हेल्थ टिप्स

कमल ककड़ी खाने के फायदे और नुकसान – Lotus Root (Kamal Kakdi) Benefits And Side Effects in Hindi

कमल ककड़ी खाने के फायदे और नुकसान - Lotus Root (Kamal Kakdi) Benefits And Side Effects in Hindi

Kamal Kakdi Ke Fayde Aur Nuksan In Hindi कमल का फूल आपको पसंद हो या न हो लेकिन कमल ककड़ी के फायदे जानकर आप इसे जरूर पसंद करेगें। कमल के फूल की जड़ को कमल ककड़ी या लोट्स रूट कहा जाता है। कमल ककड़ी का उपयोग इसके लाभकारी प्रभाव के कारण किया जाता है। कमल ककड़ी के गुण आपको विभिन्‍न स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं से बचा सकते हैं। कमल ककड़ी खाने के फायदे कोलेस्‍ट्रॉल को कम करने, पाचन को ठीक रखने, रक्‍तचाप को नियंत्रित करने और प्रतिरक्षा को बढ़ाने में मदद करते हैं। यही कारण है कि हेल्‍थ बेनिफिट्स प्राप्‍त करने के लिए लोगों के बीच लोट्स रूट का इस्‍तेमाल बहुत ही लोकप्रिय है।

आज इस लेख में हम आपको बता रहे हैं कि कमल ककड़ी के औषधीय गुण, फायदे और नुकसान क्‍या हैं। जिससे आप भी कमल की जड़ के लाभ प्राप्‍त कर सकते हैं।

कमल ककड़ी क्‍या है – What is Louts Root in Hindi

कमल ककड़ी क्‍या है – What is Louts Root in Hindi

कमल के फूल नेलुम्‍बेनेसी परिवार (Nelumbonaceae family) से संबंधित जलीय पौधे हैं।  लोटस रूट पानी के अंदर होने वाली एक प्रकार की सब्‍जी है। कमल ककड़ी की लंबाइ लगभग 4 फीट तक हो सकती है। कमल के फूल की इस जड़ को अच्‍छी तरह से साफ करने के बाद खाद्य रूप में उपयोग किया जा सकता है। भारत के विभिन्‍न हिस्‍सों में कमल ककड़ी बहुत ही लोकप्रिय सब्‍जी है जिसका उपयोग विभिन्‍न प्रकार के व्‍यंजनों को बनाने के लिए किया जाता है। कमल ककड़ी का स्‍वाद हल्‍का मीठा होता है। जिसके कारण इसे सलाद या सूप आदि के रूप में भी इस्‍तेमाल किया जाता है। आइए जाने कमल ककड़ी के औषधीय गुण और पोषक तत्‍वों क्या हैं। जिनके कारण कमल ककड़ी स्‍वास्‍थ्‍य वर्धक खाद्य पदार्थ के रूप में फेमस है।

(और पढ़े – खीरा (ककड़ी) के फायदे गुण लाभ और नुकसान…)

कमकल ककड़ी के पोषक तत्‍व – Lotus Root Nutritional Value in Hindi

खाद्य पदार्थ के रूप में कमल ककड़ी इसलिए लोकप्रिय नहीं है कि यह स्‍वादिष्‍ट है। बल्कि कमल ककड़ी के औषधीय गुण और पोषक तत्‍वों की प्रचुर मात्रा के लिए इसका उपयोग किया जाता है। लोटस रूट में कोलेस्‍ट्रॉल नहीं होता है साथ ही इसमें कैलोरी भी कम होती है। लेकिन कमल के फूल की जड़ में खनिज पदार्थ और पोषक तत्वों का अनूठा मिश्रण होता है, जो हमारे शरीर के लिए बहुत ही फायदेमंद माना जाता है। लोटस रूट में पोटेशियम, फास्‍फोरस, तांबा, आयरन और मैंगनीज, जस्‍ता जैसे खनिज होते हैं। विटामिन के रूप में थियामिन, पैंटोथेनिक एसिड, विटामिन बी6 और विटामिन C आदि भी अच्‍छी मात्रा में होते हैं। कमल ककड़ी फाइबर और प्रोटीन का भी अच्‍छा स्रोत है।

लोटस रूट के फायदे – Health Benefits of Lotus Root in Hindi

लोटस रूट के फायदे - Health Benefits of Lotus Root in Hindi

उच्‍च पोषक तत्‍वों की उपलब्‍धता के कारण कमल ककड़ी के लाभ आपको स्‍वस्‍थ रखने का अच्‍छा विकल्‍प है। आहार के रूप में कमल की जड़ का उपयोग करना आपको कई संभावित बीमारियों से बचा सकता है और उनके प्रभाव को कम कर सकता है। आइए विस्‍तार से जाने कमल ककड़ी से प्राप्‍त स्‍वास्‍थ्‍य लाभ क्‍या हैं।

कमल ककड़ी खाने के फायदे वजन कम करे

कमल ककड़ी खाने के फायदे वजन कम करे

वजन प्रबंधन करने वालों के लिए कमल ककड़ी फायदेमंद हो सकती है। कमल की जड़ वजन कम करने के लिए एक अच्‍छा विकल्‍प हो सकता है। क्‍योंकि कमल की जड़ में कोलस्‍ट्रॉल न होने के साथ ही कैलोरी भी बहुत ही कम होती है। कमल ककड़ी का सेवन करने से आपको फाइबर सहित अन्‍य पोषक तत्‍वों की उचित मात्रा प्राप्‍त हो सकती है जो वेट लॉस में सहायक होते हैं। आहार के साथ कमल ककड़ी खाने का एक और फायदा भूख नियंत्रित करना भी है। इसका सेवन करने से आपको लंबे समय तक पेट भरा हुआ महसूस होता है। सभी जानते हैं कि अधिक और बार-बार भोजन करना भी मोटापे के प्रमुख कारणों में से एक है। लेकिन कमल की रूट का सेवन करके इन संभावनाओं को कुछ हद तक कम किया जा सकता है जो आपके वजन घटाने में सहायक हो सकता है। (1)

(और पढ़ें – वजन घटाने और कम करने वाले आहार…)

लोटस रूट के फायदे रक्‍त परिसंचरण के लिए

लोटस रूट के फायदे रक्‍त परिसंचरण के लिए

स्‍वस्‍थ और संतुलित आहार के साथ कमल की जड़ का सेवन आपके लिए लाभकारी हो सकता है। कमल की जड़ में मौजूद पोषक तत्‍व रक्‍त परिसंचरण को बेहतर बनाने में मदद कर सकते हैं। रक्‍चाप संबंधी समस्‍याओं को दूर करने और ऊर्जा बढ़ाने के लिए लोटस रूट एक अच्‍छा विकल्‍प हो सकता है। कमल ककड़ी में पोटेशियम, आयरन और कॉपर जैसे खनिज पदार्थ अच्‍छी मात्रा में होते हैं। ये सभी घटक लाल रक्‍त कोशिकाओं के उत्‍पादन में मदद करते हैं। नियमित रूप से कमल की जड़ का सेवन करना रक्‍त की कमी और रक्‍त प्रवाह दोनों को बढ़ाने में मदद कर सकते हैं। यदि आप खून की कमी और उच्‍च रक्‍तचाप से परेशान हैं तो कमल ककड़ी आपको राहत दिला सकती है। (2)

(और पढ़ें – ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाने के घरेलू उपाय )

कमल ककड़ी के लाभ तनाव के लिए

कमल ककड़ी के लाभ तनाव के लिए

तनाव या स्‍ट्रेस न केवल आपके मानसिक स्‍वस्‍थ्‍य बल्कि शारीरिक स्‍वास्‍थ्‍य को भी नुकसान पहुंचा सकता है। लेकिन कमल ककड़ी के लाभ आपको तनाव प्रबंधन करने में मदद कर सकते हैं। लोटस रूट में विटामिन बी कॉम्‍प्‍लेक्‍स के तत्‍वों में एक पाइरिडोक्सिन (pyridoxine) है। यह घटक मस्तिष्‍क के तंत्रिका रिसेप्‍टर्स के साथ सीधे संपर्क करने के लिए माना जाता है। जिससे मूड और मानसिक स्थितियां प्रभावित होती हैं। (3) पारंपरिक चिकित्‍सा में चिड़चिड़ापन, सिरदर्द और तनाव आदि को कम करने के लिए कमल ककडी का प्रयोग किया जाता है। आप भी तनाव और अवसाद के लक्षणों को कम करने के लिए अपने आहार में कमल ककड़ी को शामिल कर सकते हैं।

(और पढ़ें – मानसिक तनाव दूर करने के घरेलू उपाय)

कमल ककड़ी खाने के लाभ रक्‍तचाप के लिए

कमल ककड़ी खाने के लाभ रक्‍तचाप के लिए

रक्‍तचाप संबंधी स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याएं गंभीर हो सकती है यदि समय पर इनका उपचार नहीं किया जाता है। यदि आप भी इस प्रकार की समस्‍या से परेशान हैं घरेलू उपचार में कमल की जड़ का उपयोग कर सकते हैं। कमल की जड़ में पोटेशियम एक प्रमुख घटक होता है। आप पोटेशियम की उचित मात्रा प्राप्‍त करने के लिए कमल ककड़ी के साथ ही आलू, टमाटर और एवोकैडो जैसे खाद्य पदार्थों का भी सेवन कर सकते हैं। पोटेशियम को वासोडिलेटर (vasodilator) के रूप में जाना जाता है जो रक्‍तचाप को विनियमित करने में मदद करता है। पोटेशियम हमारे शरीर में तरल पदार्थों को बनाए रखने और सोडियम के प्रभाव को कम करने में मदद करता है। पोटेशियम रक्‍त वाहिकाओं को आराम दिलाता है और रक्त प्रवाह को बढ़ाता है। जिससे रक्‍तचाप संबंधी समस्‍याओं से बचना आसान हो जाता है। (4)

(और पढ़ें – उच्च रक्तचाप के लिए घरेलू उपचार…)

कमल ककड़ी के गुण पाचन ठीक करे

कमल ककड़ी के गुण पाचन ठीक करे

जलीय सब्‍जी के रूप में कमल की जड़ का इस्‍तेमाल किया जाता है। इस मांसल सब्‍जी में फाइबर की उच्‍च मात्रा होती है जो पाचन संबंधी समस्‍याओं को दूर करने और मल त्‍याग को आसान बनाने में मदद करता है। आहार फाइबर पोषक तत्‍वों के अवशोषण को अनुकूलित करते हुए कब्‍ज के लक्षणों को कम कर सकता है। यह पाचन और गैस्ट्रिक रस के स्राव को बढ़ाने और आंतों की मांसपेशियों में पेरिस्‍टालिटक (peristaltic) गति को उत्‍तेजित करके मल त्‍याग को आसान और नियमित करने में सहायक होता है। यदि आप भी पाचन संबंधी समस्‍याओं का घरेलू उपचार करना चाहते हैं तो कमल की जड़ को आहार के रूप में उपयोग कर सकते हैं। (5)

(और पढ़ें – पाचन शक्ति बढ़ाने के घरेलू उपाय)

कमल की जड़ के फायदे प्रतिरक्षा बढ़ाये

कमल की जड़ के फायदे प्रतिरक्षा बढ़ाये

प्रतिरक्षा तंत्र को मजबूत बनाने के घरेलू उपाय के लिए कमल ककड़ी एक अच्‍छा विकल्‍प हो सकता है। लोटस रूट के पोषक तत्‍वों में विटामिन सी भी शामिल है जो कि एक एंटीऑक्‍सीडेंट है। 100 कमल ककड़ी का सेवन करने पर हमें विटामिन सी की दैनिक जरूरत का लगभग 73 प्रतिशत हिस्‍सा प्राप्‍त हो सकता है। विटामिन सी कोलेजन का एक महत्वपूर्ण घटक है जो हमारी रक्‍त वाहिकाओं, त्‍वचा और अन्‍य अंगों को बेहतर रखने में सहायक होता है। इसमें मौजूद विटामिन सी प्रतिरक्षा प्रणाली को भी मजबूत बनता है। यह एंटीऑक्‍सीडेंट हमारे शरीर को फ्री रेडिकल्‍स के प्रभाव से बचाते हैं जो सामान्‍य बीमारियों जैसे सर्दी, खांसी और यहां तक की गंभीर कैंसर की संभावना को कम करते हैं। (6)

(और पढ़ें – रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के उपाय)

लोटस रूट के लाभ मस्तिष्‍क के लिए

लोटस रूट के लाभ मस्तिष्‍क के लिए

मस्तिष्‍क संबंधी समस्‍याओं को दूर करने के लिए विटामिन बी कॉम्‍प्‍लेक्‍स की आवश्‍यकता होती है। मस्तिष्‍क के लिए कमल की जड़ के लाभ इसलिए हैं क्‍योंकि इसमें विटामिन बी कॉम्‍प्‍लेक्‍स के साथ ही अन्‍य पोषक तत्‍व और खनिज पदार्थ होते हैं। कमल की डंडी में मौजूद पाइरिडॉक्सिन (pyridoxine) मस्तिष्‍क के तंत्रिका रिसेप्‍टर्स के साथ बातचीत करके सामान्‍य रूप से आपकी मनोदशा और मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य को बेहतर करने में मदद करता है। इसके अलावा आप सिरदर्द, तनाव और अन्‍य मस्तिष्‍क विकारों को दूर करने के लिए भी कमल की जड़ के लाभ प्राप्‍त कर सकते हैं।

(और पढ़ें – दिमाग तेज करने के उपाय)

लोटस जड़ के फायदे हृदय के लिए

लोटस जड़ के फायदे हृदय के लिए

आज के समय में हृदय स्‍वास्‍थ्‍य सबसे बड़ी चिंता है। लेकिन यदि आप अपने हृदय को स्‍वस्‍थ रखना चाहते हैं तो कमल की जड़ को आहार में शामिल कर सकते हैं। कमल की जड़ में कुछ ऐसे पोषक तत्‍व और खनिज पदार्थ होते हैं जो दिल को स्‍वस्‍थ रखने में सहायक हो सकते हैं। इसमें पोटेशियम एक वासोडिलेटर के रूप में होता है। इसके अलावा इसमें फाइबर भी होता है जो हमारे रक्‍त में खराब कोलेस्‍ट्रॉल को हटाने में मदद करता है। कमल ककड़ी की सब्‍जी में मौजूद घटक रक्‍त में होमोसिस्‍टीन (homocysteine) के स्‍तर को नियंत्रित कर सकते हैं जो हमार हृदय स्‍वास्‍थ्‍य को नुकसान पहुंचाने का प्रमुख कारण होता है। इस तरह से आप अपने हार्ट को हेल्‍थी बनाने के उपाय में लोटस रूट को शामिल कर सकते हैं।

(और पढ़ें – दिल को स्‍वस्‍थ रखने के लिए सर्वश्रेष्‍ठ आहार…)

कमल रूट के फायदे श्वसन तंत्र के लिए

कमल रूट के फायदे श्वसन तंत्र के लिए

कमल ककड़ी की रूट का सेवन करना श्वसन समस्‍याओं को रोकने में भी प्रभावी होता है। लोटस की जड़ के फायदे श्वसन प्रणाली को शुद्ध करने में मदद करता है। जिससे आप किसी श्वसन समस्‍याओं का प्रभावी उपचार कर सकते हैं। कमल ककड़ी की सब्‍जी शरीर में जमा अतिरिक्‍त बलगम को हटाने में मदद कर सकती है। जिससे खांसी और सर्दी जैसी समस्‍याओं को दूर करने में मदद मिल सकती है। अध्‍ययनों से पता चलता है कि कमल की रूट में ऐसे पोषक तत्‍व होते हैं जो श्वसन तंत्र को आराम दिलाने और अस्‍थमा जैसी बीमारियों के उपचार में मदद करते हैं। आप भी कमल रूट का सेवन कर इस प्रकार के लाभ प्राप्‍त कर सकते हैं।

(और पढ़ें – श्वसन संबंधी रोग के कारण, लक्षण, जांच, इलाज और बचाव)

कमल जड़ के फायदे त्‍वचा के लिए

कमल जड़ के फायदे त्‍वचा के लिए

स्‍वास्‍थ्‍य संबंधी समस्‍याओं को दूर करने के लिए कमल की जड़ लाभकारी होती ही है लेकिन इसके अलावा लोटस रूट के फायदे त्‍वचा संबंधी समस्‍याओं के लिए भी होते हैं। आप अपने आहार में कमल की जड़ को शामिल कर त्वचा संबंधी समस्‍याओं को प्रभावी रूप से दूर कर सकते हैं। आइए जाने लोटस रूट त्‍वचा के लिए कैसे फायदेमंद है।

(और पढ़ें – त्वचा को जवान बनाए रखने के लिए 10 एंटी एजिंग फूड)

एंटीऑक्‍सीडेंट के लिए कमल ककड़ी

कमल के फूल की जड़ में विटामिन सी और अन्‍य प्रकार के विटामिन अच्‍छी मात्रा में होते हैं। विटामिन सी एक एंटीऑक्‍सीडेंट है जो त्‍वचा कोशिकाओं को फ्री रेडिकल्‍स की क्षति से बचा सकते हैं। आप भी अपनी त्‍वचा को स्‍वस्‍थ और निरोगी रखने के लिए कमल की जड़ को अपने आहार में शामिल कर सकते हैं।

कमल ककड़ी त्‍वचा को मॉइस्‍चराइज रखे

सुंदर और आकर्षक कमल के फूलों की जड़ खाद्य पदार्थ के रूप में इस्‍तेमाल की जा सकती है। कमल ककड़ी के गुण त्‍वचा को हाइड्रेट और मॉइस्‍चराइज करते हैं। इस सब्जी का नियमित सेवन करने पर यह त्‍वचा की लोच और रंग को बढ़ाने में मदद करते हैं। कमल ककड़ी के औषधीय गुण त्‍वचा की झुर्रियों को भी रोक सकती है। इस तरह के त्‍वचा संबंधी लाभ प्राप्‍त करने के लिए आप भी कमल की रूट का उपयोग कर सकते हैं।

लोटस की जड़ ड्राई स्किन का उपाय

कई सौंदर्य उत्‍पादों में कमल की जड़ का उपयोग प्रमुख घटक के रूप में किया जाता है। कमल की जड़ में त्‍वचा को तेजी से हाइड्रेट करने की क्षमता होती है। यदि आप भी शुष्‍क और परतदार त्‍वचा से परेशान हैं इस औषधीय उत्‍पाद का प्रयोग कर सकते हैं। आप कमल की जड़ को खाद्य रूप में और फेस पैक के रूप में भी इस्‍तेमाल कर सकते हैं।

कमल की जड़ के गुण मुंहासे रोके

चेहरे की त्वचा में अक्‍सर मुंहासे संबंधी समस्‍याएं होती है। मुंहासे मुख्‍य रूप से त्वचा में अधिक तेल उत्‍पादन के कारण होते हैं। लेकिन मुंहासों का उपचार करने और प्राकृतिक तेल को निय‍ंत्रित करने के लिए कमल की रूट के फायदे होते हैं। आप कमल की जड़ का पेस्‍ट बना कर चेहरे पर लगाएं यह आपको मुंहासे का उपचार करने में सहायक हो सकता है।

(और पढ़ें – मुँहासे में आहार प्रमुख भूमिका निभाता है जाने कैसे…)

कमल की जड़ का उपयोग बालों के लिए

कमल की जड़ का उपयोग बालों के लिए

जिस तरह से कमल की जड़ स्‍वास्‍थ्‍य और त्‍वचा समस्‍याओं को दूर करने में मदद करती है। ठीक उसी तरह से यह बालों के लिए फायदेमंद होती है। आप भी अपनी बालों संबंधी समस्‍या के लिए कमल रूट के लाभ प्राप्‍त कर सकते हैं। यह बालों को कंडीशन करने, समय से पहले सफेद होने और बालों की जड़ों को मजबूत करने में सहायक होता है। जिससे आप बाल झड़ने की समस्‍या से भी राहत पा सकते हैं।

(और पढ़ें – स्वस्थ बालों के लिए क्या खाना चाहिए…)

कमल ककड़ी के नुकसान – Kamal Kakdi ke Nuksan in Hindi

कमल ककड़ी के नुकसान – Kamal Kakdi ke Nuksan in Hindi

सामान्‍य रूप से लोटस की जड़ का सेवन करना स्‍वास्‍थ्‍य के लिए अच्‍छा होता है। लेकिन फिर भी आपको सलाह दी जाती है कि इसे केवल भोज्‍य पदार्थ के रूप में शामिल किया जाना चाहिए। यह किसी भी स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍या के उपचार का विकल्‍प नहीं है। यदि आप किसी स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍या के लिए कमल ककड़ी का सेवन करना चाहते हैं तो पहले अपने चिकित्‍सक से सलाह लें। इसके साथ ही आपको यह भी सलाह दी जाती है कि कभी भी कमल ककड़ी को कच्‍ची या अधपकी नहीं खाना चाहिए। क्‍योंकि इनमें परजीवी होने की अधिक संभावना होती है जो आपके स्‍वास्‍थ्‍य को नुकसान पहुंचा सकते हैं।

(और पढ़ें – संतुलित आहार के लिए जरूरी तत्व , जिसे अपनाकर आप रोंगों से बच पाएंगे…)

इसी तरह की अन्य जानकरी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration