पेय

गर्मियों में गन्ने का रस पीने के फायदे आपको हैरान कर देंगें – Health Benefits of Sugarcane Juice in Hindi

गर्मियों में गन्ने का रस पीने के फायदे आपको हैरान कर देंगें - Health Benefits of Sugarcane Juice in Hindi

गर्मी के दिनों में गन्ने के रस से बेहतर कुछ भी नहीं है। इसमें फैट नहीं होता है और यह 100 प्रतिशत नेचुरल ड्रिंक है। किसी भी अन्य फलों के जूस की तरह, गन्ने का रस भी हमारे शरीर के लिए फायदेमंद होता है। खासकर गर्मियों में, जब शरीर को अधिक मात्रा में तरल पदार्थ की जरुरत होती है, और हम जूस पीते हैं, तो इस समय गन्ने का जूस पीना सबसे अच्छा विकल्प है।

गन्ने के रस के फायदे काफी हैं और इसे बेहद पौष्टिक भी माना जाता है और इसे डॉक्टरों, पोषण विशेषज्ञों के अनुसार सेहत का असली सोना माना जाता है। आइये जानतें हैं गन्ने के रस के फायदे क्या हैं और गन्ने का जूस पीने से क्या होता है।

गन्ने के रस का पोषण मूल्य – Nutritional value of Sugarcane in Hindi

गन्ने के रस का पोषण मूल्य - Nutritional value of Sugarcane in Hindi

  • लगभग 240 मिलीलीटर – गन्ने के रस में 250 कैलोरी होती है, जिसमें 30 ग्राम प्राकृतिक शुगर होती है।
  • इसमें वसा, कोलेस्ट्रॉल, फाइबर और प्रोटीन नहीं होता है लेकिन इसमें सोडियम, पोटेशियम, कैल्शियम, मैग्नीशियम और आयरन होता है।
  • यदि गन्ने के रस के के फायदों की बात की जाए तो हैं, तो आप पाएंगे कि इसे कई समस्याओं के लिए एक प्राकृतिक उपचार के रूप में इस्तेमाल किया जाता रहा है।
  • यह एंटीऑक्सिडेंट में समृद्ध है इसलिए यह संक्रमण से लड़ने और प्रतिरक्षा को बढ़ाने में मदद करता है।
  • गन्ने का जूस आयरन, मैग्नीशियम, कैल्शियम और अन्य इलेक्ट्रोलाइट्स से भरपूर है, इसलिए यह निर्जलीकरण को दूर करने के लिए बहुत अच्छा है।
  • यह सामान्य सर्दी और अन्य संक्रमणों को ठीक करने में भी मदद करता है और बुखार से भी लड़ता है।

इनके अलावा, गन्ने के रस के फायदे और कुछ बेहतरीन स्वास्थ्य लाभ हैं जिनके बारे में आपको अवश्य जानना चाहिए:

यह आपको इंस्टेंट एनर्जी देता है

यह आपको इंस्टेंट एनर्जी देता है

  • गर्मियों में ज्यादातर सड़क किनारे ठेलों पर गन्ने का रस बिकता है। यह थकान को दूर करने और अपने आप को ऊर्जावान बनाने का सबसे अच्छा तरीका है।
  • गन्ने के रस में सिंपल शुगर होती है जो आसानी से शरीर द्वारा अवशोषित कर ली जाती है।

(और पढ़े – गर्मी से बचने के लिए पिएं ये देसी ड्रिंक्स…)

गन्ने का रस कैंसर को रोकने में बहुत प्रभावी है

गन्ने का रस कैंसर को रोकने में बहुत प्रभावी है

यह कैंसर की कोशिकाओं को बढ़ने से रोकता है और कैंसर के खतरे से बचाता है। कैल्शियम, मैग्नीशियम, पोटेशियम, आयरन और मैंगनीज की उच्च सांद्रता प्रकृति गन्ने के रस को क्षारीय बनाती है। यह – फ्लेवोनोइड्स की उपस्थिति के साथ – शरीर को कैंसर कोशिकाओं, विशेष रूप से प्रोस्टेट कैंसर और स्तन कैंसर को रोकने में मदद करता है।

यह किडनी के स्वास्थ्य को बनाए रखता है

यह किडनी के स्वास्थ्य को बनाए रखता है

  • डॉक्टर किडनी स्टोन के मरीजों को गन्ने का रस पीने की सलाह देते हैं।
  • गन्ने के रस में ऐसी अम्लीय क्षमता होती है, जिसके कारण गुर्दे की पथरी धीरे-धीरे गल जाती है और गन्ने का जूस इसे छोटा बना देती है और मूत्र के माध्यम से बाहर भी निकाल देती है।
  • इसके आलावा प्राकृतिक कोलेस्ट्रॉल, बिना संतृप्त वसा और कम सोडियम वाला, गन्ने का रस किडनी को स्वस्थ्य बनाये रखने में मदद करता है।

(और पढ़े – इन घरेलू उपायों से अपने-आप निकल जाएगी किडनी की पथरी…)

गन्ने का जूस लिवर की कार्यक्षमता को बढ़ाता है

गन्ने का जूस लिवर की कार्यक्षमता को बढ़ाता है

  • आयुर्वेद के अनुसार, गन्ने का रस आपके लीवर को मजबूत बनाने में मदद करता है जिसके कारण लिवर से जुड़ी बीमारियों जैसे पीलिया के लिए गन्ने का रस सबसे अच्छा प्राकृतिक उपचार है।
  • प्रकृति में क्षारीय, गन्ने का रस शरीर में इलेक्ट्रोलाइट संतुलन बनाए रखने में मदद करता है। इसे पीलिया के लिए एक घरेलू उपाय के रूप में इस्तेमाल किया जाता है।

गन्ने का जूस पाचन तंत्र को आसान बनाता है

गन्ने का जूस पाचन तंत्र को आसान बनाता है

  • आयुर्वेद यह भी बताता है कि ‘गन्ने का रस रेचक गुणों को प्रदर्शित करता है जिससे मल त्याग में सुधार होता है और कब्ज से राहत मिलती है’। गन्ने के रस में क्षारीय गुण होते हैं, जिसका अर्थ है कि यह एसिडिटी और पेट की जलन के इलाज के लिए अच्छा है।
  • पाचन से पीड़ित लोग अपने आहार में गन्ने के रस को शामिल कर सकतें। गन्ने के रस में पोटेशियम होता है जो पेट में पीएच स्तर को संतुलित करता है, और पाचन रस के स्राव को बढाता है जिससे पाचन सही रहता है। यह पेट के संक्रमण को रोकने में भी मदद करता है।

(और पढ़े – मानव पाचन तंत्र कैसा होता है, और कैसे इसे मजबूत बनायें…)

यह एसटीडी और यूटीआई से जुड़े दर्द को कम करता है

यह एसटीडी और यूटीआई से जुड़े दर्द को कम करता है

अगर किसी को यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन की समस्या हो या प्राइवेट पार्ट में जलन हो तो उनके लिए गन्ने का रस बहुत फायदेमंद होता है।

गन्ने के रस में मूत्रवर्धक गुण होते हैं

गन्ने के रस में मूत्रवर्धक गुण होते हैं

  • क्योंकि गन्ने के रस में मूत्रवर्धक गुण होते हैं। जिसके कारण मूत्र पथ के संक्रमण से जुड़ी कई समस्याओं को ठीक करने में गन्ने का रस फायदेमंद होता है।
  • नीबू के रस के साथ सेवन किया गया, गन्ने का जूस यौन संचारित रोगों, मूत्र पथ के संक्रमण, गुर्दे की पथरी और प्रोस्टेटाइटिस से जुड़ी जलन को कम करने में मदद कर सकता है।

(और पढ़े – यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन (यूटीआई) के लिए घरेलू उपचार…)

गन्ने का रस खून की कमी को भी दूर करता है

गन्ने का रस खून की कमी को भी दूर करता है

  • एनीमिया एक चिकित्सा स्थिति है जिसमे लाल रक्त कोशिकाओं की कमी हो जाती है।
  • गन्ने के रस में बहुत सारा आयरन होता है, इसलिए शरीर में खून की कमी के लिए गन्ने का रस बहुत प्रभावी होता है।

गन्ने के रस के फायदे हड्डियों और दांतों के विकास में सहायक

गन्ने के रस के फायदे हड्डियों और दांतों के विकास में सहायक

कैल्शियम युक्त गन्ना का रस, हड्डियों और दांतों का उचित विकास भी सुनिश्चित करता है।

गन्ने के रस के फायदे रोग प्रतिरोधक क्षमता बढाता है

गन्ने के रस के फायदे रोग प्रतिरोधक क्षमता बढाता है

  • शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए गन्ने का रस एक बहुत ही प्रभावी तरीका है।
  • गन्ने में कई पोषक तत्व होते हैं, जो आपकी प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते हैं।

सांसों की बदबू और दांतों की सड़न से बचाता है

सांसों की बदबू और दांतों की सड़न से बचाता है

गन्ने का जूस खनिजों से भरपूर होता है जो दांतों की सड़न और सांस की बदबू को रोकने में मदद करता है।

यह मधुमेह वाले लोगों के लिए भी फायदेमंद है

यह मधुमेह वाले लोगों के लिए भी फायदेमंद है

गन्ने के रस में उच्च चीनी सामग्री इस रस के सेवन से मधुमेह रोगियों को सावधान कर सकती है। लेकिन, मॉडरेशन में, गन्ने का रस मधुमेह रोगियों को लाभ पहुंचा सकता है।

गन्ने के रस में कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स (जीआई) होता है इसलिए इसे मधुमेह रोगी भी पी सकते हैं। एक अध्ययन से पता चला है कि गन्ने का रस पीने से मधुमेह रोगियों के रक्त शर्करा के स्तर में अधिक बदलाव नहीं आया, लेकिन इससे पहले कि आप खुद इसे पीना शुरू करें, आपको अपने डॉक्टर से अपने शुगर लेवल की जांच करानी चाहिए।

(और पढ़े – डायबिटीज (शुगर, मधुमेह) के मरीज इन फलों को बेफ़िक्र खा सकते हैं…)

यह मुँहासे को ठीक करने में मदद कर सकता है

यह मुँहासे को ठीक करने में मदद कर सकता है

गन्ने के रस का सामयिक उपयोग मुँहासे जैसी त्वचा की समस्याओं को कम करने और ठीक करने में मदद कर सकता है। गन्ने के रस में ग्लाइकोलिक एसिड जैसे अल्फा हाइड्रॉक्सी एसिड (AHA) होते हैं, जो सेल टर्नओवर को बढ़ाते हैं। वे त्वचा को एक्सफोलिएट भी करते हैं, जिससे मुँहासे बिल्डअप की संभावना खत्म हो जाती है। आपको गन्ने के रस को मुल्तानी मिट्टी के साथ मिलाकर एक मास्क तैयार करना है, इसे अपने चेहरे और गर्दन पर लगायें और 20 मिनट के लिए छोड़ दें। फिर ठन्डे पानी से धो लें।

(और पढ़े – मुंहासे के लिए घरेलू उपचार…)

गन्ने का जूस कब पीना चाहिए

गन्ने का जूस कब पीना चाहिए

वैसे तो आप दिनभर में कभी भी गाने का रस पी सकते हैं। लेकिन, गर्मियों में, यदि आपके शरीर में पानी की कमी है, तो गन्ने का रस रोजाना सुबह पीना चाहिए।

तो अब आप जान गये होगें कि भारत में गर्मी के महीनों में गन्ने का जूस इतना पॉपुलर क्यों है। जब भी आपको लगे कि आपको अपने शरीर को फिर से पोषक तत्वों से भरने और गर्मियों के दौरान हाइड्रेट करने की आवश्यकता है, तो एक गिलास गन्ने के रस का पीयें और गन्ने के रस के फायदों का आनंद लें!

गन्ने के रस में निहित चीनी प्राकृतिक है, लेकिन ध्यान रखें कि यह चीनी है। इस स्वस्थ पेय का संयम से सेवन करें, और यदि आप किसी विशेष चिकित्सीय स्थिति से पीड़ित हैं तो गन्ने का रस पीने से पहले डॉक्टर से बात करें।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

आपको ये भी जानना चाहिये –

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration