेशन टेस्ट के कारण – Causes of negative ovulation test in Hindi
9. ओवुलेशन डिटेक्शन किट का सही तरीके से इस्तेमाल करने के टिप्स – Tips you can follow to use your Ovulation detection kit in Hindi

ओवुलेशन क्या होता है – What is Ovulation in Hindi

ओवुलेशन महीने का 12 से 24 घंटे तक का वो समय है जब महिलाओं के अंडे पुरूष के शुक्राणु से मिलने के लिए तैयार होते हैं। इसके अंतर्गत अंडे ओवरीज से सीजनल साइकिल के समय रिलीज होते हैं। अगर आप इस सीजनल साइकिल को समझने की क्षमता रखते हैं तब ही आप समझ पाएंगे कि ओवुलेशन कब होगा। दरअसल, हर महीने महिला के अंडकोष से 15 से 20 अंडे रिलीज होते हैं, जो फैलोपियन ट्यूब से होते हुए गर्भाशय तक पहुंचते हैं, अगर इस समय सेक्स किया जाये और पुरुष के शुक्राणु अंडे से मिले तब ही एक महिला गर्भधारण कर सकती है।

  • जिन महिलाओं को रैगुलर पीरियड आते हैं, वे आसानी से ओवुलेशन को समझ सकती हैं, क्योंकि इन महिलाओं के ओवुलेशन का समय फिक्स करता है।
  • अगर आपका पीरियड पूरे 28 दिन बाद आता है तो आपको 12वें और 16वें दिन थोड़ा गौर करने की जरूरत है। क्योंकि इसी बीच ओवुलेशन होने की संभावना बहुत ज्यादा रहती है।
  • जिन महिलाओं के पीरियड इरैगुलर होते हैं, उनमें ओवुलेशन का समय फिक्स नहीं रहता। पीरियड गड़बड़ाने से ओवुलेशन का समय भी डिस्टर्ब हो जाता है।

(और पढ़े – ओव्यूलेशन (अंडोत्सर्ग) क्या है, साइकिल, कब होता है, कितने दिन तक रहता है और लक्षण…)

ओवुलेशन किट क्या है? – What is Ovulation test kit in Hindi

ओवुलेशन किट को ओवुलेशन प्रेडिक्टर किट (OPK) के रूप में भी जाना जाता है। ओवुलेशन किट ओवुलेशन से पहले होने वाले ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन (LH) सर्ज का पता लगाता है। किट मूत्र में एलएच (ल्यूटिजिनिंग हार्मोन) में वृद्धि का पता लगाती है और आपको बताती है कि आपका ओवुलेशन कब आ सकता है। गर्भवती होने के अवसरों को बढ़ाने के लिए सेक्स करने का सबसे अच्छा समय का पता लगाना सबसे आसान तरीकों में से एक है। परीक्षण मूत्र में एलएच हार्मोन के आधार पर ओवुलेशन की भविष्यवाणी करता है। बता दें कि ओवुलेशन के दौरान इस हार्मोन का लेवल बहुत बढ़ जाता है और इस हार्मोन में वृद्धि की मात्रा को मापने के लिए ही किट का इस्तेमाल किया जाता है। परीक्षण आपको बताते हैं कि आपका शरीर अपने मासिक चक्र के चरम शिशु-निर्माण के चरण में प्रवेश कर रहा है। किट में दो लाइनें होती हैं। एक लाइन कंट्रोल लाइन है। यह आपको बताएगा कि किट काम कर रही है। दूसरी लाइन टेस्ट लाइन है। जब परीक्षण लाइन रंग या नियंत्रण रेखा की तुलना में गहरे रंग की होती है, तब LH बढ़ता है। यह वह समय है जब आपको बच्चे के लिए संभोग करना शुरू कर देना चाहिए। चिकित्सा प्रौद्योगिकी प्रगति ने ओवुलेशन परीक्षण किट को सबसे विश्वसनीय विकल्पों में से एक बना दिया है।

(और पढ़े – जानिए कैसे प्रेगनेंट होती हैं महिलाएं…)

ओवुलेशन टेस्ट किट कैसे यूज करें – How do Use Ovulation kits in Hindi

ओवुलेशन किट कैसे काम करती है? एक बच्चे के लिए योजना बनाने और प्रजनन क्षमता से निपटने वाली महिलाओं के सबसे सामान्य प्रश्नों में से एक है। एक ओव्यूलेशन किट एलएच (ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन) के स्तर में वृद्धि का पता लगाने के लिए आपके मूत्र के नमूने का परीक्षण करती है। जबकि एलएच आपके मूत्र में हमेशा मौजूद होता है, लेकिन यह ओवुलेशन से पहले 34 – 36 घंटे तक बढ़ जाता है। ये परीक्षण आपको उन दिनों का पता लगाने में मदद करते हैं जब महिलाएं जल्दी गर्भधारण कर सकती हैं। ओवुलेशन से एक या दो दिन पहले, आपका एलएच हार्मोन का लेवल पांच गुना तक बढ़ सकता है। उन विशेष दिनों में संभोग करने से महिलाओं के गर्भधारण करने की संभावना बहुत ज्यादा बढ़ जाती है।

यूरीन बेस्ड ओवुलेशन टेस्ट किट का उपयोग कैसे करें

इस परीक्षण के लिए आप अपनी पेशाब को एक कंटेनर में एकत्रित करें या पेशाब करते वक्त स्लाइड को योनि के मुंह पर रखें। कुछ सैकंड बाद टेस्ट स्टिक पर एक कलर बैंड दिखाई देगा। टेस्ट कार्ड एक सकारात्मक परिणाम भी दिखा सकता है, जो एलएच हार्मोन में वृद्धि के बढ़े हुए स्तर को दर्शाता है। सकारात्मक संकेत अगले 24 से 36 घंटों में ओवुलेशन की पुष्टि करेगा। डिजिटल ओवुलेशन किट में एक स्माइली चेहरा दिखता है, अगर आप अपने सबसे ऊपजाऊ दिनों में हैं तो। नीचे हम कुछ टिप्स बता रहे हैं जिसकी मदद से आप यूरीन बेस्ड ओवुलेशन किट का उपयोग सही से कर पाएंगे।

  • हर दिन लगभग एक ही समय में अपने मूत्र के नमूने को इकट्ठा करने की कोशिश करें।
  • सुबह उठते ही मूत्र का परीक्षण गलती से भी ना करें। इससे रिजल्ट गलत और भ्रमित करने वाले आ सकते हैं।
  • ओवुलेशन ट्रैकर किट का उपयोग करने से पहले लगभग 2 घंटे तक आपके द्वारा पीने वाले तरल पदार्थों की मात्रा को कम करने की कोशिश करें। दरअसल, अत्यधिक तरल पदार्थ आपके मूत्र को पतला कर देंगे, जिससे आपके एलएच हार्मोन के स्तर का पता लगाना मुश्किल हो जाएगा।
  • दस मिनट के भीतर परीक्षण कार्ड पर परिणाम पढ़ें। एक सकारात्मक परिणाम गायब नहीं होगा। अगर रिजल्ट पॉजिटिव है तो वह गायब नहीं होगा, लेकिन कुछ समय बाद कुछ निगेटिव रिजल्ट्स के साथ दूसरे रंग का बैंड प्रदर्शित करने लगेगा।
  • रिजल्ट पढ़ने के बाद एक बार टेस्ट स्टिक फेंक दें। यह पुन: उपयोग के लिए नहीं है। इसका फिर से उपयोग करना नुकसानदायक हो सकता है।

(और पढ़े – 30 के बाद गर्भावस्था के लिए तैयारी करने के लिए टिप्स…)

सलाइवा ओवुलेशन प्रेडिक्शन टेस्ट किट इस्तेमाल करने का तरीका

सलाइवा ओवुलेशन प्रेडिक्शन टेस्ट किट का उपयोग करना आसान है। इस टेस्ट किट में एक स्लाइड आती है, जिस पर आप अपनी लार या थूक डालकर टेस्ट कर सकते हैं। स्लाइड पर लार की एक बूंद डालें और सूखने दें। यदि ओवुलेशन शुरू होने वाला है तो एक अलग फर्न जैसा पैटर्न दिखाई देता है, जो नमक और एस्ट्रोजन में वृद्धि का परिणाम है। बता दें कि ओवुलेशन से तीन से पांच दिन पहले ये पैटर्न दिखाई देने लगता है। सलाइवा ओवुलेशन प्रेडिक्शन किट का इस्तेमाल करने का सही तरीका-

  • ओवुलेशन का सही समय पता लगाने के लिए सुबह उठने पर टेस्ट जरूर करें परीक्षण से पहले खाना, पीना, धूम्रपान या ब्रश न करें
  • उपयोग करने से पहले स्लाइड या लेंस को साफ करें
  • माइक्रोस्कोप के नीचे स्लाइड देखने पर अपने चश्मे को हटा दें
  • आवरण से बाहर खींचकर परीक्षण स्लाइड निकालें स्लाइड की सतह पर अपनी जीभ के नीचे से लार की एक बूंद रखें। बुलबुले बनाने से बचें।
  • इसे 5 मिनट तक सूखने दें
  • लेंस में देखो। ऐपिस को समायोजित करें और परीक्षा परिणाम देखने के लिए एलईडी लाइट का बटन दबाएं
  • एक लेंस क्लीनर के साथ हर उपयोग के बाद लेंस को साफ करें।

(और पढ़े – एस्ट्रोजन हार्मोन की महिलाओं के शरीर में भूमिका…)

ओवुलेशन टेस्ट किट के परिणामों की जांच – Ovulation test kit results in Hindi

ओवुलेशन टेस्ट किट पॉजिटिव रिजल्ट मिलने पर- अगर आपको पॉजिटिव रिजल्ट मिलता है इसका मतलब है कि एलएच में वृद्धि हो रही है। दरअसल, कलर बैंड पर आपको 2 लाईन दिखाई देंगी। एक टेस्ट लाइन दूसरी कंट्रोल लाइन। अगर टेस्ट लाइन कंट्रोल लाइन की तुलना में ज्यादा गहरी है तो इसका अर्थ है कि आपके एलएच में वृद्धि हुई है और आप अगले 12 से 36 घंटों में ओवुलेशन कर सकते हैं।

ओवुलेशन टेस्ट किट निगेटिव रिजल्ट मिलने पर- अगर रिजल्ट निगेटिव आए तो एलएच स्तर ज्यादा नहीं बढ़ा है। यदि टेस्ट लाइन कंट्रोल लाइन से हल्की है, तो इसका मतलब है कि आपके एलएच हार्मोन में कोई वृद्धि नहीं हुई है। यदि सिर्फ एक टेस्ट लाइन दिखाई दे या फिर एक कंट्रोल लाइन दिख रही है इसका अर्थ भी यही है कि एलएच में कोई ज्यादा वृद्धि नहीं हुई है। ऐसे में आपको रोजाना टेस्ट जारी करना चाहिए।

ओवुलेशन टेस्ट किट रिजल्ट में कोई रेखा ना दिखना- यदि आपको टेस्ट के दौरान कोई कंट्रोल लाइन नहीं दिखती, तो इसका मतलब है कि टेस्ट पूरी तरह से गलत है। अवैध परिणाम मिलने पर पेशाब को 5 सैकंड के लिए डुबोकर रखें और 10 मिनट तक इंतजार करें। इसके बाद परिणाम को ठीक से पढ़ें। यदि फिर भी कोई कंट्रोल लाइन न दिखे तो टेस्ट ही गलत है। टेस्ट असमान्य तरीके से किया गया है, इसलिए स्ट्रिप को फेंक दें, भूलकर भी दोबारा से इसका यूज न करें।

(और पढ़े – पीरियड मिस होने के बाद प्रेगनेंसी टेस्ट नेगेटिव आने के कारण…)

ओवुलेशन टेस्ट किट के प्रकार – Types Of Ovulation Test Kit In Hindi

  1. फर्टिलिटी मॉनिटर – Fertility monitor in Hindi
  2. सलाइवा ओवूलेशन प्रेडिक्शन टेस्ट किट – Saliva Ovulation prediction test kit in Hindi
  3. यूरिन बेस्ड ओवुलेशन प्रिडक्टर किट – Urine based Ovulation predictor kit in Hindi

फर्टिलिटी मॉनिटर – Fertility monitor in Hindi

इस विधी से आप ओवुलेशन का सही समय पता कर सकते हैं। फर्टिलिटी मॉनिटर इलेक्ट्रॉनिक उपकरण हैं जो मूत्र में एलएच और एस्ट्रोजन के स्तर को ट्रैक करते हैं। उनका मुख्य उद्देश्य एक महिला के ओवेरियन साइकिल में गर्भधारण करने वाले सही समय के बारे में बताना है। मॉनिटर आपके गर्भवती होने की संभावनाओं को बेहतर बनाने के लिए महत्वपूर्ण उपकरण के रूप में काम करता है। डिवाइस आपके ओवुलेशन चक्र को रिकॉर्ड करता है और आपके सबसे उपजाऊ दिनों की पहचान करने में मदद करता है। इससे आपके गर्भधारण करने की संभावना बढ़ जाती है। आमतौर पर यह किट प्रजनन हार्मोन, एलएच और एस्ट्रेजन के लेवल को ट्रेक करने के लिए होती है।

(और पढ़े – जानें गर्भधारण करने का सही समय क्या है…)

सलाइवा ओवूलेशन प्रेडिक्शन टेस्ट किट – Saliva Ovulation prediction test kit in Hindi

वैसे ओवुलेशन में पेशाब का नमूना लेकर ओवुलेशन का सही समय पता लगाया जाता है, लेकिन इस किट की मदद से आप पेशाब की बजाए लार यानि सलाइवा का परीक्षण करके भी ओवुलेशन की सही समय पता लगा सकते हैं। किट आपके शरीर में एस्ट्रोजन लेवल को ट्रैक करती है। विशेषज्ञों के अनुसार एस्ट्रोजन का लेवल आपके ओवुलेशन से पहले और एलएच में वृद्धि से पहले बढ़ जाता है।

(और पढ़े – यदि है प्रेगनेंसी का शक तो करें ये काम…)

यूरिन बेस्ड ओवुलेशन प्रिडक्टर किट – Urine based Ovulation predictor kit in Hindi

यह आम किट है, जो मुख्यत: महिलाओं द्वारा यूज की जाती है। यह किट पेशाब में एलएच हार्मोन के स्तर में वृद्धि का पता लगाती है। दरअसल, शरीर में एस्ट्रोजन हार्मोन मौजूद रहता है, ओवुलेशन से एक या दो दिन पहले एलएच की मात्रा में वृद्धि होने लगती है, जब गर्भधारण करने की संभावना बहुत अधिक होती है। यह किट इसी वृद्धि को डिटेक्ट या ट्रैक करने का काम करती है।

(और पढ़े – प्रेगनेंसी टेस्ट किट का उपयोग…)

ओवुलेशन टेस्ट किट प्राइस – Ovulation test kit price in Hindi

ओवुलेशन टेस्ट किट के कई ब्रांड्स भारत में उपलब्ध हैं। अगर आप किसी अच्छी ब्रांड की आवेलुशन किट लेते हैं तो इसकी कीमत 500 रूपए से शुरू होती है, जो ज्यादा से ज्यादा 4 से 5 हजार रूपए तक की भी हो सकती है। ओवुलेशन प्रिडेक्टर किट को आप अपने पास के मेडिकल स्टोर या आजकल तो ऑनलाइन भी मंगा सकते हैं। हालांकि घर बैठे ओवुलेशन को जांचने के लिए महिलाएं फर्टिलिटी मॉनिटर का भी उपयोग करती हैं, जिसकी कीमत 2 हजार से शुरू होकर 25 हजार रूपए तक हो सकती है।

ओवुलेशन किट कितनी सही हैं? – How accurate are ovulation kits in Hindi

कई महिलाओं में ओवुलेशन टेस्ट किट को लेकर शंका बनी रहती है कि इस किट से परिणाम सही आएगा या नहीं। तो आपको बता दें कि कैलेंडर और टेम्पेरेचर मैथड की तुलना में ओवुलेशन किट ज्यादा सही और सटीक परिणाम देती है। 99 प्रतिशत परिणाम सही आते हैं, बशर्ते इसे सही तरीके से यूज किया जाए। लेकिन ये टेस्ट इस बात की पुष्टि नहीं कर सकता कि आपका ओवुलेशन अगले दिन या दो दिन बाद होगा। कुछ महिलाओं को अंडे को जारी किए बिना ही एलएच वृद्धि का अनुभव होता है। जिसे ल्यूटिनाइज्ड अनरप्चर्डपॉलिकल सिंड्रोम के रूप में जाना जाता है। आपके चक्र के जरिए नियमित रूप से सेक्स करना आपके गर्भाधान की संभावनाओं को बढ़ाने का सबसे अच्छा तरीका है।

(और पढ़े – महिला को गर्भवती होने में कितना समय लगता है…)

निगेटिव ओवूलेशन टेस्ट के कारण – Causes of negative ovulation test in Hindi

जब आपको सकारात्मक परिणाम न मिले, तो ओवुलेशन टेस्ट थोड़ा निराशाजनक हो सकता है। इसके कई कारण हैं। कुछ मामलों में तो आप खुद ही समस्या को हल कर सकते हैं, लेकिन कुछ समस्याओं के लिए डॉक्टर से संपर्क करने की आवश्यकता पड़ती है। नीचे हम आपको नकारात्मक ओवुलेशन टेस्ट के कुछ कारण बता रहे हैं, जिन्हें जानना आपके लिए बहुत जरूरी है।

अपने चक्र में बहुत जल्दी या बहुत देरी से परीक्षण करना

ओवुलेशन से 24 घंटे पहले एलएच हार्मोन रिलीज होता है। बहुत सारी महिलाएं जो एलएच वृद्धि के लिए परीक्षण करती हैं, केवल कुछ दिनों के लिए उस दिन से पहले परीक्षण करती हैं जब उन्हें ओवुलेशन होने की उम्मीद है। कुछ महिलाओं को यह परीक्षण अप्रभावी लगता है और नकारात्मक ओवुलेशन परीक्षण मिलता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि एलएच हार्मोन की पांच गुना राशि तक की वृद्धि भविष्यवाणी करने के लिए बहुत मुश्किल है। कभी-कभी यह नियोजित की तुलना में तेजी से आता है। यह भी संभव है कि एलएच वृद्धि 10 घंटे के भीतर खत्म हो जाए। यदि आप दिन में केवल एक बार परीक्षण करते हैं, तो आप वास्तव में एलएच हार्मोन की वृद्धि को पूरी तरह से मिस कर सकते हैं। इसलिए कुछ डॉक्टर इस प्रकार दिन में दो बार परीक्षण करने का सुझाव देते हैं। ओवुलेशन से कुछ दिन पहले और कम से कम दस घंटे के अलावा दिन में दो बार टेस्ट करने से आप एलएच हार्मोन को पिक सकते हैं।

आपको अपना पैटर्न पता नहीं है

एलएच हार्मोन में वृद्धि अलग-अलग महिलाओं के लिए अलग-अलग समय पर होती है। इसलिए, यह महत्वपूर्ण है कि आपको अपने मासिक धर्म चक्र का ट्रैक रखना चाहिए। कम से कम 6 महीने तक अपने चक्रों पर नज़र रखने से, आप एक पैटर्न की पहचान करने में सक्षम होंगे। इससे आपको यह निर्धारित करने में मदद मिलेगी कि ओवुलेशन कब होना चाहिए।

(और पढ़े – पीरियड्स की जानकारी और अनियमित पीरियड्स के लिए योग और घरेलू उपचार…)

परीक्षण के लिए अनुचित समय

नकारात्मक ओवुलेशन परीक्षण का तीसरा कारण अनुचित समय हो सकता है। एलएच हार्मोन अक्सर दोपहर के शुरुआती घंटों के दौरान बढ़ता है और आपको परीक्षण दोपहर के करीब करना चाहिए। ओवुलेशन टेस्ट करने का सबसे अच्छा समय सुबह 11 बजे से 3 बजे के बीच या शाम 5 से 10 बजे के बीच है।

आपको ओवुलेशन की समस्या हो सकती है

यह संभव है कि आप एक ओवुलेशन विकार से पीड़ित हैं। ओवुलेशन समस्याओं के संभावित कारणों में शामिल हैं:चिंताहाइपोथैलेमस गोनैडोट्रोपिन-रिलीजिंग हार्मोन को स्रावित नहीं कर रहा हैअंडाशय बहुत कम एस्ट्रोजन का उत्पादन करते हैंपिट्यूटरी ग्रंथि बहुत कम एलएच का उत्पादन करती हैपिट्यूटरी ग्रंथि बहुत अधिक प्रोलैक्टिन का उत्पादन करती हैरक्त शर्करा / मधुमेहपॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम (पीसीओएस) जिसके कारण अंडाशय काम नहीं करता हैस्वास्थ्य संबंधी मुद्दे, जिनमें अल्सर, ट्यूमर या अन्य द्रव्यमान शामिल हैं मोटापा या अत्यधिक वजन कम होनाड्रग्स (एस्ट्रोजेन और प्रोजेस्टिन) यदि आपको लगता है कि आपके ओवुलेशन पैटर्न के साथ समस्याएं हैं और ओपीके आपकी मदद नहीं कर रहा है तो आपके लिए अपने चिकित्सक से परामर्श करना अच्छा है।

(और पढ़े – गर्भवती न होने के पीछे मिथक और सच्‍चाई…)

ओवुलेशन डिटेक्शन किट का सही तरीके से इस्तेमाल करने के टिप्स – Tips you can follow to use your Ovulation detection kit in Hindi

  • हर दिन लगभग एक ही समय में अपने मूत्र के नमूने को इकट्ठा करने की कोशिश करें।
  • सुबह उठते ही मूत्र का परीक्षण गलती से भी ना करें। इससे ओवुलेशन किट के रिजल्ट गलत और भ्रमित करने वाले आ सकते हैं।
  • ओवुलेशन ट्रैकर किट का उपयोग करने से पहले लगभग 2 घंटे तक आपके द्वारा पीने वाले तरल पदार्थों की मात्रा को कम करने की कोशिश करें। दरअसल,अत्यधिक तरल पदार्थ आपके मूत्र को पतला कर देंगे, जिससे आपके एलएच सर्ज का पता लगाना मुश्किल हो जाएगा।
  • दस मिनट के भीतर परीक्षण कार्ड पर परिणाम पढ़ें। एक सकारात्मक परिणाम गायब नहीं होगा। अगर रिजल्ट पॉजिटिव है तो वह गायब नहीं होगा, लेकिन कुछ समय बाद कुछ निगेटिव रिजल्ट्स के साथ दूसरे रंग का बैंड प्रदर्शित करने लगेगा।
  • रिजल्ट पढ़ने के बाद एक बार उपयोग की गई टेस्ट स्टिक फेंक दें। यह पुन: उपयोग के लिए नहीं है। इसका फिर से उपयोग करना नुकसानदायक हो सकता है।
  • कुछ महिलाओं में पॉलीसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम (PCOS) जैसी स्थितियों में बहुत अधिक मात्रा में LH होता है, इसलिए उनके लिए ओवुलेशन किट काम नहीं करती है।

(और पढ़े – पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम के कारण,लक्षण और उपचार के उपाय…)

इसी तरह की अन्य जानकरी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration