सेक्स हार्मोन क्या होते है महिला और पुरुष में इनका महत्त्व – Male and Female Sex Hormones in Hindi




सेक्स हार्मोन क्या होते है महिला और पुरुष में इनका महत्त्व - Male and Female Sex Hormones in Hindi
Written by Daivansh

Sex Hormones in Hindi पुरुषों और महिलाओं में सेक्स होर्मोन (Sex Hormones) या प्रजनन हार्मोन के अनेक कार्य होते हैं। सामान्य तौर पर, युवावस्था के दौरान सेक्स होर्मोन, माध्यमिक यौन (secondary sex) विशेषताओं के विकास के लिए जिम्मेदार होते हैं। तथा बाद के जीवन में, वयस्कता के दौरान, ये प्रजनन चक्र को विनियमित (regulating) करने के लिए उत्तरदायी होते हैं। महिलाओं में सेक्स हार्मोन, अंडाशय (ovary) से मुक्त होते हैं। ये सेक्स हार्मोन महिलाओं के मासिक धर्म चक्र और एंडोमेट्रियल (endometrial) के विकास को नियंत्रित करते हैं। पुरुषों में ये हार्मोन्स वृषण (testes) में उत्पादित होते हैं और शुक्राणु उत्पादन प्रक्रिया (spermatogenesis) में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

  1. हार्मोन का उत्पादन और विनिमय – Regulation of hormone production in Hindi
  2. पुरुष सेक्स हार्मोन – Male Sex Hormones In Hindi
  3. पुरुष सेक्स हार्मोन टेस्टोस्टेरोन – Testosterone Sex Hormones In Hindi
  4. मेल हार्मोन इनहिबिन – Inhibin (INH) Male Hormone In Hindi
  5. महिला सेक्स हार्मोन – Female Sex Hormones In Hindi
  6. स्त्री सेक्स हार्मोन एस्ट्रोजेन – Estrogen Sex Hormones In Hindi
  7. स्त्री सेक्स हार्मोन प्रोजेस्टेरोन – Progesterone Sex Hormones In Hindi
  8. सेक्स हार्मोन टेस्टोस्टेरोन – Testosterone Sex Hormones In Hindi
  9. सेक्स हार्मोन के बारे में पूछे जाने वाले प्रश्न – Frequently Asked Questions About Sex Hormones In Hindi

हार्मोन का उत्पादन और विनिमय – Regulation of hormone production in Hindi

हार्मोन का उत्पादन और विनिमय - Regulation of hormone production in Hindi

पुरुषों और महिलाओं दोनों में सेक्स हार्मोन पाए जाते हैं। लेकिन पुरुषों और महिलाओं दोनों के सेक्स हार्मोन (Sex Hormones) आपस में भिन्न होते हैं। उदाहरण के लिए, एंड्रोजन (androgens) हार्मोन मुख्य रूप से पुरुषों में पाया जाता हैं, जबकि एस्ट्रोजन (estrogen) हार्मोन मुख्य रूप से महिलाओं में।

इसके अलावा पुरुषों और महिलाओं में अंतःस्रावी तंत्र (endocrine system), जननांग (gonads) में सेक्स हार्मोन के उत्पादन को समान रूप से नियंत्रित करता है। प्रजनन कार्य का विनियमन (रेगुलेशन) मस्तिष्क में शुरू होता है, जहां दो मौलिक संरचनाएं प्राप्त है:

(और पढ़े – एस्ट्रोजन हार्मोन की महिलाओं के शरीर में भूमिका…)

हाइपोथेलेमस (Hypothalamus)

यह मस्तिष्क (brain) के आधार पर स्थित होता है और गोनाडोट्रोपिन-रिलीजिंग हार्मोन (GnRH) के उत्पादन के लिए ज़िम्मेदार है। GnRH अन्य प्रजनन हार्मोन को मुक्त करने के लिए पिट्यूटरी ग्रंथि को भी प्रेरित करता है।

पीयूष ग्रंथि (Pituitary gland)

पीयूष ग्रंथि को हाइपोफिसिस (hypophysis) भी कहा जाता है। GnRH के प्रभाव के कारण यह ग्रंथि गोनाडोट्रोपिन (Gonadotropins) रिलीजिंग हार्मोन मुक्त करती है। यह हार्मोन्स हाइपोफिसियल पोर्टल सिस्टम के माध्यम से सक्रिय होता है। गोनाडोट्रोपिन उत्तेजक हार्मोन हैं जो अंडाशय और अंडकोष दोनों में पाए जाते हैं।

गोनाडोट्रोपिन को हाइपोफिसियल हार्मोन भी कहा जाता है, इसके अंतर्गत निम्न हार्मोन्स आते हैं:

(और पढ़े – अंडाशय का कैंसर: प्रारंभिक लक्षण, जाँच, और उपचार…)

फॉलिकल स्टिम्युलेटिंग हॉर्मोन (Follicle-stimulating hormone) (FSH) – यह जननांग (अंडाणु और शुक्राणु) को गैमेट (gametes) का उत्पादन करने के लिए उत्तेजित करता है।

प्रोलैक्टिन (Prolactin) – यह अलग-अलग विनियमित होता है, क्योंकि इसका उत्पादन पिट्यूटरी ग्रंथि द्वारा निकले डोपामाइन (dopamine) पर निर्भर करता है। यह स्तन ग्रंथियों में दूध के उत्पादन को उत्तेजित करता है।

ल्यूटिनकारी हार्मोन (Luteinizing hormone) – यह जननांग पर कार्य करता है, लेकिन इसमें अन्य कार्य भी हैं।

पीयूष ग्रंथि ऑक्सीटोसिन (oxytocin) और वैसोप्रेसिन (vasopressin) (एन्टिडाययूरेटिक हार्मोन) के स्राव के लिए भी ज़िम्मेदार है। इन हार्मोन्स के पुरुषों और महिलाओं में अलग-अलग कार्य होते हैं।

(और पढ़े – महिलाओं में हार्मोन असंतुलन के कारण, लक्षण और इलाज…)

पुरुष सेक्स हार्मोन – Male Sex Hormones In Hindi

पुरुष सेक्स हार्मोन - Male Sex Hormones In Hindi

पुरुषों में, पीयूष ग्रंथि द्वारा संश्लेषित हार्मोन, निम्नलिखित मुख्य कार्यों को नियंत्रित करते हैं:

शुक्राणुजनन (Spermatogenesis) – पुरुषों में, शुक्राणु उत्तेजक हार्मोन (FSH), शुक्राणु उत्पादन को उत्तेजित करने के लिए वृषण (टेस्टिस) की सर्टोली कोशिकाओं (Sertoli cells) पर कार्य करता है।

स्टेरॉइडोजेनेसिस (Steroidogenesis) – एलएच (Luteinizing hormone) की प्रतिक्रिया के रूप में टेस्टोस्टेरोन (testosterone) जैसे स्टेरॉयड हार्मोन के उत्पादन की प्रक्रिया को स्टेरॉइडोजेनेसिस कहते है। स्टेरॉयड हार्मोन (Steroid hormones) कोलेस्ट्रॉल से व्युत्पन्न होते हैं, जिन्हें एड्रेनल ग्रंथि, प्लेसेंटा (गर्भनाल) और जननांग (gonads) द्वारा संश्लेषित किया जाता हैं।

(और पढ़े – शुक्राणुओं की संख्या बढ़ाने का घरेलू उपाय…)

पुरुष सेक्स हार्मोन टेस्टोस्टेरोन – Testosterone Sex Hormones In Hindi

पुरुष सेक्स हार्मोन टेस्टोस्टेरोन - Testosterone Sex Hormones In Hindi

टेस्टोस्टेरोन (टीएसटी), मुख्य रूप से पुरुष सेक्स हार्मोन है। टीएसटी मुख्य रूप से शुक्राणु (वीर्य) के उत्पादन को उत्तेजित करता है। हालांकि, जब रक्त में टेस्टोस्टेरोन के स्तर में वृद्धि होती है, तो मस्तिष्क को ल्यूटिनकारी हार्मोन (LH) के स्राव को रोकने के लिए एक संकेत भेजा जाता है, और उसी के बाद टेस्टोस्टेरोन मुक्त होता है।

टीएसटी एक प्रकार का स्टेरॉयड हार्मोन है, जो कोलेस्ट्रॉल से बना होता है। अतः टेस्टोस्टेरोन सेक्स हार्मोन के पुरुषों में निम्न महत्वपूर्ण कार्य होते हैं:

  • पुरुष भ्रूण (male foetuses) में प्रजनन प्रणाली (लिंग और वृषण) विकसित करना,
  • युवावस्था के दौरान लिंग, अंडकोष (टेस्टिकल्स) और हार्मोन स्राव के विकास को बढ़ावा देना,
  • पुरुष सेक्स विशेषताओं जैसे – मांसपेशी द्रव्यमान, अस्थि की सघनता, शरीर के बाल, सेक्स ड्राइव में वृद्धि तथा आवाज परिवर्तन इत्यादि, इन सभी के विकास को बढ़ाना।

(और पढ़े – जाने पेनिस का एवरेज साइज कितना होता है…)

मेल हार्मोन इनहिबिन – Inhibin (INH) Male Hormone In Hindi

पुरुषों में एक ओर महत्वपूर्ण हार्मोन inhibin (INH) पाया जाता है, इसे सर्टोली कोशिकाओं द्वारा मुक्त किया जाता है। inhibin (INH) का कार्य शुक्राणुजन्य को नियंत्रित करना है। इस हार्मोन्स का कार्य टेस्टोस्टेरोन के विपरीत है।

inhibin (INH) के स्तर में वृद्धि, शुक्राणु उत्पादन के रूप में होती है। शुक्राणु उत्पादन में यह हार्मोन FSH के स्तर को कम करने के लिए मस्तिष्क को सिग्नल भेजता है।

(और पढ़े – पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन बढ़ाने के आसान घरलू उपाय…)

महिला सेक्स हार्मोन – Female Sex Hormones In Hindi

महिला सेक्स हार्मोन - Female Sex Hormones In Hindi

फीमेल सेक्स हार्मोन वे हार्मोन हैं, जो युवावस्था के दौरान महिलाओं में माध्यमिक यौन विशेषताओं के लिए उत्तरदायी होते है। इन माध्यमिक यौन विशेषताओं में स्तन वृद्धि, मासिक धर्म, कूल्हों की चौड़ाई (widening of the hips) और त्वचा के संवहनीकरण में वृद्धि शामिल हैं। ये हार्मोन आम तौर पर मादा जननांग में उत्पादित होते हैं। वे महिलाओं में शारीरिक और लैंगिक विकास के साथ-साथ अंडाशय चक्र (ovulation cycle) को भी नियंत्रित करते हैं।

महिला में मुख्यतः दो सेक्स हार्मोन, एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन (estrogen and progesterone) होते हैं। यद्यपि टेस्टोस्टेरोन (testosterone) को पुरुष हार्मोन माना जाता है, लेकिन महिलाओं में भी यह हार्मोन बहुत कम मात्रा में उत्पन्न होता है।

(और पढ़े – प्रोजेस्टेरोन के कार्य एवं गर्भावस्था में इसकी भूमिका…)

स्त्री सेक्स हार्मोन एस्ट्रोजेन – Estrogen Sex Hormones In Hindi

स्त्री सेक्स हार्मोन एस्ट्रोजेन - Estrogen Sex Hormones In Hindi

एस्ट्रोजन एक प्रमुख महिला हार्मोन है। सबसे बड़ा हिस्सा अंडाशय से उत्पन्न होता है, लेकिन यह एड्रि‍नल ग्रंथियों (adrenal glands) और वसा कोशिकाओं में भी छोटी मात्रा में उत्पादित होते हैं। गर्भावस्था के दौरान, प्लेसेंटा (placenta) (गर्भनाल) भी एस्ट्रोजन बनाता है। एस्ट्रोजेन के स्तर को रक्त परीक्षण द्वारा निर्धारित किया जा सकता है।

एस्ट्रोजेन, प्रजनन और यौन विकास में एक बड़ी भूमिका निभाता है, जिसमें निम्न शामिल हैं:

(और पढ़े – रजोनिवृत्ति के कारण, लक्षण और दूर करने के उपाय…)

स्त्री सेक्स हार्मोन प्रोजेस्टेरोन – Progesterone Sex Hormones In Hindi

स्त्री सेक्स हार्मोन प्रोजेस्टेरोन - Progesterone Sex Hormones In Hindi

प्रोजेस्टेरोन एक सेक्स स्टेरॉयड है, जो मासिक धर्म चक्र के लिए महत्वपूर्ण है। अंडाशय, डिंबोत्सर्जन (Ovulation) के बाद मादा सेक्स हार्मोन प्रोजेस्टेरोन का उत्पादन करते हैं। गर्भावस्था के दौरान, गर्भनाल (प्लेसेंटा) भी थोड़ी मात्रा में इसे पैदा करता है। एस्ट्राडियोल के मामले में, प्रोजेस्टेरोन उत्पादन युवावस्था के दौरान शुरू होता है। प्रोजेस्टेरोन के स्तर का रक्त परीक्षण द्वारा पता लगाया जा सकता है।

प्रोजेस्टेरोन निम्न कार्य को करने में अपनी भूमिका अदा करता है:

  • गर्भावस्था का समर्थन करता है।
  • गर्भावस्था का समर्थन करने के लिए निषेचित अंडे (fertilized egg) के लिए गर्भाशय की परत तैयार करता है।
  • प्रेगनेंसी के दौरान श्लेष्म प्लग (mucus plug) बनाने के लिए गर्भाशय ग्रीवा (cervical mucus) को मोटा करता है।
  • प्रसव के बाद दूध के उत्पादन को प्रोत्साहित करने का कार्य करता है।
  • डिंबोत्सर्जन (ovulation) के बाद एस्ट्रोजन उत्पादन रोकता है।

(और पढ़े – प्रोजेस्टेरोन के कार्य एवं गर्भावस्था में इसकी भूमिका…)

सेक्स हार्मोन टेस्टोस्टेरोन – Testosterone Sex Hormones In Hindi

सेक्स हार्मोन टेस्टोस्टेरोन - Testosterone Sex Hormones In Hindi

टेस्टोस्टेरोन की बहुत कम मात्रा एड्रेनल ग्रंथियों और अंडाशय से मिलती है। यह हार्मोन शरीर के बहुत से कार्यों में अपनी भूमिका निभाता है, इसके प्रमुख कार्यों में शामिल हैं:

  • यौन इच्छा (sexual desire)
  • मासिक धर्म चक्र का विनियमन
  • हड्डी और मांसपेशियों को मजबूत बनाना,
  • एक रक्त परीक्षण आपके टेस्टोस्टेरोन स्तर को निर्धारित किया जा सकता है। महिलाओं के लिए सामान्य सीमा 15 से 70 नैनोग्राम प्रति deciliter (एनजी / डीएल) होती है।

(और पढ़े – पीरियड्स की जानकारी और अनियमित पीरियड्स के लिए योग और घरेलू उपचार…)

सेक्स हार्मोन के बारे में पूछे जाने वाले प्रश्न – Frequently Asked Questions About Sex Hormones In Hindi

सेक्स हार्मोन के बारे में पूछे जाने वाले प्रश्न - Frequently Asked Questions About Sex Hormones In Hindi

1. क्या हार्मोन मादा उत्तेजना का कारण बनता है?

एस्ट्रोजेन, प्रोजेस्टेरोन, और टेस्टोस्टेरोन हार्मोन हैं जो महिलाओं में यौन इच्छाओं को बढ़ाने के लिए जिम्मेदार होते हैं। हालांकि, सबसे प्रभावशाली हार्मोन, जो सबसे अधिक कामेच्छा को बढ़ाता है वह टेस्टोस्टेरोन है।

2. कौन से हार्मोन को ‘लव हार्मोन’ कहा जाता है?

ऑक्सीटॉसिन को प्यार, झुकाव, या लव हार्मोन (love hormone) के रूप में जाना जाता है क्योंकि यह प्रसव के दौरान संकुचन में प्रमुख भूमिका निभाता है और स्तनपान में भी मदद करता है। असल में, यह मस्तिष्क में उत्पादित जैव रासायनिक पदार्थ है।

3. क्या महिला सेक्स हार्मोन स्वाभाविक रूप से बढ़ाना संभव है?

नहीं, यह स्वाभाविक रूप से संभव नहीं है। हालांकि, कुछ हार्मोन दवाएं महिलाओं में हार्मोनल स्तर को प्रभावित कर सकती हैं और मासिक धर्म चक्र को नियंत्रित करने में मदद करती हैं।

(और पढ़े – जानिए सामान्य प्रसव के बाद योनि में होने वाले बदलाव के बारे मे…)

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration