जल्दी और आसानी से गर्भवती होने के तरीके – How To Get Pregnant Fast And Easy In Hindi




How To Get Pregnant Fast And Easy In Hindi
Written by Daivansh

How To Get Pregnant Fast And Easy In Hindi माँ बनना हर स्त्री के लिए जीवन का सबसे सुखद एहसास होता है, लेकिन कई बार हमारी आदतें गर्भ ठहरने (Pregnant) में बाधा उत्पन्न करती हैं। तो आइए देखें कि कहीं आप भी किसी ऐसी आदत के शिकार तो नहीं हैं, जो आपको सन्तान सुख पाने से रोक रही हैं। आइए जानते हैं आप जल्दी और आसानी से कैसे गर्भवती हो सकती हैं।

गर्भावस्था की स्थिति अचानक नहीं आती, इसमें गणना का काफी बड़ा हाथ होता है। गर्भवती होने के लिए आपका फर्टिलाइजेशन (fertilization) अच्छे से होना चाहिए। आपको अपने मासिक धर्म (periodic cycle in woman) का आंकलन करके उसी हिसाब से चलना चाहिए।

गर्भावस्था से संबंधित तथ्य – Fact related to Pregnancy in Hindi

  • जितने भी लोग बच्चा पैदा करना चाहते हैं, उनमे से लगभग 85%  लोग एक साल के अन्दर ऐसा करने में सफल हो जाते हैं। जिसमे से 22 % लोग तो पहले महीने के अन्दर ही सफल हो जाते हैं। यदि एक साल तक प्रयास करने पर भी बच्चा ना हो तो यह समस्या का विषय हो सकता है और ऐसे जोड़े को बाँझपन का सिकार समझा जाता हैं।
  • बच्चा पैदा होने के लिए पति-पत्नी के बीच सेक्स (सम्भोग /intercourse)  का होना अनिवार्य है। (टेस्ट ट्यूब बेबी को छोड़कर) और इसके दौरान पुरुष का पेनिस  (लिंग) स्त्री के वेजाइना (योनी) में जाना चाहिए और पुरुष स्त्री की योनि में स्पर्म (शुक्राणु) छोड़ने होंगे, जिससे sperm ,uterus (गर्भाशय) के मुख के पास इकठ्ठा हो जायेगा। यह प्रक्रिया सेक्स के दौरान स्वत: ही हो जाती है, इसलिए आपको इसकी चिंता करने की कोई ज़रुरत नहीं है।
  • इसके आलावा सम्भोग, ओवुलेशन के समय के आस-पास होना चाहिए। ओवुलेशन (ovulation) एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमे महिलाओं के अंडाशय से अंडे निकलते हैं। Ovulation menstruation cycle (MC) यानि मासिक धर्म चक्र का हिस्सा होता है, जो कि MC के चौदहवें दिन से शुरू होता है।

(और पढ़े – ओव्यूलेशन (अंडोत्सर्ग) क्या है, साइकिल, कब होता है, कितने दिन तक रहता है और लक्षण)

(जानें – क्या होती है ओवुलेशन टेस्ट किट और कैसे करें इसका इस्तेमाल)

क्या सेक्स पोजिशन प्रेगनेंसी में रूकावट पैदा कर सकती है? 

सेक्स पोजिशन का सीधा रिश्ता पुरुष शुक्राणु और महीला के अंडे के साथ होता है। अंडे ओवरी से एक बार छूटने के बाद ओव्युलेशन स्टेज के दौरान एग फलोपियन ट्यूब से यूटरस की तरफ बढ़ना शुरू कर देते है। औरत का एक अंडा मुश्किल से 24 घंटों तक जिंदा रहता है, जबकि शुक्राणु महिला के शरीर के  अंदर 5-7 दिन तक जिंदा रह सकता है।

(और पढ़े – स्खलन के बाद शुक्राणु कितनी देर तक जीवित रह सकता है)

शुक्राणु और अंडे का आपस में मिलने के लिए जरूरी है कि मिलन के वक्त वे जिन्दा हों। हालांकि, बहुत सारे लोग इस बात से सहमत नहीं होंगे कि प्रेगनेंट होने से सेक्स पोजीशन का भी कुछ लेना-देना होता है। लेकिन इसके पीछे का सिधांत यह है कि सेक्स करते समय ऐसी पॉजिशन अपनाई जाए, जिससे अंडे और शुक्राणु का मिलन कम से कम समय में हो सके।

(और पढ़े – गर्भधारण करने की पोजीशन)

इसलिए, सेक्स पोजिशन का ख्याल रखना उन जोड़ों के लिए बहुत जरूरी है, जिन्हें प्रेग्नेंट होने में समस्या होती है। जरूरी है कि उन तरीकों को अवॉइड किया जाए, जिनसे शुराणु और अंडे का मिलन मुश्किल हो जाता है। जैसे कि खड़े होकर, या फिर वुमन ऑन टॉप पोजिशन या बैठकर में सेक्स करने पर सबसे कम चांस होते है प्रेगनेंट होने के।

(और पढ़ें – सेक्स पोजीशन (यौन आसन) की जानकारी)

जल्दी गर्भवती होने के लिए सेक्स की प्रक्रिया को दोहराएं – Having repeated sex To Get Pregnant Fast And Easy In Hindi

सम्भोग दुनिया में बच्चे को लाने का एक अनोखा और आनंददायक तरीका है। प्रेगनेंट करने का तरीका में कुछ लोग काम के दबाव तथा अन्य जुड़े कारणों से पर्याप्त मात्रा में सेक्स की क्रिया को अंजाम नहीं दे पाते। पर अगर आप बच्चा चाहती हैं और एक बार सेक्स से कोई फायदा ना हो तो उर्वर दिनों (fertilizing days) को ध्यान में रखते हुए सेक्स की क्रिया को बार बार दोहराना जल्दी गर्भवती होने के लिए काफी महत्वपूर्ण साबित होगा। महिलाओं का मासिक धर्म (menstrual cycle) 28 से 30 दिनों का होता है, जिसमें से 14 वें दिन वे सबसे ज़्यादा उर्वर अवस्था में रहती हैं।

(और पढ़े – जानिए कैसे प्रेगनेंट होती हैं महिलाएं)

आपको इस बात की भी जानकारी होनी चाहिए कि अंडाणु (ovum) का जीवन 24 से 36 घंटों तक का ही रहता है। अतः आपको सम्भोग की क्रिया के लिए इस दिन के आसपास के समय का ही चुनाव करना चाहिए। इस समय सेक्स में लिप्त होने से गर्भधारण की संभावनाएं काफी बढ़ जाती हैं। आपको सम्भोग के 15 दिन बाद दवाई की दुकानों पर उपलब्ध यूरिन टेस्ट किट (urine test kit) से गर्भावस्था की जांच करनी चाहिए।

(और पढ़े – प्रेगनेंसी टेस्ट कब करना चाहिए)

शीघ्र गर्भवती होने के उपाय –Tips To Get Pregnant Fast And Easy In Hindi

डॉक्टर से जांच कराएं

बच्चे कि प्लानिंग करने से पहले डॉक्टर से सलाह लेना और अपनी जांच कराना चाहिए। इससे यह पता चल जायगा कि आपको किसी तरह कि शारीरिक परेशानी तो नहीं है, या कोई संक्रमण (infection) वगैरह तो नहीं है। इससे एसटीडी या सेक्‍सुअली ट्रांसमिटेड डिसीज (sexually transmitted disease) होने की सम्भावना ख़त्म हो जाएगी। साथ ही अगर डिम्बग्रंथि अल्सर, फाइब्रॉएड, इर्रेगुलर पीरियड्स की समस्या, गर्भाशय के स्तर की सूजन जैसे परेशानियों की भी जांच हो जाएगी।

(और पढ़े – जानिए कैसे प्रेगनेंट होती हैं महिलाएं…)

ओव्यूलेशन के समय के आसपास सेक्स करें 

Ovulation के समय के आस-पास सेक्स  करें 

स्त्री रोग विशेषज्ञ का मानना है कि बच्चा पैदा करने के लिए स्त्री के एग ओवेरी से निकलने के 24 घंटे के अन्दर ही निषेचित (fertilize) हो जाने चाहियें। आदमी के शुक्राणु औरत के reproductive tract  (प्रजनन पथ) में 48 से  72  घंटे तक ही जीवित रह सकते हैं।

(और पढ़े – शुक्राणु की जांच (सीमेन एनालिसिस टेस्ट) स्पर्म टेस्ट क्या है, कीमत, आवश्यकता)

चूँकि बच्चा पैदा करने के लिए आवश्यक embryo (भ्रूण ) अंडे (egg)  और  शुक्राणु (sperm) के मिलन से ही बनता है, इसलिए जोड़े  को ovulation के दौरान कम से कम 72 घंटे में एक बार ज़रूर सेक्स करना चाहिए और इस दौरान पुरुष को स्त्री के ऊपर होना चाहिए ताकि स्पर्म के योनि से बाहर आने की सम्भावना कम हो। साथ ही पुरुषों को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि वो 48  घंटे में  एक बार से ज्यादा स्पर्म बाहर (ejaculate) ना करें। वरना उनके शुक्राणु की संख्या (sperm count) काफी कम हो सकती है, जो कि egg को fertilize करने में पर्याप्त ना हो।

(और पढ़े – क्‍या लगातार सेक्स पुरुष प्रजनन क्षमता को प्रभावित करता है?)

ओव्यूलेशन का समय कैसे पता  करें How To Find Ovulation Time in Hindi

Ovulation का  समय कैसे पता  करें- How To Find Ovulation Time in hindi

ओव्यूलेशन या अंडोत्सर्ग (Ovulation) का समय पता करने का अर्थ है उस समय का पता करना जब ovaries से fertilization के लिए तैयार egg निकले। इसे जानने के लिए आपको अपने मासिक-धर्म का अंदाजा होना चाहिए। यह 24 से 40 दिन के बीच हो सकता है। अब यदि आप को अपने next period  के आने का अंदाजा है तो आप उससे 12 से 16 दिन पहले का समय पता कर लीजिये, यही आपका ovulation का समय होगा।

(और पढ़े – ओव्यूलेशन (अंडोत्सर्ग) क्या है, साइकिल, कब होता है, कितने दिन तक रहता है और लक्षण)

For Example: यदि आपके मासिक धर्म की शुरुआत 30 तारीख को होनी है तो 14 से 18 तारिख का समय ovulation का समय होगा।

बच्चा पैदा करने के लिए उपयुक्त समय का पता करने का एक और तरीका है When does the correct time of pregnancy occur after the Period?

योनि (Vagina) से निकलने वाले चिपचिपे तरल को अपने ऊँगली पर लीजिये और उसकी elasticity check कीजिये, जब ये अधिक और देर तक लचीला रहे तो समझ जाइये कि ओव्यूलेशन या अंडोत्सर्ग हुआ है और अब आप बच्चा पैदा करने के लिए सम्भोग कर सकते हैं।

(और पढ़े – महिलाओं में योनि से सफेद पानी आने (ल्यूकोरिया या श्वेत प्रदर) का घरेलू इलाज)

प्रेग्नेंट/गर्भवती होने के बेहतरीन उपाय और प्राकृतिक तरीके – Natural ways to get pregnant fast in Hindi

जल्दी और आसानी से गर्भवती होने के लिए एक healthy lifestyle बनाए रखें

बच्चा पैदा करने के अवसर बढ़ाने के लिए बेहद आवश्यक है कि पति-पत्नी एक स्वस्थ्य- जीवनशैली बनाये रखें। इससे होने वाली संतान भी अच्छी होगी। खाने–पीने में पर्याप्त भोजन और फल की अधिक मात्रा रखें। Vitamins  कि सही मात्र से पुरुष-स्त्री दोनों की fertility rate बढती है। रोजाना व्यायाम करने से भी जल्दी गर्भवती होने में फायदा होता है।

(और पढ़े – गर्भवती होने के लिए पूरा गाइड)

आसानी से गर्भवती होने के लिए तनाव दूर करें

आजकल ज़्यादातर लोग तनाव के शिकार हैं, और शायद यही वजह गर्भावस्था के स्तर के घटने की भी है। आजकल सभी लोगों को सारा दिन काम का बोझ तथा तनाव झेलना पड़ता है। दिमाग में पड़ने वाले प्रभाव के अलावा यह शरीर में उत्पादित होने वाले हॉर्मोन्स (hormones) में भी समस्या उत्पन्न करता है। अतः तनाव से दूर रहें तथा गर्भधारण का फैसला लेने से पहले हमेशा खुश रहने का प्रयास करें। आपको अपने बच्चे के बारे में सोचते हुए अपना तनाव कम करना चाहिए। चिंता की वजह को दूर करने की कोशिश करें।

इसमें कोई शक नहीं है कि अत्यधिक तनाव आपके reproductive function में बाधा डालेगा। तनाव से कामेच्छा ख़त्म हो सकती है, और खराब कंडीशन में स्त्री में मसिक धर्म अनियमित हो सकता है। एक शांत मन आपके शरीर पर अच्छा प्रभाव डालता है और आपके pregnant होने की सम्भावना को बढ़ता है। इसके लिए आप regularly breathing- exercises और  relaxation techniques का प्रयोग कर सकती हैं।

(और पढ़े –महिलाओं में कामेच्छा बढ़ाने के घरेलू नुस्खे और उपाय)

आसानी से गर्भवती होने के तरीके में अंडकोष को ज्यादा गर्मी से बचाएँ

यदि शुक्राणु (sperms) ज्यादा तापमान में पहुच जायें तो वो मृत हो सकते हैं। इसीलिए testicles (जहाँ sperms  का निर्माण होता है)  body  के बहार होते हैं ताकि वो ठंढे रह सकें.  गाड़ी चलते समय ऐसे beaded सीट का प्रयोग करें जिसमे से थोड़ी हवा पास हो सके और बहुत ज्यादा गरम पानी से इस अंग को ना धोएं। वैसे आम तौर पर इतना अधिक सावधानियां लेने की ज़रुरत नहीं है पर जो लोग आग की भट्टी या किसी गरम स्थान पर देर तक काम करते हैं उन्हें सावधान रहने की ज़रुरत है।

(और पढ़े – अंडकोष (वृषण) में दर्द के कारण, लक्षण, जांच, उपचार और रोकथाम)

गर्भवती होने के लिए सेक्स के बाद थोड़ी देर आराम करें

सेक्स के बाद थोड़ी देर लेटे रहने से महिलाओं कि योनी से sperms के निकलने के चांस नहीं  रहते। इसलिए सेक्स के बाद 15-20 मिनट लेटे रहना ठीक रहता है।

(और पढ़े – जानें, मां बनने में महिला के अंगों की क्या है भूमिका)

आसानी से गर्भवती होने के तरीके में सेक्स लुब्रिकेंट का उपयोग ना करें

Vagina को lubricate में प्रयोग होने वाले कुछ ज़ेल्स, तरल पदार्थ , इत्यादि sperms को महिलाओं की योनि में अंदर जाने में बाधा उत्पन्न कर सकते हैं। इसलिए इनका प्रयोग अपने डाक्टर से पूछ कर ही करें। वैसे किसी artificial lubricant का प्रयोग करने की आवश्यकता ही नहीं है, क्योंकि चरम सुख (orgasm) के दौरान शरीर खुद ही पर्याप्त मात्रा में liquid produce करता है जो स्पर्म और एग दोनों के लिए अच्छा होता है।

(और पढ़े – सेक्स लुब्रिकेंट प्रकार उपयोग की जानकारी)

गर्भवती होने का उपाय है संतुलित खानपान

जब आपको गर्भधारण की इच्छा हो, उस समय आपको अपने खानपान की तरफ भी काफी ध्यान देना चाहिए। संतुलित आहार करें जिसमें पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन, मिनरल और अन्य पोषक पदार्थ हों (protein, minerals and other nutrients), जिससे कि गर्भधारण की प्रक्रिया में तेज़ी आ जाए। हमेशा पोषक भोजन करने की कोशिश करें, जिससे बिना किसी समस्या के आसानी से बच्चे को जन्म दिया जा सके। आप अपने खानपान में अन्य पूरक आहार (supplements) तथा माइक्रोन्यूट्रिएंट्स (micro nutrients) भी शामिल कर सकती हैं।

(और पढ़े – 30 के बाद गर्भधारण करने के फायदे और नुकसान)

आखिर में: प्रेगनेंट होने की कोशिश के दौरान अपना सारा धयान पोजीशन पर न दें। ऐसा न हो कि आप बेवजह टेंशन में आकर अपने कीमती लम्हों को बर्बाद कर दें। मूड लाइट रखें और इंजॉय करें। नेचुरल तरीके से सेक्स करने पर माँ बन्ने की संभावना सबसे जादा होती है।

(और पढ़े – प्रेग्नेंट होने के लिए क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए)

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration