स्किन एलर्जी के कारण, लक्षण, जाँच और इलाज - Skin allergy treatment in Hindi
बीमारी

स्किन एलर्जी के कारण, लक्षण, जाँच और इलाज – Skin allergy causes, test and treatment in Hindi

स्किन एलर्जी के कारण लक्षण जाँच और इलाज – Skin allergy causes, symptoms, test and treatment in hindi

जब वातावरण में मौजूद कोई पदार्थ शरीर के संपर्क में आता है, तो शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली प्रतिक्रिया उत्पन्न करती है जिसके परिणामस्वरुप एलर्जी उत्पन्न होती है। अतः जब वातावरण में मौजूद एलर्जी उत्पन्न करने वाले पदार्थ या उत्तेजक पदार्थ स्किन के संपर्क में आते हैं, तो एलर्जिक रिएक्शन के कारण स्किन पर खुजली, जलन, चकत्ते (rash) या दाने उत्पन्न हो जाते हैं, जिसे स्किन एलर्जी के नाम से जाना जाता है। स्किन एलर्जी कोई बीमारी नहीं है बल्कि यह कुछ बाहरी पदार्थों से शरीर की रक्षा के लिए इम्यून सिस्टम की प्रतिक्रिया का परिणाम है। स्किन एलर्जी काफी असुविधाजनक लक्षणों के उत्पन्न होने का कारण बनती है तथा किसी बीमारी से ज्यादा परेशान कर सकती है। अतः इसके कारणों की जाँच करना तथा इलाज कराना आवश्यक होता है।

आज इस लेख में आप स्किन एलर्जी क्या है, स्किन एलर्जी के लक्षण, कारण, इलाज, प्रकार, स्किन एलर्जी टेस्ट, त्वचा की एलर्जी का उपचार, बचाव और स्किन एलर्जी को दूर करने के घरेलू उपाय के बारे में जान सकेगें।

स्किन एलर्जी क्या है – What is skin allergy in Hindi

कोई भी बाह्य पदार्थ जो स्किन एलर्जी का कारण बनता है, उसे एलर्जेन (allergen) कहा जाता है। अतः जब एलर्जी पैदा करने वाले पदार्थ (एलर्जेन) शरीर के संपर्क में आते हैं, तो आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली उनसे शरीर की रक्षा करने के लिए प्रतिक्रिया के परिणामस्वरूप अधिक एंटीबॉडी का निर्माण करती है, और स्किन के कांटेक्ट में आये एलर्जेन से लड़ने के लिए भेजती है। जिसके कारण स्किन पर लालिमा, खुजली, जलन और लाल चकत्ते (rashes) आदि लक्षण उत्पन्न हो जाते हैं। इस स्थिति को स्किन एलर्जी के रूप में जाना जाता है। स्किन एलर्जी अलग-अलग व्यक्तियों में अलग-अलग कारणों से उत्पन्न हो सकती है, तथा इसके लक्षण भी अलग हो सकते हैं।

(और पढ़ें: स्किन इन्फेक्शन से छुटकारा पाने के घरेलू उपाय..)

स्किन एलर्जी के प्रकार – types of skin allergy in Hindi

स्किन एलर्जी के अनेक प्रकार हैं जिसमें से प्रमुख प्रकार निम्न हैं:

  • एटोपिक डर्मेटाइटिस (Atopic dermatitis) – इसको एटोपिक एक्जिमा (Atopic eczema) के रूप में भी जाना जाता है।
  • अर्टिकेरिया (Urticaria) या हीव्स (Hives) – इसमें त्वचा पर लाल चकत्ते, शरीर में खुजली और त्वचा में सूजन भी आ सकती है।
  • सेबोरहाइक डर्मेटाइटिस (Seborrheic dermatitis) – इस स्किन एलर्जी में पीले-ग्रे रंग के पैच चेहरे, स्कैल्प, छाती और पीठ पर दिखाई देने लगते हैं।
  • कॉन्टेक्ट डर्मेटाइटिस (Contact dermatitis) – यह स्किन एलर्जी कुछ चीजों के संपर्क में आने की वजह से होती है।
  • एंजियोएडिमा (Angioedema) – इस स्किन एलर्जी में हीव्स की तरह ही त्वचा पर सूजन होती है।
  • न्यूमुलर एक्जिमा (Nummular eczema) – इस एलर्जी में स्किन पर खुजली होने लगती है और सिक्के के समान गोल आकार के धब्बे दिखाई देने लगते हैं।

स्किन एलर्जी के लक्षण – Skin allergy symptoms in Hindi

स्किन एलर्जी के लक्षण - Skin allergy symptoms in Hindi

एलर्जिक रिएक्शन के तहत व्यक्तियों को होने वाली सामान्य एलर्जी में स्किन पर खुजली पैदा करने वाले चकत्ते उत्पन्न होते हैं। सूर्य का प्रकाश, कुछ रसायन, निकिल धातु, डस्ट, पराग कण इत्यादि कारक स्किन एलर्जी का कारण बन सकते हैं। जिन व्यक्तियों को जिस भी पदार्थ से एलर्जी की समस्या होती है, उसके संपर्क में आने पर प्रभावित त्वचा पर निम्न सामान्य लक्षण देखने को मिलते हैं, जैसे:

स्किन एलर्जी के लक्षण काफी सामान्य है, और अधिकांश स्थितियों में कुछ ही दिनों में घरेलू उपाय अपनाकर दूर हो जाते हैं। लेकिन ध्यान रहे कि छोटी माता या चिकन पॉक्स की स्थिति में भी स्किन पर रैश या दाने उत्पन्न होते हैं। यदि आपको ऊपर दिए गए लक्षणों के साथ तेज बुखार और शरीर में दर्द जैसे लक्षण भी महसूस होते है तो डॉक्टर से संपर्क करें और इसका इलाज कराएं।

स्किन एलर्जी के कारण – Skin allergy causes in Hindi

स्किन एलर्जी के कारण – Skin allergy causes in Hindi

शुरुआत में किसी व्यक्ति के शरीर में एलर्जी की प्रतिक्रिया विकसित होने में 10 दिन का समय लग सकता है। एलर्जी की प्रतिक्रिया विकसित होने के बाद जब भी शरीर एलर्जी ट्रिगर पदार्थों के संपर्क में आता है तो कुछ ही मिनटों में लक्षण उत्पन्न हो सकते हैं। स्किन एलर्जी के कारणों को ध्यान में रखकर और इनका पता लगाकर, इससे होने वाले वाली गंभीर बीमारियों से बचा जा सकता है। स्किन एलर्जी का कारण बनने वाले सबसे आम कारणों में निम्न को शामिल किया जाता है, जैसे:

  • मौसम में परिवर्तन
  • सनस्क्रीन और स्प्रे का प्रयोग
  • इत्र और सुगंधित पदार्थ के संपर्क में आना
  • सफाई और धुलाई एजेंट जैसे डिटर्जेंट और टॉयलेट क्लीनर का संपर्क
  • कुछ रसायन और धुएं
  • धूल के कण, शैम्पू, परफ्यूम, लिपस्टिक और साबुन
  • पशु उत्पाद जिनमें शामिल हैं- पशुओं के बालों की रूसी, पशु अपशिष्ट
  • कुछ ड्रग्स (दवाएं) जैसे, पेनिसिलिन और सल्फा ड्रग के साइड इफ़ेक्ट
  • कीट डंक, जैसे – मधुमक्खी, ततैया और मच्छर
  • मोल्ड (Mold) या फफूंद
  • कुछ सामान्य एलर्जी कारक पौधे जैसे- घास, खरपतवार
  • अन्य एलर्जेन जैसे- लेटेक्स (Latex) दस्ताने और कंडोम
  • धूप, इत्यादि।

(और पढ़ें: त्वचा की सभी समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए घरेलू फेस पैक…)

स्किन एलर्जी टेस्ट – skin allergy test in Hindi

त्वचा की एलर्जी का परीक्षण करने के लिए मुख्य रूप से स्किन टेस्ट या ब्लड टेस्ट को उपयोग में लाया जाता है, तथा एलर्जी का कारण बनने वाली पदार्थों या एलर्जेंस (allergens) का पता लगाने के लिए पैच टेस्ट का उपयोग किया जा सकता है।

स्किन टेस्ट – Skin tests for skin allergy in Hindi

कई प्रकार की संभावित एलर्जी की पहचान करने के लिए त्वचा परीक्षण या स्किन टेस्ट का उपयोग किया जाता है। इसमें एलर्जेंस वायुजनित एलर्जी (airborne allergens), खाद्य एलर्जी (food allergens), और कांटेक्ट एलर्जी (contact allergens) शामिल हैं। स्किन टेस्ट के अंतर्गत मुख्य रूप से तीन प्रकार के परीक्षण किये जाते हैं, स्क्रैच टेस्ट (scratch test), इंट्राडर्मल टेस्ट (intradermal test) और पैच टेस्ट (patch test) हैं।

स्क्रैच टेस्ट – scratch test in Hindi 

डॉक्टर आमतौर पर सर्वप्रथम स्क्रैच टेस्ट (scratch test) के माध्यम से स्किन एलर्जी का निदान करने की कोशिश करता है। इस परीक्षण के दौरान, एलर्जेन (एलर्जी पैदा करने वाले पदार्थ) को एक तरल में रखा जाता है, फिर उस तरल को एक विशेष उपकरण के माध्यम से आपकी त्वचा के किसी एक हिस्से पर रखा जाता है। इसके पश्चात डॉक्टर, एलर्जेन पदार्थ पर त्वचा द्वारा की जाने वाली प्रतिक्रिया को बारीकी से जांच करता है। यदि परीक्षण के समय प्रभावित त्वचा पर लालिमा, सूजन, उठाव या खुजली जैसे लक्षण प्रगट होते हैं, तो यह सिद्ध हो जाता है कि आपको उस विशिष्ट एलर्जेन से एलर्जी है।

इंट्राडर्मल टेस्ट – intradermal test in Hindi

यदि स्क्रैच टेस्ट (scratch test) के माध्यम से स्किन एलर्जी का निदान नहीं होता है, तो डॉक्टर एक इंट्राडर्मल स्किन टेस्ट (intradermal skin test) की सिफारिश कर सकता है। इस परीक्षण के दौरान एलर्जी से पीड़ित व्यक्ति की स्किन की डर्मिस लेयर में थोड़ी मात्रा में एलर्जेन का इंजेक्शन लगाया जाता है। इंजेक्शन लगाने के बाद डॉक्टर स्किन पर इसकी प्रतिक्रिया की जाँच करेगा। यदि स्किन एलर्जी से सम्बंधित किसी प्रकार के लक्षण प्रगट होते हैं तो आपको उस विशेष प्रकार के एलर्जेन से एलर्जी है।

पैच टेस्ट – Patch testing in Hindi

पैच परीक्षण एक प्रकार का त्वचा परीक्षण है, जिसका उपयोग कॉन्टैक्ट डर्मेटाइटिस (contact dermatitis) के कारण को निर्धारित करने के लिए किया जाता है। पैच में विभिन्न प्रकार के एलर्जेंस, चिपकने वाली शीट पर छोटे बिंदुओं के रूप में लगे होते हैं। पैच को व्यक्ति की पीठ पर 48 घंटे के लिए लगाया जाता है। इस समय के दौरान किसी भी प्रकार से पैच गीला न हो, इस बात का विशेष ध्यान रखा जाता है।

48 घंटों के बाद, डॉक्टर पैच को हटाता है और एक अमिट सर्जिकल मार्कर की सहायता से प्रत्येक पैच का स्थान चिह्नित कर दिया जाता है। इसके बाद अंतिम जाँच 72 से 96 घंटों के बीच की जाती है, जिसमें डॉक्टर इन चिह्नित स्थानों पर होने वाली किसी भी प्रतिक्रिया पर ध्यान देता है और स्किन एलर्जी का कारण बनने वाले पदार्थों का पता लगा लिया जाता है। पैच टेस्ट एक दर्द रहित जांच है।

स्किन एलर्जी ब्लड टेस्ट – Blood tests for skin allergy in Hindi

हालांकि स्किन टेस्ट बेहद संवेदनशील होता है लेकिन गंभीर एलर्जी होने की स्थिति में डॉक्टर रक्त परीक्षण के माध्यम से त्वचा पर एलर्जी का निदान कर सकते हैं। शरीर में विशिष्ट एलर्जेन (specific allergens) से लड़ने वाले एंटीबॉडी की उपस्थिति का पता लगाने के लिए रक्त का परीक्षण का प्रयोग किया जाता है। इस परीक्षण को ImmunoCAP के नाम जाना जाता है। यह परीक्षण प्रमुख एलर्जेंस (major allergens) कारकों के लिए आईजीई एंटीबॉडी का पता लगाने में बहुत सफल एलर्जी परीक्षण है।

उन्मूलन आहार – Elimination diet for skin allergy in Hindi

एक उन्मूलन आहार के माध्यम से डॉक्टर यह निर्धारित करने की कोशिश करता है, कि कौन से खाद्य पदार्थ आपके लिए स्किन एलर्जी का कारण बन रहे हैं। इस परीक्षण के दौरान आपके आहार से कुछ खाद्य पदार्थों को हटाने और बाद में उन्हें वापस शामिल करने पर जोर दिया जाता है। इस परीक्षण के माध्यम से यह निर्धारित करने में मदद मिलती है कि कौन से खाद्य पदार्थ समस्याएं पैदा करने का कारण बनते हैं।

स्किन एलर्जी का इलाज – skin allergy treatment in Hindi  

एलर्जी से बचने, तथा इसके लक्षणों को दूर करने के लिए कुछ दवाओं जैसे- एंटीहिस्टामाइन जैसी दवाओं के माध्यम से एलर्जी का इलाज किया जाता है।

कॉन्टैक्ट डर्मेटाइटिस (Contact dermatitis) और एक्जिमा (eczema) आम तौर पर चिकित्सकीय आपात की स्थिति नहीं हैं। स्किन एलर्जी के इलाज के लिए इस्तेमाल की जाने वाली दवाओं में सूजन कम करने और खुजली से राहत दिलाने के लिए सामयिक कॉर्टिकोस्टेरॉइड (topical corticosteroids) शामिल हैं। यह दवाएं, मलहम या क्रीम के रूप में उपयोग की जाती हैं, इनमें शामिल हैं:

  • कॉर्ड्रान (Cordran (flurandrenolide))
  • लिडेक्स (Lidex (fluocinonide))
  • टॉपिकॉर्ट (Topicort (desoximetasone))
  • Psorcon (diflorasone diacetate)
  • हाइड्रोकार्टिसोन (Hydrocortisone)इत्यादि।

गंभीर स्किन एलर्जी संबंधी प्रतिक्रियाओं के इलाज के लिए डॉक्टर स्टेरॉयड (systemic steroids) की सिफारिश कर सकता है। यह दवाएं मौखिक या इंजेक्शन के रूप में ली जाती हैं तथा यह सूजन और अन्य लक्षणों को कम करने में मदद करती हैं।

इसके अलावा त्वचा एलर्जी का इलाज करने के दौरान डॉक्टर मरीज के लिए प्रभावित त्वचा को मॉइस्चराइजर या पेट्रोलियम जेली से सुरक्षित रखने, जलन पैदा करने वाले कारकों के संपर्क में आने से बचने और गर्म शावर या स्नान से बचने की सिफारिश कर सकता है।

स्किन एलर्जी से बचने के तरीके – Skin Allergy Prevention in Hindi

स्किन एलर्जी से बचने के तरीके - Skin Allergy Prevention in Hindi

त्वचा की एलर्जी से बचने का एक ही तरीका है, वो यह कि इसके कारणों का पता लगाया जाए और उनके संपर्क में आने से बचा जाए। इसके अलावा कुछ सावधानियां ध्यान में रखकर स्किन एलर्जी के जोखिम को कम किया जा सकता हैं, स्किन एलर्जी से पीड़ित व्यक्तियों को निम्न बातों का ध्यान रखना चाहिए:

  • यदि आपको स्किन एलर्जी है तो आप धूम्रपान और शराब के सेवन से बचें
  • एलर्जी से पीड़ित होने की स्थिति में मसालेदार या स्वस्थ के लिए हानिकारक भोजन से परहेज करें।
  • स्किन एलर्जी से बचने के लिए आप सूर्य की रोशनी के संपर्क में आने से बचें और शरीर के अधिकांश क्षेत्रों को ढककर रखें।
  • डॉक्टर द्वारा निर्धारित सनस्क्रीन या साबुन का इस्तेमाल करें।
  • त्वचा पर एलर्जी के लक्षण उत्पन्न होने पर बार बार खुजली न करें तथा त्वचा को साफ़ तथा स्वच्छ रखें।
  • आपको जिस भी चीज से एलर्जी है, उससे दूरी बनाकर रखें।

त्वचा की एलर्जी किसी भी व्यक्ति को हो सकती है, जिसका मुख्य कारण प्रदूषित वातावरण और स्वयं की असंतुलित जीवनशैली है। अतः यदि आप एलर्जी से बचना चाहते हैं तो अपने आस-पास का वातावरण स्वच्छ रखें तथा एक स्वस्थ जीवनशैली को अपनाएं।

(और पढ़ें: स्किन एलर्जी का देसी इलाज…)

स्किन एलर्जी का घरेलू उपचार – Skin Allergy Home Treatments in Hindi

त्वचा की एलर्जी (स्किन एलर्जी) के लक्षण जैसे- लालिमा, खुजली और सूजन अक्सर एक या दो सप्ताह में उपचार के बगैर या उपचार के साथ दूर हो जाते हैं। इसके अलावा आप स्किन एलर्जी में परेशानी को दूर करने तथा लक्षणों से राहत प्राप्त करने के लिए कुछ घरेलू इलाज अपनाए जा सकते हैं, जिनमें शामिल हैं:

  • एलर्जेंस के संपर्क में आने से बचें – आपको अपनी एलर्जी को ट्रिगर करने वाले कारकों या पदार्थों के संपर्क में आने से बचना चाहिए।
  • ठंडा सेक (cool compress) – एक ठंडा सेक या ठंडा शॉवर, त्वचा की जलन और त्वचा पर दाने को शांत करने में मदद कर सकता है। अतः ठंडा सेक उपयोग में लाये और फिर त्वचा को सुखाकर उसे मॉइस्चराइज़ करें।
  • ओटमील – त्वचा की सूजन को कम करने के लिए ओटमील एक प्रभावी घरेलू उपाय है। ओटमील को पीसकर इसका पाउडर बना लें, और इसे गुनगुने पानी के साथ इस्तेमाल करें। ध्यान रहे पानी गर्म न हो, गर्म पानी आपकी त्वचा को शुष्क और जलन उत्पन करने का कारण बन सकता है। ओटमील से जिस भी व्यक्ति को एलर्जी है वह इस उपाय को न अपनाएं।
  • खुजली दूर करने वाली क्रीम (anti-itch cream) लगाएं – स्किन एलर्जी से प्रभावित त्वचा पर ओवर-द-काउंटर हाइड्रोकार्टिसोन (hydrocortisone) या कैलामाइन (calamine) लोशन का उपयोग किया जा सकता है। यह लोशन खुजली से राहत दिलाने में फायदेमंद होता है।
  • टाइट कपड़े न पहनें – टाईट कपड़े स्किन एलर्जी की समस्या और अधिक बढ़ा सकते हैं। अतः स्किन एलर्जी से पीड़ित होने की स्थिति में ढीले और ठंडे सूती कपड़ों को पहने पर जोर दें। इसके अलावा नरम सूती टुकड़े को पानी में भिगोकर निचोड़ लें और फिर इसे प्रभावित स्किन पर लगा लें। इसके ऊपर आरामदायक पहनें। ऐसा करने से आपको स्किन एलर्जी के लक्षणों से राहत मिलेगी।

अगर घरेलू उपचार के द्वारा स्किन एलर्जी की समस्या दूर नहीं होती है तो डॉक्टर से इसकी जांच कराएं।

(और पढ़ें: खुजली दूर करने के लिए 10 घरेलू उपाय…)

स्किन एलर्जी के कारण, लक्षण, जाँच और इलाज (Skin allergy causes, test and treatment in Hindi) का यह लेख आपको कैसा लगा हमें कमेंट्स कर जरूर बताएं।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration