नवजात शिशु को उल्टी होना, कारण, लक्षण और घरेलू उपाय – Baby vomiting causes, symptoms and home Remedies in Hindi

नवजात शिशु को उल्टी होना, कारण, लक्षण और घरेलू उपाय - Baby vomiting causes, symptoms and home Remedies in Hindi
Written by Diksha

baby vomiting in hindi जब आप अपने न्यू बॉर्न बेबी को उल्टी करते देखते हैं तो आपका दिल टूट जाता है। जब भी आपके बच्चे को उल्टी होती और वह आपको असहाय रूप से देखता है, तो आप वह सब करने के बारे में सोचते हैं, जिससे उसके दर्द को दूर किया जा सके।

नवजात शिशु में कभी-कभी उल्टी होना चिंता करने की बात नहीं है। कभी-कभी, शरीर से अवांछित और हानिकारक खाद्य पदार्थों को बहार फेंकने के लिए यह जरुरी है।

लेकिन अगर यह अक्सर होता है, तो यह बच्चे को पोषण से वंचित कर देता है। यहाँ हम आपको बता रहे हैं कि ऐसा क्यों होता है और आप नवजात शिशु को उल्टी की समस्या का समाधान कैसे कर सकते हैं?

1. शिशु में स्पिलिंग या दूध का निकलना और उल्टी में अंतर – Difference between infant spilling milk and vomiting in Hindi
2. शिशु में दूध उगलना और रिफ्लक्स क्यों होता है – What is spilling and reflux in baby in Hindi
3. शिशु को उल्टी कैसे आती है – How does new born child vomit in Hindi
4. शिशु में उल्टी करने के कारण – Causes of vomiting in baby in Hindi

5. नवजात शिशु को गंभीर उल्टी होने के लक्षण – Symptoms when infant child vomiting can’t stop in Hindi
6. बेबी को उल्टी होने पर चिकित्सक से कब मिले  – When to see doctor if baby vomits in Hindi
7. नवजात शिशु की उल्टी रोकने के लिए घरेलू उपचार –  Navjaat Shishu Ki Ulti Rokne Ke Upay in Hindi

शिशु में स्पिलिंग या दूध का निकलना और उल्टी में अंतर – Difference between infant spilling milk and vomiting in Hindi

शिशु में स्पिलिंग या दूध का निकलना और उल्टी में अंतर - Difference between infant spilling milk and vomiting in Hindi

शिशु में स्पिलिंग या दूध का निकलना आम बात है, लेकिन यह माता-पिता के लिए परेशान होने की बात हो सकती है, खासकर अगर बच्चा इससे परेशान हो। आपके शिशु की स्पिलिंग या उल्टी ठीक करने के कई तरीके हैं। शिशु के सामान्य रूप से दूध उगलना उल्टी से अलग हैं, जहां बच्चा अपने पेट को मजबूती से बलपूर्वक खाली कर देता है।

(और पढ़े – नवजात बच्चों को इंफेक्शन से बचाता है मां का दूध…)

शिशु में दूध उगलना और रिफ्लक्स क्यों होता है – What is spilling and reflux in baby in Hindi

नवजात शिशु के पेट के अंदर के ऊपरी हिस्से पर वाल्व अभी भी विकसित हो रहे होते हैं, और वाल्व ठीक से बंद नहीं होने पर दूध कभी-कभी वापस आ जाता है। इसमें शिशु कभी-कभी दूध को मुंह से बाहर फेकता है, और कभी-कभी दूध केवल आंशिक रूप से पेट और मुंह के बीच ट्यूब तक आता है, फिर पेट में वापस चला जाता है। इसका एकमात्र संकेत यह हो सकता है कि शिशु परेशान है, या अच्छी तरह से सो नहीं रहा है, और जल्दी जल्दी दूध पी रहा है। वह अपनी पीठ को भी खींच सकता है और अपने पैरों का विस्तार कर सकता है।

यह समस्या आमतौर पर 6 से 12 महीने के बीच बंद हो जाती है। ज्यादातर समय में शिशु को उल्टी और दूध निकलने के लिए दवा की आवश्यकता नहीं होती है क्योंकि यह आमतौर पर हानिरहित होता है।

(और पढ़े – नवजात शिशु की देखभाल कैसे करें…)

शिशु को उल्टी कैसे आती है – How does new born child vomit in Hindi

नवजात शिशु और कुछ ही महिने के शिशु को कभी-कभी दूध की उल्टी होना सामान्य बात है। ज्यादातर मामलों में, यह एक से दो दिनों तक ही होता है और यह किसी भी प्रकार का गंभीर संकेत नहीं है।

नवजात शिशु और छोटे शिशु में उल्टी का सबसे आम कारण गैस्ट्रोएंटेराइटिस (gastroenteritis) है, हालांकि लगातार उल्टी होना कभी-कभी आपके शिशु के गंभीर रूप से निर्जलित या डिहाइड्रेट होने का कारण बन सकती है और कभी-कभी यह मैनिंजाइटिस (meningitis)- मस्तिष्क ज्वर, जैसी कुछ गंभीर बिमारियों का संकेत हो सकती है।

यदि आपका बच्चा उल्टी करता है और उसको अन्य लक्षण हैं तो आप डॉक्टर का परामर्श ले।

(और पढ़े – नवजात शिशुओं के बारे में रोचक तथ्य…)

शिशु में उल्टी करने के कारण – Causes of vomiting in baby in Hindi

  1. खाने से एलर्जी होने पर शिशु का मुह से दूध निकलना – Food allergy can cause baby vomiting after every feed in Hindi
  2. फ़ूड पोइसोनिंग के कारण के शिशु को उल्टी होना – Food Poisoning can cause toddler vomiting in Hindi
  3. शिशु का दूध निकालना एपेंडिसाइटिस के कारण – Appendicitis Baby vomiting in Hindi
  4. शिशु को उल्टी होने का कारण आंत्रशोथ – Gastroenteritis cause of baby vomiting in Hindi
  5. नवजात शिशु को किसी अन्य संक्रमण से होने उल्टी होना – Other infections leading to vomiting in infant in Hindi

शिशु में उल्टी होने के कई कारण हैं, लेकिन आपको चिंता तभी करनी चाहिए जब वह पेट से उल्टी करे और बीमार दिखे। आईये हम आपको शिशु में उल्टी होने कारण बता दें –

खाने से एलर्जी होने पर शिशु का मुह से दूध निकलना – Food allergy can cause baby vomiting after every feed in Hindi

खाने से एलर्जी होने पर शिशु का मुह से दूध निकलना - Food allergy can cause baby vomiting after every feed in Hindi

खाने से एलर्जी होने पर शिशु में उल्टी हो सकती है, साथ ही अन्य लक्षण, जैसे उभरे हुए-लालया खुजली वाली त्वचा (urticaria) चेहरे की सूजन, आंखों, होंठ, जीभ या मुंह की अंदर के उपरी हिस्से में सूजन होना।

(और पढ़े – एलर्जी लक्षण, बचाव के तरीके और घरेलू उपचार…)

फ़ूड पोइसोनिंग के कारण के शिशु को उल्टी होना – Food Poisoning can cause toddler vomiting in Hindi

आकस्मिक रूप से कभी शिशु द्वारा कुछ गलत खाद्द पदार्थ निगलने से आपके बच्चे को उल्टी हो सकती है। यदि आपको लगता है कि यह फ़ूड पोइसोनिंग मामला है, तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें या अपने बच्चे को अपने निकटतम दुर्घटना और आपातकालीन विभाग में ले जाएं।

(और पढ़े – फूड पॉइजनिंग के कारण, लक्षण, निदान, दवा और इलाज…)

शिशु का दूध निकालना एपेंडिसाइटिस के कारण – Appendicitis Baby vomiting in Hindi

  • एपेंडिसाइटिस अपेंडिक्स की एक दर्दनाक सूजन है, जो की बड़ी आंत से जुड़ा एक उंगली के जैसा पाउच है। यह गंभीर पेट दर्द का कारण बनता है जो समय के साथ बदतर हो जाता है।
  • अगर आपके बच्चे को पेट दर्द होता है जो धीरे-धीरे खराब हो रहा है, तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें।
  • एपेंडिसाइटिस के अधिकांश मामलों में, अपेंडिक्स को जितनी जल्दी हो सके शल्य चिकित्सा से हटा दिया जाना चाहिए।

(और पढ़े – खाने के बाद पेट में दर्द होने के कारण और वचाव के तरीके…)

शिशु को उल्टी होने का कारण आंत्रशोथ – Gastroenteritis cause of baby vomiting in Hindi

गैस्ट्रोएंटेरिटिस आंत का संक्रमण है। यह शिशु में उल्टी का एक आम कारण होता है और आमतौर पर कुछ दिनों तक रहता है।

नवजात शिशु को किसी अन्य संक्रमण से होने उल्टी होना – Other infections leading to vomiting in infant in Hindi

उल्टी कभी-कभी गैस्ट्रोएंटेरिटिस के अलावा किसी अन्य संक्रमण का संकेत हो सकती है, जैसे यूरिनेरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन (यूटीआई), मध्य कान संक्रमण (mid ear infection), निमोनिया या मैनिंजाइटिस।

यदि शिशु को उल्टी हो रही है और संक्रमण के अन्य लक्षणों भी दिखाई दे रहे हैं, जैसे की उच्च तापमान (बुखार) और चिड़चिड़ाहट, तो अपने बच्चे को डॉक्टर के पास ले जायें।

(और पढ़े – बच्चों में निमोनिया के कारण, लक्षण, इलाज और बचाव…)

नवजात शिशु को गंभीर उल्टी होने के लक्षण – Symptoms when infant child vomiting can’t stop in Hindi

नवजात शिशु को गंभीर उल्टी होने के लक्षण – Symptoms when infant child vomiting can't stop in Hindi

यदि आपका बच्चा तरल पदार्थ लेने से इनकार करता है या आपके रीहाइड्रेशन का प्रयास करने के बाद भी उल्टी जारी रहती है, तो अपने डॉक्टर को बुलाएं। इसके अलावा, नीचे दिए गए निर्जलीकरण के किसी भी संकेत के दिखने पर डॉक्टर को कॉल करें।

यदि शिशु में:

  • उग्र व्यवहार हो।
  • शिशु कमजोर दिखाई दे।
  • शिशु के सिर पर एक मुलायम स्थान जो सामान्य तौर पर सपाट दिखता हो, उसका कुछ हद तक दबा हुआ दिखना।
  • रोते समय थोड़े से या कोई आँसू नहीं आयें।
  • एक बच्चे में प्रति दिन चार से कम गीले डायपर (6 महीने से कम उम्र के शिशु में गीले डायपर के बिना 4-6 घंटे से अधिक समय बीतना)।

(और पढ़े – शिशु को डायपर रैशेज से बचाने के लिए घरेलू उपाय…)

बेबी को उल्टी होने पर चिकित्सक से कब मिले  – When to see doctor if baby vomits in Hindi

यदि आप निम्न में से भी कोई लक्षण नोटिस करते हैं तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें, ये संकेत गैस्ट्रोएंटेराइटिसकी बीमारी के संकेत हैं जो अधिक गंभीर हो सकते हैं:

  • आपके बच्चे के सामान्य आहार को फिर से शुरू करने की कोशिश करते ही उसमे उल्टी फिर से शुरू हो जाती है।
  • यदि आपके बच्चे को 24 घंटों के लिए मौखिक इलेक्ट्रोलाइट समाधान लेने के बाद उल्टी हो रही है।
  • उल्टी आने के बीच के समय में आपके बच्चे का पेट कठोर, सूजा हुआ और दर्दभरा लगता है।
  • शिशु को बहुत बुरा पेट का दर्द है।
  • नवजात शिशु की उल्टी जो सिर की चोट के बाद शुरू होती है।
  • बेबी बॉय के स्क्रोटम में सूजन, लाली, या दर्द।
  • ब्राइट हरे या पीले-हरे तरल पदार्थ, रक्त, या भूरे रंग की उल्टी या ग्राउंडेड कॉफ़ी जैसा उल्टी (जो पेट के एसिड के साथ रक्त के मिश्रण का संकेत हो सकता है)।
  • बुखार के साथ उल्टी (6.4 वर्ष से कम उम्र के शिशु में 100.4 डिग्री फ़ारेनहाइट / 38 डिग्री सेल्सियस या
  • इससे बड़े बच्चे में 101-102 डिग्री फ़ारेनहाइट / 38.3-38.9 डिग्री सेल्सियस से अधिक का बुखार होना)
  • अगर आपका शिशु 2 महीने से कम का है और उसे उल्टी हो रही है (केवल दूध निकलना नहीं, उल्टी का होना)
  • नवजात शिशु में बलपूर्वक उल्टी होना, विशेष रूप से वह बच्चा जो 3 महीने से कम का है।

(और पढ़े – नवजात शिशु में पीलिया (जॉन्डिस) के लक्षण, कारण और इलाज…)

नवजात शिशु की उल्टी रोकने के लिए घरेलू उपचार –  Navjaat Shishu Ki Ulti Rokne Ke Upay in Hindi

  1. शिशु की उल्टी रुकने पर स्तनपान करना जारी रखें  – Continue to breast-feed when baby vomit stops in Hindi
  2. शिशु को उल्टी होने पर अपने बच्चे को अधिक बार डकार दिलायें  – Burp your baby more frequently in Hindi
  3. शिशु की उल्टी रोकने के लिए भूख लगने पर ही फीड करायें – Feed on demand, ideally in smaller, more frequent meals to kid in Hindi
  4. नवजात शिशु को उल्टी होने पर विभिन्न निप्पल आकार के साथ प्रयोग करें – Experiment with different nipple sizes for stopping vomiting in infant in Hindi
  5. शिशु को दूध पिलाने के बाद कम से कम 30 मिनट तक सीधे रखें – Keep your baby upright at least 30 minutes after feeding in Hindi
  6. ओरल रीहाइड्रेशन सोल्यूशन दे अगर शिशु को उल्टी हो – Give oral rehydration solution if infant vomiting in Hindi

ज्यादातर मामलों में, आप अपने शिशु का घर पर ही सुरक्षित रूप से इलाज कर सकते हैं। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि आप यह सुनिश्चित करें की शिशु में निर्जलीकरण (dehydration) को रोकने के लिए उसे तरल पदार्थ पिलाते रहें। अगर आपका शिशु हर समय थूकता है तो थूक को कम करने में मदद करने के लिए हमारे पास कुछ उपाय हैं-

शिशु की उल्टी रुकने पर स्तनपान करना जारी रखें  – Continue to breast-feed when baby vomit stops in Hindi

शिशु की उल्टी रुकने पर स्तनपान करना जारी रखें  - Continue to breast-feed when baby vomit stops in Hindi

यह बताने के लिए कोई शोध नहीं है कि मां के आहार से उसके स्तनपान करने वाले बच्चे में उल्टी होती है। यदि आप वाकई महसूस करते हैं कि आपका आहार आपके बच्चे के पाचन स्वास्थ्य को प्रभावित कर रहा है तो एक पंजीकृत आहार विशेषज्ञ से मिलें, जो आपको आहार योजना बनाने में मदद कर सकता है । मदद के लिए एक स्तनपान सलाहकार से बात करें यदि आपको लगता है कि आपके बच्चे का रिफ्लक्स शारीरिक स्तनपान के मुद्दों का परिणाम है। (बच्चा सही ढंग से लेट नहीं कर रहा है, आपके पास दूध की कम या अधिक मात्रा बन रही है)।

(और पढ़े – बच्चे को दूध पिलाने (स्तनपान कराने) के तरीके और टिप्स…)

शिशु को उल्टी होने पर अपने बच्चे को अधिक बार डकार दिलायें  – Burp your baby more frequently in Hindi

पेट में कुछ दबाव से छुटकारा पाने के लिए, प्रत्येक फ़ीड के दौरान और उसके बाद अपने शिशु को बर्प (डकार दिलायें) कराएँ, जिससे गैस या रिफ्लक्स को रोकने में मदद मिलती है। यदि आप पाते हैं कि आपके बच्चे को गैस होती है तो फ़ीड के बाद हर घंटे उसे डकार दिलायें। शिशु को बोतल से दूध पिलाते समय लगभग हर एक से 25-50 ml की फीडिंग के दौरान डकार दिलायें। यदि आप स्तनपान करा रहे हैं, तो हर बार जब वह निप्पल से अपना मुह बाहर निकालता है तब उसे डकार दिलायें।

(और पढ़े – डकार क्यों आती है डकार आने से रोकने के घरेलू उपाय…)

शिशु की उल्टी रोकने के लिए भूख लगने पर ही फीड करायें – Feed on demand, ideally in smaller, more frequent meals to kid in Hindi

जब शिशु को भूख लगे तब उसे छोटे या कम मात्रा में, दिन में कई बार भोजन दें। चाहे शिशु स्तन से या बोतल-फीड हो, आपके बच्चे को उल्टी की समस्या कम हो सकती है अगर कम मात्रा में और अधिक बार भोजन दिया जाता है। यदि आप स्तनपान कर रही हैं तो अपना नर्सिंग समय बचाएं और जैसे ही आपको लगे की आपके शिशु के पेट बहुत भर रहा है और फीड्स के बाद वह खाना थूक रहा है। यदि आपके बच्चे का पेट बहुत भर जाता है, तो यह उनके निचले एसोफीगल स्पिंसटर (esophageal sphincter) पर दबाव डालता है, और यह पेट की सामग्री को नीचे जाने देने के अपने कार्य को नहीं कर पाता।

(और पढ़े – 6 महीने के बच्चे को खिलाएं ये आहार…)

नवजात शिशु को उल्टी होने पर विभिन्न निप्पल आकार के साथ प्रयोग करें – Experiment with different nipple sizes for stopping vomiting in infant in Hindi

नवजात शिशु को उल्टी होने पर विभिन्न निप्पल आकार के साथ प्रयोग करें - Experiment with different nipple sizes for stopping vomiting in infant in Hindi

यदि आप बच्चे को बोतल से दूध पिलाते हैं, तो वह या तो बहुत तेज़, या बहुत धीमी गति से दूध पी रहा है- जिनमें से दोनों स्तिथियां अतिरिक्त गैस बनने का कारण बन सकती हैं और उल्टी का कारण बनती हैं। बहुत तेजी से या बहुत धीमी पीने का कारण अक्सर निप्पल का आकार ही होता है। यदि निप्पल ओपनिंग बहुत बड़ी है, तो आपका बच्चा दूध को बहुत तेज़ी से ले सकता है, जिससे पेट दूध और हवा से भर जाता है, और यदि ओपनिंग बहुत छोटी होती है, तो वह अतिरिक्त हवा निगल लेगा, जिससे उल्टी आ सकती है। विभिन्न आकारों और ओपनिंग वाले निपल्स के साथ प्रयोग करें।

(और पढ़े – 9 आकार के होते है महिलाओं के स्तन, जानिए स्तनों के आकार के बारे में…)

शिशु को दूध पिलाने के बाद कम से कम 30 मिनट तक सीधे रखें – Keep your baby upright at least 30 minutes after feeding in Hindi

शिशुओं को रिफ्लक्स के लिए अधिक संवेदनशील माना जाता है क्योंकि वे अपना अधिकांश समय लेटे रहते हैं, उनका आहार अधिकतर तरल पदार्थ है और उनके एसोफीगल स्पिंसटर (esophageal sphincter) की मांसपेशी टोन पूरी तरह से विकसित नहीं हुई होती है। फीड के बाद लगभग 30 मिनट तक बच्चे को सीधे रखना उल्टी रोकने का एक अच्छा विचार है। यह दूध को पाचन तंत्र के नीचे जाने में मदद करेगा। आप बेबी के क्रिब को टॉवल से उठाकर या एक वेज तकिया (wedge pillow) का लगभग 30 डिग्री घुमाके  उपयोग कर सकते हैं ताकि सोने के दौरान शिशु का सर थोड़ा सा ऊंचा हो सके।

(और पढ़े – शिशु के रोने के कारण और उसे चुप कराने के तरीके…)

ओरल रीहाइड्रेशन सोल्यूशन दे अगर शिशु को उल्टी हो – Give oral rehydration solution if infant vomiting in Hindi

ओरल रीहाइड्रेशन सोल्यूशन एक विशेष पाउडर है जिसे आप पेय या पानी  में बना सकते हैं। इसमें उल्टी और दस्त के माध्यम से खोए गए पानी और लवण को वापस शरीर में रीस्टोर करने के लिए चीनी और नमक मिला हुआ होता हैं।

उल्टी होने वाले शिशु को ओआरएस से बना पानी जैसे स्पष्ट तरल पदार्थ के छोटे छोटे सिप्स देने चाहिए। जब तक वह बेहतर महसूस नहीं करता है तब तक फलों के रस और गैस मिश्रित पेय से बचा जाना चाहिए। अगर शिशु हाइड्रेटेड है और उसका एपेटाइट ठीक हो गया है, तो आप आपके बच्चे के ठोस भोजन को सामान्य रूप से दे सकते हैं।

फिर भी यदि आप निर्जलीकरण के बारे में चिंतित हैं तो अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट से बात करें। वे आपके बच्चे के लिए मौखिक पुनर्निर्माण समाधान (ors) देने की सिफारिश कर सकते हैं। यदि आपका बच्चा ओआरएस को लेने में असमर्थ है तो अपने डॉक्टर या नर्स से संपर्क करें।

(और पढ़े – बच्चों के दस्त (डायरिया) दूर करने के घरेलू उपाय…)

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration