हिचकी क्यों आती है हिचकी आने के कारण और उपचार – Hiccups causes and Home Remedies For Hiccups in Hindi

हिचकी क्यों आती है हिचकी आने के कारण और उपचार - Hiccups causes and Home Remedies For Hiccups in Hindi
Written by Anamika

Hichki rokne ke gharelu nuskhe in hindi हिचकी एक अस्थायी समस्या है जो अक्सर खाने और पीने के दौरान होती है। वास्तव में हिचकी किसी व्यक्ति द्वारा आपको याद किए जाने के कारण नहीं आती बल्कि यह समस्या आमतौर पर तब होती है जब डायफ्राम अनैच्छिक रूप से सिकुड़ जाता है जिसके कारण वोकल कॉर्ड (vocal cord) बंद हो जाता है और वायुमार्ग से हम सही तरीके से सांस नहीं ले पाते हैं। ऐसी स्थिति पैदा होने पर व्यक्ति को हिचकी आने लगती है। हिचकी पाचन तंत्र की समस्याओं से भी जुड़ी होती है और लगातार एवं अधिक देर तक हिचकी आने पर व्यक्ति का मन चिड़चिड़ा हो जाता है। इस लेख में हम आपको हिचकी आने के मुख्य कारणों और इसे ठीक करने के लिए घरेलू उपायों के बारे में बताने जा रहे हैं।

1. हिचकी आने के कारण – Causes Of Hiccups in Hindi
2. हिचकी रोकने के घरेलू उपाय – Home Remedies For Hiccups in Hindi

हिचकी आने के कारण – Causes Of Hiccups in Hindi

हिचकी आने के कारण - Causes Of Hiccups in Hindi

हिचकी किसी भी व्यक्ति को किसी भी समय आ सकती है लेकिन माना जाता है कि हर व्यक्ति को अलग अलग कारणों से हिचकी आती है। आइये जानते हैं हिचकी आने के मुख्य कारण क्या होते हैं।

बहुत तेजी से भोजन करने से

यदि आप बहुत जल्दी जल्दी खाना खाते हैं और खाने को पर्याप्त चबाने के बजाय सीधे गटक जाते हैं तो भोजन के साथ हवा भी आपके पेट में चली जाती है जिसके कारण हिचकी आने लगती है।

(और पढ़े – टॉरेट सिंड्रोम (हिचकी या अन्य) के कारण, लक्षण और इलाज…)

मेडिकल समस्याएं होने पर

यदि आपका गुर्दा सही तरीके से काम नहीं कर रहा है, आपको इन्सेफलाइटिस, मस्तिष्क आघात, स्ट्रोक, ब्रेन ट्यूमर जैसी समस्याएं हैं तो हिचकी आ सकती है।

कार्बोनेटेड पेय पदार्थ पीने पर

यदि आप अधिक शर्करायुक्त पेय पदार्थ, वाष्पित पेय पदार्थ, अधिक अल्कोहल पीते हैं तो आपके पेट में बहुत अधिक हवा जा सकती है जिसके कारण पेट में गैस बन जाती है और आपको हिचकी आ सकती है।

धूम्रपान के कारण

धूम्रपान के कारण

अगर आप सिगरेट, बीड़ी, सिगार, तंबाकू सहित अन्य नशीले पदार्थों का सेवन करते हैं तो इसके कारण आपको हिचकी आ सकती है।

(और पढ़े – स्मोकिंग की आदत कैसे लगती है, इसके नुकसान और छोड़ने के तरीके…)

ठंडी चीजों का सेवन करने से

माना जाता है कि कोल्ड ड्रिंक, बहुत ठंडा पानी या अन्य ठंडे पेय पदार्थ पीने से हिचकी आती है क्योंकि उस समय हमारे शरीर का तापमान सामान्य होता है लेकिन ठंडे पेय पीने के बाद शरीर का तापमान अचानक गिर जाता है जिसके कारण हिचकी आने लगती है।

स्ट्रेस के कारण

कभी कभी अधिक तनाव लेने के कारण भी हिचकी आती है। चिंता और तनाव से अस्थायी रूप से हिचकी की समस्या उत्पन्न हो जाती है जो सामान्य से अधिक देर तक बनी रहती है। माना जाता है कि तनाव के कारण आने वाली हिचकी 48 घंटों से ज्यादा समय तक बनी रहती है। ऑटिज्म और मानसिक समस्या, भावनात्मक रूप से कमजोर होने और डर के कारण भी हिचकी आती है।

मेटाबोलिक समस्याएं होने पर

मेटाबोलिक समस्याएं होने पर

यदि आपकी चयापचय क्रिया (metabolic activity) बहुत तीव्र या बहुत धीमी है  तो इसके कारण आपको हाइपरवेंटिलेशन हो सकता है या किडनी काम करना बंद कर सकती है जिसकी वजह से आपको हिचकी आने की समस्या हो सकती है। कभी कभी बहुत तीखा खाने के कारण भी हिचकी आती है।

(और पढ़े – चयापचय (मेटाबॉलिज्म) को बढ़ाने के तरीके…)

हिचकी रोकने के घरेलू उपाय – Home Remedies For Hiccups in Hindi

  1. हिचकी का घरेलू इलाज अंगूर की जेली से – Hichki rokne ke gharelu upay Grape Jelly in Hindi
  2. हिचकी रोकने के उपाय के लिए बर्फ के टुकड़े – Hichki rokne ka gharelu nuskha Ice in Hindi
  3. हिचकी की आयुर्वेदिक दवा इलायची पाउडर – Hichki band karne ka ilaj Cardamom Powder in Hindi
  4. हिचकी का समाधान सांस लेना और छोड़ना – Inhale & Exhale For hiccups treatment in hindi
  5. नींबू हिचकी बंद करने के लिए – Hichki band karne ka gharelu upay Lemon in Hindi
  6. हिचकी शांत करने के लिए हींग का सेवन – Hichki band karne ka gharelu upchar Asafoetida in Hindi
  7. हिचकी रोकने के उपाय कैमोमाइल टी – Hichki rokne ke gharelu nuskhe Chamomile Tea in Hindi

हिचकी आना कोई गंभीर समस्या नहीं होती है इसलिए यदि हिचकी आपको कुछ देर तक परेशान करती है तो आप घर पर ही इसका इलाज कर सकते हैं लेकिन हिचकी लंबे समय तक बनी है तो बिना लापरवाही किए आपको डॉक्टर के पास जाना चाहिए। आइये जानते हैं हिचकी शांत करने के लिए घरेलू उपाय क्या हैं।

हिचकी का घरेलू इलाज अंगूर की जेली से – Hichki rokne ke gharelu upay Grape Jelly in Hindi

हिचकी का घरेलू इलाज अंगूर की जेली से - Hichki rokne ke gharelu upay Grape Jelly in Hindi

ज्यादातर लोग हिचकी आने पर अंगूर की जेली का सेवन करते हैं। वास्तव में हिचकी की समस्या को ठीक करने के लिए अंगूर की जेली के फायदों का परीक्षण किया जा चुका है जिससे यह साबित होता है कि यह हिचकी ठीक करने में प्रभावी तरीके से काम करता है। अंगूर की जेली खाने में काफी स्वादिष्ट होती है और हिचकी आने पर इसे खाने से हिचकी कुछ ही देर में बंद हो जाती है।

(और पढ़े – सेहत के लिए अंगूर खाने के फायदे और नुकसान…)

हिचकी रोकने के उपाय के लिए बर्फ के टुकड़े – Hichki rokne ka gharelu nuskha Ice in Hindi

हिचकी रोकने के उपाय के लिए बर्फ के टुकड़े - Hichki rokne ka gharelu nuskha Ice in Hindi

माना जाता है कि एकदम ठंडा पानी (chilled water) हिचकी को शांत करने में काफी प्रभावी तरीके से काम करता है। एक गिलास नॉर्मल पानी में दो बर्फ के बड़े टुकड़े डालें और इस पानी को एकदम आराम से पीएं। कुछ ही देर में आपकी हिचकी बंद हो जाएगी। इसके अलावा आप बर्फ के कुछ टुकड़ों को एक साफ कपड़े में लपेटकर गर्दन के पीछे सिंकाई भी कर सकते हैं। यह तरीका अपनाने से हिचकी नहीं आती है। वास्तव में ठंडा पानी पाचन तंत्र को राहत पहुंचाता है जिसके कारण हिचकी तुरंत बंद हो जाती है।

(और पढ़े – चेहरे पर बर्फ लगाने के फायदे…)

हिचकी की आयुर्वेदिक दवा इलायची पाउडर – Hichki band karne ka ilaj Cardamom Powder in Hindi

हिचकी की आयुर्वेदिक दवा इलायची पाउडर - Hichki band karne ka ilaj Cardamom Powder in Hindi

भारतीय मसालों में इलायची का इस्तेमाल हिचकी को शांत करने के लिए भी किया जाता है। इसमें डायफ्राम की मांसपेशियों को राहत पहुंचाने के गुण पाये जाते हैं और इलायची पाचन तंत्र से अतिरिक्त एल्कोहल और हानिकारक पदार्थों को बाहर निकालने में भी मदद करती है। एक गिलास पानी में एक चम्मच इलायची पाउडर डालकर उबालें और जब पानी उबलकर आधा रह जाए तब इसे ठंडा करें और छानकर इस पानी को पीएं। आपकी हिचकी बंद हो जाएगी।

(और पढ़े – इलाइची के फायदे और नुकसान…)

हिचकी का समाधान सांस लेना और छोड़ना – Inhale & Exhale For hiccups treatment in hindi

हिचकी का समाधान सांस लेना और छोड़ना - Inhale & Exhale For hiccups treatment in hindi

डॉक्टरों का मानना है कि हिचकी रोकने के लिए शरीर में कार्बन डाई ऑक्साइड के लेवल को बढ़ाना पड़ता है ताकि डायफ्राम को राहत मिले और हवा आने जाने के लिए जगह बन सके। इसलिए जब हिचकी आये तो व्यक्ति को सांस लेने और सांस छोड़ने का अभ्यास करना चाहिए। लंबी सांस लें और कम से कम 10 सेकेंड तक सांस को रोककर रखें। इसके बाद आराम से सांस छोड़े। यह प्रक्रिया कई बार दोहराएं, आपकी हिचकी शांत हो जाएगी।

(और पढ़े – सांस फूलने के कारण, लक्षण, जांच, उपचार, और रोकथाम…)

नींबू हिचकी बंद करने के लिए – Hichki band karne ka gharelu upay Lemon in Hindi

नींबू हिचकी बंद करने के लिए - Hichki band karne ka gharelu upay Lemon in Hindi

एक स्टडी में पाया गया है कि फल का खट्टा स्वाद मुंह और पाचन तंत्र को संतृप्त करने में मदद करता है। यह तंत्रिका तंत्र को उत्तेजित करता है और हिचकी आने के कारणों को खत्म करता है। एक गिलास पानी में आधा चम्मच चीनी और एक चम्मच नींबू का रस मिलाकर पीने से हिचकी शांत हो जाती है। हिचकी ठीक करने के लिए यह बेहद आसान घरेलू उपाय है और हिचकी से तत्काल छुटकारा पाने के लिए इस नुस्खे को अपनाया जा सकता है।

(और पढ़े – नींबू पानी के फायदे और नुकसान…)

हिचकी शांत करने के लिए हींग का सेवन – Hichki band karne ka gharelu upchar Asafoetida in Hindi

हिचकी शांत करने के लिए हींग का सेवन - Hichki band karne ka gharelu upchar Asafoetida in Hindi

इसका प्रयोग प्राचीन समय से आयुर्वेदिक दवा के रूप में किया जाता रहा है। हींग में शक्तिशाली एजेंट पाये जाते हैं जो डायफ्राम की मांसपेशियों को शांत रखते हैं जिसके कारण हिचकी नहीं आती है। एक गिलास पानी में एक चम्मच हींग पाउडर मिलाकर सेवन करें। हिचकी को तुरंत बंद करने में यह बहुत ही प्रभावी होता है और पेट से संबंधित समस्याएं भी खत्म हो जाती हैं।

(और पढ़े – हींग के फायदे उपयोग स्वास्थ्य लाभ और नुकसान…)

हिचकी रोकने के उपाय कैमोमाइल टी – Hichki rokne ke gharelu nuskhe Chamomile Tea in Hindi

हिचकी रोकने के उपाय कैमोमाइल टी - Hichki rokne ke gharelu nuskhe Chamomile Tea in Hindi

एक स्टडी में पाया गया है कि कैमोमाइल में मांसपेशियों को रिलैक्स करने के प्राकृतिक गुण पाये जाते हैं। यह डायफ्राम की मांसपेशियों में संकुचन को कम कर हिचकी को नियंत्रित करने में मदद करता है। एक कप गर्म पानी में एक चम्मच सूखी हुई कैमोमाइल जड़ी बूटी डालकर कुछ देर तक अच्छी तरह से उबालें फिर इसे छानकर नींबू का रस मिलाकर पीएं। इसके अलावा गर्म पानी में कैमोमाइट टी बैग डालकर भी इसका सेवन किया जा सकता है। आपको हिचकी की समस्या से छुटकारा मिल जाएगा।

(और पढ़े – कैमोमाइल चाय के फायदे और नुकसान…)

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration