पुरुष बांझपन के कारण, लक्षण, इलाज और बचाव – Male Infertility Causes, Symptoms, Treatment and Prevention in Hindi

पुरुष बांझपन के कारण, लक्षण, इलाज और बचाव - Male Infertility Causes, Symptoms, Treatment and Prevention in Hindi
Written by Anamika

Purush banjhpan in Hindi असुरक्षित यौन संबंध बनाने के बाद भी यदि कोई पुरुष किसी महिला को गर्भवती नहीं कर पाता है तो इस स्थिति उस पुरुष में बांझपन की समस्या को इंगित करती है। आमतौर पर पुरुषों की प्रजनन क्षमता उनके स्पर्म की क्वालिटी और संख्या पर निर्भर करती है। यदि सेक्स के दौरान स्खलित होने पर पुरुष के स्पर्म कम संख्या में निकलते हैं और कमजोर होते हैं तो इस स्थिति में महिला को प्रेगनेंट होने में कठिनाई होती है। इसके अलावा पुरुषों में बांझपन की समस्या के पीछे खराब जीवनशैली, बीमारी, चोट, गंभीर स्वास्थ्य समस्या आदि कारक जिम्मेदार होते हैं।

1. पुरुष बांझपन के कारण – Causes of Male Infertility in Hindi
2. पुरुष बांझपन के लक्षण – Symptoms of Male Infertility in Hindi
3. पुरुष बांझपन का निदान – Purush banjhpan Ki Janch in Hindi
4. पुरुष बांझपन का इलाज – Purush banjhpan ka ilaj in Hindi
5. पुरुषों में बांझपन से बचाव – Male Infertility Prevention in Hindi
6. पुरुष बांझपन दूर करने वाले खाद्य पदार्थ – Fertility Foods For Men in Hindi

पुरुष बांझपन के कारण – Purush banjhpan ke karan in Hindi

महिलाओं की तरह ही पुरुषों में भी बांझपन की समस्या होती है। पुरुषों में बांझपन के कई कारण होते हैं।

आइये मुख्य कारणों के बारे में जानते हैं।

  • पुरुष का सीमेन (Semen) एक दूधिया तरल पदार्थ जैसा होता है जो संभोग के चरम अवस्था पर लिंग (penis) से निकलता है। इसी सीमेन में पुरुष का स्पर्म होता है। जब पुरुष के स्पर्म की संख्या कम होती है तो वह महिला के अंडे से नहीं मिल पाता है इस कारण पुरुष महिला को प्रेगनेंट करने में असमर्थ हो जाता है।
  • यदि पुरुष का स्पर्म असामान्य आकार (abnormal size) का होता है तब भी वह महिला के अंडे के साथ निषेचित नहीं हो पाता है। इसके अलावा यदि पुरुष का सीमेन असामान्य है तो वह स्पर्म को प्रभावी तरीके से पहुंचा नहीं पाता है।
  • वेरिकोसिल (varicocele) के कारण भी पुरुषों में बांझपन की समस्या हो जाती है। वेरिकोसिल नसों में एक प्रकार का सूजन है जिसके कारण पुरुष का वृषण (testicle) या अंडकोश सूख जाता है और वे बांझपन के शिकार हो जाते हैं। यह समस्या होने पर स्पर्म कमजोर हो जाते हैं।
  • पुरुषों के गुप्तांगों में इंफेक्शन होने से भी उन्हें बांझपन की समस्या हो सकती है। कुछ इंफेक्शन ऐसे होते हैं जो स्पर्म बनने में बाधा उत्पन्न करते हैं और स्पर्म की नली को अवरूद्ध कर देते हैं। अधिवृषण (epididymis) और पुरुष के अंडकोश (testicles) में सूजन होने या यौन संचारित संक्रमण जैसे गोनोरिया एवं एचआईवी होने के कारण भी पुरुष वीर्य़कोष क्षतिग्रस्त हो जाता है जिसके कारण शुक्राणु पर्याप्त मात्रा में नहीं बनते हैं।
  • यदि किसी पुरुष को ट्यूमर की समस्या हो तो हार्मोन का उत्पादन करने वाली ग्रंथियां जैसे पिट्यूटरी ग्लैंड और उसके प्रजनन अंग इससे सीधे प्रभावित होते हैं। इसके कारण पुरुष बांझ हो जाता है।
  • पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन की कमी एवं अन्य हार्मोन संबंधी दिक्कतों के कारण भी उन्हें बांझपन की समस्या हो सकती है।
  • अधिक रेडिएशन और एक्सरे के प्रभाव से भी पुरुषों में स्पर्म बनना कम हो जाता है जिससे वे महिला को गर्भवती करने में असमर्थ हो जाते हैं।
  • अधिक एल्कोहल के सेवन, धूम्रपान, शरीर का वजन बढ़ना एवं ड्रग्स के सेवन से भी पुरुषों को बांझपन हो सकता है।

(और पढ़े – पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन बढ़ाने के आसान घरलू उपाय)

पुरुष बांझपन के लक्षण – Symptoms of Male Infertility in Hindi

पुरुषों में बांझपन का मुख्य लक्षण यह है कि वह असुरक्षित यौन संबंध बनाने के बाद भी महिला को गर्भवती नहीं कर पाते हैं। पुरुषों के शरीर में पहले से ही बांझपन के कुछ लक्षण जैसे हार्मोन का असंतुलन, वृषण की नसें फैल जाना या शुक्राणु नली का अवरूद्ध हो जाना, आनुवांशिक विकार आदि संकेत उन्हें महसूस होते हैं लेकिन वे इसपर शुरूआत में ही अधिक ध्यान नहीं दे पाते हैं। पुरुषों में बांझपन के लक्षण निम्न हैं।

  • यौन संबंध बनाने में समस्या, स्खलित होने में कठिनाई और स्खलन (ejaculation) में कम मात्रा में तरल पदार्थों का निकलना, सेक्स करने की इच्छा में कमी, उत्तेजना में कमी (erectile dysfunction) आदि पुरुषों में बांझपन के लक्षण हो सकते हैं।
  • वृषण (testicle) और इसके आसपास की जगहों में दर्द, सूजन और गांठ की समस्या बांझपन का लक्षण हो सकता है।
  • बार-बार श्वसन तंत्र में इंफेक्शन होना, सूंघने की क्षमता में कमी आदि बांझपन के लक्षण होते हैं।
  • पुरुषों में असामान्य रूप से स्तन का विकास (gynecomastia), शरीर और चेहरे पर बालों का कम होना गुणसूत्र या हार्मोनल असामान्यता का लक्षण है। जिससे वे बांझ हो सकते हैं।
  • पुरुषों के प्रति मिली लीटर सीमेन में शुक्राणुओं को संख्या 15 लाख से कम होना या स्खलन के दौरान कुल शुक्राणुओं की संख्या 39 लाख से कम होना पुरुषों में बांझपन का संकेत है।

(और पढ़े – शुक्राणुओं की संख्या बढ़ाने का घरेलू उपाय )

पुरुष बांझपन का निदान – Purush banjhpan Ki Janch in Hindi

सबसे पहले डॉक्टर पुरुष का शारीरिक परीक्षण करते हैं और कुछ टेस्ट के जरिए पुरुषों में बांझपन की समस्या का निदान करते हैं।

डाक्टर पुरुषों के सीमेन का टेस्ट करते हैं और स्पर्म के गुणवत्ता और संख्या का पता लगाते हैं। इसके अलावा पेनिस से तरल पदार्थ निकालकर संक्रमण की जांच की जाती है। फिर लिंग, अंडकोश (scrotum) और प्रोस्टेट ग्रंथि की जांच करते हैं। पुरुषों में बांझपन के जांच के लिए सीमेन का परीक्षण करना बहुत आवश्यक होता है। बांझपन के निदान के लिए निम्न टेस्ट किए जाते हैं।

ब्लड टेस्ट

टेस्टोस्टीरोन के स्तर और अन्य हार्मोन की जांच करने के लिए ब्लड टेस्ट किया जाता है।

सीमेन की जांच (Semen analysis)

सीमेन का सैंपल लिया जाता है और इसकी सांद्रता, रंग एवं गुणवत्ता का परीक्षण किया जाता है।

अल्ट्रासाउंड

अल्ट्रासाउंड के जरिए अंदरूनी समस्याओं और खराब स्खलन के बारे में पता लगाया जाता है।

क्लैमिडिया टेस्ट

पुरुषों में क्लैमिडिया के कारण भी बांझपन की समस्या होती है। इसलिए यह टेस्ट करके इस बीमारी का निदान किया जाता है।

पुरुष बांझपन का इलाज – Purush banjhpan ka ilaj in Hindi

पुरुषों बांझपन दूर करने का इलाज बहुत सामान्य तरीके से किया जाता है। इलाज से पहले डॉक्टर बांझपन का निदान करते हैं और उसके कारणों के बारे में पता लगाते हैं। फिर इसी आधार पर पुरुषों में बांझपन का इलाज किया जाता है।

  • अधिक स्पर्म के उत्पादन के लिए पुरुषों को दवाएं दी जाती हैं।
  • इसके अलावा दवाओं के द्वारा ही पुरुषों में सेक्स के लिए उत्तेजना को भी बढ़ाया जाता है।
  • इंफेक्शन को दूर करने के लिए एंटीबायोटिक्स दिया जाता है।
  • हार्मोन असंतुलन को दूर करने के लिए हार्मोन चढ़ाया जाता है।
  • इसके अलावा भी बांझपन (banjhpan ) को दूर करने के लिए अन्य इलाज किये जाते हैं। यदि किसी पुरुष में स्पर्म की संख्या कम है तो कृत्रिम तरीके से वीर्यारोपण (insemination) किया जाता है। इस प्रक्रिया में कई बार स्खलन कराकर स्पर्म एकत्र किया जाता है। इसके बाद इसे मैनुअली उस स्पर्म को महिला के गर्भाशय या फैलोपियन ट्यूब में प्रवेश कराया जाता है।
  • पुरुषों में बांझपन को दूर करने के लिए विट्रो फर्टिलाइजेशन (VF) भी एक तरीका है। इस प्रक्रिया में पुरुषों के स्पर्म और महिलाओं के अंडे को एक प्रयोगशाला में निषेचित किया जाता है उसके बाद निषेचित अंडे को महिला के गर्भाशय में रखा जाता है।
  • यदि टेस्ट में यह पता चलता है कि किसी पुरुष के शरीर में स्पर्म बिल्कुल नहीं बन रहा है तो दाता शुक्राणु (doner sperm) की  सहायता से महिला को गर्भवती कराया जाता है। इस प्रक्रिया में स्पर्म बैंक से डोनर स्पर्म लिया जाता है और कृत्रिम वीर्यारोपण से महिला के गर्भाशय में डाला जाता है।

(और पढ़े – जानें, मां बनने में महिला के अंगों की क्या है भूमिका)

पुरुषों में बांझपन से बचाव – Male Infertility Prevention in Hindi

आमतौर पर पुरुषों में आनुवांशिक समस्या और बीमारी के कारण हुए बांझपन से बचने का कोई उपाय नहीं है। लेकिन कुछ बातों का ध्यान रखकर पुरुषों में बांझपन की संभावना को जरूर कम किया जा सकता है।

  • यौन संचारित संक्रमण से होने वाले रोगों से बचें और यह समस्या हो जाए तो तुरंत डॉक्टर को दिखाएं।
  • नशीली दवाओं और ड्रग्स के सेवन से बचें।
  • विषाक्त और हानिकारक पदार्थों (toxins) के संपर्क में आने से बचें।
  • जहां तक संभव हो रेडिएशन से दूर रहें।
  • अधिक और लगातार एल्कोहल का सेवन करने से बचें।
  • अधिक देर तक गर्म पानी में स्नान करने से बचें, इससे वृषण गर्म हो सकता है।
  • अंडरवियर थोड़ी ढीली पहनें।
  • मानसिक तनाव से दूर रहें और वजन को नियंत्रित रखें।

इन मुख्य बातों का ध्यान रखकर बांझपन से काफी हद तक बचा जा सकता है।

(और पढ़े – क्‍या लगातार सेक्स पुरुष प्रजनन क्षमता को प्रभावित करता है?)

पुरुष बांझपन दूर करने वाले खाद्य पदार्थ – Fertility Foods For Men in Hindi

अनियंत्रित रहन सहन और खान पान आपके स्‍वास्‍थ को प्रभावित कर सकता है। यह आपको शारीरिक या मानसिक किसी भी प्रकार की हानि पहुंचाने के लिए पर्यापत होता है। इसका असर प्रजनन क्षमता (Fertility capacity) पर भी पड़ सकता है। कुछ रिकार्ड बताते है कि पुरुषों में यौन प्रदर्शन में कमी होने की संभावना अधिक होती है। यह आपकी कम प्रजनन क्षमता को दर्शाता है। अस्वस्थ्यकर जीवनशैली शुक्राणु उत्पादन में वृद्धि करने वाले हार्मोन को कम कर सकते है। पुरुष बांझपन को दूर करने के लिए बहुत से डॉक्‍टरी इलाज होते है जिन्‍हें लेकर आप अपनी सेक्‍सुअल पावर को मजबूत कर सकते है।

लेकिन आपकी समस्‍या का आसान और घरेलू समाधान हो सकता है। आप कुछ खाद्य पदार्थो को अपने आहार में मिला सकते है जो प्रजनन क्षमता को बढ़ाने में उपयोगी होते है। ये आपके शुक्राणुओं की संख्‍या बढ़ाकर आपकी कामेच्‍छा को मजबूत कर सकते है। जिन लोगों को प्रजनन संबंधी समस्‍याएं आ रही है उनके लिए कुछ खाद्य पदार्थों की सूची यहाँ उपलब्ध है। हो सकता है इनका उपयोग आपके लिए फायदेमंद हो।

सैल्‍मन मछली पुरुषों की प्रजनन क्षमता बढ़ाने के लिए – Salmon Fish For Fertility foods in Hindi

सैल्‍मन समुद्री मच्‍छली है जिसमें फैटी ऐसिड और ओमेगा-3 अच्‍छी मात्रा में उपलब्‍ध होते है। जो इसे विशेष और लाभकारी आहार बनाते है।फैटी ऐसिड और ओमेगा-3 शुक्राणुओं का उत्‍पादन करने वाले हार्मोन को बढ़ाते है। इनकी उपस्थिति हमारे शरीर के अन्‍य स्‍वास्‍थ्‍य लाभ भी उपलब्‍ध कराते है।

(और पढ़े – ओमेगा 3 फैटी एसिड से भरपूर 10 खाद्य पदार्थ)

पुरुष बांझपन से बचने के लिए अनार का रस – Pomegranate Juice For fertility food in Hindi

अनार का उपयोग पुरुषों में प्रजनन शक्ति के लिए अमृत (Honeydew) के समान होता है। अनार शरीर में रक्‍त कोशिकाओं को बढ़ाने में मदद करता है। अनार में बहुत से पौष्टिक गुण होते है। अनार में फोलिए एसिड़ बड़ी मात्रा में होता है जो कि ब्‍लउ सर्कुलेशन को मजबूती देता है। अनार का सेवन कर आप अपनी यौन क्षमता को बढ़ा सकते है। यह आपके पिता बनने में मदद कर सकता है।

(और पढ़े – अनार के फायदे और नुकसान)

कद्दू का रस और बीज पुरुषों की प्रजनन क्षमता बढ़ाने के लिए – Pumpkin Juice and seeds For Fertility food in Hindi

कद्दू में जिंक (Zinc) बहुत अधिक मात्रा में होता है। जिंक पुरुषों की बांझपन को कम करने में बहुत ही फायदेमंद होता है। यदि आप जिंक का सेवन करना चाहते है तो कद्दू को अपने आहार में जरूर शामिल करें। जिंक पुरुषों में शुक्राणुओं (Sperms) की मात्रा  बढ़ाने में मदद करता है।

(और पढ़े – कद्दू के बीज के फायदे और नुकसान)

पुरुषों की प्रजनन क्षमता बढ़ाने के लिए शैल फूड्स – Shell Foods For Men Fertility food in Hindi

शैल खाद्य पदार्थ जैसे कि ऑयस्‍टर (Oysters) में अमीनो ऐसिड अधिक मात्रा में होते है।ये पुरुष हार्मोन के उत्‍पादन में बहुत उपयोगी होते है। इसका सेवन करने से आपकी यौन शक्ति में वृद्धि होती है जो गर्भाधारण के लिए बहुत उपयोगी है।

शुक्राणु उत्पादन में वृद्धि करने के लिए ब्रोकली – Broccoli For Men Fertility food in Hindi

हमारे शरीर के सर्वागींण विकास के लिए हरी सब्‍जीयों का नियमित सेवन करना चाहिए। ब्रोकोली जैसी सब्‍जीयों में फाइटोस्‍टेरॉल (phytosterols) पर्याप्त मात्रा में होते है। ये तत्व पुरुषों में हार्मोन को बनाए रखने में मदद करते है। यदि आप गर्भधारण कराने की कोशिश कर रहें है तो ब्रोकली जैसी सब्जियों का सेवन जरूर करें ।

(और पढ़े – ब्रोकली के फायदे और नुकसान)

पुरुषों की प्रजनन क्षमता बढ़ाने के लिए ब्राउन चावल – Brown Rice For Men Fertility food in Hindi

ब्राउन चावल में कार्बोआइड्रेट और फोलिक एसिड के अच्‍छी मात्रा में होते है। कार्बोहाइड्रेट और फोलिक ऐसिड हमारे शरीर में इंसुलिन की मात्रा को बनाए रखने के लिए लाभकारी होते है।

इस तालिका में दिये गऐ सुझाव बांझपन के सरल और सस्ते उपचार है। इन खाद्य वस्‍तुओं का सेवन करने से आपको तुरंत ही फायदा नही हो सकता इसके लिए इनका नियमित सेवन करना जरूरी है।

Leave a Comment

1 Comment

  • क्या किसी व्यक्ति को अगर अपनी शादी के 6 साल पहले पागल पन का दौरा पडा हो इससे भी पुरुष को बाप बनेने मे दिकत आ सकती है

Subscribe for daily wellness inspiration