करेला के फायदे और नुकसान - Karela Khane Ke Fayde Aur Nuksan - Healthunbox
हेल्दी रेसपी

करेला के फायदे और नुकसान – Karela Khane Ke Fayde Aur Nuksan

करेला के फायदे और नुकसान - Karela Khane Ke Fayde Aur Nuksan

Karela Khane Ke Fayde Aur Nuksan: करेला सबसे फायदेमंद सब्जियों में से एक माना जाता है। हालांकि करेला का स्वाद कड़वा होता है, लेकिन फिर भी यह अपने स्वास्थ्यवर्धक गुणों के कारण कई लोगों की पसंदीदा सब्जी है। बिटर गॉर्ड या करेला एक चिकित्सकीय औषधि है जो हमारे शरीर को स्वस्थ रखने के लिए लाभदायक माना जाता है। करेले का सेवन बुखार और संक्रामक जैसे रोगों से हमारे शरीर की रक्षा करता है। इसमें विटामिन ए, बी, सी और खनिज-कैल्शियम, फास्फोरस, आयरन, कॉपर, पोटेशियम पाया जाता है। करेले में फास्फोरस काफी मात्रा में पाया जाता है, इसीलिए यह दाँत, मस्तिष्क, हड्डी, ब्लड और अन्य शारीरिक अंगो के लिए जरुरी फास्फोरस की पूर्ति करता है। आइये करेला के फायदे और नुकसान को विस्तार से जानते हैं।

विषय सूची

करेला क्‍या है – What is bitter gourd in Hindi

बिटर गॉर्ड या करेला कड़वे स्‍वाद वाला एक फल है जिसे हम सभी लोग हरी सब्‍जी के रूप में उपयोग करते हैं। बहुत से लोग करेला को बिटर मेलन (Bitter Melon) के नाम से जानते हैं। करेला का वैज्ञानिक नाम मोमोर्डिका चैरंटिया (Momordica charantia) है। हालांकि करेला को अलग-अलग जगह पर कई नामों से जाना जाता है। करेले का रंग गहरा हरा होता है। इसका पौधा एक प्रकार की वेल है जो विशेष रूप से ठंडी के मौसम में अपने फल और फूल देती है।

करेला के पोषक तत्‍व – Karela ke Poshak Tatva in Hindi

करेला के पोषक तत्‍व – Karela ke Poshak Tatva in Hindi

करेला से क्या फायदा होता है यह अधिकांश लोगों को शायद पता न हो। लेकिन करेले में मौजूद पोषक तत्‍व और खनिज पदार्थ हमें कई स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं से बचा सकते हैं। करेले में आयरन, मैग्नीशियम, पोटेशियम, विटामिन सी, फाइबर आदि की अच्‍छी मात्रा होती है। 100 ग्राम करेले के अनुसार पोषक तत्‍वों में 13 मिली ग्राम सोडियम के साथ लगभग 34 कैलोरी होती है। इसके अलावा पोटेशियम 6.2 ग्राम, कार्बोहाइड्रेट 7 ग्राम और प्रोटीन लगभग 3.6 ग्राम होता है। आइए जाने करेला खाने के फायदे क्‍या हैं।

करेले की तासीर – Karele ki taseer in Hindi

यदि हम इसकी तासीर की बात करें तो, करेला गर्म तासीर का होता है। इसलिए आप ठंडी के मौसम में करेले का सेवन नियमित कर सकते है, लेकिन गर्मियों के मौसम में इसका कम सेवन करें। करेला अपनी गर्म प्रकृति के कारण आपके शरीर के लिए नुकसानदायक भी हो सकता हैं।

करेले के फायदे – Karela Benefits in Hindi

करेले के फायदे – Karela Benefits in Hindi

आइये जानते हैं कि करेला हमारे लिए किस प्रकार से लाभदायक होता है।

करेला खाने के फायदे मधुमेह में – Karela Benefits in diabetes in Hindi

करेला खाने के फायदे मधुमेह में – Karela Benefits in diabetes in Hindi

मधुमेह से बचाव में करेला खाने के फायदे आपकी मदद कर सकते हैं, क्योंकि करेले के एंटीडायबिटिक गुण होते हैं। करेला हाइपोग्लाइसेमिक (Hypoglycemic) प्रभाव दिखता है जो हमारे शरीर से ब्लड शुगर को कम करता हैं। मधुमेह के घरेलू उपाय की तरह से आप करेले की सब्जी या इसके जुसे का सेवन कर सकते है। यह अग्न्याशय के इन्सुलिन उत्पादन को बढ़ाता है और इन्सुलिन प्रतिरोध से भी बचाता है। यह डायबिटीज टाइप-1 एवं टाइप-2 दोनों ही प्रकार के रोगियों के लिए करेला खाना फायदेमंद है।

करेला के फायदे वजन कम करे – Karela ke fayde Vajan kam kare

करेला के फायदे वजन कम करे – Karela ke fayde Vajan kam kare

वजन कम करने के लिए करेला बहुत ही लाभकारी होता है। ऐसा इसलिए है क्‍योंकि करेले में वसा और कार्बोहाइड्रेट की मात्रा बहुत ही कम होती है। इसके अलावा फाइबर की उच्‍च मात्रा आपको लंबे समय तक पूर्णता का एहसास कराती है। जिससे आपको भूख कम लगती है और वजन घटाने में आपको मदद मिलती है। एक अध्‍ययन के अनुसार करेला का उपयोग शरीर में वसा कोशिकाओं के विकास और नई कोशिकाओं के निर्माण को रोकने में सहायक होता है। जिसके कारण शरीर में वसा या फैट को नियंत्रित किया जा सकता है। करेले में एंटीओबेसिटी गुण पाया जाता है जो कि मोटापा कम करने वाला गुण है। इसलिए करेला मोटापा कम करने का प्राकृतिक उपाय माना जाता है। यदि आप भी अपना वजन कम करना चाहते है तो अपने भोजन में करेले को शामिल जरूर शामिल करें।

करेले के गुण करें कैंसर से बचाव – Karela Benefits for Cancer in Hindi

करेले के गुण करें कैंसर से बचाव - Karela Benefits for Cancer in Hindi

कैंसर के जोखिम को कम करने के लिए आप अपने आहार में करेला को शामिल कर सकते हैं। एक अध्ययन के अनुसार करेला कैंसर वाली कोशिकाओं के निर्माण को रोकता है। आयुर्वेद के अनुसार भी करेले का उपयोग कैंसर जैसी बीमारी के उपचार में भी किया जा सकता है। करेले में पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट गुण ट्यूमर, ग्रीवा, प्रोस्टेट और ब्रेस्ट कैंसर से बचाते है।

करेला खाने के फायदे लिवर स्‍वस्‍थ रखे – Karela khane ke fayde Liver swasth rakhe

करेला खाने के फायदे लिवर स्‍वस्‍थ रखे – Karela khane ke fayde Liver swasth rakhe

लीवर संबंधी समस्‍याओं को दूर करने के लिए भी करेला बहुत ही फायदेमंद होता है। इसमें हेपेटोप्रोटेक्टिव (Hepatoprotective) प्रभाव होता है जो कि एक लिवर को सुरक्षित रखने का गुण है। नियमित रूप से करेला का सेवन करके आप फैटी लिवर जैसी बीमारी में बच सकते है। यह लीवर में मौजूद बैक्‍टीरिया और संक्रमण आदि को दूर करने में मदद करता है। इसके लिए आप नियमित रूप से प्रतिदिन एक गिलास करेले के जूस का सेवन कर सकते हैं। ऐसा माना जाता है कि लगभग एक सप्‍ताह तक नियमित रूप से करेले के जूस का सेवन करने पर यह लिवर को पूर्ण रूप से स्‍वस्‍थ कर सकता है।

करेला के लाभ कोलेस्‍ट्रॉल कम करे – Karela ke labh Cholesterol kam kare

करेला के लाभ कोलेस्‍ट्रॉल कम करे – Karela ke labh Cholesterol kam kare

एक शोध से पता चलता है कि करेला के जूस में एंटी-इंफ्लामेटरी गुण होते हैं। इस गुण के कारण करेला शरीर में मौजूद खराब कोलेस्‍ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड (Triglycerides) के स्‍तर को कम करने में सहायक होता है। शरीर में खराब कोलेस्‍ट्रॉल की अधिक मात्रा हृदय रोग, दिल का दौरा और स्‍ट्रोक आदि समस्‍याओं का कारण बन सकता है। इसके अलावा करेला जूस पीने के फायदे रक्‍तचाप को भी नियंत्रित करने में सहायक होते हैं। क्‍योंकि करेला में पोटेशियम की अच्छी मात्रा होती है। आयरन और फोलिक एसिड से भरपूर होने के कारण करेला स्‍ट्रोक संबंधी लक्षणों को भी दूर करता है। हाइपरकोलेस्ट्रोलेमिया (hypercholesterolemia) यानि बढ़े हुए कोलेस्ट्रॉल की स्थिति में करेले के अर्क को सप्लीमेंट के रूप में दिया जा सकता है। आप भी अपने शरीर को स्‍वस्‍थ रखने के लिए करेले को अपने दैनिक आहार में शामिल कर लाभ ले सकते हैं।

करेला के फायदे कब्ज और बवासीर में – Bitter Gourd Leaves for Constipation and Piles in Hindi

करेला के फायदे कब्ज और बवासीर में – Bitter Gourd Leaves for Constipation and Piles in Hindi

फाइबर की उच्‍च मात्रा के कारण करेले पाचन संबंधी समस्‍याओं को दूर करने में सहायक होता है। फाइबर की उच्‍च मात्रा होने के कारण यह भोजन को उचित ढंग से पचाने में सहायक होता है। जिससे कब्ज और उसकी वजह से होने वाली बवासीर जैसी समस्‍याओं को प्रभावी रूप से रोका जा सकता है। इसके अलावा केरला के एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी-ऑक्सीडेंट गुण बवासीर जैसी समस्याओं से छुटकारा दिलाने में मदद करते हैं। यदि आप भी कब्‍ज की समस्‍या से परेशान हैं तो अन्‍य फाइबर युक्‍त खाद्य पदार्थों के साथ ही करेले को अपने नियमित आहार में शामिल करें।

करेले के लाभ त्वचा के लिए – Karela for Skin in Hindi

करेले के लाभ त्वचा के लिए - Karela for Skin in Hindi

त्‍वचा संबंधी समस्‍याओं को दूर करने करेला अच्छा घरेलू उपाय होते हैं। करेले का सेवन त्वचा रोगों जैसे एक्जिमा और सोरायसिस के इलाज में भी मदद कर सकता है। करेले का जूस पीने के फायदे त्वचा के संक्रमण संबंधी समस्‍याओं से छुटकारा दिला सकते हैं। ऐसा इसलिए है क्‍योंकि करेला में पर्याप्त मात्रा में पोषक तत्‍व होते हैं जो त्‍वचा को पोषण देते हैं। साथ ही इसमें मौजूद एंटीऑक्‍सीडेंट फ्री रेडिकल्‍स से त्‍वचा कोशिकाओं की रक्षा करते हैं।

करेला के फायदे आंखों के लिए – Karela ke fayde aankho ke liye

करेला के फायदे आंखों के लिए – Karela ke fayde aankho ke liye

आंखों से संबंधित समस्‍याओं को दूर करने के लिए करेला का उपयोग औषधीय रूप में किया जा सकता है। ऐसा इसलिए है क्‍योंकि करेले में बीटा-कैरोटीन और विटामिन ए की अच्‍छी मात्रा होती है। बीटा-कैरोटीन दृष्टि संबंधी समस्‍याओं जैसे मोतियाबिंद और रतौंधी आदि को रोकने में प्रभावी है। यदि आप भी अपनी आंखों की रोशनी बढ़ाना चाहते हैं तो नियमित रूप से करेले का सेवन करें। इसके अलावा थकान के कारण आंखों के नीचे के काले घेरे को दूर करने के घरेलू उपाय के रूप में भी करेले का सेवन किया जा सकता है।

करेला खाने के फायदे सूजन कम करने – Karela khane ke fayde sujan kam kare

करेला खाने के फायदे सूजन कम करने - Karela khane ke fayde sujan kam kare

यदि आप चोट की सूजन को कम करना चाहते है तो इसके लिए भी करेले का सेवन कर सकते हैं। करेले में एंटी-इन्फ्लामेटरी गुण भी मौजूद पाए जानते हैं, जो सूजन को कम करने में सहायक हैं। हालंकि करेला सूजन की समस्याओं को ठीक करने में कितना प्रभावी है, इस पर और शोध की आवश्यकता है।

करेला के फायदे प्रतिरक्षा शक्ति बढ़ाये – Karela For Boost Immunity system in Hindi

करेला के फायदे प्रतिरक्षा शक्ति बढ़ाये – Karela For Boost Immunity system in Hindi

करेले में एंटी-वायरल और एंटी-बैक्‍टीरियल गुण होते हैं जो आपकी प्रतिरक्षा शक्ति को मजबूत करने में सहायक होते हैं। इसके अलावा करेले के फायदे एलर्जी और अपचन जैसी समस्‍याओं को भी नियंत्रित करने में सहायक होते हैं। करेला में मौजूद एंटीऑक्‍सीडेंट फ्री रेडिकल्‍स के प्रभाव को कम करके कोशिकाओं की रक्षा करते हैं। एक अध्‍ययन के अनुसार करेले में कार्सिनोजेन और एंटीट्यूमर गुण होते हैं। जिसके कारण यह प्रोस्‍टेट, स्‍तन और गर्भाशय ग्रीवा के कैंसर का उपचार करने में मदद मिल सकती है।

एंटी एजिंग के लिए करेला  – Karela for Anti-Aging in Hindi

करेले में विटामिन सी होता है जो कि एक शक्तिशाली एंटीऑक्‍सीडेंट होता है। जिसके कारण यह त्‍वचा कोशिकाओं को फ्री रेडिकल्‍स के प्रभाव से बचाता है। इन फ्री रेडिकल्‍स के प्रभाव के कारण ही त्‍वचा में झुर्रियां और अन्‍य प्रकार के बुढ़ापे संबंधी लक्षण आते हैं। यदि आप भी समय से पहले बुढ़ापे संबंधी लक्षणों को दूर करना चाहते हैं तो अपने दैनिक आहार में करेले को शामिल कर लाभ ले सकते हैं।

करेला खाने का सही तरीका – Karela khane ka sahi tarika in Hindi

करेला खाने का सही तरीका - Karela khane ka sahi tarika in Hindi

करेला को आप अपनी पसंद के अनुसार किसी भी प्रकार से खा सकते है, जैसे –

  • करेले की सब्जी बनाकर खाएं।
  • अचार बनाकर करेले खाएं।
  • करेले का जूस बनाकर पी पियें।

करेला खाने के नुकसान – Karela khane ke Nuksan in Hindi

करेला खाने के नुकसान - Karela khane ke Nuksan in Hindi

अन्‍य खाद्य पदार्थों की तरह ही करेले का अधिक मात्रा में सेवन करने से कुछ नुकसान भी हो सकता है, जो निम्न हैं-

  • करेले में फाइबर की अधिक मात्रा होती है जिसके कारण अधिक मात्रा में सेवन करने के दौरान अपच, पेट दर्द और दस्‍त आदि की परेशानी हो सकती है।
  • कुछ लोगों को करेला का सेवन करने से एलर्जी होती है। इसलिए ऐसे व्‍यक्तियों को करेले का जसू पीने से बचना चाहिए।
  • करेले के अधिक सेवन से दस्त, पेट में ऐंठन और सिरदर्द की समस्या हो सकती है।
  • करेले की गर्म तासीर के कारण गर्भवती महिलाओं को इसका अधिक मात्रा में सेवन करने से बचना चाहिए। क्‍योंकि यह गर्भाशय को उत्‍तेजित कर सकता है जिससे प्रसव पीड़ा बढ़ सकती है।
  • स्तनपान कराने वाली महिलाओं को करेले के सेवन से बचना चाहिए। इसके कुछ विषाक्त तत्व उनके शिशु को नुकसान कर सकते हैं।
  • यदि आप कुछ विशेष प्रकार की दवाओं जैसे डायबिटीज की दवा आदि का सेवन कर रहे हैं तो करेले का सेवन करने से पहले अपने डॉक्‍टर से संपर्क करें।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

Reference

 

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration