कंडोम से जुड़े मिथक और तथ्य - Condoms myth and facts in Hindi
सेक्स एजुकेशन

कंडोम से जुड़े मिथक और तथ्य – Condoms myth and facts in Hindi

कंडोम से जुड़े मिथक और तथ्य - Condoms myth and facts in Hindi

कंडोम से जुड़े मिथक और तथ्य: कंडोम का उपयोग सेक्स के दौरान अनचाही गर्भावस्था को रोकने के लिए किया जाता हैं। कंडोम का प्रयोग आपको यौन संबंधों के दौरान संक्रमणों के खतरों और कई प्रकार की बीमारियों से बचाने में भी मदद करता है। कंडोम का प्रयोग बहुत आसान है और इसके इतने लाभ होने के बाद यह बहुत ही सस्ता है, यह बाजारों में आसानी से मिल जाता है। कंडोम के विज्ञापन लोगों को जागरूक करने के लिए टेलीवीजन और इंटरनेट पर दिखाएं जाते हैं इसके बाद भी लोगों के मन में कंडोम से जुड़े कई मिथक और तथ्य है। आइये आज के इस लेख में हम कंडोम से जुड़े मिथक और फैक्ट से जुड़े अक्सर पूछें जाने वाले प्रश्नों के उत्तरों को विस्तार से जानते है।

विषय सूची

  1. कंडोम के प्रयोग की विधि ठीक ना होना – Complications with method in Hindi
  2. कंडोम की प्रभावशीलता कम होना – Low condom effectiveness in Hindi
  3. कंडोम के प्रयोग से स्वास्थ्य जोखिम और दुष्प्रभाव – Condom Myth Health risks and side effects in Hindi
  4. कंडोम के प्रयोग से शीघ्रपतन होता है – The use of condom causes premature ejaculation in Hindi
  5. कंडोम का उपयोग केवल वेश्यावृत्ति के लिए – Condom ka upyog Promiscuity ke liye in Hindi
  6. कंडोम के उपयोग से यौन इच्छा और यौन सुख कम जाता है – Using condom reduces sexual desire and sexual pleasure in Hindi
  7. मिथक बड़े लिंग पर कंडोम फिट नहीं होते – Bade ling par Condom fit nhi hote in Hindi
  8. कंडोम का उपयोग कौन कर सकता है – Who can use the Condom in Hindi

कंडोम से जुड़े मिथक और फैक्ट – Condoms myth and facts in Hindi

लोगों के पास कंडोम के उपयोग की अधिकांस जानकारी होने के बाद भी उनके मन में कंडोम से जुड़ें कुछ सवाल और कुछ मिथक है। आइये कंडोम से जुड़े इन मिथक और फैक्ट को विस्तार से जानते हैं।

कंडोम के प्रयोग की विधि ठीक ना होना – Complications with method in Hindi

कंडोम के प्रयोग की विधि ठीक ना होना - Complications with method in Hindi

कुछ लोग परिवार नियोजन के तरीके को खोज रहें हैं, वह लोग कंडोम के उपयोग को गलत मानते हैं। उन लोगों का मानना है कंडोम का उपयोग करके सेक्स करना खतरनाक हो सकता है यह सेक्स के दौरान महिला की योनि में खो सकता है। यह महिला के शरीर के अन्दर जा सकता है और फिर इसे निकलने के लिए सर्जरी की आवश्यकता होती है।

फैक्ट (Fact) – अध्ययनों का मानना है कि यदि कंडोम को अच्छी तरह से प्रयोग ना किया जाएं तो ही कंडोम सेक्स के दौरान लिंग से फिसलता या निकलता है। औसतन केवल 2% कंडोम ही फिसलते या टूट जाते हैं, क्योंकि उनका गलत तरीके से उपयोग किया जाता है। सेक्स करने से पहले कंडोम को अच्छी तरह से पहनना चाहिए, इसके लिए आप लिंग के आधार तक कंडोम का रिम नीचे करें। हालांकि अगर कंडोम फिसल भी जाता है, तो यह महिला की योनि से आगे नहीं जाएगा और इसे आसानी से पुनर्प्राप्त किया जा सकता है, जिसमें सर्जरी की कोई आवश्यकता नहीं है। इसके अलावा अगर आप चाहे तो आपातकालीन गर्भनिरोधक गोलियों का उपयोग कर सकते है।

(और पढ़े – सभी प्रकार के कंडोम का उपयोग कैसे करें…)

कंडोम की प्रभावशीलता कम होना – Low condom effectiveness in Hindi

कंडोम की प्रभावशीलता कम होना - Low condom effectiveness in Hindi

कुछ लोग जो परिवार नियोजन का उपयोग करना चाहते है पर उनको लगता है कि कंडोम कम प्रभावशील है इसलिए कुछ पुरुष और महिलाएं पुरुष कंडोम का उपयोग नहीं करना चाहते हैं। वह मानते हैं कि कंडोम एचआईवी सहित गर्भावस्था या यौन संचारित संक्रमणों को रोकने में प्रभावी नहीं है।

फैक्ट (Fact) – पुरुष कंडोम एक खोल या आवरण हैं जो किसी भी पुरुष के लिंग के ऊपर फिट बैठता हैं। यह एक अवरोध का निर्माण करके काम करता है जो योनि से शुक्राणु को बाहर रखता है, गर्भावस्था को रोकता है। यह उन संक्रमणों को भी दूर रखता है जो लिंग या योनि में दूसरे साथी को संक्रमित करते हैं।  यह आमतौर पर बहुत पतले लेटेक्स रबर (latex rubber) से बना होता है, हालांकि कंडोम जानवरों के ऊतक या पॉलीयुरेथेन (प्लास्टिक) से बने होते हैं।

कंडोम एकमात्र गर्भनिरोधक विधि है जो योनि, ओरल सेक्स या गुदा मैथुन के लिए इस्तेमाल होने पर एचआईवी संचरण सहित गर्भावस्था और यौन संचारित संक्रमण (STIs) दोनों से बचा सकती है। कंडोम को सबसे प्रभावी बनाने के लिए उन्हें सही तरीके से और सेक्स के हर कार्य के साथ इस्तेमाल किया जाना चाहिए। गर्भावस्था के दौरान या यौन संचारित संक्रमणों को फैलने का जोखिम तब सबसे बड़ा होता है जब कंडोम का उपयोग सेक्स के हर कार्य के साथ सही तरीके से नहीं किया जाता है।

जब इसका उपयोग सही और हर बार सेक्स के समय किया जाता है, तो कंडोम गर्भावस्था को रोकने में 98% प्रभावी है। इसका मतलब यह है कि जब हर बार और सही तरीके से उपयोग किया जाता है। जिनके साथी कंडोम का उपयोग करते हैं तो प्रत्येक 100 महिलाओं में से लगभग 2 महिलाएं ही गर्भवती हो सकती हैं।

(और पढ़े – जाने कंडोम के इस्तेमाल के बारे में सब कुछ…)

कंडोम के प्रयोग से स्वास्थ्य जोखिम और दुष्प्रभाव – Condom Myth Health risks and side effects in Hindi

कंडोम के प्रयोग से स्वास्थ्य जोखिम और दुष्प्रभाव - Condom Myth Health risks and side effects in Hindi

कुछ लोगों का मानना हैं कि सेक्स के दौरान कंडोम का प्रयोग आपके स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव डालता है। कुछ इसका उपयोग करना गलत मानते है उनका कहना है कि पुरुष कंडोम का उपयोग करने से पुरुषों और महिलाओं में साइड इफेक्ट्स या स्वास्थ्य जोखिम जैसे बीमारी, संक्रमण, बीमारी या कैंसर हो सकता है।

तथ्य (Fact) – कंडोम के उपयोग से जुड़े गंभीर और कम या अधिक समय में कोई भी दुष्प्रभाव नहीं हैं। जब एक कंडोम का उपयोग किया जाता है, तो स्खलन सामान्य रूप से होता है, इसलिए इससे शुक्राणु पर किसी भी प्रकार का दुष्प्रभाव नहीं होता है। ऐसा कोई सबूत नहीं है कि कंडोम पुरुषों या महिलाओं में कैंसर का कारण बनता है। वास्तव में कंडोम के उपयोग से (STIs) के कारण होने वाली समस्यओं से बचाव में मदद मिल सकती है, जिसमें पेल्विक इंफ्लेमेटरी डिजीज (pelvic inflammatory disease), सर्वाइकल कैंसर (cervical cancer) और बांझपन शामिल हैं।

यह संभव है कि कंडोम के उपयोग से कोई व्यक्ति लिंग या योनि के आसपास खुजली, लालिमा, दाने, कमर, या जांघों की सूजन आदि हल्के एलर्जी की प्रतिक्रिया का अनुभव कर सकता है। गंभीर एलर्जी प्रतिक्रियाओं में शरीर के बहुत हिस्से पर पित्ती या दाने, चक्कर आना, साँस लेने में कठिनाई आदि नुकसान शामिल है। पुरुषों और महिलाओं दोनों को लेटेक्स और लेटेक्स कंडोम से एलर्जी हो सकती है। सिंथेटिक सामग्री से बने प्लास्टिक कंडोम उन लोगों के लिए एक अच्छा विकल्प हैं जो एलर्जी या लेटेक्स के प्रति संवेदनशील हैं। प्लास्टिक कंडोम से लेटेक्स कंडोम के समान सुरक्षा प्रदान करने की उम्मीद की जाती है, लेकिन इनका पूरी तरह से अध्ययन नहीं किया गया है।

(और पढ़े – कंडोम के इस्तेमाल से होने वाले नुकसानों से रहें सावधान…)

कंडोम के प्रयोग से शीघ्रपतन होता है – The use of condom causes premature ejaculation in Hindi

कंडोम के प्रयोग से शीघ्रपतन होता है - The use of condom causes premature ejaculation in Hindi

कुछ पुरुष और महिलाएं कंडोम के उपयोग को गलत मानते है उनका कहना है कि पुरुष कंडोम लिंग को सीधा खड़ा करता है, जिससे शीघ्रपतन होता है।

तथ्य (Fact) – पुरुष कंडोम का उपयोग करने से शीघ्रपतन नहीं होता है। इसके विपरीत, कंडोम उपयोगकर्ताओं को लंबे समय तक इरेक्शन (erection) बनाए रखने और शीघ्रपतन को रोकने में मदद कर सकता है, लिंग पर कंडोम का प्लेसमेंट खासकर यौन फोरप्ले का एक नियमित हिस्सा बनाना चाहिए।

(और पढ़े – शीघ्रपतन की समस्या को दूर करने के आसन घरेलू उपाय, तरीके और नुस्खे…)

कंडोम का उपयोग केवल वेश्यावृत्ति के लिए – Condom ka upyog Promiscuity ke liye in Hindi

कंडोम का उपयोग केवल वेश्यावृत्ति के लिए – Condom ka upyog Promiscuity ke liye in Hindi

परिवार नियोजन चाहने वाले कुछ पुरुषों और महिलाओं का मानना है कि पुरुष कंडोम बेवफाई, संकीर्णता या वेश्यावृत्ति को प्रोत्साहित करते हैं।

फैक्ट (Fact) – ऐसा कोई सबूत नहीं है कि कंडोम या गर्भनिरोधक के अन्य तरीके व्यवहार को प्रभावित करते हैं। सामान्य रूप से गर्भनिरोधक पर सबूत से पता चलता है कि यौन व्यवहार गर्भनिरोधक उपयोग से संबंधित नहीं है। वास्तव में, गर्भनिरोधक का उपयोग केवल अनचाहे गर्भावस्था और यौन संचारित संक्रमणों से बचने के लिए जिम्मेदार है।

(और पढ़े – कंडोम (निरोध) के नाम, प्रकार और उपयोग…)

कंडोम के उपयोग से यौन इच्छा और यौन सुख कम जाता है – Using condom reduces sexual desire and sexual pleasure in Hindi

कंडोम के उपयोग से यौन इच्छा और यौन सुख कम जाता है - Using condom reduces sexual desire and sexual pleasure in Hindi

कुछ लोगों का मानना है कि कंडोम के इस्तेमाल से व्यक्ति की कामेच्छा कम हो जाती है और इससे नपुंसकता आ सकती है या कंडोम यौन सुख में कमी या बाधा उत्पन्न करता है।

तथ्य (Fact) –  वास्तव में कंडोम के प्रयोग से यौन इच्छा और यौन सुख में कमी नहीं आती है। ऐसा कोई सबूत नहीं है कि कंडोम का उपयोग नपुंसकता का कारण बनता है। नपुंसकता के कई कारण होते हैं, कुछ कारण शारीरिक होते हैं, तो कुछ भावनात्मक होते हैं। कंडोम नपुंसकता का कारण नहीं है, हालांकि कुछ पुरुषों को कंडोम का उपयोग करते समय इरेक्शन रखने में समस्या हो सकती है। इसके प्रयोग से विशेष रूप से बूढ़े लोगों को, इरेक्शन रखने में कठिनाई हो सकती है क्योंकि कंडोम सेक्स करने की उत्तेजना को कम कर सकता है। वास्तव में कई महिलाएं और पुरुष अक्सर कहते हैं कि वे कंडोम का उपयोग करते समय बेहतर सेक्स करते हैं, क्योंकि वे बिना अनचाही गर्भावस्था और यौन संचारित संक्रमण के बारे में चिंता किए बिना अपने यौन आनंद पर ध्यान केंद्रित करते हैं।

(और पढ़े – सेक्स के दौरान महिलाओं को संतुष्ट करने के तरीके…)

मिथक बड़े लिंग पर कंडोम फिट नहीं होते – Bade ling par Condom fit Nhi hote in Hindi

मिथक बड़े लिंग पर कंडोम फिट नहीं होते – Bade ling par Condom fit nhi hote in Hindi

कुछ पुरुष और महिलाएं मानती हैं कि जिन पुरुषों का लिंग बड़ा होता है, वे पुरुष कंडोम अपने लिए उस कंडोम को नहीं ढूंढ पाते जो उन्हें ठीक से फिट हो।

तथ्य (Fact) –  कंडोम के कई अलग-अलग प्रकार और ब्रांड हैं जो सभी प्रकार के शेप, साइज़, रंग, स्नेहन, मोटाई और बनावट जैसी विशेषताओं में अलग-अलग होते हैं। इसके अलवा यह शुक्राणुनाशक के साथ लेपित भी होंते है। हालांकि व्यक्तिगत लिंगों के आकार के बीच काफी भिन्नताएं हैं, फिर भी विकसित देशों में विभिन्न आकार के कंडोम का कोई बाजार नहीं है। उपयोगकर्ताओं को यह पता लगाने के लिए विभिन्न ब्रांडों की साइज़ को जानने की सलाह दी जानी चाहिए कि कौन सबसे उपयुक्त है। 49 मिमी चौड़ाई के कंडोम आसानी से उपलब्ध हैं और इस आकार को लोग अधिक पसंद करते हैं। हालांकि बड़े कंडोम के लिए मानक साइज़ नहीं है, कुछ निर्माता 56 मिमी चौड़ाई के कंडोम का उत्पादन भी करते हैं।

(और पढ़े – जाने पेनिस का एवरेज साइज कितना होता है…)

कंडोम का उपयोग कौन कर सकता है – Who can use the Condom in Hindi

कंडोम का उपयोग कौन कर सकता है - Who can use the Condom in Hindi

कुछ लोग कंडोम का प्रयोग गलत मानते है। उनका मानना है कि पुरुष कंडोम का उपयोग केवल आकस्मिक रिश्तों में, ऐसे लोग जो अतिरिक्त वैवाहिक यौन संबंध रखते हैं या उन लोगों द्वारा किया जाता है जो पैसे के लिए सेक्स करते हैं।

फैक्ट (Fact) – किसी भी वैवाहिक स्थिति या यौन व्यवहार की परवाह किए बिना कंडोम उपयोग किया जा सकता है क्योंकि यह एक उपयुक्त गर्भनिरोधक विधि है और कंडोम का उपयोग उन सभी व्यक्तियों के द्वारा किया जाना चाहिए जो यौन सम्बन्ध बनाते हैं। कंडोम का उपयोग कई आकस्मिक साथी सेक्स के समय एसटीआई (STI) सुरक्षा के लिए किया जाता हैं और दुनिया भर में विवाहित जोड़े गर्भावस्था से बचने के लिए भी कंडोम का उपयोग करते हैं।

दो कंडोम के इस्तेमाल से एक से बेहतर सुरक्षा मिलती है

हालांकि, यह समझदार लग सकता है कि दो कंडोम का उपयोग सिर्फ एक से अधिक प्रभावी होगा। हालांकि, यह वास्तविकता से बहुत दूर है।

फैक्ट (Fact) – वास्तव में, एक साथ दो कंडोम का उपयोग करने से अधिक घर्षण होगा, जिससे एक या दोनों के लिए फटने / टूटने का खतरा बढ़ जाएगा। इसके अलावा, समान कारणों से, एक ही समय में पुरुष और महिला कंडोम का उपयोग करने से बचें।

(और पढ़े – फर्स्ट टाइम सेक्स टिप्स महिला और पुरुष दोनों के लिए…)

गर्भावस्था को रोकने में कंडोम प्रभावी नहीं हैं

गर्भावस्था को रोकने में कंडोम प्रभावी नहीं हैं

मिथक: कंडोम गर्भावस्था को रोकने में मदद नहीं कर सकता है।

फैक्ट (Fact) – यदि आप हर बार यौन क्रिया में संलग्न होते हैं, तो कंडोम गर्भावस्था को रोकने में 98% तक प्रभावी हो सकता है। यहां तक कि विशिष्ट उपयोग के साथ, यानी अनियमित / गलत उपयोग जैसी त्रुटियों के साथ, कंडोम को 85% मामलों में गर्भावस्था से बचने के लिए प्रभावी माना जाता है।

कंडोम यौन संचारित संक्रमण से रक्षा नहीं कर सकते

कंडोम यौन संचारित संक्रमण से रक्षा नहीं कर सकते

जननांग स्राव के माध्यम से यौन संचारित संक्रमण (एसटीआई) होते हैं। इसलिए, कंडोम, भागीदारों के जननांगों के बीच बाधाओं के रूप में कार्य करके, इन स्रावों के प्रसार को कम करते हैं, इस प्रकार क्लैमाइडिया, गोनोरिया, सिफलिस जैसे भयानक एसटीआई होने की संभावना को कम करते हैं।

इसलिए, अनचाहे गर्भ और एसटीआई से सुरक्षित रहने के लिए हर बार यौन संबंध बनाने के लिए कंडोम का उपयोग करना सुनिश्चित करें।

(और पढ़े – यौन संचारित रोगों की रोकथाम और एसटीडी बचने के तरीके)

कंडोम मिलने में आसान, स्टोर करने में आसान, व्यापक रूप से उपलब्ध है, और सबसे प्रभावी (अधिकांश मामलों में) है। वे आपको अवांछित गर्भधारण और भयानक एसटीआई से दूर रहने में मदद कर सकते हैं। हालांकि, अपनी यौन सुरक्षा और आनंद सुनिश्चित करने के लिए अपने लिए सही कंडोम खरीदना और उपयोग करना महत्वपूर्ण है।

(और पढ़े – क्या आप जानते है कंडोम का सही इस्तेमाल? अगर नहीं तो ये खबर आपके लिए है!)

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration