हरीतकी (हरड़) के फायदे और नुकसान – Haritaki Benefits and side effects in Hindi

हरीतकी (हरड़) के फायदे और नुकसान – Haritaki Benefits and side effects in Hindi
Written by Jaideep

हरीतकी (हरड़) जिसका अंग्रेजी नाम चेबुलिक म्यरॉबालन (Chebulic Myrobalan) है। यह भारत में सामान्‍य रूप से पाया जाने वाला विशेष औषधीय पौधा है, जिसे हम और आप हर्रा, हरड़, हर्रे आदि नामों से भी जानते हैं। आयुर्वेद में हरीतकी के फायदे कई स्‍वास्‍थ्‍य लाभों के लिए उपयोग किये जाते हैं इस कारण हरीतिकी को भारत में जड़ी बूटीयों की मां कहा जाता है। आज के आर्टिकल में आप जानेंगे हरीतकी (हरड़) के फायदे और नुकसान (Haritaki Benefits and side effects in Hindi) के बारे में।

हरीतकी का वैज्ञानिक नाम टर्मिनलिया चेबुला (Terminalia chebula) है जिसे तिब्‍बत में दवाओं का राजा कहा जाता है। यह वास्‍तव में हरीतिकी के पेड़ से प्राप्‍त सूखे फल है जिन्‍हें हरड़ कहा जाता है। हरड़ के फायदे पाचन तंत्र के लिए विशेष रूप से जाने जाते हैं। यह प्राकृतिक रूप से पेट की सफाई के लिए उपयोग किया जाता है जो कि कब्‍ज, पाचन विकार, अनियमित बुखार, पेट फूलना, अल्‍सर, उल्‍टी, पेट की गैस और बवासीर जैसी समस्‍याओं को दूर करने में मदद करता है। यह फल अन्‍य गैस्‍ट्रोइंस्‍टाइनल बीमारियों जैसे ट्यूमर, एसाइट्स (Ascites), यकृत या प्‍लीहा का विस्‍तार, कृमि (worms), कोलाइटिस और खाद्य विषाक्‍तता के विस्‍तार में भी मदद करता हैं।

1. हरीतकी (हरड़) क्‍या है – What is Haritaki in Hindi
2. हरड़ का पेड़ – Harad Tree Description in Hindi
3. हरीतकी (हरड़) के औषधीय गुण – Haritaki Medicinal Properties in Hindi
4. हरीतकी के फायदे – Haritaki ke fayde in Hindi

5. हरीतकी चूर्ण के उपयोग की मात्रा – Haritaki Dosage in Hindi
6. हरीतकी (हरड़) के नुकसान – Haritaki ke Nuksan in Hindi

हरीतकी (हरड़) क्‍या है – What is Haritaki in Hindi

आयुर्वेद में हरीतकी, टर्मिनलिया चेबुला पेड़ के सूखे फल को कहा जाता है। इसे अन्‍य क्षेत्रों में विभिन्‍न भाषाओं में हरद, कदुक्‍कई, कराकाकाया, कदुक्‍का पोडी, हर्रा आदि नामों से भी जाना जाता है। यह फल बहुत से औषधीय गुणों से भरा होता है जो विभिन्‍न बीमारियों और विकारों के लिए एक स्‍वास्‍थ्‍य रामबाण, अनुकूलित टॉनिक और प्राकृतिक इलाज के रूप में लंबे समय से उपयोग किया जा रहा है। त्रिफला चूर्ण के तीन घटकों में से हरीतकी एक प्रमुख घटक है जो विभिन्‍न स्‍वास्‍थ्‍य लाभों के लिए आयुर्वेद में बेहद प्रसिद्ध है।

हरड़ का पेड़ – Harad Tree Description in Hindi

इस पेड़ की औसत ऊंचाई लगभग 20-30 मीटर ऊंचा होता है। इसकी पत्तियां 7.5 से 20 सेमी. लंबी और सरप टिप के साथ 5 से 10 सेमी. चौड़ी होती हैं। इसके फल 2.5 से 3 सेमी. लंबे और पांच बाहरी किनारे के साथ होते हैं। इसके कच्‍चे फलों का रंग हरा और पकने के बाद पीले रंग के होते हैं। सूखे फल भूरे पीले या काले भूरे होते हैं। जनवरी से अप्रैल के बीच में इस पेड़ से पके हुए फलों को प्राप्‍त किया जा सकता है।

हरीतकी (हरड़) के औषधीय गुण – Haritaki Medicinal Properties in Hindi

इस औषधीय फल में, बंधनकारी (Astringent), पेट साफ करने वाले (Purgative) कायाकल्‍प (Rejuvenative), टॉनिक, प्रत्‍यारोपण, एंथेलमेंटिक (Anthelmentic) आदि गुण होते हैं। यह अस्‍थमा, बवासीर और खांसी के लिए बहुत ही उपयोगी होता है। यह घाव और खरोंच के उपचार में भी उपयोगी होता है। हरीतक के फायदे मुंह की श्‍लेष्‍म झिल्‍ली (membrane of mouth) की सूजन को दूर करने में भी मदद करते हैं। इसका उपयोग पेट के विकारों को दूर करने और वसा को हटाने के लिए किया जाता है। इस जड़ी बूटी का मुख्‍य उपयोग आमतौर पर आंतों से कब्‍ज और विषाक्‍त पदार्थों को हटाने के लिए किया जाता है।

औषधीय उपयोग के लिए इस पौधे के लगभग सभी भागों का उपयोग किया जाता है जिनमें इस पेड़ के फल, जड़ और पेड़ की छाल प्रमुख रूप से उपयागी होते हैं।

(और पढ़े – चिरोंजी के फायदे और नुकसान…)

हरीतकी के फायदे – Haritaki ke fayde in Hindi

आपके और हमारे शरीर के स्‍वास्‍थ्‍य का संबंध सीधे ही हमारे पेट से जुड़ा होता है। इस औषधी का उपयोग पेट के स्‍वास्‍थ्‍य के लिए बहुत ही महत्‍वपूर्ण होता है। इस फल का उपयोग कर आप बुखार, पेट फूलना, अल्‍सर, उल्‍टी, पेट की गैस और बवासीर जैसी समस्‍याओं को दूर करने में कर सकते हैं। आइए विस्‍तार से हरीतकी के फायदे जाने जिन्‍हें शायद आप अभी तक नहीं जानते थे।

(और पढ़े – तुलसी बीज के फायदे और नुकसान इन हिंदी…)

मधुमेह के लिए हरीत‍की के फायदे – Haritaki for Diabetes in Hindi

मधुमेह के लिए हरीत‍की के फायदे – Haritaki for Diabetes in Hindi

उच्‍च रक्‍त ग्‍लूकोज के स्‍तर और खराब खान-पान के कारण शरीर में इंसुलिन संवेदनशीलता में कमी होती है जो मधुमेह प्रकार -2 और इसके चयापचय सिंड्रोम (metabolic syndrome) का मुख्‍य कारण होता है। हरीतकी में उपस्थित यौगिक रक्‍त शर्करा के स्‍तर को कम करने और इंसुलिन को बढ़ाने में मदद मिलती है।

एक अध्ययन से पता चला है कि हरितकी फल का नियमित सेवन करने से यह रक्‍त ग्‍लूकोज को कम करने में प्रमुख भूमिका निभाता है। यदि आप मधुमेह के खतरों से बचना चाहते हैं तो इस फल के गुणों को ध्‍यान में रखते हुए उपयोग कर सकते हैं। फिर भी आप इस टर्मिनलिया पाउडर (Terminalia powder) का सेवन करने से पहले अपने डॉक्‍टर से संपर्क करें।

(और पढ़े – शुगर ,मधुमेह लक्षण, कारण, निदान और बचाव के उपाय…)

पेट की गैस के लिए हरीतकी चूर्ण के फायदे – Haritaki Churna for Stomach Acidity in Hindi

पेट की गैस को दूर करने के लिए हरीतकी के फायदे कौन नहीं जानता है। हरीतकी चूर्ण अत्‍यधिक पेट की अम्‍लता को कम करने में मदद करता है और पेट में सुरक्षात्‍मक श्‍लेष्‍म उत्‍पादन को बढ़ाकर दर्दनाक पेप्टिक और गैस्ट्रिक अल्‍सर (peptic and gastric ulcers) को रोकने में भी मदद कर सकता है।

हरीतकी फल में एंटीऑक्‍सीडेंट पॉलीफेनॉल बहुत अच्‍छी मात्रा में होते हैं जैसे कि गैलिक एसिड और एलाजिक एसिड जो हेलीकॉक्टर पाइलोरी (helicobacter pylori) बैक्टीरिया से लड़ने में मदद करते हैं और पेट के अल्‍सर के विकास को कम कर इसके खतरे को आपके लिए कम करते हैं।

(और पढ़े – पेट की गैस के कारण और आसान घरेलू इलाज…)

हर्र के लाभ वजन घटाने के लिए – Harad Benefits for Weight Loss in Hindi

प्राकृतिक रूप से वजन घटाने के लिए आप हर्र का उपयोग कर सकते हैं। यह पाचन स्‍वास्‍थ्‍य में सुधार करके, पोषक तत्‍वों के अवशोषण मे वृद्धि, कोलन की सफाई, कब्‍ज को रोकने और आपके यकृत से विषाक्‍त पदार्थों को निकालने की गति (elimination time) गति को तेज करने में मदद करता है। ये सभी कारण आपके वजन को कम करने में सहायक होते हैं।

बेहतर पाचन और पौष्टिक उत्‍थान (nutritional uptake) आपकी भूख की इच्‍छा को कम करने में मदद करते हैं जो कि वजन कम करने में बहुत ही सहायक होते हैं। हर्र युक्‍त त्रिफला का सेवन करना वजन घटाने के लिए हर्बल और प्रभावी विधि होती है। यह आपके पेट से संबंधित सभी प्रकार की समस्‍याओं को दूर करने में मदद करता है। विटामिन, खनिज और एंटीऑक्‍सीडेंट के बेहतर अवशोषण के लिए हर्र के फल को आयुर्वेद में एक प्रमुख डिटोक्सिफायर और रक्‍त निर्माता माना जाता है। आप इस आयुर्वेदि फल का सेवन कर अपने बढ़ते वजन को नियंत्रित कर सकते हैं।

(और पढ़े – वजन घटाना चाहतीं हैं तो अपनाएं यह डाइट चार्ट…)

बहेड़ा के फायदे पाचन के लिए – Baheda for Improved Digestion in Hindi

बहेड़ा के फायदे पाचन के लिए – Baheda for Improved Digestion in Hindi

नियमित रूप से जड़ी बूटी बहेड़ा लेना आपके पाचन तंत्र के कार्य को बढ़ा सकता है, यह आपकी आंतों के स्वास्थ्य के लिए बहुत ही लाभकारी होता है। इसका सेवन करने से आपके द्वारा खाये जाने वाले भोजन से पोषक तत्‍वों का अवशोषण बढ़ाया जा सकता है। बहेड़ा प्रकृति में पेट साफ करने वाले गुणों से भरपूर होता है जो आपके पेट के विकारों को दूर कर आपके पाचन तंत्र को मजबूत करने के साथ ही आपको कब्‍ज जैसी समस्‍याओं से मुक्ति दिलाने में मदद करता है। यदि आप पाचन समस्‍या से निपटना चाहते हैं तो बहेड़ा के फायदे प्राप्‍त करने के लिए इसका सेवन कर सकते हैं। यह आपके पेट से संबंधित बहुत सी समस्‍याओं को दूर करने में मदद करता है।

(और पढ़े – मानव पाचन तंत्र कैसा होता है, और कैसे इसे मजबूत बनायें…)

हर्रे के गुण मुंह के अल्‍सर को ठीक करे – Harad for Mouth Ulcer in Hindi

मुंह के छालों और मसूढ़ों की समस्‍या को दूर करने के लि हर्रे या इससे निर्मित पाउडर का उपयोग किया जाता है। भारत में मुंह से संबंधित समस्‍याओं को दूर करने के लिए आयुर्वेद में बहुत से सूखे फलों के साथ हर्रे को कुचलकर पानी में उबाला जाता है। और ठंड़ा करके इस पानी से दिन में कई बार कुल्‍ला किया जाता है जो कि छालों को कम करने में मदद करते हैं। नियमि‍त रूप से इसका उपयोग करने पर यह दांत क्षय को रोकने में मदद करता है। यदि आप मुंह के छालों से परेशान हैं तो आप हर्रे का उपयोग कर इस समस्‍या से छुटकारा पा सकते हैं।

(और पढ़े – मुंह के छाले दूर करने के घरेलू उपाय…)

हरीतकी के फायदे फेफड़ों के विकार के लिए – Haritaki for Lung Disorders in Hindi

हरीतकी के फायदे फेफड़ों के विकार के लिए – Haritaki for Lung Disorders in Hindi

खराब खांसी, ब्रोंकाइटिस और अन्‍य फेफड़ों की शिकायतों के लिए हरीतकी चूर्ण का उपयोग किया जा सकता है। इस उद्देश्‍य के लिए आधा चम्‍म्‍च हरीतकी पाउडर के साथ थोड़ी मात्रा में शहद मिलाकर इसे धीरे धीरे चूसा (slowly sucked) जाता है। यदि रात में सोते समय आपको खांसी ज्‍यादा परेशान करती है तो आप सोने से पहले इस प्राकृतिक उपचार का उपयोग कर सकते हैं जो कि ज्‍यादा फायदेमंद होता है।

(और पढ़े – अस्थमा (दमा) के कारण, लक्षण, उपचार एवं बचाव…)

हरड़ के फायदे बवासीर के लिए – Harad Benefits for piles in Hindi

हरड़ के फायदे बवासीर के लिए – Harad Benefits for piles in Hindi

इस समस्‍या को दूर करने के लिए हरड़ का काढ़ा बनाकर उपयोग किया जा सकता है जो कि हरड़ के फायदे बवासीर के लिए दर्शाता है। हरड़ पाउडर का काढ़ा बनाने के लिए आप पानी में इस पाउडर को मिलाकर थोड़ी देर के लिए उबालें। इस काढ़े का नियमित सेवन करने पर यह बवासीर जैसी समस्‍याओं में रक्‍त स्राव या खून बहने की समस्‍या को कम करने में मदद करता है और पेट को स्‍वस्‍थ्‍य बनाता है। इसके बांधने वाली संपत्ति (astringent property) बवासीर से ग्रसित लोगों के लिए बहुत ही फायदेमंद होते हैं।

(और पढ़े – बवासीर (हेमोरॉहाइड्स) क्या है: कारण, लक्षण, निदान, इलाज, रोकथाम और घरेलू उपचार…)

हरीतकी के लाभ आंखों के लिए – Haritaki for Eye Disorders in Hindi

यदि आप आंखों की क्षमता को लेकर परेशान हैं तो हरीतकी के फायदे कब काम आयेगें। आप रात भर के लिए पानी में कुछ हर्रे को भींगने दें और सुबह इस पानी से अपनी आंखों को धोएं। यह आपकी आंखों के सभी विकारों को दूर कर आपकी आंखों को स्‍वस्‍थ्‍य बनाने में मदद करता है।

आप हरीतकी के बीजों को 12 घंटों के लिए पानी में भीगने दें और फिर इसका पेस्‍ट बनाकर अपनी आंखों में काजल के रूप में उपयोग करें। यह आंखों के मोतियाबिंद (Cataract) को रोकता है। आप इसकी छाल को भी पीस कर काजल की तरह ही इस्‍तेमाल कर सकते हैं यह आपकी आंखों के पानी की समस्‍या को ठीक करने का प्रभावी तरीका होता है।

(और पढ़े – कंजंक्टिवाइटिस एलर्जी (आँख आना) के कारण, लक्षण और ठीक करने के घरेलू उपाय…)

हरड़ के फायदे दस्‍त और पेंचिस में – Haritaki for Diarrhea and Dysentery in Hindi

इस फल के पाउडर की लुग्‍दी (fruit pulp) का अक्‍सर पुराने दस्‍त और पेचिस के लिए एक प्रभावी उपाय के रूप में उपयोग किया जाता है। इस समस्‍या को दूर करने के‍ लिए एक चम्‍मच हरड़ पाउडर और 1 चम्‍मच शुद्ध शहद को अच्‍छी तरह से मिलाकर दिन में दो बार इस मिश्रण का सेवन करना चाहिए। ऐसा करने पर यह दस्‍त और पेंचिस से राहत मिलती है।

(और पढ़े – दस्त ठीक करने के घरेलू उपाय…)

हरीतकी के उपयोग त्‍वचा समस्‍या के लिए – Haritaki for Skin Problems in Hindi

आप अपनी त्‍वचा को स्‍वस्‍थ्‍य रखने के लिए हरीतकी के फायदे प्राप्‍त कर सकते हैं। आपकी त्‍वचा के अल्‍सर, घावों और खरोंच के उपचार में इस आयुर्वेदिक जड़ी बूटी के गुणों का लाभ ले सकते हैं। आप कैनियन तेल (carrion oil) एक जानवर की वसा से बना हुआ तेल के साथ हरीतकी फल के पाउडर का उपयोग कर अपनी त्‍वचा उपचार के लिए एक मल्‍हम तैयार कर सकते हैं जो कि आपके घावों और जलन के फफोलों को आराम दिला सकता है। आप इस मल्‍हम का उपयोग कर अपने घावों के उपचार प्रक्रिया को अतितीव्र बना सकते हैं।

(और पढ़े – खसरा के कारण, लक्षण, इलाज एवं बचाव…)

हरड़ के लाभ दांत संक्रमण के लिए – Harad for Removes Tooth infection in Hindi

यदि आप दांतों के संक्रमण से परेशान हैं और इनसे छुटकारा पाना चाहते हैं तो आप हरड़ के पाउडर का उपयोग कर सकते हैं। इसके लिए आप हरड़ के बीजों को बारीक होने तक पीस लें और फिर इस पाउडर को किसी छन्‍नी की सहायता से छान लें। बिल्‍कुल महीन पाउडर प्राप्‍त करने बाद आप इस पाउडर का उपयोग दंतमंजन के रूप करें। यह दांतों के सभी प्रकार के संक्रमण को साफ करने में प्रभावी होता है और आपके दांतों को स्‍वस्‍थ्‍य बनाने में मदद करता है।

(और पढ़े – दाँतों की देखभाल कैसे करे…)

हरीतकी के लाभ हाथी पांव रोग में – Haritaki Benefits for Elephantiasis in Hindi

हाथी पांव रोग के उपचार के लिए आप हरीतकी का उपयोग कर सकते हैं। यह इस रोग को कम करने में आपकी बेहद मदद कर सकता है। 50 ग्राम अंडी के तेल (castor oil) में 10 ग्राम हर्रे को पकाएं।  यदि रोगी इस मिश्रण को 6 दिनों तक सेवन करता है तो यह उसे बहुत ही आराम दिलाता है। यदि आपके आसपास कोई भी व्‍यक्ति हाथीपांव की समस्‍या से ग्रसित है तो आप उसके लिए इस फायदेमंद और प्रभावी उपचार का उपयोग कर सकते हैं।

(और पढ़े – अंजीर के फायदे बचाएं इतने सारे रोगों से जानकर हो जाएंगे हैरान…)

हरीतकी के फायदे बालों के लिए – Haritaki Benefits for Hair Toner in Hindi

हरीतकी के फायदे बालों के लिए – Haritaki Benefits for Hair Toner in Hindi

यह जड़ी बूटी बालों के लिए बहुत ही फादेमंद होती है। यह बालों के गिरने की समस्‍या को भी कम करता है। यदि आप इस पर विश्‍वास नहीं करते हैं तो एक बार इस फल के पाउडर का पेस्‍ट बनाकर इसे नारियल के तेल में उबालें। फिर इस तेल को छानकर इसे किसी बोतल पर रख लें और नियमित रूप से इस तेल को अपने बालों पर उपयोग करें। इसके अलावा आप नहाने से पहले अपने बालों को हरीतकी के काढ़े से धो भी सकते हैं। यदि आप ऐसा नहीं कर सकते हैं तो नियमित रूप से प्रति दिन 2-3 हर्रे का सेवन करें। ऐसा करने से आपकी आंखे भी स्‍वस्‍थ्‍य होगीं और आपके बाल भी प्राकृतिक रूप से काले होगें। लेकिन यह आयुर्वेदिक दवा है, इसलिए इसके असर में लगभग 1 वर्ष तक का समय लग सकता है।

(और पढ़े – गर्मियों में बालों को खूबसूरत बनाए रखने के टिप्स…)

हर्रे के फायदे मूत्र संबंधी समस्‍या के लिए – Harad for Treats Urinary disorders in Hindi

यदि आपको मूत्र संबंधी किसी प्रकार की समस्‍या से जूझ रहे हैं, तो हर्रे के औषधीय गुणों का लाभ उठा सकते सकते हैं। आप दिन मे 2 बार एक चम्‍मच शहद के साथ 2 से 5 ग्राम हर्रे के पाउडर का सेवन करें। यह मूत्र और मूत्र से संबंधित अन्‍य विकारों जैसे मूत्र त्‍याग करते समय जलन का अहसास (burning sensation) को ठीक करता है।

(और पढ़े – मूत्र पथ संक्रमण (यूटीआई) के कारण, लक्षण और उपचार…)

हरीतकी के फायदे सिरदर्द के लिए – Haritaki for Headache in Hindi

हरीतकी के फायदे सिरदर्द के लिए – Haritaki for Headache in Hindi

य‍दि आप लंबे समय से सिर दर्द की समस्‍या से ग्रसित हैं तो हरीतकी के फायदे जानकर हैरान रह जाएगें कि यह आपके पुराने से पुराने सिर दर्द का अचूक इलाज कर सकता है। इसके लिए आप हरीतकी की छाल को पानी में भिगों कर सूर्य की रोशनी मे 3 दिनों के लिए रखें और फिर चौथे इन टुकड़ों को कुचलकर इसमें 500 ग्राम चीनी पाउडर मिलाकर मिश्रण तैयार करें। इस मिश्रण का सेवन करने से रोगी को बहुत ही जल्‍दी आराम मिलता है। यह सिरदर्द और गैस्ट्रिक विकारों को ठीक करता है।

आप हरीतकी के फलों को गर्म पानी में पीसकर पतला पेस्‍ट बना सकते हैं और इस पेस्‍ट को रोगी के माथे पर लगाएं। यह माइग्रेन दर्द को भी ठीक करने के लिए उपयोगी होता है।

(और पढ़े – माइग्रेन और सिर दर्द में अंतर क्या होता है…)

हरड़ के फायदे घावों को ठीक करने में – Harad Ke Fayde for Heal Wounds in Hindi

हर्रे का काढ़ा (decoction) बनाकर इससे घावों को धोना चाहिए। यह घावों को जल्‍दी से भरने में मदद करता है।

5 से 10 ग्राम मक्‍खन के साथ 1 से 2 ग्राम हर्रे की राख मिलाएं और इसे घाव पर लगाएं। यह घावों को जल्‍दी से ठीक करने में मदद करता है।

(और पढ़े – हर्पीस के कारण, लक्षण, दवा और उपचार…)

हरीतकी के उपयोग प्रतिरक्षा में सुधार करे – Haritaki for Improves Immunity in Hindi

हरीतकी के उपयोग प्रतिरक्षा में सुधार करे – Haritaki for Improves Immunity in Hindi

आप अपनी प्रतिरक्षा को बढ़ाने के लिए हर्रा, अनार के छिल्‍के, सौंफ (aniseed) भारतीय हंसबेरी और बबूल की छाल आदि को मिलाकर काढ़ा तैयार करें। इस काढ़े को दिन में दो बार 20 से 30 मिली लीटर प्रतिदिन सेवन करें। यह आपकी प्रतिर‍क्षा शक्ति (Immunity power) को बढ़ाने में मदद करता है।

(और पढ़े – रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के उपाय…)

हरड़ के गुण पीलिया के उपचार में – Harad for Treatment for jaundice in Hindi

हरड़ के गुण पीलिया के उपचार में – Harad for Treatment for jaundice in Hindi

पीलिया के लिए हरड़ का उपयोग कर उपचार प्रक्रिया को तेज किया जा सकता है। इसके लिए लौह राख (iron ash), हर्रा और हल्‍दी की बराबर मात्रा को मिलाएं। पीलिया रोगी को 500 मिली. मिश्रण मे 1 ग्राम घी या शहद के साथ सेवन कराएं। यह पीलिया रोगी को बहुत ही फायदा पहुंचाता है।

आप मरीज को दिन में 2 से 3 बार शहद या गुड़ के साथ 1 ग्राम हर्रा का सेवन भी करा सकते हैं।

(और पढ़े – पीलिया का घरेलू और आयुर्वेदिक इलाज…)

हर्रे के गुण के लाभ यौन स्‍वास्‍थ्‍य के लिए – Harad Ke Gun for Sexual Health in Hindi

यह एक आयुर्वेदिक औषधी होने के साथ साथ एक रसायन (Rasayana) भी है। रसयान भी हरड़ के एंटी-एजिंग गुणों को दर्शाता है। हर्रे की यह गुणवत्‍ता प्रचीन ग्रंथों में उल्‍लेखित है।

हरीतकी में उपस्थित रसायन भी एक यौन उत्‍तेजक होता है। एक महीने के लिए प्रति दिन 1 से 2 ग्राम हर्रे का सेवन किया जाए तो यह आपकी यौन शक्ति को बढ़ाने में मदद कर सकता है। यह आपके समय से पूर्व स्‍खलन (premature ejaculation) को कम करता है और नाईट फाल (स्वप्नदोष) को भी नियंत्रित करता है।

यदि आप अपनी यौन शक्ति बढ़ाना चाहते हैं तो नियमित रूप से हर्रे का सेवन कर सकते हैं।

(और पढ़े – पुरुष बांझपन के कारण, लक्षण, इलाज और बचाव…)

हरीतकी चूर्ण के उपयोग की मात्रा – Haritaki Dosage in Hindi

रोजाना 1 से 6 ग्राम के बीच में हरीतकी पाउडर का सेवन करने की सलाह दी जाती है। यह बीमारी और मौसम के आधार पर किसी अन्‍य जड़ी बूटी के साथ उपयोग करना चाहिए। इसका सेवन करते समय इसे निश्चित भागों में बांट कर ही उपयोग करना चाहिए। किसी भी प्रकार की समस्‍या के लिए इसका उपयोग करने से पहले अनुभवी स्‍वास्‍थ्‍य सलाहकार से परामर्श लेकर ही इसका सेवन करना चाहिए।

(और पढ़े – कब्ज के कारण और इलाज…)

हरीतकी (हरड़) के नुकसान – Haritaki ke Nuksan in Hindi

कम मात्रा में हरीतकी का सेवन करने से कोई नुकसान नहीं होते हैं, लेकिन यदि अधिक मात्रा में और लंबे समय तक इसका सेवन किया जाता है तो इसके कुछ नुकसान हो सकते है जो इस प्रकार हैं:

  • लंबे समय तक हरीतकी का अधिक मात्रा में सेवन करना यौन शक्ति और ताकत में कमी ला सकता है। इसलिए इस आयुर्वेदिक फल को निश्चित अवधी के लिए और कम मात्रा में सेवन करना चाहिए।
  • यह देखा गया है कि हरीतकी (हरड़) स्तंभन दोष का कारण बन सकता है।
  • अधिक मात्रा में इसका सेवन करने से यह आपकी यौन इच्‍छा में कमी ला सकता है।
  • हरीतकी का उपयोग उन लोगों को नहीं करना चाहिए जो अत्‍यधिक चलने या दौड़ने के कारण थक गए हैं।
  • गर्भवती महिलाओं को हरीतकी का सेवन करने से बचना चाहिए।
  • उन लोगों को हरीतकी का सेवन नहीं करना चाहिए जिन्‍हें अत्‍यधिक रक्‍तस्राव होता है।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration