इरेक्टाइल डिसफंक्शन (नपुंसकता या स्तंभन दोष) का आयु से संबंध – Erectile Dysfunction and Your Age in Hindi




इरेक्टाइल डिसफंक्शन (नपुंसकता या स्तंभन दोष) का आयु से संबंध - Erectile Dysfunction and Your Age in Hindi
Written by Daivansh

नपुंसकता या स्तंभन दोष का आयु से क्या संबंध होता है: पर्याप्त यौन संभोग करने के लिए इरेक्शन (erection) को प्राप्त करने या बनाये रखने में असमर्थता को इरेक्टाइल डिसफंक्शन या स्तंभन दोष (नपुंसकता) (Erectile dysfunction) कहते हैं। कुछ लोग में आयु बढ़ने के साथ इरेक्टाइल डिसफंक्शन का दोष बढ़ता जाता है।

उम्र बढ़ने से यह नहीं कहा जा सकता है कि कोई भी व्यक्ति एक निश्चित समय या उम्र पर इरेक्टाइल डिसफंक्शन (ED) का सिकार होकर जीवन में हताश हो जायेंगे। उम्र केवल स्तंभन दोष (नपुंसकता) के लिए जोखिम पैदा कर सकती है, इस समस्या का इलाज किसी भी उम्र में किया जा सकता है।

अतः आप इस लेख के माध्यम से जानेंगे कि इरेक्टाइल डिसफंक्शन (नपुंसकता) का उम्र से संबंध है या नहीं तथा इसके कारण और उपचार क्या हैं।

  1. इरेक्टाइल डिसफंक्शन क्या है – What Is Erectile Dysfunction In Hindi
  2. क्या इरेक्टाइल डिसफंक्शन का उम्र से संबंध है या नहीं – Erectile Dysfunction Is Related To Age Or Not In Hindi
  3. स्तंभन दोष (इरेक्टाइल डिसफंक्शन) के चिकित्सा कारण – Medical Causes Of Erectile Dysfunction In Hindi
  4. नपुंसकता या स्तंभन दोष के अन्य कारण – Other Causes Of Erectile Dysfunction In Hindi
  5. स्तंभन दोष को कम करने के लिए जीवन शैली परिवर्तन और उपचार – Lifestyle Changes And Other Treatments for Erectile Dysfunction In Hindi

इरेक्टाइल डिसफंक्शन क्या है – What Is Erectile Dysfunction In Hindi

नपुंसकता या स्तंभन दोष या इरेक्टाइल डिसफंक्शन (Erectile dysfunction) पुरुष यौन सम्बंधित समस्या है। एक व्यक्ति को स्तंभन दोष से पीड़ित माना जाता है, यदि वह नियमित और सुरक्षित रूप से यौन संबंध बनाने के लिए पर्याप्त इरेक्शन (erection) को प्राप्त करने में कठिनाई महसूस करता है।

पुरुष यौन या लैंगिक उत्तेजना आसान प्रतीत हो सकती है, लेकिन यह शरीर के अंदर जटिल घटनाओं का सही तरीके और एक क्रम में चलने वाली प्रक्रिया होती है। मस्तिष्क लिंग की लंबाई को बढ़ाने के लिए स्पंजी ऊतकों (spongy tissues) में मांसपेशियों को रिलैक्स (relax) कराने के लिए लिंग की नसों को सक्रिय करता है। जब यह मांसपेशियां रिलैक्स (relax) होती है,तब धमनियों से खून का बहाव स्पंजी ऊतक (spongy tissue) की खुली जगहों को भरने के लिए होने लगता है। जिसे लिंग में कठोरता आ जाती है और लिंग का आकर बढ़ जाता है। इसे ही इरेक्शन (erection) कहा जाता है।

यौन उत्तेजना के समय रक्तचाप में वृद्धि लिंग को फैलाने में मदद करती है। अतः इस सम्पूर्ण प्रक्रिया में बाधा डालने वाला कारक, लैंगिक संभोग में अपर्याप्त या स्तंभन दोष का कारण बनता है।

(और पढ़े – इरेक्टाइल डिसफंक्शन नपुंसकता (स्तंभन दोष) कारण और उपचार…)

क्या इरेक्टाइल डिसफंक्शन का उम्र से संबंध है या नहीं – Erectile Dysfunction Is Related To Age Or Not In Hindi

नपुंसकता या स्तंभन दोष (Erectile dysfunction) अकसर वृद्ध होने के साथ जुड़ा हुआ है। स्तंभन दोष या नपुंसकता का दोष उम्र बढ़ने के साथ बढ़ता चला जाता है। लेकिन सच तो यह है कि इस दोष का इलाज संभव है और यह उम्र बढ़ने के साथ होना अनिवार्य नहीं है। अध्ययनों द्वारा यह अनुमान लगाया गया है कि 50 की उम्र में केवल 4% पुरुषों को और 60 की उम्र में केवल 17% पुरुषों को इस रोग से प्रभावित पाया गया। वास्तव में, स्तंभन दोष (Erectile dysfunction) के बहुत से कारण हो सकते है, जिनका उम्र बढ़ने से कोई संबंध नहीं होता है।

(और पढ़े – नपुंसकता (स्तंभन दोष) दूर करने के लिए विटामिन…)

स्तंभन दोष (इरेक्टाइल डिसफंक्शन) के चिकित्सा कारण – Medical Causes Of Erectile Dysfunction In Hindi

नपुंसकता या  स्तंभन दोष (Erectile dysfunction) के कई भौतिक कारण होते हैं। इन कारणों में से कोई भी कारक इरेक्शन (erection) की प्रक्रिया को परिवर्तित कर सकता है। इरेक्शन (erection) की प्रक्रिया को प्रभावित करने वाले कारक निम्न हैं:

हार्मोन टेस्‍टोस्‍टेरोन (testosterone) एक व्यक्ति के सेक्स ड्राइव (sex drive) और ऊर्जा के स्तर को प्रभावित करता है, तथा मस्तिष्क की लैंगिक उत्तेजना के आवेग को नियंत्रित करता है। इसके अतिरिक्त मधुमेह रोग, जननांग क्षेत्र में रक्त प्रवाह में वृद्धि करने वाली नसों को भी नुकसान पहुंचा सकता है।

स्तंभन दोष (Erectile dysfunction) की स्थिति में डॉक्टर मधुमेह के कारण कोशिका की क्षति और कम टेस्‍टोस्‍टेरोन (low testosterone) के लिए परीक्षण कर सकता है। इसके अलावा, हृदय रोग और धमनी अवरोध (artery blockages) भी इरेक्शन (erection) के उत्पादन में बाधा डालते है।

(और पढ़े – पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन बढ़ाने के आसान घरलू उपाय…)

नपुंसकता या स्तंभन दोष के अन्य कारण – Other Causes Of Erectile Dysfunction In Hindi

इरेक्टाइल डिसफंक्शन (Erectile dysfunction) पुरुषों में लिंग सम्बन्धी दोष का संबंध केवल उम्र या पुरानी बीमारियों से नहीं होता है, बल्कि इसके अन्य सामान्य कारण भी हो सकते हैं जैसे :

  • चिंता (anxiety) की स्थिति
  • भारी मात्रा में शराब का सेवन करना
  • डिप्रेशन (depression)
  • लम्बे समय तक दवाओं का सेवन
  • अत्यधिक तंबाकू का इस्तेमाल करना

शराब का सेवन, मस्तिष्क और पूरे शरीर में तंत्रिका संचार प्रक्रिया को धीमा कर देता है, शराब मानव शरीर में  उत्तेजना संकेतों और शारीरिक सामंजस्य को प्रभावित करती है। तथा तंबाकू का सेवन गंभीर बीमारियों का कारण बन सकता है। अतः ये सभी कारक लैंगिक कार्यों को प्रभावित कर सकते है। कुछ सामान्य प्रकार की दवाएं जैसे- एंटीथिस्टेमाइंस (antihistamines), एंटीडिप्रेसेंट (antidepressants) आदि नपुंसकता का कारण बन सकती हैं।

(और पढ़े – अवसाद (डिप्रेशन) क्या है, कारण, लक्षण, निदान, और उपचार…)

स्तंभन दोष को कम करने के लिए जीवन शैली परिवर्तन और उपचार – Lifestyle Changes And Other Treatments for Erectile Dysfunction In Hindi

इरेक्टाइल डिसफंक्शन या स्तंभन दोष (Erectile dysfunction) से पीड़ित लोगों के लिए अच्छी बात यह है कि इसके अधिकांश शारीरिक और भावनात्मक (emotional) कारणों को नियंत्रित किया जा सकता है। इस समस्या के लक्षणों को कम करने के लिए निम्न उपाय अपनाये जाने चाहिए:

अंत में आपको बता दें की सत्य बात तो यह है कि नपुंसकता (impotence) और इरेक्शन (erection) को बनाए रखने में असमर्थता, इन दोनों का हमेशा उम्र से संबंध नहीं होता है।

(और पढ़े – स्मोकिंग की आदत कैसे लगती है, इसके नुकसान और छोड़ने के तरीके…)

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration