आयुर्वेद के अनुसार सात्विक भोजन कैसे रख सकता है आपको चुस्त-दुरुस्त - Sattvic diet in Hindi - Healthunbox
आयुर्वेदिक उपचार

सुबह की चाय से लेकर रात के खाने तक, जानें आयुर्वेद के अनुसार सात्विक भोजन कैसे रख सकता है आपको चुस्त-दुरुस्त

सुबह की चाय से लेकर रात के खाने तक, जानें आयुर्वेद के अनुसार सात्विक भोजन कैसे रख सकता है आपको चुस्त-दुरुस्त - What is Sattvic diet in Hindi?

सात्विक भोजन (Sattvic diet in Hindi) का नाम सुनते ही हमें ऐसा लगने लगता है कि जैसे हम उपवास (fast) की बात कर रहे हैं, जिसमें सब कुछ बिना प्याज और लहसुन (Onion and garlic) के होगा। लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है। दरअसल सात्विक आहार एक योगिक आहार (Yogic diet) की संरचना है, जिसमें सभी पौष्टिक खाद्य पदार्थ (Nutritious foods) शामिल हैं, जो हल्कापन और स्पष्टता को बढ़ावा देता है। इस तरह, हमारे शरीर के अंगों के साथ, हम मानसिक स्वास्थ्य (mental health) को भी बढ़ावा देते हैं। सात्विक आहार के अनुयायी मुख्य रूप से ताजे उत्पादों और नट्स सहित पौष्टिक खाद्य पदार्थों का सेवन करते हैं। तो चलिए विस्तार से जानते हैं कि यह सात्विक आहार क्या है (What is Sattvic diet in Hindi) और हम कैस इसको अपनी जीवनशैली में शामिल कर सकते हैं।

सात्विक आहार क्या है – What is Sattvic diet in Hindi?

सात्विक आहार एक उच्च फाइबर, कम वसा वाला शाकाहारी भोजन है, जिसे योगियों के आहार और जीवन शैली से जोड़ा गया है। योग के अभ्यास में, तीन प्रकार के खाद्य पदार्थ होते हैं, जिनके अलग-अलग गुण और स्वास्थ्य प्रभाव होते हैं: सात्विक (Sattvic), राजसिक (Rajasic) और तामसिक (Tamasic )। सात्विक शब्द का अर्थ है “शुद्ध सार”। ये सात्विक खाद्य पदार्थ आयुर्वेद में शुद्ध और संतुलित माने जाते हैं, जो शांति (peace), खुशी (happiness) और मानसिक स्पष्टता प्रदान करते हैं। सात्विक आहार सूक्ष्म पोषक तत्वों के उच्च सेवन से जुड़े हैं। आयुर्वेद के अनुसार, सात्विक आहार दीर्घायु (longevity), शारीरिक शक्ति (physical strength) और मानसिक स्वास्थ्य (mental health) को बढ़ावा देने के लिए सबसे अच्छा विकल्प है। ऐसा इसलिए हो सकता है क्योंकि सात्विक आहार ताजा, पौष्टिक खाद्य पदार्थों से भरा होता है, जिसमें शामिल हैं

आयुर्वेद (Ayurveda) मुख्य रूप से सात्विक भोजन (Sattvic diet) खाने और राजसिक और तामसिक भोजन से बचने की सलाह देता है। पशु प्रोटीन (Animal proteins), तले हुए खाद्य पदार्थ (fried foods), कैफीन (caffeine) और सफेद चीनी (white sugar) जैसे उत्तेजक पदार्थ कुछ ऐसे खाद्य पदार्थ हैं जिन्हें सात्विक आहार के पालन के बाद बाहर रखा जाता है।

सात्विक डाइट में कैसा हो आपके दिन भर का आहार

सुबह पिएं हर्बल टी

आप चाय या कॉफी पीना पसंद करते हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि आप जो भी ड्रिंक पीते हैं, उसकी सकारात्मकता और नकारात्मकता क्या है? यही कारण है कि आयुर्वेद में, सुबह उठने के बाद तुलसी की चाय (Tulsi Tea) या मोरिंगा चाय (Moringa Tea) जैसे हर्बल चाय (Herbal tea) जैसे स्वस्थ विकल्पों का चयन करने का सुझाव दिया गया है। यह आपके शरीर को ही नहीं बल्कि आपके तनाव को कम करके आपके दिमाग को स्वस्थ रख सकती है। यह आपकी प्रतिरक्षा को बढ़ा सकती है (increase your immunity), चयापचय को नियंत्रित कर सकती है और आपके वजन को प्रबंधित करने में मदद कर सकती है।

नाश्ते में जौ से बनी चीजें

आप जौ (barley) को उसके संपूर्ण अनाज के रूप में या एक संसाधित जौ उत्पाद के रूप में उपभोग कर सकते हैं। यह एक बीटा-ग्लूटेन घुलनशील फाइबर है, जो पेट के लिए कई तरह से फायदेमंद है। जौ शरीर में ग्लूकोज के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करता है और वजन घटाने (weight loss) में मदद करता है। यह भी कहा जाता है कि जौ का पानी (barley water) गुर्दे की पथरी (kidney stones) के साथ मदद कर सकता है। आप इसे नाश्ते में खीर या पराठा आदि बनाकर खा सकते हैं।

(और पढ़ें – सुबह के नाश्ते में ये खाएंगे तो रहेंगे फिट)

दोपहर का भोजन में ताजी सब्जियां

सात्विक आहार (Sattvic diet) के तहत, दिन के भोजन में प्रोटीन युक्त भोजन (protein-rich food) खाने को कहा जाता है। इसमें आप ताजी सब्जियां, टोफू, दाल, पनीर और सलाद आदि खा सकते हैं। यह आपको दिन के समय भारी नहीं लगेगा, बल्कि इन्हें खाने से आप हल्का और ऊर्जावान (energetic) महसूस करेंगे। यह आहार आपको वजन घटाने में भी मदद कर सकता है। अध्ययनों से पता चला है कि जो लोग शाकाहारी आहार पैटर्न का पालन करते हैं, उनमें आमतौर पर शरीर का द्रव्यमान सूचकांक (body mass index) कम होता है और शरीर में वसा की मात्रा कम होती है।

स्नैक्स में आंवला या अन्य फलों का जूस

जैसा कि आयुर्वेद में बताया गया है, आंवला (amla) कई तरह से पोषक तत्वों के लिए फायदेमंद है। विशेष रूप से विटामिन सी (Vitamin C) के लिए। वास्तव में, इसमें विटामिन की उच्चतम सांद्रता है, जो किसी भी खट्टे फल से अधिक है, और इस प्रकार यह आपकी प्रतिरक्षा (immunity) को बढ़ावा दे सकता है और आपको संक्रमण से लड़ने में मदद कर सकता है। आप वर्कआउट के बाद अपने शाम के नाश्ते के रूप में इसका जूस पी सकते हैं और फल खा सकते हैं।

रात में मूंग, टोफू और मैंगो राइस

हो सके तो रात का खाना 7 बजे तक खा लें। आयुर्वेद के अनुसार लोगों को रात का खाना जल्दी और हल्का खाना चाहिए। ऐसे में आप डिनर के तहत मूंग, टोफू (tofu) और चावल आदि खा सकते हैं। ये आपके शरीर के लिए फायदेमंद होते हैं और हल्के भी होते हैं। आप भोजन के बाद हल्दी वाला दूध भी पी सकते हैं। यह आपका तनाव (stress) दूर करेगा और आपको बेहतर नींद (better sleep) देगा।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

Leave a Comment

1 Comment

  • sir,
    आयुर्वेद के अनुसार सात्विक भोजन कैसे रख सकता है आपको चुस्त-दुरुस्त,अन्य जानकारी दे I

Subscribe for daily wellness inspiration