हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी क्या है, क्यों की जाती है, फायदे और नुकसान – What Is Hormone Replacement Therapy, Benefits And Side Effects In Hindi

हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी क्या है, क्यों की जाती है, फायदे और नुकसान – What Is Hormone Replacement Therapy, Benefits And Side Effects In Hindi
Written by Sourabh

Hormone replacement therapy In Hindi हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी या हार्मोनल थेरेपी महिलाओं के लिए उपयोग में लाई जाने वाली उपचार प्रक्रिया है, जिसमें हार्मोन का प्रयोग किया जाता है। इसमें रजोनिवृत्ति के लक्षणों को कम करने के लिए एस्ट्रोजन, प्रोजेस्टिन (progestin) (प्रोजेस्टेरोन का सिंथेटिक रूप), या दोनों का उपयोग किया जाता है। जो व्यक्ति उपचार प्रक्रिया के दौरान विकिरण थेरेपी या सर्जरी से नहीं गुजर सकते हैं, उनको हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी की सिफारिश की जाती है। इस थेरेपी में उपचार के लिए गोलियों, क्रीम, जैल, इंजेक्शन और अन्य तरीकों का उपयोग कर दवा का सेवन किया जा सकता है। हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी मरीज की उम्र, रजोनिवृत्ति का प्रकार और रजोनिवृत्ति के बाद के समय आदि कारकों पर निर्भर करती है।

आज के इस लेख में आप जानेगें कि हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी क्या है, यह क्यों प्रयोग की जाती है तथा इसके फायदे और नुकसान क्या हैं।

  1. हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी क्या है – What is Hormone replacement therapy in hindi
  2. हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी का उपयोग और लाभ – Hormone replacement therapy Use And Benefit in hindi
  3. हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी कैसे की जाती है – How Hormone replacement therapy Is Done in hindi
  4. हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी के प्रकार – Types Of Hormone Replacement Therapy in hindi
  5. एस्ट्रोजेन और प्रोजेस्टेरोन हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी/ कॉम्बिनेशन थेरेपी – Estrogen and Progesterone Hormone replacement therapy/ combination therapy in hindi
  6. हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी कब नहीं की जानी चाहिए – When to do not Hormone replacement therapy in hindi
  7. हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी के नुकसान – Hormone Replacement Therapy Side Effects in hindi
  8. हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी के जोखिमों की रोकथाम – Prevention of Hormone replacement therapy Risks in hindi

हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी क्या है – What is Hormone replacement therapy in hindi

हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी एक बार नियमित रूप से रजोनिवृत्ति (menopausal) के लक्षणों का इलाज करने और लम्बे समय तक मानव स्वास्थ्य की रक्षा करने के उद्देश्य से इस्तेमाल में लाई जाने वाली एक उपचार प्रक्रिया है। हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी को हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी (Hormone replacement therapy) (HRT) या रजोनिवृत्ति हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी (MHT) के रूप में भी कहा जाता है। हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी, मेटास्टैटिक बीमारी (metastasis disease) के लिए या ऐसे लोगों में इस्तेमाल की जा सकती है, जो सर्जरी या कीमोथेरेपी जैसी अन्य उपचार प्रक्रियाओं से नहीं गुजर सकते हैं। यह थेरेपी रजोनिवृत्ति के समय महिलाओं में एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन को संतुलित करने में मदद करती है।

चूँकि रजोनिवृत्ति के दौरान, महिलाओं में एस्ट्रोजन का स्तर कम होता है। जिससे कुछ महिलाओं में इसके लक्षण दिखाई देने लगते हैं। अतः रजोनिवृत्ति के दौरान हड्डी के नुकसान (bone loss), योनि का सूखापन, अनियमित पीरियड्स (irregular periods) और रजोनिवृत्ति के बाद महिलाओं में फ्रैक्चर या ऑस्टियोपोरोसिस (osteoporosis), आदि के जोखिम को कम करने के लिए हॉर्मोन थेरेपी को उपयोग में लाया जा सकता है।

अनेक प्रकार के लाभों के साथ-साथ, हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी का उपयोग कुछ जोखिमों को भी उत्पन्न कर सकता है। ये जोखिम कुछ कारकों जैसे- हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी के प्रकार, खुराक और सेवन की जाने वाली दवा के समय, आदि पर निर्भर करते हैं।

(और पढ़े – रजोनिवृत्ति के कारण, लक्षण और दूर करने के उपाय…)

हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी का उपयोग और लाभ – Hormone replacement therapy Use And Benefit in Hindi

हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी का उपयोग और लाभ - Hormone replacement therapy Use And Benefit in hindi

प्रोजेस्टेरोन (Progesterone) और एस्ट्रोजन (estrogen) एक महिला की प्रजनन तंत्र में महत्वपूर्ण हार्मोन हैं। एस्ट्रोजन अंडे की रिहाई को उत्तेजित करता है, और प्रोजेस्टेरोन अंडे के आरोपण के लिए गर्भ तैयार करता है। अधिकांश महिलाओं में 40 वर्ष के बाद प्रभावी रूप से हार्मोन के स्तर में परिवर्तन आता है, जिससे अनेक समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं। अतः रजोनिवृत्ति के निम्न लक्षणों को कम करने के लिए हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी का उपयोग किया जा सकता है जैसे:

(और पढ़े – महिलाओं में अंडा न बनने की समस्या और अंडे बनाने के लिए घरेलू उपाय…)

हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी कैसे की जाती है – How Hormone replacement therapy Is Done in Hindi

हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी कैसे की जाती है - How Hormone replacement therapy Is Done in hindi

हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी करने के लिए डॉक्टर अनेक प्रकार से मरीज को हार्मोन की खुराक प्रदान करता है। विभिन्न प्रकार के लक्षणों का इलाज करने के लिए हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी के अंतर्गत मरीज को सबसे कम खुराक सिफारिश की जाती है। इन दवाओं की मात्रा और उपयोग किये जाने वाले समय को डॉक्टर द्वारा निर्धारित किया जाता है। हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी को प्रयोग में लाने के लिए दवाओं के रूप में विभिन्न तरीकों को शामिल किया जाता हैं:

  • स्प्रे (spray)
  • क्रीम या जैल
  • योनि के छल्ले (vaginal rings)
  • गोलियाँ
  • त्वचा पैच (skin patches), इत्यादि।

मरीज की सुविधा के अनुसार डॉक्टर निम्न में किसी भी प्रकार की दवा को निर्धारित कर सकता है, तथा इसे प्रयोग करने के तरीकों के बारे में बता सकता है।

(और पढ़े – योनी में खुजली, जलन और इन्फेक्शन के कारण और घरेलू इलाज…)

हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी के प्रकार – Types Of Hormone Replacement Therapy in Hindi

हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी के प्रकार – Types Of Hormone Replacement Therapy in hindi

हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी में प्रयोग की जाने वाली दवा के आधार पर इसे निम्न दो प्रकार में विभाजित किया गया है:

एस्ट्रोजन थेरेपी (Estrogen Therapy) – इस हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी के अंतर्गत डॉक्टर द्वारा मरीज को एस्ट्रोजन की कम खुराक के सेवन की सिफारिश की जाती है इस थेरेपी का प्रयोग तब किया जाता है जब गर्भाशय (uterus) निकालने के लिए सर्जरी या हिस्टेरेक्टॉमी (hysterectomy) की गई हो। इस थेरेपी में एस्ट्रोजेन को विभिन्न रूपों में प्राप्त किया जा सकता है, जैसे- दैनिक गोलियां और पैच (patch), योनि रिंग (vaginal ring), जेल या स्प्रे आदि।

एस्ट्रोजन गोलियां (Estrogen pill) – गोलियां रजोनिवृत्ति के लक्षणों को कम करने के लिए सबसे आम उपचार हैं। इनके सेवन के लिए डॉक्टर द्वारा निर्देश दिए जाते हैं। ज्यादातर एस्ट्रोजन की गोलियां बिना भोजन किये दिन में एक बार ली जाती हैं।

एस्ट्रोजन पैच (Estrogen patch) – इस प्रकार के पैच को पेट की त्वचा पर पहना जाता है। दवा की मात्रा के आधार पर, कुछ पैच कुछ दिनों के अंतर से बदल दिए जाते हैं, जबकि अन्य पैच एक सप्ताह के लिए पहने जा सकते हैं।

सामयिक एस्ट्रोजन (Topical Estrogen) – हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी के रूप में एस्ट्रोजन क्रीम, जैल और स्प्रे को उपयोग में लाया जा सकता है। इस प्रकार के एस्ट्रोजन को पैच के साथ प्रयोग किये जाने पर, यह त्वचा के माध्यम से सीधे रक्तप्रवाह में अवशोषित कर लिए जाते हैं। डॉक्टर द्वारा इस प्रकार के एस्ट्रोजन का प्रयोग करने की सिफारिश की जाती है। हालाँकि ये आमतौर पर दिन के समय इस्तेमाल की जाती हैं। एस्ट्रोजेल (Estrogel) को कलाई से कंधे तक एक हाथ पर लगाया जाता है। Estrasorb क्रीम को पैरों में लगाया जाता है। जबकि एवामिस्ट (Evamist) स्प्रे को बांह पर लगाया जाता है।

योनि एस्ट्रोजन (Vaginal estrogen) – योनि एस्ट्रोजन एक क्रीम, वैजाइनल रिंग (vaginal ring) या गोलियों के रूप में उपलब्ध होते है। यह उपचार सामान्य तौर पर उन महिलाओं के लिए उपयोग में लाया जाता है जो योनि सूखापन, खुजली और संभोग के दौरान जलन या दर्द की समस्या से परेशान हैं। इन युक्तियों को प्रयोग करने की सलाह डॉक्टर द्वारा दी जा सकती है।

(और पढ़े – एस्ट्रोजन हार्मोन की महिलाओं के शरीर में भूमिका…)

एस्ट्रोजेन और प्रोजेस्टेरोन हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी/ कॉम्बिनेशन थेरेपी – Estrogen and Progesterone Hormone replacement therapy/ combination therapy in hindi

हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी को अक्सर कॉम्बिनेशन थेरेपी (combination therapy) कहा जाता है, क्योंकि इस थेरेपी में एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टिन दोनों की संयुक्त खुराक का उपयोग किया जाता है, जहाँ प्रोजेस्टिन (Progestin), प्रोजेस्टेरोन का सिंथेटिक रूप है। यह थेरेपी उन महिलाओं के लिए उपयोग की जाती है, जिनके गर्भाशय को नहीं हटाया गया है। यदि केवल एस्ट्रोजन का प्रयोग किया जाता है, तो यह प्रोजेस्टेरोन द्वारा संतुलित नहीं होता है, और गर्भाशय अस्तर के विकास को उत्तेजित कर सकता है, जिससे गर्भाशय कैंसर का खतरा बढ़ जाता है। अतः इस स्थिति को रोकने के लिए कॉम्बिनेशन थेरेपी का उपयोग आवश्यक होता है।

हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी कब नहीं की जानी चाहिए – When to do not Hormone replacement therapy in hindi

हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी कब नहीं की जानी चाहिए - When to do not Hormone replacement therapy in hindi

कुछ स्थितियों में हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी का उपयोग नहीं किया जा सकता है, क्योंकि इन स्थितियों में इस थेरेपी का प्रयोग घातक हो सकता है। वे स्थितियां निम्न हैं:

(और पढ़े – दिल का दौरा पड़ने (हार्ट अटैक) के लक्षण…)

हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी के नुकसान – Hormone Replacement Therapy Side Effects in Hindi

हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी के नुकसान - Hormone Replacement Therapy Side Effects in hindi

हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी में अनेक प्रकार के लाभों के साथ-साथ ही कुछ साइड इफेक्ट देखे जा सकते हैं। इसके जोखिम कारक निम्न बातों पर निर्भर करते हैं, जैसे- एस्ट्रोजन की खुराक और प्रकार, एस्ट्रोजन का अकेला सेवन किया गया है या प्रोजेस्टिन के साथ और अन्य स्वास्थ्य समस्याओं जैसे- हृदय और रक्त वाहिका रोग, कैंसर आदि।

हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी के साइड इफेक्ट्स के रूप में निम्न को शामिल किया जा सकता है:

(और पढ़े – वैजिनाइटिस (योनिशोथ या योनि में सूजन) के कारण लक्षण और बचाव…)

हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी के जोखिमों की रोकथाम – Prevention of Hormone replacement therapy Risks in hindi

हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी के जोखिमों की रोकथाम - Prevention of Hormone replacement therapy Risks in hindi

हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी के जोखिमों की रोकथाम के लिए सम्बंधित व्यक्ति को निम्न बातों पर ध्यान देना चाहिए:

  • सबसे अच्छा हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी उत्पाद और उपयोग की जाने वाली विधि की जानकारी प्राप्त करें,
  • उपयोग की जाने वाली दवा की मात्रा को कम से कम प्रयोग में लायें, इसके लिए डॉक्टर की सलाह लें
  • नियमित रूप से हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी के लाभों और जोखिमों की जाँच करने पर ध्यान दें, इसके लिए मैमोग्राम (mammograms) और पैल्विक परीक्षण (pelvic exams) को कराने के लिए डॉक्टर से संपर्क करें
  • स्वस्थ जीवनशैली का चुनाव करें
  • शारीरिक गतिविधि और व्यायाम को अपनी दिनचर्या में शामिल करें,
  • स्वस्थ आहार का सेवन करें
  • स्वस्थ वजन को बनाए रखें
  • धूम्रपान न करें
  • शराब का सीमित सेवन करें
  • तनाव से दूर रहें
  • उच्च कोलेस्ट्रॉल या उच्च रक्तचाप जैसी स्वास्थ्य स्थितियों का तुरंत उपचार प्राप्त करें
  • यदि किसी महिला की हिस्टेरेक्टॉमी (hysterectomy) नहीं हुई है, तो उन्हें केवल एस्ट्रोजन थेरेपी का उपयोग करने से बचना चाहिए , एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टिन की संयुक्त थेरेपी का उपयोग किया जाना चाहिए।

(और पढ़े – संतुलित आहार के लिए जरूरी तत्व , जिसे अपनाकर आप रोंगों से बच पाएंगे…)

Leave a Comment

1 Comment

Subscribe for daily wellness inspiration