अपेंडिक्स क्या है, कार्य, बीमारी, लक्षण, जांच, इलाज और बचाव – What Is Appendix, function, diseases In Hindi

अपेंडिक्स क्या है, कार्य, बीमारी, लक्षण, जांच, इलाज और बचाव - What Is Appendix, function, diseases In Hindi
Written by Sourabh

appendix in Hindi अपेंडिक्स (appendix) को एक अवशेष या अनुपयोगी अंग के रूप में जाना जाता है। कुछ अवधारणाओं के अनुसार इस अंग का मानव शरीर में कोई विशेष कार्य नहीं होता है। तथा इसे सर्जरी के दौरान हटाया जा सकता है। परन्तु कुछ विशेषज्ञ का मानना है कि अपेंडिक्स कुछ अच्छे बैक्टीरिया को स्टोर करने का कार्य करता है, तथा प्रतिरक्षा प्रणाली को स्वस्थ्य रखने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। चूँकि यह अंग जठरांत्र-नली (gastrointestinal tract) का भाग है। यह मानव शरीर में कुछ विशेष कार्य नहीं करता, परन्तु यह विभिन्न समास्याओं का उत्पन्न कर सकता है।

अतः अपेंडिक्स में उत्पन्न समस्याएँ जैसे- अपेंडिसाइटिस (appendicitis), गंभीर पेट दर्द के साथ जीवन के लिए खतरा उत्पन्न कर सकती हैं। अपेंडिक्स रोग का इलाज करने के लिए इसकी उपचार प्रक्रिया में सर्जरी और शल्य चिकित्सा को शामिल किया जा सकता है। इस अंग को उपचार के दौरान हटाया भी जा सकता है। अतः आज के लेख में आप जानेंगे कि अपेंडिक्स (appendix) क्या है, इसके कार्य क्या हैं, बीमारी, निदान, उपचार और रोकथाम उपाय के बारे में।

1. अपेंडिक्स क्या है – What Is Appendix in Hindi
2. अपेंडिक्स के कार्य – Appendix Function in hindi
3. अपेंडिक्स की बीमारी – Appendix Diseases in hindi

4. अपेंडिक्स बीमारी के लक्षण – Appendix Diseases Symptoms in hindi
5. अपेंडिक्स बीमारी का निदान – Appendix Diseases Diagnosis in hindi
6. अपेंडिक्स टेस्ट – Appendix Tests in hindi
7. अपेंडिक्स का इलाज – Appendix Treatment in hindi
8. अपेंडिक्स से बचाव – Appendix Prevent in hindi

अपेंडिक्स क्या है – What Is Appendix in Hindi

अपेंडिक्स क्या है - What Is Appendix in Hindi

अपेंडिक्स (appendix) मनुष्यों के निचले पेट के दाएं तरफ में पाई जाने वली एक पतली ट्यूब होती है। यह छोटी आंत और बड़ी आंत के मिलने वाले स्थान (जंक्शन) के पास स्थिति होती है। यह लगभग 4 इंच लम्बी ट्यूब है। इस ट्यूब का एक छोर बंद और दूसरी छोर बड़ी आंत से जुड़ा होता है,

चूँकि अपेंडिक्स (appendix) का कार्य अज्ञात है। परन्तु यह माना जाता है कि अपेंडिक्स (appendix) अच्छे बैक्टीरिया के लिए एक भंडारगृह के रूप में कार्य करता है, दस्त की बीमारियों के बाद पाचन तंत्र को “रिबूट” (reboot) करता है। अन्य विशेषज्ञों का मानना है कि अपेंडिक्स (appendix) विकासवादी काल से सिर्फ एक अवशेष या अनुपयोगी अंग है। अपेंडिक्स के शल्य चिकित्सा (सर्जरी) की मदद से हटाने पर किसी भी प्रकार की कोई स्वास्थ्य समस्या प्रगट नहीं होती है।

बड़ी अंत से जुड़े होने के कारण इसमें विभिन्न प्रकार की समस्याएँ उत्पन्न हो सकती हैं, जैसे- संक्रमण, सूजन, कैंसर आदि। विशेषज्ञ अपेंडिक्स के संक्रमण का इलाज करने के लिए लगातार प्रयास कर रहे हैं तथा बहुत कम जोखिम दायक तरीकों की खोज में लगे हुए हैं।

(और पढ़े – मानव पाचन तंत्र कैसा होता है, और कैसे इसे मजबूत बनायें…

अपेंडिक्स के कार्य – Appendix Function in Hindi

अपेंडिक्स के कार्य – Appendix Function in hindi

अपेंडिक्स (appendix) बड़ी आंत से जुडी, 4 इंच लंबी ट्यूब होती है। इस अंग का सटीक कार्य अस्पष्ट है। कुछ लोग मानते हैं, यह अंग मानव स्वास्थ्य को कोई लाभ प्रदान नहीं करता है। लेकिन यह आंत प्रतिरक्षा (gut immunity) में कुछ भूमिका अदा कर सकती है। अध्ययनों के आधार पर ज्ञात होता है कि:

  • अपेंडिक्स भ्रूण (fetus) और युवा वयस्कों में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।
  • अपेंडिक्स को वयस्कों में मुख्य रूप से प्रतिरक्षा कार्यों में योगदान देने के रूप में जाना जाता है।
  • कुछ चिकित्सको का मानना है कि यह अंग शरीर में उपयोगी बैक्टीरिया के लिए एक भंडारगृह के रूप में कार्य करता है। ये उपयोगी बैक्टीरिया अच्छे पाचन को बढ़ावा देने, आंतों को स्वस्थ रखने और प्रतिरक्षा प्रणाली को बनाये रखने में मदद कर सकते हैं।
  • यह माना जाता है कि अपेंडिक्स, बी लिम्फोसाइट्स (B lymphocytes) (सफेद रक्त कोशिका की एक किस्म) और इम्यूनोग्लोबुलिन ए (immunoglobulin A (IgA)) एंटीबॉडी के उत्पादन में भी सहायता करती है।

(और पढ़े – पाचन शक्ति बढ़ाने के घरेलू उपाय…)

अपेंडिक्स की बीमारी – Appendix Diseases in Hindi

अपेंडिक्स की बीमारी - Appendix Diseases in hindi

अपेंडिक्स (appendix) मानव अंग है जिसके कारण  मनुष्य को इससे सम्बंधित निम्न समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं, जैसे :

अपेंडिक्स में सूजन (अपेंडिसाइटिस) – Appendix Me Sujan (Appendicitis) in Hindi

जब अपेंडिक्स (appendix) में सूजन आ जाती है, तो इस स्थिति को अपेंडिसाइटिस (appendicitis) कहा जाता है। यह स्थिति आमतौर पर जीवाणु संक्रमण के कारण उत्पन्न होती है। संक्रमण पेट से शुरू होकर अपेंडिक्स (appendix) तक पहुँच सकता है। यह संक्रमण आंतों में कठोर मल के कारण भी उत्पन्न हो सकता है।

अपेंडिसाइटिस (appendicitis) के लक्षण विभिन्न हो सकते हैं। इनमें शामिल हैं:

  • पेट के निचले दाहिने हिस्से में दर्द होना,
  • उल्टी होना
  • भूख में कमी
  • गैस की समस्या
  • बुखार आना
  • पेट में सूजन
  • कभी कभी अपेंडिसाइटिस में चिकित्सकीय आपातकाल की स्थिति विकसित हो सकती हैं।

(और पढ़े – पेप्टिक अल्सर या पेट में अल्सर (छाले) क्या है, कारण, लक्षण, इलाज और घरेलू उपचार…)

 अपेंडिक्स फोड़ा (appendix Abscess) – अपेंडिक्स (appendix) में एक फोड़ा (collection of pus) उत्पन्न हो सकता है, जिसे अपेंडिक्स फोड़ा (appendix Abscess) कहते हैं। यह समस्या अक्सर अपेंडिक्स में सूजन से सम्बंधित है, लेकिन अपेंडिसाइटिस (appendicitis) के इलाज से पहले इसका इलाज करना आवश्यक होता है।

अपेंडिक्स कैंसर (appendix cancer) – अपेंडिक्स (appendix) में गंभीर दर्द का कारण ट्यूमर हो सकता है। अपितु अपेंडिक्स कैंसर या ट्यूमर एक दुर्लभ समस्या है, जो बहुत कम लोगो को प्रभावित करती है। अपेंडिक्स कैंसर सामान्य अवस्था में किसी भी प्रकार के गंभीर लक्षणों का कारण नहीं बनता है। जब यह कैंसर गंभीर होता है, तो इसके दुर्लभ लक्षण देखे जा सकते हैं। इसके लक्षणों में गंभीर दर्द, दस्त आदि शामिल हैं। इसके अतिरिक्त :

(और पढ़े – कोलोरेक्टल कैंसर (कोलन कैंसर) के कारण, लक्षण, इलाज और बचाव…)

अपेंडिक्स बीमारी के लक्षण – Appendix Diseases Symptoms in hindi

अपेंडिक्स बीमारी के लक्षण - Appendix Diseases Symptoms in hindi

अपेंडिक्स (appendix) के मुख्य लक्षण के रूप में पेट के निचले दाहिने हिस्से में दर्द को शामिल किया जाता है। इसके अतिरिक्त इसके सामान्य लक्षणों में निम्न को शामिल किया जा सकता है, जैसे:

  • भूख न लगना,
  • जी मिचलाना,
  • उल्टी होना,
  • कब्ज या दस्त की समस्या उत्पन्न होना,
  • गैस पास करने में असमर्थता,
  • बुखार आना,
  • पेट में सूजन

(और पढ़े – भूख बढ़ाने के आयुर्वेदिक घरेलू उपाय…)

अपेंडिक्स बीमारी का निदान – Appendix Diseases Diagnosis in Hindi

अपेंडिक्स (appendix) से सम्बंधित पेट दर्द और बुखार जैसे लक्षणों का निदान करने के लिये एक चिकित्सक विभिन्न प्रकार के परीक्षण अपना सकता है। मुख्य रूप से कई अलग-अलग परीक्षणों का उपयोग अपेंडिसाइटिस (appendicitis) या संक्रमण का निर्धारन करने के लिए किया जा सकता है। अतः अपेंडिक्स समस्याओं का निदान करने के लिए डॉक्टर द्वारा निम्न टेस्ट या परीक्षणों को अपनाया जा सकता है:

अपेंडिक्स टेस्ट – Appendix Tests in Hindi

अपेंडिक्स टेस्ट - Appendix Tests in hindi

शारीरिक परीक्षण (Physical test) – अपेंडिक्स (appendix) समस्याओं जैसे- अपेंडिसाइटिस (appendicitis) का निदान करने में शारीरिक परीक्षण महत्वपूर्ण होता है। कुछ मामलों में, शारीरिक परीक्षण के आधार पर अपेंडिक्स (appendix) को हटाने के लिए सर्जरी करने का निर्णय लिया जा सकता है, और इसके लिए इमेजिंग परीक्षण करने की आवश्यकता नहीं पड़ती है। शारीरिक परीक्षण के अंतर्गत निचले दाएं पेट को दबाने पर दर्द, पेट में सूजन तथा अन्य लक्षणों का अवलोकन किया जा सकता है।

पूर्ण रक्त गणना (Complete blood count (CBC)) – ऐसा कोई भी रक्त परीक्षण नहीं है, जो अपेंडिसाइटिस (appendicitis) की उपस्थिति को स्पष्ट रूप से दिखा सके। हालांकि, संक्रमण की स्थिति में शरीर में सफेद रक्त कोशिकाओं (white blood cells) की संख्या बढ़ती हैं, अतः पूर्ण रक्त परीक्षण में प्राप्त सफेद रक्त कोशिकाओं की संख्या में हुई वृद्धि – संक्रमण और सूजन की ओर संकेत कर सकती है।

सीटी स्कैन (CT scan (computed tomography)) – सीटी स्कैनर शरीर की विस्तृत तथा स्पष्ट छवियों को बनाने के लिए एक्स-रे और कंप्यूटर का उपयोग करने वाला एक यंत्र होता है। अपेंडिसाइटिस (appendicitis) के केस में सीटी स्कैन की मदद से अपेंडिक्स में सूजन को देखा जा सकता है और अपेंडिक्स कैंसर तथा इसके टूटने की स्थिति का भी पता लगाया जा सकता है।

अल्ट्रासाउंड (Ultrasound) – शरीर के अंदर की संरचनाओं को देखने के लिए अल्ट्रासाउंड ध्वनि तरंगों का उपयोग करता है, इस इमेजिंग परीक्षण में विकिरण का उपयोग नहीं किया जाता है। अतः विकरण के प्रभाव से बचने के बच्चों या गर्भवती महिलाओं में इमेजिंग परीक्षण के लिए अल्ट्रासाउंड प्रयोग में लाया जाता है। अल्ट्रासाउंड के दौरान, छवियों लेने के लिए पेट पर ट्रांसड्यूसर (transducer) नामक एक उपकरण को चलाया जाता है। यदि अपेंडिक्स में सूजन है, तो यह इस परीक्षण से पता लगाया जा सकता है।

अन्य इमेजिंग परीक्षण (Other imaging tests) – जब अपेंडिक्स में कैंसर होने का संदेह होता है, तो इमेजिंग निम्न इमेजिंग परीक्षण काफी उपयोगी हो जाते हैं, जैसे – चुंबकीय अनुनाद इमेजिंग (MRI), पॉजिट्रॉन उत्सर्जन टोमोग्राफी (positron emission tomography (PET)) आदि।

इसके अतिरिक्त मूत्र पथ संक्रमण की जानकारी के लिए मूत्र परीक्षण (Urine test) तथा गुदा का परीक्षण (Rectal exam) भी किये जा सकते है।

(और पढ़े – पूर्ण रक्त गणना (सीबीसी) क्या है, क्यों आवश्यक है, टेस्ट के परिणाम, सामान्य स्तर और कीमत…)

अपेंडिक्स का इलाज – Appendix Treatment in Hindi

अपेंडिक्स का इलाज – Appendix Treatment in hindi

अपेंडिक्स का इलाज डॉक्टर द्वारा मुख्य रूप से दो प्रकार से किया जा सकता है:

अपेंडिक्स को हटाने के लिए सर्जरी अपेंडेक्टॉमी (Appendectomy) – अपेंडिक्स को हटाने के लिए सर्जरी, जिसे अपेंडेक्टोमी (Appendectomy) कहा जाता है, यह अपेंडिसाइटिस (appendicitis) के लगभग सभी मामलों के लिए उपचार के दौरान शामिल की जा सकती है। अतः अपेंडिसाइटिस रोग को रोकने और इलाज के लिए अपेंडेक्टोमी (Appendectomy) का व्यापक उपयोग किया जाता है। अपेंडेक्टोमी (Appendectomy) के तहत डॉक्टर पारंपरिक तकनीक (एक बड़ा कट लगाकर) या लेप्रोस्कोपी (laparoscopy) (पेट में कई छोटे छेद कर अन्दर देखने के लिए कैमरे का उपयोग) का उपयोग कर सकते हैं। सर्जरी से पहले एंटीबायोटिक दवाएं दी जाती हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि अगर अपेंडिक्स (appendix) टूट जाता है, और पेट की गुहा (abdominal cavity) में सामग्री फैलती है, तो यह पेरिटोनिटिस (peritonitis) नामक स्थिति कहलाती है, जो जीवन के लिए खतरनाक होती है।

यदि अपेंडिक्स फोड़ा (appendix abscess) का निदान किया जाता है, तो चिकित्सक इसका इलाज करने के लिए त्वचा के नीचे एक ट्यूब डालकर निकाल सकता है।

अपेंडिसाइटिस का इलाज एंटीबायोटिक्स (Antibiotics) – कुछ मामलों में, अपेंडिसाइटिस (appendicitis) का इलाज एंटीबायोटिक्स के द्वारा किया जा सकता है। कुछ अध्ययनों पाया गया है कि कुछ रोगियों में एंटीबायोटिक दवाओं के दौरान एपेंडिसाइटिस की स्थिति में काफी सुधार आया है। परन्तु केवल एंटीबायोटिक्स, अपेंडिसाइटिस का प्रभावी ढंग से इलाज करने के लिए उपयोगी नहीं हैं

(और पढ़े – पैनक्रियाज (अग्नाशय) क्या है, कार्य, रोग और ठीक रखने के उपाय…)

अपेंडिक्स से बचाव – Appendix Prevent in Hindi

अपेंडिक्स से बचाव - Appendix Prevent in hindi

अपेंडिसाइटिस (appendicitis) को रोकने तथा अपेंडिक्स को स्वस्थ्य और रोग मुक्त रखने का कोई उचित तरीका नहीं है। हालांकि, उन लोगों में अपेंडिसाइटिस (appendicitis) जैसे अपेंडिक्स से सम्बंधित रोग, कम देखने को मिलते हैं, जो ताजा फल और सब्जियों जैसे फाइबर में उच्च भोजन का सेवन करते हैं।

(और पढ़े – फाइबर क्या है, स्रोत, फाइबर के फायदे और फाइबर के नुकसान…)

अपेंडिक्स में क्या खाएं और क्या न खाएं What to Eat and Avoid in Appendix in Hindi

एक स्वस्थ आहार अपेंडिक्स समस्या (Appendix problem) के इलाज और उसके जोखिमों को कम करने में काफी मदद कर सकता है। जो व्यक्ति अपेंडिसाइटिस (appendicitis), से पीड़ित हैं, उन्हें कुछ विशेष खाद्य पदार्थ को खाने की सलाह दी जाती है। तथा कुछ कुछ ऐसे भी खाद्य पदार्थ है, जिनका सेवन अपेंडिक्स समस्याओं को गंभीर बना सकता है। अतः कुछ अपेंडिक्स आहार इस तरह से हैं:

अपेंडिक्स में खाए जाने वाले आहार – Appendix diet in Hindi

अपेंडिक्स की समस्याओं या अपेंडिसाइटिस (appendicitis) में निम्न खाद्य पदार्थों का सेवन सेहत के लिए लाभकारी होता है, जैसे-

  • ताजा नींबू रस, गर्म पानी और शहद (एक चम्मच) सुबह उठने के बाद सेवन करें
  • नट्स के साथ फल का सेवन
  • भोजन में उबली हुई सब्जियां शामिल करें
  • ताजे फल या सब्जीओं का जूस
  • सब्जी सलाद, अंकुरित बीज
  • गाजर, ककड़ी और चुकंदर का जूस
  • मेथी (fenugreek) के बीज से बनी चाय

शल्य चिकित्सा के दौरान इन खाद्य पदार्थों का सेवन मानव शरीर को आवश्यक पोषक तत्व प्रदान करता हैं, जो संक्रमण को रोकने और उपचार प्रक्रिया को तेजी प्रदान करने के लिए उपयोगी हैं। प्रोटीन, विटामिन सी और फाइबर में समृद्ध खाद्य पदार्थों का नियमित रूप से सेवन किया जाना चाहिए।

अपेंडिक्स में क्या न खाएं – Foods To Avoid Appendicitis in Hindi

अपेंडिक्स की समस्या को कम करने और अपेंडिक्स सर्जरी के बाद भी कुछ खाद्य पदार्थों के सेवन से बचे जाने की सलाह दी जाती है। अपेंडिक्स या अपेंडिसाइटिस (appendicitis) के दौरान निम्न प्रकार के आहार और पेय पदार्थ से परहेज करना चाहिए, जैसे-

  • उच्च वसा वाले भोजन का सेवन न करें। उच्च वसा वाले भोजन में मांस, अंडा, पनीर (cheese), दूध, चॉकलेट, आइसक्रीम, तला हुआ भोजन और मक्खन तथा तेल युक्त भोजन आदि शामिल हैं।
  • उच्च शर्करा युक्त सामग्री जैसे – मिठाई, केक, मफिन (muffins), स्वीटनर (sweeteners), आइसक्रीम आदि।
  • डिब्बाबंद खाद्य पदार्थ और जूस,
  • वाष्पित पेय (Aerated drinks)
  • पेय (Beverages)
  • शराब
  • काली मिर्च और मसाले
  • बीन्स और क्रूसिफेरस (cruciferous) सब्जियां, जो गैस बनाती हैं
  • बेकरी की चीज़ें (Bakery items) आदि।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration