कंसीव करने के टिप्स - Conceiving Tips In Hindi - Healthunbox
गर्भावस्था

कंसीव करने के टिप्स – Conceiving Tips In Hindi

कंसीव करने के टिप्स - Conceiving Tips In Hindi

Conceiving Tips In Hindi: क्या आप जल्दी कंसीव करना चाहती है? क्या आप जल्द से जल्द गर्भ धारण कर माँ बनाने का सपना देख रही है और कंसीव करने के टिप्स जानना चाहती हैं? तो इस लेख में शीघ्र गर्भवती होने के बेहतरीन उपाय (How to get Pregnant fast in Hindi) बताये गए हैं।

हर कपल चाहता है कि शादी के बाद उनके घर में छोटे बच्चे की किलकारी गूंजे। लेकिन कभी-कभी महिलाओं को कुछ शारीरिक और मानसिक कारणों से कंसीव करने में कठिनाई होती है। कई बार कुछ आदतों और कंडीशंस के कारण महिलाएं चाह कर भी कंसीव नहीं कर पाती हैं और डिप्रेशन में आ जाती है।

यदि महिला कंसीव करने की कोशिश कर रही है और फिर भी गर्भधारण नहीं कर पा रही है, तो यह कुछ आदतों को बदलकर और कुछ तरीकों को अपनाने से किया जा सकता है। ऐसे कई तरीके हैं जिनसे महिला के प्रेग्नेंट होने की संभावना बढ़ सकती है या एक महीने में गर्भवती होने की संभावना को अधिकतम किया जा सकता है। आइए जानते हैं कंसीव करने के टिप्स और तरीकों के बारे में जिनकी मदद से जल्द ही प्रेग्नेंट हुआ जा सकता है।

जल्दी कंसीव करने के टिप्स – How To Get Pregnant In Hindi

जल्दी कंसीव करने के टिप्स - How To Get Pregnant In Hindi

महिलाओं की प्रजनन क्षमता को अनुकूलित करने के लिए, उनके शरीर की बेहतर देखभाल करना एक अच्छा स्टेप है। ये गर्भवती होने के सबसे अच्छा तरीके है, जिससे कंसीव करने की संभावना बढ़ जाती है और निश्चित रूप से प्रेग्नेंट होने में मदद मिलेगी।

यहां जल्दी कंसीव करने के 10 टिप्स दी गई हैं जो स्वस्थ महिला के गर्भवती होने की संभावनाओं को बढ़ाने में मदद कर सकती हैं। आइये जानतें हैं जल्दी मां बनने के उपाय कौन-कौन से हैं।

(यह भी पढ़ें – कंसीव करने में आ रही है द‍िक्‍कत, तो शुरु करे ये 5 फर्टिलिटी योग आसन)

कंसीव करने के टिप्स गर्भधारण सही उम्र में करे – Get Pregnant At The Right Age In Hindi

कंसीव करने के टिप्स गर्भधारण सही उम्र में करे - Get Pregnant At The Right Age In Hindi

डॉक्टर 18 और 28 साल के बीच गर्भावस्था के लिए सही उम्र बताते हैं। इस उम्र के बीच की महिलाओं को शादी के बाद जल्दी कंसीव करने की अधिक संभावना होती है क्योंकि इस उम्र में निषेचन अधिक होता है। एक 35 वर्षीय महिला के पास 25 साल की महिला की तुलना में प्रेग्नेंट होने की संभावना 50% कम है। इसलिए देखें कि आप कितने साल की हैं, अगर आपकी उम्र अधिक हो गयी है, तो डॉक्टर से सलाह लें।

जैसे-जैसे महिलाओं की उम्र बढ़ती है, अंडाशय में उम्र से संबंधित बदलावों के कारण उनकी प्रजनन क्षमता कम हो जाती है, जिससे उनके अंडों की मात्रा और गुणवत्ता में गिरावट होती है। बढ़ती उम्र के साथ, कुछ स्वास्थ्य समस्याओं के लिए भी खतरा बढ़ जाता है, जैसे कि गर्भाशय फाइब्रॉएड, एंडोमेट्रियोसिस और फैलोपियन ट्यूब की रुकावट, जो प्रजनन क्षमता को कम कर सकते हैं।

(यह भी पढ़ें – गर्भवती होने (गर्भधारण करने) के लिए सही सही समय)

शीघ्र गर्भवती होने के लिए अपनी फर्टिलिटी की जांच कराएं – Get Your Fertility Checked to get Pregnant fast In Hindi

शीघ्र गर्भवती होने के लिए अपनी फर्टिलिटी की जांच कराएं - Get Your Fertility Checked to get Pregnant fast In Hindi

जल्दी कंसीव करने के लिए, माँ में प्रजनन क्षमता का अधिक होना ज़रूरी है। माहवारी समय पर होती है और ओवुलेशन भी समय पर होता है, फिर भी आप कंसीव नहीं कर पा रही है तो इसके लिए यह जरूरी है कि आप अपनी फर्टिलिटी की जांच के लिए डॉक्टर से मिलें। यदि मात्रा कम आती है, तो पहले उपचार कराएं।

महिला और पुरुष दोनों को बांझपन का मूल्यांकन करने पर विचार करना चाहिए यदि महिला 35 वर्ष या उससे अधिक की है और जन्म नियंत्रण का उपयोग किए बिना नियमित रूप से रिलेशन बनाने के छह महीने बाद भी गर्भवती नहीं हुई है।

इसके आलावा एक महिला जो 35 वर्ष से कम है तो उसको और उसके साथी को एक प्रजनन विशेषज्ञ से परामर्श करना चाहिए अगर वह नियमित रूप से असुरक्षित रिलेशन करने के एक साल बाद गर्भवती होने में विफल रही है।

(और पढ़े – गर्भनिरोधक दवाओं और उनके शरीर पर पड़ने वाले प्रभाव के बारे में जानें…)

कंसीव करने के टिप्स पहली प्रेग्नेंसी को अबॉर्ट न करें – Do Not Abort The First Pregnancy In Hindi

कंसीव करने के टिप्स पहली प्रेग्नेंसी को अबॉर्ट न करें - Do Not Abort The First Pregnancy In Hindi

अगर आपने बिना किसी प्लानिंग के कंसीव कर लिया है और आप उसे अबॉर्ट करने के बारे में सोचा रही हैं तो कभी भी अपनी पहली प्रेग्नेंसी को अबॉर्ट करने के लिए मत सोचें। ये गलतियाँ अक्सर नवविवाहितों के साथ होती हैं और फिर उन्हें कंसीव करने के लिए बहुत प्रयास करने पड़ते हैं। वास्तव में पहली गर्भावस्था आपके निषेचन को समृद्ध करती है। यदि अबॉर्शन से पहली प्रेग्नेंसी को समाप्त करवा दिया जाता है, तो बाद में कई जटिलताएं होती हैं।

(यह भी पढ़ें – गर्भाधारण से बचने के लिए प्रजनन जागरूकता विधि)

प्रेग्नेंट होने के उपाय पीरियड साइकिल को रेगुलर करें – Regular Period Cycle to get Pregnant fast in Hindi

प्रेग्नेंट होने के उपाय पीरियड साइकिल को रेगुलर करें - Regular Period Cycle to get Pregnant fast in Hindi

जल्दी कंसीव करने के लिए, यह महत्वपूर्ण है कि आपके पीरियड्स का एक उचित चक्र हो। वे निर्धारित तिथि से कुछ दिन पहले या बाद में तो नहीं हो रहे हैं। यदि पीरियड्स रेगुलर नहीं हैं, तो तुरंत एक डॉक्टर से मिलें और इलाज करवाएं। गर्भवती होने के लिए पीरियड्स का समय पर आना सबसे महत्वपूर्ण कारक है।

एक महिला जो बच्चा पैदा करना चाहती है, उसे यह देख लेना चाहिए कि क्या उसके पीरियड्स के पहले दिन हर महीने उन्हीं दिनों में आते हैं, जिसे नियमित माना जाता है। इसके विपरीत, उसकी पीरियड साइकिल अनियमित भी हो सकती है, जिसका अर्थ है कि उसकी पीरियड साइकिल की लंबाई महीने-दर-महीने बदलती रहती है। एक कैलेंडर पर इस जानकारी को ट्रैक करके, एक महिला बेहतर तरीके से पता कर सकती है वह कब ओवुलेट होती है, यही वह समय है जब उसका अंडाशय हर महीने एक अंडा जारी करेगा।

अमेरिकन प्रेग्नेंसी एसोसिएशन के अनुसार, एक महिला का अंडा रिलीज़ होने के बाद केवल 12 से 24 घंटों के लिए फर्टाइल होने के लिए जीवित रहता है। हालांकि, एक पुरुष का शुक्राणु एक महिला के शरीर में पांच दिनों तक जीवित रह सकता है।

(और पढ़े – पीरियड्स की जानकारी और अनियमित पीरियड्स के लिए योग और घरेलू उपचार…)

जल्दी प्रेगनेंट होने के तरीके ओवुलेशन पीरियड पर नजर रखें – Monitor Ovulation Period to get Pregnant fast in Hindi

जल्दी प्रेगनेंट होने के तरीके ओवुलेशन पीरियड पर नजर रखें - Monitor Ovulation Period to get Pregnant fast in Hindi

पीरियड आने से दो हफ्ते पहले का समय महिला का ओवुलेशन टाइम होता है। इस समय गर्भ धारण करने का प्रयास करें। डॉक्टरों का कहना है कि ओवुलेशन पीरियड के दौरान कंसीव करने की संभावना 60 से 70 प्रतिशत होती है। इस समय के दौरान, कोशिश करने पर कंसीव करने की संभावना बहुत बढ़ जाती है।

नियमित मासिक धर्म चक्र वाली महिलाएं अपने पीरियड्स के आने से लगभग दो हफ्ते पहले ओवुलेट होती हैं। अनियमित चक्र वाली महिलाओं में ओवुलेशन की भविष्यवाणी करना कठिन है, लेकिन यह आमतौर पर पीरियड की शुरुआत से 12 से 16 दिन पहले होता है।

ऐसी कई विधियाँ हैं जिनका उपयोग महिलाएँ हर महीने अपने सबसे फर्टाइल दिनों को जानने के लिए इस्तेमाल कर सकती हैं और उस दौरान रिलेशन बनाकर जल्दी कंसीव करने में सफल हो सकती हैं।

होम ओव्यूलेशन-प्रेडिक्शन किट कुछ अनुमान लगा सकती हैं कि एक महिला ओवुलेट हो रही है या नहीं। इसे दवा की दुकानों पर बेचा जाता है, किट ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन के लिए मूत्र का परीक्षण करती हैं , एक पदार्थ जिसका स्तर ओव्यूलेशन के दौरान हर महीने बढ़ता है और अंडाशय को एक अंडा जारी करने का कारण बनता है।

अमेरिकन प्रेग्नेंसी एसोसिएशन की रिपोर्ट के अनुसार, सकारात्मक परीक्षण के परिणाम के तीन दिन बाद, कंसीव करने की संभावना बढ़ाने के लिए इंटिमेट होने करने का सबसे अच्छा समय है।

ओव्यूलेशन की भविष्यवाणी करने का एक अन्य तरीका ग्रीवा बलगम को ट्रैक करना है, जिसमें एक महिला नियमित रूप से अपनी योनि में बलगम की मात्रा और उपस्थिति दोनों की जांच करती है। ओव्यूलेशन से ठीक पहले जब एक महिला सबसे अधिक उपजाऊ होती है, तो बलगम की मात्रा बढ़ जाती है और यह साफ और अधिक फिसलन वाला भी हो जाता है।

जब ग्रीवा बलगम अधिक फिसलन वाला हो जाता है, तो यह शुक्राणु को अंडे के लिए अपना रास्ता बनाने में मदद कर सकता है। फर्टिलिटी एंड स्टेरिलिटी नामक पत्रिका में प्रकाशित एक अध्ययन में पाया गया कि जिन महिलाओं ने अपने गर्भाशय ग्रीवा के बलगम की लगातार जाँच की, उनमें छह महीने के भीतर गर्भवती होने की संभावना 2.3 गुना अधिक थी।

(और पढ़े – ओव्यूलेशन (अंडोत्सर्ग) क्या है, साइकिल, कब होता है, कितने दिन तक रहता है और लक्षण…)

गर्भधारण करने के लिए वजन पर कंट्रोल करें – Strive For A Healthy Body Weight to get Pregnant fast in Hindi

गर्भधारण करने के लिए वजन पर कंट्रोल करें - Strive For A Healthy Body Weight to get Pregnant fast in Hindi

बहुत अधिक वजन होने से एक महिला के कंसीव करने की संभावना कम हो सकती है, लेकिन बहुत अधिक पतला होने से भी बच्चा पैदा करना और भी मुश्किल हो सकता है। गर्भधारण करने के टोन-टोटके पर भरोसा न करें, बल्कि अपने वजन पर ध्यान दें।

वजन बढ़ने के कारण कंसीव करने में बहुत कठिनाई होती है। मोटापे के कारण लाखों महिलाएं माँ बनने का आनंद नहीं ले पाती हैं क्योंकि अधिक वजन के कारण उनके फैलोपियन ट्यूब और अंडाशय के बंद होने की संभावना बढ़ जाती है। कई महिलाएं मोटापे के कारण अपने गर्भाशय में सिस्ट का सामना करती हैं। इसलिए, जल्दी से कंसीव करने के लिए, वजन को कंट्रोल करें।

शरीर में बहुत अधिक वसा होने से अतिरिक्त एस्ट्रोजन का उत्पादन होता है, जो ओव्यूलेशन में हस्तक्षेप कर सकता है। अमेरिकन सोसाइटी फॉर रिप्रोडक्शन मेडिसिन के अनुसार, एक महिला के गर्भवती होने से पहले 5 से 10 प्रतिशत वजन कम करने से प्रेग्नेंट होने की संभावना बढ़ायी जा सकती है।

2017 में किए गए एक अध्ययन में पाया गया कि जिन जोड़ों में दोनों मोटे होते हैं उन्हें गर्भवती होने में 55 से 59 प्रतिशत तक का समय लग सकता है, उन जोड़ों की तुलना में जो मोटे नहीं हैं।

जो महिलाएं बहुत पतली हैं, उन्हें नियमित रूप से पीरियड्स नहीं हो रहे हैं तो उनका ओवुलेशन रूक सकता हैं। एक महिला जो कम वजन की है उसे गर्भधारण करने में चार गुना समय लग सकता है। इसलिए कंसीव करने के टिप्स में स्वस्थ शरीर के वजन को बनाये रखने के लिए प्रयास करें।

(और पढ़े – गर्भनिरोधक के सभी उपाय और तरीके…)

जल्दी गर्भधारण करने के उपाय सेहतमंद आहार खाएं – Eat Healthy Foods to get Pregnant fast in Hindi

जल्दी गर्भधारण करने के उपाय सेहतमंद आहार खाएं - Eat Healthy Foods to get Pregnant fast in Hindi

जल्दी गर्भवती होने के लिए, माँ को एक स्वस्थ और सेहतमंद आहार खाना और अपनी डाइट पर पूरा ध्यान देना ज़रूरी है। आयरन और कैल्शियम की कमी से कंसीव करने की संभावना कम हो जाती है क्योंकि फर्टिलाइजेशन उचित आहार से जुड़ा मामला है। अगर महिलाएं खुश हैं और अच्छा खाना खाती हैं तो उनके कंसीव करने की संभावना 30% बढ़ जाती है।

जो महिलाएं गर्भधारण करने का प्रयास कर रही हैं, वे गर्भवती होने से पहले ही प्रसवपूर्व विटामिन लेना शुरू कर सकती हैं। इस तरह एक महिला अपनी प्रेगनेंसी के लिए अधिक सहमत हो सकती है और गर्भावस्था के दौरान उस पर बनी रह सकती है।

रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र महिलाओं को जन्म दोषों को रोकने में मदद करने के लिए गर्भवती होने से पहले कम से कम एक महीने के लिए हर दिन 400 मिलीग्राम फोलिक एसिड लेने का आग्रह करता है।

फोलिक एसिड सप्लीमेंट शुरू करना एक अच्छा विचार है क्योंकि कंसीव होने के 3 से 4 सप्ताह बाद तंत्रिका ट्यूब मस्तिष्क और रीढ़ में विकसित होती है।

कंसीव करने के टिप्स में नशे को ना कहें – Conceiving Tips Kick The Smoking And Drinking Habits In Hindi

कंसीव करने के टिप्स में नशे को ना कहें - Conceiving Tips Kick The Smoking And Drinking Habits In Hindi

धूम्रपान करने से महिलाओं और पुरुषों दोनों में प्रजनन समस्याएं हो सकती हैं। नए युग में, लड़कियां सिगरेट और शराब भी पीती हैं, लेकिन इस आदत के कारण उन्हें कंसीव करने में समस्या आती है। दरअसल सिगरेट और शराब के सेवन से प्रजनन क्षमता कम हो जाती है और यह सीधे महिला के ओवुलेशन को प्रभावित करता है। सिगरेट और शराब के लगातार सेवन से महिलाओं की प्रजनन क्षमता पर बहुत बुरा असर पड़ता है।

अमेरिकन सोसाइटी फॉर रिप्रोडक्टिव मेडिसिन के अनुसार, सिगरेट के धुएं में पाए जाने वाले रसायन, जैसे निकोटीन और कार्बन मोनोऑक्साइड, एक महिला के अंडों के नुकसान की दर को तेज करते हैं।

मायो क्लिनिक के अनुसार, धूम्रपान एक महिला के अंडाशय की उम्र और अंडों की आपूर्ति को समय से पहले समाप्त कर देता है।

कंसीव करने के टिप्स में महिलाओं के लिए सेकेंड हैंड स्मोक से दूर रहना भी एक अच्छा विचार है, जिससे उनके गर्भवती होने की संभावना प्रभावित हो सकती है। गर्भधारण करने की कोशिश करते समय मारिजुआना और अन्य मनोरंजक दवा के उपयोग से भी बचना चाहिए।

जब आप गर्भवती होने की उम्मीद कर रही हो तो शराब से बचना एक महिला के लिए सबसे सुरक्षित है। एक महिला को भी शराब का सेवन बंद कर देना चाहिए अगर वह गर्भनिरोधक का उपयोग करना बंद कर देती है क्योंकि वह गर्भवती होना चाहती है।

द अमेरिकन कॉलेज ऑफ ओब्स्टेट्रिशियन एंड गायनेकोलॉजिस्ट के अनुसार, मध्यम (एक से दो ड्रिंक प्रति दिन) या भारी स्तर (प्रति दिन दो से अधिक ड्रिंक) पर शराब पीना एक महिला के लिए गर्भवती होना मुश्किल बना सकता है।

एक बार जब एक महिला गर्भवती हो जाती है, तो शराब की कोई सुरक्षित मात्रा नहीं होती है।

(यह भी पढ़ें – शराब पीना कैंसर का कारण बन सकता है)

जल्दी गर्भधारण करने के लिए गर्भनिरोधक का प्रयोग छोड़ दें – Stop Using Contraception to get Pregnant fast in Hindi

जल्दी गर्भधारण करने के लिए गर्भनिरोधक का प्रयोग छोड़ दें - Stop Using Contraception to get Pregnant fast in Hindi

जब आप कंसीव करने की कोशिश कर रही हैं, तो एक साल से पहले गर्भनिरोधक का उपयोग न करें। वास्तव में, कंस्ट्रासेप्टिव पिल्स के लगातार उपयोग से ओव्यूलेशन की प्रक्रिया पर गहरा प्रभाव पड़ता है और लंबे समय तक कंसीव नहीं होने देता है। जब भी आप मां बनना चाहती हैं, तो सबसे पहले गर्भनिरोधक के इस्तेमाल को न कहें और सप्ताह में दो से तीन बार रिलेशन बनायें।

(यह भी पढ़ें – गोली द्वारा गर्भपात (मेडिकल एबॉर्शन) कैसे किया जाता है, तरीका, नुकसान और कानून)

कंसीव करने के टिप्स में लुब्रिकेंट्स को ना कहें – Say No To Lubricants to get Pregnant fast in Hindi

कंसीव करने के टिप्स में लुब्रिकेंट्स को ना कहें - Say No To Lubricants to get Pregnant fast in Hindi

यदि आप जल्द ही माँ बनना चाहती हैं, तो संबंध बनाते समय लुब्रिकेंट्स का उपयोग गलती से भी न करें। ये स्नेहक शुक्राणु को अंडाशय में जाने से रोकते हैं और इस तरह से गर्भ धारण करने और कंसीव करने की संभावना कम हो जाती है। रिलेशन बनाते समय महिलाओं के शरीर में पर्याप्त तरल बनता है, जो शुक्राणु को अंडाशय में ले जाने में सहायक होता है, और यह गर्भाधान की संभावना को भी मजबूत करता है। इसलिए, कपल्स को जल्दी कंसीव करने के लिए लुब्रिकेंट्स का उपयोग नहीं करना अच्छा होता है।

जल्दी कंसीव करने के टिप्स तनाव को कहें बाय बाय – Tips To Conceive Quickly Say Stress Bye In Hindi

जल्दी कंसीव करने के टिप्स तनाव को कहें बाय बाय - Tips To Conceive Quickly Say Stress Bye In Hindi

आज के दौर में तनाव कंसीव न कर पाने का सबसे बड़ा दुश्मन है। तनाव और अवसाद के कारण प्रेग्नेंट होने की संभावना समाप्त हो जाती है। इसलिए, यदि आप जल्द ही प्रेग्नेंट होना चाहती हैं, तो जल्दी मां बनने के उपाय में सबसे पहले, तनावमुक्त रहें और अपने आप से तनाव को दूर करें। यदि आप कामकाजी महिला हैं, तो ऑफिस से छुट्टी लें, कहीं बाहर घूमने जाएं, पति के साथ क्वालिटी समय बिताएं, अच्छी और स्वस्थ डाइट प्लान का पालन करें। इसके अलावा  नियमित रूप से व्यायाम करने से भी तनाव कम होता है।

(यह भी पढ़ें – मानसिक तनाव दूर करने के घरेलू उपाय)

एक ही दिन में प्रेग्नेंट होना का तरीका फर्टाइल विंडो के दौरान हर दूसरे दिन रिलेशन बनाएं – make Relation Every Other Day During The Fertile Window In Hindi

एक ही दिन में प्रेग्नेंट होना का तरीका फर्टाइल विंडो के दौरान हर दूसरे दिन रिलेशन बनाएं - make Relation Every Other Day During The Fertile Window In Hindi

फर्टाइल विंडो 6 दिनों की होती है ओव्यूलेशन से पांच दिन पहले और ओव्यूलेशन के दिन तक। ये हर महीने ऐसे दिन होते हैं जब एक महिला सबसे अधिक फर्टाइल होती है और उसके कंसीव करने के चांस सबसे अधिक होते हैं।

कुछ महिलाएं नए तकनीकी उपकरणों की ओर रुख कर रही हैं, जैसे कि फर्टिलिटी ट्रैकिंग ऐप्स और वेबसाइट, लेकिन 2016 में किए गए एक अध्ययन से पता चलता है कि ऐप उतने सटीक नहीं हो सकते हैं।

अनुसंधान से पता चला है कि “उपजाऊ खिड़की” (37 प्रतिशत) के दौरान हर दिन संबंध बनाने वाले जोड़ों के बीच गर्भावस्था की दरों में कोई बड़ा अंतर नहीं देखा गया था, यह उन जोड़ों की तुलना में है जिन्होंने इसे हर दूसरे दिन (33 प्रतिशत) किया था। कंसीव करने की कोशिश करने वाले कपल के लिए हर दूसरे दिन रिलेशन बनान आसान हो सकता है।

कंसीव करने के बारे में बहुत सी आम गलत धारणाएँ और मिथ फैले हुए हैं। उदाहरण के लिए, इस बात का कोई सबूत नहीं है कि कोई विशेष पोजीशन महिला को प्रेग्नेंट होने की संभावना को प्रभावित करेगी, और न ही रिलेशन बनाने के बाद गर्भधारण की संभावना को बढ़ाने के लिए एक निश्चित समय तक एक महिला को लेटना जरुरी होता है।

लेकिन कुछ पानी आधारित योनि स्नेहक हैं जो शुक्राणु की गति को कम कर सकते हैं।

उपरोक्त सभी जल्दी मां बनने के उपाय (Pregnant fast in Hindi) कंसीव करने की संभावना को मजबूत करते हैं और महिला जल्द ही प्रेग्नेंट हो जाती है। यहां यह ध्यान रखना जरुरी है कि कंसीव करने के इन उपायों में कुछ समय भी लग सकता है।

सभी उपायों को डॉक्टरों द्वारा प्रस्तावित किया जाता है और उनकी सलाह से दिया जाता है। अगर ये उपाय करने के बाद भी आप कंसीव करने में सक्षम नहीं हैं, तो दंपति को एक मेडिकल चेकअप करवाना चाहिए ताकि अगर आपको स्वास्थ्य संबंधी कुछ समस्याएं हों, तो उन्हें समय रहते दूर किया जा सके और महिला का माँ बनने का सपना पूरा हो सके।

कंसीव करने के टिप्स (Conceiving Tips In Hindi) का यह लेख आपको कैसा लगा हमें कमेंट्स कर जरूर बताएं।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration