डिलीवरी के बाद सेक्सुअल लाइफ पर क्या असर पड़ता है – Sex After Delivery In Hindi




डिलीवरी के बाद सेक्सुअल लाइफ पर क्या असर पड़ता है - Sex After Delivery In Hindi
Written by Daivansh

Sex After Delivery In Hindi जानिए डिलीवरी के बाद सेक्स कब करें, कैसे करें और डिलीवरी का सेक्सुअल लाइफ पर क्या असर पड़ता है के बारे में। बच्चे को जन्म देने के बाद किसी भी महिला के लिए अपने यौन जीवन (sexual life) में पहले की तरह लौटना आसान नहीं होता है और न ही यह उसकी पहली प्राथमिकता रह जाती है। पहली बार बच्चे को जन्म देने वाली 90 प्रतिशत महिलाओं की योनि के कुछ ऊतक बाहर निकल आते हैं या कभी-कभी एक चीरा लगाने पर यह कटकर बाहर निकल आते हैं जिसे एपिसियोटॉमी (episiotomy) कहा जाता है।

यदि किसी महिला की सिजेरियन सेक्शन (caesarean section) डिलीवरी हुई हो तो ऐसे में इसमें बहुत दर्द होता है। इस स्थिति में जब तक यह पूरी तरह से ठीक नहीं होता है तब तक किसी भी महिला के लिए सेक्स करने में कठिनाई होती है। इसलिए आमतौर पर डॉक्टर या मिडवाइफ डिलीवरी के बाद महिला को कम से कम छह हफ्ते बाद सेक्स करने की सलाह देते हैं।

1. डिलीवरी के कितने दिन बाद सेक्स करना चाहिए – When is it safe to have sex after giving birth in Hindi

2. डिलीवरी के तुरंत बाद सेक्स क्यों नहीं करना चाहिए – Why You Should Not Have Sex Immediately After Childbirth in Hindi

3. बच्चे को जन्म देने के बाद सेक्स की इच्छा न होने का कारण – Why don’t I feel like having sex after the birth in Hindi?

4. डिलीवरी के बाद सेक्स करने का मन कैसे बनाएं – Tips For Sex After The Birth In Hindi

डिलीवरी के कितने दिन बाद सेक्स करना चाहिए – When is it safe to have sex after giving birth in Hindi

डिलीवरी के कितने दिन बाद सेक्स करना चाहिए - When is it safe to have sex after giving birth in Hindi

प्रसव के बाद आमतौर पर डॉक्टर या मिडवाइफ महिला का शारीरिक परीक्षण (physical examination) करते हैं। इसके बाद जितना जल्दी महिला का शरीर दोबारा से सेक्स करने के लिए तैयार हो जाता है, डॉक्टर उसे इस बारे में बता देते हैं। लेकिन हर महिला को बच्चे को जन्म देने के बाद दोबारा से यौन जीवन में लौटने से पहले एक बार अपना शारीरिक परीक्षण जरूर करा लेना चाहिए। कुछ एक्सपर्ट सुझाव देते हैं कि बच्चे को जन्म देने के बाद जब तक ब्लीडिंग पूरी तरह से बंद न हो जाएं तब तक सेक्स नहीं करना चाहिए, क्योंकि महिला के कोख (womb) में संक्रमण होने का खतरा रहता है और इसे ठीक होने में भी काफी समय लगता है।

एक स्टडी में पाया गया है कि पहली बार मां बनने वाली करीब 41 प्रतिशत महिलाएं डिलीवरी के छह हफ्ते बाद सेक्स करना शुरू कर देती हैं। जबकि लगभग 78 प्रतिशत महिलाएं बच्चे को जन्म देने के 12 हफ्ते बाद सेक्स करना पसंद करती हैं। यदि महिला की वेजाइनल डिलीवरी हुई हो तो वह 6 हफ्ते बाद सेक्स कर सकती है। लेकिन यदि महिला की एपिसियोटॉमी (episiotomy) और सी सेक्शन डिलीवरी हुई हो तो उसे कम से कम बाहर हफ्ते तक इंतजार करना चाहिए। आपको बता दें कि वजाइनल डिलीवरी की अपेक्षा सी सेक्शन सर्जरी अधिक गंभीर होती है इसलिए आपको किसी भी परिस्थिति में दोबारा से सेक्सुअल लाइफ में लौटने से पहले काफी लंबा इंतजार करना पड़ सकता है।

(और पढ़े – जानबूझकर सिजेरियन डिलीवरी कराने से पहले इन 3 बातों को जान लें…)

डिलीवरी के तुरंत बाद सेक्स क्यों नहीं करना चाहिए – Why You Should Not Have Sex Immediately After Childbirth in Hindi

डिलीवरी के तुरंत बाद सेक्स क्यों नहीं करना चाहिए - Why You Should Not Have Sex Immediately After Childbirth in Hindi

आमतौर पर हम सभी जानते हैं कि डिलीवरी के तुरंत बाद सेक्स करना उचित नहीं माना जाता है। लेकिन इसके पीछे क्या कारण होते हैं। आइये जानते हैं उन कारणों को।

डिलीवरी के बाद सेक्स करने से ब्लीडिंग हो सकती है – You Could Have Heavy Bleeding to have sex after delivery in Hindi

बच्चे को जन्म देने के बाद दोबारा से सेक्स करने के लिए कुछ हफ्तों का इंतजार करने का सबसे बड़ा कारण यह है कि डिलीवरी के दौरान महिला के गर्भाशय से नाल (placenta) बाहर निकल आता है और यह गर्भाशय में एक घाव छोड़ देता है। जिसके कारण गर्भाशय को ठीक होने में समय लगता है। समय के साथ इस घाव में रक्त वाहिकाएं (blood vessels) रक्त के थक्के से स्वाभाविक रूप से बंद हो जाती हैं। लेकिन इसमें कम से कम तीन से चार हफ्ते का समय लगता है।

छह हफ्ते से पहले सेक्स करने से सेक्स के दौरान योनि में काफी दबाव पड़ता है और रक्त वाहिकाएं दोबारा से टूट जाती हैं। इसके कारण वहां हवा प्रवेश कर जाती है और महिला की परेशानी बढ़ जाती है और फिर से गर्भाशय में घाव बनने की आशंका रहती है। इसलिए आमतौर पर बच्चे को जन्म देने के करीब 6 हफ्ते बाद ही सेक्स करने की सलाह दी जाती है क्योंकि इससे महिला को किसी तरह की ब्लीडिंग नहीं होती है।

(और पढ़े – जानिए यौन संबंध बनाने के बाद वेजाइना (योनि) से क्यों होती है ब्लीडिंग…)

प्रसव के बाद सेक्स करने से सिलाई टूटने का खतरा होता है – Risk Of Rupturing Healing Stitches to have sex after delivery in Hindi

वजाइनल टियरिंग (Vaginal tearing) स्वाभाविक रूप से डिलीवरी का एक हिस्सा है। इसके अलावा डॉक्टर डिलीवरी के लिए एपिस्टोमी का भी सहारा लेते हैं। एपिस्टोमी योनि और गुदा (anus) के बीच में एक सर्जिकल चीरा (surgical incision) लगाने को कहते हैं। यह तरीका उस स्थिति में अपनाया जाता है जब जल्द से जल्द डिलीवरी कराने की जरूरत पड़ जाती है और योनि की मांपसेशियों में स्वतः खिंचाव (stretch) नहीं हो पाता है। लेकिन डिलीवरी के दोनों ही स्थितियों में गर्भाशय में घाव बन जाता है जिसे ठीक होने में समय लगता है। इस दौरान सेक्स करने से सिलाई टूट सकती है और महिला की परेशानी बढ़ सकती है।

(और पढ़े – गर्भाशय की जानकारी, रोग और उपचार…)

डिलीवरी के तुरंत बाद सेक्स करने से गर्भाशय में संक्रमण का खतरा – Risk Of Uterine Infection to have sex after delivery in Hindi

सी-सेक्शन डिलीवरी के बाद गर्भाशय (cervix) अधिक फैल जाता है जिसके कारण महिला को किसी भी वक्त परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। सी सेक्शन डिलीवरी के बाद सेक्स करने से बैक्टीरिया योनि के माध्मम से गर्भाशय में पहुंच जाते हैं और वहां खतरनाक इंफेक्शन पैदा कर देते हैं। इसलिए आपको सी सेक्शन के बाद लंबे समय तक सेक्स नहीं करना चाहिए। इसके अलावा टैम्पोन (tampon) का भी इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

(और पढ़े – जानिए सामान्य प्रसव के बाद योनि में होने वाले बदलाव के बारे मे…)

बच्चे को जन्म देने के बाद सेक्स की इच्छा न होने का कारण – Why don’t I feel like having sex after the birth in Hindi?

बच्चे को जन्म देने के बाद सेक्स की इच्छा न होने का कारण - Why don’t I feel like having sex after the birth in Hindi?

वास्तव में बच्चे को जन्म देने के कुछ हफ्तों बाद सेक्स का आनंद पहले की अपेक्षा कुछ कम हो जाता है। लेकिन कुछ लोगों का मानना है कि बच्चे को जन्म देने के बाद सेक्स करने का आनंद पहले जैसा ही रहता है। डिलीवरी के बाद पहले कुछ हफ्तों या महीनों में यदि सेक्स करने का मन न हो तो इसमें घबराने वाली कोई बात नहीं होती है क्योंकि यह बहुत सामान्य होता है और आमतौर पर हर महिला के साथ होता है। बच्चे को जन्म देने के तीन महीने बाद तक भी कई महिलाओं को इस तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। इसका कारण यह होता है कि मां बनने के बाद महिला की जिम्मेदारी (responsibility) बढ़ जाती है और वह बच्चे को संभालने और घर के काम में उलझ जाती है।

इसके अलावा उसका शरीर भी पहले की अपेक्षा अधिक थक (tired) जाता है और हार्मोन में परिवर्तन (hormonal changes) के कारण बी सेक्स करने की इच्छा कुछ कम हो जाती है। इसके अलावा भी डिलीवरी के बाद सेक्स की इच्छा में कमी आने के कुछ अन्य कारण होते हैं।

(और पढ़े – सेक्स की इच्छा कैसे बढ़ाए…)

बच्चे को जन्म देने के बाद सेक्स की इच्छा न होने का कारण होता है शारीरिक समस्याएं

बच्चे को जन्म देने के बाद महिला की योनि ढीली पड़ जाती है और उसमें अधिक लचीलापन (flexibility) आ जाता है। इसके अलावा गर्भाशय के घाव को भी भरने में काफी लंबा वक्त लग जाता है जिसके कारण महिलाओं को कमजोरी (weakness) महसूस होती है और शरीर में लगातार दर्द बना रहता है। यही कारण है कि बच्चे को जन्म देने के बाद जब तक शरीर पहले की तरह नहीं हो जाता है सेक्स की इच्छा में कमी बनी रहती है। इसके अलावा हार्मोन में परिवर्तन (hormonal changes) के कारण योनि में सूखापन और सेक्स के दौरान होने वाले दर्द के डर से भी सेक्स करने की इच्छा नहीं होती है।

(और पढ़े – योनि में दर्द के कारण और उपचार…)

शिशु जन्म के बाद सेक्स की इच्छा न होने का कारण होता है भावनात्मक समस्याएं

डिलीवरी के बाद ज्यादातर महिलाएं डिप्रेशन (depression) का शिकार हो जाती हैं। इसका कारण यह है कि उनके शरीर को पहली वाली अवस्था में वापस लौटने में समय लगता है और बच्चे के सोने और जागने का समय फिक्स न होने के कारण उनकी नींद भी पूरी नहीं हो पाती है जिसके कारण शुरूआत के कुछ महीनों में महिलाओं में तनाव अधिक देखने को मिलता है। ऐसी स्थिति में उन्हें सेक्स के लिए मन बनाने का वक्त नहीं मिलता है।

(और पढ़े – अवसाद (डिप्रेशन) क्या है, कारण, लक्षण, निदान, और उपचार…)

डिलीवरी के बाद सेक्स करने का मन कैसे बनाएं – Tips For Sex After The Birth In Hindi

डिलीवरी के बाद सेक्स करने का मन कैसे बनाएं - Tips For Sex After The Birth In Hindi

  • प्रसव के बाद नवजात की देखभाल में आपका अधिक समय जाता है शायद यही कारण है कि आप सेक्स के बारे में सोच नहीं सकती हैं। लेकिन आप पति की या अपनी इच्छाओं की भी अनदेखी (avoid) नहीं कर सकती हैं इसलिए धीरे-धीरे दोबारा से पति के साथ अंतरंग (intimate ) होने की कोशिश करें।
  • डिलीवरी के बाद सीधे सेक्स शुरू करने के बजाय एक दूसरे के शरीर को प्यार करना चाहिए और अधिक से अधिक फोरप्ले करना चाहिए। इससे धीरे-धीरे सेक्स करने का मूड बनने लगता है।
  • बच्चे को जन्म देने के बाद योनि शुष्क (dry) हो जाती है इसलिए यदि सेक्स करने में कठिनाई न हो इसके लिए आपको चिकनाई युक्त क्रीम या कोई अन्य पदार्थ योनि में लगाना चाहिए। लेकिन ध्यान रहे कि ऑयल युक्त कोई पदार्थ (oily substances) योनि में न लगाएं अन्यथा कंडोम लगाने के बाद यह लीक हो सकता है।
  • डिलीवरी के बाद आपको सेक्स करने की चिंता सता रही है तो पहले अपनी योनि को सेक्स के लिए तैयार करें अर्थात् योनि को उंगलियों से गीला करें और खुद को उत्तेजित करें।
  • यदि बच्चे को जन्म देने के बाद अपने पार्टनर के साथ सेक्स करने में आपको किसी तरह की परेशानी हो रही हो तो अपने पार्टनर को रोक दें और उसे धीरे-धीरे क्लिटोरिस (clitoris) सहलाने के लिए कहें। जब आपको अधिक उत्तेजना (excite) होने लगे तब सेक्स करने के लिए कहें।
  • डिलीवरी के बाद अच्छा और स्वस्थ भोजन करें, पर्याप्त तरल पदार्थ लें और पर्याप्त आराम भी करें। बच्चे की देखभाल के बाद समय मिले तो पति के साथ अंतरंग बातें करें। इससे दोनों लोगों का सेक्स करने का मूड बन सकता है।

(और पढ़े – वैजाइना को इन तरीकों से करें टच लड़की को जल्दी उत्तेजित करने के लिए…)

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration