पुरुषों के लिए Kegel Exercise अब जल्दी स्‍खलन की समस्‍या को भूल जाओ – Kegel Exercises For Men in Hindi




पुरुषों के लिए Kegel Exercise अब जल्दी स्‍खलन की समस्‍या को भूल जाओ - Kegel Exercises For Men in Hindi
Written by Daivansh

कीगल एक्‍सरसाइज Kegel Exercise करने के कई सारे फायदे हैं। पेल्विक पुरूषों के शरीर का महत्वपूर्ण हिस्सा है जो मूत्राशय, आंत की मांसपेशियों और सेक्सयुअल अंगों को जोड़ता  है।

कीगल एक्‍सरसाइज की खोज – discovery of Kegel Exercises in Hindi

डॉक्‍टर अर्नाल्ड कीगल ने इस एक्‍सरसाइज की खोज की है। यह एक्‍सरसाइज गर्भवती महिलाओं की मूत्र असंयम को नियंत्रित करने और बच्चे के जन्म के बाद जल्‍दी ठीक होने में मदद करती है। लेकिन पिछले कुछ वर्षों में यह बात साबित हुई है कि कीगल एक्‍सरसाइज पुरुषों की समय पूर्व स्‍खलन की समस्‍या को कम में भी मदद करती है।

क्‍या है कीगल एक्‍सरसाइज – what is Kegel Exercise in Hindi

जननांगों की एक्सरसाइज को कीगल एक्सरसाइज कहते हैं। इसको करने से पेल्विक एरिया (पी सी) की मांसपेशियों को मजबूती मिलती है। जिससे यौन अंग प्रोत्साहित होते हैं। मजबूत पेल्विक मांसपेशियों पुरुषों और महिलाओं दोनों की यौन प्रतिक्रिया में एक बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं।

कैसे केगल एक्सरसाइज पुरूषों को मदद करती है – How Kegel Exercise Helps Men

नीचे की मांसपेशिया कई कारण से कमजोर हो जाती हैं जैसे मोटापा, सर्जरी या बढ़ती उम्र जिसकी वजह से पेशाब को रोकने में समस्या होती है। इसके अलावा लिंग में तनाव की भी दिक्कत होती है।

कीगल एक्‍सरसाइज अगर रोजाना की जाये तो कमजोर पेल्विक मसल्स से निजात मिल सकता है।

केगल एक्सरसाइस से पुरुषों को इन दिक्कतों में मदद मिल सकती है-

कैसे कर सकते हैं कैगल एक्सरसाइज – How Can Kegel Exercise in Hindi

इसके लिए जरूरी है कि अपनी पेल्विक फलोर मसल को पहचानें तो पता चलेगा कि किस पर व्यायाम करना है। इनको देखा नहीं जा सकता है मगर इनको महसूस किया जा सकता है।

महसूस करें कि आपका यूरिन ब्लैडर भरा हुआ है और पेशाब लगी है, मगर आसपास कोई टायलट नहीं है। अपनी  मांसपेशियों को कसें और पेशाब को रोकने की कोशिश करें। ये आपकी पेल्विक मांसपेशियां हैं।

जब आप पेशाब कर रहे हों, पेशाब के बहाव को धीमा करने की कोशिश करें। जिन मांसपेशियों को कसकर आप पेशाब रोकने की कोशिश करते हैं वो ही पेल्विक मसल्स होती हैं। पेशाब को तभी रोक पाएंगे जब आप अपनी  मसल्स को पहचान पाएंगे, मगर ऐसा बार-बार न करें।

महसूसर करें कि आपको लैटरीन आई है या गैस निकलने वाली है, मगर आपको रोकना है। उन मांसपेशियों में कसावट लाएं जिससे आप शौच को रोकने की कोशिश करते हैं। ये भी पेल्विक मसल्स का हिस्सा है।

पेल्विक मसल्स का व्यायाम

एक बार अगर आपको आपके पेल्विक मसल्स का पता चल जाएगा। उसके बाद आप आराम से व्यायाम कर सकेंगे।

लेटकर व्यायाम

पीठ के बल लेट जाएं और घुटने को थोड़ा मोड़ लें। अब अपने पेल्विक मसल्स को 10 सेकेंड के लिए कसें फिर दस सेकेंड के लिए रिलैक्स करें।

बैठकर व्यायाम

कुर्सी पर बैठें और घुटने फैला दें ,.अब अपनी पेल्विक मसल्स को सिकोड़ें और घुटने को ऊपर उठायें। दस सेकेंड के लिए रोकें फिर दस सेकेंड के लिए आराम करें।

खड़े होकर

पैर को फैलाकर खडे़ रहें और महसूस करें कि पेशाब रोकने और गैस रोकने की कोशिश कर रहे हैं। दस सेकेंड के लिए रोकें और फिर रिलैक्स करें।

इन बातों का ध्यान रखें कीगल एक्‍सरसाइज के दौरान

कीगल एक्‍सरसाइज करने के पहले अपना ब्लैडर खाली रखें।

अपनी सांस न रोकें, गहरी सांस लें और अपने शरीर को आरामदायक अवस्था में रखें।

अपने मसल्स को दबाएं नहीं बल्कि महसूस करें कि आप उसे उठाने की कोशिश कर रहे हैं।

पेट, नितंब और जांघों की मसल्स को कसने की कोशिश न करें। अगर ध्यान नहीं देंगे तो गलत तरीके से करने पर कमर, पेट और जांघों में दर्द महसूस हो सकता है।

हर दबाव के बाद पेल्विक मसल्स को आराम भी दें।

अलग-अलग अवस्था में व्यायाम करें जैसे लेटकर, बैठकर और खडे़ होकर।

शुरुआत में पांच सेकेंड के लिए दबाव बनाएं और पाच सेकेंड आराम करें। फिर धीरे -धीरे इसे 10 सेकेंड तक करे।

तुरंत परिणाम की अपेक्षा न करें, न ही अधिक एक्सरसाइज करें। इससे पेशाब लीक होने की समस्या बढ़ सकती है।

कैगल एक्सरसाइज बनाये सेक्स लाइफ बेहतर – Kegel Exercise makes Sex life betterin hindi 

कीगल एक्‍सरसाइज करने से आपके यौन अंगों में रक्त के प्रवाह में सुधार होता है। जिससे पेल्विक एरिया की मसल्स मजबूत होती है और आपकी सेक्‍स जीवन में सुधार होता है। आप अधिक सुखद और आर्गेज्‍म की प्राप्ति आसानी से कर सकते हैं।

(और पढ़े – वीर्य को जल्दी निकलने से रोकने के घरेलू उपाय)

कितनी बार दोहराएं – Repeat it how often in hindi

जितनी बार मसल्स पर दबाव बनाएंगे वो एक केगल एक्सरसाइज होती  है। दिन भर में 10 से 20 बार प्रेशर  देना चाहिए इसके लिए दिन में इसे तीन से चार बार करना चाहिए। इसे करने के पहले प्रेक्टिस करना जरूरी है इसे दिन में कभी भी और कहीं भी आरामदायक अवस्था में किया जा सकता है।

अधिकतर लोग इसकी शुरुआत लेटकर या कुर्सी पर बैठकर करते हैं। किसी प्रकार के बदलाव को देखने के लिए 4 से 6 सप्ताह तक इंतजार करना पड़ता है। इसके अलावा इसका फायदा तीन महीने में नजर आता है।

एक बार जब आपको इस अवस्था में व्यायाम करना आरामदायक लगने लगे, तब आप उस अवस्था में भी व्यायाम कर सकते हैं जब यूरिन निकलने की आशंका रहती है जैसे-

टहलते वक़्त – While you walk in Hindi

  • खांसने और छीकने के पहले
  • जब टायलेट के लिए जाएं तब रास्ते में
  • जब बैठने की अवस्था से खड़े होते हैं

कई तरह की  केगल एक्सरसाइज – different types of Kegel Exercise in Hindi

  • फास्ट पंप मसल्स को कसें तेजी से और रिलेक्स करें बिना ज्यादा देर रूके फिर दोहराएं।
  • रोकना  पेल्विक मसल्स पर दबाव दें और प्रेशर को जितना देर हो सके रोकें।
  • रिवर्स केगल मसल्स पर दबाव देने के बजाय मसल्स को आराम दें, यूरिन या टायलेट करने की कोशिश कर रहे हैं ऐसा महसूस करें।
  • टहलते वक्त जब टहलने अपने पेल्विक मसल्स उठाने की कोशिश करें।
  • पेशाब करने के बाद पेशाब के बाद अपने पेल्विक मसल्स में तनाव लाएं।
  • सेक्स के दौरान  सेक्स के दौरान पेल्विक मसल्स में तनाव लाएं, इससे लिंग में तनाव बना रहेगा।

स्खलन से बचने के लिए करे  – To avoid ejaculation do Kegel Exercise in Hindi

कीगल एक्‍सरसाइज Kegel Exercise से पुरुषों के हिप्स की मांसपेशियां मजबूत होती है। जिससे पुरुष जल्दी डिस्चार्ज होने की समस्या बच सकते हैं। और आप देर तक सेक्स को एंज्वॉय कर सकते हैं।

स्तंभन दोष दूर करें Remove erectile dysfunction in Hindi

स्तंभन दोष नपुंसकता (इरेक्टाइल डिसफंक्शन)की समस्‍या तब होती है जब लिंग को र्प्‍याप्‍त मात्रा में रक्त की पूर्ति नहीं होती है। कीगल एक्‍सरसाइज Kegel Exercise पेल्विक क्षेत्र में रक्त के प्रवाह में सुधार करके इस समस्‍या से निपटने में आपकी मदद कर सकता है।

मूत्र असंयम की समस्‍या से निजात Urinary incontinence problem in Hindi

गर्भवस्‍था या डिलिवरी के एकदम बाद महिलाओं में होने वाली मूत्र असंयम की समस्‍या से कीगल एक्‍सरसाइज की मदद से काबू पाया जा सकता है। यह श्रोणि की मांसपेशियों को मजबूत बनाती है, जिससे असंयम को रोकने में मदद मिलती है। इसके अलावा यह नार्मल डिलीवरी करवाने में भी मदद करती है।

Kegel Exercise पुरुषों को कैसे करता है मदद

एक रिसर्च के अनुसार 55 पुरूषों पर इसका शोध किया गया, जिनकी उम्र लगभग 60 साल थी। उनमें से 28 लोगों ने पेल्विक फलोर का व्यायाम किया और 27 लोगों ने अपनी दिनचर्या में बदलाव किया। उसके बाद दोनों ग्रुप की तुलना की गयी।

(और पढ़े: कामसूत्र और योगासन में क्या है संबंध)

जिन लोगों ने व्यायाम किया था  उनका परिणाम कुछ ऐसा रहा-

  • 40 प्रतिशत लोगों में इरेक्टिाइल फंग्शन में सुधार आया
  • 35 प्रतिशत में इरेक्शन (लिंग के तनाव)में सुधार आया
  • 25 प्रतिशत लोगों में कोई बदलाव नहीं दिखा

शोधकर्ताओं ने अनुसार पेल्विक फ्लोर मसल्स व्यायाम यानि केगल एक्सरसाइस, इरेक्टाइल डिसफंग्शन के लिए एक असरदार थैरपी साबित हुई।

Leave a Comment

1 Comment

  • Ye nebh kriya hy, jise ashwani mudra bhi kahte hy, ise pursho ke liye benaya gya tha, jab ek horse sex kerta hy to apni gudda ko sankuchit krta hy, yahi kriya ek orat me prakartik rup se hoti hy, or horse me nesargik, lakeen purush me nahi, humare ling se gudda dwaar tak ke bich ki jagah ko nebh isthal keha jata hy, isi isthal ko pust krne per, purush apna sex time or virya sthambit ker sakta hy, vastute is kriya ka sambandh humare nebh isthal ko.pust krne ke liye hy!!

Subscribe for daily wellness inspiration