बेरीबेरी रोग क्या है कारण, लक्षण, और उपचार – Beriberi Disease Causes, Symptoms And Treatment In Hindi

बेरीबेरी रोग क्या है कारण, लक्षण, और उपचार - Beriberi Disease Causes, Symptoms And Treatment In Hindi
Written by Ramkumar

Beriberi Disease in Hindi बेरी बेरी डिजीज इन हिंदी: बेरीबेरी (Thiamine deficiency) रोग व्यक्तियों में होना एक आम बात है, यह  शरीर में विटामिन थायमिन की पर्याप्त मात्रा में पूर्ति न होने के कारण होता है। यह बीमारी ज्यादातर बच्चों को अधिक प्रभावित करती है, लेकिन पुरुष और महिलाएं भी समान रूप से प्रभावित हो सकते हैं। थायमिन (Thiamine) शरीर के लिए एक आवश्यक पोषक तत्व है, जो शरीर के अन्दर शुगर को तोड़ने में मदद करता है, जिससे शरीर को ऊर्जा प्राप्त होती है। एक असंतुलित आहार का सेवन थायमिन की कमी (Thiamine deficiency) का कारण बन सकता है, जिससे बेरीबेरी रोग होता है। थायमिन की कमी मस्तिष्क एवं तंत्रिका में गंभीर रूप से क्षति का कारण बनती है। ऐसे मामलों में थायमिन की कमी (बेरीबेरी) का इलाज किया जाना जरूरी हो जाता है।

अतः इस लेख के माध्यम से आप जानेंगे कि बेरीबेरी (Beriberi / Thiamine deficiency) क्या है, इसके कारण, लक्षण क्या हैं, और थायमिन की कमी को पूरा करने के लिए क्या उपचार प्रक्रिया अपनाई जा सकती है।

1. बेरीबेरी क्या है – What is beriberi in Hindi
2. बेरीबेरी रोग के प्रकार – Types Of Beriberi In Hindi
3. बेरीबेरी का कारण – Thiamine Deficiency (Beri Beri) Causes In Hindi
4. बेरीबेरी के जोखिम कारक – Beriberi Risk Factor In Hindi
5. बेरिबेरी के लक्षण – Thiamine Deficiency Symptoms In Hindi
6. बेरीबेरी का निदान – Beriberi Diagnosis In Hindi
7. बेरीबेरी का इलाज – Beriberi Treatment In Hindi
8. बेरीबेरी की रोकथाम – Beriberi Prevention In Hindi
9. थायमिन रिच फूड्स – Thiamine Rich Foods in Hindi
10. थायमिन के प्रमुख लाभ – Vitamin B1/ thiamine Benefits in Hindi
11. थायमिन की कमी से और कौन से रोग होते है – Thiamine Deficiency Disease in hindi

बेरीबेरी क्या है – What is beriberi in Hindi

बेरीबेरी (Beri Beri Rog In Hindi) एक बीमारी है, जो विटामिन बी-1 की कमी के कारण होती है, इसे थायमिन की कमी (Thiamine deficiency) के नाम से भी जाना जाता है। विटामिन बी1, जिसका रासायनिक नाम थायमिन (Thiamine) है, एक आवश्यक पोषक तत्व है। जिसका उपयोग कोशिकाओं द्वारा भोजन को ऊर्जा में परिवर्तित करने में मदद करने के लिए किया जाता है। मानव शरीर को विटामिन बी1 या थायमिन की पूर्ति खाद्य पदार्थों के द्वारा की जाती है। अतः भोजन के रूप में विटामिन बी1 का कम मात्रा में सेवन बेरीबेरी (beriberi or Thiamine deficiency) रोग का कारण बनता है।

जो व्यक्ति थायमिन (thiamine) से समृद्ध खाद्य पदार्थों का सेवन करते हैं, उनमें बेरीबेरी रोग विकसित होने की संभावना बहुत कम होती है। आज के समय में बेरीबेरी (beriberi) ज्यादातर उन व्यक्तियों में होता है जो अत्यधिक शराब का सेवन करते हैं।

(और पढ़े – शराब पीने के फायदे और नुकसान और शरीर पर इसका प्रभाव…)

बेरी बेरी रोग किस विटामिन की कमी से होता है- Beri Beri Rog Kis Vitamin Ki Kami Se Hoti Hai

बेरीबेरी विटामिन बी-1 की कमी के कारण होती है, इसे थायमिन की कमी (Thiamine deficiency) के नाम से भी जाना जाता है।

बेरीबेरी रोग के प्रकार – Types Of Beriberi In Hindi

Beriberi (बेरीबेरी) रोग लक्षणों के आधार पर मुख्य रूप से दो प्रकार का होता हैं:

आर्द्र बेरीबेरी (wet beriberi) – आर्द्र बेरीबेरी दिल और परिसंचरण तंत्र (circulatory system) को प्रभावित करती है। चरम मामलों में, आर्द्र बेरीबेरी (wet beriberi) दिल की विफलता का कारण बन सकती है।

शुष्क बेरीबेरी (dry beriberi) – शुष्क बेरीबेरी तंत्रिकाओं (nerves) को नुकसान पहुंचाती है, इससे मांसपेशियों की मजबूती कम हो सकती है और अंततः मांसपेशी में लकवा (muscle paralysis) की समस्या उत्पन्न हो सकती है। यदि समय पर इलाज नहीं किया जाता है तो बेरीबेरी (beriberi) जीवन को खतरे में डाल सकता है।

(और पढ़े – हार्ट अटेक कारण और बचाव…)

बेरीबेरी का कारण – Thiamine Deficiency (Beri Beri) Causes In Hindi

बेरीबेरी का मुख्य कारण थायमिन या विटामिन बी1 युक्त आहार का कम मात्रा में सेवन है। विटामिन-समृद्ध खाद्य पदार्थों जैसे अनाज (cereals) और ब्रेड (breads) से समृद्ध क्षेत्रों में यह समस्या बहुत कम देखने को मिलती है। बेरीबेरी (Beriberi) की बीमारी उस क्षेत्र के व्यक्तियों को सबसे अधिक प्रभावित करती है, जहां थायमिन समृद्ध आहार में कमी और आहार में सफेद चावल शामिल किया जाता है। सफेद चावल में थायमिन (thiamine) की बहुत सूक्ष्म मात्रा पाई जाती है।

(और पढ़े – चावल खाने के फायदे और नुकसान…)

बेरीबेरी के जोखिम कारक – Beriberi Risk Factor In Hindi

बेरीबेरी के जोखिम कारक – Beriberi Risk Factor In Hindi

थायमिन की कमी (thiamine deficiency) को बढ़ाने वाले कारक बेरीबेरी (beriberi) रोग के जोखिम को बढ़ाते हैं, अतः निम्न कारक बेरीबेरी रोग का कारण बन सकते हैं:

(और पढ़े – नवजात बच्चों को इंफेक्शन से बचाता है मां का दूध…)

बेरिबेरी के लक्षण – Thiamine Deficiency Symptoms In Hindi

बेरिबेरी के लक्षण - Thiamine Deficiency Symptoms In Hindi

बेरिबेरी (beriberi) के लक्षण इसके प्रकार के आधार पर भिन्न- भिन्न होते हैं।

आर्द्र बेरीबेरी (Wet beriberi) के लक्षणों में शामिल हैं:

  • शारीरिक गतिविधि के दौरान सांस लेने में तकलीफ
  • सांस फूलना
  • दिल की धड़कन तेज हो जाना
  • पैरों में सूजन आना

(और पढ़े – सूजन के कारण, लक्षण और कम करने के घरेलू उपाय…)

शुष्क बेरीबेरी (Dry beriberi) के लक्षणों में शामिल हैं:

  • पैरों की मांसपेशी के कार्यों में कमी
  • पैरों में झुनझुनी
  • पैर और हाथों की महसूस करने की क्षमता में कमी आना
  • मांसपेशी में दर्द
  • मानसिक भ्रम की स्थिति पैदा होना
  • बोलने में कठिनाई
  • उल्टी होना
  • आँखों की गति से नियंत्रण खो देना
  • लकवा (paralysis)
  • वर्निकी एन्सेफैलोपैथी (Wernicke encephalopathy) और कोर्साकोफ सिंड्रोम (Korsakoff syndrome) थायमिन की कमी के कारण होने वाली बीमारियां हैं, जो मस्तिष्क क्षति के रूप में जानी जाती हैं। अतः सम्मिलित रूप से

(और पढ़े – मांसपेशियों में खिंचाव (दर्द) के कारण और उपचार…)

थायमिन की कमी (thiamine deficiency) के कारण बेरीबेरी रोग में निम्न लक्षण प्रगट हो सकते हैं:

(और पढ़े – कॉन्टेक्ट लेंस का इस्तेमाल करते समय कैसे करें आंखों की देखभाल…)

बेरीबेरी का निदान – Beriberi Diagnosis In Hindi

बेरीबेरी का निदान - Beriberi Diagnosis In Hindi

बेरीबेरी रोग (berry berry disease) को निर्धारित करने के लिए चिकित्सकीय परीक्षणों की एक श्रृंखला की आवश्यकता होती है। अतः बेरीबेरी की स्थिति का निदान करने के लिए थायमिन की कम का पता लगाया जाता है, इस हेतु रक्त और मूत्र परीक्षण की आवश्यकता होती है।

रक्त और मूत्र परीक्षण के आधार पर शरीर में थायमिन (thiamine) के स्तर को मापा जाता है। यदि शरीर किसी कारण से थायमिन को अवशोषित करने में असमर्थ है, तो रक्त में थायमिन की कम मात्रा और मूत्र में थायमिन की उच्च मात्रा प्राप्त होती है।

स्मृति में कमी, समन्वय के कमी, चलने में कठिनाई और कमजोर प्रतिबिंबों की कमी आदि की जानकारी के लिए डॉक्टर न्यूरोलॉजिकल परीक्षण (neurological exam) भी कर सकते हैं। यह परीक्षण तंत्रिका कार्यों की सही जानकारी प्राप्त करने के लिए आवश्यक है।

इसके अतिरिक्त एक शारीरिक परीक्षण के आधार पर डॉक्टर दिल की समस्याओं के बारे जानकारी प्राप्त कर सकता है। शारीरिक परीक्षण के तहत दिल की धड़कन में तेजी, निचले पैरों की सूजन और सांस लेने में कठिनाई आदि से सम्बंधित बेरीबेरी (beriberi) के सभी लक्षणों का निदान किया जा सकता है।

(और पढ़े – दिल मजबूत करने के उपाय…)

बेरीबेरी का इलाज – Beriberi Treatment In Hindi

बेरिबेरी (beriberi) का इलाज आसानी से थायमिन की कमी को पूरा करके किया जा सकता है। डॉक्टर बेरिबेरी से सम्बंधित मरीज को थायमिन (thiamine) की गोली या दवाओं की सिफारिश कर सकता है। गंभीर मामलों में एक हेल्थकेयर मरीज के लिए इंट्रावेनस थायमिन (intravenous thiamine) का प्रबंधन कर सकते हैं।

इलाज के दौरान डॉक्टर, मरीज के शरीर द्वारा विटामिन के अवशोषण का निरीक्षण करने के लिए फॉलो-अप रक्त परीक्षणों (follow-up blood) किया जा सकता है।

(और पढ़े – बिलीरुबिन ब्लड टेस्ट क्या है, कीमत, परिणाम और सामान्य स्तर…)

बेरीबेरी की रोकथाम – Beriberi Prevention In Hindi

बेरीबेरी (beriberi) की रोकथाम का सबसे आसन उपाय यह कि, अपने आहार में थायमिन (thiamine) समृद्ध भोजन को जोड़ा जाये। बेरीबेरी (beriberi) की रोकथाम के लिए निम्न उपाय अपनाये जाने चाहिए।

  • यदि शिशु को फार्मूला दूध देते हैं, तो उसमें पर्याप्त थायमिन (thiamine) की मात्रा होनी चाहिए।
  • अल्कोहल का सीमित मात्रा में उपयोग करें, अधिक मात्रा में शराब का सेवन विटामिन बी-1 की कमी के लिए जिम्मेदार होता है।
  • कॉफी और चाय ऐसे पदार्थ जो शरीर द्वारा थायमिन (thiamine) के अवशोषण को प्रतिबंधित कर सकते हैं। अतः बेरीबेरी की स्थिति में इन पदार्थों के सेवन से बचना चाहिए।

(और पढ़े – तुलसी की चाय के फायदे और नुकसान…)

थायमिन रिच फूड्स – Thiamine Rich Foods in Hindi

थायमिन रिच फूड्स - Thiamine Rich Foods in Hindi

बेरीबेरी (beriberi) की रोकथाम के लिए एक स्वस्थ और संतुलित भोजन का सेवन किया जाना चाहिए, जिसमें थायमिन (thiamine) में समृद्ध खाद्य पदार्थ शामिल हों। अतः एक स्वस्थ आहार प्रणाली अपनाने और थायमिन की कमी (thiamine deficiency) को रोकने के लिए निम्न खाद्य पदार्थ का सेवन किया जा सकता है :

(और पढ़े – बादाम को भिगोकर खाने के फायदे और नुकसान…)

शरीर के लिए प्रतिदिन के काम-काज के लिए आवश्यक दैनिक मात्रा के आधार पर, पुरुषों के लिए 1.2 मिलीग्राम और महिलाओं के लिए 1.1 मिलीग्राम थायमिन (thiamine) सेवन की आवश्यकता होती है।

थायमिन (thiamine) के अच्छे स्रोतों के रूप में पदार्थ की 100 ग्राम मात्रा में पाई जाने वाली आवश्यक थायमिन की दैनिक मात्रा निम्न है:

  • पके हुए काले सेम में आवश्यक दैनिक मात्रा का 16%
  • पकाने पर मसूर में आवश्यक दैनिक मात्रा का 15%
  • कच्चे मैकाडामिया नट्स (Macadamia nuts) में सिफारिश की जाने वाली दैनिक मात्रा का 80%
  • पकाया हुआ सूअर का मांस में दैनिक मात्रा का 37%
  • शतावरी में आवश्यक दैनिक मात्रा का 10% थायमिन (thiamine) पाया जाता है।
  • इसके अतिरिक्त अधिकांश लोग सप्लीमेंट (supplement) के रूप में भी थायमिन (thiamine) की आवश्यक मात्रा प्राप्त कर सकते हैं।

(और पढ़े – संतुलित आहार के लिए जरूरी तत्व , जिसे अपनाकर आप रोंगों से बच पाएंगे…)

थायमिन के प्रमुख लाभ – Vitamin B1/ thiamine Benefits in Hindi

थायमिन (thiamine) युक्त आहार शरीर में थायमिन के स्तर को बढ़ाने में मदद करता है। शरीर में थायमिन की निश्चित मात्रा विभिन्न प्रकार के कार्यों में अपना योगदान देती है, थायमिन के प्रमुख लाभों में शामिल हैं:

  • मेटाबॉलिज्म को स्वस्थ (Healthy Metabolism) बनाए रखता है
  • एक स्वस्थ कार्डियोवैस्कुलर (Cardiovascular) प्रणाली को बनाये रखता है
  • प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देता है
  • तंत्रिका को क्षतिग्रस्त होने से बचाता है
  • सीखने की क्षमता में वृद्धि करता है
  • दृष्टि से सम्बंधित समस्याओं को रोकने में मदद करता है
  • सकारात्मक मनोदशा (Positive Mood) बनाये रखने में मदद करता है
  • मस्तिष्क विकार (Brain Disorders) को रोकने में सहायक मिलती है।

(और पढ़े – मानसिक रोग के लक्षण, कारण, उपचार, इलाज, और बचाव…)

थायमिन की कमी से और कौन से रोग होते है – Thiamine Deficiency Disease in hindi

  • थायमिन की कमी (thiamine deficiency) के कारण होने वाली बीमारियाँ निम्न हैं:
  • वर्निकी एन्सेफैलोपैथी (Wernicke encephalopathy) और
  • कोर्साकोफ सिंड्रोम (Korsakoff syndrome)
  • लकवा (paralysis)
  • डिमेंशिया (Dementia) इत्यादि।

(और पढ़े – विटामिन बी कॉम्प्लेक्स के फायदे, स्रोत और नुकसान…)

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration