अनियमित माहवारी में कैसे करें गर्भधारण – How To Get Pregnant With Irregular Periods In Hindi

अनियमित माहवारी में कैसे करें गर्भधारण - How To Get Pregnant With Irregular Periods In Hindi
Written by Akansha

अनियमित माहवारी होने पर आपको गर्भधारण करने में समस्या उत्पन्न हो सकती है। अनियमित पीरियड्स होना असामान्य नहीं है, क्योकि वास्तव में 14 से 25% महिलाएं अपने फर्टिलिटी इयर्स के दौरान कभी ना कभी अनियमित माहवारी का अनुभव करती हैं और इसके अलग-अलग कारण होते हैं जैसे कि (पीसीओएस, डिम्बग्रंथि अपर्याप्तता (Ovarian Insufficiency), थायरॉयड डिसऑर्डर, हाइपरप्रोलैक्टिनीमिया (Hyperprolactinemia), गर्भाशय फाइब्रॉएड (Uterine Fibroids), एंडोमेट्रियोसिस (Endometriosis) आदि। लेकिन अनियमित साइकिल होने का मतलब यह बिलकुल नहीं है कि आप स्वाभाविक रूप से गर्भवती होने में सक्षम नहीं होंगी। गर्भवती होना ज्यादातर महिलाओं के लिए सबसे ख़ुशी की बात है। हालांकि हमारे जीवन में प्रगति के साथ तनाव और जीवनशैली में कई तरह के बदलाव भी आते हैं, जो गर्भवती होने की संभावना को कठिन कर सकते है।

परन्तु ऐसे कई तरीके है जिन्हें अपनाकर आप अनियमित माहवारी होने पर भी गर्भवती हो सकती है, हालांकि गर्भधारण करने में आपको थोड़ी मुश्किल हो सकती है पर यह असंभव नहीं है। इसलिए आज इस लेख में हम जानेंगे के अनियमित पीरियड्स होने पर भी आप गर्भवती कैसे हो सकती है और इसके क्या उपाय है।

  1. अनियमित महावारी क्या होती है – What Are Irregular Periods In Hindi
  2. अनियमित माहवारी के कारण – Irregular Periods Causes In Hindi
  3. कैसे पता करें की आपके पीरियड्स अनियमित है – How Do You Know If Your Periods Are Irregular In Hindi
  4. अनियमित माहवारी गर्भधारण को कैसे प्रभावित करती है – How Irregular Periods Affect Get Pregnant In Hindi
  5. अनियमित पीरियड्स के साथ गर्भवती कैसे हों – How To Get Pregnant With Irregular Periods In Hindi
  6. अनियमित माहवारी में गर्भधारण के लिए अपने ओव्यूलेशन पर नजर रखें – Tracking Your Ovulation For Pregnant With Irregular Periods In Hindi In Hindi
  7. अनियमित पीरियड्स के साथ गर्भधारण के लिए बार-बार सेक्स करना – Frequent Sex For Pregnant With Irregular Periods In Hindi In Hindi
  8. अनियमित पीरियड्स में प्रेग्नेंट होने के लिए इलाज करवाएं – Medication For Pregnant With Irregular Periods In Hindi In Hindi
  9. अनियमित पीरियड्स के साथ गर्भधारण के लिए सही डाइट लें – Take Healthy Diet For Pregnant With Irregular Periods In Hindi In Hindi
  10. अनियमित पीरियड्स में प्रेग्नेंट होने के लिए नियमित रूप से एक्सरसाइज करें -Exercise Daily For Pregnant With Irregular Periods In Hindi In Hindi
  11. अनियमित माहवारी में ओव्यूलेशन ट्रैक करने का तरीका – Irregular Periods Ways To Track Ovulation In Hindi
  12. ओव्यूलेशन प्रेडिक्शन किट – Ovulation Prediction Kits In Hindi
  13. फर्टिलिटी मॉनिटर – Fertility Monitors In Hindi

अनियमित महावारी क्या होती है – What Are Irregular Periods In Hindi

अनियमित महावारी क्या होती है - What Are Irregular Periods In Hindi

अनियमित पीरियड्स या अनियमित माहवारी को चिकित्सकीय भाषा में ऑलिगोमेनोरिया (Oligomenorrhoea) कहा जाता है। यह स्थिति तब होती है जब अवधि चक्र या तो 21 दिनों से कम या 36 दिनों से अधिक होता है। परन्तु कुछ महिलाओं में पूरा चक्र ही अनियमित होता है। अनियमित पीरियड्स ही इनफर्टिलिटी के 30-40% मामलों के लिए जिम्मेदार होते है। हालांकि यह एक चिंताजनक बात है लेकिन अनियमित माहवारी का इलाज संभव है।

(और पढ़ें – अनियमित मासिक धर्म के कारण, लक्षण और घरेलू उपचार)

अनियमित माहवारी के कारण – Irregular Periods Causes In Hindi

अनियमित पीरियड्स या अनियमित माहवारी के कई कारण हैं और अधिकांश महिलाएं अपने जीवन में कभी ना कभी इस समस्या का अनुभव जरुर करती है। अनियमित पीरियड्स के कुछ कारण हो सकते है-

कैसे पता करें की आपके पीरियड्स अनियमित है – How Do You Know If Your Periods Are Irregular In Hindi

कई महिलाओं को यह समझ नहीं आता है की वह कैसे पता करें की उनके पीरियड्स नियमित है या अनियमित, इसलिए आपको इसके लिए कुछ कारकों पर ध्यान देने और उसकी जांच करने की जरुरत होती है और इसके लिए आप अपने डॉक्टर से भी सलाह ले सकती है। कुछ कारक है-

  • आप यह देखें की आपका मासिक चक्र कितने दिनों का है। यदि यह 21 दिनों से कम या 36 दिनों से अधिक है, तो यह अनियमित माहवारी का पता करने का सबसे अच्छा संकेत है।
  • आप यह देखिएं की आपका मासिक धर्म  कब तक चल रहा है। और यह भी ध्यान दें कि रक्त प्रवाह भारी है या हल्का।
  • यह जाँच करें कि क्या आपको ब्लीडिंग होने पर खून के थक्के बन रहे हैं या नहीं।
  • अपने पीरियड्स के दौरान अपनी भावनाओं पर नज़र रखें।
  • अपनी माहवारी के दौरान आपके द्वारा अनुभव किए गए ऐंठन के स्तर पर ध्यान दें।

(और पढ़ें – पीरियड्स की जानकारी और अनियमित पीरियड्स के लिए योग और घरेलू उपचार )

अनियमित माहवारी गर्भधारण को कैसे प्रभावित करती है – How Irregular Periods Affect Get Pregnant In Hindi

अनियमित पीरियड्स एनोव्यूलेशन (Anovulation) का संकेत होता है, जिसका अर्थ है कि आपके अंडाशय (Ovaries) नियमित रूप से अंडे नहीं छोड़ रहे हैं। अनियमित माहवारी के अन्य कारण भी होते है जो आपके गर्भवती होने की संभावनाओं को प्रभावित करते हैं, जैसे  थायरॉयड असंतुलन (Thyroid Imbalances), हार्मोनल असंतुलन (Hormonal Imbalances), पीसीओएस, हाइपरप्रोलैक्टिनीमिया (Hyperprolactinemia), समय से पहले डिम्बग्रंथि विफलता (Premature Ovarian Failure) और पॉलीप्स (Polyps)।

यह बहुत ही महत्वपूर्ण है कि आपकी अनियमित माहवारी की समस्या के कारणों का सही ढंग से उपचार किया जाए। तभी आपके गर्भधारण की संभावना को बढ़ाया जा सकता है। शादी के बाद होने वाले अनियमित पीरियड्स और गर्भधारण की संभावनाएं आपस में जुड़ी हुई हैं इसलिए इन्हें जल्द से जल्द ठीक किया जाना चाहिए।

अनियमित पीरियड्स के साथ गर्भवती कैसे हों – How To Get Pregnant With Irregular Periods In Hindi

यदि आपके पीरियड्स नियमित नहीं हैं तब भी आप गर्भवती हो सकती है। यहां कुछ उपाय  दिए गए हैं जो गर्भधारण करने में आपकी मदद कर सकते हैं, जैसे-

(और पढ़ें – लड़की के पहले मासिक धर्म या पीरियड से जुड़ी सम्पूर्ण जानकारी)

अनियमित माहवारी में गर्भधारण के लिए अपने ओव्यूलेशन पर नजर रखें – Tracking Your Ovulation For Pregnant With Irregular Periods In Hindi In Hindi

यदि आपको पक्के तौर पर पता चल गया है की आपको अनियमित पीरियड्स की समस्या है, तो गर्भधारण की योजना बनाने के लिए आपको अपने ओव्यूलेशन को ट्रैक करना बहुत ही महत्वपूर्ण है। ओव्यूलेशन को ट्रैक करने के लिए बाजार में कई तरह के संसाधन उपलब्ध हैं जो यह पता लगाने में सक्षम हैं कि क्या आप ओवुलेट कर रहीं हैं।

(और पढ़ें – ओव्यूलेशन (अंडोत्सर्ग) क्या है, साइकिल, कब होता है, कितने दिन तक रहता है और लक्षण)

अनियमित पीरियड्स के साथ गर्भधारण के लिए बार-बार सेक्स करना – Frequent Sex For Pregnant With Irregular Periods In Hindi In Hindi

नियमित रूप से सेक्स करने से ना केवल आपके गर्भवती होने की संभावना बढ़ती है, बल्कि आपके तनाव का स्तर भी कम होता है जिससे अनियमित पीरियड्स के साथ आपके गर्भवती होने की संभावना और अधिक बढ़ सकती है। नियमित रूप से सेक्स करने का मतलब है कि ओव्यूलेशन विंडो (Ovulation Window) के मिस होने की संभावना कम रहेगी।

(और पढ़ें – पीरियड आने से पहले प्रेगनेंसी के लक्षण)

अनियमित पीरियड्स में प्रेग्नेंट होने के लिए इलाज करवाएं – Medication For Pregnant With Irregular Periods In Hindi In Hindi

यदि आपका डॉक्टर यह निर्धारित करता है कि आप नियमित रूप से या बिल्कुल भी ओवुलेशन नहीं कर रहीं हैं, तो वह प्रजनन क्षमता बढ़ाने के लिए दवाईयां बता सकता है। यह दवाईयां ओव्यूलेशन को उत्तेजित करती है और आपको गर्भवती होने में मदद करती है। यदि आपको पीसीओएस (Pcos) की समस्या है, तो आपका डॉक्टर आपकी गर्भावस्था की संभावना को बढ़ाने के लिए और स्थिति को सही करने के लिए अन्य दवाईयां भी बता सकता है। यह ध्यान रखना आवश्यक है कि आपको अपनी दवाओं की निर्धारित खुराक समय से लेनी है और किसी प्रकार का साइड इफेक्ट या असुविधा होने पर तुरन्त अपने डॉक्टर से बात करके सलाह लें।

(और पढ़ें – पीरियड्स में कैसे रखें हाइजीन का ध्यान)

अनियमित पीरियड्स के साथ गर्भधारण के लिए सही डाइट लें – Take Healthy Diet For Pregnant With Irregular Periods In Hindi In Hindi

अगर आप अनियमित माहवारी में भी गर्भवती होना चाहती है तो आपको एक सही और संतुलित आहार लेना बहुत ही जरुरी है। सही खानपान और उचित जीवनशैली अपनाकर आप अनियमित पीरियड्स में भी अपने गर्भवती होने की संभावना हो बढ़ा सकती है।

अनियमित पीरियड्स में प्रेग्नेंट होने के लिए नियमित रूप से एक्सरसाइज करें -Exercise Daily For Pregnant With Irregular Periods In Hindi In Hindi

यदि आपको अनियमित माहवारी की समस्या है तो आपको नियमित रूप से व्यायाम करना चाहिए, इससे आपका वजन भी नियंत्रित रहेगा और आपको अपने होर्मोन बढ़ाने में भी मदद मिलेगी जिससे आप आसानी से ओव्यूलेशन कर सकती है और अनियमित पीरियड्स के साथ गर्भवती होने की संभावना को बढ़ा सकती है।

(और पढ़े – ओलिगोमेनोरिया (अनियमित पीरियड्स) क्या है, कारण, लक्षण, इलाज और रोकथाम)

अनियमित माहवारी में ओव्यूलेशन ट्रैक करने का तरीका – Irregular Periods Ways To Track Ovulation In Hindi

जिन महिलाओं को नियमित रूप से पीरियड्स आते है उन्हें भी पीरियड्स टाइम का ध्यान रखना बहुत जरुरी है। ओव्यूलेशन साइकिल के टाइम का ध्यान रखने से आपको अपनी यौन गतिविधियों को अनुकूलित करने में मदद मिल सकती है जिससे गर्भवती होने की संभावना को बढ़ाया जा सकता है। इसलिए हम आपको ओव्यूलेशन ट्रैक करने के कुछ तरीके बतायेंगे जिसमें शामिल है-

ओव्यूलेशन प्रेडिक्शन किट – Ovulation Prediction Kits In Hindi

ओव्यूलेशन प्रेडिक्शन किट आपको अपने मूत्र में मौजूद ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन (Luteinizing Hormone) या एलएच स्तर को नापने में मदद करती है। ओव्यूलेट करने के 24 से 48 घंटे पहले यह हार्मोन फैलता है। अगर आप ओव्यूलेशन ट्रैक करना चाहती है तो सबसे अच्छा यह है कि आप एलएच के स्तर को रिकॉर्ड करें, जिससे आपके डॉक्टर को भी ओव्यूलेशन का पता लगाने में मदद मिलेगी।

(और पढ़े – क्या होती है ओवुलेशन टेस्ट किट और कैसे करें इसका इस्तेमाल)

फर्टिलिटी मॉनिटर – Fertility Monitors In Hindi

फर्टिलिटी मॉनिटर ओवुलेशन का प्रेडिक्शन करने के लिए आपके लार (Saliva) और योनि बलगम (Vaginal Mucus) के नमूने का उपयोग करते हैं। यह मॉनिटर प्रेडिक्ट करने में तब मदद करते है जब आप सात दिन पहले तक ओव्यूलेशन करती रहती है। ये मॉनिटर आपके शरीर के रसायन (Body Chemistry) और नब्ज को इलेक्ट्रॉनिक रूप से ट्रैक करके आपके लिए एक डिजिटल ओवुलेशन कैलेंडर बनाता है।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration