वात दोष और आयुर्वेद – Vata Dosha in Ayurveda in Hindi - Healthunbox
आयुर्वेदिक उपचार

वात दोष और आयुर्वेद – Vata Dosha in Ayurveda in Hindi

वात दोष और आयुर्वेद – Vata Dosha in Ayurveda in Hindi

वात दोष मानव शरीर के शारीरिक प्रदर्शन और बल सिद्धांत को नियंत्रित करते हैं। जिसके माध्‍यम से शरीर के प्रमुख कार्य जैसे शारीरिक क्रिया या गति, संचार, परिवहन, श्वसन, रक्‍त परिसंचरण और मानसिक कार्य आदि। वात दोष शरीर के उन प्रमुख दोषों में एक है जो पूरे शरीरिक स्‍वास्‍थ्‍य के लिए जिम्‍मेदार होते हैं। आयुर्वेद ने अभिव्‍यक्तियों और प्रभावों के आधार पर इन दोषों को तीन श्रोणियों में विभाजित किया है। ये तीन दोष वात, पित्त और कफ हैं। वात का अर्थ वायु से है।

विषय सूची

वात का सिद्धांत क्‍या है – What is Vata Constitution in Hindi

वात दोष का सिद्धांत आकाश (AAKASH) वायु (VAYU) पर आधारित है। इन दोनों घटकों में आकाश (Ether) पहला तत्‍व है जो बहुत ही सूक्ष्म तत्‍व है और जिसे आकाश या स्‍पेस (SPACE) भी कहा जाता है। ईथर के बाद वायु दूसरा प्रमुख तत्‍व है जो वात दोष एक घटक है। यह ईथर (AAKASH) से विकसित होता है जिसे वायु (VAYU) कहा जाता है। वात इन दो तत्‍वों का संयोग है। हालांकि वात भी सूक्ष्‍म है इसलिए इसकी उपस्थिति केवल शरीर में अपने कार्यों द्वारा ही महसूस की जा सकती है।

(और पढ़ें – पित्त दोष क्या है जाने असंतुलित पित्त से होने वाले रोग, लक्षण और उपाय)

वात दोष के गुण क्‍या है – Vata Dosha ke gun kya hai in Hindi

आयुर्वेद में वात दोष की व्‍याख्‍या बहुत ही प्रभावी ढ़ंग से की गई है। जिसके अनुसार वात दोष में प्रयोग किये गए संस्‍कृत शब्‍दों का अंग्रेजी में अनुवाद इस प्रकार है।

  • रूष्‍का –Dry
  • शीत: – Cold
  • लघु –Light
  • सूक्षण –Subtle or Fineness or Minute
  • चाल – Moving or Mobile
  • विशद – Clear (flowing and clear)
  • खार – Rough or Coarse
  • कंठिना –Hard

हालांकि वात को शीत (SHEETA) माना जाता है लेकिन वात योगावही (YOGAVAHI) के रूप में कार्य करता है। इसका मतलब यह है कि जब यह गर्म पदार्थ के साथ मिलता है तो यह उष्‍ण (USHNA) गुण्‍वत्ता को दर्शाता है। लेकिन जब यह ठंडे पदार्थों से मिलता है तब इसकी प्रकृति ठंडी (SHEETA) हो जाती है। हालांकि वात अपने आंतरिक गुणों को कभी भी नहीं खोता है। लेकिन यह इसके साथ जुड़े अन्‍य पदार्थों के गुणों को प्रभावित कर सकता है।

यह पित्त के साथ जुड़ने पर गर्माहट पैदा करता है। उसी तरह जब यह कपा से जुड़ता है तो यह ठंडक का एहसास दिला सकता है। पित्त और कपा वात के बिना काम नहीं कर सकते हैं, लेकिन वात पित्त और कपा के बिना काम कर सकता है। यही वात की स्‍वतंत्र प्रकृति है। वात के अपने स्‍वतंत्र कार्य हैं लेकिन पित्त और कपा अपने कार्यों के लिए वात पर निर्भर रहते हैं।

वात के कार्य क्‍या होते हैं – Vata ke Karya kya hote hai in Hindi

वात के कार्य क्‍या होते हैं – Vata ke Karya kya hote hai in Hindi

सामान्‍य शब्‍दों में कहा जाये तो वात तंत्रिका तंत्र के सभी प्रमुख कार्यों के लिए जिम्‍मेदार है। वात कार्य निम्‍न लिखित हैं।

  • होश – (Senses)
  • संचार – (Communication)
  • प्रवाहकत्तव – (Conductivity)
  • इंपुल्सिविटी – (Impulsivity)
  • भेद्यता – (Permeability)
  • संवेदनशीलता – (Sensitivity)
  • परिवहन – (Transportation)
  • प्रसार – (Circulation)
  • निकाल देना – (Elimination)
  • मूवमेंट – (Movement)
  • श्वसन – (Respiration)
  • विचार –(Thought)
  • रफनेस पैदा करना – (Produces Roughness)
  • लपट पैदा करना – (Produces Lightness)

वात जीवित कोशिकाओं में संचार, आंदोलन और परिवहन को नियंत्रित करता है। यह सेलुलर संरचनाओं में अणुओं के आंदोलन को निर्धारित करता है जिससे शरीर की गतिशीलता को भी नियंत्रित किया जाता है। वात मस्तिष्‍क से शरीर के अन्‍य भागों और अंगों को भी संचालित करने में अहम भूमिका निभाता है। हमारे शरीर में सेलुलर विभाजन वात के बिना संभव नहीं है। वात सेलुलर संगठन और ऊतकों के गठन के लिए आवश्‍यक है। यह कपा अणुओं और कोशिकाओं को ऊतकों में संयुग्मित करने में सहायक होता है। इसलिए शरीर में वात की अधिक महत्‍वपूर्ण भूमिका होती है। शरीर के लिए वात के प्रमुख कार्य इस प्रकार हैं :

  • भ्रूण का आकार – वात क्रिया के कारण भ्रूण का आकार होता है वात भ्रूण के आकार को बनाने और निर्धारित करने में अहम भूमिका निभाता है।
  • यह शरीर में सूखापन पैदा करता है।
  • वात शारीरिक गतिविधियों और मूवमेंट को प्रेरित करता है जिससे यह शरीर में अपचय (catabolism) का कारण बनता है।
  • वात शारीरिक क्रिया की गति को निर्धारित करके और पित्त को नियंत्रित करता है।
  • वात एक प्रमुख घटक है जो भ्रूण के विकास से लेकर जीवन के विनाश तक लगभग सभी क्रियाओं के लिए अहम होता है।
  • मस्तिष्‍क, रीढ़ की हड्डी और परिधीय नसों सहित तंत्रिका तंत्र के सभी कार्य वात के कारण ही होते हैं। यह तंत्रिका तंत्र में आवेगों की उत्तेजना में एक भूमिका निभाता है।

शरीर में वात के मुख्‍य स्‍थान कहां है – Where is the main place of Vata in the body in Hindi

यह निर्धारित करना मुश्किल है कि वात शरीर के किस प्रमुख हिस्‍से में होता है। क्‍योंकि वात पूरे शरीर और जीवित कोशिकाओं में मौजूद होता है। लेकिन फिर भी आयुर्वेद ने शरीर के कुछ प्रमुख हिस्‍सों को निर्दिष्‍ट किया है जहां मावन शरीर में वात की क्रियाएं और अभिव्‍यक्तियां सामान्‍य रूप से दिखाई देती हैं। आयुर्वेद के अनुसार नाभि के नीचे के सभी अंगों को वाल क्षेत्र माना जाता है। जिनमें शामिल हैं :

  • पेल्विक कोलन (Pelvic Colon)
  • मूत्राशय (Bladder)
  • श्रोणि (Pelvis)
  • गुर्दे (Kidneys)
  • हड्डियों (Bones)
  • कान (Ears)
  • त्‍वचा (Skin)
  • निचले अंग (Lower Limbs – Legs & Feet)

वात के प्रकार क्‍या हैं – Vata ke prakar kya hai in Hindi

सामान्‍य रूप से वात के 5 प्रकार होते हैं जिन्‍हें हम इन नामों से जानते हैं।

  • प्राण वायु (PRANA VAYU)
  • उदान वायु (UDABA VAYU)
  • समाना वायु (SAMANA VAYU)
  • व्‍यान वायु (VYANA VAYU)
  • अपान वायु (APANA VAYU)

प्राण वायु क्‍या है – What is PRANA VAYU in Hindi

योग में प्राण वायु जीवन शक्ति और महत्‍वपूर्ण ऊर्जा का प्रतिनिधित्व करती है। आयुर्वेद में यह मन, बुद्धि, विवेक, तंत्रिका तंत्र, इंद्रिय अंगों, मोटर अंगों और श्वसन की मूल कार्यात्‍मक इकाई है।

प्राण वायु का शरीर में स्‍थान –

प्राण वायु शरीर के विशिष्‍ट अंगों या भागों में मौजूद होती है। जैसे कि :

हालांकि प्राण वायु की उपस्थिति या स्‍थान को लेकर कई लोगों में अलग अलग विचार है। लेकिन यह सेलूलर स्‍तरों से पूरे शरीर में काम कर रहा है। इसके अवलोकन योग्‍य कार्य सिर और नाभि के बीच दिखाई देते हैं। फिर भी जानकारों के अनुसार प्राण वायु के तीन प्रमुख मुख्‍य स्‍थान होते हैं।

  • सिर
  • दिल
  • नाभि का क्षेत्र और उसके आसपास का क्षेत्र

प्राण वायु के सामान्‍य कार्य क्‍या हैं –

प्राण वायु के सामान्‍य कार्य इस प्रकार हैं :

प्राण वायु बढ़ने के कारण होने वाले रोग –

मानव शरीर में आवश्‍यकता से अधिक या प्राण वायु का अधिक मात्रा होने पर कुछ सामान्‍य या गंभीर स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याएं हो सकती हैं। जो इस प्रकार हैं।

आमतौर प्राण वायु की अधिकता के कारण लोगों को श्वसन संबंधी सभी रोग प्राण वायु के बढ़ने के कारण होते हैं।

उदान वायु क्‍या है – What is UDANA VAYU in Hindi

उदान वायु मुख्‍य रूप से भाषण या आवाज को नियंत्रित करने के लिए जिम्‍मेदार होता है। यह डायाफ्राम, छाती, फेफड़े, ग्रसनी और नाक के कार्यों का समर्थन करता है। उदान UDANA का अर्थ है जो शरीर के ऊपरी हिस्‍सों में चलती और काम करती है। उदान वायु का प्रमुख कार्य आवाज उत्‍पन्न करना है जो किसी से बात करने और आवाज निकालने में मदद करता है।

उदान वायु का शरीर में स्‍थान –

उदान वायु शरीर के कुछ विशेष हिस्‍सों पर मौजूद रहती है। जो इस प्रकार हैं :

  • डायाफ्राम
  • छाती
  • फेफड़े
  • उदर में भोजन
  • नाक

इसके अलावा चरक संहिता के अनुसार उदान वायु मुख्‍य रूप से निम्‍न तीन क्षेत्रों में स्थिति है।

नाभि और इसके आस-पास, छातीऔर गला। भागवत (Vagbhata)के अनुसार उदान वायु मानव शरीर में गला, नाभि के आसपासऔर नाक में।

नोट : छाती में प्राण वायु और उदान वायु दोनों ही होती हैं। अंतर केवल इतना है कि प्राण वायु इस क्षेत्र में आती और जाती है जबकि उदान वायु छाती में स्‍थाई रूप से रहती है।

उदान वायु के कार्य क्‍या हैं –

उदान वायु का हमारे दैनिक जीवन में विशेष महत्‍व है। उदान वायु के प्रमुख कार्य इस प्रकार हैं।

  • भाषण – आवाज और शब्‍द पैदा करना
  • प्रयास – व्‍यक्ति को प्रयास करने में सक्षम बनाता है।
  • उत्‍साह – कार्यों को करने के लिए व्‍यक्ति को उत्‍साही बनाता है।
  • शक्ति – समाप्ति के दौरान गैसीय अपशिष्‍ट उत्‍पादों को समाप्‍त करके शरीर की ताकत को बनाए रखने में।
  • रंग –यह रंगों को बनाए रखने में सहायक होता है।

अन्‍य प्राचीन महर्षियों के अनुसार उदान वायु UDANA VAYU निम्‍न कार्यो के लिए भी जिम्‍मेदार होता है।

  • संतुष्टि
  • याद
  • दृढ़ निश्‍चय
  • सस्‍वर पाठ
  • विचारधारा
  • श्वसन में डायाफ्राम के कार्यों के लिए उदान वायु भी जिम्‍मेदार है। यह डायाफ्राम और इंटरकोस्‍टल मांसपेशियों के संकुचन और विश्राम का कारण बनता है।

उदान वायु बढ़ने के कारण होने वाले रोग –

शरीर में उदान वायु की अधिकता होने के कारण शरीर के ऊपरी हिस्‍सों के रोग हो सकते हैं। इस प्रकार के रोगों में नाक, गले, आंख और कान आदि शामिल हैं। इसके अलावा प्राण वायु के साथ यह खांसी, हिचकी और सांस लेने में तकलीफ जैसी बीमारियों के लिए भी जिम्‍मेदार होती है।

समाना वायु क्‍या है – What is SAMANA VAYU in Hindi

समाना वायु पेट से बृहदान्‍त्र तक सहायक नहर के चैनलों में रहती है। यह विशेष रूप से आंत और पेअ में सहायक पथ के क्रमांकुचन को नियंत्रित करता है। यह भोजन को नहर में ले जाने में भी मदद करता है।

समाना वायु का शरीर में स्‍थान

समाना वायु SAMANA VAYU का शरीर में मुख्‍य स्‍थान पेट और छोटी आंत है। लेकिन चरक के अनुसार समाना वायु शरीर में पसीना, दोष और तरल पदार्थों के चैनलों में रहता है। यह पेट और आंतों में भी मौजूद रहता है जहां यह पाचक पिट्टा (PACHAKA PITTA) के कार्यों को बनाए रखता है।

समाना वायु के कार्य –

समाना वायु भोजन के यांत्रिक विघटन के लिए जिम्‍मेदार होता है जो पाचन रस या एंजाइम को आगे की प्रक्रिया के लिए सहायता प्रदान करता है। यह भोजन के उपयोगी हिस्‍से और अपशिष्‍ट हिस्‍सों को अलग करता है और भोजन के पौष्टिक भागों के अवशोषण और फेकल पदार्थ के उन्‍मूलन मं सहायता करता है।

समाना वायु बढ़ने के कारण होने वाले रोग –

शरीर में समाना वायु की अधिक मात्रा या असंतुलन होने की स्थिति में पाचन समस्‍याएं हो सकती हैं। इसकी वृद्धि पाचन को बदल सकती है और दोषपूर्ण आत्‍मसात कर सकती है। जिससे दस्‍त और खट्टी डकार जैसी समस्‍याएं हो सकती हैं।

व्‍यान वायु क्या है – What is VYANA VAYU in Hindi

चरक के अनुसार व्‍यान वायु पूरे शरीर में मौजूद है। शरीर में सभी हलचलें इसके कारण ही होती हैं। व्‍यान वायु शरीर के लचीलापन और विस्‍तार, संकुचन और विश्राम, पलकों के खुलने और बंद होने आदि का कारण बनता है। यह स्‍वायत्त केंद्रों, मोटर केंद्रों संवेदी तंत्रिकाओं, मोटर तंत्रिकाओं, प्रतिवर्त धमनियों आदि की कार्यात्‍मक इकाई है। यह मुख्‍य रूप से केशिकाओं, परिसंचरण और पसीने की पारगम्‍यता को नियंत्रित करता है।

व्‍यान वायु का शरीर में स्‍थान –

व्‍यान वायु पूरे शरीर में होती है और मुख्‍य रूप से दिल में मौजूद रहती है।

व्‍यान वायु के सामान्‍य कार्य –

व्‍यान वायु शरीर के सभी स्‍वैच्छिक और अनैच्छिक मूवमेंटों को नियंत्रित करता है। यह रिफ्लैक्‍स एक्‍सन और तंत्रिका आवेगों के संचरण के लिए जिम्‍मेदार होता है। यह हृदय की लय को नियंत्रित करता है। इसके अलावा वयान वायु पसीने के स्राव को प्रेरित करता है।

व्‍यायन वायु बढ़ने के कारण होने वाले रोग –

जब शरीर में व्‍यान वायु के स्‍तर में वृद्धि या असंतुलन होता है तो कुछ शारीरिक समस्‍याएं भी हो सकती है। ऐसी समस्‍याओं में बुखार आना और संचार संबंधी बीमारियों के होने की संभावना अधिक होती है।

अपान वायु क्‍या है – What is APANA VAYU in Hindi

अपान वायु APANA VAYU लम्‍बोसैकेरल प्‍लेक्‍सस (lumbosacral plexus) को नियंत्रित करता है। यह मुख्‍य रूप से उन्मूलन या उत्‍सर्जन में भूमिका निभाता है।

शरीर में अपान वायु का स्‍थान –

अपान वायु शरीर के लगभग सभी हिस्‍सों में मौजूद रहती है। फिर भी जानकारों के अनुसार अपान वायु के शरीर में मुख्‍य स्‍थान इस प्रकार हैं।

  • श्रोणी (Pelvis)
  • मूत्राशय (Bladder)
  • गर्भाशय (Uterus)
  • जांघों (Thighs)
  • वृषण (Testes)
  • पेट की मांसपेशियों (Abdominal muscles)
  • पेल्विक कोलन (Pelvic colon)
  • सामान्‍य कार्य (Normal function)
  • मल त्‍याग (Defecation)
  • पेशाब (Micturation)
  • मासिक धर्म का निष्‍कासन (Expulsion of menstrual discharge)
  • भ्रूण की डिलीवरी (Expulsion of menstrual discharge)

अपान वायु के बढ़ने से होने वाले रोग –

शरीर में अपान वायु के संतुलन बिगड़ने या इसकी मात्रा अधिक होने से कुछ स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याएं हो सकती हैं। जिनमें कब्‍ज, मूत्राशय, गर्भाशय, अंडकोष आदि से संबंधित बीमारियां शामिल हैं।

वात चक्र के अनुसार दवाएं लेना – Taking Medicines according to Vata Cycle in Hindi

यह सिद्धांत तब लागू किया जाता है जब किसी में वात विकार का सामान्‍यीकरण होता है और पूरे शरीर में वात लक्षण दिखाई देते हैं। वात रोगों को दूर करने के लिए दवाओं का सेवन भोजन करने के 2 से 3 घंटे बाद सेवन करना चाहिए। इसका मतलब यह है कि भोजन पचने के बाद दवाओं का सेवन किया जाना चाहिए। यह स्थिति उन रोगीयों के लिए है जो वात के कारण पेट संबंधी परेशानियों से परेशान हैं। इसके अलावा वात रोगी इससे संबंधित दवाओं को शाम या देर रात में भी ले सकते हैं। यह तब लागू होता है जब आप तंत्रिका संबंधी विकार, सामान्‍यीकृत शरीर दर्द और गठिया आदि से पीड़ित होते हैं।

वात और मौसम में क्‍या संबंध है – VATA aur Season me kyasambandhhai in Hindi

वात या वात रोग मौसम के अनुसार अपने प्रभाव दिखाते हैं। आयुर्वेद के अनुसार गर्मी के मौसम में वात का संचय (VATA SANCHAYA) होता है। वर्षा ऋतु में वात की अधिकता (VATA PRAKOPA) होती है जबकि बढ़े हुए वात का शमन (VATA PRASHAMA)सर्दी के मौसम में होता है। आइए वात और मौसम के बीच संबंध को विस्‍तार से जाने।

ग्रीष्‍म ऋतु और वात –

ग्रीष्‍मकाल में शरीर की शक्ति कम हो जाती है जिसके कारण पाचन शक्ति भी कमजोर हो जाती है। अधिक मात्रा में पसीना आने के कारण शरीर में पानी की कमी भी आने लगती है। प्रकृति में ग्रीष्‍म काल के दौरान शुष्‍क और लघु गुणवत्ता वाले खाद्य पदार्थों की उपस्थिति होती है। जिसके कारण शरीर में वात का संचय होता है। हालांकि इस दौरान वात नहीं बढ़ता है। लेकिन गर्मी के मौसम में अधिक गर्मी होने के कारण यह दबे हुए रूप में जमा हो जाता है। इसे वात संचय (VATA SANCHAYA) कहते हैं।

बारिश का मौसम और वात –

बरसात के मौसम में शरीर की ताकत और पाचन की आग कम होती है। लेकिन इस दौरान शरीर का तापमान गर्म से ठंडे के रूप में परिवर्तित होते रहता है। जो कि गर्मी के मौसम में दबे हुए वात को बढ़ाता है। इस चरण को वात की अधिकता या वात प्रकोप (VATA PRAKOPA)कहा जाता है।

शरद ऋतु और वात –

सर्दी के मौसम में भूमि या जमीन गीली और वातावरण में गर्मी के कारण वात का क्षय या अंत होता है। इस चरण को वात का शमन (VATA PRASHAMA)कहा जाता है।

वात असंतुलन और इसके लक्षण – Vata Imbalance and its Symptoms in Hindi

शरीर में यदि वात संतुलित अवस्‍था में होता है तो यह बेहतर स्‍वास्‍थ्‍य के लिए अच्‍छा है। लेकिन वात के असंतुलन या वात में वृद्धि या कमी कई प्रकार की बीमारियों और रोग का कारण बन सकता है। वात में कमी या वृद्धि को वात असंतुलन कहा जा सकता है। वात में कमी या वृद्धि दोनों के अलग-अलग लक्षण होते हैं।

वात की कमी के लक्षण और स्‍वास्‍थ स्थितियां – Decreased Vata Symptoms & Health Conditions in Hindi

जब किसी व्‍यक्ति को नीचे बताए गए लक्षण महसूस होते हैं। ऐसी स्थिति शरीर में वात की कमी को दश्राती है। इन लक्षणों में शामिल हैं :

  • तीखा, कड़वा और कसैला स्‍वाद वाला भोजन करने की इच्‍छा होना।
  • शुष्‍क, खुरदुरे और हल्‍के जैसे आंतरिक गुणों वाले भोजन पसंद करना।
  • संवेदनाएं कम होना (Diminished sensations)
  • असंतोष होना (Dissatisfaction)
  • तंद्रा या ऊंघना (Drowsiness)
  • थकावट महसूस होना (Feeling of exhaustion)
  • आलस्‍य आना (Laziness)
  • सुस्‍त चाल (Sluggish movement)
  • बोलने में थकान लगना (Sluggish speech)
  • कमजोर पाचन शक्ति (Weak digestive power)

सामान्‍य रूप से घटे हुए वात के लक्षण शरीर में बढ़े हुए कफ के सापेक्ष होते हैं। इसलिए निम्‍न लक्षण भी दिखाई दे सकते हैं।

  • अत्‍याधिक लार बनना (Excessive salivation)
  • जी मिचलाना (Nausea)
  • एनोरेक्सिया (Anorexia)

बढ़ी हुई वात लक्षण और स्‍वास्‍थ्य स्थितियां – Increased Vata Symptoms & Health Conditions in Hindi

किसी भी व्‍यक्ति निम्‍न लिखित लक्षण बढ़ी हुई वात को दर्शाते हैं।

  • अधिक गर्म और अधिक मीठे स्‍वाद वाले खाद्य पदार्थ खाने की इच्‍छा होना।
  • दुर्बलता होना।
  • शरीर का वजन स्‍वत: ही घटना।
  • त्‍वचा का काला या सांवला होना।
  • ताकत में कमी महसूस होना।
  • कब्‍ज, सूखा और कठोर मल आना।
  • सूजन होना।
  • उनीदापन होना
  • चक्‍कर आना।
  • अप्रासंगिक बातें करना।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration