रेडिएशन थैरेपी क्या है, कैसे की जाती है, फायदे, नुकसान और कीमत – Radiation Therapy Procedure And Cost In Hindi

रेडिएशन थैरेपी क्या है, कैसे की जाती है, फायदे, नुकसान और कीमत – Radiation Therapy Procedure And Cost In Hindi
Written by Sourabh

Radiation Therapy in Hindi रेडिएशन थैरेपी या विकिरण चिकित्सा (radiation therapy) का उपयोग अक्सर कैंसर के इलाज में किया जाता है। यह थैरेपी कैंसर कोशिकाओं को नष्ट करने के लिए उच्च ऊर्जा विकिरण का प्रयोग करती है। विकिरण चिकित्सा कुछ सौम्य या कैंसर मुक्त ट्यूमर के इलाज में भी उपयोगी है। इसमें शरीर के एक निश्चित क्षेत्र पर ही रेडिएशन को कुछ समय के लिए डाला जाता है। रेडिएशन थैरेपी को अनेक प्रकार की उपचार प्रक्रियाओं जैसे- कीमोथेरेपी, सर्जरी इत्यादि के दौरान भी उपयोग में लाया जाता है। रेडिएशन थैरेपी प्रभावी उपचार के अलावा, रेडिएशन थैरेपी अनेक प्रकार के साइड इफ़ेक्ट भी उत्पन्न कर सकती है। अतः रेडिएशन थैरेपी से सम्बंधित सभी प्रकार के साइड इफ़ेक्ट के बारे में मरीज को डॉक्टर से चर्चा करनी चाहिए।

आज के इस लेख में आप जानेंगे कि रेडिएशन थैरेपी क्या है, कैसे की जाती है इसकी तैयारी, तथा इसके परिणाम, फायदे, नुकसान और कीमत के बारे में।

1. रेडिएशन थैरेपी क्या है – What is radiation therapy in Hindi
2. रेडिएशन थैरेपी के प्रकार – Radiation Therapy Types in Hindi

3. रेडिएशन थेरेपी साइड इफेक्ट्स – Radiation therapy Side effects in Hindi

4. विकिरण चिकित्सा की तैयारी – Radiation Therapy Preparation in hindi
5. रेडिएशन थैरेपी कैसे की जाती है प्रक्रिया – Radiation therapy Procedure in Hindi
6. रेडिएशन थैरेपी के बाद – After Radiation Therapy In Hindi
7. रेडिएशन थैरेपी का उपयोग – Radiation Therapy Uses in hindi
8. रेडिएशन थैरेपी उपचार – radiation therapy treatment in Hindi
9. विकिरण चिकित्सा परिणाम – radiation therapy Results in Hindi
10. रेडिएशन थैरेपी के फायदे – Radiation Therapy Benefits in Hindi
11. रेडिएशन थैरेपी के बाद क्या खाना चाहिए – Radiation therapy diet in Hindi
12. रेडिएशन थैरेपी की कीमत – Radiation Therapy Cost in Hindi

रेडिएशन थैरेपी क्या है – What is radiation therapy in Hindi

रेडिएशन थैरेपी क्या है - What is radiation therapy in Hindi

रेडिएशन थैरेपी (radiation therapy) या विकिरण चिकित्सा का प्रयोग कैंसर के उपचार के रूप में किया जाता है, जिसे रेडियोथेरेपी भी कहा जाता है। विकिरण चिकित्सा या रेडिएशन थैरेपी में अदृश्य उच्च-ऊर्जा किरणों या उप-परमाणु कणों की किरणों का उपयोग कैंसर कोशिकाओं को नष्ट करने व उनको नुकसान पहुंचाने के लिए किया जाता है और कैंसर कोशिकाओं को बढ़ने और विभाजित होने से रोका जाता है। यह थैरेपी एक विशिष्ट क्षेत्र तक ही सीमित हैं। विकिरण चिकित्सा के द्वारा, थायरॉयड रोग, रक्त विकार और कैंसर मुक्त (noncancerous) ट्यूमर वृद्धि का भी उपचार किया जाता है। विकिरण चिकित्सा का उपयोग कभी-कभी गैर-संक्रामक बीमारी के उपचार के लिए भी किया जाता है, विकिरण चिकित्सा के विशेषज्ञ को विकिरण ऑन्कोलॉजिस्ट (radiation oncologist) कहा जाता है।

विकिरण चिकित्सा में सबसे अधिक एक्स-रे विकरण प्रयोग में लाई जाती हैं, लेकिन प्रोटॉन या अन्य प्रकार की ऊर्जा विकरणों का भी उपयोग रेडिएशन थैरेपी (radiation therapy) में किया जा सकता है। इसके द्वारा शरीर के किसी निश्चित क्षेत्र पर ही रेडिएशन डाली जाती हैं।

(और पढ़े – महिलाओं में कैंसर के लक्षण…)

रेडिएशन थैरेपी के प्रकार – Radiation Therapy Types in Hindi

  1. एक्सटर्नल बीम रेडिएशन थैरेपी – External beam radiation therapy in Hindi
  2. आंतरिक विकिरण चिकित्सा – Internal radiation therapy in Hindi

रेडिएशन थैरेपी (radiation therapy) मुख्य रूप से दो प्रकार की होती है, जैसे:

एक्सटर्नल बीम रेडिएशन थैरेपी – External beam radiation therapy in Hindi

एक्सटर्नल बीम रेडिएशन थैरेपी में रेडिएशन की बीम को बाहरी मशीन द्वारा उपचार क्षेत्र पर केंद्रित (फोकस) किया जाता है। एक्सटर्नल बीम रेडिएशन थैरेपी एक स्थानीय उपचार है, जिसका अर्थ है कि इसके द्वारा शरीर के एक विशिष्ट हिस्से का इलाज किया जाता है।

आंतरिक विकिरण चिकित्सा – Internal radiation therapy in Hindi

आंतरिक विकिरण चिकित्सा - Internal radiation therapy in Hindi

आंतरिक विकिरण चिकित्सा, जैसे कि ब्रैकीथेरेपी (brachytherapy), जिसमें एक रेडियोधर्मी पदार्थ को कैंसर ऊतक के अंदर या उसके पास में अस्थायी या स्थायी रूप से रखा जाता है। यह रेडियोधर्मी पदार्थ या विकिरण स्रोत ठोस या तरल अवस्था में हो सकता है। ब्रैकीथेरेपी का उपयोग भी शरीर के किसी एक विशिष्ट हिस्से का इलाज करने के लिए किया जाता है।

एक्सटर्नल बीम रेडिएशन थैरेपी में उच्च-ऊर्जा एक्स-रे विकिरण का उपयोग गहरे कैंसर के इलाज के लिए किया जा सकता है। एक्सटर्नल बीम रेडिएशन थैरेपी सामान्यतः अधिक उपयोग में लाई जाने वाली थैरेपी है। इसके विपरीत आंतरिक विकिरण चिकित्सा का उपयोग तब किया जा सकता है जब कैंसर के आस-पास के स्वस्थ ऊतक को विकिरण के दुष्प्रभाव से बचाने की कोशिश की जाती है।

(और पढ़े – एक्स-रे क्या है, क्यों किया जाता है, कीमत और तरीका…)

रेडिएशन थेरेपी साइड इफेक्ट्स – Radiation therapy Side effects in Hindi

  1. रेडिएशन थैरेपी के अल्पकालिक नुकसान – Short-term radiation therapy side effect in Hindi
  2. रेडिएशन थैरेपी के दीर्घकालिक साइड इफ़ेक्ट – Long-term radiation therapy ke side effects in Hindi

रेडिएशन थैरेपी (radiation therapy) के साइड इफेक्ट्स या दुष्प्रभाव तब प्रगट होते हैं, जब कैंसरमुक्त कोशिकाएं भी उपचार प्रक्रिया के दौरान प्रभावित होती हैं।

विकिरण चिकित्सा में प्रयुक्त विकिरण, कैंसर कोशिकाओं और गैर-कैंसर कोशिकाओं दोनों को प्रभावित करती है। विकिरण चिकित्सा में साइड इफेक्ट उपचार के दौरान उपयोग की जाने वाली रेडिएशन की मात्रा और शरीर के कैंसर प्रभावित क्षेत्र पर निर्भर करती है। विकिरण चिकित्सा में साइड इफेक्ट्स उपचार के आधार पर भिन्न-भिन्न होते हैं, जैसे:

रेडिएशन थैरेपी के अल्पकालिक नुकसान – Short-term radiation therapy side effect in Hindi

रेडिएशन थैरेपी के अल्पकालिक नुकसान - Short-term radiation therapy side effect in Hindi

इस प्रकार के साइड इफ़ेक्ट को उपचार प्रक्रिया के बाद कुछ समय के लिए ही देखा जा सकता है, जैसे कि:

(और पढ़े – पेशाब में जलन दूर करने के घरेलू उपाय…)

रेडिएशन थैरेपी के दीर्घकालिक साइड इफ़ेक्ट – Long-term radiation therapy ke side effects in Hindi

रेडिएशन थैरेपी के दीर्घकालिक साइड इफ़ेक्ट - Long-term radiation therapy ke side effects in Hindi

रेडिएशन थैरेपी के दीर्घकालिक दुष्प्रभाव किए गए उपचार की स्थिति पर भी निर्भर करते हैं, इसमें निम्न शामिल हैं:

  • गर्दन की चिकित्सा के बाद, ऊतकों के झुलसने के परिणामस्वरूप जबड़ा कठोर हो सकता है।
  • त्वचा के घाव भरने में देरी और रक्त वाहिकाओं का रक्त पतला होने के कारण लाल या बैंगनी रंग दिखाई देना |
  • पेट विकिरण चिकित्सा के परिणामस्वरूप आंत्र क्षतिग्रस्त होने पर दस्त और रक्तस्राव लंबे समय तक हो सकता है।
  • हार्मोन संबंधी समस्याएं जैसे हाइपोपिट्यूटरीस्म (hypopituitarism) या हाइपोथायरायडिज्म (hypothyroidism), स्मृति हानि (memory loss) और बांझपन (infertility) हो सकती हैं।

उपरोक्त सभी उदाहरण किसी भी प्रकार की विकिरण चिकित्सा के साथ संबन्धित हो सकते हैं। दीर्घकालिक दुष्प्रभावों के होने की संभावना काफी कम होती है।

(और पढ़े – महिला बांझपन के कारण, लक्षण, निदान और इलाज…)

विकिरण चिकित्सा की तैयारी – Radiation Therapy Preparation in hindi

विकिरण चिकित्सा की तैयारी - Radiation Therapy Preparation in hindi

रेडिएशन थैरेपी की तैयारी के तहत् डॉक्टर उपचार के लिए उपयुक्त विकिरण की मात्रा तथा प्रभावित स्थान का निर्धारण किया जाता है। विकिरण चिकित्सा टीम या ऑन्कोलॉजिस्ट शरीर के उपचार क्षेत्र को निर्धारित करने के लिए कम्प्यूटरीकृत टोमोग्राफी (सीटी) स्कैन का सहारा ले सकते हैं। उपचार से पहले रेडिएशन ट्रीटमेंट प्लानिंग अधिकतम लाभ प्राप्त करने और संभावित जोखिमों को न्यूनतम रखने के आधार पर की जाती है। प्लानिंग के दौरान एक सटीक साइट (प्रभावित हिस्सा), विकिरण का कोण और विकिरण की सटीक मात्रा को निर्धारित करने पर जोर दिया जाता है।

प्लानिंग प्रक्रिया (planning process) के बाद, ऑन्कोलॉजिस्ट (radiation oncologist) यह तय करते हैं कि कैंसर के प्रकार और कैंसर के चरण, सामान्य स्वास्थ्य और उपचार के लक्ष्यों के आधार पर मरीज को किस प्रकार की विकिरण चिकित्सा प्रदान की जाये।

रेडिएशन थैरेपी की शुरुआत से पहले ऑन्कोलॉजिस्ट (radiation oncologist) द्वारा उपचार में उपयोग किए जाने वाले विकिरण बीम की सटीक मात्रा और फोकस को तय करने, कैंसर कोशिकाओं को पूरी तरह से नष्ट करने के लिए अधिकतम विकिरण उपयोग करने और आसपास के स्वस्थ ऊतकों को पहुँचने वाले नुकसान को कम करने के लिए सावधानीपूर्वक योजना तैयार करनी पड़ती है।

(और पढ़े – सीटी स्कैन क्या है कैसे होता है, कीमत, फायदे और नुकसान…)

रेडिएशन थैरेपी कैसे की जाती है प्रक्रिया – Radiation therapy Procedure in Hindi

एक्सटर्नल बीम रेडिएशन थैरेपी आमतौर पर अस्पताल या क्लिनिक में विशेष उपकरणों की मदद से सप्ताह में 5 दिनों के लिए कई हफ्तों तक, एक आउट पेशेंट के रूप में प्रदान की जाती है। दिए जाने वाले उपचार की कुल संख्या कैंसर के आकार और प्रकार पर निर्भर करती है। जबकि आंतरिक विकिरण चिकित्सा के लिए, रोगी को अक्सर कुछ दिनों के लिए अस्पताल में रहने की आवश्यकता होती है। अस्पताल में रहने के दौरान विकिरण का स्तर उच्चतम होता है, इसलिए मरीज़ों के पास आगंतुक को नहीं रुकने दिया जा सकता है।

एक्सटर्नल बीम रेडिएशन थैरेपी में एक रैखिक त्वरक (linear accelerator) नामक एक मशीन का उपयोग एक विशिष्ट ऊर्जा सीमा के अन्दर एक्स-रे विकिरण का उत्सर्जन करने के लिए किया जाता है। इसके अतिरिक्त रेडिएशन थैरेपी के लिए अन्य मशीनें भी उपलब्ध हैं जो इलेक्ट्रॉनों, प्रोटॉन, गामा किरणों या इनके संयोजन की ऊर्जा विकिरण का उपयोग करती हैं।

रेडिएशन थैरेपी (radiation therapy) के दौरान मरीज को एक टेबल पर लिटाया जाता है, तथा एक निश्चित स्थिति प्रदान की जाती है। जिस हिस्से का उपचार किया जाना है उस स्थान को छोड़कर शरीर के अन्य भाग को, विकिरण के प्रभाव से बचाने के लिए सुरक्षा कवच से ढक दिया जाता है। प्रत्येक बार रेडिएशन थैरेपी में आमतौर लगभग 10 से 30 मिनट का समय लगता है। तकनीशियन द्वारा एक कैमरे के माध्यम से उपचार प्रक्रिया पर निगरानी रखी जाती है। यह प्रक्रिया आमतौर पर दर्द रहित होती है।

(और पढ़े – गले का कैंसर कारण, लक्षण, जाँच, इलाज और बचाव…)

रेडिएशन थैरेपी के बाद – After Radiation Therapy In Hindi

रेडिएशन थैरेपी (radiation therapy) के बाद तकनीशियन उपचार के परिणामों और सामान्य स्वास्थ्य स्थिति की निगरानी करेगा, इसके लिए अनेक प्रकार के इमेजिंग परीक्षण की सहायता ली जा सकती है। यह परीक्षण यह जानने में मदद कर सकते हैं कि रेडिएशन थैरेपी की प्रक्रिया में कोई बदलाव करने की आवश्यकता है या नहीं। यदि रेडिएशन थैरेपी के बाद मरीज किसी भी तरह के दुष्प्रभावों का अनुभव करता है तो उसे तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। कैंसर सर्जरी और विकिरण चिकित्सा के बाद मरीज को उचित व्यायाम करने की सलाह दी जा सकती है।

रेडिएशन थैरेपी का उपयोग – Radiation Therapy Uses in hindi

रेडिएशन थैरेपी का उपयोग - Radiation Therapy Uses in hindi

डॉक्टर कैंसर उपचार के दौरान अलग-अलग समय पर और विभिन्न कारणों से रेडिएशन थैरेपी (radiation therapy) का सुझाव दे सकता है, जिसमें शामिल हैं:

  • कैंसर के लिए एकमात्र प्राथमिक उपचार के रूप में
  • सर्जरी से पहले, एक कैंसरग्रस्त ट्यूमर को सिकोड़ने के लिए
  • सर्जरी के बाद, किसी भी शेष बची कैंसर कोशिकाओं की वृद्धि को रोकने के लिए
  • अन्य उपचारों के साथ संयोजन के रूप में, जैसे- कैंसर कोशिकाओं को नष्ट करने के लिए कीमोथेरेपी के दौरान
  • कैंसर के कारण उत्पन्न होने वाले लक्षणों को कम करने के उद्देश्य से भी रेडिएशन थैरेपी का उपयोग किया जा सकता है, इत्यादि।

ब्रैकीथेरेपी (Brachytherapy) का उपयोग अक्सर सिर और गर्दन, स्तन कैंसर, गर्भाशय ग्रीवा (cervix), प्रोस्टेट कैंसर और आंख के कैंसर के इलाज के लिए किया जाता है।

(और पढ़े – योनी कैंसर के लक्षण कारण जांच इलाज और बचाव…)

रेडिएशन थैरेपी उपचार – radiation therapy treatment in Hindi

विकिरण चिकित्सा (radiation therapy) द्वारा कैंसर कोशिकाओं को तुरंत नष्ट नहीं किया जा सकता है। कैंसर कोशिकाओं को नष्ट करने के लिए सर्वप्रथम डीएनए को क्षतिग्रस्त करने का लक्ष्य रखा जाता है, इसके लिए कुछ दिनों या हफ्तों तक उपचार करना पड़ सकता है। इसके बाद रेडिएशन थैरेपी समाप्त होने के बाद कैंसर कोशिकाएं हफ्तों या महीनों तक लगातार मरती (नष्ट होती) रहती हैं। अधिकतर स्थितियों में रेडिएशन थैरेपी का उपयोग, कैंसर के अन्य उपचारों जैसे कि सर्जरी, कीमोथेरेपी (chemotherapy) और इम्यूनोथेरेपी (immunotherapy) के साथ उपयोग में लाई जाती है। विकिरण चिकित्सा के द्वारा कैंसर का उपचार अनेक कारकों पर निर्भर करता है, जिसमें शामिल हैं:

  • कैंसर का प्रकार
  • ट्यूमर का आकार
  • शरीर में ट्यूमर का स्थान
  • मरीज का सामान्य स्वास्थ्य और चिकित्सकीय इतिहास
  • आयु और अन्य चिकित्सा स्थितियां, इत्यादि।

(और पढ़े – कीमोथेरेपी क्या है फायदे और नुकसान…)

विकिरण चिकित्सा परिणाम – radiation therapy Results in Hindi

ट्यूमर को नष्ट करने के लिए की गई रेडिएशन थैरेपी के बाद परिणामों का निरीक्षण करने के लिए समय-समय पर स्कैन परीक्षण की आवश्यकता पड़ सकती है।

यह स्कैनिंग परीक्षण यह देखने के लिए डॉक्टर की मदद कर सकते हैं, कि कैंसर पर विकिरण चिकित्सा द्वारा इलाज किए जाने पर क्या प्रतिक्रिया हुई है।

कुछ स्थितियों में, कैंसर को तुरंत दूर किया जा सकता है।

जबकि अन्य मामलों में, कैंसर को पूर्ण रूप से ठीक होने में कुछ सप्ताह या महीने का समय लग सकता है।

रेडिएशन थैरेपी के फायदे – Radiation Therapy Benefits in Hindi

रेडिएशन थैरेपी के फायदे - Radiation Therapy Benefits in Hindi

यदि किसी व्यक्ति को रेडिएशन थैरेपी की सिफारिश की जाती है, तो यह अन्य उपचार प्रक्रियाओं की अपेक्षा अनेक संभावित लाभ प्रदान कर सकती है।

रेडिएशन थैरेपी के लाभ निम्न हैं, जैसे:

  • रेडिएशन थैरेपी से, सम्बंधित मरीजों के दैनिक कार्यों पर अन्य उपचार की अपेक्षा न्यूनतम प्रभाव पड़ता है,
  • अर्थात रेडिएशन थैरेपी के बाद मरीज सामान्य कार्यों को करने में सक्षम हो सकता है।
  • यह एक आउट पेशेंट प्रक्रिया है अर्थात मरीज को अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता नहीं है।
  • इस उपचार प्रक्रिया में बहुत कम समय लगभग 30 मिनट से भी कम समय लगता है।
  • रेडिएशन थैरेपी अनेक प्रकार के कैंसर (जैसे- प्रोस्टेट, सिर और गर्दन, मूत्राशय, फेफड़े, गर्भाशय ग्रीवा और त्वचा के कैंसर) के उपचार में, दवा उपचार का उपयोग किये बिना भी प्रभावी होती है।
  • रेडियोथेरेपी (radiotherapy) लक्षणों को नियंत्रित करने और दर्द को दूर करने में भी मदद कर सकती है।

(और पढ़े – फेफड़ों का कैंसर कारण, लक्षण, इलाज और रोकथाम…)

रेडिएशन थैरेपी के बाद क्या खाना चाहिए – Radiation therapy diet in Hindi

रेडिएशन थैरेपी के बाद क्या खाना चाहिए - Radiation therapy diet in Hindi

रेडिएशन थैरेपी के दौरान या रेडिएशन थैरेपी के बाद एक स्वास्थ्य और संतुलित आहार का सेवन करना जरुरी होता है। एक स्वास्थ्य आहार का सेवन उपचार प्रक्रिया को सफल बनाने में योगदान देता है। रेडिएशन थैरेपी के बाद मरीज को मुख्य रूप से प्रोटीन युक्त आहार की अधिक आवश्यकता होती है। अतः विकिरण चिकित्सा के बाद मरीज को निम्न आहार के सेवन पर ध्यान देना चाहिए, जैसे:  

इसके अलावा रेडिएशन थैरेपी के दौरान शराब के सेवन से बचने, मसालेदार भोजन का सेवन न करने और धुम्रपान न करने की सलाह दी जाती है।

(और पढ़े – संतुलित आहार के लिए जरूरी तत्व , जिसे अपनाकर आप रोंगों से बच पाएंगे…)

रेडिएशन थैरेपी की कीमत – Radiation Therapy Cost in Hindi

रेडिएशन थैरेपी (radiation therapy) काफी महंगी हो सकती है।

इसकी कीमत रेडिएशन थैरेपी में उपयोग की जाने वाली जटिल मशीनों पर निर्भर करती है।

इसके अतिरिक्त इसकी लागत कैंसर के प्रकार और चरण के आधार लगभग 1.5 लाख से 20 लाख तक हो सकती है।

इसी तरह की अन्य जानकरी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration