पुरुषों के गुप्त रोग, सेक्स समस्याओं – कारण, प्रकार, जांच, उपचार और रोकथाम – Purusho Ke Gupt Rog, Male Sexual Problems In Hindi




पुरुषों के गुप्त रोग, सेक्स समस्याओं – कारण, प्रकार, जांच, उपचार और रोकथाम - Purusho Ke Gupt Rog, Male Sexual Problems In Hindi
Written by Daivansh

Male Sexual Problems and solution in hindi गुप्त रोगों और सेक्स समस्याओं की जानकारी: पुरुषों में गुप्त रोग या यौन समस्याएं (Male Sexual Problems) एक गम्भीर मुद्दा है जिसपर विचार किया जाना अतिआवश्यक है। रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र के अनुसार, आज के समय में यौन समस्याओं (Sexual Problems) ने लाखों पुरुषों को प्रभावित कर रखा है। यौन स्वास्थ्य किसी भी व्यक्ति के जीवन के महत्वपूर्ण हिस्सा होता है। तथा यह एक जोड़े के खुशहाल जीवन का भी महत्वपूर्ण हिस्सा है।

आज के समय में पुरुषों में यौन समस्याएं (Male Sexual Problems) और यौन रोग बहुत सामान्य बात हो गई हैं जो यौन स्वास्थ्य के साथ-साथ सम्पूर्ण जीवन को प्रभावित करती हैं। यौन समस्याओं (Sexual Problems) के साथ कई प्रकार की समस्याएं सम्बंधित रहती है जो व्यक्ति के संपूर्ण स्वास्थ्य पर प्रभाव डालती हैं। इसलिए किसी भी व्यक्ति को इन समस्याओं को अनदेखा नहीं करना चाहिए और तुरंत चिकित्सकीय सहायता लेनी चाहिए।

इस लेख के माध्यम से आप जानेंगे गुप्त रोगों की जानकारी, पुरुषों में यौन समस्याएं क्या हैं, पुरुषों के गुप्त रोग कौन से होते हैं इनके प्रकार, निदान, उपचार और रोकथाम के बारे में।

1. पुरुषों के गुप्त रोग / पुरुष सेक्स समस्याएं – Purusho Ke Gupt Rog In Hindi
2. पुरुषों में गुप्त रोगों (सेक्स समस्याओं) के प्रकार – Types of Male sexual problems in Hindi

3. पुरुष यौन समस्या (सेक्स समस्याओं) का कारण – Causes Male Sexual Problems in Hindi
4. पुरुषों में सेक्स समस्याओं (गुप्त रोगों) का निदान – Sexual Problems In Men Diagnosed In Hindi
5 .पुरुषों की सेक्स समस्याओं का इलाज – Treatment For Male Sexual Problems In Hindi
6. मर्दों की सेक्स समस्याओं की रोकथाम – Prevention Sexual Problems in Hindi

पुरुषों के गुप्त रोग / पुरुष सेक्स समस्याएं – Purusho Ke Gupt Rog In Hindi

पुरुषों के गुप्त रोग / पुरुष सेक्स समस्याएं – Purusho Ke Gupt Rog In Hindi

मर्दों में सेक्स समस्याओं (Male Sexual Problems) या पुरुषों में गुप्त रोग से आशय संतोषजनक यौन संबंध रखने में असमर्थता से होता है। आम तौर पर, यौन क्रियाओं में अक्षमता जीवन की गुणवत्ता को प्रभावित कर सकती है, साथ ही साथ यह समस्याएं किसी अन्य चिकित्सा या मनोवैज्ञानिक समस्याओं के लक्षणों से सम्बंधित हो सकती हैं। अतः किसी भी प्रकार की यौन समस्या को गंभीरता से लिया जाना चाहिए और तुरंत उपचार प्रक्रिया अपनाई जानी चाहिए।

पुरुषों में गुप्त रोगों (सेक्स समस्याओं) के प्रकार – Types of Male sexual problems in Hindi

पुरुषों में गुप्त रोगों (सेक्स समस्याओं) के प्रकार - Types of Male sexual problems in Hindi

आज के समय में 10 में से 1 पुरुष को सेक्स से संबंधित समस्या होती है, जैसे समयपूर्व स्खलन (premature ejaculation) या इरेक्टाइल डिसफंक्शन (नपुंसकता) (erectile dysfunction) आदि। यौन समस्या (sexual problems) किसी भी व्यक्ति को प्रभावित कर सकती है । पुरुषों को प्रभावित करने वाले सबसे सामान्य पुरुष यौन समस्याएं में शामिल हैं:

इरेक्टाइल डिसफंक्शन (नपुंसकता) – Erectile Dysfunction (Impotence) In Hindi

पुरुषों में इरेक्टाइल डिसफंक्शन (Erectile dysfunction) की समस्या तब उत्पन्न होती है, जब कोई व्यक्ति इरेक्शन (erection) प्राप्त नहीं कर पाता है। इरेक्शन लिंग को खड़ा करने और सख्त रखने की क्रिया होती है। अतः सेक्स के दौरान इरेक्शन में विफलता को इरेक्टाइल डिसफंक्शन (नपुंसकता) के रूप में जाना जाता है। अधिकांश पुरुष में इस समस्या का प्रमुख कारण शारीरिक या मनोवैज्ञानिक हो सकता है।

हृदय रोग, मधुमेह और उच्च रक्तचाप आदि शारीरिक समस्याएं इरेक्टाइल डिसफंक्शन (Erectile dysfunction) का कारण बनती हैं। इसके अतिरिक्त शराब, धूम्रपान और कुछ चिकित्सकीय दवाएं भी इरेक्शन (erection) की विफलता का कारण बन सकती हैं।

(और पढ़े – इरेक्टाइल डिसफंक्शन नपुंसकता (स्तंभन दोष) कारण और उपचार…)

शीघ्र स्खलन (शीघ्रपतन) – Premature Ejaculation In Hindi

शीघ्र स्खलन (Premature ejaculation) पुरुषों की एक बहुत सामान्य समस्या है, जो समय से पहले ही वीर्यपात होने का कारण बनती है। यह समस्या सम्बंधित व्यक्ति और उसके साथी को परेशान कर सकती है।

चूँकि वीर्यस्खलन (ejaculation) के लिए कोई निश्चित समय नहीं होता है। शीघ्र स्खलन (Premature ejaculation) तब होता है जब व्यक्ति वीर्यपात (ejaculate) करते समय नियंत्रण खो देता है। यह गंभीर समस्या नहीं है। परन्तु जब समय से पहले वीर्यपात (ejaculate) नियमित रूप से होता है, तो यह गंभीर मुद्दा बन सकता है।

यह समस्या आमतौर पर मनोवैज्ञानिक समस्याओं के कारण उत्पन्न होती है। यौन संबंध में तनाव, चिंता या अवसाद (depression) की स्थिति शीघ्र स्खलन (Premature ejaculation) का कारण बन सकती हैं।

(और पढ़े – शीघ्रपतन कारण,उपचार और शीघ्रपतन रोकने के घरेलु उपाय…)

सेक्स ड्राइव में कमी या कम कामेच्छा – Loss Of Sex Drive Or Low Libido In Hindi

कम कामेच्छा (low libido or Loss of sex drive) की समस्या यौन इच्छा में कमी या अनुपस्थित से सम्बंधित है। सामान्य शब्दों में कहा जाये तो इस समस्या को सेक्स में रुचि या दिलचस्पी न लेने से संबोधित किया जाता है। यह समस्या कुछ पुरुष बहुत कम कुछ में बहुत अधिक हो सकती हैं। कम कामेच्छा (low libido), मानसिक विकारों के कारणों उत्पन्न होने वाली समस्या है, जो समय के साथ गंभीर होती जाती है।

कामेच्छा (libido or sex drive) मुख्य रूप से एक हार्मोनल (Hormonal) और मस्तिष्क घटना के कारण उत्पन्न होती है। यौन इच्छा के लिए रक्त में टेस्टोस्टेरोन (पुरुष हार्मोन) (testosterone) के सामान्य स्तर और मस्तिष्क में साथी के प्रति आकर्षण की आवश्यकता होती है।

अतः मानसिक चिंता, मष्तिक रोग, अवसाद और अन्य गंभीर बीमारियां जो मस्तिष्क हार्मोन पर असर डालती हैं, कम कामेच्छा का कारण बनती हैं।

(और पढ़े – पुरुषों में यौन इच्‍छा (कामेच्छा) में कमी के कारण और घरेलू उपाय…)

प्रियापिज्म या प्रोलॉग इरेक्शन – Priapism Or Prolonged Erection In Hindi

पुरषों के लिंग में इरेक्शन (erection) उत्पन्न होने पर, लंबे समय तक बने रहने की समस्या को प्रियापिज्म या प्रोलॉग इरेक्शन (Priapism or Prolonged) कहा जाता है। अर्थात प्रोलॉग इरेक्शन (Prolonged erection) को उत्तेजना के दौरान लिंग के लम्बे समय तक खड़े रहने की समस्या या इरेक्शन (erection) के 2 घंटे या उससे अधिक समय तक बने रहने की समस्या के रूप में जाना जाता है। आमतौर यह समस्या बहुत दर्दनाक होती है।

प्रियापिज्म (Priapism) एक चिकित्सा आपातकाल की स्थिति है। यदि 24 घंटे के भीतर इसका इलाज प्राप्त नहीं किया गया, तो लिंग को स्थायी रूप से नुकसान पहुँच सकता है।

प्रियापिज्म (Priapism) या लंबे समय तक इरेक्शन, लिंग में रक्त के फंसने या रक्त के वापस लौटने में असमर्थता के कारण होता है। प्रियापिज्म (Priapism) के कारणों में रक्त विकार, लिंग में चोट या अन्य चिकित्सकीय स्थितियां जैसे – कुछ दवाएं, शराब और नशीली दवाओं का उपयोग शामिल है।

(और पढ़े – पेनिस (लिंग) के रोग के लक्षण, कारण, प्रकार, उपचार और बचाव…)

विलंबित स्खलन – Delayed ejaculation in Hindi

कुछ लोगों यौन उत्तेजना की लंबी अवधि के बाद ही वीर्यपात (ejaculate) कर सकते हैं, भले ही उनके पास सामान्य इच्छा और सामान्य इरेक्शन (erection) क्यों ना हो। कुछ मामलों में पुरुष, स्खलन (ejaculation) को बिल्कुल भी हासिल नहीं कर पाते हैं, पुरुषों की इस समस्या को विलंबित स्खलन (Delayed ejaculation) के रूप में जाना जाता है।

विलंबित स्खलन (Delayed ejaculation) की स्थिति निम्न लक्षणों से प्रगट होती हैं:

जब 30 से 60 मिनट चाहकर भी स्खलन न कर पाना,

सेक्स करने के आधा घंटे तक वीर्यपात (ejaculate) न हो पाना।

कई दवाएं एंटीडप्रेसेंट्स (antidepressants), स्टेरॉयड (steroids), दर्द नाशक और उच्च रक्तचाप तथा हृदय रोग के लिए कुछ दवाओं का सेवन स्खलन में देरी (Delayed ejaculation) का कारण बन सकता हैं।

(और पढ़े – सेक्स हार्मोन क्या होते है महिला और पुरुष में इनका महत्त्व…)

नाइटफॉल या स्‍वप्‍नदोष – Nightfall In Hindi

स्वप्नदोष (Nightfall) एक स्वाभाविक क्रिया है नाइटफॉल या रात के समय उत्सर्जन पुरुषों के बीच एक आम समस्या है। यह सभी उम्र के पुरुषों को प्रभावित करती है, हालांकि, 18 से 30 वर्ष की आयु के पुरुष इससे सबसे ज्यादा प्रभावित होते हैं। नाइटफॉल, जिसे आयुर्वेद में स्वप्नदोष भी कहा जाता है, रात या सुबह के दौरान अनैच्छिक स्खलन को संदर्भित करता है। नींद के दौरान वीर्य का यह निर्वहन (Discharge Of Semen During Sleep) आमतौर पर शरीर में हार्मोनल परिवर्तनों के लिए जिम्मेदार होता है। युवावस्था की शुरुआत के साथ, यौन इच्छाओं के साथ हार्मोनल परिवर्तन उत्तेजना उत्पन्न करते हैं और रात के अंत तक अपने चरम तक पहुंच सकते हैं। जिससे नाइटफॉल या स्‍वप्‍नदोष होने की सम्भावना बढ़ जाती है।

हार्मोनल परिवर्तनों के अलावा, हस्तमैथुन (Masturbation) को नाइटफॉल के लिए एक और मुख्य कारण माना जाता है। पोर्नोग्राफी और विशेष रूप से रात में यौन चैट (sexual chats) करना इस समस्या में योगदान दे सकता है। किशोरावस्था की उम्र में यौन सपने (Erotic and sexual dreams)आम तौर पर नाइटफॉल की समस्याएं पैदा करते हैं।

(और पढ़े – स्वप्नदोष रोकने के घरेलू उपाय…)

धात रोग या धातु रोग – Spermatorrhea, Dhatu (Dhat) Rog in hindi

शुक्राणुरोधी (धात रोग या धातु रोग) एक रोगजनक विकार है जिसमें रोगी यौन गतिविधि के बिना सहज स्खलन का अनुभव करता है। यह स्थिति दो श्रेणियों में विभाजित है: (1) मेन्ग यी, जिसमें मरीज़ सपने देखने के साथ नींद के दौरान शुक्राणुरोधी प्रदर्शन करते हैं, और (2) हुआ जिंग, जिसमें मरीज़ सपने के बिना शुक्राणु निकलने का अनुभव करते हैं, या दिन के दौरान ऐसा होता हैं। यदि एक मरीज में सप्ताह में दो या तीन बार शुक्राणुरोधी होता है या दिन के दौरान चक्कर आना, कमजोरी, पैरों की कमजोरी और पीठ में दर्द, और अनिद्रा, जैसे लक्षण होते है तो इसे रोगजनक विकार माना जाता है।

शुक्राणुरोधी भावनात्मक असंतुलन, अत्यधिक यौन गतिविधि और शराब के अधिक सेवन के कारण हो सकता है, जिनमें से सभी दिल, यकृत, प्लीहा, गुर्दे के असंतुलन का कारण बन सकते हैं।

(और पढ़े – स्खलन के बाद शुक्राणु कितनी देर तक जीवित रह सकता है…)

पुरुष यौन समस्या (सेक्स समस्याओं) का कारण – Causes Male Sexual Problems in Hindi

पुरुष यौन समस्या (सेक्स समस्याओं) का कारण - Causes Male Sexual Problems in Hindi

पुरुषों में यौन समस्याओं या गुप्त रोगों के अनेक शारीरिक या मनोवैज्ञानिक कारण हो सकते हैं। जो निम्न हैं:

शारीरिक कारण (Physical causes) – विभिन्न प्रकार की शारीरिक और चिकित्सकीय स्थितियां व्यक्ति के यौन कार्यों में समस्याएं पैदा कर सकती हैं। इन स्थितियों में शामिल हैं:

मधुमेह, हृदय रोग और संवहनी रोग (vascular disease)

तंत्रिका संबंधी विकार (neurological disorders)

हार्मोन असंतुलन

पुरानी बीमारियां (chronic diseases), जैसे किडनी या लीवर की विफलता

शराब और नशीली दवाओं का दुरुपयोग या अत्यधिक सेवन

एंटीड्रिप्रेसेंट दवाओं सहित कुछ दवाओं का साइड इफेक्ट्स

मनोवैज्ञानिक कारण (Psychological causes) – यौन समस्याओं से सम्बंधित मनोवैज्ञानिक कारणों में तनाव और चिंता, वैवाहिक रिश्तों में तनाव, अवसाद (depression), अपराध की भावनाएं और पुराने यौन आघात या जोखिम के बारे में चिंता आदि शामिल हैं।

(और पढ़े – स्मोकिंग की आदत कैसे लगती है, इसके नुकसान और छोड़ने के तरीके…)

पुरुषों में सेक्स समस्याओं (गुप्त रोगों) का निदान – Sexual Problems In Men Diagnosed In Hindi

यौन समस्याओं (sexual problems) या गुप्त रोगों (gupt rog) का निदान एक विस्तृत चिकित्सा, यौन और मनोवैज्ञानिक इतिहास के साथ शुरू किया जाता है, फिर उसके बाद पूरी तरह से शारीरिक परीक्षण किया जाता है। चूँकि यौन समस्याओं (sexual problems) के कई कारण हो सकते हैं, इसलिए प्रत्येक निदान प्रक्रिया आवश्यक हो सकती है। कभी-कभी मरीज के यौन साथी को भी इस मूल्यांकन प्रक्रिया में शामिल किया जा सकता है।

चिकित्सा, मनोवैज्ञानिक और यौन इतिहास यौन समस्याओं या गुप्त रोगों के निदा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। अतः प्रत्येक जानकारी को बगैर शर्मिंदगी के चिकित्सक को बताना आवश्यक होता है। डॉक्टर मरीज से यौन संबंधों की जानकारी के लिए कई तरह के प्रश्न कर सकते हैं।

इसके अतिरिक्त पूर्ण शारीरिक परीक्षण के आधार पर बाह्य जननांग जैसे – लिंग, स्क्रोटम (scrotum) तथा गुदा और अंडकोष के बीच का भाग (perineum) के भाग की पूरी तरह से जांच की जा सकती है। चिकित्सक लैंगिक रक्त वाहिका (penile blood vessel) या तंत्रिका तंत्र के कार्यों की जानकारी के लिए कुछ परीक्षणों की सलाह दे सकता है, जिससे कि यौन समस्याओं के सटीक कारणों की जानकारी प्राप्त हो सके। अतः सभी सटीक कारणों को ध्यान में रखते हुए उपचार प्रक्रिया प्रारम्भ की जा सकती है।

इसके अतिरिक्त पुरुषों में यौन समस्याओं का निदान करने के लिए निम्न परीक्षण शामिल किए जा सकते हैं:

  • टेस्टोस्टेरोन (testosterone) के स्तर, रक्त शर्करा (मधुमेह के लिए) और कोलेस्ट्रॉल की जांच करने के लिए रक्त परीक्षण,
  • रक्तचाप की जांच,
  • प्रोस्टेट (prostate) की जांच के लिए रेक्टल परीक्षा (Rectal exam)
  • लिंग और अंडकोष  का परीक्षा

(और पढ़े – अंडकोष (वृषण) में दर्द के कारण, लक्षण, जांच, उपचार और रोकथाम…)

पुरुषों की सेक्स समस्याओं का इलाज – Treatment For Male Sexual Problems In Hindi

मनोवैज्ञानिक या अंतर्निहित शारीरिक समस्याओं का इलाज करके पुरुषों में यौन समस्याओं की ठीक किया जा सकता है। पुरुषों में गुप्त रोग का इलाज सभी सटीक कारणों पर निर्भर करता है। उपचार प्रक्रिया  में निम्नलिखित को शामिल किया जा सकता है:

चिकित्सा उपचार (Medical treatment) – इसमें यौन समस्याओं का कारण बनने वाली शारीरिक समस्याएं  जैसे उच्च रक्तचाप, ह्रदय रोग या कोई पुरानी बीमारी का उपचार शामिल है।

दवाएं (Medications) – डॉक्टर यौन समस्याओं या गुप्त रोगों का इलाज करने के लिए दवाओं की सिफारिश कर सकता हैं। सियालिस (Cialis), लेविट्रा (Levitra), स्टैक्सिन (Staxyn) या वियाग्रा (Viagra) जैसी दवाएं लिंग में इरेक्शन (erection) की प्रक्रिया में सुधार लाने में मदद कर सकती हैं। प्रोमेसेंट (Promescent) दवा का उपयोग समयपूर्व स्खलन या शीघ्र स्खलन (premature ejaculation) का इलाज करने के लिए किया जा सकता है।

हार्मोन (Hormones) – टेस्टोस्टेरोन (testosterone) के निम्न स्तर वाले पुरुषों का इलाज करने के लिए टेस्टोस्टेरोन प्रतिस्थापन थेरेपी (testosterone replacement therapy) का प्रयोग किया जा सकता है। इसके अतिरिक्त मस्तिष्क हार्मोन्स को नियंत्रित करने के लिए भी उपचार प्रक्रिया अपनाई जा सकती है।

मनोवैज्ञानिक चिकित्सा (Psychological therapy) – व्यक्ति के मानसिक विकार जैसे- चिंता, भय, डिप्रेशन और अन्य मानसिक विकार यौन कार्यों पर असर डाल सकते है और यौन समस्याओं का कारण बनते हैं। अतः मनोचिकित्सक इन मानसिक विकार में सुधार कर यौन समस्याओं का उपचार कर सकता है।

(और पढ़े – यौन शक्ति बढ़ाने के लिए प्राक्रतिक जड़ी बूटी…)

मर्दों की सेक्स समस्याओं की रोकथाम – Prevention Sexual Problems in Hindi

मर्दों की सेक्स समस्याओं की रोकथाम – Prevention Sexual Problems in Hindi

जीवनशैली (Lifestyle) में परिवर्तन, पुरुष यौन समस्याओं में सुधार लाने और इलाज में मदद करने के लिए उपयोगी हो सकता है। स्वस्थ जीवनशैली अपनाकर पूर्व में ही यौन समस्याओं (Sexual Problems) को रोका जा सकता है। अतः पुरुषों में यौन समस्याओं के जोखिमों को कम करने के लिए निम्न उपाय अपनाये जा सकते है:

एक स्वास्थ्य जीवन शैली को अपनाएं।

नियमित रूप से व्यायाम करें।

शराब का सेवन सीमित मात्रा में करें।

धूम्रपान का सेवन ना करें।

मानसिक भावनाओं और विकारों जैसे तनाव, अवसाद और चिंता को उत्पन्न न होने दें। मानसिक विकारों को दूर करने के लिए तुरंत उचित प्रयास करना चाहिए।

प्रत्येक व्यक्ति को अपने साथी के साथ अच्छे संबंध रखना चाहिए।

एक से अधिक यौन साथी न रखे और सुरक्षित यौन संबंध रखें।

(और पढ़े – सुरक्षित सेक्स करने के तरीके…)

Leave a Comment

1 Comment

Subscribe for daily wellness inspiration