झींगा खाने के फायदे और नुकसान – Jhinga (Shrimp) Benefits and side effects in Hindi

झींगा खाने के फायदे और नुकसान – Jhinga (Shrimp) Benefits and side effects in Hindi
Written by Jaideep

Jhinga fish Khane ke fayde in Hindi आज पौष्टिक आहार की बात करें तो शाकाहार और मांसाहार (Vegetarian and Non-Vegetarian) दोनों ही प्रकार के भोजन की बात की जाती है। जिस तरह अनाज और हरी सब्‍जीयां हमारे लिए फायदेमंद होती हैं उसी तरह मांसाहार भी हमारे लिए बहुत ही फायदेमंद होते हैं। आप सभी लोग झींगा खाने के लिए उपयोग करते होगें लेकिन क्‍या आप झींगा खाने के फायदे जानते हैं।

आज के समय में लगभग 90 % लोग झींगा मछली (Jhinga fish) खाते हैं लेकिन झींगा खाने के फायदे सभी लोगों को नहीं पता हैं। झींगा खाने के फायदे दिल को स्‍वस्‍थ्‍य रखने, वजन कम करने और दिमाग को तेज (Sharp Brain) करने और थायरोइड को ठीक करने जैसे प्रमुख लाभों के लिए जाने जाते हैं। झींगा में बहुत से पोषक तत्‍व, खनिज पदार्थ और उपयोगी तेल मौजूद रहते हैं जो हमारे स्‍वास्‍थ्‍य के लिए बहुत ही फायदेमंद होते हैं। आज हम जानेगें झींगा खाने के फायदे और नुकसान (Jhinga Khane ke fayde aur Nuksan in Hindi) के बारे में।

1. झींगा क्‍या है – Jhinga Kya Hai in Hindi
2. झींगा के पोषक तत्‍व – Shrimp Nutritional value in Hindi
3. झींगा के फायदे – Jhinga Khane ke fayde in Hindi

4. झींगा मछली के नुकसान – Jhinga Machli ke Nuksan in Hindi

झींगा क्‍या है – Jhinga Kya Hai in Hindi

हमारे शारीरिक और मानसिक (Physical And Mental) विकास के लिए झींगा खाने के फायदे बहुत अधिक हैं। झींगा एक मांसाहार खाद्य है जो कि समुद्री और मीठे दोनों प्रकार के पानी में पाया जाता है। झींगा का वैज्ञानिक नाम नेफ्रोपीडी (Nephropidae) है। झींगा का शरीर को तीन भागों में बांटा जाता है जिनमें सिर, वक्ष और पेट (thorax and abdomen) होते हैं। झींगा के शरीर में छोटे-छोटे पैर होते हैं। झींगा की विशेषता यह है कि यह द्विलिंगी (Hermaphrodites) गुणों वाला होता है जो झींगा को नर से मादा में बदलने में मदद करता है। झींगा की लगभग 2800 प्रजातियां होती हैं। झींगा का बाहरी आवरण कड़ा होता है जो कि रंगहीन या पारदर्शी होता है जिसके कारण इसे देखना मुश्किल होता है। आइए जाने झींगा में पाए जाने वाले पोषक तत्‍व क्‍या है।

(और पढ़े – टूना मछली के फायदे और नुकसान…)

झींगा के पोषक तत्‍व – Shrimp Nutritional value in Hindi

पोषक तत्‍वों की अच्‍छी मात्रा होने के कारण झींगा खाने के लिए बहुत ही प्रसिद्ध उत्‍पाद बन चुका है। 85 ग्राम पके हुए झींगा के अनुसार पोषक तत्‍व इस प्रकार हैं :

कैल्शियम – 60 मिली ग्राम

लौह – 0.43 मिली ग्राम

मैग्‍नीशियम  –  33 मिली ग्राम

फास्‍फोरस –  201 मिली ग्राम

पोटेशियम   – 220 मिली ग्राम

सोडियम – 94 मिली ग्राम

जिंक – 1.30 मिली ग्राम

तांबा  – 0.322 मिली ग्राम

प्रोटीन – 20.38 ग्राम

वसा – 0.24 ग्राम

राख (ash)  – 1.04 ग्राम

कार्बोहाइड्रेट  – 0.17 ग्राम

नमी – 63.18 ग्राम

कैलोरी – 84

झींगा के फायदे – Jhinga Khane ke fayde in Hindi

झींगा के फायदे – Jhinga Khane ke fayde in Hindi

कई प्रकार के स्‍वास्‍थ्‍य लाभ प्राप्‍त करने के लिए झींगा मछली का सेवन किया जाता है। झींगा मछली में विटामिन डी (Vitamin D), विटामिन बी3 और बहुत से पोषक तत्‍व मौजूद होते हैं। झींगा खाने के फायदे इसलिए भी हैं क्‍योंकि इसमें बहुत से एंटीऑक्‍सीडेंट और एंटी-इन्‍फ्लामेट्री गुण भी होते हैं जो कैंसर निवारक का काम करते हैं। झींगा की उपयोगिता इसलिए भी बहुत अधिक होती है क्‍योंकि यह आंखों की थकान, मासिक धर्म के दर्द, मैकुलर अपघटन (Macular Degeneration) आदि से छुटकारा दिलाने में मदद करता है। आइए विस्‍तार से जाने झींगा खाने के फायदे क्‍या हैं।

वजन घटाने में झींगा मछली के फायदे –  Jhinga Machli Ke Fayde Vajan Ghatane Me in Hindi

आयोडीन की उपस्थिति और बहुत से तंत्रों (Mechanisms) की अच्‍छी मात्रा झींगा में मौजूद रहती है, जो कि वजन घटाने में हमारी मदद करते हैं। इसमें उपस्थित जस्‍ता हमारी चयापचय की दर को बढ़ावा देता है जिससे लेप्टिन (Leptin) के स्‍तर को उचित मात्रा बनाए रखने में मदद मिलती है। लेप्टिन का काम हमारी भूख को नियंत्रित करना है। यदि आप अपने वजन को घटाने (Weight loss) के लिए गंभीरता से सोच रहे हैं तो झींगा को अपने साप्‍ताहिक आहार में शामिल करें। यह आपके वजन को कम करने में सहायक होता है।

(और पढ़े – जीएम डाइट है वजन कम करने का सबसे तेज तरीका…)

झींगा मछली के गुण मस्तिष्‍क को स्‍वस्‍थ्‍य बनाए – Jhinga Machli Ke Gun Mastishk Ke Liye in Hindi

झींगा मछली के गुण मस्तिष्‍क को स्‍वस्‍थ्‍य बनाए – Jhinga Machli Ke Gun Mastishk Ke Liye in Hindi

लौह तत्‍व (Iron) की भरपूर मात्रा झींगा में मौजूद रहती है जो शरीर में आक्‍सीजन और हीमोग्‍लोबिन के बंधन (Bonding) की प्रक्रिया के लिए आवश्‍यक होता है। साथ ही मांसपेशियों में आक्‍सीजन के प्रवाह के लिए भी आयरन की आवश्‍यकता होती है। अध्‍ययनों से पता चलता है कि अस्‍थैक्‍सथिन (Astaxanthin) स्‍मृति को बढ़ाने, मस्तिष्‍क की बीमारीयों को कम करने और मस्तिष्‍क कोशिकाओं के अस्तित्‍व को लंबे समय तक बनाए रखने (survival of brain cells) और उनके विकास में भी मदद करता है।

(और पढ़े – मानसिक रोग के लक्षण, कारण, उपचार, इलाज, और बचाव…)

झींगा मछली के लाभ मासिक धर्म के लिए  – Jhinga Machli Ke Fayde Masik Dhram Ke Liye in Hindi

महिलाओं में मासिक धर्म के समय होने वाली ऐंठन (Menstrual Cramps) को कम करने के लिए झींगा का उपयोग किया जा सकता है। झींगा मछली में ओमेगा-6 एसिड मौजूद होता है जो कि प्रकृति में प्रो-इन्‍फ्लामेट्री (Pro-inflamatory) होता है। यह मासिक धर्म के दर्द और सूजन को कम करने में मदद करता है। हांलाकि झींगा में ओमेगा-3 फैटी एसिड भी होता है जो एंटी-इन्‍फ्लामेट्री होता है और ओमेगा-6 को संतुलित करने का काम करता है। ओमेगा-3 फैटी एसिड शारीरिक स्‍वास्‍थ्‍य के लिए बहुत ही लाभकारी होता है। झींगा मछली के फायदे प्राप्‍त करने के लिए महिलाओं को मासिक धर्म (Menstrual) के दौरान इसका सेवन करना फायदेमंद होता है।

(और पढ़े – पीरियड्स की जानकारी और अनियमित पीरियड्स के लिए योग और घरेलू उपचार…)

कैंसर से बचाने में झींगा मछली के उपयोग – Jhinga Machli Ke Upyog Cancer Ke Liye in Hindi

कैंसर से बचाने में झींगा मछली के उपयोग - Jhinga Machli Ke Upyog Cancer Ke Liye in Hindi

कैंसर के खतरे को कम करने के लिए झींगा का सेवन बहुत ही लाभकारी होता है। क्‍योंकि झींगा में बहुत से एंटीऑक्‍सीडेंट (Antioxidant) और खजिन पदार्थ अच्‍छी मात्रा में उपस्थि‍त रहते हैं। झींगा में दो शक्तिशाली खनिज अस्‍थैक्‍सथिन और सेलेनियम (Astaxanthin and Selenium) होते हैं। सेलेनियम कैंसर ट्यूमर की वृद्धि या विकास को कम करता है। यह कैंसर की रोकथाम करने का सबसे अच्‍छा विकल्‍प होता है।

(और पढ़े – कैंसर क्या है कारण लक्षण और बचाव के उपाय…)

झींगा मछली का सेवन दिल की रक्षा करे – Jhinga Machli Ka Sevan Kare Dil Ki Raksha in Hindi

झींगा मछली का सेवन दिल की रक्षा करे - Jhinga Machli Ka Sevan Kare Dil Ki Raksha in Hindi

अद्वितीय पोषण आहार के रूप में झींगा का उपयोग किया जाता है। झींगा में एक दुर्लभ फाइब्रिनोलाइटिक एंजाम (Fibrinolytic Enzyme) होता है जो खून के थक्‍का जमने को रोकने में मदद करता है। यदि शरीर में खून के थक्‍के (Blood clot) बनने लगते हैं तो इस स्थिति में लोग स्‍ट्रोक से पीड़ित हो सकते हैं। ऐसी स्थिति में उपचार के दौरान उन्‍हें  फाइब्रिनोलेटिक एंजाइम दिया जाता है। यह बहुत ही उपयोगी होता है। यदि नियमित रूप से झींगा का सेवन किया जाता है तो यह शरीर में खून के थक्‍कों (Blood clots) को जमने नहीं देता है और आपकी रक्‍तवाहिकाओं (Blood vessels) की कार्य क्षमता को बढ़ाता है।

(और पढ़े – हार्ट अटेक कारण और बचाव…)

झींगा मछली खाने के फायदे त्‍वचा के लिए – Jhinga Machli Khane Ke Fayde Twacha Ke Liye in Hindi

समय से पहले त्‍वचा में बुढ़ापे के लक्षण आने के प्रमुख कारणों में सूर्य विकिरण (Sun radiation) का खतरा सबसे अधिक होता है। इस स्थिति से बचने का एक आसान तरीका यह है कि आप एंटीऑक्‍सीडेंट वाले खाद्य पदार्थों का सेवन करें। एंटीऑक्‍सीडेंट त्‍वचा में मौजूद फ्री रेडिकल्‍स (Free radicals) के प्रभाव को कम करने मे मदद करते हैं। इन सभी समस्‍याओं से निपटने के लिए झींगा में अस्‍थैक्‍सथिन की उपस्थिति होती है। यह एक अद्वितीय कैरोटेनोइड एंटीऑक्‍सीडेंट है जो यूवी किरणों (UV rays) को प्रतिबंधित करने में सक्षम होता है।

(और पढ़े – त्‍वचा में निखार के लिए सल्‍फर युक्‍त भोजन…)

हड्डी को मजबूत करने में झींगा मछली का प्रयोग – Jhinga Machli Ka Prayog Haddi Ko Majboot Kare in Hindi

हड्डी (Bone) हमारे शरीर का प्रमुख आधार होता है, हम जितने भी खाद्य पदार्थों का सेवन करते हैं वे किसी न किसी प्रकार से हमारे शरीर मे अच्‍छे और बुरे दोनों ही प्रकार के प्रभाव डालते हैं। आप अपनी हड्डीयों को मजबूत (Strong bone) करने के लिए झींगा का सेवन कर सकते हैं। हड्डियों के विकास के लिए लोग पहले डेयरी उत्‍पादों का ज्‍यादा उपयोग करते थे क्‍योंकि उनमें कैल्शियम (Calcium) की मात्रा अच्‍छी होती है।

लेकिन झींगा खाने के फायदे यह हैं कि इसमें कैल्शियम, मैग्‍नीशियम, जस्‍ता, फास्‍फोरस और विटामिन डी समेत लगभग सभी पोषक तत्‍व मौजूद होते हैं जो हड्डीयों को मजबूत करने में मदद करते हैं और उन्‍हें होने वाले हर नुकसान से बचाते हैं। झींगा का सेवन नई हड्डी ऊतकों (Bone tissues) के विकास में मदद करता है। आप अपनी हड्डीयों को मजबूत करने के लिए अच्‍छे विकल्‍प के रूप में झींगा का सेवन कर सकते हैं।

(और पढ़े – कैल्शियम की कमी के लक्षण और इलाज…)

झींगा मछली के लाभ बाल झड़ने से रोके – Jhinga Machli Ke Labh Baal Jhadne Se Roke in Hindi

झींगा मछली के लाभ बाल झड़ने से रोके - Jhinga Machli Ke Labh Baal Jhadne Se Roke in Hindi

बालों को स्‍वस्‍थ्‍य और मजबूत करने वाले पोषक तत्‍व (Nutrients) झींगा में मौजूद रहते हैं, जो बालों के विकास में महत्‍वपूर्ण योगदान करते हैं। बालों के झड़ने का प्रमुख कारण जस्‍ता (zinc) की कमी होती है। झींगा में जस्‍ता पर्याप्‍त मात्रा में होता है जो बालों और त्‍वचा की नई कोशिकाओं के गठन में मदद करता है। यदि आप बाल झड़ने (Hair fall) की समस्‍या से परेशान हैं तो इनका उपचार करने के लिए झींगा का सेवन करें। यह आपके बालों को झड़ने से रोकने के साथ-साथ नए बाल उगाने में भी मदद करता है।

(और पढ़े – टूटते बालों से हैं परेशान तो अपनाएं ये घरेलू उपाय…)

थॉयराइड हार्मोन बढ़ाने में झींगा मछली के फायदे – Jhinga Machli Ke Fayde Thyroid Hormone Badhaye in Hindi

थॉयराइड हार्मोन बढ़ाने में झींगा मछली के फायदे - Jhinga Machli Ke Fayde Thyroid Hormone Badhaye in Hindi

संपूर्ण शारीरिक स्‍वास्‍थ्‍य लाभ दिलाने के साथ-साथ झींगा मछली थॉयराइड हार्मोन (Thyroid Hormone) बनाने में भी सहायक होते हैं। इनमें आयोडीन की अच्‍छी मात्रा होती है। थॉयराइड हार्मोन गर्भवती महिलाओं और शिशुओं के मस्तिष्‍क विकास में मदद करता है।

(और पढ़े – थायराइड के लक्षण कारण व घरलू उपचार…)

झींगा मछली खाने के नुकसान – Jhinga Machli ke Nuksan in Hindi

झींगा मछली खाने के नुकसान – Jhinga Machli ke Nuksan in Hindi

खाद्य आहार के रूप में झींगा का उपयोग बहुत ही फायदेमंद होता है। लेकिन यदि इसका अधिक मात्रा में सेवन किया जाए तो इसके कुछ नुकसान भी हो सकते हैं। कम मात्रा में इसका सेवन करने से किसी भी प्रकार के नुकसान नहीं होते हैं। फिर भी यह कुछ विशेष लोगों के लिए परेशानी का कारण बन सकता है।

  • झींगा में पारा (Mercury) की उपस्थिति भी होती है जो मानव स्‍वास्‍थ्‍य के लिए हानिकारक होता है। अधिक मात्रा में झींगा का सेवन करने से द्रष्टि की समस्‍याएं (vision problems) हो सकती हैं।
  • गठिया (Arthritis) प्रभावित लोगों के लिए शरीर में प्‍यूरीन (Purine) की उपस्थिति हानिकारक हो सकती है। गठिया रोग से ग्रसित लोगों को झींगा का अधिक मात्रा में सेवन करने से बचना चाहिए।
  • कुछ लोगों के लिए झींगा एलर्जी (Allergies) प्रतिक्रियाओं का कारण बन सकता है। समुद्री खाने का अधिक मात्रा में सेवन करना एलर्जी प्रतिक्रियाओं की संभावनाओं को बढ़ा सकता है।
  • यदि आप किसी विशेष प्रकार की दवाओं का सेवन कर रहें हैं, तो झींगा मछली (prawn fish) का सेवन करने से पहले अपने डॉक्‍टर से सलाज लें। हो सकता है यह आपके द्वारा ली जाने वाली दवाओं के प्रभाव को कम करता हो।

(और पढ़े – कंजंक्टिवाइटिस एलर्जी (आँख आना) के कारण, लक्षण और ठीक करने के घरेलू उपाय…)

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration