गमले में नींबू का पेड़ (पौधा) उगाने की पूरी जानकारी - How to Grow Lemon in Pot in Hindi - Healthunbox
अन्य

गमले में नींबू का पेड़ (पौधा) उगाने की पूरी जानकारी – How to Grow Lemon in Pot in Hindi

गमले में नींबू का पेड़ (पौधा) उगाने की पूरी जानकारी - How to Grow Lemon in Pot in Hindi

नींबू का पौधा आपके बगीचे की सुन्दरता बढ़ाने का एक आसान तरीका है। इसे गमले में उगाया जा सकता है और इसके फलों को खाया जा सकता है। आप इसके अनूठे स्वास्थ्य लाभों को जरूर जानते होगें, इस लेख में आप जानेगें गमले में लगे नींबू के पौधों की देखभाल कैसे करें, जो आपको कई वर्षों तक नींबू के फल देता जाएगा। यहां बताया गया है कि आप अपने घर में नींबू के पेड़ को कैसे उगा सकते हैं।

दोस्तों, आजकल कुछ ऐसे फलदार पौधे आ गए हैं। जो बहुत जल्दी फल दे देते है। जरूरी नहीं कि आप उन्हें जमीन पर लगायें। आप उन्हें गमले में लगाकर भी बड़ा कर सकते हैं। उन फलों में से एक नींबू है। नींबू सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाने वाला फल है जिसका इस्तेमाल हम सभी खाने-पीने के लिए करते हैं। इसे गमले में आसानी से उगाया जा सकता है। नींबू साल भर फल देता है और इसके फल भी बहुत उपयोगी होते हैं। इस लेख में हम आपको गमले में नींबू उगाने के बारे में जानकारी देंगे।

नींबू के पौधे को क्या खास बनाता है – What makes lemon plant special in Hindi

  • नींबू का पौधा सबसे अच्छा आकर्षक फलने वाले पौधे में से एक है।
  • कम रखरखाव वाला पौधा है।
  • आउटडोर और बहुत सारे स्वास्थ्य लाभ आदि के साथ, गमले के लिए एकदम सही पौधा है।
  • लंबे समय तक स्व-भंडारण प्रदान करने के बाद फल कई महीनों तक पेड़ पर अच्छी स्थिति में रहता है।
  • खट्टे फल विटामिन सी से भरपूर होते हैं और सर्दी-जुकाम और फ्लू को ठीक करने के लिए बहुत अच्छे होते हैं।

निम्बू के बारे में जानकारी – Information about lemon in Hindi

निम्बू के बारे में जानकारी - Information about lemon in Hindi

गमले में लगाने के 2-3 साल के बाद, नींबू का पौधा खिल जाएगा और फल देना शुरू करेगा। नींबू(lemon), सिट्रस लिमोन (Citrus Limon), फूल वाले पौधे रुतैसी (Rutaceae) परिवार में छोटे सदाबहार पेड़ की एक प्रजाति है, इसके फल आकार में गोल होते हैं।

भारत में, नींबू की खेती के तहत क्षेत्र के संदर्भ में, केला और आम के बाद साइट्रस (नींबू) तीसरा सबसे बड़ा फल उद्योग है। नींबू को बड़ी वाली शाखाओं को काटकर कम से कम छंटाई करने की आवश्यकता होती है, जिसमें झाड़ी की वृद्धि को प्रोत्साहित करने के लिए सबसे ऊंची शाखा को काट दिया जाता है। गर्मियों के दौरान, नींबू का पेड़ अधिक बढ़ता है। नींबू व्यापक स्वास्थ्य लाभ के साथ सबसे अच्छे फलों में से एक है।

इसमें बहुत से आवश्यक विटामिन और खनिज तत्व पाए जाते हैं और दुनिया भर में इसका व्यापक उपयोग हैं। नींबू बहुत कम कैलोरी वाला लेकिन विटामिन, आवश्यक तेलों और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होता है।

अधिकतम पहुंच योग्य ऊँचाई 2-4 मीटर
फूल का रंग सफेद
ब्लूम का समय फरवरी-मार्च और जून-जुलाई
कठिनाई स्तर आसान

नींबू का रोपण और देखभाल – Lemon planting and care in Hindi

नींबू का रोपण और देखभाल - Lemon planting and care in Hindi

नींबू के लिए गमले (पॉट) का चयन

गमले में नींबू उगाने के लिए, 16 इंच या उससे अधिकका मिट्टी / सीमेंट का गमला लें, । 16 इंच से कम के बर्तन को न लें, आप जितना बड़ा गमाल लेगें यह नींबू के लिए उतना ही अधिक फायदेमंद होंगा। पॉट मजबूत होना चाहिए और साथ ही साथ जहाँ भी गमले को रखें वह जगह समतल होनी चाहिए।

नींबू की प्रजाति

कागजी नींबू सबसे अधिक लोकप्रिय है, लेकिन एक गमले में नींबू उगाने के लिए, आपको हमेशा ग्राफ्टेड यानि ग्राफ्टिंग विधि से तैयार किया गया नींबू के पौधे का उपयोग करना चाहिए। क्योंकि ग्राफ्टिंग विधि से तैयार किया गया नींबू का पौधा 1 साल में फल देने लगता है और पहले साल से ही आपको खट्टा नींबू खाने को मिलने लगेगे।

नींबू की देसी प्रजाति 3 से 4 साल बाद फल देने में सक्षम हो पाती है। इसलिए उस प्रजाति को जमीन पर लगाना सही होता है। आप गमले के लिए बीज रहित नींबू का पेड़ भी लगा सकते हैं।

  • देशी नींबू (कागजी नीबू) – 5 साल बाद फल उत्पादन
  • ग्राफ्ट नींबू -1 से 2 साल में फल उत्पादन
  • बीज रहित नींबू – 2 वर्षों में फल उत्पादन

नींबू की कई प्रजातियां (species) हैं, उनमें से कई किस्मों (Varieties) जैसे चाइना नींबू, पाकिस्तानी नींबू, कुम्भकाठ नींबू बहुत प्रसिद्ध हैं।

आप गमले के लिए छोटे आकार का चाइना नींबू भी लगा सकते हैं, यह देखने में बहुत सुंदर होता है।

नींबू के पेड़ के लिए सूरज की रोशनी

नींबू के पौधें में फूलों और फलों के विकास के लिए प्रतिदिन 6 घंटे से अधिक की सुबह की धूप आदर्श होती है।

नींबू लगाने का सही मौसम

जुलाई से सितंबर तक उत्तर भारत में नींबू लगाने का सबसे अच्छा मौसम है। इसके अलावा आप फरवरी से अप्रैल तक भी नींबू लगा सकते हैं। नींबू लगाते समय गर्म मौसम का विशेष ध्यान रखें, अधिक गर्म मौसम होने पर नींबू न लगाएं।

नींबू के लिए मिट्टी

निम्बू के पौधे को उगाने के लिए मिट्टी को अच्छी तरह से सूखा, उपजाऊ और जैविक सामग्री से भरपूर होना चाहिए। नीबू को बलुई दोमट मिट्टी काफी पसंद है। नींबू के लिये इस्तेमाल की जाने वाली मिट्टी में पानी नहीं रुकना चाहिए। पथरीली जगह वाली मिट्टी में भी नींबू आसानी से उगाया जा सकता है। नींबू को चिकनी मिट्टी में भी उगाया जा सकता है। लेकिन ज्यादा पानी नीबू के लिये नुकसानदेय होता है।

गमले में नीबू लगाने के लिये मिट्टी तैयार करना

अगर आप गमले में नींबू उगाना चाहते हैं तो आपको इसके लिए एक अच्छी मिट्टी तैयार करनी होगी। सबसे पहले, पानी को निकालने के लिए अपने गमले में नीचे की तरफ एक छेद करें।

  • साधारण मिट्टी – 60%
  • गोबर / कम्पोस्ट खाद -20%
  • रेत या बालू मिट्टी – 15%
  • नीम खली खाद 5%

रोपण से एक सप्ताह पहले, उपरोक्त सभी मिट्टी और खाद को अच्छी तरह से मिलाएं और इसे अपने गमले में भरें। और इस गमले को खुले मौसम में ही रखें। खुले मौसम में रखने से धूप और हवा मिट्टी में ठीक से प्रवेश कर सकेंगी। एक हफ्ते के बाद आप इस गमले में नींबू लगा सकते हैं।

नींबू के पेड़ के लिए पानी

नमी की जांच के लिए अपनी उंगली / सादी छोटी छड़ी को मिट्टी में दबा दें।

जब बर्तन में शीर्ष मिट्टी (1-2 इंच) स्पर्श करने पर सूखी महसूस हो तो 4 कप (लगभग x 200 मिली) पानी इसमें डालें।

पौधे पर पानी न डालें।

पानी देने के एक नियम के रूप में, गर्मियों में पौधों को अच्छी तरह से पानी दें और सर्दियों और बरसात के मौसम में पानी कम करें।

निम्बू के पौधे में पानी सुबह या शाम को दिया जाना चाहिए।

नींबू के पौधे के लिए उर्वरक का इस्तेमाल

उर्वरक को डालने से पहले पौधे की जड़ों को परेशान किए बिना ऊपर की मिट्टी को ढीला करें, इससे पोषक तत्व और नमी आसानी से निकल सकती है।

मुख्य बढ़ते मौसम (दिसंबर-फरवरी) के दौरान महीने में एक बार निम्बू के पौधे में जैविक उर्वरक ज़रूर डालें।

उर्वरक डालने के तुरंत बाद पानी डाला करें।

नींबू के पौधे की री-पोटिंग

जब एक पौधा जिस पॉट में उगता है, तो कुछ दिनों के बाद उसे दूसरे गमले में नयी मिट्टी और कुछ उर्वरक के साथ फिर से इसे री-पॉट किया जाता है।

देर शाम को री-पोटिंग करें और पौधे को 2 से 3 दिनों के लिए छायादार क्षेत्र में रखें और फिर पौधे को अपनी उपयुक्त जलवायु दशा में स्थानांतरित करें।

नींबू के पौध का प्रोटेक्शन

मृत, संक्रमित या क्षतिग्रस्त पौधों के हिस्सों को हटा दें और उन्हें पौधों से दूर कर दें।

किसी भी कीट के हमले या बीमारी के लिए, आप प्राथमिक उपचार के लिए नीम का तेल, नीलगिरी तेल या साइट्रस तेल स्प्रे का उपयोग कर सकते हैं।

नींबू के पेड़ के साथ क्या न करें

नींबू के पौधे पर पानी न डालें।

फूलों और पत्तियों पर पानी डालने से बचें, इससे फंगल संक्रमण हो सकता है।

नींबू के पेड़ की देखभाल – Lemon tree care in Hindi

नींबू के पेड़ की देखभाल - Lemon tree care in Hindi

पौधे खरीदने या उगने के बाद 1-2 सप्ताह के लिए प्रारंभिक देखभाल

नमी की जांच के लिए अपनी उंगली / सादे छोटी छड़ी को मिट्टी में दबा दें।

जब बर्तन में शीर्ष मिट्टी (1-2 इंच) स्पर्श करने के लिए सूखी महसूस हो तो 4 कप (लगभग x 200 मिली) पानी डालें।

पौधे को अप्रत्यक्ष उज्ज्वल प्रकाश (indirect bright Light) में रखें।

लाने के तुरंत बाद इसे री-पॉट न करें। इसे दूसरे गमले में ट्रान्सफर करने के लिए 2 सप्ताह का समय दें।

पौधा लगाने के बाद क्या करें ( पहले माह )

 नींबू लगाने के 20 दिनों तक आपको इसके गमले में कोई खाद नहीं देनी है। आप दूसरे तीसरे दिन थोड़ा पानी दे सकते हैं। गमले में पानी भरा नहीं रहना चाहिए। नींबू का पौधा लगाने के 40 दिन बाद आप अपने पौधे में हल्की गोबर की खाद डाल सकते हैं।

रोपण यानी पौधा लगाने के के 50 दिन बाद

अब अपने गमले की मिट्टी में हल्की गुड़ाई करें और इसे एक दो दिनों के लिए धूप लगने दें (ध्यान रखें कि पौधा सूख न पाए )। उसके बाद दीमक रोधी दवा (नीमखली) इसमें मिलाएं। इसमें थोड़ी मात्रा में लगभग 30 ग्राम कम्पोस्ट खाद भी डालें। आप इस प्रक्रिया को हर तीन महीने में एक बार दोहरा सकते हैं।

 फूल आने पर देखभाल कैसे करें

 नींबू लगाने के 1 से डेढ़ साल बाद आपके पौधे पर फूल आने शुरू हो जाएंगे। नींबू के पेड़ में फूल आते समय आपको कुछ सावधानियां बरतनी होंगी। उनमें से कुछ हम आपको बता रहे हैं।

फूल आने पर नींबू में पानी की मात्रा कम करनी पड़ती है। कोशिश करें कि पानी न दें या बहुत कम पानी दें। हमेशा शाम को पानी देने की कोशिश करें।

नींबू के पौधे में हर हफ्ते कुछ गोबर की खाद या वर्मीकम्पोस्ट डालें।

किसी भी बीमारी (Disease) के मामले में, आपको किसी भी साधारण जैविक कीटनाशक का छिड़काव करना चाहिए।

लोगों को गमले में लगे नींबू पर फूल (Flowers) और फल (Fruit) लाने की समस्या सबसे अधिक होती है। अगर आपके गमले में लगे नींबू पर फल नहीं आ रहे हैं, तो इसका कारण पौधे में खाद की कमी और पानी की अधिकता हो सकती है। इसलिए इस बात का ध्यान रखें कि आप समय-समय पर अपने नींबू के पॉट में फर्टिलाइज़र डालते रहें, साथ ही गुड़ाई भी करें। और फूल आने पर पानी की मात्रा कम कर दें।

पौधे को स्वस्थ रखने के लिए मुख्य आवश्यकताएं – Main requirements to keep the plant healthy in Hindi

पौधे को स्वस्थ रखने के लिए मुख्य आवश्यकताएं - Main requirements to keep the plant healthy in Hindi

सूरज की रोशनी सुबह की धूप के साथ प्राकृतिक उज्ज्वल प्रकाश (6 घंटे से अधिक)
पानी जब बर्तन में शीर्ष मिट्टी (1-2 इंच) स्पर्श करने के लिए सूखी महसूस हो तो 4 कप (लगभग x 200 मिली) पानी डालें
मिट्टी अच्छी तरह से सूखी, उपजाऊ (fertile) और जैविक सामग्री से समृद्ध
तापमान 13-37 डिग्री सेल्सियस
उर्वरक मुख्य बढ़ते मौसम (दिसंबर-फरवरी) के दौरान महीने में एक बार जैविक उर्वरक दें
फसल के मौसम फूल खिलने के 2-3 महीने बाद फल मिलने लगते हैं

नींबू स्पेशल फीचर – Lemon Special Feature in Hindi

नींबू विटामिन सी, आवश्यक पोषक तत्वों, कई फाइटोकेमिकल का एक समृद्ध स्रोत है।

नींबू का उपयोग – Use of lemon in Hindi

सजावटी उपयोग:

  • भूनिर्माण में स्क्रीनिंग और बचाव उद्देश्य के रूप में उपयोग किया जाता है

औषधीय उपयोग:

  • आयुर्वेदिक चिकित्सा में ऐसी मान्यता है कि रोज सुबह नींबू के रस के साथ एक कप गर्म पानी लीवर को शुद्ध और मजबूत करता है।
  • नोट: निम्नलिखित जानकारी सामान्य दिशानिर्देश हैं, दिशानिर्देशों के लिए अपने स्वास्थ्य सेवा प्रदाता से इसके बारे में पूछना सुनिश्चित करें।

घरेलू उपयोग:

  • इसे रस के लिए व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है।
  • पूरे नींबू का उपयोग मुरब्बा, नींबू दही और नींबू लिकर बनाने के लिए किया जाता है।
  • इसकी लुगदी और छिलका का भी उपयोग किया जाता है, मुख्य रूप से खाना पकाने में।
  • नींबू का रस प्रकृति में अम्लीय है और यह शैक्षिक विज्ञान प्रयोगों में उपयोग के लिए एक सस्ता, आसानी से उपलब्ध एसिड बनाता है।
  • नींबू का रस, छिलका, और ज़ेस्ट विभिन्न प्रकार के भोजन और पेय में उपयोग किया जाता है।
  • इसका उपयोग नींबू पानी, शीतल पेय, और कॉकटेल बनाने के लिए किया जाता है।

नींबू के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले सवाल – Frequently Asked Questions about Lemon in Hindi

गमले में नींबू का पेड़ कैसे लगाएं?

गमले में नींबू का पेड़ उगाने के लिए निम्नलिखित बातों का ध्यान रखें।

  1. जल निकासी छेद के साथ 7-10 इंच आकार तक का गमला लें।
  2. पोटिंग मिश्रण- पोटिंग मिश्रण अच्छी तरह से सूखा, उपजाऊ और पोषक तत्वों से भरपूर होना चाहिए।
  3. मिट्टी की एक परत को गमले में डालें। केंद्र में पौधे को रखें और शेष मिट्टी डालकर पौधे को धीरे से पानी दें।पोटिंग के 2-3 दिनों के बाद कम से कम 6 घंटे की प्राकृतिक सीधी तेज धूप में रखें।

यार्ड में नींबू का पेड़ कहाँ लगाया जाए?

यार्ड में नींबू का पेड़ उगाने के लिए निम्नलिखित बातों का ध्यान रखें।

  1. सूरज की रोशनी- कम से कम 6 घंटे प्राकृतिक सीधी तेज धूप की आवश्यकता होती है।
  2. मिट्टी – मिट्टी या गमले के मिश्रण को अच्छी तरह से सूखा, उपजाऊ और पोषक तत्वों से भरपूर होना चाहिए।
  3. पानी- पौधे को पानी दें जब 1-2 इंच सतह की मिट्टी छूने पर सूखी लगे

घर पर नींबू के पौधे कैसे उगाएं?

घर पर नींबू का पेड़ उगाने के लिए निम्नलिखित बातों पर विचार करें।

  1. सूरज की रोशनी- कम से कम 6 घंटे प्राकृतिक सीधी तेज धूप की आवश्यकता होती है।
  2. मिट्टी – मिट्टी या गमले के मिश्रण को अच्छी तरह से सूखा, उपजाऊ और पोषक तत्वों से भरपूर होना चाहिए।
  3. पानी- पौधे को पानी दें जब 1-2 इंच सतह की मिट्टी छूने पर सूखी लगे

वास्तु के अनुसार नींबू का पेड़ कहां लगाएं?

घर के बाहर नींबू के पेड़ लगाने चाहिए।

क्या नींबू के पौधों में कांटे होते हैं?

हां, लेमन ट्री में तेज कांटे होते हैं।

क्या नींबू के पौधे को धूप की जरूरत होती है?

नींबू के पौधे को कम से कम 6 घंटे प्राकृतिक प्रत्यक्ष चमकदार धूप (natural direct bright sunlight) की आवश्यकता होती है।

मेरा नींबू का पौधा क्यों सूख रहा है?

नींबू के पौधे के सूखने के मुख्य कारण निम्न हैं

  1. निम्बू के पौधे को कम या अधिक पानी देना।
  2. उचित सूरज की रोशनी न मिलना।
  3. कीट और बीमारी का भारी संक्रमण।

क्या नींबू का पौधा घर के लिए अच्छा है?

नींबू का पेड़ स्वास्थ्य के लिए अच्छा माना जाता है, यह विटामिन सी का समृद्ध स्रोत है इसलिए यह घर के लिए अच्छा है।

क्या नींबू पानी पौधों को मार देगा?

नींबू पानी का उपयोग पीएच को कम करने के लिए किया जाता है लेकिन अति प्रयोग पौधों को मार देगा।

नींबू का पौधा क्या है?

नींबू फूलों के पौधे के परिवार रटैसी में छोटे सदाबहार पेड़ की एक प्रजाति है।

क्या नींबू के पौधे सर्दी से बच सकते हैं?

जी हां, नींबू के पौधे सर्दियों में जीवित रहते हैं, बहुत अधिक ठंड केवल पौधे के फूल को प्रभावित करती है।

मेरा नींबू का पौधा पत्तियां क्यों गिरा रहा है?

पत्तियों को छोड़ने के कारण

  1. ठंड से होने वाली क्षति
  2. अनुचित पानी।
  3. पोषक तत्वों की कमी

हम आशा करते हैं कि आपको हमारे द्वारा दी गई गमले में नींबू का पेड़ (पौधा) उगाने की जानकारी पसंद आई होगी और अगर आपको यह पसंद आई हो, तो इसे अधिक से अधिक शेयर करें।

और पढ़ें

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration