सेक्स के दौरान महिला स्खलन क्या है? कैसे होता है, प्रकार और फायदे - Women Ejaculate During Sex In Hindi
सेक्स एजुकेशन

क्या सेक्स के दौरान महिलाएं भी होती हैं इजैक्युलेट? जानें सच्चाई – Women Ejaculate During Sex In Hindi

महिला स्खलन क्या है? कैसे होता है, प्रकार और फायदे - What is female ejaculation in Hindi

मेल इजैक्युलेशन के बारे में तो हम सब बहुत कुछ जानते हैं लेकिन क्या आपने कभी सेक्स के दौरान फीमेल इजैक्युलेशन के बारे में सुना है? महिला स्खलन तब होता है जब एक महिला का मूत्रमार्ग सेक्स के दौरान द्रव को बाहर निकालता है। यह तब हो सकता है जब एक महिला यौन उत्तेजित हो जाती है, लेकिन जरूरी नहीं कि संभोग होने के साथ इसका संबंध हो। वैज्ञानिक महिला स्खलन को पूरी तरह से नहीं समझ पाये हैं, और यह कैसे काम करता है और इसके उद्देश्य पर सीमित शोध है। महिला स्खलन पूरी तरह से सामान्य है, हालांकि शोधकर्ता इस बात पर विभाजित हैं कि कितने लोग इसका अनुभव करते हैं।

इसका मतलब क्या निकाला जाए महिलाओं में सेक्स के दौरान फीमेल इजैक्युलेशन होता ही नहीं या फिर यह कोई ऐसी अनसुनी चीज है जो उन कुछ चुनिन्दा महिलाओं के साथ होती है जिन्होंने सेक्स के दौरान चरम सुख प्राप्त किया हो? अगर आप भी उन चुनिन्दा महिलाओं में शामिल हैं जिन्होंने सेक्स के दौरान कभी-न-कभी अपने पार्टनर पर तरल पदार्थ की फुआर (squirting) की है, तो आपके लिए यह जानना जरूरी है कि फीमेल इजैक्युलेशन या महिला स्खलन रियल में होता है…

इस लेख में, हम महिला स्खलन कैसे होता है, उद्देश्य और आवृत्ति और सेक्स के दौरान महिला स्खलन का क्या मतलब होता है के बारे में बता रहें हैं। जानिए महिला स्खलन क्या होता है और कैसे होता है सेक्स के दौरान स्खलन कब होता है और यौन जीवन पर इसका क्या प्रभाव पड़ता है के बारे में।

विषय सूची

  1. महिला स्खलन क्या है? – What is it female ejaculation in Hindi
  2. सेक्स के दौरान महिला स्खलन क्या असली में होता है? – Female ejaculation Is it real in Hindi?
  3. महिला स्खलन कितना सामान्य है? – Female ejaculation Is it normal and how common is it in Hindi?
  4. क्या महिला स्खलन के कोई स्वास्थ्य लाभ हैं? – Female ejaculation Are there any health benefits in Hindi?
  5. रजोनिवृत्ति के बाद महिला स्खलन संभव नहीं है – Female Ejaculation not possible after menopause in Hindi
  6. महिला स्खलन का मासिक धर्म चक्र से कनेक्शन – Female Ejaculation Connection to the menstrual cycle in Hindi
  7. जानिए महिला स्खलन से गर्भधारण का कनेक्शन – Female Ejaculation Connection to pregnancy in Hindi

महिला स्खलन क्या है? – What is it female ejaculation in Hindi

महिला स्खलन क्या है? - What is it female ejaculation in Hindi

सेक्स के दौरान या उसके बिना कामोत्तेजना के कारण महिला स्खलन हो सकता है। महिला स्खलन से तात्पर्य है कि संभोग या यौन उत्तेजना के दौरान महिला के मूत्रमार्ग से द्रव का निष्कासन। मूत्रमार्ग वह वाहिनी है जो मूत्राशय से मूत्र को शरीर के बाहर ले जाती है।

महिला स्खलन के दो अलग-अलग प्रकार हैं:

  1. तरल पदार्थ की फुआर (Squirting fluid): यह द्रव आमतौर पर रंगहीन और गंधहीन होता है, और यह बड़ी मात्रा में होता है।
  2. द्रव का स्खलन (Ejaculate fluid): यह प्रकार अधिक बारीकी से पुरुष वीर्य जैसा दिखता है। यह आमतौर पर मोटा होता है और दूधिया दिखाई देता है।

विश्लेषण से पता चला है कि द्रव में प्रोस्टेटिक एसिड फॉस्फेटस (पीएसए) है। पीएसए पुरुष वीर्य में मौजूद एक एंजाइम है जो शुक्राणु की गतिशीलता में मदद करता है।

इसके अलावा, महिला स्खलन में आमतौर पर फ्रुक्टोज होता है, जो चीनी का एक रूप है। फ्रुक्टोज भी आमतौर पर पुरुष वीर्य में मौजूद होता है जहां यह शुक्राणु के लिए ऊर्जा स्रोत के रूप में कार्य करता है।

विशेषज्ञों का मानना है कि तरल पदार्थ में मौजूद पीएसए और फ्रुक्टोज स्कीन की ग्रंथियों (Skene’s glands) से आते हैं। इन ग्रंथियों के अन्य नामों में पैराओर्थ्रल ग्रंथियां (paraurethral glands), गार्टर की वाहिनी (Garter’s duct) और महिला प्रोस्टेट (female prostate) शामिल हैं।

जी-स्पॉट (G-spot) के पास योनि की दीवार के अंदर, सामने की ओर स्केन ग्रंथियां होती हैं। शोधकर्ताओं का मानना है कि उत्तेजना से इन ग्रंथियों में पीएसए और फ्रुक्टोज का उत्पादन होता है, जो तब मूत्रमार्ग में चले जाते हैं।

(और पढ़े – महिला स्खलन क्या होता है और कैसे होता है…)

सेक्स के दौरान महिला स्खलन क्या असली में होता है? – Female Ejaculation Is it real in Hindi?

सेक्स के दौरान महिला स्खलन क्या असली में होता है? - Female ejaculation Is it real in Hindi?

कई सालों से, वैज्ञानिकों ने सोचा था कि जिन महिलाओं को सेक्स के दौरान स्खलन होता है, उन्हें निरंतर समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। अनुसंधान ने इस विचार को खारिज कर दिया है और महिला स्खलन के अस्तित्व की पुष्टि की है।

2014 के एक अध्ययन में पाया गया है कि द्रव उत्तेजना के दौरान मूत्राशय में जमा हो जाता है और स्खलन के दौरान मूत्रमार्ग से निकल जाता है। सेक्स के दौरान महिला स्खलन का अनुभव करने वाली सात महिलाओं ने परीक्षण में भाग लिया।

सबसे पहले, शोधकर्ताओं ने अल्ट्रासाउंड परीक्षा (ultrasound exams) का उपयोग करके पुष्टि की कि प्रतिभागियों के मूत्राशय खाली थे। महिलाओं ने तब तक खुद को उत्तेजित किया जब तक कि उनका स्खलन नहीं हो गया जबकि शोधकर्ताओं ने अल्ट्रासाउंड का उपयोग करते हुए उनकी निगरानी करना जारी रखा।

अध्ययन में पाया गया कि सभी महिलाओं ने एक खाली मूत्राशय के साथ शुरुआत की, जो उत्तेजना के दौरान भरना शुरू कर दिया। स्खलन के बाद के स्कैन से पता चला कि प्रतिभागियों के मूत्राशय फिर से खाली थे।

(और पढ़े – हर महिला को पता होनी चाहिए हेल्दी सेक्स से जुड़ी ये बातें…)

महिला स्खलन कितना सामान्य है? – Female ejaculation Is it normal and how common is it in Hindi?

महिला स्खलन कितना सामान्य है? - Female ejaculation Is it normal and how common is it in Hindi?

महिला स्खलन पूरी तरह से सामान्य है, फिर भी लोग इसकी चर्चा अक्सर नहीं करते हैं। इंटरनेशनल सोसाइटी फॉर सेक्सुअल मेडिसिन के अनुसार, अलग-अलग अनुमान बताते हैं कि 10 से 50 प्रतिशत महिलाएं सेक्स के दौरान स्खलन करती हैं।

कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि सभी महिलाएं स्खलन का अनुभव करती हैं, लेकिन कई लोग ध्यान नहीं देते हैं। यह संभव है कि उन्हें इसके बारे में पता न हो क्योंकि द्रव शरीर को छोड़ने के बजाय मूत्राशय में पीछे की ओर बह सकता है।

233 महिलाओं को शामिल करने वाले एक पुराने अध्ययन में, 14 प्रतिशत प्रतिभागियों ने बताया कि उन्होंने सभी या अधिकांश संभोगों के साथ स्खलन किया, जबकि 54 प्रतिशत ने कहा कि उन्होंने कम से कम एक बार इसका अनुभव किया था।

जब शोधकर्ताओं ने संभोग से पहले और बाद में मूत्र के नमूनों की तुलना की, तो उन्हें बाद में अधिक पीएसए मिला। उन्होंने निष्कर्ष निकाला कि सभी महिलाएं स्खलन पैदा करती हैं लेकिन इसे हमेशा निष्कासित नहीं करती हैं। इसके बजाय, स्खलन कभी-कभी मूत्राशय में लौटता है, जो बाद में पेशाब के दौरान इसे पारित करता है।

ज्ञात है कि महिला स्खलन का अनुभव, स्खलन, ट्रिगर और स्खलन की मात्रा सहित, यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में अलग-अलग होता है।

(और पढ़े – चरम सुख (ऑर्गेज्म) का अनुभव कैसा होता है…)

क्या महिला स्खलन के कोई स्वास्थ्य लाभ हैं? – Female ejaculation Are there any health benefits in Hindi?

क्या महिला स्खलन के कोई स्वास्थ्य लाभ हैं? - Female ejaculation Are there any health benefits in Hindi?

महिला स्खलन के स्वास्थ्य लाभ सेक्स के स्वास्थ्य लाभ में तनाव से राहत शामिल है। इस बात का कोई सबूत नहीं है कि महिला स्खलन के कोई स्वास्थ्य लाभ हैं। हालांकि, शोध ने कई लाभों की पेशकश करने के लिए खुद को सेक्स के लिए सही पाया है।

संभोग के दौरान, शरीर दर्द से राहत देने वाले हार्मोन जारी करता है जो पीठ और पैर के दर्द, सिरदर्द (headaches) और मासिक धर्म में ऐंठन (menstrual cramps) के साथ मदद कर सकते हैं।

चरमोत्कर्ष के तुरंत बाद, शरीर हार्मोन को रिलीज करता है जो आरामदायक नींद को बढ़ावा देता है। इन हार्मोनों में प्रोलैक्टिन और ऑक्सीटोसिन (prolactin and oxytocin) शामिल हैं।

महिला स्खलन के अन्य स्वास्थ्य लाभ में शामिल हैं:

(और पढ़े – महिलाओं के लिए सेक्‍स करने के फायदे…)

रजोनिवृत्ति के बाद महिला स्खलन संभव नहीं है – Female Ejaculation not possible after menopause in Hindi

रजोनिवृत्ति के बाद महिला स्खलन संभव नहीं है - Female Ejaculation not possible after menopause in Hindi

आज के समाज में एक सामान्य ग़लतफ़हमी है जो रजोनिवृत्ति के साथ एक महिला के यौन जीवन के अंत हो जाता है। यद्यपि यह सच है कि हार्मोनल उतार-चढ़ाव का एक महिला की कामेच्छा पर प्रभाव पड़ सकता है, लेकिन डॉक्टरी सलाह से इसे सुधारा जा सकता है और एक बार फिर से सेक्स का आनन्द लिया जा सकता है।

(और पढ़े – रजोनिवृत्ति के कारण, लक्षण और दूर करने के उपाय…)

महिला स्खलन का मासिक धर्म चक्र से कनेक्शन – Female Ejaculation Connection to the menstrual cycle in Hindi

महिला स्खलन का मासिक धर्म चक्र से कनेक्शन - Female Ejaculation Connection to the menstrual cycle in Hindi

यह स्पष्ट नहीं है कि महिला स्खलन और मासिक धर्म चक्र के बीच एक लिंक है या नहीं। कुछ महिलाओं का कहना है कि उन्हें ओवुलेशन के बाद और मासिक धर्म से पहले स्खलन होने की अधिक संभावना है, जबकि अन्य को संबंध नहीं दिखता है। इस संघ की पुष्टि या खंडन करने के लिए अधिक शोध आवश्यक है।

(और पढ़े – पीरियड के दौरान शारीरिक संबंध के फायदे और नुकसान…)

महिला स्खलन से गर्भधारण का कनेक्शन – Female Ejaculation Connection to pregnancy in Hindi

महिला स्खलन से गर्भधारण का कनेक्शन - Female Ejaculation Connection to pregnancy in Hindi

कुछ वैज्ञानिकों का मानना है कि महिला स्खलन गर्भावस्था में एक भूमिका निभाता है। वे ऐसा इसलिए  सोचते हैं क्योंकि द्रव में पीएसए और फ्रुक्टोज होते हैं, जो शुक्राणु को एक अनिषेचित अंडे (unfertilized egg) की ओर उनकी यात्रा में मदद करते हैं।

अन्य लोग इस सिद्धांत पर विवाद करते हैं। उनका तर्क है कि स्खलन में आमतौर पर मूत्र होता है, जो शुक्राणु को मार सकता है। वे यह भी कहते हैं कि तरल पदार्थ के लिए मूत्रमार्ग से योनि तक यात्रा करना आसान नहीं है, जहां गर्भावस्था में भूमिका निभाने के लिए इसे करने की आवश्यकता होगी।

  • महिला स्खलन पूरी तरह से सामान्य है, और शोध से पता चलता है कि यह आम लोगों के बीच शायद ही कभी चर्चा का विषय रहा हो।
  • जो महिलाएं इजैक्युलेट नहीं करतीं इसका मतलब यह बिलकुल नहीं है कि उनकी सेक्स लाइफ हेल्दी नहीं है।
  • फोरप्ले के दौरान जब महिल योनि के जी-स्पॉट के स्टिम्युलेशन से या फिर किसी सेक्स टॉय की मदद से जब योनि में उत्तेजना होती है तो हिलाएं इजैक्युलेट हो सकती है।
  • महिला स्खलन या यह कैसे काम करता है के बायोलॉजिकल उद्देश्य को वैज्ञानिक पूरी तरह से नहीं समझ पायें हैं।
  • सेक्स के दौरान स्खलित होने वाली महिलाओं का अनुभव काफी भिन्न होता है।
  • सेक्स के दौरान जिन महिलाओं के शरीर से इजैक्युलेशन होता है, उनके शरीर से एक बार में करीब 28 ग्राम तक क्लियड फ्लूइड निकलता है।
  • आपको जानकर हैरानी होगी कि ये इतना होता है कि इससे आपके बिस्तर की चादर गीली हो सकती है।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

आपको ये भी जानना चाहिए –

Reference

Leave a Comment

1 Comment

Subscribe for daily wellness inspiration