स्खलन के बाद शुक्राणु कितनी देर तक जीवित रह सकता है – How Long Can Sperm Survive After Ejaculation in Hindi




स्खलन के बाद शुक्राणु कितनी देर तक जीवित रह सकता है - How Long Can Sperm Survive After Ejaculation in Hindi
Written by Daivansh

How Long Can Sperm Survive After Ejaculation in Hindi सभी लोग यह जानना चाहते है कि पुरुष के स्खलन के बाद शुक्राणु कितनी देर तक जीवित रह सकता है और महिला के शरीर में शुक्राणु कितनी देर तक जीवित रहता है आज हम आपको इन्ही प्रश्नों के उत्तर देने वाले हैं।

  1. शुक्राणु कब तक जीवित रहता है –  How long do sperm live in hindi
  2. महिला के शरीर में शुक्राणु कितनी देर तक जीवित रह सकता है – how long can sperm survive in female body in hindi
  3. प्रेगनेंसी के लिए कितना स्पर्म चाहिए – How many sperm do you need to get pregnant
  4. योनि पर वीर्य होने पर महिला गर्भवती हो सकती है – Can you get pregnant if there’s semen near the vagina in hindi
  5. क्या गर्म टब या बाथटब में शुक्राणु गर्भावस्था का कारण बनता है – Can you get pregnant if a man ejaculates in a hot tub or bathtub in Hindi
  6. क्या शुक्राणुनाशक शुक्राणु को मारता है? – Does spermicides kill sperm in hindi
  7. शुक्राणु महिला योनि में कैसे आगे बढ़ता है –  Sperm moves in the female vagina in hindi

शुक्राणु कब तक जीवित रहता है –  How long do sperm live in hindi

स्पर्म (शुक्राणु) जब शरीर के बाहर हवा के संपर्क में आते हैं, तो वे जल्दी मर सकते हैं। शुक्राणु के जीवित रहने की अवधि पर्यावरणीय कारकों पर निर्भर करती है। हवा के संपर्क में आने पर वे तेजी से सूख जाते हैं और मर जाते हैं।

अधिकांश शुक्राणु स्खलन के बाद 1-2 दिनों के भीतर ही मादा जननांग पथ के अंदर मर जाते हैं। अगर वह अंडे से न मिल पायें तो।

इंट्रायूटेरिन गर्भनिरोधक (intrauterine insemination) या इन विट्रो निषेचन (in vitro fertilization) जैसी तकनीक के माध्यम से शुक्राणु (washed sperm) को इनक्यूबेटर (incubator) में 72 घंटे तक जीवित रखा जा सकता है। जमे हुए शुक्राणु (Frozen sperm) अनिश्चित समय तक जीवित रह सकते हैं, लेकिन यह तभी संभव है जब वातावरण उचित तरीके से नियंत्रित हो।

(और पढ़े – शुक्राणु क्या है, कैसे बनते है, कार्य और संचरना…)

महिला के शरीर में शुक्राणु कितनी देर तक जीवित रह सकता है – how long can sperm survive in female body in hindi

अधिकांश शुक्राणु योनि के अंदर या महिला के जननांग पथ के बाहर स्खलन के कुछ मिनटों के भीतर मर जाते हैं। हालांकि, एक बार शुक्राणु महिला के जननांग पथ गर्भाशय ग्रीवा और गर्भाशय में प्रवेश करता है तो यह यहाँ  कुछ 5 दिनों तक जीवित रह सकते हैं, हालांकि अधिकांश सुक्राणु 1-2 दिनों से अधिक समय तक जीवित नहीं रहेंगे। इस प्रकार शुक्राणु सबसे लंबे समय तक फर्टाइल गर्भाशय ग्रीवा तरल पदार्थ में जीवित रह सकता है। अध्ययनों से पता चला है कि ज्यादातर गर्भावस्था उस संभोग का परिणाम होती है जो अंडाशय के बनने के दिन 1-2 दिनों के भीतर किया जाता है। आपको जानकर हैरानी होगी कि अंडाशय के बनने से 5 दिन पहले किये जाने वाले संभोग के बाद भी कुछ मोकों पर गर्भावस्था हो सकती है।

महिलाओं में गर्भाशय के अंदर शुक्राणु लगभग 5 दिनों तक जीवित रह सकता है। यही कारण है कि मासिक धर्म (menstruating) के दौरान असुरक्षित यौन संबंध बनाने से गर्भवती होना संभव है।

(और पढ़े – गर्भाशय की जानकारी, रोग और उपचार…)

प्रेगनेंसी के लिए कितना स्पर्म चाहिए – How many sperm do you need to get pregnant

महिला के अंडे को निषेचित (fertilize) करने में केवल एक शुक्राणु काफी होता है। ध्यान रखें, अंडे तक पहुंचने वाले प्रत्येक शुक्राणु में से लाखों शुक्राणु पहले ही नष्ट हो जाते हैं।

प्रत्येक वीर्यपात के दौरान लगभग 100 मिलियन शुक्राणु बाहर किए जाते है। अंडाणु से क्रिया करने के लिए, वीर्य (semen) को योनि से फैलोपियन ट्यूबों (fallopian tubes) तक यात्रा करनी पड़ती है। विशेषज्ञों का मानना ​​है इस यात्रा के दौरान केवल स्वस्थ शुक्राणु (sperm) ही अंडाणु को निषेचिन करने के लिए जीवित रह पाते हैं, जिससे स्वस्थ बच्चे का विकास हो सके।

(और पढ़े – शुक्राणुओं की संख्या बढ़ाने का घरेलू उपाय…)

योनि पर वीर्य होने पर महिला गर्भवती हो सकती है – Can you get pregnant if there’s semen near the vagina in hindi

अगर शुक्राणु (sperm) योनि के पास उपस्थित है तथा वह सूखा नहीं है, तो वह महिला गर्भवती हो सकती है। कुछ लोगों का मानना है कि ऑक्सीजन शुक्राणु को मारता है, पर यह सच नहीं है। शुक्राणु सूखने तक महिला की योनि में स्थानांतरित हो सकते हैं। असुरक्षित गुदा सेक्स गर्भावस्था का कारण बन सकता है जब स्पर्म लीक होकर योनि में जा सकता है। और  यदि योनि के पास शुक्राणु (sperm) नम अवस्था में रहता है, तो यह योनि और गर्भाशय में अपना रास्ता बना सकता है और अंडाणु को निषेचित कर सकता है। लेकिन ऐसा होने की संभावना बहुत कम पाई जाती है।

(और पढ़े – जल्दी और आसानी से गर्भवती होने के तरीके…)

क्या गर्म टब या बाथटब में शुक्राणु गर्भावस्था का कारण बनता है – Can you get pregnant if a man ejaculates in a hot tub or bathtub in Hindi

गर्म टब या बाथटब (hot tub or bathtub) में शुक्राणु की उपस्थिति के कारण महिला का गर्भवती होना असंभव है इस स्थिति में गर्भावस्था तब संभव है जब शुक्राणु किसी महिला के शरीर में पानी के माध्यम से यात्रा करता है। गर्म टब में उपस्थित पानी या रसायनों का तापमान शुक्राणु (sperm) को कुछ ही सेकंड में मार देगा। लेकिन सादे पानी से भरे बाथटब में, शुक्राणु कुछ मिनट तक जीवित रह सकते हैं। यदि किसी कारण वश शुक्राणु (sperm) पानी के माध्यम से शरीर के अन्दर प्रवेश कर जाता है तो उसे तुरंत योनि में प्रवेश करने की आवश्यकता होगी। फिर इसे ग्रीवा से होते हुए गर्भाशय में प्रवेश करना होगा। यदि ऐसा होता है तो कोई भी महिला गर्भवती हो सकती है।

(और पढ़े – बाथरुम में सेक्स करने के लिए अपनाएं आसान सेक्स पॉजिशन)

(और पढ़े – जानिए कैसे प्रेगनेंट होती हैं महिलाएं…)

क्या शुक्राणुनाशक शुक्राणु को मारता है? – Does spermicides kill sperm in hindi

शुक्राणुनाशक (spermicides) एक प्रकार का जन्म नियंत्रण पदार्थ होता है, जिसका उपयोग कंडोम के साथ या कंडोम के बिना किया जा सकता हैं। यह क्रीम, जेल, फोम (foam) और सपोसिटरी (suppository) सहित कई अलग-अलग रूपों में उपलब्ध किये जा सकते हैं। शुक्राणुनाशक (spermicides) शुक्राणु को मारते नहीं हैं, बल्कि वे वीर्य को आगे बढ़ने से रोकते हैं। यह शुक्राणु (sperm) की गतिशीलता को कम करता है। शुक्राणु (sperm) को गर्भाशय में प्रवेश करने से रोकने के लिए महिलाएं इसे अपने गर्भाशय के पास लगाती हैं।

शुक्राणुनाशक को कंडोम (condoms) के बिना उपयोग करने पर यह जन्म नियंत्रण के लिए प्रभावी नहीं माना जाता है, क्योंकि यह गर्भावस्था को रोकने में लगभग 28 प्रतिशत केस में असफल हो जाते हैं।

(और पढ़े – जानिए फीमेल कंडोम का उपयोग और उससे जुड़े 10 fact के बारे में…)

शुक्राणु महिला योनि में कैसे आगे बढ़ता है –  Sperm moves in the female vagina in hindi

एक बार संभोग के दौरान जब योनि में स्खलन होता है, तो शुक्राणु योनि से गर्भाशय के माध्यम से गर्भाशय में यात्रा करता है। वहां से, आपके गर्भाशय के संकुचन शुक्राणु को आपकी फैलोपियन ट्यूबों की ओर खींचने में मदद करते हैं। शुक्राणु स्खलन के एक मिनट में आपकी ट्यूबों तक पहुच सकता है। यदि महिला ओव्यूलेशन के करीब होती हैं, तो शुक्राणु के लिए यात्रा करना आसान हो जाती है। गर्भावती होने के लिए, आपका ग्रीवा श्लेष्म को अनुकूल होना चाहिए।

(और पढ़े – महिला स्खलन क्या होता है और कैसे होता है…)

स्वास्थ्य और सेहत से जुड़े अन्य लेख पढ़ने के लिए नीचे दिए गए टॉपिक पर क्लिक करें

हेल्थ टिप्स | घरेलू उपाय | फैशन और ब्यूटी टिप्स | रिलेशनशिप टिप्स | जड़ीबूटी | बीमारी | महिला स्वास्थ्य | सवस्थ आहार |

Leave a Comment

2 Comments

Subscribe for daily wellness inspiration