सी सेक्शन डिलीवरी (सिजेरियन डिलीवरी) के बाद जल्दी ठीक होने के बेहतर तरीके – Recovery After C-Section (Cesarean Delivery) In Hindi

सी सेक्शन डिलीवरी (सिजेरियन डिलीवरी) के बाद जल्दी ठीक होने के बेहतर तरीके - Recovery After C-Section (Cesarean Delivery) In Hindi
Written by Anamika

C-section delivery in Hindi सर्जिकल प्रक्रिया से माध्यम से बच्चे को जन्म देने की क्रिया को सिजेरियन डिलीवरी कहा जाता है। इसे आमतौर पर सी सेक्शन डिलीवरी भी कहते हैं। इस आर्टिकल में आप जानेंगी सी-सेक्शन (सिजेरियन डिलीवरी) क्या होती है, सी सेक्शन डिलीवरी की जरूरत क्यों पड़ती है, सी सेक्शन डिलीवरी के बाद जल्दी ठीक होने के तरीके क्या हैं। सी सेक्शन डिलीवरी के बाद क्या खाना चाहिए और सिजेरियन डिलीवरी के बाद क्या नहीं खाना चाहिए के बारे में।

1. सी सेक्शन डिलीवरी क्या होती है – What is C-Section (Caesarean section) In Hindi
2. सी सेक्शन डिलीवरी (सीजेरियन डिलीवरी) की जरूरत क्यों पड़ती है? – Why a cesarean delivery is done in Hindi
3. सी सेक्शन डिलीवरी के बाद ठीक होने के तरीके – Recovery After C-Section In Hindi

4. सी सेक्शन डिलीवरी के बाद क्या खाना चाहिए –  What to eat after cesarean delivery in hindi
5. सी सेक्शन डिलीवरी के बाद क्या नहीं खाना चाहिए – Foods To Avoid After Cesarean Delivery in Hindi
6. सिजेरियन डिलीवरी के बाद याद रखने वाली चीज़ें – Things To Remember After Cesarean Delivery in Hindi

सी सेक्शन डिलीवरी क्या होती है – What is C-Section (Caesarean section) In Hindi

सी सेक्शन डिलीवरी क्या होती है – What is C-Section (Caesarean section) In Hindi

सी सेक्शन डिलीवरी कराने के लिए मां के शरीर में दो चीरे (incision) लगाये जाते हैं। पहला चीरा मां के पेट में और दूसरा चीरा गर्भाशय (uterus) में लगाया जाता है। सी सेक्शन डिलीवरी बहुत आम बात हो गई है और पहले की अपेक्षा ज्यादातर मामलों में बच्चे की डिलीवरी कराने के लिए सी सेक्शन का सहारा लिया जाता है। आमतौर पर प्रेगनेंसी के 39 हफ्तों से पहले सी सेक्शन डिलीवरी नहीं करायी जाती है ताकि बच्चा मां के कोख में पूरी तरह विकसित हो जाए। लेकिन गर्भवती मां को किसी तरह की गंभीर जटिलता होने पर 39 हफ्तों से पहले भी सी सेक्शन के माध्यम से डिलीवरी करायी जा सकती है।

(और पढ़े – नॉर्मल डिलीवरी करने के उपाय…)

सी सेक्शन डिलीवरी (सीजेरियन डिलीवरी) की जरूरत क्यों पड़ती है? – Why a cesarean delivery is done in Hindi

सी सेक्शन डिलीवरी (सीजेरियन डिलीवरी) की जरूरत क्यों पड़ती है ? Why a cesarean delivery is done in Hindi

सीजेरियन डिलीवरी आमतौर पर तब की जाती है जब गर्भावस्था में किसी तरह की समस्या होती है और योनि के माध्यम से बच्चे की डिलीवरी (vaginal birth) कराने में कठिनाई होती है या मां और बच्चे के जीवन को खतरा होने पर भी सीजेरियन सेक्शन डिलीवरी का सहारा लिया जाता है। कभी-कभी समय से पहले भी डिलीवरी कराने के लिए सी सेक्शन सर्जरी का सहारा लिया जाता है। लेकिन ज्यादातर मामलों में प्रसव से पहले समस्याएं बढ़ जाने पर ही सी सेक्शन डिलीवरी करायी जाती है।

(और पढ़े – जानबूझकर सिजेरियन डिलीवरी कराने से पहले इन 3 बातों को जान लें…)

सी सेक्शन डिलीवरी कराने के निम्न कारण होते हैं-

  • मां के गर्भ में बच्चे के विकास में किसी तरह की समस्या होने पर।
  • बर्थ कैनाल के आकार के हिसाब से बच्चे का सिर अधिक बड़ा होने पर।
  • पैर की तरफ से बच्चे की डिलीवरी होने पर।
  • समय से पहले डिलीवरी होने की आशंका होने पर।
  • गर्भवती मां को स्वास्थ्य समस्याएं जैसे उच्च रक्तचाप और हृदय रोग होने पर।
  • गर्भवती मां से एक्टिव जेनाइटल हर्पिस (active genital herpes ) शिशु में पहुंचने की आशंका होने पर।
  • महिला द्वारा पहले भी सी सेक्शन के माध्यम से बच्चे को जन्म देने पर।
  • नाल (placenta) में किसी तरह की समस्या होने पर, प्लेसेंटा के टूटने (abruption) या खराब होने पर।
  • बच्चे को सही तरीके से ऑक्सीजन की सप्लाई नहीं हो पाने पर।

(और पढ़े – जानिए उच्च रक्तचाप के बारे में सब कुछ…)

सी सेक्शन डिलीवरी के बाद ठीक होने के तरीके – Recovery After C-Section In Hindi

सी सेक्शन डिलीवरी के बाद ठीक होने के तरीके - Recovery After C-Section In Hindi

सीजेरियन डिलीवरी (सी सेक्शन सर्जरी) एक बहुत ही गंभीर और बड़ी (major) सर्जरी होती है इसलिए नार्मल डिलीवरी की अपेक्षा सी सेक्शन सर्जरी के माध्यम से होने वाली डिलीवरी के घाव को सूखने में काफी लंबा समय लगता है। सी सेक्शन डिलीवरी के बाद मां को नवजात शिशु के साथ ही करीब चार से पांच दिनों तक अस्पताल में ही रहना पड़ता है। लेकिन कभी-कभी समस्याएं जटिल होने पर इससे ज्यादा समय तक मां को अस्पताल में रूकना पड़ता है। अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद भी मां को पूरी तरह से ठीक होने में कुल छह हफ्तों से अधिक का समय लगता है। इस दौरान मां को अपनी विशेष देखभाल की जरूरत पड़ती है।

(और पढ़े – प्रेगनेंट हैं तो नॉर्मल डिलीवरी के इन लक्षणों को जानें…)

सी सेक्शन डिलीवरी के बाद ठीक होने के लिए दर्द निवारक दवाएं लें – Take the painkillers to recover after Cesarean Delivery in Hindi

सी सेक्शन डिलीवरी के बाद ठीक होने के लिए दर्द निवारक दवाएं लें - Take the painkillers to recover after Cesarean Delivery in Hindi

सीजेरियन डिलीवरी के बाद लगभग दो हफ्तों तक दर्द होना सामान्य माना जाता है। बीच-बीच में यह दर्द ठीक हो जाता है लेकिन फिर अपने आप उभर आता है। इसके लिए डॉक्टर आमतौर पर इबुप्रोफेन (ibuprofen) और नार्कोटिक दर्द निवारक जैसी एंटीइंफ्लैमेटरी दवाएं देते हैं। सी सेक्शन डिलीवरी के बाद जल्दी ठीक होने के लिए डॉक्टर द्वारा दी गई इन दवाओं को समय पर खाना चाहिए क्योंकि इन दवाओं के बिना दर्द से राहत नहीं मिलती है।

(और पढ़े – जानिए सामान्य प्रसव के बाद योनि में होने वाले बदलाव के बारे मे…)

सीजेरियन डिलीवरी में जल्दी ठीक होने के लिए चलना शुरू करें – Start walking to recover after C-section in Hindi

सीजेरियन डिलीवरी में जल्दी ठीक होने के लिए चलना शुरू करें - Start walking to recover after C-section in Hindi

सी सेक्शन सर्जरी के बाद जितना जल्दी संभव हो सके डॉक्टर से सलाह लेकर टहलना शुरू कर देना चाहिए। इससे महिला का घाव काफी जल्दी ठीक हो जाता है। सी सेक्शन डिलीवरी के बाद लगभग 30 मिनट तक प्रतिदिन घर से बाहर निकलकर टहलें। टहलने से सर्कुलेशन बेहतर होता है जिससे रक्त का थक्का जमने (blood clots) का खतरा कम होता है और टहलने से आंत की क्रियाएं (bowel function) बेहतर होती हैं और शरीर की क्षमता बढ़ती है जिसके कारण घाव जल्दी भरने में मदद मिलता है।

(और पढ़े –  डाइलेशन और क्यूरेटेज क्या होता है (डी एंड सी) और इससे जुड़ी जरुरी बातें)

सी सेक्शन के बाद जल्दी रिकवर होने के लिए प्रोबायोटिक्स खाएं – Take probiotics to recover after Cesarean Delivery in Hindi

सी सेक्शन के बाद जल्दी रिकवर होने के लिए प्रोबायोटिक्स खाएं - Take probiotics to recover after Cesarean Delivery in Hindi

सिजेरियन डिलीवरी के दौरान सर्जरी करने के कारण पेट में पाये जाने वाले हेल्दी बैक्टीरिया नष्ट हो जाते हैं। इसलिए सी सेक्शन सर्जरी के बाद घाव जल्दी भरने और ठीक होने के लिए और दोबारा से पेट में इन बैक्टीरिया को रिस्टोर करने के लिए प्रोबायोटिक सप्लिमेंट्स लेना चाहिए इससे सी सेक्शन के बाद महिला की इम्यूनिटी बेहतर होती है और संपूर्ण स्वास्थ्य ठीक रहता है। इसके अलावा यह महिला को डायरिया की समस्या होने से भी बचाता है।

(और पढ़े – रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के उपाय…)

सीजेरियन डिलीवरी के बाद चीरे की सही देखभाल करें – Care for the incision to recover after C-section in Hindi

आमतौर पर नार्मल डिलीवरी की अपेक्षा सी सेक्शन डिलीवरी के बाद महिला को पूरी तरह से ठीक होने में समय लगता है। सी सेक्शन सर्जरी के बाद महिला के पेट पर कुछ टांके लगे होते हैं और कई जगहों पर सिलाई की जाती है जो अपने आप स्किन में ही मिल जाती है और ठीक हो जाती है। लेकिन कभी-कभी सिलाई के धागे को डॉक्टर के पास जाकर निकलवाना पड़ता है। इसलिए सिलाई और टांके वाली जगह को पूरी तरह से सूखा रखना चाहिए और इसमें यदि गर्माहट, लालिमा, अधिक दर्द का अनुभव हो तो तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए क्योंकि चीरा (incision) लगे हुए जगह पर इंफेक्शन हो सकता है।

डॉक्टर से यह भी पूछ लेना चाहिए कि किस तरह से मसाज करने पर दर्द कम होगा और जल्दी ठीक होने में मदद मिलेगा और किस तरह से मसाज करने पर पेट की मांसपेशियां (abdominal muscles) प्रभावी तरीके से काम करेंगी।

(और पढ़े – जानिए गर्भवती पत्नी की देखभाल के लिए पति को क्या करना चाहिए…)

सी सेक्शन के बाद ठीक होने के लिए अच्छा खाएं – Eat right to recover after Cesarean Delivery in Hindi

सी सेक्शन के बाद ठीक होने के लिए अच्छा खाएं - Eat right to recover after Cesarean Delivery in Hindi

सीजेरियन डिलीवरी के बाद घाव जल्दी भरने और शरीर को पुनः पहले की तरह बनाने के लिए खानपान पर अधिक ध्यान देना चाहिए। जल्दी ठीक होने के लिए पोषक तत्वों से युक्त आहार खाना बहुत महत्वपूर्ण होता है। भोजन में एंटीइंफ्लैमेटरी और विटामिन सी युक्त खाद्य पदार्थ जैसे बेरी, काले (kale), ब्रोकली आदि शामिल करना चाहिए। विटामिन सी कोलेजन नामक प्रोटीन का निर्माण करता है जो शरीर के अंदर ऊतकों (tissue) की मरम्मत करने में मदद करता है। इसके अलावा ओमेगा 3  युक्त फैटी एसिड जैसे बादाम, अखरोट और बीज आदि का सेवन करना चाहिए। सी सेक्शन के बाद ये सभी खाद्य पदार्थ जल्दी रिकवर (recover) होने में मदद करते हैं।

(और पढ़े – ओमेगा 3 फैटी एसिड के फायदे और स्वास्थ्य लाभ…)

सीजेरियन डिलीवरी के बाद कोई भारी वस्तु न उठाएं – Don’t lift anything heavy to recover after Cesarean Delivery in Hindi

सीजेरियन डिलीवरी के बाद कोई भारी वस्तु न उठाएं - Don’t lift anything heavy to recover after Cesarean Delivery in Hindi

सी सेक्शन सर्जरी के माध्यम से बच्चे को जन्म देने के पहले दो हफ्तों तक कोई भारी सामान (heavy things) न उठाएं। इसका अर्थ यह है कि जब तक शरीर का घाव रिकवर न हो जाए तब तक 20 पौंड से अधिक वजन न उठाएं। करीब दो से तीन हफ्तों बाद हल्की शारीरिक एक्टिविटी (physical activity) करना शुरू करें और संभव हो तो किसी और की मदद से बच्चे को अपनी गोद में लें और खुद न उठाएं। क्योंकि खुद झटके से कोई चीज उठाने पर पेट में लगे चीरे पर इसका असर पड़ता है और इसमें दर्द शुरू हो सकता है। इसलिए जब तक आप पूरी तरह से ठीक न हो जाएं ये सावधानियां (precautions) बरतें।

(और पढ़े – प्रेगनेंसी की जानकरी और प्रकार, क्या आप जानते है…)

सी सेक्शन के बाद ठीक होने के लिए सेक्स से परहेज करें – Ease back into sex to recover after C-section in Hindi

सी सेक्शन के बाद ठीक होने के लिए सेक्स से परहेज करें - Ease back into sex to recover after C-section in Hindi

सामान्य डिलीवरी से बच्चे को जन्म देने की अपेक्षा सी सेक्शन डिलीवरी के माध्यम से बच्चे को जन्म देने के बाद महिलाओं को डिलीवरी के करीब 18 महीने तक सेक्स के दौरान दो गुना दर्द होता है। ऐसा एक स्टडी में पाया गया है। इसलिए सी सेक्शन के बाद जबतक शरीर पूरी तरह से ठीक न हो जाए या सेक्स के लिए शरीर दोबारा से तैयार न हो जाए तब तक आप सेक्स न करें और शुरूआत में अधिक से अधिक समय तक फोरप्ले करें और योनि में चिकनाहट( lubricant) लाने की कोशिश करें।

सी सेक्शन के जरिए बच्चे को जन्म देने के बाद पेल्विस की मांसपेशियों में अधिक तनाव जाता है और चीरा लगने के कारण स्कार टिश्यू (scar tissue) पेल्विक अंगों (pelvic organs) की गतिशीलता को खत्म कर देते हैं जिसके कारण सेक्स के दौरान मांसपेशियों में दर्द होता है। इसलिए सी सेक्शन के बाद जबतक ठीक न हो जाएं सेक्स करने की जल्दबाजी न करें।

(और पढ़े – डिलीवरी के बाद सेक्सुअल लाइफ पर क्या असर पड़ता है…)

सी सेक्शन डिलीवरी के बाद क्या खाना चाहिए –  What to eat after cesarean delivery in hindi

सी सेक्शन डिलीवरी के बाद क्या खाना चाहिए -  Foods You Can Eat After Cesarean Delivery in Hindi

सिजेरियन डिलीवरी के बाद आपको अधिक उर्जा की जरूरत के कारण ज्यादा भूख लगती है। सी-सेक्शन के बाद रिकवरी अवधि के दौरान खाने वाले खाद्य पदार्थों की सूची यहां बताई जा रही है।

1. कम वसा वाले डेयरी उत्पाद – Low-fat dairy products

कम वसा वाले दही, बिना मलाई वाले दूध और पनीर प्रोटीन, कैल्शियम, और विटामिन बी और डी के अच्छे स्रोत होते हैं, जो दूध पिलाने वाली माताओं के लिए आवश्यक हैं। आपको खुद के साथ-साथ अपने बच्चे के दूध के लिए कैल्शियम समृद्ध खाद्य पदार्थों की आवश्यकता होती है क्योंकि आपका दूध बच्चे को मजबूत बनाता है। हर दिन तीन कप या कम से कम 500 मिलीलीटर डेयरी प्रोडक्ट को अपने आहार में शामिल करें।

(और पढ़े – दूध के फायदे, गुण, लाभ और नुकसान)

2. पूरे अनाज – Whole grains

साबुत अनाज जैसे ब्राउन ब्रेड, ब्राउन चावल, और गेहूं आपको जरूरी कैलोरी प्रदान करते हैं और आपके बच्चे के लिए पौष्टिक दूध की आपूर्ति में मदद करते हैं। सिजेरियन डिलीवरी के बाद इनका सेवन ऊर्जा के स्तर को बढ़ावा देता है और आपको आवश्यक पोषक तत्व और विटामिन भी प्रदान करते है।

साबुत अनाज के उत्पादों में फोलिक एसिड, लौह और फाइबर होते हैं, जो आपके बच्चे के शुरुआती विकास में आवश्यक होते हैं। उन माताओं के लिए जो रत में नींद की कमी का अनुभव करती हैं और सुबह परेशान होती हैं, उन्हें सुबह साबुत अनाज से बने नाश्ते का सेवन करना चाहिए।

इसके लिए आप दलिया में बिना मलाई वाले दूध जोड़कर स्वस्थ नाश्ता भी तैयार कर सकते हैं।

(और पढ़े – चावल खाने के फायदे और नुकसान)

3. ओट्स – Oats

खाने में ओट्स को शामिल करना लाभदायक होता है क्योकि ये आयरन, कैल्शियम, प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट और फाइबर के अच्छे स्रोत होते हैं। साथ ही इस प्रकार की उच्च फाइबर सामग्री आपको कब्ज से राहत दिलाती है। आप उन्हें दूध, सूखे फल या नट्स के साथ सेवन कर सकते हैं। आप सेब, केले या आम जैसे कुछ फलों को भी इसमें मिला सकते हैं, और उन्हें ओट्स (जई) के साथ खा सकते हैं।

(और पढ़े – ओट्स खाने के फायदे एवं नुकसान)

4. फल और सब्जियां – Fruits and vegetables

संतरे के फल जैसे संतरे और एंटीऑक्सीडेंट समृद्ध ब्लूबेरी स्तनपान कराने वाली माताओं के लिए अच्छेमने जाते हैं। क्योकि साइट्रस फल में विटामिन सी होता है।

ब्रोकली, पालक, परवल, टिंडा, सेम, मेथी की भाजी जैसी हरी सब्जियां विटामिन ए और सी, आयरन और कैल्शियम के उत्कृष्ट स्रोत हैं। क्योकि उनमें एंटीऑक्सीडेंट और कम कैलोरी होती है। वे मां और उसके बच्चे दोनों के लिए अच्छी होती हैं।

राजमा और सेम में आयरन होता हैं, जो दूध पिलानी वाली माताओं के लिए आवश्यक है। ये शाकाहारी माताओं के लिए प्रोटीन का अच्चा स्रोत होते हैं। मशरूम (ताजा और सूखे), गाजर और लाल तिथियां अन्य अच्छे विकल्प हैं।

सी सेक्शन डिलीवरी के बाद आपको अपने खाने में फलों के तीन हिस्सों और सब्जियों के दो हिस्सों का उपभोग करना चाहिए।

(और पढ़े – ब्रोकली के फायदे और नुकसान)

5. दालें – Pulses

हमारे आहार में दालें बहुत आवश्यक हैं क्योंकि वे प्रोटीन के अच्छे स्रोत हैं। इसके अलावा, वे विटामिन, खनिजों और फाइबर में समृद्ध हैं। सी सेक्शन डिलीवरी के बाद खाने में मसूर और हरी मुंग दाल शामिल करें क्योंकि वे आसानी से पचाने योग्य होती हैं और गर्भावस्था के समय बढ़े अतिरिक्त वजन को कम करने में आपकी सहायता करते हैं।

(और पढ़े –  मूंग दाल खाने के फायदे और स्वास्थ्य लाभ)

6. हल्दी – Turmeric

सिजेरियन डिलीवरी के बाद अपने खाने में हल्दी शामिल करें क्योंकि इसमें विटामिन बी 6, सी, फाइबर, पोटेशियम, मैंगनीज और मैग्नीशियम पाया जाता हैं। यह सूजन को कम करने में मदद करता है और आंतरिक और बाहरी घावों को जल्दी से ठीक करता है। एक गिलास गर्म दूध में हल्दी की आधी चम्मच मिलाएं और इसे हर दिन पीएं।

(और पढ़े – हल्दी के फायदे गुण लाभ और नुकसान)

7. बादाम – Almonds

बादाम कार्बोहाइड्रेट, विटामिन बी12 और ई, फाइबर और खनिजों जैसे तांबे, कैल्शियम, जिंक, पोटेशियम और मैंगनीज के अच्छे स्रोत होते हैं। यह उन खाद्य पदार्थों में से एक है जो आपके स्वास्थ्य के साथ-साथ सौंदर्य को भी लाभ पहुंचाते हैं। बादाम किसी भी रूप में खाया जा सकता है – कच्चा, भिगोकर, या सेक बनाकर।

(और पढ़े – बादाम के फायदे गुण लाभ और नुकसान)

8. अजवाइन (कैरम के बीज) – Ajwain (carom seeds)

अजवाइन या कैरम बीज थाइमोल (thymol,) का एक अच्छा स्रोत हैं, जो अपचन और गैस के कारण होने वाले दर्द को कम करने में मदद करता है। यह गर्भाशय को भी साफ करता है और प्रसव के बाद होने वाले दर्द से राहत देता है।

थाइमोल जीवाणुरोधी, एंटीऑक्सीडेंट, एंटीसेप्टिक और एंटीफंगल है। आप इसे विभिन्न प्रकार के व्यंजनों में शामिल कर सकते हैं जैसे कि मसाले के रूप में रोटी में मिलाकर उपयोग करना।

आप रोजाना अजवाइन का पानी भी पी सकती हैं। ऑल नेचुरल एंटीवायरल एजेंट्स पुस्तक में, लॉरी पिपेन लिखती हैं कि अजवाइन का सुगंधित तेल स्तन के दूध में छोड़ा जाता है और बच्चों में पाचन को नियंत्रित करता है।

(और पढ़े – अजवाइन के फायदे, गुण, लाभ और नुकसान)

9. अदरक और लहसुन – Ginger and garlic

कच्चे और सूखे (सौंठ) दोनों प्रकार के अदरक में विटामिन बी6 और ई, फाइबर, पोटेशियम, मैग्नीशियम, मैंगनीज और सेलेनियम पाये जाते हैं। यह एक एंटी इन्फ्लामेंट्री पदार्थ के रूप में कार्य करता है। लहसुन पाचन में सहायक और गर्भावस्था के समय बढ़े वजन को कम करने में मदद करता है। खाना पकाने के दौरान आप अपने भोजन में थोड़ा अदरक-लहसुन पेस्ट जोड़ मिला सकती हैं।

(और पढ़े – अदरक के फायदे, औषधीय गुण, उपयोग और नुकसान)

10. रागी या बाजरा – Millet ragi or mandua

बाजरा जो की रागी या मंडुआ के रूप में भी जाना जाता है, यह आयरन और कैल्शियम का एक अच्छा स्रोत है। सिजेरियन डिलीवरी के बाद माताओं को हड्डी के स्वास्थ्य के लिए कैल्शियम की आवश्यकता होती है। इसे दूध और अन्य डेयरी उत्पादों के विकल्प के रूप में आपके आहार में शामिल किया जा सकता है। यह उन माताओं के लिए एक अच्चा विकल्प है जिन्हें डेयरी भोजन से एलर्जी होती है।

(और पढ़े – बाजरा के फायदे और नुकसान)

11. जीरा – Cumin

सिजेरियन डिलीवरी के बाद जीरा का सेवन स्तन में दूध बनाने में मदद करता हैं। आप किसी भी भोजन में में कुछ जीरा बीज जोड़ सकती हैं और इसे एक गिलास गर्म दूध में मिलाकर भी पी सकतती हैं। ,माँ के स्तन दूध की आपूर्ति में सुधार के लिए इसे हर दिन दो बार पीएं।

(और पढ़े – जीरा के फायदे)

12. मेथी – Fenugreek

यह कैल्शियम, लौह, खनिजों और विटामिन का एक उत्कृष्ट स्रोत है। यह जोड़ों और पीठ के दर्द को रोकने के लिए जाना जाता है। इसे विभिन्न प्रकार के व्यंजनों में मिलाकर खाया जा सकता है इसके अलावा मेथी की चाय स्तनपान कराने वाली माताओं के लिए अच्छा विकल्प होती है।

(और पढ़े – मेथी के फायदे और नुकसान)

13. सफेद और काले तिल के बीज – White and black sesame seeds

तिल के बीज में लोहा, कैल्शियम, तांबा, फास्फोरस, और मैग्नीशियम पाया जाता हैं। यह मॉल त्याग को आसान बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

(और पढ़े – तिल के बीज और तिल के तेल के फायदे)

14. हींग – Asafoetida

आप अपने खाद्य पदार्थों में थोड़ी मात्रा में हींग को शामिल कर सकती हैं। यह बेहतर पाचन में सहायता के साथ पेट फूलना और गैस जैसी समस्या को दूर करती है। इसलिए, यह गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल से सम्बंधित मुद्दों का इलाज करती है जो प्रसव के बाद आम हैं।

सिजेरियन डिलीवरी के बाद भोजन में इन सभी चीजों को शामिल करने से पहले अपने डॉक्टर से जांच करना उचित है। कभी-कभी, वह कुछ विटामिन या आयरन की खुराक का सुझाव आपको दे सकता है।

(और पढ़े – हींग के फायदे उपयोग स्वास्थ्य लाभ और नुकसान)

सी सेक्शन डिलीवरी के बाद क्या नहीं खाना चाहिए – Foods To Avoid After Cesarean Delivery in Hindi

सी सेक्शन डिलीवरी के बाद क्या नहीं खाना चाहिए - Foods To Avoid After Cesarean Delivery in Hindi

सी-सेक्शन के बाद आपको सभी फैटी और जंक फूड से बचना चाहिए क्योंकि सी-सेक्शन के बाद आपकी शारीरिक गतिविधि कम हो जाती है। वे सिर्फ आपके वजन को बढ़ाती हैं। मसालेदार खाद्य पदार्थों के सेवन’से बचें क्योंकि वे गैस्ट्रिक समस्याओं का कारण बन सकते हैं। इसके अलावा, आपके बच्चे के दूध का स्वाद भी बदल सकते हैं।

यहां कुछ खाद्य पदार्थ बताये जा रहें हैं जिन्हें आपको सी-सेक्शन के बाद कने से बचना चाहिए:

कार्बोनेटेड पेय जो गैस और पेट फूलना जैसी समस्यों का कारण बनते हैं।

खट्टे फल और साइट्रस रस सावधानी के साथ लिया जाना चाहिए। आप शुरुआत में उन्हें छोटी मात्रा में ले सकती हैं, और फिर इसे मध्यम मात्रा में बढ़ा सकती हैं।

कॉफी और चाय जैसे कैफीनयुक्त पेय को उनके मूत्रवर्धक गुणों के कारण कम मात्रा में लिया जाना चाहिए। क्योंकि, कॉफी और चाय में मौजूद कैफीन आपके बच्चे में विकास की समस्याएं पैदा कर सकता है।

अल्कोहल (शराब) से दूर रहें क्योंकि यह दूध पैदा करने की क्षमता को कम कर सकती है और आपके बच्चे में विकास संबंधी मुद्दों का कारण बन सकती है।

आपको सफेद मसूर, राजमा, मटर, काले सेम, हरी मटर और अन्य धीरे-धीरे गैस बनाने वाले खाद्य पदार्थों को कम मात्रा में लेना चाहिए। सिजेरियन डिलीवरी के बाद प्रारंभिक 40 दिनों के लिए गोभी, फूलगोभी, ब्रोकोली, भिन्डी और प्याज जैसे अन्य गैस बनाने वाले खाद्य पदार्थों से बचें।

तला हुआ भोजन न खाएं क्योंकि उसे पचाना मुश्किल होता है, खासकर प्रसव के बाद के पहले दिनों में क्योकि वे अपचन, जलन और गैस का कारण बन सकते हैं।

ठंडे खाद्य पदार्थ और पेय से बचें। क्योकि इनसे आपको शीत पकड़ सकती हैं। और स्तनपान कराने वाली मां के रूप में, आप शीत या जुखाम के लिए दवा नहीं ले सकती हैं क्योंकि यह स्तन के दूध में जा सकती है।

सिजेरियन डिलीवरी के बाद याद रखने वाली चीज़ें – Things To Remember After Cesarean Delivery in Hindi

सिजेरियन डिलीवरी के बाद याद रखने वाली चीज़ें - Things To Remember After Cesarean Delivery in Hindi

यह सुनिश्चित करने के लिए की आप जो भी खा रहीं हैं उससे सर्वश्रेष्ठ पोषण प्राप्त करने के लिए इन बुनियादी युक्तियों का पालन करें।

सिजेरियन डिलीवरी के बाद तीन बार भोजन करने के बजाय कोशिश करें कि कम से कम पांच से छह छोटे- छोटे रूप में भोजन करें।

अपने भोजन करने के समय में लगभग दो घंटे के अंतराल रखें। यदि आपको पहले भूख लगती है, तो कुछ फलों या नट्स का नाश्ता करें।

अपने भोजन को धीरे-धीरे इसे चबाने के लिए कुछ समय दें। नवजात शिशु होने के दौरान आपके लिए आराम से भोजन करना मुश्किल हो सकता है, लेकिन आप अपने परिवार के सदस्यों से कुछ समय के लिए अपने बच्चे की देखभाल करने के लिए कह सकती हैं।

सीज़ेरियन डिलीवरी के बाद कम से कम तीन से चार दिनों के लिए चावल न खाएं, खासकर यदि आप मधुमेह से पीड़ित हैं। चावल से उच्च रक्त शर्करा चीरा के निशान के साथ हस्तक्षेप कर सकते हैं और उसके उपचार को बढ़ा सकते हैं। इसकी जगह आप ब्राउन चावल लें क्योंकि यह अतिरिक्त कैलोरी से कम ऊर्जा की आपूर्ति करता है।

नवजात शिशु के साथ, आपको कभी भी पर्याप्त नींद नहीं मिलेगी। तो, जब भी संभव हो आराम करने की कोशिश करें। नींद आपके शरीर की मरम्मत में मदद करेगी और बेहतर तरीके से आपको ठीक करेगी।

जितना हो सके उतने घर पर पके हुए भोजन को खाने की कोशिश करें और बहुत सारी ताजा सामग्री को अपने आहार में शामिल करें।

अब आप सीज़ेरियन डिलीवरी के बाद आहार के महत्व को जान गयीं हैं। याद रखें, एक पौष्टिक आहार आपको सी-सेक्शन से रिकवरी में मदद कर सकता है और साथ ही साथ आप और आपके बच्चे दोनों को स्वस्थ रख सकता है।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration