वर्टिगो क्या है, लक्षण, कारण और उपचार – Vertigo Symptoms, Causes and Treatment in hindi

वर्टिगो के कारण, लक्षण, जांच, इलाज, उपचार और बचाव - Vertigo ke karan, lakshan, ilaj in hindi
Written by Sourabh

Vertigo in hindi वर्टिगो सबसे आम बीमारियों में से एक है। वर्टिगो का अर्थ है चक्कर आने की भावना। इस बीमारी में आपको अपने आस पास की चीजे घूमती हुई लगती हें। इस बीमारी में व्यक्ति को उल्टी और मितली हो सकती हैं। वर्टिगो के कुछ गंभीर मामलों में व्यक्ति बेहोश भी हो सकता है, लेकिन ऐसा हर बार नहीं होता है। वर्टिगो में अक्सर चक्कर आने के कारण मालूम नहीं हो पाते हें। वर्टिगो, प्रकाशस्तंभ के समान नहीं है। वैसे तो यह बीमारी अपने आप ही ठीक हो जाती ही । वर्टिगो का उपचार कारण पर निर्भर करता है। लोकप्रिय उपचारों में कुछ शारीरिक आभ्यास शामिल हैं और यदि आवश्यक हो, तो विशेष दवाएं जिन्हें वेस्टिबुलर ब्लॉकिंग एजेंट (vestibular blocking agents) कहा जाता है दी जातीं हैं।

इस लेख में हम आपको वर्टिगो के कारण और लक्षण के साथ वर्टिगो के घरेलू उपचार के बारे में भी पूरी जानकारी देंगे।

  1. वर्टिगो क्या है? – What is vertigo in Hindi
  2. वर्टिगो के लक्षण – Vertigo Symptoms in hindi
  3. वर्टिगो के प्रकार – Vertigo Types in hindi
  4. परिधीय वर्टिगो – Peripheral Vertigo in hindi
  5. केंद्रीय वर्टिगो के कारण  – Causes of central vertigo in hindi
  6. वर्टिगो का निदान – Vertigo diagnosis in hindi
  7. वर्टिगो का इलाज – Vertigo Treatment in hindi
  8. वर्टिगो के जोखिम कारक – Vertigo risk factor in hindi
  9. वर्टिगो के घरेलू उपचार – Vertigo Home remedies in hindi

वर्टिगो क्या है? – What is vertigo in Hindi

चक्कर क्या है? - What is vertigo in Hindi

वर्टिगो का अर्थ है चलते-चलते या अचानक खड़े होने पर चक्कर आना। इसमें व्यक्ति को शारीरिक संतुलन बनाए रखने में समस्या होती है। यह कई स्थितियों का लक्षण है। यह तब हो सकता है जब आंतरिक कान, मस्तिष्क या संवेदी तंत्रिका मार्ग के साथ कोई समस्या उत्पन्न हो रही हो। हम आपको बता दें कि ऊंचाई के डर (fear of heights) को वर्टिगो नहीं कहते। इसे एक्रोफोबिया (Acrophobia) कहा जाता है और वह वर्टिगो से बहुत अलग होता है।

यह अक्सर अधिक ऊंचाई से नीचे देखने के साथ जुड़ा हुआ है लेकिन ऊंचाई से नीचे देखने पर चक्कर आना किसी भी अस्थायी आंतरिक कान या मस्तिष्क में समस्याओं के कारण हो सकता है।

इस बीमारी के कारणों में मिनियर रोग (Meniere’s disease) आंतरिक कान का बिकार (बेनाइन पैरॉक्सिज्मल पोजिशनल वर्टिगो) और तंत्रिका कि सूजन सहित और भी रोग हो सकते हें।

(और पढ़े – चक्कर आने के कारण, लक्षण, निदान और इलाज…)

वर्टिगो के लक्षण – Vertigo Symptoms in hindi

वर्टिगो के लक्षण - Vertigo Symptoms in hindi

वर्टिगो वाले व्यक्ति को यह महसूस होगा कि उनका सिर, या उनके आसपास का वातावरण घूम रहा है या चल रहा है।

वर्टिगो की अन्य स्थितियों का यह एक लक्षण हो सकता है, और इससे संबंधित कई लक्षण एक साथ भी हो सकते है। जिनसे आप वर्टिगो का पता लगा सकते हैं, इसमें शामिल है:

  • संतुलन बनाने में समस्या
  • मोशन सिकनेस की भावना
  • मतली और उल्टी
  • ठीक से सुनाई न देना
  • टिनिटस (किसी एक कान में सीटी जैसी आवाज आना)
  • कान में किसी चीज के होने की भावना
  • आंखों को नियंत्रित करने में समस्या
  • सिरदर्द
  • जी मिचलाना
  • वर्टिगो बेहोशी की सामान्य भावना नहीं है। यह एक घूर्णी चक्कर जैसा होता है।

(और पढ़े – टिनिटस (कान बजना) क्या होता है लक्षण, कारण, जांच, इलाज और बचाव…)

वर्टिगो के प्रकार – Vertigo Types in hindi

वर्टिगो के प्रकार – Vertigo Types in hindi

कारण के आधार पर, वर्टिगो विभिन्न प्रकार के होते हैं। वर्टिगो के दो मुख्य प्रकार निम्न हैं।

पेरिफेरल वर्टिगो आमतौर पर तब होता है जब आंतरिक कान के संतुलन अंगों में गड़बड़ी होती है। आंतरिक कान या वेस्टिबुलर तंत्रिका  (कान का आंतरिक हिस्सा, जो शरीर के संतुलन को नियंत्रित करता है) में एक समस्या के कारण पेरिफेरल वर्टिगो होता है। वेस्टिबुलर तंत्रिका आंतरिक कान को मस्तिष्क से जोड़ती है। ऐसे में, व्यक्ति को अपना संतुलन बनाये रखने में परेशानी होती है।

सेंट्रल वर्टिगो तब होता है जब मस्तिष्क में कोई समस्या होती है, विशेष रूप से सेरिबैलम या मध्य मस्तिष्क में सेरिबैलम हिंदब्रेन (मस्तिस्क का पिछला हिस्सा) है जो मूवमेंट और संतुलन के समन्वय को नियंत्रित करता है। सेंट्रल वर्टिगो मस्तिष्क के एक या एक से अधिक हिस्सों में गड़बड़ी के परिणामस्वरूप होता है, जिसे संवेदी तंत्रिका मार्ग के रूप में जाना जाता है।

(और पढ़े – एन्सेफलाइटिस (मस्तिष्क में सूजन) क्या है लक्षण कारण जांच इलाज और बचाव…)

परिधीय वर्टिगो – Peripheral Vertigo in hindi

परिधीय वर्टिगो - Peripheral Vertigo in hindi

लगभग 93 प्रतिशत वर्टिगो के मामले परिधीय वर्टिगो हैं, जो निम्न में से एक के कारण होता है:

सौम्य पैरॉक्सिस्मल पॉसिबल वर्टिगो आपके सिर की स्थिति में होने वाले परिवर्तनों के कारण होता है। कान के अन्दर के घुमे हुये भाग में तैरते कैल्शियम क्रिस्टल की वजह से यह बीमारी होती हैं।

मिनियर रोग (Meniere) एक आंतरिक कान का विकार है जो शरीर के संतुलन और हमारी सुनने कि क्षमता को प्रभावित करता है।

तीव्र परिधीय वेस्टिबुलोपैथी (एपीवी) आंतरिक कान की सूजन है, जो अचानक चक्कर की शुरुआत का कारण बनती  हैं।

एक और प्रकार का वर्टिगो होता है, जिसे सेंट्रल वर्टिगो (central vertigo) कहा जाता है। यह दिमाग के निचले या पिछले हिस्से (सेरिबैलम) में समस्या होने पर होता है। इसके कारण पेरिफेरल वर्टिगो (Peripheral Vertigo) के कारण से कुछ अलग हो सकते हैं, जैसे

(और पढ़े – कान का संक्रमण दूर करने के घरेलू उपाय और नुस्‍खे…)

केंद्रीय वर्टिगो के कारण  – Causes of central vertigo in hindi

केंद्रीय वर्टिगो के कारण  - Causes of central vertigo in hindi

  • आघात
  • दिमाग के मध्य भाग में एक ट्यूमर
  • माइग्रेन
  • मल्टीपल स्क्लेरोसिस

वर्टिगो को मोशन सिकनेस के समान लगता है, या जैसे कमरा घूम रहा है।

सिर से जुड़ी बीमारी के कारण वर्टिगो के निम्न लक्षण हो सकते हैं

(और पढ़े – माइग्रेन और सिर दर्द में अंतर क्या होता है…)

वर्टिगो का निदान – Vertigo diagnosis in hindi

वर्टिगो का निदान - Vertigo diagnosis in hindi

वर्टिगो के प्रकार को निर्धारित करने के लिए टेस्ट

हेड-थ्रस्ट टेस्ट( Head-thrust test): आप परीक्षार्थी की नाक पर नज़र डालते हैं, और परीक्षार्थी एक त्वरित सिर की तरफ गति करता है और आँख की गति को देखता है।

रोमबर्ग परीक्षण (Romberg test): आप एक जगह पैरों के बल खड़े होते हैं और आँखें खुली होती हैं, फिर अपनी आँखें बंद करें और संतुलन बनाए रखने की कोशिश करें।

फुकुदा-ऊंटबर्गर परीक्षण (Fukuda-Unterberger tes)t: आप से अपनी आंखों को बंद कर के जगह-जगह मार्च करने के लिए कहा जाता है।

डिक्स-हिलपाइक परीक्षण: आप एक कुर्सी पर बेठ कर अपनी दाएं तथा बाए झुकते हें अब एक डॉक्टर आपके चक्कर के बारे में अधिक जानने के लिए आपकी आंख की चाल को देखेगा जिससे यह पता चलता हें आप को वर्टिगो कि समस्या हें कि नहीं।

वर्टिगो के लिए इमेजिंग परीक्षणों में शामिल हैं (Imaging tests for VAD include)

(और पढ़े – सीटी स्कैन क्या है कैसे होता है, कीमत, फायदे और नुकसान…)

वर्टिगो का इलाज – Vertigo Treatment in hindi

वर्टिगो का इलाज – Vertigo Treatment in hindi

वर्टिगो का उपचार कारण पर निर्भर करता है। कुछ प्रकार के वर्टिगो बिना उपचार के टीक हो जाते हैं, लेकिन किसी भी अंतर्निहित समस्या के कारण वर्टिगो होने पर चिकित्सा ध्यान देने की आवश्यकता हो सकती है, उदाहरण के लिए, एक जीवाणु संक्रमण जिसमें एंटीबायोटिक चिकित्सा की आवश्यकता होगी।

ड्रग्स कुछ लक्षणों को राहत दे सकता है, उदाहरण के लिए, मोशन सिकनेस और मतली को कम करने के लिए एंटीहिस्टामाइन या एंटी-इमीटिक्स (antihistamines or anti-emetics) दवाएं शामिल हो सकतीं हैं।

मध्य कान के संक्रमण से जुड़े एक तीव्र वेस्टिबुलर विकार वाले मरीजों को स्टेरॉयड, एंटीवायरल ड्रग्स या एंटीबायोटिक दवाइयां दी जा सकती हैं।

न्यस्टागमस एक अनियंत्रित आंख मूवमेंट है, आमतौर पर एक साइड से दसरी साइड की ओर। यह तब हो सकता है जब किसी व्यक्ति को मस्तिष्क या आंतरिक कान की शिथिलता के कारण चक्कर आता है।

कभी-कभी, अंतरंगनीय सौम्य पैरॉक्सिस्मल पोजीटिअल वर्टिगो (BPPV) के रोगियों के इलाज के लिए आंतरिक सर्जरी की जाती है। सर्जन उस क्षेत्र को अवरुद्ध करने के लिए आंतरिक कान में एक हड्डी प्लग (bone plug) लगाता है जहां से वर्टिगो (सिर का चक्कर) को उत्पन्न किया जाता है।

वेस्टिबुलर ब्लॉकिंग एजेंट (VBA) सबसे लोकप्रिय प्रकार की दवा है। वेस्टिबुलर ब्लॉकिंग एजेंटों में शामिल हैं:

  • एंटीहिस्टामाइन (प्रोमेथाज़िन, बिटाहिस्टिन)
  • बेंज़ोडायजेपाइन (डायजेपाम, लॉराज़ेपम)
  • एंटीमेटिक्स (प्रोक्लोरेरज़ीन, मेटोक्लोप्रमाइड)

(और पढ़े – बच्चे के कान में संक्रमण के लिए घरेलू उपचार…)

वर्टिगो के जोखिम कारक – Vertigo risk factor in hindi

वर्टिगो के जोखिम कारक – Vertigo risk factor in hindi

वर्टिगो के जोखिम को बढ़ाने वाले कारकों में शामिल हैं:

  • हृदय रोगों, विशेष रूप से पुराने वयस्कों में
  • हाल ही में कान के संक्रमण, जो भीतरी कान में असंतुलन का कारण बनता है
  • सिर का आघात
  • एंटीडिप्रेसेंट्स और एंटीसाइकोटिक्स जैसी दवाएं

सावधानियां

जो कोई भी वर्टिगो या अन्य प्रकार के चक्कर का अनुभव करता है, उसे ड्राइविंग या सीढ़ी का उपयोग नहीं करना चाहिए। गिरने से बचने के लिए घर में अनुकूलन करना एक अच्छा विचार हो सकता है। धीरे-धीरे उठने से समस्या दूर हो सकती है। लोगों को ऊपर की ओर देखते समय ध्यान रखना चाहिए और सिर की स्थिति में अचानक बदलाव नहीं करना चाहिए।

(और पढ़े – ब्रेन स्ट्रोक के कारण लक्षण और बचाव…)

वर्टिगो के घरेलू उपचार – Vertigo Home remedies in hindi

वर्टिगो के घरेलू उपचार – Vertigo Home remedies in hindi

नीचे दिए गए घरेलू नुस्खों की मदद से आपको वर्टिगो के कारण सिर घूममें या चक्कर आने की समस्या से आराम मिल सकता है।

वर्टिगो के घरेलू इलाज लिए तुलसी और साइप्रस का तेल

वर्टिगो के लक्षण जैसे सिरदर्द से छुटकारा दिलाने में तुलसी मदद कर सकती है। तुलसी और साइप्रस के तेल कि दो –दो बुँदे ले मलें और माथे में रख दे क्योंकि तुलसी एक दर्दनिवारक ओषधि हैं। इसलिए यह सिर दर्द से छुटकारा दिलाने में मदद करती है। 

(और पढ़े – खाली पेट तुलसी के पत्ते खाने के फायदे…)

वर्टिगो के घरेलू उपचार लिए अदरक का उपयोग

वर्टिगो के घरेलू उपचार में अदरक बहुत लाभदायक होता है। अदरक का एक टुकड़ा, शक्कर, आधा चम्मच चाय पत्ती और एक कप दूध इन सभी को एक वर्तन में लेकर गरम करे और छानकर पिए। इससे आपको उल्टी, जी मिचलाना आदि से राहत मिलेगी।

(और पढ़े – अदरक की चाय के फायदे और नुकसान…)

वर्टिगो के घरेलू इलाज के लिए लोबान तेल

लोबान तेल कि कुछ बुँदे ले ओर अपने कंधे कि मसाज करें। इससे आपको सिर दर्द तथा अकडन से छुटकारा मिलेगा।

(और पढ़े – बॉडी मसाज के लिए बेस्ट तेल और इनके फायदे…)

वर्टिगो के घरेलू उपचार के लिए पेपरमिंट ऑयल

तीन से चार बूंद पेपर मेंट ऑयल ओर एक चम्मस बादाम का तेल ले अब दोनों को मिला ले और फिर इसे अपनी गर्दन तथा माथे पर लगाये इससे आपको सिर दर्द ठीक हो जायेगा।

(और पढ़े – पुदीना के तेल के फायदे और नुकसान…)

वर्टिगो का आयुर्वेदिक उपचार जिन्को बाइलोबा

जिन्कगो बाइलोबा को वर्टिगो पर इसके प्रभावों के लिए अध्ययन किया गया है और वर्टिगो के इलाज के लिए प्रमुख नुस्खे के रूप में प्रभावी स्रोत के रूप में पाया जाता है। गिंगको बिलोबा अर्क को तरल या कैप्सूल के रूप में डॉक्टर के निर्देशानुसार खरीदा जा सकता है। प्रत्येक दिन 240 मिलीग्राम जिन्कगो बिलोबा लेने से आपके सिर के चक्कर के लक्षणों को कम करना चाहिए और आपको अधिक संतुलन महसूस करना चाहिए।

वर्टिगो का देसी इलाज पर्याप्त मात्रा में नींद लेना

नींद की कमी से वर्टिगो की भावनाओं को ट्रिगर किया जा सकता है। यदि आप पहली बार वर्टिगो का अनुभव कर रहे हैं, तो यह तनाव या नींद की कमी का परिणाम हो सकता है। यदि आप यह सोच रहे हैं कि आप क्या कर सकते हैं तो एक छोटी झपकी ले सकते हैं, इससे आपकी चक्कर की भावनाओं को कम किया जा सकता है।

(और पढ़े – हमें सोना क्यों जरूरी है और आपको कितने घंटों की नींद चाहिए…)

वर्टिगो के घरेलू उपचार में पर्याप्त पानी पीना

कभी-कभी सिर का चक्कर निर्जलीकरण के कारण होता है। ऐसा होने पर सोडियम का सेवन कम करने से मदद मिल सकती है। लेकिन हाइड्रेटेड रहने का सबसे अच्छा तरीका है जिसमे कि आप बस भरपूर मात्रा में पानी पिएं। अपने पानी के सेवन पर नजर रखें और गर्म, नम स्थितियों और पसीने से तर स्थितियों के बारे में जानने की कोशिश करें जो आपको अतिरिक्त तरल पदार्थ खो सकते हैं। जब आप निर्जलित हो जाते हैं, तब अतिरिक्त पानी पीने की योजना बनाएं। बस इस बात से अवगत रहें कि आप कितना पानी पी रहे हैं, आप देखतें हैं कि यह वर्टिगो को कम करने में आपकी मदद करता है।

वर्टिगो उतना खतरनाक बीमारी नहीं है, लेकिन अगर यह होता रहता है तो यह एक अंतर्निहित स्थिति का लक्षण है। घर पर वर्टिगो का इलाज करना अल्पकालिक समाधान के रूप में काम कर सकता है। लेकिन अगर आपको लगातार चक्कर आना जारी है, तो इसका कारण पता लगाना महत्वपूर्ण है। आपका सामान्य चिकित्सक इसकी जाँच करने में सक्षम हो सकता है, या आपको आगे की जाँच के लिए एक कान, नाक और गले के विशेषज्ञ या न्यूरोलॉजिस्ट के लिए भेजा जा सकता है।

(और पढ़े – क्या आप जानतें है आपको रोज कितना पानी पीना चाहिए…)

इसी तरह की अन्य जानकरी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

आपको ये भी जानना चाहिये –

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration