लिंग का छोटा आकार: कारण, उपचार, प्रक्रिया, कीमत और साइड इफेक्ट्स - Small Penis Size Treatment, Procedure, Cost And Side Effects in Hindi
सेक्स बीमारी

लिंग का छोटा आकार: कारण, उपचार, प्रक्रिया, कीमत और साइड इफेक्ट्स – Small Penis Size Treatment in Hindi

लिंग का छोटा आकार: कारण, उपचार, प्रक्रिया, कीमत और साइड इफेक्ट्स - Small Penis Size Treatment, Procedure, Cost And Side Effects in Hindi

Small Penis Size Treatment in Hindi: दुनिया भर में अधिकतर पुरुष और महिलाओं के मन में यह जानने की जिज्ञासा होती है कि औसत लिंग का आकार कितना होना चाहिए? लिंग का आकार सामान्य से छोटा दिखाई देना, सम्बंधित व्यक्ति को अनेक तरह से परेशानी में डाल सकता है तथा उसके यौन जीवन में कलह पैदा कर सकता है। इसलिए लिंग के छोटे आकार का निदान और इलाज आवश्यक हो जाता है। लिंग के छोटे आकार के इलाज में विभिन्न प्रकार की प्रक्रियाओं को अपनाया जा सकता है इन उपचार प्रक्रियाओं में लाभ के साथ साथ कुछ गंभीर दुष्प्रभाव भी उत्पन्न हो सकते हैं, जिनकी चर्चा आज इस लेख में की गई हैं।

आज का यह लेख उन व्यक्तियों के लिए है, जो लिंग के छोटे आकर से पीड़ित है। इस लेख में आप लिंग के छोटे आकार का कारण, उपचार, प्रक्रिया, कीमत और साइड इफेक्ट्स के बारे में जानेगें।

विषय सूची

  1. लिंग का छोटा आकार – Small Penis Size in hindi
  2. लिंग के छोटे आकार का कारण – Small Penis Size causes in hindi
  3. लिंग का औसत आकार – Average penis size in hindi
  4. छोटे आकार के लिंग का उपचार – Small Penis Size Treatment in hindi
  5. लिंग वृद्धि की प्रक्रिया – Penis enlargement Procedure in hindi
  6. लिंग बढाने के लिए उपचार कब किया जाता है – When is penis enlargement treatment done
  7. छोटे लिंग के उपचार के दौरान साइड इफेक्ट्स – Small Penis Size Treatment side effects in Hindi
  8. लिंग बढ़ाने की सर्जरी के बाद सावधानियां – Penis Enlargement surgery Precautions in Hindi
  9. छोटा पेनिस साइज़ ट्रीटमेंट कॉस्ट – Small Penis Size Treatment cost in Hindi

लिंग का छोटा आकार – Small Penis Size in Hindi

लिंग का छोटा आकार - Small Penis Size in hindi

चूँकि लिंग की औसत लंबाई लगभग छह इंच होती है। अतः जब किसी पुरुष के लिंग (penis) की लंबाई या साइज़, औसत साइज़ से कुछ हद तक कम होती है, तो इसे छोटे लिंग (small penis) की स्थिति के रूप में जाना जाता है। यह स्थिति पतले लिंग (thin penis) से भी सम्बंधित होती है। दुर्लभ मामलों में, जेनेटिक्स और हार्मोन समस्याएं माइक्रोपेनिस (micropenis) नामक एक स्थिति का कारण बनती हैं, अर्थात स्तंभन की अवस्था में 3 इंच से कम लिंग का साइज़ माइक्रोपेनिस की स्थिति को जन्म देता है। लेकिन सभी छोटे लिंग, माइक्रोपेनिस (micropenises) नहीं होते हैं। कभी-कभी पेरोनी रोग या प्रोस्टेट कैंसर की सर्जरी, सम्बंधित व्यक्ति के लिंग के आकार को कम कर सकती है। लिंग का छोटा आकर सम्बंधित व्यक्ति को अपने सहयोगियों के साथ सेक्स करने में मुश्किल पैदा कर सकता है।

(और पढ़े – क्या होता है मानव लिंग और उसकी कार्यप्रणाली…)

लिंग के छोटे आकार का कारण – Small Penis Size causes in Hindi

लिंग के छोटे आकार का कारण – Small Penis Size causes in hindi

निम्नलिखित स्थितियां लिंग के छोटे आकार का कारण बनती हैं, इनमें शामिल हैं:

बरीड पेनिस (Buried penis) – बरीड पेनिस मुख्य रूप से लिंग के आसपास अतिरिक्त त्वचा (चर्बी) के संचय होने के कारण होता है। जिसके कारण लिंग पेट के नीचे, अंडकोश या जांघ के नीचे ढक सकता है, या छिप सकता है। इस स्थिति के ज्यादातर मामलों में, लिंग सामान्य रूप से कार्य कर सकता है। लेकिन यह स्थिति यौन उत्तेजना और पेशाब सम्बन्धी कार्यों में कठिनाई उत्पन्न कर सकती है।

वेबबेड पेनिस (Webbed penis) – वेबबेड पेनिस की स्थिति तब उत्पन्न होती है, जब लिंग की बहुत अधिक त्वचा अंडकोश से जुड़ी होती है। जिससे यह “वेबबेड” दिखाई देता है और इसका साइज़ सामान्य से छोटा लगता है। कॉस्मेटिक सर्जरी (Cosmetic surgery) इस स्थिति के इलाज के लिए एक सामान्य उपचार है।

इसके अतिरिक्त विभिन्न प्रकार की चिकित्सीय स्थितियां भी छोटा लिंग का कारण बन सकती है जिनमें शामिल हैं:

  • आंशिक एंड्रोजन असंवेदनशीलता (partial androgen insensitivity)
  • वृद्धि हार्मोन और थायरॉइड हार्मोन की कमी
  • पेरोनी रोग या प्रोस्टेट कैंसर की सर्जरी
  • हाइपोगोनैडोट्रोफिक हाइपोगोनैडिज्म (hypogonadotrophic hypogonadism)
  • हाइपरोगोनैट्रोफिक हाइपोगोनैडिज्म (hyperogonatrophic hypogonadism)
  • इडियोपैथिक स्माल शिश्न और चॉर्डी (idiopathic small phallus and chordee), इत्यादि।

(और पढ़े – लिंग का टेढ़ापन (पेरोनी रोग) के कारण, लक्षण, जांच, इलाज, बचाव…)

लिंग का औसत आकार – Average penis size in Hindi

लिंग का औसत आकार - Average penis size in hindi

किसी पुरुष के सामान्य अवस्था या शिथिल अवस्था में स्वस्थ लिंग की औसत लंबाई लगभग 3.6 इंच और स्तंभन की अवस्था में लिंग की औसत लंबाई 5.2 इंच होती है। इसके अलावा, शिथिल लिंग की परिधि (penis circumference) औसतन 3.7 इंच (9.31 सेमी) और स्तंभन की अवस्था में लिंग की परिधि 4.6 इंच (11.66 सेमी) मापी गई है।

(और पढ़े – जाने पेनिस का एवरेज साइज कितना होता है…)

छोटे आकार के लिंग का उपचार – Small Penis Size Treatment in Hindi

लिंग की साइज़ को बढ़ा करने के लिए विभिन्न प्रकार की उपचार प्रक्रियाओं को अपनाया जा सकता है, जिनमें लिंग बढ़ाने की गोलियाँ, क्रीम, ब्रूटल स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज (brutal stretching exercise), और लिंग की सर्जरी आदि शामिल हैं।

हार्मोन थेरेपी – hormone therapy

हार्मोन थेरेपी - hormone therapy

लिंग (penis) के आकार को बढ़ाने के इलाज के सबसे प्रचलित और आसान तरीकों में हार्मोन थेरेपी (hormone therapy) को शामिल किया जाता है। यह उपचार प्रक्रिया में हार्मोन इंजेक्शन (hormone injections), त्वचा पैच (skin patches) या मौखिक गोलियों (oral tablets) में से किसी को भी शामिल किया जा सकता है। हार्मोन थेरेपी प्रारंभ करने से पहले यह निर्धारित किया जाता है कि पीड़ित व्यक्ति इलाज के अनुकूल है या नहीं। यदि हार्मोन थेरेपी (hormone therapy) सफल होती है, तो लिंग का साइज़ 3 महीने में लगभग 1.25 सेमी तक बढ़ सकता है। लिंग के आकार को बढ़ाने के लिए डॉक्टर द्वारा विभिन्न प्रकार की हार्मोन थेरेपी (hormone therapy) उपयोग में लाई जा सकती हैं, जैसे:

  • ग्रोथ हार्मोन थेरेपी (growth hormone therapy)
  • IGF-1 थेरेपी (insulin-like growth factor therapy)
  • पुरुष हार्मोन प्रतिस्थापन थेरेपी (Male Hormone Replacement Therapy)
  • डीएचटी थेरेपी (Dihydrotestosterone therapy)
  • गोनाडोट्रोपिन हार्मोन थेरेपी (gonadotrophin therapy), इत्यादि।

जब हार्मोन को इंजेक्शन, त्वचा पैच या मौखिक गोलियों के रूप में दिया जाता है, तो रक्त में हार्मोन की सांद्रता बढ़ जाती है। यह हार्मोन लिंग के एण्ड्रोजन रिसेप्टर्स से बंध बनाकर लिंग के ऊतकों में परिवर्तन लाते है और शिश्न के ऊतकों में वृद्धि करते हैं। शिश्न के ऊतकों का लगातार गुणन होने के फलस्वरूप शिश्न के आकार में वृद्धि होती है। DHT (Dihydrotestosterone) थेरेपी में एक त्वचा जेल का उपयोग किया जाता है। पेनिस एनलार्जमेंट सर्जरी की सिफारिश तब की जाती है, जब हार्मोन थेरेपी से उचित परिणाम प्राप्त नहीं होते है।

(और पढ़े – हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी क्या है, क्यों की जाती है, फायदे और नुकसान…)

पेनिस एनलार्जमेंट सर्जरी – Penis enlargement surgery in Hindi

पेनिस एनलार्जमेंट सर्जरी - Penis enlargement surgery in Hindi

दवाओं का उपयोग करके उचित परिणाम प्राप्त नहीं होने पर, डॉक्टर द्वारा पीड़ित व्यक्ति को लिंग बढ़ने वाली सर्जरी अर्थात पेनिस एनलार्जमेंट सर्जरी (penis enlarging surgery) की सिफारिश की जाती है। इस सर्जरी की मदद से लिंग की नॉन इरेक्ट लंबाई और इरेक्ट लम्बाई को कुछ इंच तक बढ़ाने में मदद मिल सकती है। पेनिस एनलार्जमेंट सर्जरी के लाभ भिन्न-भिन्न व्यक्तियों में भिन्न-भिन्न हो सकते हैं। आमतौर पर तीन प्रकार की पेनिस एनलार्जमेंट सर्जरी (penis enlarging surgeries) उपयोग में लाई जा सकती है:

  • लिंग लंबा करने के लिए सर्जरी (penile lengthening surgery)
  • लिंग परिधि बढ़ाने के लिए सर्जरी (penis girth increasing surgery)
  • कॉर्डि सुधार सर्जरी (chordee correction surgery), इत्यादि।

(और पढ़े – क्या लिंग बड़ा करने की तकनीक काम करती है जानें लिंग बढ़ाने से जुड़े मिथक और उनका सच!)

लिंग वृद्धि की प्रक्रिया – Penis enlargement Procedure in Hindi

लिंग वृद्धि की प्रक्रिया - Penis enlargement Procedure in hindi

लिंग वृद्धि की प्रक्रियां मुख्य रूप से दो प्रकार की होती हैं:

  • गैर-सर्जिकल प्रक्रिया (Non-surgical Procedure), जैसे- गोलियां और लोशन, वैक्यूम डिवाइस, पेनिस एक्सटेंडर (Penile extenders), जेल्किंग एक्सरसाइज (jelqing exercises), इत्यादि।
  • सर्जिकल प्रक्रिया (surgical Procedure), जैसे- लिंग परिधि सर्जरी (Penis girth surgery), पेनिस लेंथ सर्जरी (Penis length surgery), लिपोसक्शन सर्जरी (Liposuction) इत्यादि।

वैक्यूम पंप (vacuum pump)

यह एक सिलेंडर के आकर का पंप होता है जो हवा को खीचने का काम करता है। इरेक्ट लिंग की साइज़ को बढ़ाने के लिए लिंग को वैक्यूम पंप के अंदर डालते है , परिणामस्वरूप वैक्यूम पंप लिंग में अतिरिक्त रक्त को खींचता है, जिससे कारण लिंग सीधा और थोड़ा बड़ा हो जाता है। इसके बाद एक रक्तरोधक पट्टी (जैसे टूनिकेट) के साथ लिंग को दबा दिया जाता है जिससे लिंग में रक्त कुछ देर तक बना रहे। इस प्रक्रिया के सहारे लिंग की साइज़ तब तक अधिक रहती है जब तक कि रक्तरोधक पट्टी बंधी रहती है। इस प्रक्रिया का उपयोग 20 या 30 मिनट से अधिक समय तक उपयोग में नहीं ला सकते है क्योंकि इस प्रक्रिया में ऊतक क्षतिग्रस्त हो सकते है। वास्तव में लिंग के आकार को बढ़ाने के लिए यह अत्यधिक उपयोगी प्रक्रिया नहीं है।

पेनिस एक्सटेंडर (Penile extenders)

पेनाइल एक्सटेंडर एक नॉन-इनवेसिव डिवाइस है। यह लिंग को फैलाने के लिए संकर्षण यंत्र (traction device) का उपयोग करता है। पेनिस एक्सटेंडर का उपयोग करने के तीन महीने बाद पेनिस की औसत लंबाई 1.5 सेंटीमीटर तक बढ़ सकती है।

जेल्किंग एक्सरसाइज (jelqing exercises)

जेल्किंग व्यायाम का उद्देश्य स्तंभन के समय लिंग के आकार को बढ़ाना है। इस एक्‍सरसाइज के जरिए अंगूठे और तर्जनी का उपयोग करके लिंग को तेजी से बार-बार खींचकर इसकी लंबाई को बढ़ाया जाता है।

लिपोसक्शन सर्जरी (Liposuction)

लिपोसक्शन, पेट के नीचे की वसा को हटाने के लिए एक शल्य प्रक्रिया है जिसके माध्यम से लिंग को बड़ा किया जा सकता है।

(और पढ़े – लिंग (पेनिस) का साइज कैसे बढ़ाये, मोटा और लंबा करने की एक्सरसाइज…)

लिंग बढाने के लिए उपचार कब किया जाता है – When is penis enlargement treatment done

लिंग बढाने के लिए उपचार कब किया जाता है – When is penis enlargement treatment done

जिन पुरुषों के इरेक्ट लिंग (penis) की लम्बाई, औसत लम्बाई 5.2 इंच से कम होती है, वह व्यक्ति उपचार प्राप्त करने के लिए डॉक्टर से परामर्श ले सकते हैं। इसके अतिरिक्त वही व्यक्ति छोटे लिंग का उपचार प्राप्त कर सकता है, जिसका शरीर दवा लेने या सर्जरी से गुजरने के लिए पर्याप्त अनुकूल हो।  लिंग वृद्धि की उपचार प्रक्रिया में पेनिस एनलार्जमेंट सर्जरी (penis enlargement surgery) की सिफारिश केवल तब की जाती है, जब अन्य दवाएं या हार्मोन थेरेपी से उचित परिणाम प्राप्त नहीं होते हैं।

(और पढ़े – लिंग (पेनिस) के बारे में रोचक तथ्य…)

छोटे लिंग के उपचार के दौरान साइड इफेक्ट्स – Small Penis Size Treatment side effects in Hindi

छोटे लिंग के उपचार के दौरान साइड इफेक्ट्स - Small Penis Size Treatment side effects in Hindi

हार्मोन थेरेपी (hormone therapy) के संभावित दुष्प्रभावों (side effects) में निम्न को शामिल किया जा सकता है, जैसे:

पेनिस एनलार्जमेंट सर्जरी के जोखिम कारकों (side effects) में निम्न को शामिल किया जा सकता है:

(और पढ़े – लिंग (पेनिस) में दर्द के लक्षण, कारण, इलाज और बचाव…)

लिंग बढ़ाने की सर्जरी के बाद सावधानियां – Penis Enlargement surgery Precautions in Hindi

लिंग बढ़ाने की सर्जरी के बाद सावधानियां - Penis Enlargement surgery Precautions in Hindi

सर्जरी के बाद किसी भी तरह की लापरवाही बरतने से सम्बंधित व्यक्ति को अत्यधिक जोखिमों का सामना करना पड़ सकता है। इसलिए पेनिस एनलार्जमेंट सर्जरी के बाद पुरुष को निम्नलिखित सावधानियां रखनी चाहिए, जैसे:

  • एक संतुलित वजन को बनाये रखें तथा वजन को न बढ़ने दें
  • डॉक्टर द्वारा दी गई दवाईयों का सही समय पर नियमित रूप से सेवन करना चाहिए
  • सर्जरी के बाद संक्रमण की समस्या से बचने के लिए सभी संभव प्रयाश करना चाहिए
  • लिंग बढ़ाने के लिए की गई सर्जरी के बाद सम्बंधित व्यक्तियों को कुछ समय के लिए यौन गतिविधि यों से दूर रहना चाहिए
  • सर्जरी के परिणामों की नियमित जांच के लिए डॉक्टर से उचित परामर्श प्राप्त करें।

(और पढ़े – पेनिस (लिंग) के रोग के लक्षण, कारण, प्रकार, उपचार और बचाव…)

छोटा पेनिस साइज़ ट्रीटमेंट कॉस्ट – Small Penis Size Treatment cost in Hindi

छोटा पेनिस साइज़ ट्रीटमेंट कॉस्ट - Small Penis Size Treatment cost in Hindi

लिंग को बढ़ाने वाले उपचार के प्रकारों के आधार पर कीमत को निर्धारित किया जा सकता है यद्धपि हार्मोन थेरेपी में सर्जरी की अपेक्षा लागत बहुत कम आती है। भारत में लिंग वृद्धि की शल्य चिकित्सा (Penis lengthening surgery) की लागत 2.2 लाख रुपये से लेकर 6.2 लाख रुपये के बीच कुछ भी हो सकता है। गोनाडोट्रोपिन हार्मोन इंजेक्शन (Gonadotrophic hormone injections) की लागत 175 रुपये से 1000 रुपये के बीच तथा विकास हार्मोन (growth hormones) के साथ उपचार प्रक्रिया में आमतौर पर 200,000 रुपये का खर्च आ सकता है।

(और पढ़े – पुरुषों के गुप्त रोग, सेक्स समस्याओं – कारण, प्रकार, जांच, उपचार और रोकथाम…)

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

आपको ये भी जानना चाहिये –

Leave a Comment

2 Comments

Subscribe for daily wellness inspiration