एमेनोरिया क्या है (मासिक धर्म का रुकना) प्रकार, कारण, लक्षण, इलाज और रोकथाम – What is Amenorrhea (Absence Of Menstruation) In Hindi

एमेनोरिया क्या है (मासिक धर्म का रुकना) प्रकार, कारण, लक्षण, इलाज और रोकथाम – What is Amenorrhea (Absence Of Menstruation) In Hindi
Written by Pratistha

एमेनोरिया से सम्बंधित महिलाएं अपने पीरियड को प्राप्त नहीं करती हैं। यह समस्या अनियमित पीरियड्स (Periods) से सम्बंधित नहीं है। हालाँकि यह कोई बीमारी नहीं है, क्योंकि यह एक चिकित्सकीय स्थिति से सम्बंधित लक्षण या संकेत हो सकता है, जिसका इलाज संभव है। अनेक महिलाऐं गर्भवती या रजोनिवृत्त होने के बगैर भी अपने 3 या 3 से अधिक पीरियड्स को मिस कर सकती हैं, जो कि एक आम बात नहीं है। मासिक धर्म की अनुपस्थिति अनेक प्रकार की समस्याओं की ओर संकेत दे सकती है, जिनमें शामिल हैं:  थायराइड प्रोब्लम, पिट्यूटरी ट्यूमर, PCOS इत्यादि। इसके अतिरिक्त एमेनोरिया बाँझपन या ऑस्टियोपोरोसिस (Osteoporosis) जैसी जटिलताओं को भी उत्पन्न कर सकता है अतः इसका उपचार कराना अतिआवश्यक होता है।

अतः इस लेख के माध्यम से आप जानेंगे कि एमेनोरिया क्या है, इसके प्रकार, कारण, एमेनोरिया के लक्षण क्या हैं तथा इसका निदान और इलाज कैसे किया जा सकता है और रोकथाम के बारे में।

1. एमेनोरिया क्या है – What is Amenorrhea In Hindi
2. एमेनोरिया (मासिक स्राव की अनुपस्थिति) के प्रकार – Types of amenorrhea in hindi

3. एमेनोरिया के लक्षण – Amenorrhea (Absence Of Menstruation) Symptoms In Hindi
4. मासिक स्राव की अनुपस्थिति में डॉक्टर को कब दिखाना है – When to see doctor in absence of menstrual cycle in hindi
5. एमेनोरिया (मासिक स्राव नहीं होना) के कारण – Amenorrhea Causes In Hindi
6. एमेनोरिया के जोखिम कारक – Amenorrhoea Risk Factors in hindi
7. मासिक धर्म बंद होने (एमेनोरिया) की जटिलताएं – Amenorrhea Complications in hindi
8. एमेनोरिया की जांच और निदान – Amenorrhoea Diagnosis in hindi
9. मासिक धर्म का रुकने (एमेनोरिया) का उपचार – Amenorrhea (Absent menstruation) Treatment In Hindi
10. एमेनोरिया की रोकथाम – Amenorrhoea Prevention in hindi
11. एमेनोरिया में आहार –  Amenorrhea Diet In Hihdi
12. एमेनोरिया के लिए योग – Amenorrhea yOga in hindi

एमेनोरिया क्या है – What is Amenorrhea In Hindi

एमेनोरिया क्या है - What is Amenorrhea In Hindi

एमेनोरिया (amenorrhea) महिलाओं में मासिक धर्म की अनुपस्थिति से सम्बंधित है। जिन महिलाओं में कम से कम तीन मासिक धर्म अर्थात पीरियड्स का अभाव होता है, उन्हें एमेनोरिया की सिकायत होती है, इसके अंतर्गत युवावस्था से गुजरने वाली युवतियों, जो गर्भवती नहीं हैं और रजोनिवृत्ति से न गुजरने वाली महिलाओं को शामिल किया जाता है। क्योंकि गर्भावस्था के दौरान, मासिक धर्म बंद हो जाता है और स्तनपान के दौरान भी पीरियड्स का रुकना भी आम बात है। तथा जैसे ही रजोनिवृत्ति (menopause) शुरू होती है, पीरियड पूरी तरह से रुक जाते हैं।

एमेनोरिया (amenorrhea) या मासिक धर्म न आने का सबसे आम कारण गर्भावस्था हो सकती है। एमेनोरिया के अन्य कारणों में प्रजनन अंगों या हार्मोन के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करने वाली ग्रंथियों से सम्बंधित समस्याएं शामिल हैं। अंतर्निहित स्थिति का उपचार कर एमेनोरिया का निराकरण किया जा सकता है। यह न तो कोई बीमारी है, और न ही इसका सम्बन्ध व्यक्ति के बांझपन से है। यह स्वास्थ्य समस्या का संकेत या लक्षण हो सकता है, जिस पर ध्यान देना अतिआवश्यक है।

(और पढ़े – मासिक धर्म (पीरियड्स) के देर से आने के कारण और उपाय…)

एमेनोरिया (मासिक स्राव की अनुपस्थिति) के प्रकार – Types of amenorrhea in hindi

  1. प्राइमरी एमेनोरिया – Primary Amenorrhea In Hindi
  2. सेकेंडरी एमेनोरिया – Secondary Amenorrhea In Hindi

एब्सेंस ऑफ मेंस्ट्रुएशन या एमेनोरिया (amenorrhea) मुख्य रूप से दो प्रकार का होता है: प्राइमरी एमेनोरिया और सेकेंडरी एमेनोरिया।

प्राइमरी एमेनोरिया – Primary Amenorrhea In Hindi

प्राइमरी एमेनोरिया - Primary Amenorrhea In Hindi

प्राइमरी एमेनोरिया (primary amenorrhea) वह समस्या है जब यौवन के दौरान पीरियड्स शुरू नहीं होते हैं। अगर 16 साल की उम्र तक एक युवा महिला के पीरियड्स शुरू नहीं होते हैं, तो यह स्थिति प्राइमरी एमेनोरिया कहलाती है। अतः सम्बंधित महिला को डॉक्टर की मदद लेनी चाहिए। प्राइमरी एमेनोरिया काफी दुर्लभ है। आनुवंशिक समस्या या जननांगों से संबंधित संरचनात्मक विकार प्राइमरी एमेनोरिया के कारण बनते हैं। आनुवंशिक परीक्षण (Genetic testing) और हार्मोन परीक्षण इसके कारणों का निदान करने के लिए आवश्यक परीक्षण हैं।

(और पढ़े – लड़की के पहले मासिक धर्म या पीरियड से जुड़ी सम्पूर्ण जानकारी…)

सेकेंडरी एमेनोरिया – Secondary Amenorrhea In Hindi

सेकेंडरी एमेनोरिया - Secondary Amenorrhea In Hindi

सेकेंडरी एमेनोरिया (secondary amenorrhea) तब होता है, जब प्रारंभिक अवस्था में पीरियड्स शुरू होते हैं, लेकिन 3 या अधिक महीनों तक पीरियड्स बंद हो जाते हैं। इसका गर्भावस्था के दौरान या स्तनपान कराने के दौरान उत्पन्न होना सामान्य है, इसके अतिरिक्त यह अन्य स्वास्थ्य समस्याओं, जैसे अंडरएक्टिव थायरॉइड, पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (Polycystic ovary syndrome (PCOS)) के कारण भी उत्पन्न हो सकता है। गर्भावस्था परीक्षण, इमेजिंग परीक्षण और अन्य परीक्षण, एमेनोरिया के कारणों का निदान करने में सहायक होते हैं।

(और पढ़े – पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम के कारण,लक्षण और उपचार के उपाय…)

एमेनोरिया के लक्षण – Amenorrhea (Absence Of Menstruation) Symptoms In Hindi

एमेनोरिया के लक्षण - Amenorrhea (Absence Of Menstruation) Symptoms In Hindi

एब्सेंस ऑफ मेंस्ट्रुएशन या एमेनोरिया (amenorrhea) का मुख्य संकेत और लक्षण, मासिक धर्म (menstrual periods) की अनुपस्थिति है। एमेनोरिया के कारणों के आधार पर, पीरियड्स की अनुपस्थिति से सम्बंधित लक्षणों या संकेतों का अनुभव किया जा सकता है, जैसे:

(और पढ़े – योनि में सूखेपन का कारण और दूर करने के घरेलू उपाय…)

मासिक स्राव की अनुपस्थिति में डॉक्टर को कब दिखाना है – When to see doctor in absence of menstrual cycle in hindi

यदि कोई महिला लगातार तीन मासिक धर्म को मिस करती है या पीरियड्स का अनुभव नहीं करती हैं, तो उसे तुरंत डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए। इसके अतिरिक्त नवयुवतियां जिनकी उम्र 16 वर्ष या इससे अधिक है और एक भी मासिक धर्म प्रारंभ नहीं हुआ है, तो जल्द से जल्द डॉक्टर की सलाह लें।

एमेनोरिया (मासिक स्राव नहीं होना) के कारण – Amenorrhea Causes In Hindi

एमेनोरिया (मासिक स्राव नहीं होना) के कारण - Amenorrhea Causes In Hindi

एमेनोरिया (amenorrhoea) या मासिक धर्म का बंद होना, अनेक कारणों से उत्पन्न हो सकता है। एमेनोरिया के संभावित कारणों में निम्न को शामिल किया जा सकता है, जैसे:

मासिक धर्म का बंद होने का कारण दवाएं (Medications)

कुछ दवाएं, जैसे गर्भनिरोधक गोलियां birth control pills और अनेक मनो-चिकित्‍सा संबंधी दवाओं (psychiatric drugs) के कारण पीरियड्स रुक सकते हैं। अर्थात एमेनोरिया का कारण बनने वाली दवाओं में निम्न को शामिल किया जा सकता है, जैसे:

  • एंटीसाइकोटिक ड्रग (Antipsychotics drug)
  • कैंसर कीमोथेरेपी (Cancer chemotherapy)
  • एंटीडिप्रेसन्ट (Antidepressants)
  • रक्तचाप की दवाएं
  • एलर्जी से सम्बंधित दवाएं, इत्यादि।

(और पढ़े – गर्भनिरोधक दवाओं और उनके शरीर पर पड़ने वाले प्रभाव के बारे में जानें…)

मासिक स्राव नहीं होने के कारण जीवनशैली के कारक (Lifestyle factors)

कभी-कभी जीवनशैली से सम्बंधित कारक पीरियड्स रुकने या एमेनोरिया (amenorrhoea) के विकास में योगदान दे सकते हैं, जिसके अंतर्गत निम्न को शामिल किया जा सकता है:

  • अत्यधिक व्यायाम और कठोर प्रशिक्षण
  • शरीर का अत्यधिक कम वजन, शरीर में अनेक हार्मोनल कार्यों को अवरुद्ध कर सकता है, जिसके कारण एमेनोरिया की स्थिति उत्पन्न हो सकती है
  • मानसिक तनाव सम्बंधित व्यक्ति के हाइपोथैलेमस (hypothalamus) के कामकाज को अस्थायी रूप से बदल सकता है। जिसके परिणामस्वरूप ओव्यूलेशन (ovulation) और मासिक धर्म बंद हो सकता है।

(और पढ़े – कामकाजी महिलाओं में तनाव के कारण, लक्षण और उपाय…)

मासिक धर्म का बंद होने का कारण हार्मोनल असंतुलन (Hormonal imbalance)

कई प्रकार की चिकित्सकीय समस्याएं हार्मोन असंतुलन का कारण बन सकती हैं, जिसके अंतर्गत निम्न को शामिल किया जाता है:

  • पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (Polycystic ovary syndrome (PCOS))
  • थायराइड की खराबी (Thyroid malfunction) जैसे- हाइपरथायरायडिज्म या हाइपोथायरायडिज्म
  • पिट्यूटरी ट्यूमर (Pituitary tumor)
  • समय से पहले रजोनिवृत्ति (Premature menopause), इत्यादि।

(और पढ़े – थायराइड के लक्षण कारण व घरेलू उपचार…)

मासिक स्राव की अनुपस्थिति का कारण संरचनात्मक समस्याएं (Structural problems)

यौन अंगों (sexual organs) से सम्बंधित समस्याएं भी एमेनोरिया या मासिक धर्म के रुकने का कारण बन सकती हैं। यौन अंगों (sexual organs) से सम्बंधित समस्याओं में निम्न को शामिल किया जा सकता है:

  • गर्भाशय में घाव (Uterine scarring) से सम्बंधित समस्याएँ जैसे- एशरमैन सिंड्रोम (Asherman’s syndrome),
  • मुलेरियन दोष (mullerian defect)
  • टर्नर सिंड्रोम (Turner syndrome)
  • पैल्विक संक्रमण के इलाज के दौरान
  • कभी-कभी भ्रूण के विकास के दौरान प्रजनन अंगों की कमी भी एमेनोरिया का कारण बनती है।

(और पढ़े – महिलाओं की यौन स्वास्थ्य समस्याएं और समाधान…)

एमेनोरिया के जोखिम कारक – Amenorrhoea Risk Factors in hindi

एमेनोरिया के जोखिम कारक - Amenorrhoea Risk Factors in hindi

पीरियड्स रुकने या एमेनोरिया (amenorrhoea) के जोखिम कारकों में निम्न को शामिल किया जा सकता है:

  • परिवारिक इतिहास (Family history) – यदि सम्बंधित परिवार की किसी महिला को एमेनोरिया है तो उस परिवार की अन्य महिलाओं को इस समस्या का अधिक जोखिम होता है।
  • भोजन विकार (Eating disorders) – यदि किसी महिला को भोजन सम्बन्धी विकार जैसे- एनोरेक्सिया (anorexia) या बुलिमिया (bulimia) है, तो उस महिला को एमेनोरिया होने का खतरा अधिक होता है।
  • एथलेटिक प्रशिक्षण (Athletic training) – कठोर एथलेटिक प्रशिक्षण सम्बंधित महिला में एमेनोरिया होने के जोखिम को बढ़ा सकता है।

(और पढ़े – अनियमित मासिक धर्म के कारण, लक्षण और घरेलू उपचार…)

मासिक धर्म बंद होने (एमेनोरिया) की जटिलताएं – Amenorrhea Complications in hindi

मासिक धर्म बंद होने (एमेनोरिया) की जटिलताएं – Amenorrhea Complications in hindi

मासिक धर्म न आने या एमेनोरिया (Amenorrhea) की जटिलताओं में निम्न को शामिल किया जाता है:

बांझपन (Infertility) – यदि कोई महिला मासिक धर्म को प्राप्त नहीं करती है, तो वह गर्भवती नहीं हो सकती हैं। अतः एमेनोरिया, बांझपन का कारण बन सकता है।

ऑस्टियोपोरोसिस (Osteoporosis) – यदि एमेनोरिया होना का कारण कम एस्ट्रोजन स्तर है, तो यह समस्या ऑस्टियोपोरोसिस (हड्डियों के कमजोर होने) के खतरे को बढ़ा सकती है।

(और पढ़े – महिला में बांझपन के लिए आयुर्वेदिक उपचार…)

एमेनोरिया की जांच और निदान – Amenorrhoea Diagnosis in hindi

एमेनोरिया की जांच और निदान - Amenorrhoea Diagnosis in hindi

मासिक धर्म का रुकना या एमेनोरिया (amenorrhoea) एक प्रकार का लक्षण है, अतः डॉक्टर मासिक धर्म की अनुपस्थिति से सम्बंधित कारणों का निदान करने का प्रयास करता है।

यदि किसी युवती में 16 साल की उम्र तक एक भी मासिक धर्म शुरू नहीं हुआ है, तो डॉक्टर प्राथमिक एमेनोरिया का निदान करने के लिए पारिवारिक इतिहास के बारे में जानकारी ले सकता है और अनेक प्रकार के परीक्षणों का आदेश दे सकता है। पैल्विक परीक्षण (Pelvic examination), एमेनोरिया के निदान में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। अन्य परीक्षण के तहत निम्न प्रकार के हार्मोन के स्तर का आकलन किया जा सकता है, जैसे:

  • कूप उत्तेजक हार्मोन (follicle stimulating hormone) (FSH)
  • ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन (luteinizing hormone) (LH)
  • थायराइड उत्तेजक हार्मोन (thyroid stimulating hormone) (TSH)

लैब परीक्षण (Lab tests) – एमेनोरिया (amenorrhoea) के कारणों का निदान करने के लिए विभिन्न प्रकार के रक्त परीक्षण आवश्यक हो सकते हैं, जिनमें शामिल हैं:

प्रोलैक्टिन परीक्षण (Prolactin test) – परीक्षण के दौरान हार्मोन प्रोलैक्टिन का निम्न स्तर, पिट्यूटरी ग्रंथि में ट्यूमर का संकेत दे सकता है

पुरुष हार्मोन परीक्षण (Male hormone test) – जो महिलाएं चेहरे पर अतिरिक्त बालों की उपस्थिति और कम आवाज (lowered voice) आदि लक्षणों का अनुभव करती हैं उन्हें इस परीक्षण की सिफारिश की जा सकती है।

आनुवंशिक परीक्षण (Genetic testing), इत्यादि।

इमेजिंग परीक्षण (Imaging tests) – एमेनोरिया (amenorrhoea) की निदान प्रक्रिया में डॉक्टर प्रजनन अंगों में किसी भी असामान्यताओं की जांच के लिए  एक या अधिक इमेजिंग परीक्षणों की सिफारिश कर सकता है, जिसमें शामिल हैं:

(और पढ़े – प्रेगनेंसी टेस्ट कब करना चाहिए…)

मासिक धर्म का रुकने (एमेनोरिया) का उपचार – Amenorrhea (Absent menstruation) Treatment In Hindi

मासिक धर्म का रुकने (एमेनोरिया) का उपचार - Amenorrhea (Absent menstruation) Treatment In Hindi

एमेनोरिया (amenorrhoea) या पीरियड बंद होने की स्थिति का उपचार, इसके अंतर्निहित कारणों पर निर्भर करता है। अतः डॉक्टर कारणों का निदान करने के बाद उचित उपचार प्रक्रिया को अपना सकता है। एमेनोरिया के उपचार में दवाएं, सर्जरी, जीवन शैली में बदलाव या इन सभी का संयोजन शामिल हो सकता है। हार्मोन उपचार, मासिक धर्म चक्र को पुनः प्रारंभ करने में सहायता कर सकते हैं। चिकित्सकीय उपचार के तहत निम्न को शामिल किया जा सकता है:

  • हार्मोनल दवाएं (Hormonal medications), जैसे- जन्म नियंत्रण की गोलियाँ
  • एस्ट्रोजन रिप्लेसमेंट थेरेपी (Estrogen replacement therapy)
  • पीसीओ (Polycystic ovary syndrome (PCOS)) के लिए दवाएं

यदि एक ट्यूमर या संरचनात्मक समस्याएँ एमेनोरिया (Absent menstruation, or amenorrhea) का कारण बन रही हैं, तो डॉक्टर द्वारा सर्जरी की सिफारिश की जा सकती है। सर्जिकल उपचार (surgical treatment) में निम्न को शामिल किया जाता है:

  • गर्भाशय में स्कार ऊतक (scar tissue) को हटाना।
  • कैंसरमुक्त पिट्यूटरी ट्यूमर (noncancerous pituitary Tumor) को हटाना, इत्यादि।

इसके अतिरिक्त डॉक्टर जीवनशैली में बदलाव करने की भी सलाह दे सकता है।

(और पढ़े – हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी क्या है, क्यों की जाती है, फायदे और नुकसान…)

एमेनोरिया की रोकथाम – Amenorrhoea Prevention in hindi

एमेनोरिया की रोकथाम – Amenorrhoea Prevention in hindi

एमेनोरिया (Absent menstruation, or amenorrhea) की रोकथाम के लिए जीवनशैली में बदलाव अतिआवश्यक हो सकता है। एमेनोरिया से बचाव निम्न तरीकों से किया जा सकता है:

  • स्वस्थ वजन को बनायें रखें
  • तनाव को कम करने के लिए उचित तरीके अपनाएं
  • संगीत सुने और ध्यान लगायें
  • एक अनुकूल व्यायाम योजना बनायें
  • एक उचित तथा स्वास्थ्य आहार का सेवन करें
  • यदि आप एक एथलीट हैं, तो खाने और अभ्यास करने के तरीके को बदना चाहिए
  • पीरियड्स (period) शुरू होने का रिकॉर्ड रखें
  • अधिक व्यायाम या बहुत कम भोजन का सेवन एमेनोरिया का कारण बन सकता है, इसलिए काम, मनोरंजन और आराम में संतुलन बनाने का प्रयास करें।

(और पढ़े – जिम करने के बाद कैसा होना चाहिए आपका डाइट प्लान…)

एमेनोरिया में आहार –  Amenorrhea Diet In Hihdi

एमेनोरिया में आहार -  Amenorrhea Diet In Hihdi

प्रत्येक दिन पर्याप्त पोषक तत्वों जैसे- विटामिन, खनिज और प्रोटीन युक्त आहार का सेवन एमेनोरिया को रोकने में मदद कर सकता है। अतः एमेनोरिया के जोखिमों को कम करने के लिए निम्न आहार पर ध्यान देना चाहिए:

(और पढ़े – पीरियड के दौरान क्‍या खाएं और क्‍या नहीं…)

एमेनोरिया के लिए योग – Amenorrhea yoga in hindi

एमेनोरिया के लिए योग - Amenorrhea yOga in hindi

एमेनोरिया (Absent menstruation, or amenorrhea) के लिए योग आसन निम्न हैं, जैसे:

  • ताड़ासन उर्ध्व हस्तासन (Tadasana)
  • ऊर्ध्व हस्तोतानासन (Urdhva Hastasana)
  • उत्तानासन (Uttanasana)
  • उत्थित त्रिकोणासन (Utthita trikonasana), इत्यादि।

(और पढ़े – त्रिकोणासन के फायदे और करने का तरीका…)

इसी तरह की अन्य जानकरी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration