पेल्विक इंफ्लेमेटरी डिसीज (पीआईडी) के कारण, लक्षण और उपचार – Pelvic Inflammatory Disease (PID) Symptoms, Causes And Treatment In Hindi

पेल्विक इंफ्लेमेटरी डिजीज (पीआईडी) के लक्षण, कारण, इलाज, दवा, उपचार और परहेज - Pelvic Inflammatory Disease Ke Karan, Lakshan, ilaj, Dawa Aur Upchar in Hindi
Written by Deepti

Pelvic Inflammatory Disease In Hindi श्रोणि सूजन बीमारी या पेल्विक इंफ्लेमेटरी डिजीज (पीआईडी) महिला प्रजनन अंगों का संक्रमण है। यह आमतौर पर तब होता है, जब यौन संचारित बैक्टीरिया योनि से आपके गर्भाशय (uterus), फैलोपियन ट्यूब या अंडाशय (ovaries) में फैल जाते हैं, जिससे इन हिस्सों में सूजन आ जाती है। हालांकि, पेल्विक सूजन की बीमारी का कोई लक्षण नहीं होता। नजीतजन आपको इस बीमारी का अहसास तक नहीं होता। अक्सर इस बीमारी का पता महिला को गर्भवती होने में परेशानी होने पर या फिर पुराने श्रोणि दर्द का विकास होने पर होता है। इसके ज्यादातर मामले योनि या गर्भाशय ग्रीवा में फैलने वाले संक्रमण (सेक्सुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शन) STI के कारण होते हैं। यदि समय रहते इस बीमारी पर ध्यान नहीं दिया गया, तो पीआईडी गर्भवती होने में समस्या, गर्भावस्था के दौरान समस्याएं और लंबे समय तक पेल्विक पेन पैदा कर सकती है।

विशेषज्ञों के अनुसार, यह बीमारी उन महिलाओं को ज्यादा होती है, जो प्रसव उम्र की है और कमर दर्द से पीड़ित रहती हैं। इसके अलावा जिन महिलाओं को इस बीमारी का पूर्व इतिहास है, उन्हें अक्सर इस समस्या से गुजरना पड़ता है। तो चलिए आज के इस आर्टिकल में हम आपको पीआईडी से जुड़ी सभी जानकारी देने जा रहे हैं। जिसे पढ़कर आप इस बीमारी का पता लगाने के साथ जल्द से जल्द इसका उपचार भी कर सकते हैं।

1. पीआईडी कैसे हो जाती है – How does PID happen in Hindi
2. पीआईडी श्रोणि सूजन की बीमारी के लक्षण – Pelvic inflammatory disease symptoms in hindi
3. पीआईडी रोग के कारण – Causes of PID in Hindi
4. पीआईडी के जोखिम कारक – Risk factor of PID in Hindi
5. पीआईडी की जटिलता – Complication of PID in Hindi
6. पीआईडी का निदान कैसे किया जाता है – How PID is diagnosed in Hindi
7. पीआईडी का इलाज – Treatment for pelvic inflammatory disease in Hindi
8. पेल्विक इंफ्लेमेटरी डिजीज (पीआईडी) से बचने के तरीके – Prevention of Pelvic Inflammatory Disease (PID) in Hindi
9. पेल्विक इंफ्लेमेट्री डिसीज से जुड़े लोगों के सवाल – Question related to pelvic inflammatory disease in Hindi

पीआईडी कैसे हो जाती है – How does PID happen in Hindi

पीआईडी कैसे हो जाती है - How does PID happen in Hindi

एक महिला को तब पीआईडी हो सकती है, जब बैक्टीरिया उसकी योनि या गर्भाशय ग्रीवा से उसके प्रजनन अंगों में चले जाते हैं। कई अलग-अलग प्रकार के बैक्टीरिया पीआईडी का कारण बनते हैं, लेकिन पीआईडी अक्सर दो सामान्य एसटीआई यानि सेक्सुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शन गोनोरिया और क्लेमाइडिया के कारण होता है। हाल के कुछ वर्षों में पीआईडी से पीडि़त महिलाओं की संख्या में गिरावट देखने को मिली है। ऐसा इसलिए, क्योंकि अब गोनोरिया और क्लेमेडिया के लिए ज्यादा से ज्यादा महिलाओं का नियमित परीक्षण किया जाने लगा है। विशेषज्ञों के अनुसार, आपको बिना एसटीआई के भी पीआईडी हो सकती है। योनि में सामान्य बैक्टीरिया एक महिला के प्रजनन अंगों में प्रवेश कर सकते हैं और पीआईडी का कारण बन जाते हैं।

(और पढ़े – गोनोरिया (सूजाक) के कारण, लक्षण, इलाज और बचाव…)

पीआईडी श्रोणि सूजन की बीमारी के लक्षण – Pelvic inflammatory disease symptoms in hindi

पीआईडी श्रोणि सूजन की बीमारी के लक्षण - Pelvic inflammatory disease symptoms in hindi

कई महिलाओं को काफी समय तक नहीं पता होता, कि वे पीआईडी से ग्रसित हैं, क्योंकि इसके कोई खास लक्षण दिखाई नहीं देते। पीआईडी के लक्षण बहुत हल्के या बहुत गंभीर हो सकते हैं। जिस पर आपको ध्यान देने की जरूरत होती है। नीचे हम आपको श्रोणि सूजन की बीमारी के संभावित लक्षणों के बारे में बता रहे हैं, ताकि आप समय रहते जल्द से जल्द इसका उपचार शुरू कर सकें।

(और पढ़े – अनियमित मासिक धर्म के कारण, लक्षण और घरेलू उपचार…)

डॉक्टर को कब दिखाएँ?

यदि आपको पीआईडी ​​के निम्नलिखित गंभीर संकेतों और लक्षणों का अनुभव हो तो अपने डॉक्टर से मिलें या तत्काल चिकित्सा सेवा लें:

  • पेट के निचले हिस्से में गंभीर दर्द जो कम न हो
  • मतली और उल्टी
  • बुखार, 101 F (38.3 C) से अधिक तापमान के साथ
  • योनि से दुर्गंध आना

यदि आपके लक्षण और संकेत बने रहते हैं, लेकिन गंभीर नहीं हैं, तो जल्द से जल्द अपने चिकित्सक को दिखाएँ। मासिक धर्म चक्र के बीच एक गंध, दर्दनाक पेशाब या रक्तस्राव के साथ योनि स्राव एक यौन संचारित संक्रमण (एसटीआई) से जुड़ा हो सकता है। यदि ये संकेत और लक्षण दिखाई देते हैं, तो यौन संबंध बनाना बंद कर दें और जल्द ही अपने डॉक्टर से मिलें। एसटीआई का शीघ्र उपचार पीआईडी को रोकने में मदद कर सकता है।

(और पढ़े – योनि से बदबू आने के कारण और दूर करने उपाय…)

पीआईडी रोग के कारण – Causes of PID in Hindi

पीआईडी रोग के कारण - Causes of PID in Hindi

पीआईडी रोग आमतौर पर एक संक्रमण से शुरू होता है, जिसे एसटीआई कहते हैं। यह इंफेक्शन योनि से शुरू होकर गर्भाशय ग्रीवा तक फैलता है। इसके बाद यह फैलोपियन ट्यूब और अंडाशय में बढ़ता है, जिससे ट्यूब में सूजन आ जाती है और इसकी वजह से पहले से ही छोटी ट्यूब और छोटी हो जाती है। इस संक्रमण की वजह से ट्यूब में घाव हो जाते हैं और ब्लॉकेज के कारण फर्टिलाइज एग सही से मूवमेंट नहीं कर पाता। संक्रमण का कारण बैक्टीरियल, फंगल और पैरासिटिक हो सकता है। जो पीआईडी रोग का कारण बनता है। यानि की कई बैक्टीरिया पीआईडी का कारण हो सकते हैं। ये बैक्टीरिया आमतौर पर असुरक्षित यौन संबंध के दौरान पनपते हैं। यौन संचारित बैक्टीरिया पीआईडी का सबसे आम कारण है। क्लैमाइडिया सबसे आम है, इसके बाद गोनोरिया होता है।

अमेरिकन फैमिली फिजिशयन के अनुसार, क्लैमाइडिया से पीड़ित महिलाओं में 80-90 प्रतिशत और गोनोरिया से पीड़ित 10 प्रतिशत लोगों में इसके कोई लक्षण दिखाई नहीं देते।

(और पढ़े – असुरक्षित सेक्स से होने वाली बीमारियां…)

पीआईडी के जोखिम कारक – Risk factor of PID in Hindi

पीआईडी के जोखिम कारक - Risk factor of PID in Hindi

एसटीआई के अलावा कुछ जोखिम कारक पीआईडी के विकास के जोखिम को बढ़ावा देते हैं, जिसके बारे में आप यहां जान सकते हैं। बैक्टीरिया योनि में प्रवेश करते हैं। यदि गर्भाशय ग्रीवा पूरी तरह से बंद न हो, तो संक्रमण अधिक आसानी से फैल सकता है। जिससे गर्भपात का खतरा बढ़ जाता है।

  • अंर्तगर्भाशायी डिवाइस जन्म नियंत्रण का ही एक रूप है, जिसे गर्भाशय में रखा जाता है। इससे संक्रमण का खतरा बढ़ सकता है, जिससे पीआईडी बन सकता है।
  • एंडोमेट्रियल बायोप्सी के दौरान ऊतक का एक सैंपल विश्लेषण के लिए लिया जाता है। यह संक्रमण और बाद में पीआईडी के जोखिम को बढ़ाता है।
  • यदि एपेंडिक्स से श्रोणि में संक्रमण फैलता है, तो एपेंडिसाइटिस बहुत कम जोखिम बढ़ाता है।
  • अगर आप 25 साल से कम उम्र में यौन रूप से सक्रिय हैं।
  • एक ऐसे व्यक्ति के साथ संबंध में होना, जिसके एक से अधिक यौन संबंध हों।
  • बिना कंडोम के सेक्स करना
  • यदि घर में पेल्विक सूजन की बीमारी या यौन संचारित संक्रमण का इतिहास रहा हो ।

(और पढ़े – गर्भपात (मिसकैरेज) के कारण, लक्षण और इसके बाद के लिए जानकारी…)

पीआईडी की जटिलता – Complication of PID in Hindi

पीआईडी की जटिलता - Complication of PID in Hindi

यदि सही समय पर पीआईडी का इलाज नहीं किया, तो कई जटिलताओं का सामना करना पड़ सकता है।

अनुपचारित श्रोणि सूजन की बीमारी का कारण निशान ऊतक हो सकता है। आप अपने फैलोपियन ट्यूब में संक्रमित द्रव (फोड़े) के संग्रह को भी विकसित कर सकती हैं, जो आपके प्रजनन अंगों को नुकसान पहुंचा सकता है।

पीआईडी की अन्य जटिलताओं में शामिल हो सकते हैं:

अस्थानिक गर्भावस्था: पीआईडी ट्यूबल (एक्टोपिक) गर्भावस्था का एक प्रमुख कारण है। एक अस्थानिक गर्भावस्था में, पीआईडी से निशान ऊतक निषेचित अंडे को फैलोपियन ट्यूब के माध्यम से गर्भाशय में प्रत्यारोपित करने से रोकता है। एक्टोपिक गर्भधारण बड़े पैमाने पर, होने वाले रक्तस्राव का कारण बन सकता है और इसमें आपातकालीन चिकित्सा की आवश्यकता होती है।

बांझपन: पीआईडी आपके प्रजनन अंगों को नुकसान पहुंचा सकती है और बांझपन (गर्भवती होने की अक्षमता) का कारण बन सकती है। जितनी बार आपको पीआईडी हुयी है, आपके बांझपन का खतरा उतना ही अधिक होगा। पीआईडी के लिए उपचार में देरी करने से भी बांझपन का खतरा बढ़ जाता है।

पुरानी श्रोणि दर्द: श्रोणि सूजन की बीमारी श्रोणि दर्द का कारण बन सकती है जो महीनों या वर्षों तक रह सकती है। आपके फैलोपियन ट्यूब और अन्य पैल्विक अंगों में घाव (Scarring) होने से संभोग और ओव्यूलेशन के दौरान दर्द हो सकता है।

ट्यूब-डिम्बग्रंथि फोड़ा: पीआईडी आपके गर्भाशय ट्यूब और अंडाशय में एक फोड़ा – मवाद के संग्रह का कारण हो सकता है। यदि इसे अनुपचारित छोड़ दिया जाता है, तो आप एक जीवन के लिए खतरनाक संक्रमण विकसित कर सकती हैं।

पीआईडी से ग्रसित महिला के फैलोपियन ट्यूब और एक्टोपिक गर्भावस्था के 9 प्रतिशत जोखिम के कारण इंफर्टिलिटी की संभावना 20 प्रतिशत बढ़ जाती है। जबकि क्रॉनिक पेल्विक पेन विकसित होने की संभावना 18 प्रतिशत है।

(और पढ़े – महिला बांझपन के कारण, लक्षण, निदान और इलाज…)

पीआईडी का निदान कैसे किया जाता है – How PID is diagnosed in Hindi

पीआईडी का निदान कैसे किया जाता है - How PID is diagnosed in Hindi

पीआईडी का निदान करने के लिए डॉक्टर आमतौर पर पीआईडी के संकेतों की जांच और एसटीआई के टेस्ट के लिए एक फिजिकल टेस्ट करते हैं। यदि आपको लगता है कि आपको पीआईडी हो सकती है, तो जल्द से जल्द एक डॉक्टर से संपर्क करें। यदि आपको पेट के निचले हिस्से में दर्द है, तो डॉक्टर नीचे बताई गई चीजों का टेस्ट करेंगे।

  • योनि और ग्रीवा से असामान्य निर्वहन
  • कहीं आपके अंडाशय या फैलोपियन ट्यूब के पास फोड़ा तो नहीं है
  • आपके प्रजनन अंगों में दर्द है या नहीं

इसके अलावा आपका डॉक्टर यह पता लगाने के लिए परीक्षण कर सकता है, कि आपको पीआईडी है या पीआईडी की तरह दिखने वाली एक अलग तरह की समस्या है। इनमें शामिल हो सकते हैं-

  • एसटीआई के लिए टेस्ट जैसे गोनोरिया और क्लैमाइडिया। ये संक्रमण पीआईडी का कारएण बन सकते हैं।
  • यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन या अन्य स्थितियों के लिए एक परीक्षण कर सकते हैं, जो श्रोणि दर्द का कारण बन सकता है।
  • फैलोनिपयन ट्यूब में सूजन की जांच के लिए एक अल्ट्रासाउंड स्कैन का उपयोग किया जा सकता है। कभी-कभी क्षेत्र को देखने के लिए लैप्रोस्कोप का प्रयोग भी किया जाता है। इस प्रक्रिया के दौरान, आपका डॉक्टर आपके पेल्विक अंगों को देखने के लिए आपके पेट में एक छोटे से चीरे के माध्यम से एक पतला, लाइटेड इंस्ट्रूमेंट्स प्रवेश कराता है। जो आपके श्रोणि अंगों की तस्वीरें लेते हैं।
  • डॉक्टर अल्ट्रासाउंड या एक अन्य इमेजिंग टेस्ट कर सकता है, ताकि पीआईडी के संकेतों के लिए आंतरिक अंगों को देख सके। आपको बता दें, कि पीआईडी का पता लगाने के लिए पैप टेस्ट नहीं किया जाता है।

(और पढ़े – लेप्रोस्कोपी क्या है, प्रक्रिया और कीमत…)

पीआईडी का इलाज – Treatment for pelvic inflammatory disease in Hindi

पीआईडी का इलाज - Treatment for pelvic inflammatory disease in Hindi

श्रोणि सूजन की बीमारी के लिए उपचार, पीआईडी का प्रारंभिक उपचार करने से जटिलताओं की समस्या कम हो जाती है। नीचे जानिए पीआईडी का इलाज कैसे-कैसे किया जा सकता है।

एंटीबायोटिक ट्रीटमेंट- पीआईडी का पहला इलाज एंटीबायोटिक से होता है। इसके लिए डॉक्टर्स के निर्देशों का पालन करना बहुत जरूरी है। एक कोर्स आमतौर पर 14 दिन का रहता है और कम से कम दो एंटी बायोटिक का एक साथ उपयोग किया जाता है, जो अलग-अलग बैक्टीरिया के खिलाफ काम करते हैं। इसके लिए सिफॉक्सिटिन, मेंट्रोनिडेजॉल, सेफ्ट्रिऑक्जोन और डॉक्सीसाइक्लिन (Mentronidazole, Ceftriaxone and Doxycycline) जैसी एंटीबायोटिक शामिल हैं। ये देखने के लिए कि, एंटीबायोटिक काम कर रही है या नहीं, इसे लेने के दो से तीन दिन बाद फिर से एक बार डॉक्टर को जरूर दिखाएं। यदि ये तीन दिन तक असर न करे, तो आगे के ट्रीटमेंट लेना शुरू कर देना चाहिए।

नोट – किस भी दवा का सेवन डॉक्टर की सलाह के बिना न करें यह आपके स्वास्थ्य के लिये घातक हो सकता है

अस्पताल में भर्ती होना- यदि पीआईडी वाली महिला गर्भवती है, तो उसे हॉस्पिटल में एडमिट कराने की जरूरत पड़ सकती है।

सर्जरी- वैसे, इतने इलाज के बाद सर्जरी की जरूरत शायद ही कभी पड़े। लेकिन अगर फैलोपियन ट्यूब पर अगर स्कार (घाव) हो या कोई फोड़ा निकल रहा हो, तो सर्जरी करनी पड़ सकती है। इसके लिए कीहोल सर्जरी करनी होती है।

अपने साथी के लिए उपचार- एक एसटीआई के साथ पुनर्निधारण को रोकने के लिए, आपके यौन साथी या साझेदारों की जांच और उपचार किया जाना चाहिए। क्योंकि संक्रमित भागीदारों में कोई ध्यान देने योग्य लक्षण नहीं भी हो सकते हैं।

अस्थाई संयम- उपचार पूरा होने तक संभोग से बचें जब तक की परीक्षणों से इस बात की पुष्टि हो जाये कि संक्रमण सभी भागीदारों से दूर हो गया है।

(और पढ़े – बच्चेदानी (गर्भाशय) में सूजन के लक्षण, कारण और घरेलू उपाय…)

पेल्विक इंफ्लेमेटरी डिजीज (पीआईडी) से बचने के तरीके – Prevention of Pelvic Inflammatory Disease (PID) in Hindi

पेल्विक इंफ्लेमेटरी डिजीज (पीआईडी) से बचने के तरीके - Prevention of Pelvic Inflammatory Disease (PID) in Hindi

पीआईडी एक गंभीर स्थिति बन सकती है, लेकिन इस जोखिम को कम करने के कुछ तरीके भी हैं, जो आपको जरूर जान लेने चाहिए।

  • नियमित रूप से स्क्रीनिंग कराएं। विशेष रूप से वे लोग, जिनके पास कई सेक्सुअल पार्टनर्स हैं।
  • यौन साझेदारों को संक्रमण और एसटीआई की जाँच सुनिश्चित करना।
  • संभोग के दौरान कंडोम का इस्तेमाल करें। हर बार जब आप सेक्स करते हैं, अपने पार्टनर की संख्या सीमित रखें और संभावित साथी के यौन-इतिहास के बारे में पूछें।
  • बैक्टीरिया को आपकी योनि में प्रवेश करने से रोकने के लिए बाथरूम का उपयोग करने के बाद वेजाइना को आगे-पीछे दोनों तरफ से धोएं।
  • बच्चे के जन्म या गर्भावस्था की समाप्ति के बाद तुरंत सेक्स न करें।
  • जब तक गर्भाशय ग्रीवा ठीक से बंद न हो जाए, तब तक फिर से सेक्स शुरू करने से बची रहें।
  • गर्भनिरोधक के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें। अगर आप नियमित रूप से गर्भनिरोधक गोलियां लेते हैं, तो एसटीआई से बचाव के लिए हर बार कंडोम का इस्तेमाल करना जरूरी है।
  • यदि आपको क्लैमाइडिया जैसे एसटीआई का खतरा है, तो परीक्षण के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें। आवश्यक हो तो स्क्रीनिंग शेड्यूल सेट करें। एसटीआई का प्रारंभिक उपचार आपको पीआईडी से बचने का सबसे अच्छा मौका देता है।
  • स्वस्थ आहार लें और खूब सारा पानी पीएं
  • सेक्स के बाद टॉयलेट जरूर जाएं।
  • पीरियड्स के बाद स्वच्छता का बेहद ध्यान रखें
  • डूश मत करो। Douching आपकी योनि में बैक्टीरिया के असंतुलन को बढ़ाता है।
  • पीआईडी से बचने के लिए अंगूर के रस का सेवन करें। इसमें बैक्टीरिया और फंगस को नष्ट करने के गुण होते हैं।
  • यदि आपको एसटीआई है, तो आप अपने साथी को भी इसकी जाँच कराने की सलाह दें, जरूरत पड़ने पर इलाज भी कराएं।

(और पढ़े – सेक्सुअल हाइजीन के आसान से टिप्स)

पेल्विक इंफ्लेमेट्री डिसीज से जुड़े लोगों के सवाल – Question related to pelvic inflammatory disease in Hindi

पेल्विक इंफ्लेमेट्री डिसीज से जुड़े लोगों के सवाल - Question related to pelvic inflammatory disease in Hindi

अगर मुझे पीआईडी है, तो क्या मैं गर्भवती हो सकती हूं – If I have PID, can I get pregnant in Hindi

अगर आपको एक बार से ज्यादा पीआईडी हुई है, तो आपके गर्भवती होने की संभावना बहुत कम है। जब आप पीआईडी से जूझ रही होती हैं, तो बैक्टीरिया फैलोपियन ट्यूब में प्रवेश कर सकते हैं या ट्यूब की सूजन का कारण बन सकते हैं। यह ऊतक में स्कारिंग पैदा कर सकता है, जो आपकी फैलोपियन ट्यूब का निर्माण करता है। यह निशान आपके अंडाशय से एक अंडाणु को फैलाने या फैलोपियन ट्यूब से आपके गर्भाशय में जाने से रोक सकता है। पीआईडी से निशान ऊतक एक सामान्य गर्भावस्था के बजाय एक्टोपिक प्रेग्नेंसी का कारण बन सकता है।

पेल्विक इंफ्लेमेट्री डिसीज एक ऐसी बीमारी है, जिसका इलाज संभव है और कई मामलों में महिलाएं पूरी तरह से ठीक हो जाती हैं। रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र के अनुसार, पीआईडी के इतिहास वाली 8 में से 1 महिला को गर्भवती होने में कठिनाई होती है। विशेषज्ञों के अनुसार एक बार ठीक होने के बाद दो साल में ये संक्रमण फिर से हो सकता है। हालांकि पांच में से एक केस में ऐसा होता है, इसलिए पीआईडी यानि पेल्विक इंफ्लेमेट्री डिसीज की जागरूकता बहुत जरूरी है। इसके लिए अपने साथी से बात करें और अपना नियमित चेकअप कराती रहें।

(और पढ़े – गर्भवती होने के लिए पूरा गाइड…)

इसी तरह की अन्य जानकरी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

आपको ये भी जानना चाहिये –

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration