आयुर्वेद के अनुसार भोजन के नियम – Ayurveda Eating Rules In Hindi

आयुर्वेद के अनुसार भोजन के नियम - Ayurveda Eating Rules In Hindi
Written by Anamika

Ayurvedic Diet Principles in Hindi आयुर्वेद के अनुसार भोजन करने के कुछ नियम बताये गए हैं जिनका पालन करने पर आप कई तरह की गंभीर बीमारियों से बच सकतें हैं। इनसे हेल्थ अच्छी रहती है और लंबी उम्र मिलती है। इस लेख में आप आयुर्वेदिक आहार सिद्धांत और स्वस्थ भोजन की आदतों के बारे में जानेंगे। आमतौर पर भोजन हमारे जीवन का एक अभिन्न अंग माना जाता है। कहा जाता है कि व्यक्ति जैसा भोजन करता है, उसका तन और मन भी वैसा ही बनता है। वैसे तो कुछ लोग अपने अपने तरीके और समय के अनुसार भोजन करते हैं जबकि कुछ लोग भोजन को लेकर बहुत सख्त होते हैं और भोजन के नियमों का पूरा ख्याल रखते हैं। भोजन सेहत के लिए फायदेमंद और नुकसान दोनों साबित हो सकता है। यह पूरी तरह से आपके ऊपर निर्भर करता है कि आप किस तरह का भोजन खाते हैं।

सिर्फ भोजन करना ही महत्वपूर्ण नहीं होता है बल्कि सही समय पर और संतुलित भोजन ही अच्छे स्वास्थ की पहचान है। यदि भोजन के सभी नियमों का पालन किया जाए तो व्यक्ति के जीवन में कभी भी किसी भी प्रकार का रोग और शोक नहीं होता। यही कारण है कि हमें आयुर्वेद के अनुसार भोजन के नियमों का पालन करने की जरूरत पड़ती है। अगर आपको भोजन के नियमों की जानकारी नहीं है तो इस आर्टिकल में हम आपको आयुर्वेद के अनुसार भोजन करने के नियमों के बारे में बताने जा रहे हैं।

  1. आयुर्वेदिक आहार सिद्धांत और स्वस्थ भोजन की आदतें – Ayurvedic Diet Principles for Healthy Eating Habits in Hindi
  2. आयुर्वेद के अनुसार भोजन के नियम भूख को दबाएं नहीं – Ayurvedic Diet Principles Don’t Suppress Appetite in Hindi
  3. आयुर्वेद के अनुसार भोजन के नियम जब भूख लगे तभी भोजन करें – Ayurvedic Diet Principles Eat only when you are hungry in Hindi
  4. आयुर्वेद के अनुसार दोपहर में अधिक भोजन करें – Eat biggest meal midday Ayurveda eating rules in Hindi
  5. आयुर्वेद के नियमानुसार रोज समय पर भोजन करें – Ayurveda ke anusar roj samay par bhojan kare in Hindi
  6. आयुर्वेद के नियमानुसार भोजन में घी डालकर खाएं – Add a little ghee to each meal in Hindi
  7. आयुर्वेद के अनुसार भोजन के नियम अधिक भोजन करने से बचें – Avoid overeating according to Ayurveda rule in Hindi
  8. आयुर्वेद के अनुसार भोजन का नियम गर्म भोजन करें – Eat warm meals in Ayurveda rule in Hindi
  9. आयुर्वेद के अनुसार एक दिन में दो बार भोजन करें – Eat Two Times a Day in Ayurveda rule in Hindi
  10. आयुर्वेद के अनुसार शांत जगह पर बैठकर भोजन करें – Eat in a calm place in Ayurveda rule in Hindi
  11. आयुर्वेद के नियमानुसार बहुत तेजी से खाना ना खाएं – Don’t eat fast Ayurveda eating rule in Hindi
  12. आयुर्वेद के अनुसार भोजन के नियम गुणवत्ता युक्त भोजन करना – Eat quality food Ayurveda eating rule in Hindi
  13. आयुर्वेद के अनुसार भोजन के नियम प्राकृतिक रूप में भोजन करें – Eat Food in their Natural Form in Hindi
  14. स्वाद के अनुसार संतुलित आयुर्वेदिक आहार – Balanced Ayurvedic Diet According to taste in Hindi
  15. आयुर्वेद के अनुसार पानी पीने के लिए नियम – Rules for Drinking Water According to Ayurveda in Hindi

आयुर्वेदिक आहार सिद्धांत और स्वस्थ भोजन की आदतें – Ayurvedic Diet Principles for Healthy Eating Habits in Hindi

आयुर्वेदिक आहार सिद्धांत और स्वस्थ भोजन की आदतें - Ayurvedic Diet Principles for Healthy Eating Habits in Hindi

आयुर्वेद के सबसे महत्वपूर्ण वर्गों में से एक आयुर्वेदिक आहार है। लोग अक्सर इसे आयुर्वेदिक संतुलित आहार और कभी-कभी सात्विक आहार कहते हैं। आयुर्वेदिक आहार वास्तव में बुद्धिमानी से खाने की विधि है क्योंकि भोजन को दवाओं से अधिक महत्वपूर्ण माना जाता है। अगर हमें हर दिन सही समय पर सही खाद्य पदार्थ खाने मिलें तो हमें किसी दवा की जरूरत नहीं होगी।

स्वस्थ, खुशहाल और लंबा जीवन जीने के लिए आयुर्वेदिक के अनुसार भोजन करने के कुछ दिशानिर्देश हैं। आयुर्वेद एक स्थिर विज्ञान है। जो आपको स्वस्थ रहने की सलाह देता है, और वह अभी भी मान्य है। इस लेख में, हम खाने के आयुर्वेदिक सिद्धांतों के आधार पर स्वस्थ खाने की आदतों पर चर्चा करेंगे। इन स्वस्थ खाने की आदतों से आपको अपने जीवन में लगभग सभी बीमारियों से बचाव और छुटकारा मिलेगा।

आयुर्वेद में आहार और भोजन करने के संबंध में कई नियम बताए गए हैं। इन नियमों का पालन करने पर आपका सभी प्रकार की बीमारियों से बचाव तो होता ही है, साथ ही हेल्थ भी अच्छी रहती है और आयुर्वेदिक के अनुसार भोजन करने से लंबी उम्र भी मिलती है। इन नियमों में भोजन करने के समय और मात्रा से लेकर खाने के प्रकार के बारे में भी बताया गया है। जानिए आयुर्वेद के अनुसार भोजन के नियम नियमों के बारे में।

(और पढ़े – संतुलित आहार के लिए जरूरी तत्व , जिसे अपनाकर आप रोंगों से बच पाएंगे…)

आयुर्वेद के अनुसार भोजन के नियम भूख को दबाएं नहीं – Ayurvedic Diet Principles Don’t Suppress Appetite in Hindi

आयुर्वेद के अनुसार भोजन के नियम भूख को दबाएं नहीं - Ayurvedic Diet Principles Don’t Suppress Appetite in Hindi

कभी भी अपनी भूख को दबाएं नहीं। आयुर्वेद के अनुसार यदि आप भूख को दबाते हैं, तो निम्न बीमारी हो सकती है:

  • शरीर में दर्द।
  • भोजन में रुचि की कमी।
  • थकान
  • आलस्य।
  • दृष्टि की कमजोरी।
  • ऊतकों का नुकसान।
  • शक्ति की हानि।
  • भूख में कमी

ऊपर कुछ स्वास्थ्य स्थितियां दी गई हैं। लेकिन अगर आप भूख को दबाते हैं और भूख लगने पर खाना नहीं खाते हैं, तो यह आपके समग्र स्वास्थ्य के लिए भी खतरनाक साबित हो सकता है।

अगर आपको दिन में दो मुख्य भोजन खाने के बाद भी भूख लगती है तो आपको क्या करना चाहिए?

आपको ताजा और स्वस्थ खाद्य पदार्थ – फल, बिना पकी सब्जियां, सलाद और नट्स, और बीज खाने चाहिए। आप नारियल खा सकते हैं और नारियल पानी या सब्जियों का जूस भी पी सकते हैं।

(और पढ़े – भूख बढ़ाने के आयुर्वेदिक घरेलू उपाय…)

आयुर्वेद के अनुसार भोजन के नियम जब भूख लगे तभी भोजन करें – Ayurvedic Diet Principles Eat only when you are hungry in Hindi

आयुर्वेद के अनुसार भोजन के नियम जब भूख लगे तभी भोजन करें - Ayurvedic Diet Principles Eat only when you are hungry in Hindi

अक्सर देखा जाता है कि कुछ लोग हमेशा कुछ न कुछ खाते रहते हैं और भूख न लगी हो तब भी खाना खाने बैठ जाते हैं। आयुर्वेद में भोजन करने को लेकर बहुत सख्त नियम है। इसके अनुसार जब पिछला खाना पूरी तरह से पच जाए और खुलकर दोबारा से भूख महसूस हो तब आपको अपना अगला भोजन करना चाहिए। अपने शरीर की आवश्यकता को महसूस करें और नोटिस करें कि आपको कितनी देर पर प्यास और भूख लगती है। अगर आप बीमारियों से बचने के लिए आयुर्वेद का पालन करना चाहते हैं तो भूख लगने पर ही खाना खाएं।

  • स्वस्थ खाने और स्वस्थ रहने का गोल्डन रूल केवल तब खाना है जब आप वास्तव में भूखे हों। प्यास लगने पर ही पानी पिएं।
  • जब आपको प्यास लगे, तो खाना न खाएं। आपको इस समय पानी पीना चाहिए।
  • जब आपको भूख लगे, तो पानी न पिएं। आपको उस समय भोजन करना चाहिए।

भूख लगने पर खाने के फायदे

यदि आप भूख लगने पर खाते हैं, तो यह आपके दिमाग और शरीर को निम्नलिखित चीजें प्रदान करता है:

  • खुशी।
  • शक्ति।
  • बहुत बढ़िया मेमोरी।
  • दीर्घायु।
  • धीरज और सहनशीलता।
  • अच्छा रंग और चमक त्वचा।
  • रोग प्रतिरोधक शक्ति
  • जीवन शक्ति।
  • गुण।

(और पढ़े – खाना खाने के बाद पानी पीना चाहिए कि नहीं…)

आयुर्वेद के अनुसार दोपहर में अधिक भोजन करें – Eat biggest meal midday Ayurveda eating rules in Hindi

आयुर्वेद के अनुसार दोपहर में अधिक भोजन करें - Eat biggest meal midday Ayurveda eating rules in Hindi

आयुर्वेद में माना जाता है कि पेट की पाचन अग्नि सूर्य के समान होती है जो दिन के समय अधिक बेहतर तरीके से कार्य करती है। अगर आप तीनों समय ढेर सारा खाना खाते हैं तो यह आपके सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है और आपका वात और पित्त भी बढ़ सकता है। इसलिए आयुर्वेद के अनुसार आपको अगर ज्यादा भोजन करने की इच्छा है तो दोपहर के समय आप जितना चाहें उतना खा सकते हैं। दोपहर में किए गए भारी भोजन को पचने के लिए पर्याप्त समय मिल जाता है। आपको नाश्ता और डिनर बहुत हल्का करना चाहिए। आयुर्वेद में भोजन के यही नियम हैं।

(और पढ़े – सुबह के नाश्ते में ये खाएंगे तो रहेंगे फिट…)

आयुर्वेद के नियमानुसार रोज समय पर भोजन करें – Ayurveda ke anusar roj samay par bhojan kare in Hindi

आयुर्वेद के नियमानुसार रोज समय पर भोजन करें - Ayurveda ke anusar roj samay par bhojan kare in Hindi

आयुर्वेद के अनुसार आपको रोजाना तीन बार भोजन करना चाहिए। इसका मतलब यह है कि आपको सुबह का नाश्ता कभी नहीं छोड़ना चाहिए, दोपहर में संतुलित भोजन खाना चाहिए और रात में हल्का भोजन करना चाहिए। इसके अलावा आपके भोजन करने का समय निर्धारित होना चाहिए। जैसे कि सुबह का नाश्ता आपको सात बजे से नौ बजे के बीच कर लेना चाहिए। दोपहर का भोजन 12 बजे से 1 बजे के बीच में कर लेना चाहिए और रात का खाना शाम छह बजे से आठ बजे के बीच खा लेना चाहिए। भोजन करने के आयुर्वेद के इन नियमों का पालन करने से आप स्वस्थ रहेंगे और विशेषरुप से आपको पाचन संबंधी दिक्कतें नहीं होंगी।

(और पढ़े – आयुर्वेद के अनुसार दिनचर्या…)

आयुर्वेद के नियमानुसार भोजन में घी डालकर खाएं – Add a little ghee to each meal in Hindi

घी, जिसे की मक्खन के रुप में भी जाना जाता है, आयुर्वेद में हजारों वर्षों से औषधीय रूप से उपयोग किया जाता है। यह अग्नि (पाचन अग्नि) को उत्तेजित करता है और पोषक तत्वों के अवशोषण और आत्मसात करने की क्षमता दोनों को बढ़ाता है। घी में एंटीएजिंग गुण होते हैं और इसका उपयोग आयुर्वेद में बेहतर काया के लिए किया जाता है जो शरीर को गहराई से पोषण देने का काम करता है। यह ऊर्जा, प्रतिरक्षा, स्मृति और बुद्धि को बढ़ाता है। यहां तक ​​कि घी विषाक्त पदार्थों को शरीर से बाहर निकालने का काम करता है। आयुर्वेद के अनुसार भोजन के नियम का पालन करने के लिए भोजन में रोजाना लगभग एक चम्मच खाने की सलाह दी जाती है। आप दलिया, सूप, क्विनोआ व्यंजन, चावल, दाल, सब्जी और खिचड़ी में घी डालकर खा सकते हैं।

(और पढ़े – घी के फायदे और नुकसान…)

आयुर्वेद के अनुसार भोजन के नियम अधिक भोजन करने से बचें – Avoid overeating according to Ayurveda rule in Hindi

आयुर्वेद के अनुसार भोजन के नियम अधिक भोजन करने से बचें - Avoid overeating according to Ayurveda rule in Hindi

आवश्यकता से ज्यादा भोजन करना बहुत से लोगों की आदत होती है। वास्तव में अत्यधिक भोजन करने से पाचन तंत्र पर बहुत ज्यादा दबाव पड़ता है और भोजन सही तरीके से पच नहीं पाता है और अपच (indigestion) की समस्या हो जाती है एवं शरीर में विषाक्त पदार्थ जमा होने लगते हैं। एंजाइम की कमी के कारण अधिक अम्ल का स्राव होने लगता है जिससे पेट फूल जाता है, पेट में गैस बनता है और एसिड रिफ्लक्स की समस्या हो जाती है। अधिक भोजन करने से वजन भी बढ़ता है और पेट की अग्नि भी बढ़ती है।

आयुर्वेद के अनुसार आपको अपना पेट एक तिहाई भोजन, एक तिहाई तरल पदार्थ से भरना चाहिए और एक तिहाई हिस्सा पाचन प्रक्रिया के लिए छोड़ देना चाहिए। इससे आपके पेट की अग्नि मजबूत होगी और आप ऊर्जावान महसूस करेंगे। कोई भी खाना खाने के बाद आपको पेट में भारीपन महसूस नहीं होना चाहिए। हालांकि, पर्याप्त मात्रा में खाएं जो आपकी भूख को संतुष्ट करता है।

  • साबुत अनाज, दाल, पकी हुई सब्जियाँ, बीज, नट, और फल कम पानी की मात्रा ठोस खाद्य पदार्थों को संदर्भित करती है।
  • फलों का रस, सब्जियों का सूप, नींबू का पानी, छाछ, नारियल पानी, दूध, पानी से भरपूर फल, और सलाद का सामान तरल खाद्य पदार्थों को संदर्भित करता है।
  • आपको अपनी भूख से ¼  हिस्सा कम खाना चाहिए। और, खाना खाने के बाद भी पेट 25% खाली रहना चाहिए।

स्वस्थ भोजन के संकेत

  • भोजन करने के बाद अपनी भावनाओं पर ध्यान दें। स्वस्थ भोजन खाने के बाद आप फ्रेश और एक्टिव महसूस करेंगे।
  • आप खाने के बाद भी पेट में हल्कापन महसूस करते हैं।
  • आप अपने पेट के साथ सहज हैं।
  • आपका पेट आपको कभी भी याद नहीं दिलाता है कि कुछ गलत हो गया है, या आप अधिक खा चुके हैं।
  • आप खाने के बाद पेट में कोई भारीपन का अनुभव नहीं करते हैं।
  • जंक फ़ूड और अस्वास्थ्यकर भोजन करने के बाद आप पेट के साथ बेचैनी, मिचली और असहज महसूस करेंगे।

(और पढ़े – जानिए जंक फूड (फास्ट फूड) के नुकसान और हानिकारक प्रभावों को…)

आयुर्वेद के अनुसार भोजन का नियम गर्म भोजन करें – Eat warm meals in Ayurveda rule in Hindi

अगर आप आयुर्वेद के अनुसार भोजन नियमों का पालन करते हैं तो आप अधिक स्वस्थ रह सकते हैं। आयुर्वेद में बताया गया है कि आपको हमेशा ताजा और गर्म भोजन करना चाहिए। लंबे समय से बनाकर रखा गया भोजन करने से बचें और फ्रिज से भोजन निकालकर सीधे ना खाएं। इससे आपके पेट की अग्नि कमजोर होती है आपके पाचन में सहायता करने वाले एंजाइम सही तरीके से कार्य करें, इसके लिए आपको गर्म और फ्रेश भोजन करना चाहिए।

  • आयुर्वेद खाना पकाने के 48 मिनट के भीतर उसे खाने की सलाह देता है। आप भोजन को अधिकतम 3 घंटे तक स्टोर कर सकते हैं।
  • भगवद गीता में श्रीकृष्ण कहते हैं कि भोजन को 3 घंटे से अधिक नहीं रखना चाहिए। तीन घंटे के बाद, भोजन को बासी भोजन माना जाता है। आपको 3 घंटे के भीतर खाना खा लेना चाहिए।
  • अगली बार या अगले दिन के लिए उन्हें फ्रिज में न रखें। भोजन को उतनी ही मात्रा में पकाएं, जिसे आप और आपका परिवार आसानी से तुरंत खा सकते हैं।

(और पढ़े – आयुर्वेद के अनुसार किन चीजों को साथ में नहीं खाना चाहिए…)

आयुर्वेद के अनुसार एक दिन में दो बार भोजन करें – Eat Two Times a Day in Ayurveda rule in Hindi

आयुर्वेद के अनुसार एक दिन में दो बार भोजन करें - Eat Two Times a Day in Ayurveda rule in Hindi

हमें कितनी बार आदर्श रूप से खाना चाहिए? यहाँ आयुर्वेदिक आहार के तीसरे सिद्धांत में उत्तर दिया गया है।

आयुर्वेद 2 मुख्य भोजन के बारे में बात करता है – सुबह और शाम।

अष्टांग संघर्ष ने भोजन के लिए कोई समय नहीं दिया है, लेकिन इसमें केवल सुबह के भोजन और शाम के भोजन का उल्लेख किया है। उपरोक्त समय केवल सामान्य दृष्टांत के लिए हैं, आपको यह देखना चाहिए कि आपके लिए क्या समय उपयुक्त है। आपको अपनी व्यक्तिगत परिस्थितियों के अनुसार अपनी जैविक घड़ी निर्धारित करने की आवश्यकता है। और उसी के अनुसार भोजन करने की।

(और पढ़े – खाने के बाद ये काम किया तो हो जाएगी मुसीबत बिगड़ेगी सेहत, पड़ेंगे लेने के देने !)

आयुर्वेद के अनुसार शांत जगह पर बैठकर भोजन करें – Eat in a calm place in Ayurveda rule in Hindi

हमेशा शांत जगह पर भोजन करें और जमीन पर बैठकर खाना खाएं। आयुर्वेद के अनुसार भोजन करते समय व्यक्ति को अपने पांचों इंद्रियों का प्रयोग करना चाहिए। भोजन करते समय ध्यान इधर उधर नहीं भटकाना चाहिए और खाना खाते हुए टीवी, किताब, फोन या फिर लैपटाप का उपयोग नहीं करना चाहिए। अपने भोजन का आनंद लें और उसे सही तरीके से चबाकर खाएं। इससे न सिर्फ आपको अपने भोजन का स्वाद मिलेगा बल्कि इससे आपकी सेहत भी बनेगी।

जल्दी- जल्दी नहीं खाना चाहिये। क्योंकि आयुर्वेद में, भोजन करना पूजा के समान है।

  • आपका मन शांत होना चाहिए।
  • आपको फर्श पर क्रॉस-लेग्ड मुद्रा में बैठना चाहिए। आप फर्श पर चटाई पर बैठ सकते हैं।
  • भोजन शुरू करने से पहले, भोजन के लिए प्रकृति के प्रति आभार व्यक्त करें। मन में खुशी, शांति और दयालुता महसूस करें।
  • भोजन करने से पहले, गरीब लोगों को भोजन प्रदान करें, यदि वे भोजन मांगने के लिए दरवाजे पर हों। फिर अतिथि, बड़ों और बच्चों को भोजन परोसें। फिर भोजन करना चाहिए। आपको अपने परिवार के सदस्यों के साथ भोजन करना चाहिए।
  • हमेशा शांत और आरामदायक वातावरण में भोजन करें।
  • भोजन करते समय टीवी और मोबाइल फोन जैसे विकर्षणों से दूर रहें।
  • भोजन करते समय उपस्थित रहना महत्वपूर्ण है। इसका मतलब है कि किसी को सभी पांच इंद्रियों का उपयोग करके भोजन, स्वाद, बनावट, रचना और भोजन की गंध की सराहना करने के लिए समय लेना चाहिए।

ये सभी कार्य अल्जाइमर रोग, अवसाद, चिंता और अन्य मनोवैज्ञानिक रोगों की रोकथाम में मदद करते हैं। अपने परिवार के सदस्यों के साथ भोजन करना सबसे महत्वपूर्ण है।

शोध के अध्ययनों ने निष्कर्ष निकला है कि जो लोग अपने माता-पिता और बच्चों के साथ भोजन करते हैं, उनके जीवन में बाद में मानसिक रोगों से पीड़ित होने की संभावना कम होती है।

(और पढ़े – अल्जाइमर से बचने के लिए खाएं ये हेल्दी फूड…)

आयुर्वेद के नियमानुसार बहुत तेजी से खाना ना खाएं – Don’t eat fast Ayurveda eating rule in Hindi

आयुर्वेद के नियमानुसार बहुत तेजी से खाना ना खाएं - Don't eat fast Ayurveda eating rule in Hindi

आज के भागदौड़ भरी जिंदगी में लोगों के पास भोजन करने के लिए भी पर्याप्त समय नहीं बचा है। याद रखें, आयुर्वेद में जल्दी जल्दी भोजन करने पर प्रतिबंध है। इसके अनुसार आपको आराम से और पर्याप्त समय लेकर अपना भोजन करना चाहिए। भोजन को खूब चबाएं ताकि पचने में आसानी है। खड़े खड़े या बहुत जल्दबाजी में भोजन को गटकें नहीं और ना ही बिना चबाए भोजन को निगलें। इससे न सिर्फ पाचन क्रिया गड़बड़ होती है बल्कि आपको विभिन्न प्रकार की बीमारियां भी हो सकती हैं।

(और पढ़े – धीरे-धीरे खाना खाने से होते हैं ये बड़े फायदे…)

आयुर्वेद के अनुसार भोजन के नियम गुणवत्ता युक्त भोजन करना – Eat quality food Ayurveda eating rule in Hindi

आप अगर एक अच्छा स्वास्थ चाहते हैं तो हमेशा नजर रखें कि आप किस तरह का भोजन कर रहे हैं। वास्तव में आयुर्वेद में सादे और सामान्य भोजन को अधिक महत्व दिया जाता है। इसके अलावा किसी भी प्रकार का भोजन करते समय अपने पाचन का भी ख्याल रखें। बहुत अधिक सूखा भोजन न करें। रसेदार सब्जियां और कम मसालेयुक्त सब्जियां खाएं। आप अपने भोजन में जितना कम तेल और मसालों का इस्तेमाल करेंगे यह आपकी सेहत के लिए उतना ही बेहतर होगा और आप रोगमुक्त रहेंगे। आयुर्वेद में इसी प्रकार के भोजन को मान्यता दी गयी है।

(और पढ़े – खाना पकाने और सेहत के लिए सबसे अच्छे तेल…)

आयुर्वेद के अनुसार भोजन के नियम प्राकृतिक रूप में भोजन करें – Eat Food in their Natural Form in Hindi

  • प्रकृति से मिलने वाले प्राकृतिक खाद्य पदार्थ खाएं। ऐसे खाद्य पदार्थ न पकाएं, जिन्हें आप बिना पकाए खा सकते हैं। इसमें फल, सब्जियां, नट्स और कुछ बीज शामिल हैं। उन्हें उनके प्राकृतिक रूप में खाएं।
  • जिन खाद्य पदार्थों को अत्यधिक पकाया जाता है, उनमें कोई जीवन नहीं होता है। इसका मतलब है कि पके हुए खाद्य पदार्थों में बिना पके हुए खाद्य पदार्थों की तुलना में कम पोषक तत्व होते हैं।
  • गुणवत्ता के आधार पर खाना खाएं, मात्रा नहीं।
  • पोषक तत्वों की अवशोषण दर में सुधार करने के लिए भोजन रसदार होना चाहिए और तेल की अधिकता नहीं होनी चाहिए।
  • व्यक्ति को बहुत अधिक सूखे खाद्य पदार्थों से बचना चाहिए।
  • जितना संभव हो उतना खाना हल्का होना चाहिए।

(और पढ़े – स्वस्थ आहार के प्रकार और फायदे…)

स्वाद के अनुसार संतुलित आयुर्वेदिक आहार – Balanced Ayurvedic Diet According to taste in Hindi

स्वाद के अनुसार संतुलित आयुर्वेदिक आहार - Balanced Ayurvedic Diet According to taste in Hindi

आयुर्वेदिक आहार का मतलब केवल चावल, उबली हुई सब्जियां और सलाद खाना नहीं है, आयुर्वेदिक विशिष्ट सिद्धांतों का पालन करता है और इसे किसी भी प्रकार के व्यंजनों में लागू किया जा सकता है। आयुर्वेद मुख्य रूप से छह स्वादों को मानता है और इन स्वादों में मीठा, नमकीन, तीखा, खट्टा, कसैला और कड़वा शामिल होता है।

भोजन एक विशेष क्रम में पचता है अपने आप को संतुष्ट महसूस कराने के लिए इन छह स्वादों को अपने दैनिक आहार में शामिल करना चाहिए। तो, आपको प्रत्येक रेसिपी में कुछ मसाले जैसे हल्दी, जीरा, दालचीनी, इलायची और ताजा मसाले जैसे ताजा अदरक, ताजा धनिया या सीताफल शामिल करना चाहिए।

आयुर्वेदिक के अनुसार आहार का पालन करने की दिशा में सबसे महत्वपूर्ण कदम यह है कि आप अपने व्यक्तिगत दोष को जानें। वात, पित्त और कफ दोष एक व्यक्ति के शरीर में विभिन्न शारीरिक कार्यों के लिए जिम्मेदार ऊर्जा है। हर दिन भोजन के लिए एक विशेष कार्यक्रम निर्धारित करने के लिए अपना समय लें।

सात्विक भोजन करें

  • यह ‘GUNAS’ गुनस ’के सिद्धांत से परिचित होने और सात्विक (SATTVIC), राजसिक (RAJASIC) और तामसिक (TAMASIC) खाद्य पदार्थों के बीच अंतर जानने का समय है।
  • आम तौर पर, सात्विक खाद्य पदार्थ रसदार, स्वादिष्ट, आर्गेनिक, और ताजा पकाया जाता है और पचाने में आसान होता है।
  • राजसिक खाद्य पदार्थ ताजा डिब्बाबंद खाद्य पदार्थ, अंडे, कैफीन, आदि हैं।
  • तामसिक खाद्य पदार्थ बचे हुए, जमे हुए और किण्वित खाद्य पदार्थ हैं।
  • स्वस्थ जीवन जीने के लिए आपको अपने दैनिक आहार में अधिक सात्विक खाद्य पदार्थों को शामिल करना चाहिए।
  • घर में बना खाना खाएं। दुकानों और रेस्तरां में बेचे जाने वाले रेडीमेड भोजन न खाएं।
  • घर पर अपने और अपने परिवार के लिए खाना पकाएं। आपको ऐसा खाना नहीं खाना चाहिए जो रेस्तरां, दुकानों और पैक किए गए खाद्य पदार्थों में बेचा जाता है।

(और पढ़े – मसालेदार खाना खाने के फायदे और नुकसान…)

आयुर्वेद के अनुसार पानी पीने के लिए नियम – Rules for Drinking Water According to Ayurveda in Hindi

आयुर्वेद के अनुसार पानी पीने के लिए नियम - Rules for Drinking Water According to Ayurveda in Hindi

  • अगर आप वात बॉडी टाइप या कफ़ बॉडी टाइप रखते हैं तो हमेशा रूम टेम्परेचर या उससे थोड़ा गर्म पानी पिएं।
  • यदि आपके पास पित्त बॉडी टाइप है, तो आप मिट्टी के बर्तन में रखा ठंडा पानी पी सकते हैं। आपको इस मिट्टी के बर्तन को खुली जगह पर रखना चाहिए जहां प्राकृतिक हवा आती है और मिट्टी के बर्तन को छूती है।
  • कभी भी खड़े होकर पानी ना पीयें। और पानी हमेशा घूट -घूट ही पीयें।

(और पढ़े – पानी पीने का सही तरीका…)

इसी तरह की अन्य जानकरी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

आपको ये भी जानना चाहिये –

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration