पुरुषों में रजोनिवृत्ति (मेल मेनोपॉज) के लक्षण, कारण, जांच, इलाज और बचाव – Male Menopause Causes Symptoms And Treatment In Hindi

पुरुषों में रजोनिवृत्ति (मेल मेनोपॉज) के लक्षण, कारण, जांच, इलाज और बचाव - Male Menopause Causes Symptoms And Treatment In Hindi
Written by Sourabh

Male Menopause in Hindi पुरुषों में रजोनिवृत्ति या मेल मेनोपॉज (male menopause) को सामान्य भाषा में एंड्रोपॉज (andropause) भी कहा जाता है। यह स्थिति तब उत्पन्न होती है जब उम्र से संबंधित परिवर्तनों की वजह से पुरुषों में हार्मोन के स्तर में कमी आती है। पुरुषों में मेनोपॉज या पुरुष रजोनिवृत्ति में उन पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन उत्पादन में गिरावट शामिल है जो 50 या उससे अधिक उम्र के हैं। मेल मेनोपॉज के लक्षणों से उत्पन्न होने वाली स्थिति को टेस्टोस्टेरोन (testosterone) की कमी, एंड्रोजन (androgen) की कमी और देर से शुरू होने वाले हाइपोगोनैडिज़्म (hypogonadism) के रूप में भी जाना जाता है। हाइपोगोनैडिज़्म (hypogonadism) की स्थिति तब उत्पन्न होती है जब स्वाभाविक रूप से यौन कोशिकाओं का निर्माण करने वाले गोनाड या अंग, उम्र ढलने के साथ काम करना कम कर देते है। इस स्थिति को डॉक्टर ADAM (androgen decline in the aging male) कहते है।

पुरुषों में रजोनिवृत्ति जिसे मेल मेनोपॉज कहा जाता है, की स्थिति उन पुरुषों में उत्पन्न होती है जिनकी उम्र 50 या उससे अधिक हो इस स्थिति में पुरुषों के टेस्टोस्टेरोन के उत्पादन में गिरावट आती है। यही समस्या और लक्षण हाइपोगोनाडिज्म में भी देखने को मिलते है इसलिए डॉक्टर हाइपोगोनाडिज्म को भी पुरुषों में होने वाले मेनोपॉज का कारण मानते है। क्योकि दोनों स्थितियों में कम टेस्टोस्टेरोन का स्तर और समान लक्षण शामिल होते हैं।

आज इस लेख में हम जानेंगे की पुरुषों में रजोनिवृत्ति (मेल मेनोपॉज) क्या होती है और इसके क्या लक्षण, कारण, जांच, इलाज और बचाव हो सकते है।

  1. पुरुषों में रजोनिवृत्ति क्या होती है – What is Male Menopause in Hindi
  2. पुरुषों में रजोनिवृत्ति के लक्षण – Male Menopause Symptoms In Hindi
  3. पुरुषों में रजोनिवृत्ति के कारण – Male Menopause Causes in hindi
  4. मेल मेनोपॉज के जोखिम कारक – Male Menopause risk factors in hindi
  5. पुरुषों में रजोनिवृत्ति की जांच – Male Menopause diagnosis in hindi
  6. पुरुषों में होने वाली रजोनिवृत्ति का इलाज – Male Menopause treatment in Hindi
  7. पुरुषों में रजोनिवृत्ति की समस्या से बचाव – Male Menopause prevention in hindi

पुरुषों में रजोनिवृत्ति क्या होती है – What is Male Menopause in Hindi

पुरुषों में रजोनिवृत्ति क्या होती है - What is Male Menopause in Hindi

पुरुषों में उत्पन्न होने वाली रजोनिवृत्ति की स्थिति को एंड्रोपॉज (andropause) भी कहा जाता है। इस स्थिति में पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन हॉर्मोन बनना कम हो जाते है जिससे पुरुषों में मेनोपॉज या रजोनिवृत्ति की समस्या उत्पन्न होती है। पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन एक हार्मोन होता है जो पुरुषों के टेस्टिस (testis) में निर्मित होता है। टेस्टोस्टेरोन पुरुषों में सेक्स की इच्छा को बढ़ाता है और यौवन के समय जो बदलाव होते है उसे भी बढ़ाता है, साथ ही पुरुषों की मानसिक और शारीरिक ऊर्जा को बढ़ाने में भी मदद करता है, उनकी मांसपेशियों को बनाए रखता है, और पुरुषों के शरीर में होने वाले अन्य प्रमुख विकासों को भी नियंत्रित करता है।

पुरुषों में रजोनिवृत्ति यानि मेल मेनोपॉज, महिलाओं में होने वाली रजोनिवृत्ति की स्थिति से कई मायनों में भिन्न होती है। इनकी भिन्नता में सबसे मुख्य बात यह है की महिलाओं की तरह सभी पुरुष रजोनिवृत्ति या मेनोपॉज की समस्या का अनुभव नहीं करते हैं और दूसरी बात यह है की पुरुषों के प्रजनन अंग पूर्ण रूप से काम करना बंद नहीं करते है जब की महिलाओं में यह पूरी तरह से बंद हो जाते है। हालांकि, पुरुषों में हार्मोन का स्तर कम हो जाने से पुरुषों में कई तरह की यौन जटिलताएं उत्पन्न हो जाती हैं।

(और पढ़े – पुरुषों के गुप्त रोग, सेक्स समस्याओं – कारण, प्रकार, जांच, उपचार और रोकथाम…)

पुरुषों में रजोनिवृत्ति के लक्षण – Male Menopause Symptoms In Hindi

पुरुषों में रजोनिवृत्ति के लक्षण - Male Menopause Symptoms In Hindi

पुरुषों में रजोनिवृत्ति या मेनोपॉज के समय उत्पन्न होने वाले लक्षण पुरुषों में शारीरिक, यौन और मनोवैज्ञानिक समस्याओं का कारण बन सकते है। जैसे जैसे पुरुषों की उम्र बढ़ती है वैसे वैसे रजोनिवृत्ति से उत्पन्न होने वाले लक्षण और बिगड़ते जाते हैं।

पुरुषों में रजोनिवृत्ति या मेनोपॉज से उत्पन्न होने वाले लक्षणों में शामिल हैं-

  • कम ऊर्जा का अनुभव होना
  • अवसाद या उदासी महसूस होना
  • प्रेरणा (motivation) में कमी आना
  • आत्मविश्वास की कमी
  • ध्यान लगाने में मुश्किल होना
  • अनिद्रा या सोने में कठिनाई होना
  • शरीर में वसा की वृद्धि होना
  • मांसपेशियों में कमजोरी और शारीरिक कमजोरी की भावनाएं आना
  • स्त्री रोग (gynecomastia) या स्तनों का विकास होना
  • हड्डियों के घनत्व में कमी आना
  • कामेच्छा में कमी आना
  • बांझपन उत्पन्न होना

इसके आलावा पुरुषों को कभी कभी स्तनों में सूजन, अंडकोष के आकार में कमी, शरीर के बालों का झड़ना या हॉट फ़्लैशस (hot flashes) का अनुभव भी होता हैं। पुरुषों में रजोनिवृत्ति की स्थिति की वजह से उत्पन्न होने वाले टेस्टोस्टेरोन के निम्न स्तर को ऑस्टियोपोरोसिस (osteoporosis) से भी जोड़ा गया है। यह एक ऐसी स्थिति है जहां आपकी हड्डियां कमजोर हो जाती हैं परन्तु ये एक दुर्लभ लक्षण हैं। यह सभी लक्षण आमतौर पर पुरुषों को भी उसी उम्र में प्रभावित करते हैं जिस उम्र में महिलाएं रजोनिवृत्ति की स्थिति में प्रवेश करती है।

(और पढ़े – पुरुष बांझपन के कारण, लक्षण, इलाज और बचाव…)

पुरुषों में रजोनिवृत्ति के कारण – Male Menopause Causes in hindi

पुरुषों में रजोनिवृत्ति के कारण - Male Menopause Causes in hindi

पुरुषों में युवावस्था की स्थिति आने से पहले, टेस्टोस्टेरोन का स्तर कम होता है और जब वह यौन परिपक्व (sexually mature) हो जाते है तब टेस्टोस्टेरोन का स्तर बढ़ जाता हैं। टेस्टोस्टेरोन हार्मोन की वजह से पुरुषों में यौवन आने के बाद कुछ विशिष्ट परिवर्तन होते है, जैसे-

  • मांसपेशियों का विकास होता है
  • शरीर के बालों का विकास होता है
  • आवाज़ का कम हो जाना
  • यौन क्रिया में परिवर्तन होना

उसके बाद जैसे-जैसे पुरुषों की उम्र बढ़ती है, उनके टेस्टोस्टेरोन का स्तर आमतौर पर कम होने लगता है। एक शोध के अनुसार पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन का स्तर 30 वर्ष की उम्र के बाद प्रति वर्ष औसतन 1 प्रतिशत घटता जाता है। कुछ स्वास्थ्य स्थितियां भी पुरुषों के टेस्टोस्टेरोन के स्तर में पहले से ज्यादा गिरावट होने का कारण बन सकती हैं।

जिन पुरुषों की उम्र ज्यादा होती है उनमे कुछ स्वास्थ्य स्थितियां उत्पन्न हो जाती है जिसकी वजह से टेस्टोस्टेरोन के स्तर में कमी आती है, वह स्थितियां है-

जिन पुरुषों को पहले से यह सभी समस्याएं रहती है उनमे टेस्टोस्टेरोन के स्तर में कमी की समस्या जल्दी उत्पन्न होती है। परन्तु टेस्टोस्टेरोन के स्तर में कमी की वजह सिर्फ इन बीमारियों को नहीं माना जा सकता है इनके पीछे कुछ जोखिम कारक भी होते है जो यह स्थिति उत्पन्न करते है।

(और पढ़े – मोटापा सेक्स लाइफ को कैसे प्रभावित करता है…)

मेल मेनोपॉज के जोखिम कारक – Male Menopause risk factors in hindi

मेल मेनोपॉज के जोखिम कारक - Male Menopause risk factors in hindi

पुरुषों में रजोनिवृत्ति की समस्या के पीछे कई जोखिम कारक होते है जो टेस्टोस्टेरोन के स्तर में कमी की परेशानी को उत्पन्न करते है, जैसे-

इन सभी जोखिम कारकों की वजह से पुरुषों के टेस्टोस्टेरोन के स्तर में कमी आती है और उन्हें रजोनिवृत्ति का अनुभव होता है।

(और पढ़े – पुरुषों में नामर्दी या नपुंसकता के कारण…)

पुरुषों में रजोनिवृत्ति की जांच – Male Menopause diagnosis in hindi

पुरुषों में रजोनिवृत्ति की जांच - Male Menopause diagnosis in hindi

पुरुषों में रजोनिवृत्ति की स्थिति उत्पन्न हुई है या नहीं इसकी जांच करने के लिए डॉक्टर आपके टेस्टोस्टेरोन के स्तर की जांच करेंगे जिसके लिए डॉक्टर आपको ब्लड टेस्ट कराने की सलाह दे सकते है।

वैसे तो कई पुरुष अपने डॉक्टरों से यौन विषयों पर चर्चा करने में बहुत शरमाते है या डरते है और जब तक रजोनिवृत्ति या मेनोपॉज की समस्या पुरुषों के लिए कोई गंभीर समस्या नहीं  उत्पन्न कर देती या उनके जीवन पर इसका बहुत ज्यादा प्रभाव नहीं पड़ता है तब तक बहुत से पुरुष बिना उपचार के ही रजोनिवृत्ति के लक्षणों का निवारण करते रहते है, जिसके कई बार गंभीर परिणाम भुगतने पड़ जाते है।

इसलिए अपने डॉक्टर से सलाह लिए बिना या कोई उचित परीक्षण कराये बिना अपनी रजोनिवृत्ति की समस्या का खुद से कोई इलाज ना करें। बिना हिचकिचाएं अपने डॉक्टर से अपनी मेनोपॉज की समस्या के बारे में बात करें और डॉक्टर द्वारा बताये गए इलाज से ही रजोनिवृत्ति की समस्या का निवारण करें।

(और पढ़े – इरेक्टाइल डिसफंक्शन (नपुंसकता या स्तंभन दोष) का आयु से संबंध…)

पुरुषों में होने वाली रजोनिवृत्ति का इलाज – Male Menopause treatment in Hindi

पुरुषों में होने वाली रजोनिवृत्ति का इलाज - Male Menopause treatment in Hindi

पुरुषों में होने वाली रजोनिवृत्ति ( male menopause) की स्थिति की कोई स्पष्ट परिभाषा नहीं है, इसलिए जो पुरुष इन शारीरिक परिवर्तनों का अनुभव करते हैं, वे अपने शरीर में हो रहे बदलाव और अन्य लक्षणों के अनुसार ही उपचार प्राप्त करते है। यदि कोई व्यक्ति मोटापे से ग्रस्त है तो डॉक्टर उसे व्यायाम के साथ साथ संतुलित आहार लेने को कहेगा। और यदि कोई व्यक्ति मधुमेह और हृदय रोग से ग्रस्त है तो उस व्यक्ति को अपनी ब्लड शुगर का परीक्षण करवाना चाहिए और हृदय रोग के लिए रक्त परीक्षण और स्कैन करवाना चहिये और परिणाम के अनुसार ही इलाज लेना चाहिए।

यदि कोई व्यक्ति अवसाद या चिंता ग्रस्त है तो डॉक्टर उसके इलाज के लिए एंटीडिप्रेसेंट्स (antidepressants), मनोचिकित्सा (psychotherapy) या दोनों की सलाह दे सकते है।

कई डॉक्टर मेल मेनोपॉज के इलाज के लिए टेस्टोस्टेरोन थेरेपी की सलाह भी देते है लेकिन इस उपचार की प्रभावशीलता स्पष्ट नहीं है, क्योकि टेस्टोस्टेरोन थेरेपी मूत्र पथ और प्रोस्टेट कैंसर (prostate cancer) में होने वाली रुकावट के जोखिम को बढ़ा देती है। टेस्टोस्टेरोन थेरेपी इस्केमिक हृदय रोग (ischemic heart disease), मिर्गी (epilepsy), और स्लीप एपनिया (sleep apnea) की समस्या के जोखिम को और भी बढ़ा सकती है।

इसलिए हमेशा उम्र बढ़ने और उम्र से संबंधित बीमारी के लक्षणों के प्रबंधन के बारे में अपने  डॉक्टर से पहले बात करें, सलाह लें उसके बाद ही कोई इलाज शुरू करें क्योकि पुरुषों में मेनोपॉज आना कोई गंभीर समस्या नहीं है और इसके सही इलाज से इसका निवारण किया जा सकता है।

(और पढ़े – रक्त ग्लूकोज (ब्लड शुगर) परीक्षण क्या है, तैयारी, प्रक्रिया, परीणाम और कीमत…)

पुरुषों में रजोनिवृत्ति की समस्या से बचाव – Male Menopause prevention in hindi

पुरुषों में रजोनिवृत्ति की समस्या से बचाव - Male Menopause prevention in hindi

पुरुषों में होने वाली रजोनिवृत्ति की समस्या के लक्षणों का सबसे आम उपचार है स्वस्थ जीवनशैली क्योकि अगर आपकी जीवनशैली ठीक रहेगी तो उम्र बढ़ने के बाद भी आपको कोई स्वास्थ्य समस्या उत्पन्न नहीं होगी।

स्वस्थ जीवनशैली के लिए आपका डॉक्टर आपको कुछ सलाह दे सकता है,जैसे-

ये आदतें अपनी जीवनशैली में अपनाकर सभी पुरुष इससे लाभान्वित हो सकते हैं। जो पुरुष, रजोनिवृत्ति के लक्षणों का अनुभव कर रहे हैं, वह इन आदतों को अपनाने के बाद अपने स्वास्थ्य में एक बहुत बड़ा परिवर्तन महसूस करेंगे।

मेल मेनोपॉज में हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी (hormone replacement therapy) एक अन्य उपचार विकल्प हो सकती है परन्तु यह बहुत विवादास्पद प्रक्रिया है। इसमें मौजूद प्रदर्शन-बढ़ाने वाले स्टेरॉयड (performance enhancing steroid), सिंथेटिक टेस्टोस्टेरोन (synthetic testosterone) के कई हानिकारक दुष्प्रभाव सामने आये हैं। जैसे यदि आपको प्रोस्टेट कैंसर (prostate cancer) है, तो इसके दुष्प्रभाव यह हो सकते है की आपकी कैंसर कोशिकाओं (cancer cells) में वृद्धि हो सकती हैं। इसलिए यदि किसी व्यक्ति को डॉक्टर हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी का सुझाव देता है, तो अपना निर्णय लेने से पहले सभी सकारात्मक और नकारात्मक परिणामों पर विचार जरुर करें।

(और पढ़े – बेहतर सेक्स के लिए वर्कआउट और व्यायाम…)

इसी तरह की अन्य जानकरी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration