कफ दोष क्या है? जानें असंतुलित कफ से होने वाले रोग, लक्षण और उपाय – Kapha Dosha in Hindi - Healthunbox
आयुर्वेदिक उपचार

कफ दोष क्या है? जानें असंतुलित कफ से होने वाले रोग, लक्षण और उपाय – Kapha Dosha in Hindi

कफ दोष क्या है? जाने असंतुलित कफ से होने वाले रोग, लक्षण और उपाय – Kapha Dosha in Hindi

Kapha Dosha in Hindi: आयुर्वेद के अनुसार हमारे शरीर को वात, पित्त और कफ इन तीन तरह का माना जाता है। इन तीनों चीजों से मिलकर ही हमारा शरीर बना है। इन दोषों में से किसी एक के भी कम ज्‍यादा होने से आपके ऊपर बुरा प्रभाव पड़ सकता है। वात दोष तीनो दोषों में सबसे प्रमुख है, क्योंकि यह दोष लंबे समय तक बना रहता है। जो लोग कफ प्रकृति के होते है, वह किसी भी काम को देरी से शुरू करते हैं या उनकी चाल बहुत धीमी और गंभीर होती हैं। आइये विस्तार से जानते है कि कफ दोष क्या है, असंतुलित कफ से होने वाले रोग, लक्षण और उपाय क्या है।

कफ दोष क्या है? – What is Kapha Dosha in Hindi

कफ दोष दो तत्वों “पृथ्वी” और “जल” से मिलकर बना है। जसमें “पृथ्वी” के कारण कफ दोष में स्थिरता और भारीपन  होती है। ” जल” के कारण ऑयली और चिकनाई (मॉश्‍चराइज्‍ड) वाले गुण होते हैं। कफ दोष तीनों दोषों में धीमा और संतुलित माना जाता है और यह अन्य दो दोषों के उत्पादन और कामकाज को नियंत्रित करने के लिए जिम्मेदार है। कफ दोष का शरीर में मुख्य स्थान पेट और छाती हैं। यह दोष इम्युनिटी क्षमता बढ़ाने और शरीर को मजबूत बनाने में सहायक है।

(यह भी पढ़ें – पित्त दोष क्या है जाने असंतुलित पित्त से होने वाले रोग, लक्षण और उपाय)

कफ दोष के प्रकार – Types of Kapha Dosha in Hindi

कफ दोष के प्रकार की बात करें, तो यह हमारे शरीर में अलग-अलग हिस्से में अलग-अलग नाम से होता है। आयुर्वेद के अनुसार कफ दोष को पांच भागों में बांटा गया है, जिनके नाम निम्न है।

  1. क्लेदक
  2. अवलम्बक
  3. बोधक
  4. तर्पक
  5. श्लेषक

कफ दोष असंतुलन के कारण  – Causes of imbalance in kapha dosha in Hindi

व्यक्ति के शरीर में कफ दोष बढ़ने के कारण होते है। लेकिन यह दोष मार्च और अप्रैल के महीने में, खाना खाने के बाद, सुबह के समय और छोटे बच्चों में स्वाभाविक रूप से बढ़ जाता है। इसके अलावा कफ दोष बढ़ने के निम्न कारण भी होते है। आपको अपने खानपान पर विशेष ध्यान रखने की जरूरत होती है।

  • दूध से बने उत्‍पाद, वसायुक्‍त और तैलीय पदार्थों का सेवन
  • नमकीन, मीठी चीजें, खट्टे फल और चिकनाई युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन
  • कोल्‍ड ड्रिंक, गन्ना और फ्रिज का ठंडा पानी पीना
  • दूध, दही, घी, नारियल, सिंघाड़ा, कद्दू, नमक आदि पदार्थों का सेवन
  • ओवरईटिंग और ज्‍यादा गरिष्‍ठ भोजन करना।
  • मांस-मछली का अधिक सेवन
  • ठंडे और बारिश के मौसम में ज्‍यादा समय बिताना।
  • शारीरिक गतिविधियां ना करना, आलसी स्वभाव और दिन के समय सोना।

कफ दोष असंतुलन के लक्षण  – Symptoms of Kapha Imbalance in Hindi

किसी भी व्यक्ति के शरीर में कफ दोष के असंतुलन होने से निम्न लक्षण दिखाई देते है।

शारीरिक लक्षण  – Physical symptoms in Hindi

व्यवहारिक लक्षण – Behavioural symptoms in Hindi

  • चिंता और झुंझलाहट होना
  • डर और घबराहट का अनुभव होना
  • जीवन के प्रति निराशा होना
  • अपनी ज़िम्मेदारियों से भागना
  • सब बेबुनियाद लगना
  • अत्यधिक चलना फिरना
  • अधिक बात करना

कफ असंतुलन के प्रभाव – Effects of Kapha Imbalance in Hindi

व्यक्ति के शरीर में कफ दोष के असंतुलन होने से निम्न प्रभाव होते है-

कफ को संतुलित करने के उपाय  – Balance Kapha Dosha in Hindi

हमारे शरीर में कफ दोष को संतुलित करने के लिए सबसे पहले आपको इसके बढ़ने का कारण जानना होगा। इसके बाद ही आपको अपनी जीवनशैली और खानपान कुछ बदलाव करने होंगे।

कफ दोष को संतुलित करने के लिए क्या खाएं – What to eat to balance Kapha Dosha in Hindi

आइये जानते है कि आपको कफ दोष को संतुलित करने के लिए क्या क्या खाना चाहिए।

कफ दोष को ठीक करने के लिए क्‍या करें – What to do to balance Kapha Dosha in Hindi

यदि किसी व्यक्ति में कफ दोष बढ़ गया है, तो उसे कम करने का सबसे आसान तरीका उल्टी करना (vomiting) है। उल्टी करने से आपके पेट और छाती से कफ के निकलने में मदद मिलती है। उल्टी करने के लिए आप आयुर्वेदिक दवाओं का सेवन कर सकते है। इसके अलावा आप निम्न कार्यों को कर सकते है।

कफ दोष क्या है? जाने असंतुलित कफ से होने वाले रोग, लक्षण और उपाय (Kapha Dosha in Hindi) का यह लेख आपको कैसा लगा हमें कमेंट्स कर जरूर बताएं।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration