पित्त दोष को संतुलित करने के प्राकृतिक तरीके - Pitt Ka Gharelu Ilaj In Hindi - Healthunbox
घरेलू उपाय

पित्त दोष को संतुलित करने के प्राकृतिक तरीके – Pitt Ka Gharelu Ilaj In Hindi

पित्त दोष को संतुलित करने के प्राकृतिक तरीके - Pitt Ka Gharelu Ilaj In Hindi

How To Balance Pitta Dosha Naturally In Hindi: व्यक्ति के शरीर की प्रकृति का निर्धारण करने के लिए वात, पित्त और कफ को त्रिदोष के नाम से जाना जाता हैं। यदि इन तीनों में से कोई भी एक दोष असंतुलित हो जाता है, तो मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य बिगड़ने लगता है। आयुर्वेदिक चिकित्सा में, व्यक्ति की प्रकृति यानी दोष को ध्यान में रखते हुए उसका इलाज और उपचार किया जाता है। उपचार से पहले, यह ज्ञात होना जरूरी है कि व्यक्ति पित्त प्रकृति, वात या कफ का है।

त्रिदोष हमारे आहार, जीवन शैली, नींद, व्यायाम और दैनिक गतिविधियों के कारण बदलता है। विचारों का भी त्रिदोष पर गहरा प्रभाव पड़ता है। इसलिए शरीर में त्रिदोष को संतुलित रखना बहुत जरूरी है। आज हम आपको पित्त दोष को संतुलित करने के प्राकृतिक तरीके बताने जा रहे हैं जिनकी मदद से आप पित्त का घरेलू इलाज (Pitt Ka Gharelu Ilaj In Hindi) कर सकते हैं।

पित्त का अर्थ है गर्मी और पित्त अग्नि और जल दोनों का एक तत्व है। पित्त गर्म, तैलीय, तरल और बहने वाला होता है। पित्त हमारे पाचन को नियंत्रित करता है, शरीर के तापमान को सही बनाए रखता है, पित्त का त्वचा की टोन यानी रंगत, बुद्धि और भावनाओं पर भी प्रभाव पड़ता है। पित्त में असंतुलन के कारण, एक व्यक्ति शारीरिक और भावनात्मक रूप से अस्वस्थ हो जाता है।

पित्त असंतुलन के लक्षण – Pitta Dosha Symptoms In Hindi

पित्त असंतुलन के लक्षण – Pitta Dosha Symptoms In Hindi

आपको बता दें पित्त के असंतुलन के लक्षणों में भूख में वृद्धि होना और अधिक प्यास लगना, संक्रमण, बालों का झड़ना या बालों का सफेद होना, हार्मोनल असंतुलन, माइग्रेन, गर्म महसूस करना या गर्मी लगना, कुछ ठंडा खाने या पीने की इच्छा होना, मुंह में बदबू आना, गले में खराश होना, खाना न खाने पर मतली जैसा लगना, अनिद्रा, स्तन या लिंग को छूने पर दर्द होना, मासिक धर्म के दौरान दर्द या अत्यधिक रक्तस्राव होना।

इसके अलावा, धैर्य में कमी, चिड़चिड़ापन, नाराज़गी, ईर्ष्या, अस्थिरता की भावना जैसा अनुभव होता है। पित्त असंतुलन के लक्षण आपने जान लिए अब हम पित्त दोष असंतुलित होने के कारण के बारे में जानतें हैं।

(यह भी पढ़ें – पित्त दोष क्या है जाने असंतुलित पित्त से होने वाले रोग, लक्षण और उपाय)

पित्त दोष असंतुलित होने के कारण – Pitta Dosha causes In Hindi

पित्त दोष असंतुलित होने के कारण - Pitta Dosha causes In Hindi

अधिक तीखा, खट्टा, नमकीन, बहुत अधिक मसालेदार, तला हुआ, प्रोसेस्ड, रेड मीट, कैफीन, ब्लैक टी, निकोटीन, अल्कोहल, अत्यधिक सूरज के संपर्क में आना या धूप में रहना, भावनात्मक तनाव, अधिक काम करना या अधिक आराम करने से पित्त दोष में असंतुलन पैदा हो सकता है।

ये तो थे पित्त दोष असंतुलित होने के कारण अब हम जानतें हैं पित्त दोष की वजह से होने वाली समस्‍याएं कौन सी हैं

पित्त दोष की वजह से होने वाली समस्‍याएं – Pitta Dosha Se Hone Wali Bimari

पित्त दोष की वजह से होने वाली समस्‍याएं - Pitta Dosha Se Hone Wali Bimari

यदि किसी व्यक्ति के शरीर में असंतुलित पित्त दोष हो गया है तो उसे, सीने में जलन, नींद में कमी, धूप की कालिमा, एक्जिमा, मुँहासे, एसिड भाटा, पेप्टिक अल्सर, बुखार, रक्त के थक्के, स्ट्रोक, गुर्दे में संक्रमण, हाइपरथायरायडिज्म, पीलिया, गठिया, दस्त, क्रोनिक थकान सिंड्रोम, कम दृष्टि, स्व-प्रतिरक्षित विकार, ज्यादा गुस्सा आना और अवसाद यानि डिप्रेशन की समस्या हो सकती है।

पित्त की वजह से होने वाली समस्‍याएं आपने जानी अब जानतें हैं पित्त दोष का इलाज कैसे करें (pitt ka ilaj kaise kare) और पित्त दोष दूर करने के उपाय के बारे में।

पित्त दोष दूर करने के उपाय – Pitt Ka Gharelu Ilaj In Hindi

पित्त दोष दूर करने के उपाय - Pitt Ka Gharelu Ilaj In Hindi

  • पित्त दोष को संतुलित करने के प्राकृतिक तरीके में कड़वी, कसैली और मीठी चीजें खाएं। पित्त का घरेलू इलाज करने में घी, मक्खन और दूध फायदेमंद है। पित्त दोष दूर करने के उपाय के रूप में खट्टे फलों के बजाय मीठे फलों का सेवन करें। इसमें शहद एक अच्छा विकल्प है।
  • पित्त का घरेलू इलाज करने के लिए अधिक शारीरिक एक्टिविटी या अधिक आराम से बचें। आपके पास न तो बहुत अधिक काम होना चाहिए है और न ही बहुत अधिक आराम करना चाहिए।
  • पित्त को कैसे शांत करे? में संतुलित आहार खाएं और बहुत सारे दोस्तों से बात करें। पित्त दोष को संतुलित करने के प्राकृतिक तरीके में प्रकृति के साथ कुछ समय बिताएं।
  • ध्यान या मेडिटेशन भी पित्त को संतुलित करने का सबसे अच्छा तरीका है। इसके अलावा, वह काम करें जो आपको पसंद है और जितना संभव हो उतना खुश रहने की कोशिश करें।
  • योग की मदद से भी पित्त दोष को संतुलित किया जा सकता है। पश्चिमोत्तानासन, मार्जार्यासन, उत्कटासन, शिशु आसन, चंद्र नमस्कार, भुजंगासन, शलभासन, अर्ध नौकासन, अर्ध सर्वांगासन, सेतु बंधासन और शवासन जैसे योग करें।

पित्त दोष को संतुलित करने के प्राकृतिक तरीके (Pitt Ka Gharelu Ilaj In Hindi) का यह लेख आपको कैसा लगा हमें कमेंट्स कर जरूर बताएं।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration